GLIBS
19-01-2021
पंजीयन व मुद्रांक से 902 करोड़ रुपए का राजस्व अर्जित किया बीते माह

रायपुर। राज्य शासन के पंजीयन व मुद्रांक विभाग की राज्य के राजस्व संग्रहण में महत्वपूर्ण भूमिका होती है। वित्तीय वर्ष 2020-21 में बीते माह दिसम्बर 2020 तक पंजीयन व मुद्रांक से 902 करोड़ रुपए का राजस्व अर्जित कर लिया गया है। महानिरीक्षक पंजीयन से प्राप्त जानकारी के अनुसार चालू वित्तीय वर्ष 2020-21 में कोविड-19 के संकट के कारण पंजीयन विभाग का कार्य प्रभावित होने के बाद भी अप्रैल 2020 से दिसम्बर 2020 तक 902 करोड़ रुपए का राजस्व अर्जित कर लिया है।

08-01-2021
अब श्रमिकों का होगा ऑनलाइन पंजीयन, नए पोर्टल और मोबाइल एप की मिलेगी सुविधा

रायपुर। कोरोना काल में श्रमिकों के कल्याण के लिए उल्लेखनीय कार्य कर देश भर में प्रशंसा बटोरने वाली छत्तीसगढ़ सरकार ने प्रदेश के श्रमिकों के लिए नई पहल की है। श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने इस दिशा में कदम उठाते हुए श्रमिकों के पंजीयन के लिए नया पोर्टल शुरू करने का निर्देश दिया है। इस पोर्टल की खासियत होगी कि इसमें पंजीयन बहुत आसान होगा। इसके साथ ही एक मोबाइल एप भी बनाया जा रहा है।  इसमें नेटवर्क एरिया से बाहर होने पर भी श्रमिक फार्म भरकर अपलोड कर सकता है। मोबाइल को नेटवर्क मिलते ही पंजीयन फार्म सर्वर में अपलोड हो जाएगा और पंजीयन करने वाले श्रमिक के मोबाइल नंबर पर मैसेज भी आ जाएगा। मंत्री डॉ. डहरिया ने इस संबंध में श्रम आयुक्त एलेक्स पॉल मेनन को आवश्यक दिशा निर्देश दिए हैं। मेनन ने सभी श्रम पदाधिकारियों को निर्देशित किया है कि नए पंजीयन प्रपत्र को भरने के साथ श्रमिकों को इस संबंध में जानकारी प्रदान की जाए। उन्होंने बताया है कि नवीन पोर्टल की शुरुआत के साथ एक मोबाइल एप्लीकेशन भी तैयार किया जा रहा है। इस एप की विशेषता होगी कि यदि कोई श्रमिक नेटवर्क कवरेज से बाहर है तो भी श्रमिक एप में पंजीयन फार्म भरकर अपलोड कर देगा। जैसे ही मोबाइल नेटवर्क कवरेज में आएगा, पंजीयन फार्म सर्वर में अपलोड हो जाएगा। श्रमिकों को मोबाइल में संदेश के माध्यम से पंजीयन की जानकारी प्राप्त हो जाएगी। इस सुविधा से प्रदेश के श्रमिकों को श्रम से जुड़ी जानकारी हासिल करने और पंजीयन कराने में आसानी होगी।

01-01-2021
गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़ी युवा विषय पर स्लोगन प्रतियोगिता,पंजीयन 10 जनवरी तक

रायपुर। स्वामी विवेकानंद की जयंती राष्ट्रीय युवा दिवस के मौके पर छत्तीसगढ़ शासन के जनसंपर्क विभाग की ओर से गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़ी युवा विषय पर स्लोगन प्रतियागिता का आयोजन किया जा रहा है। इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए इच्छुक प्रतिभागी 1 जनवरी से 10 जनवरी तक जनसंपर्क विभाग की वेबसाइट  http://jansampark.cg.gov.in/http://dprcg.gov.in में ऑनलाइन पंजीयन करा सकते हैं। स्लोगन स्व-लिखित होना चाहिए। नकल या कही और से लिए गए स्लोगन में किसी भी विवाद के मामले में प्रतिभागी जिम्मेदार होंगे। स्लोगन की वर्ण संख्या 250 निर्धारित है। स्लोगन की भाषा छत्तीसगढ़ी, हिन्दी और इंग्लिश होगी। इस प्रतियोगिता के माध्यम से चयनित स्लोगन का उपयोग प्रचार-प्रसार के लिए किया जा सकेगा। सभी प्रतिभागियों को डिजिटल सर्टिफिकेट और 100 सर्वश्रेष्ठ स्लोगन को जनसंपर्क विभाग की ओर से एक-एक हजार रुपए का पुरस्कार दिया जाएगा।

 

 

24-12-2020
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजनाः 94306 कृषकों का हुआ पंजीयन

रायपुर/मुंगेली। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना अंतर्गत 94306 कृषकों का पंजीयन की कार्य पूर्ण किया जा चुका है। योजना अंतर्गत प्रत्येक लाभार्थी परिवार को रुपए 6000 रुपए की राशि तीन समान किस्तों में परिवार के मुखिया के बैंक खाते में डीबीटी के माध्यम से हस्तांतरित की गई है। लाभार्थी परिवार को योजना का लाभ उसी समय दिया जा सकेगा जब उस लाभार्थी परिवार के संबंध में मुखिया का राजस्व अभिलेख में दर्ज नाम, मुखिया का आधार नंबर, मुखिया का बैक खाता का विवरण आदि की जानकारी भारत सरकार के पोर्टल में अपलोड की जाएगी। शासन के आदेशानुसार 1 अप्रैल से कृषि विभाग को नोडल विभाग घोषित किया गया है। योजना के अंतर्गत पंजीयन का कार्य ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी के माध्यम से किया जा रहा है। पात्र कृषक लोक सेवा केन्द्र के अंतर्गत पंजीयन करा सकते है अथवा लाभार्थी स्वंयं पंजीयन कर सकते हैं। लाभार्थी कृषक किसी प्रकार की त्रुटि सुधार के लिए अपने क्षेत्र के ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी और विकासखंड स्तर पर वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी से संपर्क कर सकते हैं। 

 

10-12-2020
वर्चुअल मैराथन में भाग लेने अब 12 दिसंबर तक मौका, 57 हजार प्रतिभागियों ने कराया पंजीयन

रायपुर। सरकार के सेवा-.जतन-सरोकार के दो साल पूरा होने पर छत्तीसगढ़ में पहली बार होने वाले वर्चुअल मैराथन दौड़ के लिए अब तक 57 हजार प्रतिभागियों ने ऑनलाइन पंजीयन कराया है। राज्य के नागरिकों से पंजीयन कराने की प्रक्रिया निरंतर जारी है। वर्चुअल मैराथन में भाग लेने के लिए 12 दिसंबर तक पंजीयन किया जा सकेगा।पंजीयन की प्रक्रिया 10 दिसंबर तक की थी, परंतु खिलाड़ियों और लोगों के भारी उत्साह को देखते हुए पंजीयन की तारीख में दो दिन की वृद्धि की गई है। दौड़ 13 दिसंबर को होगी। खेल एवं युवा कल्याण विभाग ने प्रदेशवासियों से कोविड 19 के नियमों का पालन करते हुए वर्चुअल मैराथन दौड़ के सफल आयोजन में सहभागी बनने की अपील की है।

वर्चुअल मैराथन दौड़ के प्रतिभागी कहीं भी समूह के रूप में एकत्रित नहीं होंगे। प्रतिभागी घर, उद्यान, मैदान, सड़क या अन्य किसी सुरक्षित स्थान पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते दौड़ेंगे और दौड़ते हुए कुछ  सेकेण्ड का वीडियो या फोटो 13 दिसंबर को सुबह 6 बजे से 11 बजे तक हैशटैग #runwithchhattisgarh के साथ फेसबुक व ट्वीटर पर अपलोड कर सकेंगे।राज्य के इच्छुक प्रतिभागी खेल एवं युवा कल्याण विभाग और जनसंपर्क विभाग की वेबसाइट  http://www.sportsyw.cg.gov.in और http://jansamprak.cg.gov.in और http://dprcg.gov.in में 10 दिसंबर तक पंजीयन करा सकते हैं। रजिस्ट्रेशन लिंक में वर्चुअल मैराथन दौड़ के लिए छत्तीसगढ़ शासन की ओर से अधिकृत लोगो और स्लोगन की तस्वीर भी ऑनलाइन उपलब्ध है। वर्चुअल मैराथन दौड़ में भाग लेने वाले प्रतिभागी प्रिंटआउट निकालकर अपने सफेद रंग की टीण्शर्ट पर चिपकाकर दौड़ते हुए वीडियो और फोटो लेकर हैशटैग कर सकते हैं।

 

10-12-2020
वर्चुअल मैराथन में पंजीयन के लिए अंतिम दिन आज, 46 हजार प्रतिभागियों ने अब तक कराया पंजीयन

रायपुर। प्रदेश में कांग्रेस शासन के 2 साल पूरे होने पर पहली बार आयोजित होने वाले वर्चुअल मैराथन दौड़ के लिए अब तक 46 हजार प्रतिभागियों का ऑनलाइन पंजीयन किया जा चूका है। वर्चुअल मैराथन में भाग लेने के लिए गुरुवार को आखिरी दिन है। वर्चुअल मैराथन का आयोजन 13 दिसम्बर को होगा। खेल एवं युवा कल्याण विभाग ने प्रदेशवासियों से कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए वर्चुअल मैराथन दौड़ के सफल आयोजन में सहभागी बनने की अपील की है। प्रतिभागी घर, उद्यान, मैदान, सड़क या अन्य किसी सुरक्षित स्थान पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते दौडेंगे और दौड़ते हुए कुछ सेकेण्ड का वीडियो अथवा फोटो 13 दिसम्बर को सुबह 6 बजे से 11 बजे तक हैशटैग #runwithchhattisgarh के साथ फेसबुक व ट्वीटर पर अपलोड कर सकेंगे। राज्य के प्रत्येक जिले में प्रथम 300 से 500 तक पंजीयन करने वाले प्रतिभागियों को टीशर्ट प्रदान कर प्रोत्साहित किया जाएगा। राज्य के इच्छुक प्रतिभागी खेल एवं युवा कल्याण विभाग तथा जनसम्पर्क विभाग की वेबसाइट http://www.sportsyw.cg.gov.in एवं http://jansamprak.cg.gov.in और http://dprcg.gov.in में 10 दिसम्बर तक पंजीयन करा सकते हैं।

07-12-2020
वर्चुअल मैराथन: अब तक 34 हजार लोगों ने कराया पंजीयन, 10 दिसम्बर तक करा सकते हैं पंजीयन

रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार के सेवा-जतन-सरोकार के दो साल पूरा होने पर छत्तीसगढ़ में पहली बार आयोजित होने वाले वर्चुअल मैराथन दौड़ के लिए अब तक 34 हजार प्रतिभागियों ने ऑनलाइन पंजीयन कराया है। राज्य के नागरिकों द्वारा पंजीयन कराने की प्रक्रिया निरंतर जारी है। वर्चुअल मैराथन में भाग लेने के लिए 10 दिसम्बर तक पंजीयन किया जा सकेगा। दौड़ का आयोजन 13 दिसम्बर को किया गया है। खेल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा प्रदेशवासियों से कोविड-19 के नियमों का पालन करते हुए वर्चुअल मैराथन दौड़ के सफल आयोजन में सहभागी बनने की अपील की गई है।

वर्चुअल मैराथन दौड़ के प्रतिभागी कहीं भी समूह के रूप में एकत्रित नहीं होंगे। प्रतिभागी घर, उद्यान, मैदान, सड़क या अन्य किसी सुरक्षित स्थान पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते दौडेंगे और दौडते हुए कुछ सेकेण्ड का वीडियो अथवा फोटो 13 दिसम्बर को सबेरे 6 बजे से 11 बजे तक हैशटैग #runwithchhattisgarh के साथ फेसबुक व ट्वीटर पर अपलोड कर सकेंगे। राज्य के प्रत्येक जिले में प्रथम 300 से 500 तक पंजीयन करने वाले प्रतिभागियों को टीशर्ट प्रदान कर प्रोत्साहित किया जाएगा।राज्य के इच्छुक प्रतिभागी खेल एवं युवा कल्याण विभाग तथा जनसम्पर्क विभाग की वेबसाइट http://www.sportsyw.cg.gov.in एवं http://jansamprak.cg.gov.in और http://dprcg.gov.in में 10 दिसम्बर तक पंजीयन करा सकते हैं। रजिस्ट्रेशन लिंक में वर्चुअल मैराथन दौड़ के लिए छत्तीसगढ़ शासन द्वारा अधिकृत लोगो एवं स्लोगन की तस्वीर भी ऑनलाइन उपलब्ध है।वर्चुअल मैराथन दौड़ में भाग लेने वाले प्रतिभागी प्रिंटआउट निकालकर अपने सफेद रंग की टी-शर्ट पर चिपकाकर दौड़ते हुए वीडियो और फोटो लेकर हैशटैग कर सकते हैं।

 

 

30-11-2020
जिले में समर्थन मूल्य पर धान बेचने 1,87,077 किसानों ने कराया पंजीयन, उपार्जन केन्द्रों में खरीदी की तैयारियां पूरी

जांजगीर-चांपा। राज्य में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का महापर्व एक दिसम्बर से शुरू होने जा रहा है। जांजगीर-चांपा जिले कलेक्टर यशवंत कुमार के मार्गदर्शन में उपार्जन केन्द्रों में धान खरीदी की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। जिले में इस साल धान बेचने के लिए 1,87,077 किसानों ने पंजीयन कराया है,जिनके द्वारा बोये गए धान का रकबा 2,17,709.927 हेक्टेयर से अधिक है। खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में 1,73,511 किसानों का पंजीयन हुआ था। किसान हितैषी नीतियों के चलते जांजगीर-चांपा जिले में किसानों की संख्या में  13,566 का इजाफा हुआ है। विगत वर्ष 78.66 लाख क्विंटल धान की खरीदी हुई थी। इस वर्ष  80.55 लाख क्विंटल धान खरीदने का लक्ष्य रखा गया है। इस साल धान बेचने के लिए पंजीकृत किसानों की संख्या को देखते हुए समर्थन मूल्य पर बीते वर्ष की तुलना में ज्यादा खरीदी का अनुमान है। कलेक्टर यशवंत कुमार के मार्ग निर्देशन में जिला प्रशासन द्वारा किसानों की सुविधा के लिए हरसंभव व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जा रही है।

धान उपार्जन केन्द्रों में किसानों की सहुलियत को लेकर सभी व्यवस्थाएं की जा रही है। विगत दिनों कलेक्टर एवं एसपी पारूल माथुन ने विभिन्न उपार्जन केन्द्रों की तैयारी का जायजा लेकर तैयारी के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए थे। तौल मशीन, आद्रता मापी, कम्प्यूटर, इंटरनेट आदि को व्यवस्थित करनें, हमाल व्यवस्था, सुरक्षा संबंधी आवश्यकता तैयारियां पूर्ण करने कहा गया है। राज्य शासन के निर्देशानुसार खरीदे गए धान की स्टेकिंग, उठाव के लिए भी निर्देश दिए गए हैं। जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के नोडल अधिकारी सुशील चन्द्राकर ने बताया कि जिले में सहकारी केन्द्रीय बैक की कुल 18 शाखाएं संचालित है। जिले में कुल 196 सहकारी समितियों के माध्यम से 230 उपार्जन केन्द्रों से धान खरीदी की जाएगी। धान खरीदी के प्रथम दिन 26 उपार्जन केन्द्रों से 155 किसानों को टोकन जारी किया गया है। जिनसे करीब 7,390 क्विंटल धान की खरीदी का अनुुमान है। नवगठित समिति में भी आवश्यक तैयारियां शुरू कर दी गई है।

 

20-11-2020
प्रदेश में धान बेचने के लिए 21.47 लाख किसानों ने कराया पंजीयन,103 नए केन्द्रों की मंजूरी  

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की किसान हितैषी नीतियों के कारण राज्य में खेती-किसानी के प्रति कृषकों का रूझान बढ़ा है। राजीव गांधी किसान न्याय योजना ने खेती-किसानी को बढ़ावा देने के लिए संजीवनी का काम किया है। यही वजह है कि राज्य में अब पंजीकृत किसानों की संख्या 19 लाख से बढ़कर 21 लाख 47 हजार हो गई है। इस संख्या में 2 लाख 45 हजार नए किसान शामिल है, जिन्होंने इस वर्ष धान बेचने के लिए पंजीयन कराया है। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने कहा है कि किसान सहजता से अपने गांव के नजदीक के केन्द्रों में धान का विक्रय कर सकेंगे। इसके लिए राज्य शासन की ओर से 103 नए धान खरीदी केन्द्र खोलने की स्वीकृति दी गई है। उन्होंने बताया कि इन नवीन धान खरीदी केन्द्रों के खुलने से किसानों को सहूलियत होगी। उन्हें अपनी उपज बेचने के लिए ज्यादा दूर नहीं जाना होगा। नवीन धान खरीदी केन्द्रों में 1 दिसंबर से धान खरीदी शुरू किए जाने की तैयारियां की जा रही है।

 

 

12-11-2020
कलेक्टर ने कहा, गर्भवती माताओं का कराए शत-प्रतिशत पंजीयन,संस्थागत प्रसव कराने में मिलेगी सफलता

कांकेर। जिले के स्वास्थ्य तथा महिला एवं बाल विकास विभाग की संयुक्त समीक्षा बैठक जिला पंचायत के सभाकक्ष में कलेक्टर चन्दन कुमार की अध्यक्षता में आयोजित की गई। उन्होंने समीक्षा करते हुए कहा कि सरकार द्वारा संचालित योजनाओं तथा कार्यक्रमो को सुचारू रूप से क्रियान्वयन कराना सुनिश्चित करें। महिला एवं बाल विकास विभाग तथा स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से संचालित किये जा रहे जनकल्याणकारी योजनाओं और कार्यक्रमों को सफलता पूर्वक क्रियान्वयन कराने में मैदानी अधिकारी कर्मचारियों की अहम भूमिका होती है। गर्भवती माताओं का पंजीयन आंगनबाड़ी केन्द्रो के माध्यम से शतप्रतिशत कराना सुनिश्चित करें,जिससे संस्थागत प्रसव के लक्ष्य को प्राप्त करने में सफलता मिल सकें। उन्होंने कहा कि आंगनबाडी केन्द्रों के माध्यम कुपोषित बच्चों का चिन्हाकिंत कर पोषण पुनर्वास केन्द्रों में निर्धारित बिस्तर के अनुरूप उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी संबंधित महिला एवं बाल विकास विभाग के परियोजना अधिकारियों को दिया गया है। कलेक्टर चन्दन कुमार ने जिले के गर्भवती माताओं को शतप्रतिशत टीकाकरण कराने के लिए स्वास्थ्य विभाग के सेक्टर अधिकारियों को निर्देश दिये हैं। उन्होंने निर्देशित करते हुए कहा कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित सेवाओं का लाभ ग्रामीणों को आसानी से मिल सके जिसके लिए जिले के सभी प्राथमिक एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। कलेक्टर ने कहा कि मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लिनिक सेवा को शीघ्र प्रारंभ कर नियमित रूप से जिले के सभी हाट-बाजारों में स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देशित किये। जिले के पहुंच विहिन क्षेत्रों के सभी हाट-बाजरों में नियमित रूप से मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लिनिक योजना संचालित की जा रही थी। कोविड-19 के महामारी काल से हाट-बाजार बंद हो गया था, जिसे बहाल करते हुए पुनः इस योजना को नियमित रूप से संचालित कर स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ दुरस्थ अंचलों के लोगों तक पहुंचाने के लिए निर्देश दिये।

 

 

09-11-2020
पंजीयन कार्यालय रायपुर,बिलासपुर,दुर्ग और सरगुजा में 10 से 13 नवम्बर तक ज्यादा समय तक होगी रजिस्ट्री

रायपुर। राज्य शासन ने रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग और सरगुजा जिले में आमजनों की सुविधा के लिए 10 से 13 नवम्बर तक पंजीयन कार्यालयों की कार्य अवधि में आधे घंटे की वृद्धि की गई है। महानिरीक्षक पंजीयन तथा अधीक्षक मुद्रांक धर्मेश साहू ने बताया कि पंजीयन कार्यालयों का कार्यालयीन समय 10.30 से 6 बजे तक रहेेगा। इस कार्यालयीन अवधि में लोग दस्तावेजों का पंजीयन करा सकते हैं।

 

04-11-2020
धान खरीदने 29 हजार 906 किसानों का पंजीयन पूरा, दस नवंबर तक जारी रहेगा पंजीयन

कोरबा। प्रदेश सरकार द्वारा समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी के लिये किसानों के पंजीयन की अवधि दस नवंबर तक बढ़ानेे के बाद जिले में अभी तक नये-पुराने मिलाकर 29 हजार 906 किसानों का पंजीयन पूरा कर लिया गया है। इन पंजीकृत किसानों का धान फसल का रकबा 44 हजार 481 हेक्टेयर है। जिले में इस वर्ष अभी तक समर्थन मूल्य पर धान बेचने के लिये तीन हजार 773 नये किसानों ने सहकारी समितियों में अपना पंजीयन करा लिया है। पिछले वर्ष धान खरीदी के लिये जिले में 27 हजार 694 किसानों ने पंजीयन कराया था, जिनमें से इस वर्ष रकबा सत्यापन के बाद 691 किसानों का पंजीयन निरस्त हुआ है और 870 किसानों की रकबा सत्यापन के बाद खसरा प्रवृष्टि बाकी है। जिसे अगले दो दिनो में पूरा कर लिया जायेगा। अभी तक पिछले वर्ष के पंजीयन अनुसार 26 हजार 133 किसानों के धान के रकबे के सत्यापन के बाद 40 हजार 516 हेक्टेयर रकबे की सोसाइटी माॅड्यूल में खसरा प्रवृष्टि कर ली गई है। इसी प्रकार तीन हजार 773 नये पंजीकृत किसानों के तीन हजार 965 हेक्टेयर धान के रकबे की इंट्री सोसाइटी माॅड्यूल में हो चुकी है।

कलेक्टर किरण कौशल ने शेष बचे किसानों के धान के रकबे के सत्यापन काम में तेजी लाकर पांच नवम्बर तक सत्यापन का काम पूरा करने के निर्देश सभी अनुविभागीय राजस्व अधिकारियों, तहसीलदारों और नायब तहसीलदारों सहित पटवारियों को दिये हैं।उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्णय के बाद राज्य में धान और मक्का खरीदी के लिये किसानों के पंजीयन की अवधि दस दिन बढ़ा दी गई है। अब खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 के दौरान समर्थन मूल्य पर धान एवं मक्का बेचने वाले नये किसानों का पंजीयन दस नवम्बर तक किया जा रहा है। पहले किसानों के पंजीयन की तिथि 31 अक्टूबर निर्धारित थी। नये किसानो को पंजीयन के लिए क्षेत्र की सहकारी समिति से आवेदन प्राप्त कर निर्धारित प्रारूप में आवेदन भरकर संबंधित दस्तावेजों के साथ तहसील कार्यालय में जमा करना होगा। आवेदन में उल्लेखित भूमि, धान-मक्का के रकबे एवं खसरे का पटवारी द्वारा राजस्व रिकाॅर्ड के अनुसार सत्यापन किया जाएगा। सत्यापन के लिए राजस्व विभाग के भुईयां डाटा बेस का भी उपयोग किया जाएगा। संबंधित रिकाॅर्ड को तहसीलदार के द्वारा परीक्षण करने के बाद नये किसान का पंजीयन किया जाएगा।

पंजीयन के दौरान सभी किसानों का आधार नंबर उनकी सहमति से दर्ज किया जाएगा। आधार नंबर नहीं होने के कारण किसी भी किसान को पंजीयन से वंचित नहीं किया जाएगा।धान एवं मक्का खरीदी के लिये जिन किसानों ने खरीफ वर्ष 2019-20 में पंजीयन करा लिया था, उन्हें नए पंजीयन की जरूरत नहीं है। पिछले सीजन में पंजीकृत किसानों की दर्ज भूमि, धान और मक्के के रकबे और खसरे को राजस्व विभाग द्वारा अद्यतन किया किया जा रहा है। खरीफ वर्ष 2020-21 में किसान पंजीयन के लिए पिछले वर्ष 2019-20 में पंजीकृत किसानों का डाटा कैरी-फाॅरवर्ड किया गया है। धान और मक्का बेचने के इच्छुक नए किसान दस नवम्बर तक पंजीयन के लिए आवेदन कर सकते हैं। धान-मक्का बेचने वाले नए किसान पंजीयन के लिए संबंधित दस्तावेजों के साथ तहसील कार्यालय में आवेदन कर सकते हैं। पुराने पंजीकृत किसान अपने पंजीयन में संशोधन कराना चाहते हैं तो समिति माॅड्युल के माध्यम से संशोधन करने की सुविधा दी जा रही है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804