GLIBS
06-03-2021
कलेक्टर ने ग्राम कोंगेरा के गौठान में संचालित गतिविधियों व उत्पादों का किया निरीक्षण

कोंडागाँव। कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा ने जिले के बड़े राजपुर विकासखण्ड के ग्राम कोंगेरा पहुंचकर आदर्श गौठान में विभिन्न स्वसहायता समूहों द्वारा गौठान परिसर में संचालित बकरीपालन, कुक्कुट पालन, दोना-पत्तल निर्माण केन्द्र, मशरूम प्रोसेसिंग-पैकेजिंग इकाई, गोधन दुग्ध उत्पादन केंद्र सहित समूहों द्वारा तैयार किए गए विभिन्न उत्पादों व गतिविधियों का निरीक्षण किया। ज्ञातव्य है कि उक्त आदर्श गोठान लगभग आठ एकड़ में विस्तारित है। जहां विभिन्न स्वसहायता समूह द्वारा आजीविका संबंधित गतिविधियां संचालित हो रही है साथ ही यहा मुनगा, केला, सहित सब्जियां भी लगायी जा रही है। इससे इन समूहों को आय अर्जन भी हो रहा है। मौके पर कलेक्टर ने उपस्थित अधिकारियों को विभिन्न निर्देश भी दियें। तत्पश्चात कलेक्टर द्वारा ग्राम टेवसा स्थित शासकीय रोपणी का भी निरीक्षण किया गया। 17 हेक्टयर में फैले उक्त रोपणी में लगभग 500 आम के पेड़ है जिनमें तोतापरी, लंगड़ा, सिंदुरी जैसी विभिन्न आम की प्रजातियां है। जिनकी शासकीय नीलामी होती है। इसके अलावा यह कटहल, काजू, जामून, काली मिर्च, के पौधे भी लगायें गये है और स्वसहायता समूह की महिलाओं को दिये जाते हैं।

 

05-03-2021
गौठानों में स्व सहायता समूह की बढ़ाएं सहभागिता, बैंक से समन्वय बनाकर कराएं समूहों का बैंक लिंकेज  

जांजगीर-चांपा। महिला स्व सहायता समूहों को गोठानों से जोड़कर उन्हें बेहतर रोजगार के साधन मुहैया कराए जा सकते हैं। इसके लिए जरूरी है कि प्रत्येक गोठान के लिए बेहतर कार्ययोजना तैयार की जाए। यह बात जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी गजेन्द्र सिंह ठाकुर ने जिला पंचायत सभाकक्ष में आयोजित राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन, पंचायत की समीक्षा बैठक में जनपद पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी, ब्लॉक कार्डिनेटर से कही। उन्होंने कहा कि गौठान से महिला समूहों को आजीविका संवर्धन की दिशा में अग्रसर कर उन्हें आर्थिक रूप से मजबूत बनाया जा सकता है। इसके लिए प्रत्येक गोठान में यह देखा जाए कि वहां की आवश्यकता क्या है, उसके बाद महिला समूहों को उस कार्य के लिए प्रशिक्षण दिया जाए, ताकि वे उस कार्य में बेहतर परिणाम दे सकें। इसलिए जरूरी है कि प्रत्येक गोठान के लिए अलग-अलग कार्ययोजना जनपद पंचायत के द्वारा तैयार की जाए। बैठक में उन्होंने कहा कि महिला स्व सहायता समूहों को बैंक के माध्यम से ऋण उपलब्ध कराया जाता है। समूहों को किसी तरह की कोई दिक्कत न आए इसके लिए सतत रूप से बैंक के माध्यम से समन्वय बनाकर कार्य करें और उन्हें बैंक लिंकेज कर ऋण उपलब्ध कराए। उन्होंने कहा कि इन प्रकरणों पर विशेष ध्यान देते हुए कार्य करे और समय सीमा में दिए गए लक्ष्य को प्राप्त करें।

उन्होंने कहा कि पंचायत के माध्यम से जो भी अनिवार्य कर वसूल किए जाते हैं, उनमें तेजी लाएं। उन्होंने वसूली के प्रकरणों को गंभीरता से करने के निर्देश दिए। प्रिया साफ्ट में सतत रूप से एंट्री करने कहा। इसके अलावा समाज कल्याण विभाग के तहत संचालित योजनाओं की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने पेंशन भुगतान बैंक सखी के माध्यम से कराने कहा। बैठक में समाज कल्याण विभाग के उपसंचालक  टीपी भावे, एपीओ  डीएस राजपूत,  आकाश सिंह सहित जनपद पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी, एनआरएलएम ब्लॉक कार्डिनेटर आदि उपस्थित थे। जिपं सीईओ ने बैठक में कहा कि एनआरएलएम की बीसी सखी सेतु (‘सेतु’-एसएचजी -इम्पावरिंग, ट्रांसफारमिंग एण्ड अर्बनाइजिंग विलेजेस) से जुड़ी महिलाएं ऑनलाइन माध्यम से बैंकिंग की सुविधाएं गांव-गांव जाकर दे रही हैं। उन्होंने कहा कि बीसी सखी को प्रेरित करें और जनपद, ग्राम पंचायत के सभी अधिकारी, कर्मचारी द्वारा इनके माध्यम से ही बैंकिंग की सुविधाओं का लाभ लेने के निर्देश दिए। सभी योजनाओं में बीसी सखी के माध्यम से ही भुगतान कराएं, जिसमें पेंशन, मनरेगा की मजदूरी का भुगतान एवं अन्य सुविधाएं शामिल है।

 

 

03-03-2021
हर विकासखण्ड के पांच-पांच गौठान बनेंगे स्वावलंबी, मल्टी एक्टिविटी सेंटर के रूप में स्थापित करने 15 दिन का समय

कोरबा। जिले के पांचों विकासखण्डों में पांच-पांच गौठानों को मल्टी एक्टिविटी सेंटर के रूप में स्थापित कर स्वावलंबी बनाने की धीमी प्रगति पर बैठक में कलेक्टर श्रीमती कौशल ने सख्त रूख दिखाया। कलेक्टर ने इस पर गहरी नाराजगी व्यक्त की और राष्ट्रीय आजीविका मिशन के मैदानी कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश जिला पंचायत के सीईओ को दिए। किरण कौशल ने अगले 15 दिनों में हर विकासखण्ड में पांच-पांच गौठानों को मल्टी एक्टिविटी सेंटर के रूप में अपडेट करने के निर्देश दिए। उन्होंने ऐसे चिन्हांकित गौठानों में महोरा गौठान की तर्ज पर मल्टी एक्टिविटी डोम स्थापित कर महिलाओं को आजीविका की अलग-अलग गतिविधियों से जोड़ने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने चयनित 25 गौठानों में स्थानीय स्तर पर उपलब्ध होने वाले कच्चे माल के आधार पर ही आजीविका गतिविधियों का संचालन करने, बने उत्पादों के विक्रय की व्यवस्था सुनिश्चित करने के भी निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने इन गौठानों में आजीविका संबंधी गतिविधियों का संचालन शासन के विभिन्न विभागों की विभिन्न योजनाओं के समन्वय से करने के निर्देश दिए। बैठक में किरण कौशल ने गौठानों में वर्मी कम्पोस्ट उत्पादन और बिक्री की धीमी गति पर भी नाराजगी जताई तथा अगले 15 दिनों में सभी वर्मी टांको को भरने और बनी खाद की बिक्री शत प्रतिशत सुनिश्चित करने के निर्देश जनपद पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को दिए। किरण कौशल ने कौशल विकास मिशन के तहत भी चिन्हांकित गौठानों में महिला समूहों को आजीविका से जुड़ी ट्रेनिंग देने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी चिन्हांकित गौठानों में गोधन न्याय योजना के तहत तैयार वर्मी कम्पोस्ट के शत-प्रतिशत विक्रय से जैविक खाद को बढ़ावा देने का अभियान प्रारंभ करने, गौठानों में स्थापित (मल्टी एक्टिविटी सेंटर) बहुउद्देशीय आजीविका केन्द्र में विभिन्न विभागों की योजनाओं का समन्वय करने, किसानों को धान के स्थान पर अन्य फसल लेने के लिए प्रोत्साहित करने को भी कहा।

 

27-01-2021
मुख्यमंत्री ने गौठान में संचालित गतिविधियों और उत्पादों का किया अवलोकन

कोंडागाँव। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बस्तर संभाग प्रवास के दौरान आज जिले के बड़े राजपुर विकासखण्ड के ग्राम कोंगेरा पहुंचे, जहां पर ग्रामीणों ने उनका अभूतपूर्व स्वागत किया। इस दौरान उन्होंने आदर्श गौठान कोंगेरा सहित विभिन्न स्वसहायता समूहों द्वारा संचालित गतिविधियों का अवलोकन किया। मुख्यमंत्री ने गौठान परिसर में संचालित बकरीपालन, कुक्कुट पालन, दोना-पत्तल निर्माण केन्द्र, दाल प्रोसेसिंग-पैकेजिंग इकाई, गोधन दुग्ध उत्पादन केंद्र सहित समूहों द्वारा तैयार किए गए विभिन्न उत्पादों व गतिविधियों का निरीक्षण किया। इस अवसर पर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री गुरु रूद्र कुमार, प्रदेश के आबकारी एवं वाणिज्य मंत्री कवासी लखमा, कोंडागांव विधायक मोहन मरकाम, केशकाल विधायक  संतराम नेताम सहित क्षेत्र के जनप्रतिनिधिगण मौजूद थे। मुख्यमंत्री बघेल जिला मुख्यालय से 70 किलोमीटर दूर ग्राम कोंगेरा (बड़ेराजपुर) में आज अपराह्न एक बजे हेलीकॉप्टर से पहुंचे, जहां पर आदर्श गौठान परिसर में बिहान समूह की महिलाओं ने पुष्पवर्षा कर तथा लोकनर्तकों ने बस्तर के पारम्परिक आदिवासी नृत्य के साथ स्वागत किया। इसके बाद उन्होंने गोठान परिसर में लगाए गए विभिन्न स्टाल का अवलोकन किया। मुख्यमंत्री द्वारा समूह की गतिविधियों के बारे में पूछे जाने पर अमृता स्वसहायता समूह विश्रामपुरी की अध्यक्ष अनिता साहू ने बताया कि उनके समूह में 12 सदस्य हैं जो मिर्च, मसाला, हल्दी, धनिया का पाउडर तैयार तथा पैकेजिंग करके बेचा जाता है। इससे उनके समूह को एक साल के भीतर 50 हजार रुपए की शुद्ध आय हुई है। मुख्यमंत्री ने उन्हें बेहतर कार्य के लिए बधाई दी।
इसके बाद मशरूम उत्पादन यूनिट का उन्होंने अवलोकन किया, जिसमें प्रगति स्वसहायता समूह की जनतो मंडावी और शीतला स्वसहायता समूह की प्रेमलता नेताम ने एस्ट्रॉएड मशरूम उत्पादन एवं उनसे होने वाली आय की जानकारी दी। इसके बाद मुख्यमंत्री ने बकरीपालन शेड, कुक्कुट पालन शेड, गोधन दुग्ध उत्पादन केन्द्र, दाल प्रोसेसिंग- पैकेजिंग कक्ष का अवलोकन कर उनकी गतिविधियों की जानकारी ली।
अवलोकन के दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को तराजू में बिठाकर धान की बोरियों से तौला गया। स्थानीय विधायक  संतराम नेताम ने उन्हें किसानपुत्र निरूपित करते हुए फूलों से सुसज्जित तराजू के एक पलड़े में मुख्यमंत्री को तथा दूसरे पलड़े में धान की बोरियों को रखा गया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने गौठान परिसर में नारियल का पौधा रोपकर उसे सींचा।
 इस अवसर पर मुख्यमंत्री के सलाहकार राजेश तिवारी, बस्तर संभाग के कमिश्नर  जी.आर. चुरेन्द्र, कलेक्टर पुष्पेन्द्र मीणा, एसपी सिद्धार्थ तिवारी सहित अधिकारी-कर्मचारी एवं स्थानीय जनप्रतिनिधि मौजूद रहे।

24-01-2021
भूपेश बघेल मनवा कुर्मी क्षत्रिय समाज दुर्ग राज के वार्षिक अधिवेशन में शामिल हुए

रायपुर।  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रविवार को दुर्ग जिले के धमधा ब्लॉक के ग्राम चेटुवा में आयोजित मनवा कुर्मी क्षत्रिय समाज दुर्ग के 75वें वार्षिक अधिवेशन में शामिल हुए। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि राज्य में चालू सीजन में अब तक  86 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी हो चुकी है, जो अब तक की रिकॉर्ड खरीदी है। अभी एक हफ्ते शेष है। राज्य सरकार की कृषक हितैषी नीतियों से किसान खेती की ओर वापस लौटे हैं, चाहे धान खरीदी का समर्थन मूल्य हो या किसानों की कर्ज माफी हो या कृषि संबंधी सुधार हो, राज्य सरकार की योजनाओं का गहरा असर हुआ है और यह असर इस सीजन में हुई धान खरीदी में साफ-साफ दिखाई दे रहा है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि बारदानों की कमी के बावजूद भी हमने धान खरीदी रुकने नहीं दी। रिकॉर्ड धान की खरीदी हुई। हमने बार-बार बारदाने भेजने का आग्रह केंद्र से किया, लेकिन हमें केवल डेढ़ लाख बारदाने देने का निर्णय लिया गया। इसमें भी 40 हजार बारदाने अभी तक नहीं आ पाए। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कहा कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना के माध्यम से हमने किसानों को संबल प्रदान किया। छत्तीसगढ़ सरकार की योजनाओं से किसानों में आर्थिक समृद्धि आई है। किसानों में संतोष है। छत्तीसगढ़ सरकार की नीतियों की वजह से कृषि अर्थव्यवस्था बेहतर हुई है और इसका असर बाजार पर भी दिखा है। इस तरह सरकार की नीतियों से सभी वर्गों का विकास हुआ है। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने मुरमुंडा स्थित गौठान का निरीक्षण भी किया। यहां की व्यवस्था से प्रभावित हुए और उन्होंने कहा कि गौठान को आत्मनिर्भर बनाएं। गौठान के विकास में ही ग्रामीण अर्थव्यवस्था का आधार निर्भर है।

27-12-2020
रमसमा बच्छराँव गौठानों का निरीक्षण किया जशपुर कलेक्टर महादेव कावरे ने,महिलाओं को नियमित जैविक खाद बनाने कहा

रायपुर/जशपुरनगर। कलेक्टर महादेव कावरे ने बगीचा विकासखण्ड के रमसमा, बच्छराँव गौठानों का निरीक्षण किया। कलेक्टरकावरे ने द्वितीय चरण के रमसमा गौठान में समूह की महिलाओं को नियमित रूप से गोबर क्रय करने एवं जैविक खाद निर्मित करने के निर्देश दिए। उन्होंने गौठान समिति से मवेशियों को गौठान में ही नियमित रूप से लाने के लिये कहा। उन्होंने गौठान में भू नाडेप,वर्मी टाका,पशु शेड इत्यादि निर्माण करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने गौठान में  बिजली की व्यवस्था कर गौठान में दोना पत्तल निर्माण, चप्पल निर्माण सहित अन्य गतिविधियों को संचालित करने एवं गौठान में गोबर गैस संयंत्र स्थापित करने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत करने की हिदायत दी। उन्होंने समिति के सदस्यों को गौठान से लगे चारागाह में मवेशियों के लिए घास के साथ ही साग सब्जियों का उत्पादन करने की बात कही।

गौठान में पेयजल की व्यवस्था के लिए सबमर्सिबल पंप लगाने के हिदायत दी। कावरे ने गौठान से जुड़ी स्वसहायता समूह की महिलाओं से भेंट करते हुए उन्हें क्रय किये जा रहे गोबर से  जैविक खाद निर्माण के साथ ही  मुर्गी-बकरी पालन, दोना पत्तल, मशरूम उत्पादन, चप्पल निर्माण, सहित अन्य आजीविका संवर्धन योजनाओं का संचालन कर आत्मनिर्भर बनने एवं अपनी आय में वृद्वि करने की समझाइश दी। कलेक्टर ने उपस्थित सरपंच सहित अन्य जनप्रतिनिधियों को गौठान में पुआल दान करने के लिए ग्रामीणों को प्रोत्साहित करने की बात कही। उन्होंने गौठान में पशु शेड सहित अन्य निर्माण के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।

27-12-2020
कलेक्टर महादेव कावरे ने दिए गौठान में बांस से कम लागत के मुर्गी और बकरी शेड बनाने के निर्देश

रायपुर/जशपुर। कलेक्टर महादेव कावरे ने 26 दिसंबर को कुनकुरी विकासखंड के गिनाबहार गौठान डोठीडांड ग्राम गोरिया के गोठान का निरीक्षण करके स्व-सहायता समूह की महिलाओं से वर्मी कम्पोस्ट खाद बनाने की विधि की जानकारी ली। समूह की महिलाओं को गौठान में विभिन्न आजीविका से जुड़ने के लिए प्रोत्साहित किया। मशरूम उत्पादन,बकरी पालन,मुर्गी पालन के साथ ही गौरिया गौठान में बने तालाब में मछली पालन करके आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनने के लिए कहा। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ केएस मंडावी,कुनकुरी जनपद सीईओ रघुराम और अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।

कलेक्टर ने गांव की सरपंच को कम लागत से गौठान में बांस के मुर्गी और बकरी शेड बनाने के कहा साथ ही जिन गौठान में पानी की पर्याप्त सुविधाएं हैं वहां साग सब्जी उत्पादन के लिए समूह को जोड़ने के निर्देश दिए हैं। गोरिया गौठान 35 एकड़ में फैला हुआ है। निरीक्षण के दौरान उन्होंने डोठीडांड गौठान को सीमांकन करने के निर्देश तहसीलदार को दिए हैं और जिन गौठान, चारागाह में पानी के लिए बोर पंप की गुजांइश है वहां बोर करने के निर्देश दिए हैं।

 

24-12-2020
मुक्तिधाम, गौठान,खेल मैदान की मांग के लिए ग्रामीणों ने दिया कलेक्ट्रेट में धरना

महासमुन्द। ग्राम कुकराडीह में कतिपय लोगों द्वारा आम निस्तार की खाली जमीन में मनमानी पूर्वक नाजायज अतिक्रमण होने से त्रस्त ग्रामीणों ने गुरूवार को कलेक्ट्रोरेट में जमकर प्रदर्शन और नारेबाज़ी करते हुए कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपकर अवैध अतिक्रमण हटाने और खेल मैदान,मुक्तिधाम तथा गौठान करवाये जाने की मांग की है। कुकराडीह के ग्रामीणों द्वारा किये गये प्रदर्शन में  लोकेश चन्द्राकर, पूर्व जनपद सदस्य योगेश्वर चन्द्राकर पंचायत सरपंच जीवन लाल साहू सहित ग्रामीणजन उपस्थित थे। कलेक्टर की अनुपस्थिति में एसडीएम सुनील कुमार चंद्रवंशी ने ज्ञापन स्वीकारते हुए शीघ्र कार्यवाही के लिये ग्रामीणों को आश्वस्त किया। 

 

23-12-2020
जिले में 20 गौठान को किया जाएगा मल्टी एक्टिविटी केंद्र के रूप में विकसित

धमतरी। गोधन न्याय योजना की जिला स्तरीय समीक्षा बैठक बुधवार को नगरपालिक निगम धमतरी के सामुदायिक भवन में हुई। कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने बैठक में मौजूद कृषि एवं संबंधित विभाग तथा पंचायत विभाग के अधिकारियों को कहा कि गोधन न्याय योजना शासन की महत्ती योजना है, अतः इसका सुचारू संचालन जिले में किया जाना चाहिए। उन्होंने गौठानों में गुणवत्तापूर्ण वर्मी खाद तैयार करने पर जोर दिया, जिससे उसकी बिक्री संभव हो। कलेक्टर ने इस अवसर पर कहा कि हालांकि अभी तक वर्मी खाद की गुणवत्ता संतोषजनक पाई गई है। उन्होंने आगे निर्देशित किया कि हर गौठान के लिए नियुक्त नोडल अधिकारी हर सप्ताह सम्बन्धित गौठान का दौरा कर रिपोर्टिंग करना सुनिश्चित करेंगे। बैठक में कलेक्टर ने निर्देशित किया कि कृषि विभाग का अमला रबी और खरीफ मौसम में गांव में वर्मी तथा कच्चे गोबर की मांग, उसकी कीमत क्या होनी चाहिए। इसका घर घर जाकर सर्वे कर पंद्रह दिनों में रिपोर्ट प्रस्तुत करें। गौठान को मल्टी एक्टिविटी केन्द्र के रूप में विकसित करने की योजना है, जिससे विभिन्न आजीविका गतिविधियां वहां संचालित करके वर्मी खाद बनाने में लगे समूह की महिलाओं की आय के स्रोत बढ़ाए जा सकें। इसमें उद्यानिकी फसल, सब्जी उत्पादन के लिए किट, मुर्गी, बकरी पालन शेड, दोना पत्तल की इकाई, पेपर बैग बनाने की इकाई, बुक बाईंडिंग, बांस शिल्प,  टेराकोटा, सिलाई सम्बन्धी इत्यादि कार्यों को लिया जा सकता है। इससे कि विलेज इंडस्ट्रियल पार्क बनाया जा सके। इसके लिए 20 गौठान का चयन करने पर कलेक्टर ने जोर दिया। इसमें विभागीय अभिसरण से मल्टी एक्टिविटी के कार्य किए जाने की योजना है। इसके लिए हर गौठान की पूरी कार्ययोजना होनी चाहिए। मल्टी एक्टिविटी के लिए जिन गतिविधियों को शामिल किया जा सकता है। इस संबंध में बैठक में उपस्थित वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारीए पंचायत सचिव से इस सम्बन्ध में सलाह भी ली गई। बैठक में समीक्षा के दौरान बताया गया कि जिले में 323 पंचायत में 349 गौठान मनरेगा से स्वीकृत किए गए हैं। गौठानों में दो हजार 190 वर्मी टैंक स्वीकृत किया गया है। अब तक एक हजार 678 टैंक बन गएए 294 प्रगतिरत हैं।

इसी तरह स्वीकृत एक हजार पांच नाडेप टैंक में से 692 पूर्ण तथा 138 प्रगतिरत हैं। बताया गया कि गोधन न्याय योजना की शुरुवात से अब तक 160 गौठानों में छः हजार 321 हितग्राहियों से 281 लाख रुपए की 14 हजार क्विंटल गोबर खरीदी की गई है। बैठक में उपस्थित जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी नम्रता गांधी ने कहा कि नवंबर माह तक गोबर खरीदी का भुगतान समितियों को कर दिया गया है, अगर किसी कारणवश किसी समिति में हितग्राहियों को भुगतान नहीं हुआ है तो मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत सचिव से हर 15 दिनों में इसकी जानकारी लेकर भुगतान सुनिश्चित करें। बैठक में बताया गया कि इन गौठानों में अब तक आठ हजार 611 क्विंटल वर्मी खाद तैयार किया गया है। इसमें से 400 क्विंटल वर्मी खाद बेचा गया है, जिसमें 150 क्विंटल अकेले उद्यानिकी विभाग ने खरीदा है। खरीफ सीजन के हिसाब से जिले में हर गौठान में 225 टन पैरा की आवश्यकता होगी। इसके हिसाब से गौठानों में प्राथमिक तौर पर  40 टन पैरा संग्रहण किया जाना है। इसके मद्देनजर सभी गौठानों में पैरा दान को 40 टन करना है।  बताया गया कि 15 नवंबर से अब तक 189 गौठानों में कुल एक हजार 526 टन पैरा दान हितग्राहियों द्वारा किया गया है। बैठक में निर्देशित किया गया कि हर ब्लॉक में ऐसे तीन तीन गौठान चयनित करना है,जहां केंचुआ की गुणवत्ता अच्छी है ताकि वहां केचुआ उत्पादन किया जा सके। इसके लिए सोमवार तक की समय सीमा कृषि विभाग के अमले को दी गई है। इसके जरिए गौठानों में आजीविका के स्रोत बढ़ाने की योजना है। बैठक के अंत में सभी मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत से ब्लॉकवार स्वीकृत, निर्मित गौठानए वर्मी टैंक निर्माण की प्रगति की जानकारी ली गई। 

 

16-12-2020
ग्रामीणों के लिए खुशियां लेकर आई है भूपेश बघेल सरकार की गोधन न्याय योजना

रायपुर/बेमेतरा। सीएम भूपेश बघेल के के प्रयास से शुरू की गई गोधन न्याय योजना गांव के गोबर संग्रहकों के लिए खुशिया लेकर आई है। जिस गोबर को पहले यू ही कचरे के ढेर के रूप में फेक दिया जाता था या उसके कुछ भाग से उपले, कण्डे बना लिए जाते थे। इसी गोबर को बेच कर ग्रामीण पशु पालक लाभ उठा रहे हैं। इस योजना से ग्रामों एवं शहरों के गोबर संग्रहकों को 2 रू. प्रति किलो की दर से गोबर बेचकर लाभ कमाने का अवसर प्राप्त हुआ है। बेमेतरा जिले के बेरला विकासखण्ड में वर्तमान में 11 ग्राम पंचायतों में गौठानों के माध्यम से गोबर खरीदी की जा रही है।

गांव के ग्रामीण बढ़-चढ़ कर गोबर बेचने और लाभ कमाने में भागीदार बन रहे हैं, उसी कडी में बेरला विकासखण्ड के ग्राम पंचायत भाड़ (रामपुर) में निवास करने वाले रमेश कुमार यादव पिता नंदकुमार यादव वार्ड क्रं. 10 जो कि अपने ग्राम पंचायत में चरवाहे का कार्य करते हैं। इनके द्वारा अपने 8 मवेशियो के साथ-साथ ग्राम पंचायत के लगभग 40 घरों के 1000 से अधिक मवेशियो को चराने का कार्य किया जाता है। अपनी बरदी के मवेशियों को चराकर अपने ग्राम पंचायत के निर्माण हुए गौठान में रखते हैं, जिनके गोबर को बेचकर रमेश कुमार यादव को 55000 हजार से अधिक की आमदनी प्राप्त हुई है, जिससे इन्होंने मोटर सायकल खरीदी है। इससे वह बहुत प्रसन्न है। वे प्रतिदिन गौठान के गोबर खरीदी केन्द्र में गोबर विक्रय करते है एवं समय-समय पर गोबर बिक्री की राशि उनके बैक खाते में शासन द्वारा प्रदान किया जा रहा है। इससे उन्हें अतिरिक्त आय हो रही है। उनका कहना है कि मुख्यमंत्री ने यह बहुत अच्छी योजना चलाई है, जिससे हमे लाभ हो रहा है। इसके लिए हम मुख्यमंत्री का धन्यवाद करते हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804