GLIBS
11-06-2019
भाजपा की रैली में मंच गिरा, तीन विधायक सहित आधा दर्जन चोटिल

 

इंदौर। मध्यप्रदेश के इंदौर जिला मुख्यालय में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की किसान आक्रोश रैली में लगा एक स्वागत मंच टूट जाने से आज तीन विधायकों सहित आधा दर्जन नेताओं को मामूली चोट आयी है।
यहां रैली के प्रारम्भ स्थल राजमोहल्ला क्षेत्र में लगे मंच पर इंदौर से महापौर और विधायक मालिनी गौड़, विधायक महेंद्र हार्डिया और सुश्री उषा ठाकुर चोटिल हुये हैं। हादसे के दौरान मंच पर मौजूद पूर्व विधायकों में जीतू जिराती, सुदर्शन गुप्ता और राजेश सोनकर भी चोटिल हुये हैं। चोटिल हुये सभी नेताओं को नजदीकी चिकित्सालय में प्रथमिक उपचार कराया गया। जहाँ सभी स्वास्थ्य पाये गए। रैली शुरू होने के कुछ देर पहले हुये इस हादसे के बाद सभी भाजपा नेता घटना स्थल की तरफ दौड़ पड़े।
दरअसल भाजपा आज यहां भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की अगुवाई में सूबे की कांग्रेस सरकार के खिलाफ किसान आक्रोश रैली आयोजित की है, जिसमे एक हजार से अधिक ट्रैक्टर पर सवार भाजपा कार्यकर्ता राजमोहल्ला से कलेक्टर कार्यालय चौराहा तक पहुचेंगे।

11-06-2019
प्रदेश में भीषण गर्मी से नहीं मिल रही राहत, शाम को हो सकता है मौसम परिवर्तन

रायपुर। प्रदेश में भीषण गर्मी का प्रकोप जारी है। बीते रोज प्रदेश के सभी जिलों में पारा 43 से 45 डिग्री के आसपास रहा। यह तापमान जून महीने में अभी तक का सर्वाधिक तापमान है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार जून माह में बीते सोमवार को तापमान सामान्य से 7 डिग्री ज्यादा रहा। इधर मौसम विभाग ने मंगलवार और बुधवार को भी भीषण गर्मी का अंदेशा जताया है। लेकिन शाम को आंधी, बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने तेज रफ्तार से हवा चलने की संभावान व्यक्त की है। 
मौसम विभाग की माने तो मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र के तरफ से गरम हवा आ रही है। दोनों प्रदेशो में तेज गर्मी के कारण छत्तीसगढ़ में भी गर्मी बढ़ गई है। मौसम वैज्ञानिक एचटी चंद्रा ने बताया कि बस्तर में मौसम ने करवट ली और यहां बारिश के कारण तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। 

04-06-2019
डंपर की ठोकर से उपसरपंच की मौत, आक्रोशित ग्रामीणों ने डंपर व मशीनों को लगाई आग

श्योपुर। मध्यप्रदेश में एक भीषण सड़क हादसा हो गया। श्योपुर जिले में एक तेज रफ्तार डंपर ने बाइक पर जा रहे एक व्यक्ति हो ठोकर मार दी, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। बताया जा रहा है कि मृतक सलमान्या ग्राम पंचायत का उप सरपंच था। घटना की जानकारी पर ग्रामीणों ने डंपर में आग लगा दी। ग्रामीणों का गुस्सा इतने पर भी शांत नही हुआ और उन्होंने क्रेशर सहित वहां रखे दो डंपर और एक पोकलैन को आग के हवाले कर दिया।
जानकारी के अनुसार, घटना बड़ौदा तहसील के सलमान्या गांव की बताई जा रही है। यहां उप सरपंच 54 वर्षीय यदुराज सिंह उर्फ भैय्याजी जाट हरियाणा से ट्रैक्टर लेकर लौट रहे थे। बड़ौदा में उन्होंने अपने बेटे टिन्नू को बुलाया। बेटे टिन्नू को ट्रैक्टर की चाबी देकर यदुराज सिंह बाइक लेकर बड़ौदा से अपने गांव की ओर जा रहे थे। इसी दौरान पीछे से तेज रफ्तार में आ रहे गिट्टी से भरे डंपर ने उनकी बाइक को टक्कर मार दी। टक्कर के बाद डंपर के नीचे फंसने की वजह से सरपंच एक किमी दूर तक घसीटते चले गए, उसके बाद डंपर सड़क किनारे खंती में जा पलटा। डंपर की टक्कर से बाइक उचटकर सड़क किनारे गिरी और यदुराज डंपर के नींचे फंस गया और उनकी मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलते ही परिजन और ग्रामीण मौके पर पहुंचे और नशे में धुत ड्राइवर को जमकर पीटा, फिर डंपर में आग लगा दी।ग्रामीणों का गुस्सा इतने पर ही शांत नही हुआ और उन्होंने वही खडी  क्रेशर मशीन, दो डंपर और पोक लैन मशीन में भी आग लगा दी और शव को वही रख जाम लगा दिया।

03-06-2019
मालिक की जान बचाने के लिए बाघ से भिड़ गया वफादार कुत्ता

सिवनी। मध्यप्रदेश के सिवनी में पेंच टाइगर रिजर्व से लगे परासपानी गांव में एक पालतू कुत्ता अपने मालिक की जान बचाने के लिए बाघ से भिड़ गया। इसके बाद आसपास के इलाके में यह कुत्ता चर्चा का विषय बन गया है। जानकारी के मुताबिक 22 साल का पंचम गजभे सुबह-सुबह घर के पीछे नाले के पास शौच के लिए गया था, तभी पेड़ों के पीछे छिपे टाइगर ने उस पर हमला कर दिया। टाइगर ने पंचम के बाएं हाथ को अपने जबड़े में ले लिया। जिससे पंचम जोर-जोर से चिल्लाने लगा। अपने मालिक की आवाज सुनकर उसका पालतू कुत्ता टीटू दौड़कर मौके पर पहुंचा और भौंकते हुए टाइगर से भिड़ गया। इसके बाद टाइगर तुरंत ही पीछे हट गया। मौका मिलते ही पंचम वहां से भागकर घर पहुंच गया। टाइगर के हमले में पंचम के दोनों हाथों पर चोटें आई हैं। वहीं पालतू कुत्ता टीटू भी मामूली रूप से घायल हो गया है। घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंचे वन विभाग के अमले ने पंचम को कुरई के स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। जहां पंचम की हालत खतरे से बाहर है। इस घटना के बाद वन विभाग ने आस पास के गांवों में मुनादी कराके लोगों को एहतियात बरतने को कहा है और जंगल नहीं जाने की सलाह दी गई है।

02-06-2019
मध्यप्रदेश में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, आईएएस अधिकारियों के बदले गए प्रभार

 

भोपाल। मध्यप्रदेश में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल किया गया है। इसमें आईएएस अधिकारियों को तबादले किए गए और कई अफसरों के प्रभार में फेरबदल किया गया। कमलनाथ सरकार ने 15 कलेक्टरों को हटाते हुए 33 आईएएस अधिकारियों को इधर से उधर किया। 2006 बैच के आईएएस अधिकारी व भोपाल कलेक्टर सुदाम पंढरीनाथ खाडे को हटाकर अपर सचिव बनाया गया है। इसके अलावा धार, खंडवा, डिंडौरी, अलीराजपुर, आगर मालवा, शाजापुर, बुरहानपुर, निवाड़ी, सतना, सीहोर, रायसेन, दमोह, कटनी, नीमच के कलेक्टर भी बदल दिए गए हैं। 

01-06-2019
सीए प्रोफेशनल के रूप में महिलाओं की हो ज्यादा सहभागिता : राज्यपाल आनंदीबेन पटेल

 

रायपुर। मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ की राज्यपाल आंनदीबेन पटेल शनिवार को बिलासपुर में आयोजित द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया, बिलासपुर ब्रांच चार्टर्ड अकाउंटेंट के राष्ट्रीय सम्मेलन में शामिल हुई। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था में चार्टड अकाउंटेंट प्रोफेशनल का बहुत ही अहम योगदान रहता है। यदि सीए के क्षेत्र में ज्यादा से ज्यादा महिलाओं की सहभागिता होनी चाहिए। घर की छोटी से छोटी बातों का ध्यान महिलाएं बहुत बेहतर ढंग से रखती है। देश की वित्त मंत्री भी महिला है। उम्मीद है सीए के क्षेत्र में महिलाएं अपना नाम करेंगी। काफी हर्ष का विषय है कि न्यायधानी बिलासपुर में इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया (आईसीएआई) के द्वारा राष्ट्रीय स्तर की कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। जैसा की मुझे बताया गया है कि आईसीएआई के द्वारा अपने चार्टर्ड अकाउंटेंट सदस्यों के लिये कंटीनुअस प्रोफेशनल एजुकेशन (सीपीई) के नियम निर्धारित किये गये हैं। जिसके तहत सदस्यों को इस तरह के सेमीनार, कान्फ्रेंस एवं वर्कशॉप्स अटेंड करने होते है। जिससे वे स्वयं को विभिन्न कानूनों में समय-समय पर हो रहे परिवर्तनों के प्रति अपडेट रख सके एवं साथ ही राज्य एवं केन्द्र सरकार द्वारा लागू किये जाने वाले नए कानूनों के प्रति जागरूक रह सके। यह काफी प्रशंसनीय कदम है। कोई बड़ी या छोटी व्यापारिक संस्थान, यहां तक आजकल शासकीय संस्थानों में भी चार्टर्ड अकाउंटेंट की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। सीए बेहद चुनौतीपूर्ण एवं संभावनाओं से भरा प्रोफेशन है। विभिन्न प्रकार के वित्तीय गतिविधियों में चार्टर्ड अकाउंटेंट की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। संस्था को महत्वपूर्ण आर्थिक विषयों पर सलाह प्रदान करते हैं। वर्तमान परिप्रेक्ष्य में इन्हें यदि आर्थिक मार्गदर्शक की उपमा भी दी जाए तो वह अतिश्योक्ति नहीं होगी।
किसी भी देश में अर्थव्यवस्था का ही सबसे महत्वपूर्ण स्थान होता है। देश को आय की प्राप्ति विभिन्न स्त्रोतों से मिलने वाले राजस्व जैसे आयकर, विक्रय कर या अन्य करों के माध्यम से प्राप्त होती है। कराधान का महत्व प्राचीन समय से है। कौटिल्य ने भी इसे किसी राज्य के लिये सबसे महत्वपूर्ण माना था। व्यापारिक संस्थाओं से लेकर आम नागरिक कर संबंधित विषयों में चार्टड अकाउंटेंट की मदद अवश्य लेते हैं। आप लोग देश को अधिक से अधिक करों की प्राप्ति करने में सहयोग प्रदान करते है और राष्ट्र के आर्थिक प्रगति में अपना महत्वपूर्ण योगदान भी देते हैं। हमारा देश विश्व की उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। हमारे देश की अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने में एकाउंटेंसी (लेखांकन) की महत्वपूर्ण भूमिका है। मेरा यह मानना है कि किसी भी देश में आर्थिक विकास में सशक्त एकाउंटेंसी (लेखांकन तथा अंकेक्षण) एक आधारभूत बुनियाद की तरह है। 
चार्टड एकाउंटेंट का मुख्य दायित्व होता है कि उसके द्वारा प्रस्तुत लेखा एवं वित्तीय प्रतिवेदन उच्च गुणवत्तायुक्त हो। सीए एक लेखापरीक्षक, परामर्शदाता एवं सलाहकार के रूप में अपनी विश्लेषणात्मक योग्यता एवं कौशल से, वित्तीय समस्याओं का समाधान खोजते हैं। ऐसी बहुमूल्य सेवा, किसी भी संगठन को न केवल मजबूत होती है, बल्कि संगठन की सही एवं परिशुद्ध वित्तीय स्थिति भी सुनिश्चित करती है। यह खुशी की बात है कि इस प्रोफेशन से जुड़े व्यक्ति सक्रिय एवं समर्पित होकर कार्य करते हैं।
भारत में आर्थिक उदारीकरण के दौर में देश के आर्थिक परिदृश्य में भारी बदलाव आया है। ऐसे में एकाउंटेंसी प्रोफेशनल्स का दायित्व और बढ़ जाता है कि वे सतर्क रहकर यह सुनिश्चित करें कि सभी लोग अपने व्यापार व्यवसाय में पारदर्शिता रखें। आज नागरिक के आर्थिक विकास निवेश का पैसा सुरक्षित रहे यह आप सब की सामाजिक जवाबदारी है। हमें यह ध्यान में रखना होगा कि हमारे देश की बड़ी आबादी को आज भी आधारभूत सुविधाओं से वंचित है। उन्हें विकास के रास्ते में आगे ले जाना, उन्हें सम्मानजनक जीवन स्तर उपलब्ध कराना, हम सबका सामूहिक दायित्व है।
तखतपुर विधायक रश्मि सिंह ने कहा कि सीए समाज में प्रबुद्ध नागरिक होते हैं। जिनके ऊपर अर्थव्यवस्था, अंकेक्षण, खाता प्रबंधन की जिम्मेदारी होती है। सीए के बिना व्यवसाय करना कठिन है। इस अवसर पर बिलासपुर विधायक शैलेष पाण्डेय ने कहा कि देश की आर्थिक व्यवस्था सुदृढ़ और पारदर्शी बनाने में सीए प्रोफेशनल की महत्वपूर्ण भूमिका है। 
इस अवसर पर बिल्हा के विधायक धरमलाल कौशिक, विधायक बिलासपुर एपी पांडा एसईसीएल, चार्टर्ड अकाउंटेंट जय छैरा, अनुज गोयल, सेंट्रल काउंसिल मेंबर्स, मुकेश बंसल, रिजनल काउंसिल चेयरमेन, सचेन्द्र जैन, बिलासपुर शाखा के अध्यक्ष, सीपी भाटिया, रायपुर शाखा के अध्यक्ष तथा इस राष्ट्रीय सम्मेलन में देशभर के कई चार्टर्ड अकाउंटेंट उपस्थित थे।

30-05-2019
सांसद प्रहलाद पटेल को केन्द्रीय मंत्री बनाए जाने पर बृजमोहन और प्रेमप्रकाश ने दी बधाई

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश के सांसद प्रहलाद पटेल को केन्द्रीय मंत्री बनाए जाने पर दिल्ली में उन्हें बधाई देने प्रदेश के पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल और प्रेम प्रकाश पांडे पहुंचे। इस अवसर पर श्री अग्रवाल और श्री पांडे ने सांसद प्रहलाद पटेल को केंद्रीय मंत्रिमंडल में स्थान मिलने पर शुभकामना दी और गुलदस्ता भेंट किया।

27-05-2019
मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी : ओझा

भोपाल। मध्यप्रदेश में सत्तारूढ़ दल कांग्रेस की मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद उभरीं परिस्थितियों के बीच आज कहा कि राज्य की कमलनाथ सरकार अपना पांच वर्ष का कार्यकाल पूरा करेगी और कांग्रेस समेत सरकार को समर्थन देने वाले सभी विधायक हमारे साथ हैं।

श्रीमती ओझा ने दूरभाष पर यूनीवार्ता से कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ की उपस्थिति में कल यहां कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुयी, जिसमें सभी विधायकों ने मुख्यमंत्री के प्रति विश्वास जताया। इसके अलावा बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के दो, समाजवादी पार्टी का एक और चारों निर्दलीय विधायकों ने भी कांग्रेस सरकार को अपना समर्थन जारी रखने की बात दोहरायी है।

उन्होंने दोहराया कि कांग्रेस की मौजूदा सरकार को पूर्ण बहुमत हासिल है और सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि विपक्षी दल भ्रम फैलाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन उन्हें सफल नहीं होने दिया जाएगा। इस बारे में सभी विधायकों को भी अवगत करा दिया गया है। राज्य की मौजूदा सरकार को लगभग पांच माह ही हुआ है। इसमें से भी 10 मार्च को लोकसभा चुनाव के कारण आदर्श आचार संहिता लग गयी थी, जो एक दो दिन पहले ही हटी है।

श्रीमती ओझा ने कहा कि अल्प समय में ही कमलनाथ सरकार ने अपने काफी वचन पूरे किए हैं। अब सभी वचनों को पूरा करने के लिए सरकार और तेजी से जुट गयी है। राज्य सरकार की प्राथमिकता किसानों से जुड़े मुद्दों पर कार्य करने के साथ ही रोजगार, युवाओं और गरीबों से संबंधित विषयों पर कार्य करने की है। कानून व्यवस्था को भी और चुस्त दुरुस्त किया जाएगा। इस संबंध में मुख्यमंत्री ने राज्य के मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक और अन्य सभी अधिकारियों को अवगत करा दिया है।

एक अन्य सवाल के जवाब में श्रीमती ओझा ने कहा कि लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद श्री कमलनाथ के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के पद से त्यागपत्र की पेशकश संबंधी जो खबरें आयीं, उनमें भी कोई दम नहीं है। उन्होंने स्पष्ट किया कि विधानसभा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री बनने पर श्री कमलनाथ ने प्रदेश अध्यक्ष पद से त्यागपत्र की पेशकश केंद्रीय नेतृत्व के समक्ष की थी, लेकिन उन्होंने इसे अस्वीकार कर दिया था।

श्रीमती ओझा ने कहा कि श्री कमलनाथ कांग्रेस के वचनपत्र के अनुरूप अपनी सरकार की प्राथमिकता तय करते हुए अब और तेजी से कार्य करने में जुट गए हैं। राज्य मंत्रिमंडल के विस्तार के संबंध में चल रही खबरों को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि यह मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार है और इस बारे में उचित समय पर वे स्वयं बताएंगे।

दिसंबर 2018 में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के बाद श्री कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बनी और उसने पंद्रह वर्षों से सत्तारूढ़ दल भारतीय जनता पार्टी को सत्ता से बेदखल कर दिया। दो सौ 30 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस को 114 सीटें हासिल हुयी हैं, जबकि भाजपा के 109 विधायक हैं। इसके अलावा बसपा के दो, सपा का एक और चार निर्दलीय विधायक हैं। कांग्रेस को इन सातों विधायकों ने समर्थन दिया है।

26-05-2019
सीएम कमलनाथ के एक-एक मंत्री पांच-पांच विधायकों पर रखेंगे नजर

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्य में विधायकों को नई जिम्मेदारी सौंपी है। इस जिम्मेदारी के तहत मंत्री पांच-पांच विधायकों पर नजर रखेंगे और उनसे लगातार संवाद भी करेंगे। रविवार को कमलनाथ ने विधायकों की बैठक बुलाई है। कमलनाथ ने निर्दलीय विधायकों से खुद चर्चा करने का फैसला लिया है। दूसरी ओर  कमलनाथ और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने राज्य के हालातों पर दो बार मंथन किया। राज्य में मंत्रिमंडल विस्तार और निगम मंडलों में नियुक्तियों पर भी सरकार जल्द फैसला लेगी। दरअसल, मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार के गिरने-गिराने की अटकलों के बीच एक ओर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कांग्रेस में अंतर्कलह की ओर इशारा किया। वहीं, दूसरी ओर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने विधायकों के बगावती तेवर की आशंका पर यह कदम उठाने का फैसला लिया है। चर्चा है कि मंत्रिमंडल के गठन के बाद से ही सरकार में जगह न पाने वाले पार्टी के वरिष्ठ विधायक और बाहर से सरकार को समर्थन दे रहे निर्दलीय विधायकों की नाराजगी समय-समय पर सामने आती रही है। मंत्रिमंडल में वरिष्ठ विधायकों में छह बार के विधायक केपी सिंह, बिसाहूलाल सिंह, एंदल सिंह कंसाना और राज्यवद्र्धन सिंह दत्तीगांव को जगह नहीं मिल पाई थी। वहीं निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह ठाकुर और केदार सिंह डाबर भी मंत्रिमंडल में जगह मिलने की उम्मीद जता रहे हैं। इधर बसपा विधायक संजीव सिंह कुशवाहा और सपा के राजेश शुक्ला को मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने की चर्चा है।

24-05-2019
कांग्रेस कार्यकर्ता ने सबके सामने मुंडन कराकर पूरी की अपनी शर्त

भोपाल। मध्यप्रदेश के राजगढ़ में शर्त हारने पर कांग्रेस के कार्यकर्ता ने सबके सामने मुंडन कराया है। जानकारी के मुताबिक राजगढ़ के हराना गांव में वोटिंग के दिन कांग्रेस कार्यकर्ता बाबूलाल सेन और बीजेपी कार्यकर्ता राम मोहन मंडलोई के बीच राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने पर शर्त लगीथी। शर्त के अनुसार अगर मोदी प्रधानमंत्री बनते हैं तो कांग्रेस कार्यकर्ता बाबूलाल सेन सबके सामने अपना मुंडन कराएंगे और अगर राहुल गांधी प्रधानमंत्री बनते हैं तो बीजेपी कार्यकर्ता राम मोहन मंडलोई को अपने सिर का मुंडन कराना पड़ेगा। गुरुवार को नजीजे घोषित हो गए और बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिल गया.। इस तरह कांग्रेस के कार्यकर्ता शर्त हार गए। नतीजे आने के दूसरे दिन बीजेपी के मंडलोई सुबह-सुबह अपने साथियों के साथ नाई लेकर कांग्रेस कार्यकर्ता बाबूलाल के घर पहुंच गए और उनसे अपनी शर्त पूरी करने कहा। इसके बाद कांग्रेस कार्यकर्ता ने सबके सामने मुंडन करा लिया। मुंडन के बाद बाबूलाल ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार ने चार महीने में अच्छा काम किया। अगर कर्जमाफी का समय दस दिन की जगह तीन महीने का समय दिया होता तो अच्छे परिणाम आ सकते थे।

24-05-2019
मध्यप्रदेश में दो दुखद घटनाओं में 6 मासूमों की मौत 

 

इंदौर। मध्यप्रदेश में शुकवार को दो दुखद घटनाओं ने लोगों के हिला दिया। यहां दो अलग-अलग हादसों में 6 मासूमों की मौत हो गई। इंदौर में कार में खेल रहे तीन बच्चों का दम घुटने से मौत हो गई। वहीं दमोह में तालाब में नहाने गए 3 बच्चे डूब गए।
इंदौर की सांवेर तहसील वार्ड-2 स्थित चंद्रभागा में एक कार में दम घुटने से तीन भाई-बहन की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि तीनों बच्चे आंगनवाड़ी जाने के लिए शुक्रवार सुबह घर से निकले थे। लेकिन आंगनवाड़ी जाने की बजाए वह घर के पास खड़ी पुरानी कार में खेलने के लिए दरवाजा खोलकर अंदर चले गए। इस दौरान तीनों ने अंदर से दरवाजा बंद कर लिया, जो बाद में उनसे नहीं खुला। करीब दो घंटे बाद वहां से गुजरते कुछ लोगों ने कार के अंदर बच्चों को देखा तो परिजनों को खबर की। कार का लॉक तोड़कर दरवाजा खोला गया और परिजन आनन-फानन में बच्चों को लेकर अस्पताल पहुंचे। डाक्टरों ने तीनों को मृत घोषित कर दिया। घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने परिजनों से पूछताछ की और शवों को पीएम के लिए भेज दिया। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। घटना से क्षेत्र में शोक की लहर है।
दमोह के हटा थाना स्थित रशोता गांव में तालाब में तीन बच्चों के शव मिले है। बच्चों की उम्र 10 से 12 वर्ष है। बताया जा रहा है कि ये तीनों बच्चे गांव में एक शादी में शामिल होने आए थे।  सुबह तीनों नहाने के लिए तालाब गए थे, वहां नहाते वक्त एक बच्चे का पैर फिसलने से वो गहरे पानी में चला गया, उसे बचाने में उसके बाकी दोनों भाई-बहन भी तालाब में कूद पड़े लेकिन तीनों डूब गए। बच्चों की लाश बरामद कर ली गई है। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर जांच शुरू कर दी है। घटना के बाद से गांव में मातम पसरा हुआ है परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804