GLIBS
24-10-2020
प्याज की जमाखोरी और मुनाफाखोरी रोकने जशपुर कलेक्टर महादेव कावरे ने ली व्यापारियों की बैठक

रायपुर/जशपुरनगर। लोगों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए प्याज का दाम  निर्धारित करने के लिए कलेक्टर  महादेव कावरे ने व्यापारियों की बैठक ली।  उन्होंने व्यापारियों से कहा कि प्याज अधिक दामों पर बिक्री न करें और स्टाॅक पर भी अनावश्यत न रखने के लिए कहा गया है। बैठक में खाद्य अधिकारी ने बताया कि थोक व्यापारी 25 टन ही प्याज रख सकते हैं। फुटकर व्यापारी 2 टन ही स्टाॅक में प्याज रखने की अनुमति है। थोक व्यापारियों ने बताया कि जिले में प्याज रांची, बिलासपुर, अम्बिकापुर से आता है। प्याज का थोक भाव मण्डी के हिसाब से उपर-नीचे होता रहता है। और मण्डी के हिसाब से ही दाप निर्धारित करके विक्रय किया जाता है। व्यापारियों ने बताया कि मार्केट में अभी 70 रुपए के हिसाब से प्याज का विक्रय कर रहे हैं। कलेक्टर ने व्यापारियों से आग्रह किया कि लोगों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए प्याज का मूल्य निर्धारित करें।

23-10-2020
फूलोदेवी ने कहा-महिलाओं के हित का दिखावा करने वाली भाजपा नेत्रियां बढ़ती महंगाई पर मौन क्यों ?

रायपुर। राज्यसभा सांसद व महिला कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष फूलोदेवी नेताम ने महंगाई को लेकर केन्द्र सरकार पर करारा हमला किया है। उन्होंने कहा है कि  प्याज व खाद्य सामग्री की कीमतों में लगातार वृद्धि होने से महिलाएं बहुत चितिंत और परेशान है। महंगाई ने जनता की कमर तोड़ रखी है। पहले से ही महंगाई की म़ार से जनता हताश है और अब प्याज भी रूलाने लगा है। बेताहाशा दामों में वृद्धि होने से जीवन यापन करना मुश्किल हो गया है। नरेन्द्र मोदी के काले कानून के कारण जमाखोरी से प्याज के दाम 80 से 100 रुपए हो गए हैं। हिटलरशाही के जैसे जो मन में आया बिना सोचे समझे नियम लागू कर देते हैं। इसका खमियाजा जनता को भुगतना पड़ता है।  महिलाओं के हित के चिंतन के दिखावा करने वाली भाजपा नेत्रियां बढ़ती महंगाई पर मौन क्यों है ?फूलोदेवी नेताम ने कहा है कि जब-जब केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी है तब-तब महंगाई ने हाहाकार मचाया है।

नरेद्र मोदी तो चिल्ला-चिल्ला कर कहते थे कि बहुत हुई महंगाई की मार अब मोदी की सरकार। बढ़ती महंगाई ने जहां गरीब, दाल-रोटी से मोहताज हो रहा है, वही प्याज के बढ़ते दामों से गरीब तो क्या मध्यम वर्ग के बजट से भी बाहर हो गया है। महंगाई कम करने का वादा करने वाले मोदी की इस महंगाई पर चुप्पी से जनता डर गई है। सामने त्यौहार है,आमदनी कुछ  नहीं और खर्च रुपया। वित्त मंत्री प्याज नहीं खाती, मगर वो जो खाती है वो आम जनता के थाली से कोसों दूर है। नरेंद्र मोदी  गृहस्थी नहीं चलाते, उन्हें महंगाई से कोई मतलब नहीं। सीतारमण जी वित्त मंत्री होने के साथ एक महिला भी है। फूलोदेवी ने वित्त मंत्री से निवेदन किया है कि महंगाई बेलगाम होती जा रही है। महंगाई कम करने के लिए आवश्यक कदम उठाएं,जिनसे जनता भी दो वक्त की रोटी चैन से खा सके।

15-05-2020
नमक की कालाबाजारी करने वाले 12 दुकानों पर 60 हजार रुपए का लगा जुर्माना

रायपुर। लॉक डाउन में आवश्यक वस्तुओं की जमाखोरी और मुनाफाखोरी पर नियत्रंण के लिये जिला प्रशासन की ओर से लगातार मॉनिटरिंग की जा रही है। रायपुर शहर में 27 किराना दुकानों में नमक की उपलब्धता और विक्रय दर की जांच की गई। जांच के दौरान 12 दुकनों में एमआरपी से अधिक दाम पर नमक बेचा जाना पाया गया। इन दुकानों पर विधिक माप विज्ञान (पैक बंद वस्तु नियम 2011) के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया गया। इन प्रतिष्ठानों पर 60 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया।खाद्य नियंत्रक अनुराग सिंह भदौरिया ने बताया कि थोक विक्रेताओं और अन्य चिल्हर विक्रेताओं को नमक और अन्य खाद्य सामग्री की जमाखोरी, एमआरपी मूल्य से अधिक दर पर विक्रय नहीं करने के सख्त निर्देश दिये गये हैं। जिले में नमक की उपलब्धता और आपूर्ति सामान्य है।उल्लेखनीय है कि कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन रायपुर ने नमक के थोक और किराना दुकानों की नियमित जांच के निर्देश दिए हैं। इसी तारतम्य में जांच दल की ओर से नमक के व्यापारियों की नियमित जांच की जा रही है। नमक की जमाखोरी अथवा एमआरपी से अधिक दर पर बेचने पर संबंधित व्यापारी के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

 

31-03-2020
प्रशासन ने लगाया दुकान संचालक पर 25 हजार का जुर्माना

कोंडागांव। कोरोना वायरस के संक्रणम के चलते देशभर में लॉकडाउन की स्थिति बनी हुई है। आम जनता को दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ति सुलभ कराने शासन प्रशासन चिन्तित हैं। वहीं कुछ समाज के दुश्मन इस मौके का भी फायदा उठाने से नहीं चूक रहे हैं। स्थानीय सरगीपालपारा में एक जनरल स्टोर व डेली निड्स के संचालक को आवश्यक वस्तु अधिनियम व शासन के आदेश का उंल्लघन करने पर पच्चीस हजार रुपये का जुर्माना लगाया। भविष्य में इस प्रकार का कृत्य न करने की सख्त हिदायत दी गई। प्रशासन ने अन्य दुकान संचालकों को भी आगाह किया है कि भविष्य में किसी भी दुकानदार द्वारा जमाखोरी या मुनाफाखोरी किए जाने की शिकायत मिलती है तो उसके विरुद्ध कठोरतम कार्यवाही की जाएगी।

18-05-2019
अवैध वसूली के लिए बैरियर आबाद कराने भूपेश बघेल की ये कैसी चाल

रायपुर। देशभर के सीमा चेकपोस्ट पर होने वाली अवैध वसूली और परिवहन में होने वाली असुविधा को दूर करने के लिए केंद्रीय भूतल एवं सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के आह्वान पर देश में बैरियर हटाने में अग्रणी राज्य छत्तीसगढ़ में फिर से बैरियर शुरू करने की मांग को पूर्व परिवहन मंत्री राजेश मूणत ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, परिवहन मंत्री मोहम्मद अकबर और कांग्रेस की छत्तीसगढ़ सरकार के अवैध वसूली अभियान का हिस्सा बताते हुए कहा है कि जब से कांग्रेस की सरकार आई है, हर तरह से अवैध कमाई जारी है। अब तो हद हो गई कि ट्रांसपोर्टरों के जरिए यह मांग करवाई जा रही है कि राज्य की सीमा पर फिर से बैरियर लगाए जाएं।

कमाल की बात यह है कि अवैध कमाई शुरू करवाने के लिए ट्रांसपोर्टरों के जरिए या तर्क दिया जा रहा है कि सीमा पर बैरियर हट जाने से अवैध परिवहन हो रहा है, ओव्हर लोडिंग हो रही है। जबकि हकीकत यह है कि अवैध परिवहन सहित तमाम तरह की टैक्स चोरी पर रोक लगाने के लिए ही यह व्यवस्था की गई थी कि जहां से माल निकलेगा और जहां माल जाएगा, वहां संबंधित करों का सीधा भुगतान होगा और किसी तरह की अवैध वसूली नहीं हो पाएगी, लेकिन कांग्रेस की सरकार ने सीमा पर फिर से अवैध वसूली का रास्ता खुलवाने के लिए जिस तरह का खेल ट्रांसपोर्टरों के जरिए खेला है, उससे यह स्पष्ट हो गया है कि कांग्रेस जिस तरह पूर्व में दशकों तक इंस्पेक्टर राज के जरिए अवैध वसूली करवा कर अपना घर भरती रही है, उसी संस्कृति को भूपेश बघेल फिर से आबाद करना चाहते हैं।

कांग्रेस ने हमेशा से हर रास्ते से अवैध वसूली जमाखोरी भ्रष्टाचार के मामले में इतिहास रचा है। तीनों लोकों में भ्रष्टाचार का कीर्तिमान रचने वाली कांग्रेस का सूबेदार भूपेश बघेल सत्ता में आते ही किस तरह अवैध वसूली के रास्तों पर चल निकला है, यह छत्तीसगढ़ की जनता देख रही है और समझ रही है। भाजपा राज में अवैध वसूली के जिस धंधे को बंद किया गया, उसे ट्रांसपोर्टरों से चंदा लेकर भूपेश सरकार फिर से शुरू करना चाहती है तो इसका सीधा-सीधा मतलब यह है कि कांग्रेस को फायदा पहुंचाने वाले ट्रांसपोर्टरों का हर तरह का माल बिना किसी रोक-टोक के छत्तीसगढ़ की सीमा के पार जाएगा और बाकी के ईमानदार कारोबारियों को तब तक रोका जाएगा जब तक कि वे भूपेश बघेल टैक्स न चुका दें। मूणत ने कहा कि छत्तीसगढ़ में रेत से लेकर सीमेंट तक और शराब के ओवर रेट के जरिए चुनावी चंदा बटोरने वाली भूपेश सरकार अब छत्तीसगढ़ की सीमाओं पर बैरियर के जरिए लूट मचाने के लिए ताना-बाना रच रही है जो कि इस सरकार के चरित्र का सीधा-सीधा चेहरा दिखा रहा है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804