GLIBS
24-05-2019
अभिनेता से नेता बने सनी देओल को मिला यह शानदार तोहफा

 

गुरदासपुर। अभिनेता सनी देओल ने भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर गुरदासपुर सीट से जीत हासिल कर एक नया इतिहास रचा है। उनकी इस ऐतिहासिक जीत पर भाजपा के कार्यकर्ताओं ने देओल को 'हैण्डपंप' भेंट किया है। कांग्रेस प्रत्याशी सुनील कुमार जाखड़ को 77,009 वोट से हराने वाले सनी देओल ने इस सीट पर विनोद खन्ना की विरासत को आगे बढ़ाया है। गुरदासपुर के उम्मीदवार बनने से ठीक पहले भारतीय जनता पार्टी का दामन थामकर अभिनेता से नेता बने सनी देओल का ये पहला चुनाव था।

उनके सामने सुनील कुमार जाखड़ जैसे मज़बूत प्रतिद्वंद्वी मौजूद थे। लेकिन सनी को मोदी लहर का जबर्दस्त फायदा मिला। हालांकि मतगणना के दौरान कुछ समय सनी देओल पीछे भी हुए थे और ऐसा लग रहा था कि राजनीति में उनका डेब्यू फ्लॉप हो जाएगा, लेकिन एक बार वो आगे निकले तो सीधा जीत कर ही माने।

24-05-2019
चुनाव परिणाम के बाद दिग्विजय सिंह ने ली प्रेस कांफ्रेंस, जानिए क्या कहा...

भोपाल। लोकसभा चुनाव के नतीजे के बाद शुक्रवार को कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने पहली प्रेस कांफ्रेंस ली। उन्होंने जीत के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी। उन्होंने कहा मुझे निजी तौर पर चिंता सता रही हैं कि गांधी के हत्यारे की विचारधारा जीत गई और शांति दूत हार गया।

दिग्विजय सिंह ने कहा कि भोपाल की जनता से किए हर वादे को पूरा करूंगा। 2014 के चुनाव में 280 का नारा दिया था इस बार 300 पर का नारा दिया, इनके पास कौन सी जादू की छड़ी है, जो अपने लक्ष्य को पूरा कर लेती है। दिग्विजय ने कहा मैं जीत नही पाया लेकिन जो भी वादे किए पूरा करने का प्रयास करूंगा। उन्होंने कहा कि राजनीति में उतार चढ़ाव आते रहते हैं। हम अपना काम करते रहेंगे और जनता से जो वादे किए है पूरा करेंगे। भारत के लोकतंत्र पर हम सबका विश्वास है।

24-05-2019
मां से आशीर्वाद लेने गांधीनगर जाएंगे पीएम मोदी

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव में रिकॉर्ड मतों से जीत कर कई रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए हैं। वहीं पुन: प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने से पहले पीएम मोदी अपने मां से मिलने 29 मई को गांधीनगर जाएंगे और मां हीराबेन से आशीर्वाद लेंगे।

24-05-2019
चुनाव में हार के बाद ओडिशा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष निरंजन पटनायक ने दिया इस्तीफा

भुवनेश्वर। ओडिशा में लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव में हार के मद्देनजर प्रदेश कांग्रेस समिति अध्यक्ष निरंजन पटनायक ने शुक्रवार को अपने पद से इस्तीफे की घोषणा की। पटनायक ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘प्रदेश में लोकसभा और विधानसभा चुनावों में पार्टी के खराब प्रदर्शन की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए मैंने अपना त्यागपत्र कांग्रेस अध्यक्ष को भेज दिया है।’’ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘‘राज्य में कांग्रेस तो हारी ही है, मैं स्वयं भी हार गया।’’जनता का भरोसा जीतने में कांग्रेस के विफल रहने की बात स्वीकार करते हुए उन्होंने कहा कि अवसरवादियों की पहचान कर पार्टी को अब राज्य में बेहतर स्तर पर खड़ा करने के लिए ठोस कदम उठाने की आवश्यकता है और युवाओं को आकर्षित करने की जरूरत है।

24-05-2019
भूपेश बघेल जहां भी चुनाव प्रचार करने पहुंचे वहां कांग्रेस का हुआ बंटाधार : डॉ. रमन सिंह

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉक्टर रमन सिंह ने पत्रकार वार्ता के दौरान कहा कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जहां भी चुनाव प्रचार करने पहुंचे वहां कांग्रेस का बंटाधार हो गया । उन्होंने यह भी कहा कि अपने खुद के घर दुर्ग में भी अपना सीट नहीं बचा पाए और वहां से छत्तीसगढ़ के चार-चार दिग्गज मंत्री होने के बावजूद उनकी बुरी तरह से हार हुई है। 

राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डा रमन सिंह ने यह भी कहा कि छत्तीसगढ़ की जनता और देशभर की जनता ने कांग्रेस के वंशवाद की राजनीति को खत्म कर दिया है। उन्होंने यह भी कहा कि जिस प्रकार भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर ट्वीट कर टिप्पणी की थी कि 23 तारीख का इंतजार करें, उनसे पहले झोला लेकर निकल पड़े, लेकिन अब कांग्रेस की पूरी टीम को झोला लेकर बाहर निकलना पड़ गया है। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ रमन सिंह ने यह भी कहा कि भारतीय जनता पार्टी की ऐतिहासिक जीत हुई है। इसके लिए देशवासियों को धन्यवाद देना चाहता हूं। वहीं उन्होंने यह भी कहा कि छत्तीसगढ़ में 2 सीट खोया है इसमें प्रचार प्रसार की कमी हो गई थी।

 

24-05-2019
राहुल की हार पर मेनका गांधी का तंज, कहा- ‘राजनीति बच्चों का खेल नहीं’

नई दिल्ली। अमेठी से राहुल गांधी की हार पर उनकी चाची और केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने तंज कसा है। मेनका ने कहा है कि राजनीति कोई बच्चों का खेल नहीं है। मेनका ने कहा कि उनकी तरफ से कैंपेन में कोई भी सही बात नहीं उठाई गई, गाड़ी में बैठ हाथ हिलाने से इल्केशन नहीं बनता है। अगर राजनीति करनी है तो ठीक से करें और राजनीति गंभीरता से करें।

24-05-2019
सभी से सीख लूंगी, भोपाल के विकास की रहेगी कोशिश : प्रज्ञा

भोपाल। मध्यप्रदेश की भोपाल संसदीय सीट से नवनिर्वाचित सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने आज अपनी प्रचंड जीत के बाद कहा कि वे सभी से सीख लेंगी और भोपाल संसदीय क्षेत्र के विकास में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेंगी। सुश्री ठाकुर आज अपनी जीत के बाद यहां स्थित प्रदेश कार्यालय पहुंची। यहां उनका भव्य स्वागत किया गया। उन्होंने भाजपा के पितृपुरुषों को याद करते हुए सभी कार्यकतार्ओं और पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता उनकी जीत के लिए भीषण गर्मी में मेहनत करते रहे।

सुश्री ठाकुर ने कहा कि 70 साल तक शोषित जीवन जीते रहे राष्ट्र ने पिछले पांच सालों में इससे उबरने के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर दोबारा विश्वास जताया। उन्होंने कहा कि वे राजनीति में नई हैं और इसीलिए सभी से सीख रही हैं। उन्होंने ये भी कहा कि आने वाले पांच साल अपने कार्यकाल में भोपाल के विकास के लिए कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेंगी।

24-05-2019
बॉलीवुड हस्तियों के लिए चुनाव का स्वाद रहा खट्टा-मीठा

नई दिल्ली। किसी के हिस्से में प्यास आयी, किसी के हिस्से में जाम आया। एक पुरानी फिल्म के गीत की पंक्ति 2019 के लोकसभा चुनाव में किस्मत आजमाने वाले बॉलीवुड हस्तियों के लिए सटीक बैठती है जिनमें किसी को जीत मिली है तो किसी को हार।
बॉलीवुड की दुनिया से राजनीति के पायदान में कदम रखने वाले पंजाबी पुत्तर सनी देओल पहली बार भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) उम्मीदवार के रूप में पंजाब के गुरदासपुर लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में उतरे और कांग्रेस के सुनील जाखड़ को 77 हजार से अधिक मतों से पराजित का पहली जीत का स्वाद चखा। पहली बार राजनीति के मैदान में उतरने वाली उर्मिला मातोंडकर ने कांग्रेस के टिकट पर मुंबई उत्तर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा लेकिन यहां किस्मत ने उनका साथ नहीं दिया और उन्हें भाजपा उम्मीदवार गोपाल शेट्टी के हाथों करीब चार लाख 65 हजार से मतों से शिकस्त मिली।

‘शॉटगन’ के नाम से मशहूर अभिनेता से नेता बने शत्रुघ्न सिन्हा यूं तो दो बार सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री रह चुके हैं लेकिन भाजपा में बगावती तेवर के कारण पार्टी ने इस बार उन्हें उनकी परंपरागत सीट पटना साहिब से टिकट नहीं दिया। बाद में उन्होंने भाजपा का साथ छोड़कर कांग्रेस का दामन थाम लिया और कांग्रेस ने उन्हें पटना साहिब से उम्मीदवार बनाया लेकिन यहां उनका भाजपा के धुरंधर नेता केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से मुकाबला रहा और जीत के मुगालते में रहने के बावजूद वह दो लाख से अधिक वोटों से चुनाव हार गये। सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा भी पहली बार चुनाव मैदान में उतरने वालों में शामिल रही और उन्होंने समाजवादी पार्टी का ध्वज हाथ में लिया और लखनऊ सीट से लोकसभा चुनाव लड़ा । यहां भाजपा की ओर से कद्दावर नेता केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सिन्हा को 3,85,302 मतों से शिकस्त दी।

टेलीविजन की सेलिब्रिटी रही स्मृति ईरानी ने इस बार अपनी क्षमता का जबरदस्त प्रदर्शन किया। केंद्रीय मंत्री का पदभार संभाल रही स्मृति ईरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ उनकी पार्टी के गढ़ अमेठी से फिर चुनाव लड़ा। इस बार भी दोनों प्रतिद्वंद्वी आमने-सामने थे लेकिन बाजी स्मृति ईरानी के हाथ लगी और उन्होंने राहुल गांधी को परास्त किया। तीन बार सांसद रहे उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर इस दफा फतेहपुर सीकरी से चुनाव मैदान में थे। उन्हें भाजपा के राजकुमार चाहर ने करीब 4,94,000 वोटों से हराया। ड्रीमगर्ल के नाम से मशहूर हेमामालिनी के नसीब ने इस बार भी उनका साथ दिया और उन्होंने मथुरा से राष्ट्रीय लोकदल के कुंवर नरेंद्र सिंह को 2,93,471 वोटों से हराकर सीट पर कब्जा बरकरार रखा। चुनावी जीत-हार के खेल में बॉलीवुड अदाकारा जया प्रदा इस बार पिछड़ गई। समाजवादी पार्टी में रहते दो बार सांसद निर्वाचित जयाप्रदा को इस बार भाजपा ने रामपुर से उम्मीदवार बनाया , लेकिन उन्हें यहां सपा के मोहम्मद आजम खान के हाथों हार का सामना करना पड़ा। मौजूदा सांसद किरण खेर ने चंडीगढ़ सीट से कांग्रेस के पवन कुमार बंसल को 46,970 वोटों से पराजित कर यहां अपना कब्जा बरकरार रखा।

24-05-2019
उत्तर प्रदेश में मोदी को नहीं हरा सका महागठबंधन

नई दिल्ली। 2014 के बाद 2019 में भी लखनऊ ने नरेंद्र मोदी के लिए दिल्ली का रास्ता आसान कर दिया है। समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी व राष्ट्रीय लोकदल का महागठबंधन होने के बावजूद भारतीय जनता पार्टी राज्य की 80 में 62 सीटें अपने दम पर जीतने में कामयाब रही है, जबकि दो सीटें उसकी सहयोगी अपना दल को मिली है। दलित-यादव-जाट वोट बैंक और मुस्लिमों के समर्थन वाले तीन दलों के महागठबंधन को महज 15 सीटों पर जीत मिली है। मायावती-अखिलेश यादव का यह वो प्रयोग था जिसकी सफलता सुनिश्चित मानी जा रही थी, लेकिन मोदी सुनामी में तमाम जातीय समीकरण काफूर हो गए हैं। हालांकि, इस सुनामी में यूपी के मुस्लिम महागठबंधन के लिए तारणहार बनकर उभरे हैं।

मायावती और अखिलेश यादव ने मिलकर मौजूदा लोकसभा चुनाव में कुल 10 मुस्लिम प्रत्याशी उतारे थे। सपा ने रामपुर से आजम खान, मुरादाबाद से एसटी हसन, संभल से डॉ शफीकुर्रहमान बर्क और कैराना से तबस्सुम हसन को टिकट दिए थे। जबकि बसपा ने अमरोहा से कुंवर दानिश अली, गाजीपुर से अफजाल अंसारी, सहारनपुर से हाजी फजलुर्रहमान, धौरहरा से अरशद इलियास सिद्दीकी, डुमरियागंज से आफताब आलम और मेरठ से हाजी याकूब कुरैशी को प्रत्याशी बनाया था। महागठबंधन के इन 10 मुस्लिम प्रत्याशियों में से 6 ने जीत दर्ज की है। सहारनपुर से हाजी फजलुर्रहमान, मुरादाबाद से एसटी हसन, संभल के शफीकुर्रहमान बर्क, रामपुर से आजम खान, अमरोहा से कुंवर दानिश अली और गाजीपुर से अफजाल अंसारी ने जीत दर्ज की है।

24-05-2019
मोदी की जीत की धमक दुनिया में, विदेशी मीडिया ने लिखा- मोदी की जीत, धार्मिक राष्ट्रवाद की जीत 

नई दिल्ली। विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के चुनाव नतीजों पर पूरी दुनिया की नजर टिकी हुई थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने आम चुनाव में विपक्ष को धाराशायी करते हुए अभूतपूर्व जीत हासिल की है। इस जीत की चर्चा भारतीय मीडिया के साथ-साथ विदेशी मीडिया में भी दिखी। वॉशिंगटन पोस्ट ने शीर्षक 'राष्ट्रवाद की अपील के साथ भारत के मोदी ने जीता चुनाव' के साथ लिखा, भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी पार्टी ने दुनिया के सबसे बड़े चुनाव में भारी जीत हासिल की।

भारतीय मतदाताओं ने मोदी की शक्तिशाली और गर्वान्वित हिंदू की छवि पर मुहर लगा दी। अखबार ने लिखा, मोदी की जीत उस धार्मिक राष्ट्रवाद की जीत है जिसमें भारत को धर्मनिरपेक्षता की राह से अलग हिंदू राष्ट्र के तौर पर देखा जाता है। भारत में 80 फीसदी आबादी हिंदू है लेकिन मुस्लिम, ईसाई, सिख, बौद्ध व अन्य धर्मों के लोग भी रहते हैं।

24-05-2019
मोदी का शेयर बाजार ने किया स्वागत, हरे निशान के साथ खुला सेंसेक्स

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी को जनता ने एक बार फिर देश की राजगद्दी सौंप दी। सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन देश के प्रमुख शेयर बाजार हरे निशान के साथ खुले। 30 अंकों वाला सेंसेक्स 265 अंक की तेजी के साथ 39,076.28 के स्तर पर खुला। वहीं 50 अंकों वाला निफ्टी 91 अंक की तेजी के साथ 11,748 के स्तर पर खुला। इससे पहले चुनाव नतीजे के दिन गुरुवार को सेंसेक्स 298.82 अंक की गिरावट के साथ 38811.39 पर और निफ्टी 80.85 अंक गिरकर 11657.05 पर बंद हुआ।

रिकॉर्ड हाई पर गया शेयर बाजार

कारोबारी सत्र के दौरान शुक्रवार सुबह करीब 9.52 बजे सेंसेक्स 182.78 अंक की तेजी के साथ 38994.17 के स्तर पर कारोबार करते देखा गया। लगभग इसी समय निफ्टी 49.45 अंक चढ़कर 11706.50 के स्तर पर दिखाई दिया। गुरुवार को शेयर बाजार अपने रिकॉर्ड हाई 40,124.96 के स्तर पर गया और निफ्टी 12000 के मनोवैज्ञानिक स्तर को पार कर गया था। लेकिन कारोबार के अंत में यह गिरावट के साथ बंद हुआ।

इन सेक्टर्स में निवेश रहेगा फायदेमंद

जानकारों का कहना है कि आने वाले समय में कंज्यूमर सेक्टर में निवेश करने वालों को फायदा होगा। इसके अलावा कंजम्पशन सेक्टर, फाइनेंशियल सेक्टर और इंडस्ट्रियल सेक्टर में भी पैसा लगाना भविष्य के हिसाब से अच्छा रहेगा। खास शेयर की बात करें तो एशियन पेंट्स, इंटरग्लोब एविएशन और अडानी पोर्ट में निवेश फायदेमंद रहेगा। बैंकिंग सेक्टर से बहुत ज्यादा उम्मीद नहीं की जा सकती। हेल्थ केयर और आईटी भी निवेश के नजरिये से बहुत मुफीद साबित नहीं होंगे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804