GLIBS
10-05-2020
23 मजदूरों के फरार होने के बाद सीआरपीएफ संभालेगी क्वॉरेंटाइन सेंटर की जिम्मेदारी

दंतेवाड़ा। जिले के अरनपुर क्षेत्र में स्थित बालक आश्रम क्वॉरेंटाइन सेंटर में आंध्रप्रदेश से आये आसपास के 46 मजदूरों को क्वॉरेंटाइन किया गया था। मौके का फायदा देखते हुए 23 मजदूर फरार हो गए। हालांकि 3 दिनों बाद ग्राम सचिव और स्वास्थ्य अमले ने गांव पहुंचकर फरार ग्रामीणों की तलाश कर उन्हें होम क्वारेंटाइन कर दिया गया। अब अरनपुर क्वारेंटाइन सेंटर की जिम्मेदारी सीआरपीएफ 111 वीं बटालियन ने ली है।सीआरपीएफ अब क्वारेंटाइन सेंटर में ग्रामीणों की देख रेख करेगी और उनका ख्याल रखेगी ताकि अब सेंटर से कोई फरार न हो सके। सीआरपीएफ के जवानों ने बालक आश्रम के क्वारेंटाइन सेंटर को सैनीटाइज भी किया। सीआरपीएफ ने ग्रामीणों को राहत सामग्री का वितरण किया।
सीआरपीएफ एक सौ ग्यारहवीं बटालियन के उप कमांडेंट विकास कुमार सिंह ने लोगों को क्वारेंटाइन का महत्व बताते कोरोना की रोकथाम के बारे में समझाया एवं परेशानी होने पर उन्हें दूर करने का आश्वासन भी दिया। इस दौरान 111वीं बटालियन के सहायक कमांडेंट अमित सिंह ,अविनाश कुमार,विजय कुमार उपस्थित थे।

 

13-05-2019
जो कभी थीं नक्सली अब संभालेंगी नक्सलियों के खिलाफ मोर्चा

रायपुर। जो कभी नक्सली थीं अब नक्सलियों के खिलाफ मोर्चा संभालेगीं। प्रदेश के नक्सल प्रभावित एरिया बस्तर और दंतेवाड़ा में महिला नक्सल विरोधी दस्ते का गठन किया गया है। इस दस्ते हो दंतेश्वरी लड़ाके का नाम दिया गया है। इस दल में 30 महिला कंमाडों को शामिल किया गया, जिसमें 7 पूर्व नक्सली महिलाएं, जो आत्मसर्मपण कर चुकीं है। 

महिला लड़ाकों को कमान दिए जाने के बाद बस्तर जिले के आईजी विवेकानंदा सिन्हा ने 'दंतेश्वरी लड़ाके' यूनिट के बारे में बताया कि महिला पुलिस कमांडो अपने पुरुष समकक्षों के साथ काम करने जा रही हैं। मझे यकीन है कि महिला कमांडो अच्छा काम करेंगी और यह महिला सशक्‍तीकरण का एक अनूठा उदाहरण है। दंतेश्वरी लड़ाके नाम देवी दंतेश्वरी के नाम पर रखा गया है। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804