GLIBS
22-09-2019
मध्यप्रदेश की लेबल लगी अवैध अंग्रेजी शराब जब्त, 1 आरोपी गिरफ्तार

बलौदा बाजार। ग्राम गाड़ाभाठा में मध्यप्रदेश की लेबल लगी अंग्रेजी शराब को पुलिस ने पकड़ा है। पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली कि ग्राम गाड़ा भाठा में लखनलाल मार्कण्डेय नामक व्यक्ति मध्यप्रदेश की लेबल लगी अवैध अंग्रेजी शराब अपने घर के बियारा पैरावट में छिपा कर रखा है। इस पर पुलिस टीम ग्राम गाड़ाभाटा पहुंचकर लखनलाल मार्कण्डेय के घर के बियारा की तलाशी ली। पुलिस टीम को घर के बियारा में पैरावट में छिपाकर रखे 112 पौवा अंग्रेजी शराब, जिसमें सिर्फ मध्यप्रदेश में बिक्री के लिए लिखा था को जब्त किया। शराब रखने के संबंध में कोई कागजात नहीं होने पर पंचनामा तैयार कर आरोपी को आबकारी एक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया। आरोपी को न्यायिक रिमाण्ड के लिए न्यायालय में पेश किया गया। 

 

19-09-2019
मध्यप्रदेश : भोपाल के मंदिरों के बाहर कांग्रेस नेता दिग्विजय के खिलाफ लगाए गए पोस्टर

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के मंदिर वाले बयान पर अब सियासी बवाल मच गया है। आरोप-प्रत्यारोप के बाद अब पोस्टर वार शुरु हो गया है। राजधानी है, जिसमें उन्हें मंदिर में प्रवेश ना करने का मैसेज लिखा गया है। वही पोस्टर लगने के बाद कांग्रेस में हड़कंप मच गया है। हालांकि एक दिन पहले ही भाजपा विधायक विश्वास सारंग ने साधु-संतों और मंदिर प्रबंधकों से अपील की थी दिग्विजय को हिन्दू धर्म से निकालकर मंदिर में प्रवेश पर रोक लगाई जाए। ऐसे में अब इन पोस्टरों को अब भाजपा से जोड़कर देखा जा रहा है। हालांकि अभी तक इस मामले पर किसी भी नेता का बयान सामने नही आया है चाहे वह कांग्रेस का हो या भाजपा का।

बुधवार देर रात भोपाल में दिग्विजय सिंह के विरोध में शहर भर में पोस्टर लगाए गए है। शहर में कई मंदिरों के बाहर पोस्टरों को चिपकाया गया है। इन पोस्टरों में दिग्विजय सिंह को मंदिरों में प्रवेश नहीं देने का जिक्र किया गया है। ये पोस्टर भोपाल के परशुराम मंदिर, हनुमान मंदिर, साईं मंदिर सहित कई मंदिरों के बाहर चस्पा किए गए है। ये पोस्टर हिन्दू समाज द्वारा लगाए गए है। पोस्टर के साथ लिखा गया है कि हिन्दू समाज की यही पुकार हिन्दू विरोधी दिग्विजय सिंह के लिए मंदिरों के दरवाजे बंद हो बंद हो।
पोस्टर वार के बाद कांग्रेस में खलबली मच गई है।  प्रदेश की कमलनाथ सरकार बचाव मुद्रा में आ गई है। कैबिनेट मंत्री गोविंद सिंह का कहना है कि दिग्विजय सिंह से बड़ा कोई धार्मिक रीति रिवाजों को मानने वाला व्यक्ति मध्यप्रदेश मे कोई नहीं है। कुछ दिन पहले ही दिग्विजय ने गोवर्धन पर्वत की पैदल परिक्रमा की थी। वही उन्होंने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि हिन्दू विरोधी प्रमाण पत्र आरएसएस और बीजेपी देते है जिन लोगों ने ये ठेका ले रखा है। कांग्रेस महासचिव और राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को संत समागम भोपाल में कहा था कि भगवा वस्त्र पहनकर लोग चूरन बेच रहे हैं। उन्होंने कहा कि भगवा वस्त्र पहनकर बलात्कार हो रहे हैं। मंदिरों में बलात्कार हो रहे हैं। उन्होंने पूछा क्या यही हमारा धर्म है। कांग्रेस नेता ने कहा कि जिन्होंने हमारे सनातन धर्म को बदनाम किया है, उन्हें ईश्वर भी माफ नहीं करेगा। 

 

18-09-2019
एलआईसी के असिस्टेंट पदों पर निकाली बंपर वैकेंसी, पूरे देश से लोग कर सकेंगे आवेदन

नई दिल्ली। जीवन बीमा निगम (LIC) ने देश भर में असिस्टेंट पदों पर बंपर वैकेंसी निकाली है। इन रिक्तियों के लिए ऑनलाइन आवेदन 17 सितंबर से शुरू है। आप इस तरह डायरेक्ट लिंक से कर सकते हैं आवेदन। लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया ने देश भर में एलआईसी असिस्टेंट के पदों पर भर्ती निकाली है। इसमें देश भर में एलआईसी असिस्टेंट के आठ हजार पदों पर नियुक्ति की जाएगी। इन पदों पर 17 सितंबर से ही ऑनलाइन आवेदन जारी है। इसमें  आवेदन की अंतिम तिथि एक अक्टूबर 2019 रखी गई है। ऑनलाइन परीक्षा का आयोजन अगले महीने 21 और 22 अक्टूबर को किया जाएगा। बता दें कि प्रीलिम्स और मेन्स परीक्षा के आधार पर ही LIC assistant के पद भरे जाएंगे। इन पदों पर भर्ती के लिए कई संस्थानों से तैयारी कराई जाती है। इसमें सामान्य ज्ञान सहित विभिन्न विषयों के सवाल पूछे जाते हैं। इन पदों पर आवेदन की योग्यता स्नातक रखी गई है। 

ऐसे होगा सेलेक्शन
एलआईसी असिस्टेंट पदों पर प्री और मेन्स परीक्षा के आधार पर अभ्यर्थियों को चुना जाएगा। ये दोनों परीक्षाएं ऑनलाइन होंगी। इसमें मेन्स परीक्षा में पास होने वालों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाएगा। इसके बाद चयनित होने वाले उम्मीदवारों की लिस्ट तैयार की जाएगी और फिर उनकी नियुक्ति होगी।

ये है पूरी जानकारी
 

पद: LIC Assistant

पदों की संख्या- 8000

इन राज्यों में निकली भर्तियां
उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, दिल्ली, जम्मू-कश्मीर, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, चंडीगढ़, वेस्ट बंगाल, सिक्किम, असम, ओडिशा, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, मिजोरम, नागालैंड, त्रिपुरा, मेघालय, मणि‍पुर, अंडमान और निकोबार, तमिलनाडु, केरल, पुडुचेरी, लक्षद्वीप, अरुणाचल प्रदेश, कर्नाटक।


आवेदन शुल्क
जनरल व अन्य के लिए शुल्क होगा 600 रुपये

SC/ST के लिए इसका शुल्क होगा 50 रुपये

 

16-09-2019
राष्ट्रीय स्तर का खेल परिसर बनाने दिया जाएगा सहयोग : राजस्व मंत्री अग्रवाल

कोरबा। प्रदेश के राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने आज कहा है कि प्रियदर्शनी इंदिरा स्टेडियम एवं इस समूचे खेल परिसर को राज्य व राष्ट्रीय स्तर का खेल परिसर बनाने में मेरा पूरा सहयोग रहेगा तथा शासन द्वारा भी पूर्ण सहयोग दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अविभाजित मध्यप्रदेश में तत्समय इंदौर के बाद कोरबा का स्टेडियम प्रदेश का सबसे बड़ा स्टेडियम था, जो तत्कालीन विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण की देन थी तथा इसका लोकार्पण तत्कालीन मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने किया था। उक्त बातें राजस्व मंत्री अग्रवाल ने आज प्रियदर्शनी इंदिरा स्टेडियम परिसर में आयोजित विभिन्न खेल मैदानों के लोकार्पण अवसर पर कहीं। नगर पालिक निगम कोरबा द्वारा इंदिरा स्टेडियम परिसर में 01 करोड़ 60 लाख 52 हजार  की लागत से वालीबाल कोर्ट, बास्केटबाल कोर्ट एवं लान टेनिस कोर्ट का निर्माण कराया गया है। आज राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल के मुख्य आतिथ्य एवं महापौर रेणु अग्रवाल की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम के दौरान इन महत्वपूर्ण खेल परिसरों का लोकार्पण किया गया। इस अवसर पर सभापति धुरपाल सिंह कंवर, आयुक्त राहुल देव, जिला कांग्रेस कमेटी के शहर अध्यक्ष राजकिशोर प्रसाद व ग्रामीण अध्यक्ष उषा तिवारी के साथ ही पार्षदगण विशिष्ट तौर पर उपस्थित थे। लोकार्पण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राजस्व मंत्री अग्रवाल ने आगे कहा कि महापौर रेणु अग्रवाल के मार्गदर्शन में निगम ने लान टेनिस कोर्ट, बास्केट बाल कोर्ट व वालीबाल कोर्ट का निर्माण कराया है, निश्चित रूप से कोरबा के खेल जगत में यह एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है, जिसके लिए मैं बधाई देता हूं। आयुक्त राहुल देव ने अपने उद्बोधन में कहा कि इस काम्पलेक्स का अधिक से अधिक उपयोग हो, खिलाड़ी यहां पर अपना बेहतर खेल खेल सकें, ऐसी व्यवस्था बनाई जाएगी। इस अवसर पर सभापति धुरपाल सिंह कंवर, कांग्रेस कमेटी के शहर अध्यक्ष राजकिशोर प्रसाद, ग्रामीण अध्यक्ष उषा तिवारी, अग्रवाल सभा के अध्यक्ष श्रीकांत बुधिया, मेयर इन काउंसिल सदस्य दिनेश सोनी एवं मनकराम साहू, संतोष राठौर, पार्षद मनहरण राठौर, रवि सिंह चंदेल, पालूराम साहू, अपर आयुक्त अशोक शर्मा, श्यामसुंदर सोनी, विकास सिंह, सपना चौहान, गायत्री नायक, संगीता सक्सेना, कुसुम द्विवेदी, एस.मूर्ति, दुकालू श्रीवास, अवधेश सिंह, सत्येन्द्र वासन, रश्मि सिंह, वालीबाल संघ के अध्यक्ष उदय सिंह, नेशनल खिलाड़ी शालिनी नायर, निकेश कर्ष, इंद्रजीत सिंह, संतोष देवांगन, सुरेश क्रिस्टोफर, शेख जावेद, सुमित सिंह, पायल गोस्वामी, रजिया परबीन, रबीया श्रीवास, श्वेता साहू, बीना गुप्ता, केआर टंडन आदि के साथ नगर निगम के सभी अधिकारी, खिलाड़ी, खेलप्रेमी एवं काफी संख्या में नागरिक उपस्थित थे।

14-09-2019
28 लाख के गांजे के साथ दो युवक को पुलिस ने धरदबोचा

जगदलपुर। नगरनार पुलिस को एक बार फिर बड़ी कामयाबी मिली है। मुखबिर की सूचना पर नगरनार पुलिस ने चेकिंग के दौरान एक गाड़ी से 550 किलोग्राम गांजा और दो आरोपी को गिरफ्तार किया है। इस गांजे की अनुमानित कीमत 28 लाख आंकी जा रही है। छत्तीसगढ़ से लगे ओडिसा में गांजा की बेशुमार खेती की जाती है। गांजा लेने उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, हरियाणा कई प्रदेश से गांजा खरीदने पहुंचते हैं क्योंकि ओडिसा में गांजे की बहुत ही कम कीमत होती है। यदि यह गांजा दूसरे प्रदेश पहुंच जाता है इसकी कीमत करोड़ों में होती है तो इसी लालच में आकर लगाता है लोग छत्तीसगढ़ के रास्ते ओड़िसा से गांजा तस्करी करने पहुंचते हैं। इधर बस्तर पुलिस गांजा तस्करों पर शिकंजा कस रही है और लगातार कार्रवाई कर रही है। पकड़े गए दोनों आरोपी उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं। उन दोनों के खिलाफ एनडीपीएस के तहत कार्रवाई की गई। शनिवर को दोनों आरोपी को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।

विजय पचौरी की रिपोर्ट 

12-09-2019
अधिकारी ने मांगी रिश्वत, किसान ने उठाया ये कदम, पढ़े पूरी खबर...

भोपाल। मध्यप्रदेश के विदिशा जिले में एक अजब मामला समाने आया है। यहां एक अधिकारी ने किसान से रिश्वत की मांग की तो किसान ने उक्त अधिकारी को अपनी भैंस दे दी। मामला सिरोंज तहसील का है, जहां नायब तहसीलदार ने एक किसान से 25 हजार की रिश्वत मांगी तो उसने अपनी भैंस अधिकारी की गाड़ी से बांध दी। नायब तहसीलदार की गाड़ी से बंधी भैंस की तस्वीर सुर्खियों में छाई हुई है। रिपोर्ट्स के मुताबिक पीड़ित किसान भूपेंद्र ने बताया कि पिछले छह महीने से परिवार की जमीन के बंटवारे के लिए वो नायब तहसीलदार के चक्कर लगा रहा है। घूस की मांग को लेकर उसका काम अटकाया जा रहा है। कोई रास्ता ना देखकर भूपेंद्र ने नायब तहसीलदार की कार से अपनी भैंस बांध दी। भूपेंद्र का कहना है कि उसके पास घूस के लिए पैसे नहीं है इसलिए अपनी भैंस ही दे दी। हालांकि नायब तहसीलदार सिद्धार्थ सिंघल ने सभी आरोपों को नकार दिया है।

11-09-2019
चार साल पहले अपहृत बच्ची का कोई सुराग नहीं, मां को अब पुलिस से नहीं भगवान से है उम्मीद

बैकुंठपुर। चार साल पहले अपहृत बच्ची आशिया का अब तक कोई सुराग नहीं लग सका है। समय के साथ-साथ पुलिस ने भले ही इस मामले को भुला दिया हो, लेकिन जिसके कलेजे का टुकड़ा चार साल पहले अचानक उससे जुदा हो गया हो, वह भला उसे कैसे भुला सकती है। आज भी अपनी मासूम बच्ची के लिए उसकी मां का दिल धड़कता है और पसीजता है कि न जाने किस हाल में होगी मेरी बच्ची? विदित हो कि चार साल पहले 20 अगस्त 2015 को  शाम के करीब 7 बजे कोरिया जिले के मनेन्द्रगढ़ थानान्तर्गत मौहारपारा इलाके में सनाउल्लाह की 6 वर्षीया पुत्री आशिया बानो अपने घर के पास खेल रही थी, तभी अचानक दो व्यक्ति बाइक पर आए और उसे उठाकर अपने साथ ले गए। सूचना मिलने पर तत्कालीन पुलिस अधीक्षक बीएस ध्रुव रात्रि में ही घटना स्थल पहुंचे और पुलिस को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। दूसरे दिन भी पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों की पुलिस द्वारा बच्ची की बरामदगी के लिए आरोपियों की सरगर्मी से तलाश शुरू की गई। बच्ची की सकुशल बरामदगी के लिए पुलिस की अलग-अलग टीम द्वारा छत्तीसगढ़ और पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्रों में सर्चिंग की गई, लेकिन अपहृत बच्ची का कोई सुराग नहीं मिल सका। इस बीच आशिया की मां कई बार अपनी बच्ची के विषय में जानकारी लेने पुलिस थाने का चक्कर काट चुकी है, लेकिन उसे हर बार निराशा ही हाथ लगी है। आज भी वह बच्ची की कुशलता और उसकी बरामदगी के लिए जहां दुआएं मांगती है वहीं वह हर नामुमकिन को मुमकिन बना देने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही है। आशिया के लिए उसकी मां आज भी इसी आस से जी रही है कि एक न एक दिन उसकी बच्ची उसे अवश्य मिलकर रहेगी। इसके लिए उसने सोशल मीडिया से भी मदद की गुहार लगाई है।

10-09-2019
मध्यप्रदेश में रुपए भुगतान कर कोई भी ले सकेगा गायों को गोद

भोपाल। मध्यप्रदेश में सड़कों पर घूमने वाले मवेशियों से परेशान सरकार अब जल्द ही ऐसा प्रस्ताव ला रही है जिसके तहत सूबे में अब कोई भी गाय को गोद ले सकेगा। पशुपालन मंत्रालय ने ये प्रस्ताव तैयार किया है। कमलनाथ सरकार ने प्रोजेक्ट गौशाला के तहत पहले चरण में 1000 गौशाला बनाने की योजना बनाई है, जिसमें सड़कों पर घूमने वाले लावारिस मवेशियों को रखा जाएगा। पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव के अनुसार प्रोजेक्ट गौशाला की घोषणा के बाद उनसे कई स्वयंसेवियों और संस्थाओं के अलावा कई धार्मिक संगठनों ने संपर्क किया और गौशाला में गायों की सेवा करने की इच्छा जताई। लाखन सिंह यादव ने बताया कि इसके बाद उनके विभाग ने प्रोजेक्ट गौशाला के तहत एक प्रस्ताव ये बनाया गया है कि यदि कोई व्यक्ति चाहे तो गौशाला गोद लेकर उसमें मौजूद गायों की सेवा कर सकता है। इसके लिए 20 रुपए प्रति गाय प्रतिदिन के हिसाब से भुगतान किया जाएगा। इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति गौशाला ना लेकर सीमित संख्या में गायों को गोद लेना चाहता है तो उसके लिए 30 रुपए प्रति गाय प्रतिदिन के हिसाब से भुगतान किया जाएगा। लेकिन उसमें शर्त है कि व्यक्ति के पास गायों को रखने के लिए खुद की जमीन या गौशाला होनी चाहिए और उसमें साफ-सफाई की उचित व्यवस्था होनी चाहिए। 

 

 

10-09-2019
फिर से शुरू होगी 1984 दंगे के मामले की जांच, सीएम कमलनाथ की बढ़ेंगी मुश्किलें

नई दिल्ली। शिरोमणि अकाली दल के विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि गृह मंत्रालय 1984 में हुए सिख-विरोधी दंगों के मामले में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ जांच फिर से शुरू करवाने जा रहा है। सिरसा ने ट्वीट कर कहा, “अकाली दल के लिए बड़ी जीत। 1984 में हुए सिख-विरोधी दंगों के मामले में मुख्यमंत्री कमलनाथ की भूमिका की जांच के लिए एसआईटी ने मामले को खोला है।
उन्होंने कहा, कमलनाथ के खिलाफ नए साक्ष्य को फिर से खोलने और केस संख्या 601/84 पर फिर से विचार करने के लिए पिछले साल मैंने आवेदन जमा करवाया था, जिस पर गृह मंत्रालय द्वारा अधिसूचना जारी की गई।
दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष सिरसा ने कहा कि कमलनाथ के खिलाफ लगे सभी आरोपों की जांच विशेष जांच दल (एसआईटी) करेगी। उन्होंने कहा, एसआईटी केस को पुन: खोलेगी। जिन लोगों ने भी कमलनाथ को ‘सिखों को मारते हुए’ देखा है, मैं उन सभी गवाहों से अनुरोध करता हूं कि वे सामने आएं। किसी से भी डरने की जरूरत नहीं है।”


 

09-09-2019
मध्यप्रदेश में भारी बारिश, निचली बस्तियों में घुसा पानी, स्कूल, कॉलेज बंद

भोपाल। मध्यप्रदेश में लगातार हो रही बारिश जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। राजधानी भोपाल में लोगों के घरों में पानी घुस गया है और नदियां नाले उफान पर हैं। मंडला जिले में रिकॉर्ड 134 मिली मीटर बारिश हुई। सीहोर में पार्वती नदी उफान पर है। बारिश की वजह से जबलपुर में नर्मदा नदी पर बना बरगी बांध पानी से लबालब हो गया। इस कारण बांध के 21 गेट खोले गए। भोपाल समेत कई जिलों में स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे। वहीं सिवनी-वैनगंगा नदी में तीन लोग बह गए। इसमें से एक को बचा लिया गया है जबकि दो लोग लापता हैं। यह सिवनी के पुसेरा गांव की घटना बताई जा रही है। सिवनी में दो दिन से लगातार बारिश जारी है। एएसपी और होमगार्ड कमांडेंट मौक़े पर तैनात हैं। राजधानी भोपाल में निचली बस्तियों में पानी भर गया है और आवागमन प्रभावित हुआ है। राज्य में बीते 36 घंटों से कहीं रुक-रुक कर तो कहीं तेज बारिश हो रही है। राज्य के जनसम्पर्क मंत्री पी़सी़ शर्मा ने भोपाल में लगातार जारी भारी वर्षा के बीच प्रभावित गरीब बस्तियों का दौरा किया।

08-09-2019
फोटो खिंचाने निकले थे तीन युवक, ट्रक ने रौंद डाला

इंदौर। मध्यप्रदेश के इंदौर जिले में रविवार को बारिश के दौरान पहाड़ों में फोटो खिंचाने निकले तीन युवकों की ट्रक से कुचलकर मौत हो गई। सिमरोल पुलिस थाने के एक अधिकारी ने बताया कि जिला मुख्यालय से करीब 50 किलोमीटर दूर भेरू घाट के पहाड़ी इलाके में एक ही मोटरसाइकिल पर सवार तीनों युवकों को अज्ञात ट्रक रौंदता हुआ निकल गया। पुलिस अधिकारी ने बताया कि इंदौर-खंडवा रोड पर हुए भीषण हादसे में मौके पर दम तोडऩे वाले युवकों की पहचान सोनू, विकास और पवन के रूप में हुई है। वे 20 से 25 वर्ष के थे। अधिकारी ने बताया कि हादसे के शिकार तीनों युवक इंदौर के रहने वाले थे। वे बारिश के दौरान पहाड़ों में फोटो खिंचाने निकले थे। युवकों को रौंदकर मौके से फरार होने वाले ट्रक की तलाश की जा रही 

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804