GLIBS
25-03-2020
जरूरतमंदों की सहायता के लिए अमरजीत भगत देंगे एक महीने का वेतन

रायपुर। खाद्य एवं संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए किए जा रहे उपायों और लागू लॉक डाउन के दौरान दैनिक मजदूरों और जरूरतमंदों की सहायता के लिए मुख्यमंत्री सहायता कोष में अपना एक महिने का वेतन देने की घोषणा की है। गौरतलब है कि कोरोना वायरस के सामुदायिक प्रसार को रोकने के लिये केंद्र सरकार द्वारा 21 दिनों तक के लिए देशव्यापी लॉक डाउन किया गया है। प्रदेश में लॉक डाउन के दौरान जरूरतमंदों और विभिन्न आवश्यकताओं के लिए राहत कोष की स्थापना की गई है। इस राशि से कोरोना वायरस के संक्रमण को दूर करने के लिए उपयोग में लाया जाएगा।

13-08-2019
इस अभिनेत्री के मोम के पुतले बनाने में लग गए  पांच महीने 

नई दिल्ली। आज श्रीदेवी का जन्मदिन है। दिवगंत अदाकारा श्रीदेवी को उनके परिवारवाले, फैंस और बॉलीवुड सेलेब्स याद कर रहे हैं। श्रीदेवी को मैडम तुसाद सिंगापुर ने खास अंदाज में श्रद्धांजलि दी है। मैडम तुसाद सिंगापुर ने श्रीदेवी के 56वें जन्मदिन पर उनके वैक्स स्टेच्यू के लॉन्च का ऐलान किया है। श्रीदेवी के इस मोम के पुतले को एक्ट्रेस की याद में बनाया गया है। ये मोम का पुतला काफी खास है। 20 एक्सपर्ट आर्टिस्ट्स की टीम ने श्रीदेवी के परिवार के साथ मिलकर उनके पोज, एक्सप्रेशन, मेकअप और आइकॉनिक आउटफिट को रीक्रिएट करने में पांच महीने तक काम किया। श्रीदेवी का क्राउन, कफ्स, ईयरिंग्स और ड्रेस में मौजूद 3 डी प्रिंट को कई टेस्ट के बाद का पूरा किया गया। जानकारी के मुताबिक फिल्म मिस्टर इंडिया के आइकॉनिक सॉन्ग हवा हवाई में जो श्रीदेवी का लुक दिखा था, वैक्स स्टेच्यू उसी लुक पर तैयार किया गया है। ड्रेसअप, क्राउन, मेकअप, हेयर स्टाइल मेकअप हू-ब-हू हवा हवाई के लुक का बताया जा रहा है। श्रीदेवी के इस मोम के पुतले को आफिशियली सितंबर की शुरुआत में उनके पति बोनी कपूर, जाह्नवी और खुशी कपूर द्वारा लॉन्च किया जाएगा। पत्नी को मिले इस सम्मान से बोनी कपूर काफी खुशी हैं। मैडम तुसाद सिंगापुर के जनरल मैनेजर एलेक्स वार्ड ने कहा कि श्रीदेवी भारतीय सिनेमा की आइकॉन हैं। उनके बिना अल्टीमेट फिल्म स्टार एक्सपीरियंस जोन अधूरा है। हमें खुशी है कि मैडम तुसाद में श्रीदेवी की लीगेसी को जगह मिलेगी।

 

 

03-06-2019
पंचायत विभाग से नहीं आया फंड, तीन महीने से शिक्षाकर्मियों को वेतन नहीं

 

रायपुर। प्रदेशभर में काम करने वाले 40 हजार से ज्यादा शिक्षाकर्मियों को तीन महीने से वेतन नहीं मिल रहा है। शिक्षाकर्मियों के परिवारवालों के लिए परेशानी खड़ी हो गई है। शिक्षाकर्मियों को अपना परिवार चलाना भी मुश्किल हो गया है। बता दें कि पंचायत विभाग ने फंड जारी नहीं किया गया है। इसी वजह से 40 हजार से ज्यादा शिक्षाकर्मियों को तीन महीने से वेतन नहीं मिला है। ग्लिब्स टीम को शिक्षाकर्मियों ने बताया कि पंचायत विभाग की ओर से वेतन नहीं दिया जा रहा है। पंचायत विभाग को पत्र लिखकर जल्द फंड जारी करने के लिए कहा गया है। इधर पूरे मामले को लेकर छत्तीसगढ़ पंचायत नगरीय निकाय शिक्षक संघ के प्रदेश मीडिया प्रभारी विवेक दुबे ने बताया कि जिन शिक्षाकर्मियों को दो-दो तीन-तीन माह से वेतन नहीं मिला है उनके घरों की स्थिति क्या होगी, वह अपने परिवार का भरण पोषण कैसे कर रहे होंगे और उनकी मानसिक स्थिति क्या होगी? आज हम अपने साथियों को आश्वासन तक देने की स्थिति में नहीं है क्योंकि बार-बार उच्च अधिकारियों से गुहार लगाने के बावजूद न तो कभी दोषी अधिकारियों पर कोई कार्रवाई हुई और न ही कोई ऐसा सिस्टम तैयार किया गया जिससे शिक्षाकर्मियों को सही समय पर वेतन मिल जाए । महज 12 से 15 हजार पाने वाले  शिक्षाकर्मियों को उनका वेतन तक सही समय पर नहीं मिल पा रहा है यही कारण है कि हम बार-बार सरकार से गुहार लगाते आ रहे हैं कि शिक्षाकर्मियों का स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन कर दिया जाए ताकि राज्य की शिक्षा व्यवस्था में एकरुपता आ जाए और प्रदेश के शिक्षकों को समय पर वेतन मिलने लगे । पंचायत विभाग के शिक्षाकर्मियों के लिए न तो कोई स्थानांतरण नीति है न ही कोई प्रभावी अनुकंपा नियुक्ति क्योंकि जो नीति अनुकंपा के लिए लागू है उसके चलते आज 3500 परिवार अनुकंपा पाने से वंचित हो गए हैं। हमारी सरकार और उच्च अधिकारियों से एक बार फिर आपके माध्यम से गुहार है कि शिक्षाकर्मियों के वेतन भुगतान की तत्काल व्यवस्था की जाए और जुलाई में जो संविलियन होना है उसमें प्रदेश के सभी शिक्षाकर्मियों का संविलियन करके इस भेदभाव पूर्ण और कई स्तरीय शिक्षा व्यवस्था को ही हमेशा-हमेशा के लिए खत्म कर दिया जाए।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804