GLIBS
10-08-2020
देश में एक दिन में कोरोना से सबसे ज्यादा 1007 लोगों की मौत, 62063 नए पॉजिटिव मिले

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण का प्रकोप लगातार बढ़ता ही जा रहा है। पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 62,063 नए मामले सामने आए और 1,007 लोगों की मौत हुई। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से सोमवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में कोरोना के 62,063 नए मामले सामने आए हैं। वहीं, इस दौरान 1,007 मरीजों की कोविड-19 से मौत हुई है। लगातार 12वें दिन 50,000 और चौथे दिन 60,000 से अधिक लोगों में वायरस की पुष्टि हुई है। मंत्रालय के अनुसार, देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 22,15,075 पहुंच गई है। इसमें से 15,35,744 मरीज इलाज के बाद ठीक हो गए हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। वहीं, देश में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या 6,34,945 है। आंकड़ों के अनुसार, कोरोना वायरस से अब तक भारत में 44,386 लोगों की मौत हुई है।

29-07-2020
Video: बिना मास्क पहने घूम रहे लोगों का काटा गया चालान

कोरबा। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के मद्देनजर बुधवार को कटघोरा के प्रशासनिक महकमे व नगर पालिका की संयुक्त टीम ने वीरनारायण चौक के पास मास्क को लेकर जांच की। चेकिंग के दौरान बिना मास्क पहने घूमने वालों का चालान काटा गया है। कइयों को कड़ी समझाइश देकर छोड़ा गया है। संयुक्त चेकिंग में कटघोरा तहसीलदार रोहित कुमार,नायब तहसीलदार रवि राठौर,कटघोरा नगर पालिका सीएमओ जेबी सिह,आरआई,पटवारी व नगर पालिका कर्मचारी मौजूद रहे। चेकिंग में बिना मास्क के लापरवाही पूर्वक घूमने वालों को समझाइश दी गई तथा नगर पालिका द्वारा चालान काटा गया। इस दौरान जिनके पास मास्क नहीं थे उन्हें मास्क भी प्रदान किए गए।

 

27-06-2020
कोरोना संकट : अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा सेवा पर 15 जुलाई तक जारी रहेगा प्रतिबंध

नई दिल्ली। कोरोना वायरस का प्रकोप पूरी दुनिया में जारी है। बढ़ते कोविड पॉजिटिव मामले की वजह से यातायात के साधन पर भी रोक लगा हुआ है। देश में बढ़ते कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए केंद्र सरकार ने सभी अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा सेवा पर 15 जुलाई तक प्रतिबंध लगा बढ़ा दिया है। हालांकि इस दौरान डॉमेस्टिक एयर सर्विस जारी रहेगी। बता दें कि देश में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए 25 मार्च को राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लगाया गया था। तब से ही देश में अंतरराष्ट्रीय हवाई सेवाएं निलंबित हैं। डायरेक्टर जनरल सिविल एविएशन की तरफ से जारी ताजा आदेश के मुताबिक कमर्शियल अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा सेवा पर प्रतिबंध 15 जुलाई तक लागू रहेगा।

हालांकि, डीजीसीए ने कहा है कि स्थितियों के अनुसार चयनित मार्गों पर कुछ अंतरराष्ट्रीय हवाई सेवाओं को संचालन की अनुमति दी जा सकती है। यह प्रतिबंध कारगो ऑपरेशन (माल ढुलाई) और डीजीसीए (नागर विमानन महानिदेशालय) से अनुमति प्राप्त उड़ानों पर लागू नहीं होगा। बता दें कि, नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बीते दिनों कहा था कि अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को लेकर सरकार जुलाई में कोई फैसला कर सकती है। पुरी ने कहा था कि अगर कोरोना वायरस संक्रमण अनुमान के मुताबिक फैसला है और उड़ानों को संचालित करने की व्यवस्था और संबंधित देश तैयार हो जाते हैं तो सरकार जुलाई में इसे लेकर कोई फैसला करेगी।

17-06-2020
वापस आए प्रवासी श्रमिकों को स्वच्छता सुविधाएं उपलब्ध कराने सामुदायिक शौचालय अभियान

रायपुर। कोविड-19 के प्रकोप के चलते बड़ी संख्या में प्रदेश लौटे प्रवासी श्रमिकों को स्वच्छता सुविधाएं उपलब्ध कराने सामुदायिक शौचालय अभियान-2020 के तहत गांवों में सामुदायिक शौचालयों का निर्माण किया जाएगा। केन्द्रीय जलशक्ति मंत्रालय के पेयजल एवं स्वच्छता विभाग ने कोविड-19 महामारी के दौरान स्वच्छता और हाइजिन को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए गांव लौटे प्रवासी मजदूरों और अन्य लोगों के लिए स्वच्छता सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। गांवों एवं जिलों में सामुदायिक स्वच्छता परिसरों के निर्माण को प्रेरित और युद्धस्तर पर काम शुरू करने मंत्रालय द्वारा 15 जून से 15 सितम्बर तक सामुदायिक शौचालय अभियान-2020 संचालित किया जा रहा है।पेयजल एवं स्वच्छता विभाग,जलशक्ति मंत्रालय ने इसके लिए राज्यों को मार्गदर्शिका जारी की है। अभियान की समाप्ति के बाद मार्गदर्शिका के मापदंडों के अनुरूप उत्कृष्ट कार्य करने वाले जिलों, विकासखंडों और ग्राम पंचायतों को आगामी 2 अक्टूबर को राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत किया जाएगा। राज्य शासन के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) ने सभी जिलों के कलेक्टर-सह-अध्यक्ष प्रबंधन समिति, जिला स्वच्छ भारत मिशन और जिला पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी-सह-सदस्य सचिव, प्रबंधन समिति, जिला स्वच्छ भारत मिशन को परिपत्र जारी कर सामुदायिक शौचालयों का काम तत्काल शुरू करने कहा है। अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिए विभिन्न स्तरों पर इसका व्यापक प्रचार-प्रसार और गांवों में सामुदायिक शौचालयों के निर्माण के लिए आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं।स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के संचालक धर्मेश साहू ने सभी कलेक्टरों और जिला पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के मुताबिक सामुदायिक स्वच्छता परिसरों के निर्माण के लिए स्वच्छ भारत मिशन के साथ ही वित्त आयोग अनुदान, सांसद या विधायक निधि, सीएसआर (Corporate Social Responsibility) या अन्य वित्तीय स्रोतों का उपयोग करने कहा है। उन्होंने बताया है कि पेयजल एवं स्वच्छता विभाग की वेबसाइट पर सामुदायिक स्वच्छता परिसरों की जियोटैगिंग के बाद ही इनका निर्माण पूर्ण माना जाएगा। उन्होंने इनके निर्माण के बाद जियाटैगिंग अनिवार्य रूप से करने के निर्देश दिए हैं।  

उत्कृष्ट कार्य करने वाले राज्य, जिला, विकासखंड और सरपंचों को मिलेगा पुरस्कार

सामुदायिक शौचालय अभियान-2020 की समाप्ति के बाद विभिन्न मापदंडों पर जिलों में हुए कार्यों का पेयजल एवं स्वच्छता विभाग द्वारा आंकलन किया जाएगा। इसके लिए अभियान के दौरान निर्मित सामुदायिक स्वच्छता परिसरों की संख्या, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति बहुल पारा या टोला में निर्मित परिसरों की संख्या तथा अभियान शुरू होने के पूर्व निर्मित परिसरों की संख्या के आधार पर मूल्यांकन किया जाएगा। अभियान के दौरान निर्मित सामुदायिक स्वच्छता परिसरों की संख्या को 60 प्रतिशत, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति बहुल पारा या टोला में निर्मित परिसरों की संख्या को 20 प्रतिशत और अभियान के पूर्व निर्मित परिसरों की संख्या को 20 प्रतिशत महत्व (Weightage) दिया जाएगा। इन मानकों पर खरे उतरने वाले और सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाले सर्वश्रेष्ठ राज्य के साथ ही देश के तीन जिलों और तीन विकासखंडों को 2 अक्टूबर को राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित समारोह में पुरस्कृत किया जाएगा। राज्य द्वारा नामांकित तीन सर्वश्रेष्ठ सरपंचों को भी पुरस्कार दिए जाएंगे।सामुदायिक शौचालयों के निर्माण में सामुदायिक शौचालय अभियान-2020 के पहले बेहतर कार्य करने वाले जिलों को भी सम्मानित किया जाएगा। इस अभियान के पहले सभी गांवों में कम से कम एक सामुदायिक शौचालय वाले जिलों को पुरस्कृत किया जाएगा। अभियान के पहले सामुदायिक शौचालय के 50 प्रतिशत से 65 प्रतिशत आच्छादन और अभियान के दौरान इसे 100 प्रतिशत पहुंचाने वाले जिलों को स्वर्ण पदक, अभियान के पहले 65 प्रतिशत से 85 प्रतिशत आच्छादन और अभियान के दौरान 100 प्रतिशत आच्छादन हासिल करने वाले जिलों को रजत पदक तथा अभियान के पूर्व 80 प्रतिशत से 95 प्रतिशत आच्छादन और वर्तमान अभियान के दौरान इसे 100 प्रतिशत पहुंचाने वाले जिलों को कांस्य पदक प्रदान किए जाएंगे।

 

12-06-2020
शादी-ब्याह के लिए अब ऑनलाइन परमिशन, सोशल डिस्टेंसिंग व अन्य नियमों का करना होगा कड़ाई से पालन

रायपुर। कोरोना महामारी के प्रकोप से प्रदेश की जनता को सुरक्षित रखने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग के पालन सुनिश्चित करने के लिए कहा है। इस कारण अब चिप्स ने विवाह अनुमति के लिए ऑनलाइन आवेदन करने की सुविधा शुरू की जा रही हैं। रायपुर में निवास करने वाले किसी भी नागरिक को लोकसेवा केंद्रों में आधार कार्ड, वोटर आइडी कार्ड, पैनकार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, राशन कार्ड या विवाह आमंत्रण पत्र में से कोई भी एक पहचान पत्र के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन मिल सकेगा। विवाह अनुमति प्रमाण पत्र ऑनलाइन भी जारी किया जाएंगे, जिसका प्रिंट निकाल कर उसे प्राप्त कर सकते हैं। ज्ञातव्य है कि कोरोनो वायरस संक्रमण के कारण फिलहाल शादियों में ज्यादा मेहमानों के बुलाने पर रोक लगी हुई है।

28-05-2020
भूपेश बघेल ने टिड्डी दल के पहुंचने से पहले ही भगाने की पूरी तैयारी करने कहा, कई जिलों में दस्तक की संभावनाए अधिक

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने टिड्डी दल के संभावित प्रकोप से फसलों के बचाव के लिए समय पूर्व सभी आवश्यक तैयारी करने के निर्देश कृषि, उद्यानिकी, वन विभाग सहित राज्य के जिला कलेक्टरों को दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा है कि टिड्डी दल के छत्तीसगढ़ के जिलों में पहुंचने के पूर्व ही उसे भगाने के लिए सभी आवश्यक उपाय तय किए जाने चाहिए। मुख्यमंत्री ने सीमावर्ती जिलों में टिड्डी दल के आगमन और उनके उड़ान भरने की दिशा पर निरंतर मॉनिटरिंग के भी निर्देश दिए हैं।मुख्यमंत्री बघेल ने टिड्डी दल से बचाव के लिए नियंत्रण कक्ष स्थापित करने और पर्याप्त मात्रा में कीटनाशक दवाईयों की व्यवस्था करने को कहा है। मुख्यमंत्री ने किसानों से कहा है कि फसल या पेड़ों पर टिड्डी या टिड्डी दल दिखे तो कृषि या राजस्व विभाग के अमले या जिला नियंत्रण कक्ष या किसान हेल्पलाइन टोल फ्री नम्बर-18002331850 पर तत्काल सूचना दें, ताकि टिड्डी के प्रकोप की रोकथाम के लिए आवश्यक उपाय तत्परता से किए जा सके।मुख्यमंत्री ने कृषि विभाग के अधिकारियों को किसानों को टिड्डी दल को भगाने के लिए प्राकृतिक और परंपरागत उपाय अपनाने की समझाइश देने को कहा है। उन्होंने कहा है कि टिड्डी दल को खेत के आस-पास आकाश में उड़ते दिखाई देने पर उनको उतरने से रोकने के लिए तुरंत खेत के आसपास मौजूद घास-फूस को जलाकर धुंआ करना चाहिए। साथ ही ध्वनि विस्तारक यंत्रों के माध्यम से शोरगुल करने से टिड्डी दल खेत में न बैठकर आगे निकल जाता है। केन्द्रीय एकीकृत नाशी जीव प्रबंधन केन्द्र रायपुर से प्राप्त जानकारी के अनुसार टिड्डी दल हवा की बहाव की दिशा में आगे बढ़ता है।

रायसेन से खंडवा होते हुए मोरसी अमरावती महाराष्ट्र से 27 मई को ग्राम टेंमनी तालुका तुमसर जिला भंडारा के आस पास पहुंच चुका है। 28 मई को टिड्डी दल तुमसर महाराष्ट्र से खैरलांजी बालाघाट की ओर बढ़ रहा है। इस टिड्डी दल का छत्तीसगढ़ की सीमावर्ती जिले राजनांदगांव, कबीरधाम की ओर बढ़ने की संभावना है। इसके अलावा टिड्डी का दूसरा दल सिंगरौली मिजार्पुर की ओर बढ़ गया है। दोनों टिड्डी दलों का छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती जिलों में आने की आशंका है। छत्तीसगढ़ राज्य के मुंगेली, बिलासपुर, गौरेला पेड्रा मरवाही, कोरिया, सूरजपुर और बलरामपुर जिले की सीमाएं मध्यप्रदेश से लगी होने के कारण संवेदनशील है।मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रधान मुख्य वन रक्षक ने छत्तीसगढ़ के वनमण्डाधिकारियों एवं मुख्य वन संरक्षकों को टिड्डी दल की सत्त निगरानी करने तथा आक्रमण होने पर तुरंत सूचना देने के साथ ही नियंत्रण की समुचित कार्यवाही तत्काल करने को कहा है। प्रधान मुख्य वन संरक्षक ने टिड्डी दल के नियंत्रण के लिए उपयोगी विभिन्न दवाईयों के संबंध में वन विभाग के समस्त क्षेत्रीय अमले को अवगत कराने को कहा है।

बताया गया कि वन विभाग के क्षेत्रीय अमले द्वारा टिड्डी दल की संभावना को देखते हुए जिला प्रशासन से समन्वय स्थापित कर सत्त निगरानी की जा रही है।संचालक कृषि की ओर से टिड्डी दल की निगरानी एवं नियंत्रण के लिए राज्य, संभाग एवं जिला स्तर पर नियंत्रण कक्ष एवं नोडल अधिकारी की नियुक्ति की गई है। छत्तीसगढ़ में जायद की फसलें, सब्जियां एवं फल आदि लगी हुई है। जिन्हें टिड्डी दल से नुकसान की संभावना है। कृषि संचालक ने जिलों के सभी कृषि उप संचालकों को नोडल अधिकारी नियुक्त कर कीट नियंत्रण करने के निर्देश दिए है। राज्य में टिड्डी दल के प्रवेश की संभावना को ध्यान में रखते हुए राज्य के कृषकों को सूचित किया गया है कि टिड्डी दल ग्रीष्म कालीन फसलों को भारी मात्रा में नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसके साथ ही फलों और सब्जियों की नर्सरियों के लिए भी हानिकारक है।

 

 

28-05-2020
टिड्डी दल के संभावित आक्रमण को लेकर कृषि विभाग ने दी समसामयिक सलाह....

धमतरी। जिले में टिड्डी दल के संभावित प्रकोप को दृष्टिगत करते हुए कृषि विभाग द्वारा बचाव की सलाह दी गई है। उप संचालक कृषि ने बताया कि रात्रि के समय में ये टिड्डी दल खेतों में रूककर फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं। जमीन में लगभग 500 से 1500 अण्डे प्रति मादा कीट देकर सुबह तक उड़कर दूसरी ओर चले जाते हैं, जहां लाखों की संख्या में पेड़-पौध एवं अन्य वनस्पति को खाकर आगे बढ़ जाते हैं। उन्होंने इसके नियंत्रण के लिए सलाह दी है कि कृषक अपने स्तर पर गांव में समूह बनाकर खेतों में रात्रिकालीन समय में निगरानी रखें। यदि टिड्डी दल का प्रकोप हो तो शाम सात से रात नौ बजे के मध्य यह दल विश्राम के लिए बैठते हैं, जिनकी पहचान करने के लिए सतत् निगरानी रखें। जैसे ही किसी गांव में टिड्डी दल के आक्रमण की जानकारी मिलती है तो इसकी जानकारी कृषि विभाग, कृषि विज्ञान केन्द्र से को तत्काल दें। उन्होंने बताया कि टिड्डियों का हमला होने पर कृषक टोली बनाकर परंपरागत उपाय जैसे ढोल, डीजे बजाकर अथवा डिब्बे आदि के माध्यम से शोर मचाकर, ध्वनि विस्तारक यंत्रों का प्रयोग कर तेज आवाज के जरिए खेतों से भगाया जा सकता है। यदि शाम के समय टिड्डी दली का प्रकोप हो गया हो तो दल के विश्राम अवस्था में सुबह तीन से पांच बजे के बीच तुरंत क्लोरोपाइरीफाॅस 20 ई.सी. 200 एमएल या लेंब्डासायहेलोथ्रिन 5 ईसी 400 एमएल या डायफ्लूबेंजूसन 25 डब्ल्यूटी 240 ग्राम प्रति हेक्टेयर 500 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करने की सलाह दी गई है। साथ ही कीटनाशक पावडर फेनबिलरेट 0.4 प्रतिशत 20-25 किग्रा या क्यूनाॅलफास 0.5 प्रतिशत 25 कि.ग्रा. प्रति हेक्टेयर का भी भुरकाव किया जा सकता है।

 

11-05-2020
भाजपा ने किया ज्यादा से ज्यादा मनरेगा के तहत कार्य खोलने की मांग

अंबिकापुर। वैश्विक कोरोना महामारी के प्रकोप के कारण लंबे समय तक होने वाले लॉक डाऊन से रोज कमाने खाने वाले परिवारों व विशेषकर मजदूर वर्ग के बेरोजगारी की चिंता कर मनरेगा में ज्यादा से ज्यादा काम खोलने की मांग को लेकर भाजपा जिला अध्यक्ष अखिलेश सोनी के नेतृत्व में भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने आज जिला पंचायत सीईओ से भेंट की। उन्होंने प्रवासी मजदूरों सहित स्थानीय गरीब परिवारों की चिंता व्यक्त करते हुए मनरेगा के राहत कार्यों को ज्यादा से ज्यादा खोलने की मांग की ताकि मजदूरों को शीघ्र राहत दी जा सके। भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने जिला पंचायत सीईओ से चर्चा के दौरान जिले के सातों विकासखंडों में चलने वाले मनरेगा के राहत कार्यों की जानकारी तथा मजदूरों को प्रति दिवस भुगतान की जानकारी भी उपलब्ध कराने की मांग की। इस अवसर पर पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष फुलेश्वरी सिंह, भारत सिंह सिसोदिया, प्रशांत त्रिपाठी सहित अन्य पदाधिकारी सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए उपस्थित थे।

 

09-05-2020
भाजपा जिलाध्यक्ष ने कलेक्टर को पत्र लिखकर मांगी क्वॉरेंटाइन केंद्रों की जानकारी

बीजापुर। कोविड-19 के वैश्विक महामारी के प्रकोप से बचाव व नियंत्रण के लिए केंद्र व राज्य सरकारों ने समय-समय पर उचित निर्णय लेकर काफी हद तक नियंत्रण किया। बीजापुर जिले में भी लॉक डॉउन के नियमों का यहां के नागरिक पूर्णतया पालन कर घरों में रहकर अपने को सुरक्षित रखा है। वहीं इस पूरे अभियान में पुलिस अधिकारी कर्मचारियों एवं स्वास्थ्य विभाग की पूरी टीम काफी मुस्तैद रहकर बीजापुर जिले को सुरक्षित रखने का महत्वपूर्ण जिम्मा उठाया। निसन्देह जिला प्रशासन लॉक डॉउन को लेकर काफी गंभीर व सजग रहा। भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार ने कलेक्टर को पत्र लिखकर जिला मुख्यालय बीजापुर में कितने संख्या में क्वॉरेंटाइन केंद्र स्थापित किए गए तथा किन-किन स्थलों को क्वारंटाइन केंद्र के रूप में चयनित किया गया है, जिला मुख्यालय में कितने क्वॉरेंटाइन बेड़ों की स्थापना की गई है की जानकारी मांगी है।

 

29-04-2020
राजस्थान में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2 हजार के पार, महाराष्ट्र में 112 पुलिसकर्मी संक्रमित

नई दिल्ली। दुनिया के 200 से अधिक देशों में फैल चुके कोविड-19 का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। भारत में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। हर रोज सैकड़ों नए मामले सामने आ रहे हैं। वहीं राजस्थान में कोरोना कहर बरपा रहा है। राजस्थान स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य में 19 और लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। राज्य में मरीजों की संख्या 2383 हो गई है। 19 नए मामलों में जयपुर में 5 मामले सामने आए हैं और अजमेर से 11 मामले सामने आए हैं। उदयपुर, बांसवाड़ा और जोधपुर में एक-एक मामले सामने आए हैं। वही मध्य प्रदेश में अब तक कोरोना संक्रमित के 2387 मामले सामने आ गए हैं। इनमें से इंदौर में 1372 पॉजिटिव केस, भोपाल में 458 पॉजिटिव केस और उज्जैन में 123 पॉजिटिव केस हैं। राज्य में अब तक 120 लोगों की मौत हो चुकी है और 377 मरीज ठीक हो गए हैं।


देश में कोरोना वायरस के प्रकोप से सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में शामिल इंदौर है। मगर इस महामारी के बढ़ते प्रकोप के बीच इंदौर से राहत की खबर आई है। यहां एक साथ 43 मरीज ठीक हो गए हैं। कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद इन सभी को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इंदौर में अब ठीक होने वाले मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 177 हो गया है। उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 2058 हो चुकी है। प्रदेश में कोरोना से 34 लोगों की मौत भी हो चुकी है और 462 लोग ठीक हो गए हैं। मंगलवार को राज्य में कुल 66 मामले सामने आए थे।

बुधवार को 725 सैंपलों की रिपोर्ट आई, जिसमें से 20 पॉजिटिव पाए गए। इनमें सबसे ज्यादा 9 संक्रमित आगरा के हैं, जबकि चार लखनऊ और सात फिरोजाबाद के हैं। अब तक प्रदेश के 59 जिलों में संक्रमण फैल चुका है, जबकि 9 जिले संक्रमण मुक्त हो चुके हैं। महाराष्ट्र में भी हालात सुधरने का नाम नहीं ले रहे है। यहां कोरोना से मौत का आंकड़ा 400 पहुंच गया है, जबकि संक्रमित लोगों की संख्या 9318 है। अकेले मुंबई में 6169 लोग कोरोना पॉजिटिव आए हैं, जबकि 244 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं एशिया के सबसे बड़े स्लम धारावी में 300 से ज्यादा कोरोना के पॉजिटिव केस आ चुके हैं। महाराष्ट्र में 112 पुलिसकर्मी कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। इसमें 3 पुलिस वालों की अब तक मौत भी हुई है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804