GLIBS
मुख्यमंत्री ने ब्रिसबेन में खनन तकनीक विशेषज्ञों से किया विचार-विमर्श

रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने शनिवार को आस्ट्रेलिया के प्रवास के दौरान ब्रिसबेन में ट्रेड एंड इन्वेस्टमेंट क्वींसलैंड (टीआईक्यू) के अधिकारियों से खनन तकनीक से जुड़े विभिन्न विषयों पर विचार - विमर्श किया। डॉ. सिंह को टीआईक्यू के खनन एवं संसाधन विभाग के एंथोनी क्राइस्टेनसन एवं आंद्रेई गोल्तिसिस्की ने बताया कि क्वींसलैंड में कोयला समेत अनेक खनिजों के भंडार हैं, जिनका खनन किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने टीआईक्यू से बैठक में कहा कि खनन तकनीक, खनन सुरक्षा, कोल बेनिफिशिएसन एंड माइनिंग लॉजिस्टिक सेक्टर में छत्तीसगढ़ और ऑस्ट्रेलिया के तकनीकी विशेषज्ञों के बीच सहयोग की अपार संभावनाएं हैं।
 मुख्यमंत्री ने आस्ट्रेलिया-इंडिया बिजनेस काउंसिल क्वींसलैंड के प्रेसिडेंट निक सेनापति से भी मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने उन्हें छत्तीसगढ़ की क्षमताओं और संसाधनों के बारे में बताया तथा उन अवसरों के बारे में चर्चा की जिसमें छत्तीसगढ़ और क्वींसलैंड सहयोग कर सकें। मुख्यमंत्री ने सेनापति से कहा कि वे छत्तीसगढ़ की माइनिंग कंपनियों के साथ जुड़ें और प्रदेश की यात्रा कर इन कंपनियों को अपने अनुभवों का लाभ देवें। बिस्बेन में मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने मिक्कालाफ राबर्ट्सन के चेयरमेन आफ पार्टनर्स डोमिनिक मेकगैन और रिसोर्सेस एंड रिन्यूवेबल ग्रुप के स्ट्रेटेजिक एडवाइजर मिशेल रोशे से भी मुलाकात की। मुख्यमंत्री के साथ इस मौके पर उनके प्रमुख सचिव अमन कुमार सिंह, उद्योग विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।

छत्तीसगढ़ को मिला राष्ट्रीय स्तर का डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम पुरस्कार, पढ़े पूरी खबर

 

रायपुर। छत्तीसगढ़ इंफोटेक प्रमोशन सोसायटी (चिप्स) द्वारा संचालित केन्द्रीयकृत परियोजना प्रबंधन प्रणाली (सीपीएमयू) को राष्ट्रीय स्तर का डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम पुरस्कार प्राप्त हुआ है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने इस उपलब्धि के लिए राज्य सरकार के सूचना प्रौद्योगिकी एवं इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग और चिप्स के अधिकारी और कर्मचारियों को हार्दिक बधाई दी है।

डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम नवाचार फाऊंडेशन द्वारा शनिवार को नई दिल्ली में आयोजित दूसरे वार्षिक शिखर सम्मेलन में छत्तीसगढ़ की केन्द्रीयकृत परियोजना प्रबंधन प्रणाली (सीपीएमयू) को पुरस्कृत किया गया। छत्तीसगढ़ को यह पुरस्कार ’शासन में सूचना प्रौद्योगिकी एप्लीकेशन श्रेणी में’ नवाचार के लिए प्रदान किया गया है। राज्यसभा के सेवानिवृत्त सचिव देशदीपक से चिप्स के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एलेक्स पॉल मेनन ने यह सम्मान ग्रहण किया। विदेश विभाग के सचिव  ज्ञानेश्वर मुले, राष्ट्रीय डेरी विकास निगम के अध्यक्ष दिलीप रथ, बिहार के प्रमुख सचिव अमिर शुभानी, मुख्य कार्यपालन अधिकारी आपदा प्रबंधन, गुजरात  अनुराधा मल, चिप्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी पुष्पेन्द्र मीणा, परियोजना हेड अरविंद के गौतम, हर्ष बंधे एवं सुब्रत तिवारी सहित देश भर के अनेक सूचना प्रौद्योगिकी विशेषज्ञ इस अवसर पर मौजूद थे। 

उल्लेखनीय है कि डॉ. कलाम नवाचार फाऊंडेशन द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर केन्द्र एवं राज्य सरकारों एवं अन्य शासकीय संगठनों द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं का सर्वेक्षण एवं परीक्षण किया जाता है। फाऊंडेशन के जूरी सदस्यों द्वारा चयनित सर्वश्रेष्ठ योजनाओं को वार्षिक शिखर सम्मेलन में पुरस्कृत किया जाता है। पुरस्कार के लिए ऐसी परियोजनाओं का चयन किया जाता है जिनसे प्रशासन की गुणवत्ता में सुधार हो। 

सीपीएमयू परियोजना की विस्तृत जानकारी देते हुए चिप्स के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एलेक्स पॉल मेनन ने बताया कि विभागों में संचालित विभिन्न परियोजनाओं के कार्यप्रवाह पर आधारित प्रबंधन करने तथा योजनाओं के भौतिक एवं वित्तीय प्रगति की वास्तविक समय पर निगरानी एवं नियंत्रण रखने के लिए योजना का संचालन किया जा रहा है। योजना के प्रथम चरण में लोक निर्माण विभाग, नया रायपुर विकास प्राधिकरण, छत्तीसगढ़ रोड डेव्लपमेंट कार्पोरेशन, राज्य विद्युत वितरण कम्पनी और राज्य पॉवर ट्रांसमिशन कम्पनी को शामिल किया गया है। इस योजना की प्रमुख विशेषता ई-मेज्रमेंट बुक आधारित निगरानी प्रणाली है, जो डैशबोर्ड के माध्यम से मुख्यमंत्री कार्यालय तक देखी तथा संचालित की जाती है। सीपीएमयू में सम्मिलित समस्त योजनाओं के डाटा वास्तविक समय पर प्राप्त होते है जिससे शासन के उच्चतम स्तर तक प्रभावी निगरानी और निर्णय लेने की सुविधा प्राप्त होती है। वर्तमान में इस परियोजना के अंतर्गत 3 करोड़ रूपये मूल्य की योजनाओं की निगरानी की जा रही है।

छत्तीसगढ़ में खनन विशेषज्ञों की टीम भेजेगी रियो टिंटो

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान छत्तीसगढ़ सरकार के प्रतिनिधिमंडल के साथ आज रियो टिंटो के मुख्य सलाहकार जॉनथन रोज से मुलाकात की। रोज से मुलाकत के दौरान मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने उन्हें बताया कि छत्तीसगढ़ खनिज संसाधनों से संपन्न राज्य है। इस राज्य में तथा ऑस्ट्रेलिया में बहुत सी समानताएं हैं। रियो टिंटो दुनिया की सबसे बड़ी खनन कंपनियों में एक है, वह भारत में अपनी खनन योजना का विस्तार के लिए छत्तीसगढ़ के बारे में विचार कर सकती है। 

रोज ने मुख्यमंत्री को बताया कि छत्तीसगढ़ के इको सिस्टम के अध्ययन के लिए रियो टिंटो अपने खनन विशेषज्ञों की टीम भेजेगी और खनन क्षेत्र में निवेश की संभावनाओं का पता लगाएगी। उन्होंने कहा कि रियो टिंटो भी छत्तीसगढ़ यात्रा के दौरान वहां की स्थानीय खनन कंपनियों से जुड़ना चाहती है।

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने रिवीना आयल और बायोएनर्जी के मैनेजिंग डायरेक्टर ध्रुव दीपक सक्सेना से भी मुलाकात की।  सक्सेना ने बातचीत के दौरान कहा कि उनकी कंपनी भारत में खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में नये व्यापारिक अवसरों की तलाश कर रही है। वह राइस ब्रान आयल के उत्पादन के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ में निवेश की संभावनाओं का पता लगाएगी। कंपनी वर्तमान में आस्ट्रेलिया में कैनोला आयल का उत्पादन कर रही है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव अमन कुमार सिंह, सचिव वाणिज्य एवं उद्योग  कमलप्रीत सिंह, संचालक वाणिज्य एवं उद्योग अलरमेल मंगई डी, छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम के प्रबंध संचालक सुनील मिश्रा और संबंधित कम्पनियों के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

भूपेश ने किया आरएसएस प्रमुख पर सवाल तो भाजपा ने एेसे दिया जवाब, पढ़े पूरी खबर

रायपुर । संघ प्रमुख मोहन भागवत से कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल के पांच सवाल पूछने पर भाजपा प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने पलटवार किया। उन्होंने कहा कि सरकार के फैसलों पर संघ प्रमख से सवाल करना कांग्रेस का राजनीतिक प्रोपेगंडा है। संजय श्रीवास्तव ने संघ प्रमुख मोहन भागवत से भूपेश बघेल द्वारा पूछे पाॅच सवालों के जवाब दिया है। 

पहले सवाल का जवाब

भूपेश बघेल सवाल पूछने से पहले एक बार जरा तथ्यों की पड़ताल कर लें। जिन गायों की मौत की वो बात कर रहे हैं, उस मामले में सरकार ने त्वरित कदम उठाते करते हुए सभी आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की। कांग्रेस के लोग केरल में बछड़े की हत्या का वीडियो बनाते हैं और छत्तीसगढ़ में गौमाता पर राजनीति करते हैं। संघ, भाजपा और हम सभी के लिए गाय सिर्फ मवेशी नहीं, माता है और हम इसपर राजनीति नहीं करते बल्कि गौसेवा को अपना धर्म मानते हैं। जहां तक कमीशनखोरी का भूपेश बघेल आरोप लगा रहे हैं तो देश की जनता जानती है कि कांग्रेस का इतिहास ही घोटालों और भ्रष्टाचार का रहा है, इसलिए इन्हें हर जगह हर वक्त सिर्फ कमीशन की ही चिंता सताती रहती है।

दूसरे सवाल का जवाब

छत्तीसगढ़ की भाजपा सरकार ने पिछले वित्त वर्ष की शुरुआत से भी पहले ये साफ कर दिया था कि प्रदेश से शराब के अवैध कारोबार को खत्म करना है, कोचियों को हटाना है और चरणबद्ध तरीके से शराबबंदी की ओर कदम बढ़ाना है। भूपेश बघेल केवल इतना बता दें कि जिन राज्यों में कांग्रेस की सरकारें हैं, क्या वहां शराबबंदी है? दूसरी बात ये कि संघ सरकार नहीं चलाता, बल्कि भाजपा सरकार चलाती है, इसलिए सरकार के फैसलों को लेकर संघ प्रमुख माननीय मोहन भागवत जी से सवाल पूछना ही ये दर्शाता है कि भूपेश बघेल को सिर्फ राजनीतिक प्रोपेगेंडा से मतलब है।

तीसरे सवाल का जवाब

महिलाओं की सुरक्षा को लेकर भूपेश बघेल और कांग्रेस की चिंता कितनी है, इसे तो पूरा देश देख रहा है। हमारे देश की मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक के नाम पर घर से बेघर कर दिया जाता है और भाजपा सरकार जब इसके खिलाफ कानून बनाना चाहती है तो कांग्रेस ने राज्यसभा में रोड़े अटका दिए। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष महिलाओं की स्कर्ट को लेकर बयान देते हैं और यहां प्रदेश अध्यक्ष महिला सुरक्षा की चिंता जता रहे हैं। निश्चित रूप से महिलाओं का गायब होना हमारे लिए भी चिंता का विषय है, लेकिन पुलिस इसकी जांच कर रही है।

चौथे सवाल का जवाब

भूपेश बघेल ने लगता है कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जी का वक्तव्य नहीं पढ़ा है, जिसमें उन्होंने साफ कहा है कि रेड कॉरीडोर को ग्रीन कॉरीडोर बनाया जा रहा है। नक्सलवाद प्रभावित बस्तर में जिस तरह से सड़कें बनाई गई हैं, संपर्क विस्तार हुआ है, जिस रफ्तार से हर क्षेत्र में विकास हुआ है, उसके बारे में भूपेश बघेल तथ्य देख लें। आदिवासियों के साथ हमारी सरकार संवेदनशीलता के साथ मिलकर काम कर रही है और उन्हें नक्सलियों से सुरक्षित रखने के लिए लगातार कदम उठाए जाते रहे हैं।

पांचवें सवाल का जवाब

संघ और भाजपा भ्रष्टाचार के पोषक नहीं, बल्कि भ्रष्टाचार के उन्मूलक हैं। भाजपा विकास, सुशासन में विश्वास करती है, सबका साथ-सबका विकास हमारा सिद्धांत है। जनता घोटालों-भ्रष्टाचार में डूबी कांग्रेस का सफाया इसीलिए कर रही है, लेकिन लगता है कि भूपेश बघेल इसे देख कर भी नहीं देख पा रहे हैं। हम उनकी पीड़ा समझ सकते हैं, वो छत्तीसगढ़ में 14 साल से विपक्ष में हैं और अभी उन्हें विपक्ष में ही रहना है तो आरोप लगाने के अलावा उनके और कांग्रेस के पास कोई दूसरा विकल्प भी नहीं है। भूपेश बघेल सिर्फ इतना बता दें कि जिस कांग्रेस सरकार में हर दिन कोई न कोई नया घोटाला सामने आता था, भाजपा के कार्यकाल में उन्होंने क्या एक भी घोटाला सुना है?

सीएम पर पुनिया का पलटवार, बोले-विदेश दौरे से नहीं होगा जनहित
मुख्यमंत्री ने कहा था पुनिया को नहीं है छत्तीसगढ़ के संसाधनों की जानकारी
Loading
Visitor No.