GLIBS
01-07-2020
महापौर ने जोन कमिश्नरों की ली क्लास, सफाई पर विशेष ध्यान देने पर जोर 

रायपुर। महापौर एजाज ढेबर ने निगम मुख्यालय महापौर कक्ष में बुधवार को सभी 10 जोन कमिश्नरों की बैठक ली। उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देशानुसार राजधानी के वार्डो में मोहल्ला क्लीनिक खोलने, रेन वाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली लगाने, वार्डो की सफाई व्यवस्था, तालाबों के सौंदर्यीकरण सहित सफाई को लेकर बैठक में समीक्षा की। महापौर ने सभी 70 वार्डों में सफाई व्यवस्था पर विशेष ध्यान देने कहा है। उन्होंने कहा कि जोनो को 25-25 कर्मचारियों के  मिले अतिरिक्त गैंग में से 5 कर्मचारियों का पृथक गैंग केवल जोन स्तर पर तालाबों की सफाई के कार्य के लिए तत्काल बनाया जाए। जोन 7 के जोन कमिश्नर ने बताया कि जोन के तहत गोपाल नगर में रेलवे ट्रेक के समीप वाली जमीन में बरसात में जल भराव की समस्या बनी रहती है। इस पर महापौर ने जोन कमिश्नर को रेलवे प्रशासन से चर्चा करने कहा। लोगों को व्यवस्थापित करने नगर निगम के लिए 25 एकड़ भूमि की मांग करके कहा। भूमि प्राप्त कर उसमें सभी प्रभावित परिवारों को गोपालनगर से व्यवस्थापन करने के निर्देश दिए। महापौर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जनस्वास्थ्य सुरक्षा के लिए रायपुर नगर निगम के सभी 70 वार्डो में मोहल्ला क्लीनिक प्रारंभ करने नगर निगम को निर्देशित किया है। वर्तमान में प्रारंभिक रूप से प्रायोगिक तौर पर नगर निगम की ओर से 25 स्थानों पर मोहल्ला क्लीनिक प्रारंभ किए जाएंगे। प्रयोग सफल रहने पर मोहल्ला क्लीनिक का राजधानी शहर में सभी 70 वार्डों में शीघ्र विस्तार करवाया जाएगा। उन्होंने मोहल्ला क्लीनिक के कार्य को प्राथमिकता के आधार पर करवाने के निर्देश दिए। सभी जोन कमिश्नर ने अपने-अपने क्षेत्र में रेन वाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली की जानकारी दी। महापौर ढेबर ने सभी जोन कमिश्नरों को जोन स्तर पर कार्यों को प्राथमिकता देते हुए तत्काल गतिमान करने के निर्देश दिए।

02-06-2020
जानें पीएम स्वनिधि योजना क्या है, किसे मिलेगा लाभ और आवेदन करने का तरीका क्या है

नई दिल्ली। केंद्रीय कैबिनेट ने रेहड़ी-पटरी वाले के लिए विशेष क्रेडिट स्कीम को अपनी मंजूरी दे दी। सोमवार को कैबिनेट की मीटिंग के बाद सरकार ने पीएम स्वनिधि योजना शुरू करने का ऐलान किया है। बता दें कि कैबिनेट की इस मंजूरी से रेहड़ी-पटरी वाले बिना किसी देरी के क्रेडिट स्कीम का लाभ उठाकर अपना काम-धंधा फिर से आसानी से शुरू कर सकेंगे। केंद्र सरकार ने इसे पीएम स्वनिधि या पीएम स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर निधि योजना नाम दिया है। गौरतलब है कि इस विशेष क्रेडिट स्कीम के अंतर्गत 24 मार्च, 2020 तक या उससे पहले वेंडिंग करने वाले 50 लाख स्ट्रीट वेंडर्स 10 हजार रुपए तक का कर्ज ले सकते हैं।

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सोमवार को कैबिनेट के फैसलों की जानकारी देते हुए यह बात कही। बता दें कि कोरोना वायरस महामारी के बीच देश में पिछले 2 महीने से भी ज्यादा समय से लॉक डाउन की स्थिति है। इसकी मार उन लोगों पर सबसे ज्यादा पड़ी है जो सड़क के किनारे रेहड़ी पटरी लगाकर अपनी रोजी रोटी चलाते हैं। बाजार बंद होने से इनका धंधा पूरी तरह से चौपट हो गया है। यहां तक की रोजी रोटी की भी दिक्कत आ गई है। ऐसे में पीएम स्वानिधि योजना इनके लिए मददगार साबित हो सकती है।

किसे मिलेगा इस योजना का लाभ :

सड़क किनारे ठेले या रेहड़ी-पटरी पर दुकान चलाने वालों को यह कर्ज दिया जाएगा। फल-सब्जी, लॉन्ड्री, सैलून और पान की दुकानें भी इस श्रेणी में शामिल की गई हैं। इन्‍हें चलाने वाले भी यह लोन ले सकते हैं। माना जा रहा है कि इस योजना से 50 लाख को फायदा होगा।

कितना मिलेगा कर्ज :

इस स्कीम के तहत हर स्ट्रीट वेंडर 10,000 रुपए तक लोन ले सकता है। इस राशि को रेहड़ी-पटरी वाले 1 साल के भीतर किस्त में लौटा सकते हैं। यह बेहद आसान शर्तों के साथ दिया जाएगा। इसमें किसी गारंटी की जरूरत नहीं होगी। इस तरह यह एक तरह का अनसिक्‍योर्ड लोन होगा। इस लोन को समय पर चुकाने वाले स्ट्रीट वेंडर्स को 7 फीसद का वार्षिक ब्याज सब्सिडी के तौर पर उनके अकाउंट में सरकार की ओर से ट्रांसफर किया जाएगा। इस स्कीम के तहत जुर्माने का कोई प्रावधान नहीं है।

स्कीम के लिए 5000 करोड़ :

सरकार ने स्‍ट्रीट वेंडर्स के लिए शुरू की गई इस योजना के लिए 5000 करोड़ रुपए की राशि मंजूर की है। इसके लिए कोई कड़ी शर्त नहीं होगी। यह आसान शर्तों के साथ मिल जाएगा।

जानें इस योजना की खास बातें :

मोबाइल ऐप और वेब पोर्टल आधारित आवेदन प्रक्रिया
इस लोन के लिए किसी तरह के गारंटी की नहीं होगी जरूरत
एक साल के लिए 10,000 रुपये तक का शुरुआती कर्ज
समय पर या उससे पहले कर्ज के भुगतान पर 7 की ब्याज सब्सिडी
पात्र लेनदारों को छमाही आधार पर किया जाएगा सब्सिडी का भुगतान
पहले लोन के समय पर और जल्द भुगतान की स्थिति में अधिक लोन की एलिजिबिलिटी
डिजिटल लेनदेन की रसीद या भुगतान पर मासिक कैशबैक की सुविधा

13-05-2020
शराब पर विशेष कोरोना टैक्स को कैबिनेट में मंजूरी, देशी और विदेशी शराब की कीमत बढ़ी

रायपुर। विशेष कोरोना टैक्स के चलते अब छत्तीसगढ़ में देशी और विदेशी शराब खरीदने पर प्रति बोतल अधिक कीमत देनी होगी। भूपेश कैबिनेट ने प्रदेश में फुटकर खरीदी पर शराब की प्रति बोतल अतिरिक्त रुपए देने होंगे। कैबिनेट में विशेष कोरोना टैक्स अधिरोपित करने का निर्णय लिया गया है। कैबिनेट के अनुसार, छत्तीसगढ़ राज्य में कोविड-19 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए देशी और विदेशी मदिरा के विक्रय पर विशेष कोरोना शुल्क अधिरोपित करने का निर्णय लिया गया। इसके तहत देशी मदिरा पर 10 रूपए प्रति बोतल तथा समस्त प्रकार की विदेशी मदिरा (स्प्रिट/माल्ट) के फुटकर विक्रय दर की 10 प्रतिशत की दर से विशेष कोरोना शुल्क अधिरोपित किया जाएगा। इसके अनुसार विदेशी शराब यदि 1500 रुपए की है तो वह विशेष कोरोना टैक्स के बाद 1650 रुपए की हो जाएगी, 1000 रुपए की बोतल 1100 रुपए में मिलेगी।

 

11-05-2020
अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस पर विशेष : मनोरोगी स्ट्रेचर पर आया और अपने पैर पर चल कर गया : वैभव लाल

रायपुर/बिलासपुर। राज्य के मानसिक स्वास्थ्य चिकित्सालय, सेन्द्री में पदस्थ प्रदेश के पहले पुरुष साइकाइट्रिक नर्स वैभव लाल मनोरोगियों के लिए एक दोस्त, बड़े भाई, पिता और एक मां का रोल अदा करते हैं। मनोरोगी को जब अस्पताल लाया जाता है उसकी स्थिति बहुत ही दयनीय होती है। वैभव ने बताया ​कि जब मनोरोगी को अस्पताल लाया जाता है। तब उनके बाल बड़े—बड़े होते हैं और अक्सर उनके शरीर से बदबू आती है। आम आदमी तो शायद उसके पास खड़े होकर बात भी करना गवारा न करें लेकिन हम उसकी देखभाल भाई और दोस्त की तरह करते हैं। उसके बाल कटवाते हैं, उसको नहलाते हैं और फिर उसका रिकॉर्ड बनाया जाता है जिससे नियमित मेंटेन किया जाता है। 2015 से अब तक लगभग 2600 मनोरोगी अस्पताल से ठीक होकर गए हैं और नियमित अपनी दवाई ले रहे। वैभव बताते हैं संजय (बदला हुआ नाम) मनोरोगी—जो कुछ साल पहले अस्पताल आया था--को ठीक करना उनके लिए एक चुनौती था।

गाली देना और शरीर को टेढ़ा कर लेना या फिर अजीब सी मुद्राएं बनाना उसकी आदत जैसी थी।  लेकिन 6 से 8 माह के नियमित इलाज और काउंसलिंग से उसकी ठीक किया गया। स्ट्रेचर पर आया था और अपने पैर से चलकर वापस गया। निश्चित रूप से यह बहुत बड़ी घटना थी। हमारी टीम ने मिलकर एक चैलेंज के रूप में उसको स्वीकार किया और उसको ठीक किया। आज कल भी एक चुनौती भरा रोगी दीपक (बदला हुआ नाम) है जो कैनाबिस का आदि है। उसको लगता वह बहुत महान है। वह 5 वर्ष से नियमित उपचार के लिए आता है और कभी-कभी उसको एडमिट भी करना पड़ता है। उसको नशे के नुकसान और फायदे के बारे में भी बताया गया। वह सब जानता है लेकिन फिर भी आत्मशक्ति नहीं बना पाता है। नशे की प्रवृत्ति उसको प्रतिदिन उसके सुखी जीवन को छीन रही है हमने भी प्रण किया हुआ है कि हम उसको जल्द ही ठीक करेंगे।

वैभव लाल बताते हैं जब वह बीएससी नर्सिंग तृतीय वर्ष के छात्र थे उस समय उनकी इंटर्नशिप माना स्थित अस्पताल में मनोरोगियों के बीच हुई थी जब उन्हें अहसास हुआ शारीरिक चोट को तो इलाज से ठीक किया जा सकता है लेकिन दिल या मन पर लगी चोट को ठीक करना बड़ा चैलेंज है।उसी दिन उन्होंने तय कर लिया था वह मनोरोगियों के लिए ही काम करेंगे। पढ़ाई पूरी करने के बाद एक प्राइवेट नर्सिंग महाविद्यालय में वाइस प्रिंसिपल के रूप में ज्वाइन भी किया जहाँ छात्राओं को नर्सिंग के बहुत सारे गुण भी सिखाएं लेकिन मन में मनोरोगियों के प्रति बने नजरिए को नहीं बदल सके। सन 2013 में सेन्द्री में जब राज्य मानसिक स्वास्थ्य चिकित्सालय बनाया गया तब उनके सपने को पूरा करने का मौका उन्हें मिला। वैभव कहते हैं जब से कोविड-19 का संक्रमण देश में बढ़ा है तब से अस्पताल प्रशासन ने भी सख्त और कठोर कदम उठाए हैं।

नए आने वाले हर रोगी को 15 दिन आइसोलेशन में रखते हैं और उसकी कोविड-19 जांच से पूर्व प्रबंधन के जारी सारे प्री-कॉशन लेते हैं। अनुभव को साझा करना जरूरी है और अपने अनुभव को लोगों के बीच देने से कार्य में सुदृढ़ता आती है। कार्य अच्छा होता है। लॉक डाउन के दौरान जीएनएम ट्रेनिंग सेंटर कोरबा, अंबिकापुर और धमतरी के विद्यार्थियों को फ्री क्लास भी ऐप के माध्यम से वैभव आजकल ले रहे हैं ताकि घर बैठे एजुकेशन को उनके द्वार तक पहुंचाया जाए और उनको एक अच्छा और जिम्मेदार नर्स बनाने में मदद मिल सके।

07-05-2020
वर्ल्ड रेडक्रॉस डे विशेष : कोरोना महामारी के दौर में अपने अन्दर के स्वयंसेवक को पहचाने

रायपुर।‘वर्ल्ड रेड क्रॉस डे’ को मनाने का उद्देश्य आपदा या युद्ध की स्थिति में फंसे लोगों को इस स्थिति से बाहर निकालना और गंभीर बीमारियों से जूझ रहे लोगों की मदद करना है। अंतर्राष्ट्रीय रेडक्रॉस सोसायटी के संस्थापक,सन्1901 में नोबेल पुरस्कार पाने वाले पहले व्यक्ति जीन हेनरी ड्यूनेंट के जन्मदिन के अवसर पर हर वर्ष 8 मई को दुनिया भर में ‘वर्ल्ड रेडक्रॉस डे’ मनाया जाता है।वर्ल्ड रेडक्रॉस डे पर ‘इंटरनेशनल रेडक्रॉस और रेड क्रेसेंट मूवमेंट के सिद्धांतों को बढ़ावा देना और इसकी खुशी मनाना है। वर्ल्ड रेड क्रॉस डे ‘इंटरनेशनल रेड क्रॉस सोसायटी के वॉलंटियर और उनके काम को समर्पित होता है।कोरोना महामारी(कोविड-19) में लोगों को जागरूक करने की प्रक्रिया अनवरत रूप से चल रही है। रेडक्रास के राज्य प्रभारी समीर यादव ने बताया इंडियन रेडक्रॉस सोसायटी, छत्तीसगढ़ के अध्यक्ष एवं राज्यपाल अनुसुइया उइके के मार्गदर्शन में जिला शाखाओं द्वारा कोविड-19 के संक्रमण के रोकथाम में प्रदेश में 1000 रेडक्रॉस वालेंटियर्स सेवाएं दे रहे हैं,जिससे लगभग 18000 लोगो को राहत पहुचांई गई है।


उन्होंने बताया रेडक्रॉस सोसायटी द्वारा मास्क एवं सेनेटाइजर का वितरण,सोशल डिस्टेंसिंग के लिए जागरूकता कार्यक्रम,सामुदायिक किचन,और क्वारेंटाइन किये गए लोगो के लिए दैनिक आपूर्ति की सामग्री बांटी जा रही है। जन जागरूकता के लिए पम्पलेट और अन्य सामग्री का वितरण एवं जगदलपुर जेल से लगभग 10,000 मास्क एवं आजीविका  मिशन से लगभग 15,000 कपड़ों के मास्क क्रय कर वितरण भी किया गया है।अंतरराष्ट्रीय स्वयं सेवक दिवस के रूप में मनाया जाने वाला वर्ल्ड रेडक्रॉस डे ‘इंटरनेशनल रेड क्रॉस सोसायटी’ के वॉलंटियर और उनके काम को समर्पित होता है। भारत में इंडियन रेडक्रॉस सोसाइटी ब्लड बैंक और टीबी को लेकर प्रमुख रूप से काम कर रही है। भारत में रेडक्रॉस की 700 से अधिक ब्रांच हैं
हर वर्ष ‘वर्ल्ड रेड क्रॉस डे’ दुनिया भर में लोगों का जीवन बचाने के लिए मनाया जाता है। इस सोसाइटी का नारा है:`अपने अन्दर के स्वयं सेवक को पहचानें’। इसके मुख्य सिद्धांतों में मानवता, स्वतंत्रता, निष्पक्षता, तटस्थता, सार्वभौमिकता, स्वैच्छिकता और एकता शामिल हैं।

04-05-2020
संग्रहण में तेंदूपत्ता की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दे : मो. अकबर

रायपुर। राज्य में चालू सीजन के दौरान अब तक विभिन्न वनमंडलों में 20 हजार 569 मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्रहण हो चुका है। इसमें संग्राहकों को 8 करोड़ 23 लाख रूपए की राशि का पारिश्रमिक भुगतान योग्य है। अब तक कुल संग्राहित तेन्दूपत्ता में से वनमंडलवार सुकमा में 13 हजार 334 मानक बोरा, दंतेवाड़ा में एक हजार 584 मानक बोरा, जगदलपुर में दो हजार 670 मानक बोरा और गरियाबंद में दो हजार 980 मानक बोरा शामिल हैं।वन मंत्री मो.अकबर के मार्गदर्शन में राज्य में शासन के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए संग्राहकों द्वारा तेंदूपत्ता संग्रहण का कार्य शुरू कर दिया गया है। वन मंत्री अकबर ने संग्रहण में तेंदूपत्ता की अच्छी गुणवत्ता पर भी विशेष रूप से ध्यान रखने के लिए निर्देशित किया गया है। साथ ही उन्होंने यह भी निर्देश दिए हैं कि गड्डियों में पत्तियों की संख्या 48 से कम तथा 52 से अधिक नहीं होनी चाहिए। तेंदूपत्ता संग्राहक वर्तमान में लॉक डाउन को ध्यान में रखते हुए संग्रहण के दौरान मास्क पहनकर तथा एक दूसरे से एक मीटर की दूरी रखकर संग्रहण का कार्य करें। संग्राहकों द्वारा संग्रहण पश्चात् हाथों को साबुन से अनिवार्य रूप से धोया जाए। साथ ही संग्रहित पत्ता फड़ पर देते समय भी मास्क अनिवार्य रूप से लगाया जाए।

 

04-05-2020
मंत्री के प्रभार जिलों में गांव होंगे सैनिटाइज,एसपी से कहा-चेक पोस्टों पर विशेष निगरानी सहित पेट्रोलिंग बढ़ाएं

रायपुर। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं ग्रामोद्योग मंत्री और कांकेर, कोण्डागांव और नारायणपुर जिले के प्रभारी मंत्री गुरू रूद्रकुमार ने कलेक्टरों को डीएमएफ या अन्य मदों से जिलों के सभी गांवों को सैनिटाइज करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों को रोजगार उपलब्ध कराने में विशेष ध्यान दें। मंत्री गुरू रूद्रकुमार ने सोमवार को अपने निवास कार्यालय सतनाम सदन से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के से वनांचल क्षेत्रों में तेन्दूपत्ता संग्रहण और अन्य लघुवनोपज की समर्थन मूल्य पर खरीदी व्यवस्था की भी समीक्षा की।  मंत्री गुरू रूद्रकुमार ने कलेक्टरों से चर्चा कर जिलों में संचालित रोजगार सृजन कार्यक्रम अंतर्गत मनरेगा कार्यों, जिलों के महिला स्व-सहायता समूहों की ओर से किए जा रहे कार्य, विभिन्न अधोसंरचना संबंधी निमार्णाधीन कार्य और संचालित सभी विभागीय गतिविधियों और रोजगारमूलक कार्यों की प्रगति की,जिलेवार जानकारी ली। कलेक्टरों ने बताया कि सभी जिलों में लॉक डाउन के दौरान संकट की इस घड़ी में जनसुविधा को ध्यान में रखते हुए,विभिन्न राज्यों और रोजगार मूलक कार्यों और वनोपज संग्रहण आदि के माध्यम से लोगों को आसानी से रोजगार मुहैया कराया जा रहा है।मंत्री ने लॉक डाउन फंसे हुए अन्य राज्यों के श्रमिकों और विदेश प्रवास से आने वाले लोगों की आवश्यक चिकित्सा परीक्षण संबंधी कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने राज्य के बाहर से आने वाले विद्यार्थियों और श्रमिकों को लिए सभी जिलों में बनाए गए राहत शिविरों और क्वारेंटाइन की व्यवस्था के संबंध में जरूरी निर्देश दिए। उन्होंने पुलिस अधिकारियों से उनके ओर से किए जा रहे कार्यों के बारे में जानकारी ली। चर्चा के दौरान कलेक्टरों ने बताया कि सभी जिलों में और अन्य प्रदेशों से आए लोगों और अन्य लोगों के लिए आपातकालीन स्थिति में राहत शिविरों और अन्य व्यवस्था के लिए भवनों का चिन्हांकन सहित भोजन चिकित्सीय परीक्षण सहित अन्य व्यवस्थाओं के लिए सभी तैयारी रखी जा रही है। और इन कार्यों के लिए कर्मचारियों को तैनात करने के लिए समुचित व्यवस्था कर ली गई है।

कलेक्टरों ने बताया कि अन्य राज्यों से पहुंच रहे छात्रों को आश्रम और छात्रावासों में क्वारेंटाइन सेन्टर बनाकर रखा गया है और इनके खान-पान और चिकित्सा संबंधी पूरी व्यवस्था की गई है। इसी तरह अन्य राज्य और सीमावर्ती जिलों से पहुंच रहे श्रमिकों को क्वारेंटाइन में रखे जाने के लिए आश्रम और छात्रावासों में आवश्यक व्यवस्था  कर ली गई है।मंत्री ने कलेक्टरों को उनके जिले से अन्य राज्यों में फंसे श्रमिकों की अद्यतन जानकारी उपलब्ध कराने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि गांव के लोगों से जानकारी लेकर जिन राज्यों में श्रमिक फंसे हैं उनसे जल्द से जल्द सम्पर्क करें और उन्हें समुचित मार्गदर्शन और जरूरी सहायता उपलब्ध कराएं। ट्रेन से लौटने वाले श्रमिकों को अपने गंतव्य स्थान तक ले जाने के लिए स्थानीय बस आपरेटरों से भी पहले से चर्चा कर बसों की व्यवस्था की जाए, जिससे सुविधाजनक ढंग से अपने गांवों को लौट सकें। उन्होंने मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के तहत सूखा राशन और आंगनबाड़ी केन्द्रों के माध्यम से रेडी-टू-इट खाद्यान्न वितरण के बारे में जानकारी ली।ऑनलाइन बैठक में कोण्डागांव विधायकमोहन मरकाम, अंतागढ़ विधायक अनूप नाग और कांकेर विधायक शिशुपाल सोरी ने पेयजल आपूर्ति संबंधी समस्या और सीमावर्ती राज्य से चोरी छुपे आ रहे लोगों के बारे में अवगत कराया। इस संबध में गुरु रूद्रकुमार ने सभी पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिए कि ऐसे सीमावर्ती जिलों के चेक पोस्टों पर विशेष निगरानी रखी जाए और ऐसे स्थानों पर पेट्रोलिंग बढ़ा दी जाए। उन्होंने कहा कि सभी निमार्णाधीन पेयजल योजनाओं को जल्द पूर्ण किया जाएगा।

01-05-2020
दुर्ग-छपरा के मध्य विशेष पार्सल ट्रेन के 4 फेरे बढ़े, सुविधा अब 4 मई तक

रायपुर। आवश्यक वस्तुओं की कमी ना हो रेलवे प्रशासन की ओर से पार्सल गाड़ियां चलाई जा रही है और आवश्यकता के अनुसार परिचालन में विस्तार किया जा रहा है। इसी कड़ी में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे से चलने वाली 00875/00876 दुर्ग-छपरा-दुर्ग समय सारिणीबद्ध विशेष पार्सल ट्रेन के परिचालन में विस्तार किया गया है। पूर्व में इस गाड़ी को दुर्ग से 29 अप्रैल तक और छपरा से 1 मई तक चलाने की घोषणा की गई थी। अब पार्सल उपभोक्ताओं की मांग व सुविधा को ध्यान में रखते हुए इस गाडी के परिचालन में 4 फेरे के लिए विस्तार किया जा रहा है। अब ये गाड़ी दुर्ग से 1 व 2 मई और छपरा से 3 व 4 मई को और चलेगी। इस प्रकार यह दुर्ग-छपरा-दुर्ग के मध्य 2 फेरे के लिए और चलेगी। इस गाड़ी का ठहराव दोनों दिशाओं में रायपुर, बिलासपुर, पेण्ड्रारोड, अनूपपुर,शहडोल,कटनी,सतना,मानिकपुर,प्रयागराज,वाराणसी स्टेशनों में दिया गया है। पार्सल के संबंध में विस्तृत जानकारी के लिए इच्छुक पार्टियां/व्यक्ति मुख्यालय में 9752475973, बिलासपुर मंडल में 7869964376, रायपुर मंडल में 9752877995 और नागपुर मंडल में 8600109149 मोबाइल नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं।

18-04-2020
मंगल भवन के राहत शिविर में ठहरे हुए 110 लोगों के लिए निगम ने की है विशेष व्यवस्था

भिलाई। महापौर एवं भिलाई नगर विधायक देवेंद्र यादव तथा निगम आयुक्त ऋतुराज रघुवंशी के निर्देश पर मंगल भवन राहत शिविर में ठहरे हुए लोगों के लिए बेहतर व्यवस्था की गई है। नगर पालिक निगम भिलाई क्षेत्र अंतर्गत आने वाले खुर्सीपार क्षेत्र अंतर्गत मंगल भवन को वर्तमान में राहत शिविर बनाया गया है,जहां पर विभिन्न प्रदेशों से लॉक डाउन के दौरान फंसे हुए लोग रह रहे हैं। इनके लिए निगम प्रशासन द्वारा विशेष व्यवस्था की गई है। सुबह इन्हें नाश्ता प्रदान किया जाता है और दोपहर एवं रात्रि को भोजन उपलब्ध प्रतिदिन कराया जा रहा है। निगम के अधिकारी प्रतिदिन इनकी देखरेख के लिए निरीक्षण करते हैं ताकि यहां ठहरे हुए लोगों को किसी भी प्रकार की दिक्कतों का सामना न करना पड़े। यहां झारखंड से 40,मध्यप्रदेश से 52, छत्तीसगढ़ से 4 एवं महाराष्ट्र से 13 लोग यहां पर ठहरे हुए हैं! इन लोगों के समय व्यतीत करने के लिए टीवी, लूडो, रेडियो एवं केरम आदि की व्यवस्था की गई है एवं बिस्तर, चादर, कंगी, आईना, साबुन, टूथब्रश, पंखा, कूलर, मास्क एवं सैनिटाइजर की सुविधा भी प्रदान की गई है साथ ही पंखा, कूलर, शौचालय, विद्युत एवं पेयजल की सुविधा भी मंगल भवन राहत शिविर में प्रदान की गई है। यहां कई समाजसेवी संगठन भी इन लोगों का सहयोग कर चुके हैं। साथ ही स्व सहायता समूह की महिलाएं भी सब्जी एवं अन्य राहत सामाग्री प्रदाय करके इनकी मदद कर रहे हैं। राहत शिविर में नियमित रूप से सफाई एवं सैनिटाइजिंग का कार्य भी किया जा रहा है।

 

17-04-2020
आरंग में लॉक डाउन का पालन कराने जनप्रतिधियों को बनाया गया विशेष पुलिस अधिकारी

आरंग। विश्वव्यापी कोरोना संकट के मद्देनजर नगर में लोगों को कोरोना संक्रमण के बारे में जागरूक करने और लोगों में लॉक डाउन का कड़ाई से पालन कराने के लिए सभी पार्षदों और हाउसिंग कालोनियों के अध्यक्ष, सचिवों को विशेष पुलिस अधिकारी के रूप में नियुक्त किया गया है। आरंग थाना प्रभारी लेखधर दीवान ने बताया कि जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आरिफ शेख के आदेश पर नगर के सभी वार्ड पार्षदों के साथ-साथ सभी हाउसिंग कालोनियों के अध्यक्ष और सचिवों को इस पद पर नियुक्त किया गया है,जो अपने वार्ड, गली, मुहल्लों सहित अपने-अपने कालोनियों में लोगों को बिना वजह घर से बाहर निकलने से मना करेंगे। उन्हें मास्क लगाने, साफ सफाई बरतने सहित कोरोना संक्रमण के बारे में जागरूक करेंगे। ये विशेष पुलिस अधिकारी लॉक डाउन का उल्लंघन करने वाले लोगों के बारे में पुलिस प्रशासन को सूचित भी करेंगे ताकि पुलिस प्रशासन उनके खिलाफ कार्रवाई कर सके। उन्होंने बताया कि नगर में 15 पार्षदों सहित कुल 27 लोगों को विशेष पुलिस अधिकारी नियुक्त किया गया है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804