GLIBS
17-04-2021
यदि लोग कोविड प्रोटोकाल का पालन करें तो बिना लाॅकडाउन के संक्रमण को किया जा सकता है नियंत्रित : कलेक्टर

धमतरी। कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने अपील की है कि यदि समुदाय सहयोग करें तथा संक्रमण से बचने के उपायों का पालन करें तो बिना लाॅकडाउन के कोरोना संक्रमण को नियंत्रित किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि इसके लिए प्रशासन द्वारा व्यापक स्तर पर जन-जागरूकता अभियान शुरू किया जा रहा है, जिसमें समुदाय के सभी वर्गों से सहयोग की अपेक्षा है। कलेक्टर ने सभी को मिलकर संकल्प करने कहा कि लाॅकडाउन के बाद कोरोना संक्रमण से बचने का उपाय करेंगे। कोरोना के प्रति व्यवहार परिवर्तन कर, सजग एवं सहयोगी बनकर संक्रमण को रोकेंगे।
ज्ञात हो कि 26 अप्रैल तक जिले में लाॅकडाउन है, इस अवधि का उपयोग सभी सामाजिक, व्यवसायिक संगठन इस बात के आत्मचिंतन में लगाएं कि कैसे बिना लाॅकडाउन के सामान्य जीवनयापन किया जा सकता है। इसके लिए सभी व्यापारी, सामाजिक संगठन, प्रिंट तथा इलेक्ट्राॅनिक मीडिया के साथी रणनीति बनाएं। लाॅकडाउन अवधि में वर्चुवल बैठकें कर लाॅकडाउन के बाद संक्रमण से बचने के व्यवहार परिवर्तन पर चर्चा करें। उन्होंने सभी को संकल्प लेने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचने के सभी उपायों का कड़ाई से पालन करेंगे। लक्षण होने पर जांच कराएंगे, लक्षण को बताएंगे-छुपाएंगे नहीं, बिना भ्रम के टीकाकरण कराएंगे और होम आइसोलेशन का कड़ाई से पालन करेंगे।

17-04-2021
Video: राज्यपाल ने की अपील, कहा- दिशानिर्देशों का पालन और विशेष सावधानी बरतें

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने प्रदेशवासियों से कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर सजगता और सतर्कता बरतने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए शासन के दिशानिर्देशों का पालन करें और विशेष सावधानी बरतें। सामाजिक दूरी का पालन करें, मास्क अवश्य लगाएं और हाथों को बार-बार धोते रहें। उन्होंने कहा है कि हम अपना आत्मबल बनाए रखें, धैर्य रखें। हमने कोरोना संक्रमण के पहले चरण में एकजुट होकर सामना किया था। इस बार भी एकजुटता दिखानी है। यह सभी के लिए संकट का समय है, जैसा भी हो सके सेवा कार्य के लिए आगे आए। इस समय मानवता के लिए की गई सेवा राष्ट्र के प्रति सच्ची सेवा होगी। यह प्रयास करना है कि हरसंभव एक-दूसरे की मदद करें। यह संकट का समय है, इच्छाशक्ति, संयम और एकता से हम इस कोरोना संक्रमण को अवश्य हरा पाएंगे। शासन द्वारा इस बीमारी से बचाव के लिए हरसंभव उपाय किए जा रहे हैं। राज्यपाल ने कहा कि सभी पात्र लोग अवश्य वैक्सीन लगाएं। वैक्सीन लगाने के बाद भी कोरोना से बचाव के सभी निर्देशों का पालन करें। सभी से आग्रह है कि कोविड अनुकुल व्यवहार करें। अब दवाई के साथ कड़ाई भी को मूलमंत्र मानते हुए अपने व्यवहार में लाएं। देश और प्रदेश को जल्द कोरोना से मुक्त करें।

16-04-2021
राशन दुकानों को मिली छूट,खाद्यान्न वितरण करने आदेश जारी,गाइडलाइन का पालन करना अनिवार्य

रायपुर। मंत्रालय से शुक्रवार को खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग ने पीडीएस के तहत राशन वितरण के लिए आदेश व दिशानिर्देश जारी किए हैं। खाद्य नागरिक आपूर्ति व उपभोक्ता संरक्षण मंत्री अमरजीत भगत ने विभिन्न जिलों के जनप्रतिनिधियों से बात की थी। लोगों ने कोविड काल व लॉकडाउन के दौरान खाद्यान्न की उपलब्धता के संबंध में चिंता जताई थी। साथ ही अधिकारियों ने भी कोविड के प्रसार को रोकने को लेकर अपनी परेशानी से अवगत कराया था। मंत्री अमरजीत भगत ने इन सब बातों पर गौर करते हुए उचित निराकरण के लिए खाद्य नागरिक आपूर्ति व उपभोक्ता संरक्षण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया था। इस संबंध में निर्णय लेते हुए सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत खाद्यान्न वितरण का आदेश उचित सतर्कता के साथ करने का निर्देश दिया गया।

शासन ने इस दौरान कोविड से बचाव के लिए जारी दिशानिर्देशों के अनुपालन के निर्देश दिए हैं। इसके तहत उचित मूल्य की दुकानों से खाद्यान्न वितरण के लिए भौगोलिक क्षेत्रों जैसे वार्ड/मोहल्ला/ग्रामवार हितग्राहियों को टोकन वितरित करने के निर्देश दिए गए। शासन की ओर से दिए निर्देश के अनुसार उचित मूल्य की दुकानों में सामाजिक दूरी के पालन के लिए चिह्नांकन करना और हितग्राहियों के साथ-साथ खाद्यान्न का वितरण करने वालों को मास्क पहनना अनिवार्य होगा। खाद्यान्न वितरण के समय पीडीएस दुकानों हितग्राहियों के सैनिटाइजेशन के लिए सैनिटाइजर की व्यवस्था अनिवार्य है। गौरतलब है कि लॉकडाउन के दौरान खाद्य सुरक्षा तय करने के लिए सार्वजनिक वितरण प्रणाली से खाद्यान्न वितरण तय किया जा रहा है।

 

16-04-2021
होम आइसोलेशन में इलाज और मॉनिटरिंग के दौरान प्रोटोकॉल का कड़ाई से करना होगा पालन

रायपुर। जिले में होम आइसोलेशन के नोडल अधिकारी गोपाल वर्मा ने बिना लक्षण और हल्के लक्षण वाले कोरोना संक्रमितों के होम आइसोलेशन में इलाज और मॉनिटरिंग के दौरान मरीजों और उनके परिजनों को होम आइसोलेशन से संबंधित प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन करने को कहा है। उन्होनें कहा है कि होम आइसोलेशन का मतलब घर में चुपचाप दवाई खाते रहना नहीं है। इसके लिए होम आइसोलेशन मैनेजमेंट सिस्टम के वेब लिंक के माध्यम से रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य है। इसका लिंक है https://cghomeisolation.com/ । होम आइसोलेशन का लिंक भरते ही तुरंत डॉक्टर का नंबर डिस्प्ले होता है। डॉक्टर से बात करके उन्हें अपने सिंपटम्स और बीमारी की जानकारी दें। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.मीरा बघेल ने बताया कि कोरोना संक्रमित मरीज के रहने के लिए घर में हवादार कमरा और अलग शौचालय होना अनिवार्य है। होम आइसोलेशन के मरीजों को उपचार के लिए दवाईयों का एक किट प्रदान किया जाता है। आइसोलेशन की अवधि में जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा नियुक्त स्वास्थ्यकर्मी प्रतिदिन चिकित्सकों या उनके अटेंडेंट से फोन के माध्यम से संपर्क में रहते हैं।

होम आइसोलेशन की पूरी अवधि में मरीज के परिजन मरीज से समुचित दूरी बनाते हुए उनका मनोबल बनाए रखने में सहयोग करें। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीज के परिजन भी घर से बाहर नहीं जाएंगे। होम आइसोलेशन के लिए अनिवार्य है कि मरीज या उसके सहयोगी के पास पल्स ऑक्सीमीटर हो इसके बिना होम आइसोलेशन की परमिशन नहीं दी जाएगी। ऐसे मरीजों से अपील की है कि वे संबंधित चिकित्सक को अपने आक्सीजन लेवल, तापमान, पल्स आदि की सही रीडिंग बताएं क्योंकि अनेकों बार यह देखा गया है कि होम आइसोलेशन वाले मरीज जब अस्पताल पहुंचते हैं, तब मालूम होता है कि उन्होने इसके पूर्व गलत रीडिंग बताई या बताई ही नही, जिसके कारण गंभीर स्थिति हुई। होम आइसोलेशन के मरीज जो स्वयं या जो उनकी देखभाल करता है उसे थर्मामीटर से तापमान लेना, पल्स ऑक्सीमीटर से आक्सीजन स्तर लेना और पल्स की रीडिंग लेना आना चाहिए जो कि बहुत सरल है। यह पल्स ऑक्सीमीटर के जरिए ली जाती है। उन्हें दिन में चार बार रीडिंग लेकर मोबाइल के जरिए ही उस चिकित्सक को भेजना है जो उन्हे एलॉट किया गया है। अगर ऑक्सीजन लेवल 90 से कम होता है तो केस बिगड़ सकता है।

इसलिए डॉक्टर को 95 से 90 के बीच ऑक्सीजन लेवल आने पर इसकी जानकारी शीघ्र दें। ऑक्सीजन लेवल 80 से नीचे आने पर सामान्य केयर सेंटर में इलाज करने में कठिनाई जाती है। इसलिए बेहद जरूरी है कि इस लेवल के पहुंचने के पहले ही तत्काल कंट्रोल रूम और अपने डॉक्टर को सूचना दी जाए। इसी तरह मरीजों को 6 मिनट चलने के पहले और 6 मिनट बाद भी आक्सीजन स्तर, आक्सीमीटर से रीडिंग लेना चाहिए और इसमे तीन अंको का अंतर आने पर डाक्टर को बताना चाहिए। मरीज को सीधे लेटना चाहिए जिससे फेफड़ों को ऑक्सीजन बराबर मिले। होम आइसोलेशन के मरीजों को अपना रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर बंद नही करना चाहिए क्योंकि उनके संपर्क में आए लोगों की जानकारी विभाग को लेनी होती है ताकि उनके परिजन, मित्र भी समय पर जांच कराएं और संक्रमण से बच सकें। अगर मरीज को सांस लेने में कठिनाई, सीने में लगातार दर्द या दबाव, होंठ या चेहरे का नीला पड़ना, ऑल्टर्ड सेसोंरियम (डिस-ओरिएंटेशन) जैसे गंभीर लक्षण विकसित होने पर इसकी सूचना तत्काल कण्ट्रोल रूम में दूरभाष या 104 से संपर्क कर देनी चाहिए। जिला प्रशासन, रायपुर द्वारा कोविड-19 के संबंध में नियंत्रण कक्ष बनाए गए है। होम आईसोलेशन के मरीजों के सहायता के लिए (24x7) यानी किसी भी समय इन फोन नंबर 7880100313, 7880100314, 7880100315, 7566100283 7566100284,7566100285 में संपर्क किया जा सकता है। कोरोना संबंधी  सामान्य जानकारी के लिए (सुबह 8 से रात 10 बजे तक)
फोन नं.- 8602270023, 8602290023, 8602780023, 8602920023, 07714320202 पर संपर्क किया जा सकता है।

 

Attachments area

15-04-2021
लॉकडाउन के पालन के लिए बनाई गई युवा वॉलिंटियर्स की टीम

जगदलपुर। बस्तर कलेक्टर रजत बंसल एवं पुलिस अधीक्षक दीपक झा के नेतृत्व में शहर के युवा वॉलिंटियर्स की टीम गठित की गई है, जो कि शहर के पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों के साथ मिलकर चाक-चौबंद व्यवस्था में मदद करेंगी। शहर के 20 युवाओं की टीम गठित की गई है। सभी युवा वॉलिंटियर्स की बैठक कलेक्टोरेट में राजीव गांधी शिक्षा मिशन के जिला समन्वयक अशोक पांडे, नगर पुलिस अधीक्षक हेमसागर सिदार व अन्य अधिकारियों ने ली। बैठक में युवा वॉलिंटियर्स को बताया गया कि शहर के प्रमुख चौक चौराहों में पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। यह सभी वॉलिंटियर्स पुलिस कर्मचारियों के साथ अपनी भूमिका निभाएंगे। मालूम हो कि बस्तर जिले में है गुरुवार शाम 6 बजे से 22 अप्रैल के रात 12 बजे तक लॉकडाउन लगाय गया है। बस्तर कलेक्टर रजत बंसल ने अपील की है कि लॉकडाउन में लोग अपने घरों में रहें। जिला व पुलिस प्रशासन का उद्देश्य नहीं है कि वह लोगों को बेवजह परेशान करें। उन्होंने कहा कि कोरोना का प्रकोप बस्तर जिला में भी बढ़ता जा रहा है इसलिए लॉकडाउन की स्थिति पैदा हुई है।

13-04-2021
Video: लॉक डाउन का पालन कराने पहुंची प्रशासनिक टीम के साथ बदसलूकी, दुकानें सील

जांजगीर-चांपा। जिले के शिवरीनारायण नगर पंचायत में कोविड गाइडलाइन का पालन कराने पहुंची प्रशासनिक टीम के साथ बदसलूकी की घटना सामने आई है। पुलिस और प्रशासन से मिली जानकारी के मुताबिक एसडीएम, पुलिस और नगर पंचायत की टीम के साथ आज से लागू होने वाले लॉकडाउन के पालन संबंधी दिशा निर्देश देने नगर में भ्रमण कर रही थी। इस दौरान कोविड नियमों का उल्लंघन करने वाले दुकानदारों के दुकान सील भी की गई। इस दौरान दुकानदारों और उनके कर्मचारियों ने प्रशासनिक टीम के साथ बदसलूकी की। पुलिस ने दुकानदारोें को गिरफ्तार कर दुकानों को सील किया।


अमरजीत डहरिया की रिपोर्ट 

 

12-04-2021
लॉकडाउन को प्रभावी रूप से पालन कराने निकाला गया फ्लैग मार्च

कोरबा। जिले में लागू लॉकडाउन के प्रभावी एवं सफल पालन कराने के लिए सोमवार को पहले दिन फ्लैग मार्च निकाला गया। नगर के सभी थाना, चौकी, पुलिस सहायता केंद्र के स्टाफ 100 से अधिक सायरन युक्त बाइक के साथ नगर के प्रमुख मार्ग, चौक, चौराहे, पहुंच मार्ग एवं गलियों से होते हुए फ्लैग मार्च किया। जिलेवासियों से अपील की गई कि कोरोना वायरस को हराने के लिए कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें। फ्लैग मार्च लॉक डाउन को गंभीरता से लागू कराए जाने निरंतर जारी रहेगा।

 

09-04-2021
कोविड प्रोटोकाॅल का पालन कराने होगी कड़ाई,अनावश्यक घूमने पर होगी एफआईआर

कोरबा। जिले में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमितों के मद्देनजर अब जिला प्रशासन ने अनावश्यक घूमने फिरने वालों से निपटने के लिए और अधिक कड़ाई से कोविड प्रोटोकाॅल का पालन कराने की तैयारी कर ली है। पूरे जिले में दुकानों तथा बाजारों का समय दोपहर तीन बजे तक निश्चित कर दिया गया है। इसके साथ ही अब तीन बजे के बाद बेकाम सड़कों पर घूमने निकले किसी भी महिला पुरूष या युवक-युवती के विरूद्ध कोविड प्रोटोकाॅल और शासन-प्रशासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करने पर सीधे पुलिस थाने में एफआईआर होगी। कलेक्टर किरण कौशल ने आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में राजस्व, पुलिस और नगर निगम के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक बुलाई और कोरोना वायरस के शहर में फैलाव को रोकने के लिए जरूरी मंत्रणा की। उन्होंने शहर में कोरोना के नियंत्रण के लिए लोगों को कोविड प्रोटोकाॅल का शत प्रतिशत पालन करने की अपील की है।

साथ ही अधिकारियों को शासकीय दिशा-निर्देशों और कोविड प्रोटोकाॅल का उल्लंघन करने वाले लोगों से सख्ती से निपटने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर किरण कौशल ने कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर आवश्यक एहतियाती कदम उठाते हुए कोरबा शहर को आठ सेक्टरों में बांटकर प्रत्येक सेक्टर को एक दूसरे से पृथक रखने के लिए वेरीकेटिंग्स किये जाने के निर्देश दिये हैं। कलेक्टर ने बैठक में निर्देशित किया कि एक सेक्टर को दूसरे सेक्टर से जोड़ने वाली सभी सड़को को बंद कर दिया जाये। दोपहर तीन बजे के बाद इंटर सेक्टर आवागमन को नियंत्रित करने के लिए हर जरूरी इंतजाम किये जायें। मेडिकल स्टोर्स, राशन, सब्जी बाजार आदि अति आवश्यक सेवाओं के लिए सेक्टर में ही व्यवस्था सुनिश्चित की जायेगी। सेक्टरों को इस तरह से बांटा जायेगा कि उनमें अति आवश्यक सेवाओं की दुकानें पर्याप्त संख्या में रहें ताकि प्रशासन द्वारा निर्धारित समय में भी एक सेक्टर के लोग इन चीजों के लिए दूसरे सेक्टर में न जाएं। कलेक्टर ने दोपहर तीन बजे के बाद अति आवश्यक सेवाओं के लिए ही सेक्टर से बाहर जाने वाले लोगों को अनुमति देने के निर्देश दिए। उन्होंने बेवजह घूमने वाले लोगों पर इंटर सेक्टर आवागमन करने पर कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश अधिकारियों को दिये हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804