GLIBS
01-07-2020
गीदम जावंगा के सामने बड़ा हादसा : वाहन की चपेट में आई 7 गाय, 3 की मौत

गीदम। एजुकेशन हब गीदम जावंगा के सामने हाईवे पर अज्ञात वाहन ने 7 गायों को कुचलते हुए फरार हो गई। वाहन की चपेट में आने के कारण 3 गायों की मौत हो गई। वहीं चार गाय बुरी तरह घायल हो गई।

30-06-2020
ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार बुजुर्ग की मौत, एक घायल

आरंग। ग्राम पारागांव में सोमवार की दोपहर 3 बजे निसदा मोड़ के पास हुए सड़क हादसे में एक बुजुर्ग की मौत हो गई। इस घटना के बारे में आरंग थाना प्रभारी एल.डी. दीवान ने बताया कि ग्राम निसदा के रहने वाले चंदूलाल साहू और भगवानी निषाद घर के लिए सामान खरीदने के लिए मोटर सायकल क्रमांक CG 06 GA 4159 से आरंग आए हुए थे। इसके बाद वे अपने गांव निसदा वापस जा रहे थे कि पारागांव में निसदा मोड़ हाइवे पर मुड़ते समय इट से लदे हुए तेज रफ्तार ट्रैक्टर ने बाइक को अपने चपेट में ले लिया और सड़क किनारे अनियंत्रित होकर पलट गया। घटना के बाद टैक्टर चालक मौके से फरार हो गया।

हादसे में बाइक के पीछे बैठे बुजुर्ग चंदूलाल के सिर का हिस्सा हाइवे में बिखर गया। मौके पर ही उनकी मौत हो गई और बाइक चालक भगवानी निषाद गंभीर रूप से घायल हो गया। घटना के बाद घायल को तत्काल आरंग के सरकारी हॉस्पिटल लाया गया जहां उनका इलाज चल रहा है। मृतक के बेटे के रिपोर्ट पर आरंग पुलिस ने घटना में फरार आरोपी ट्रैक्टर चालक के खिलाफ आईपीसी की धारा 279, 304(A) और 337 के तहत अपराध दर्जकर उसकी तलाश कर रही है और मृतक के शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया है।

22-06-2020
कार की टक्कर से अधेड़ की मौत

रायपुर। जिले के अभनपुर थाना क्षेत्र में रविवार की रात में अज्ञात कार ने एक अधेड़ को अपनी चपेट में ले लिया, जिससे उसकी मौत हो गई। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मृतक चंद्रपाल सिंह पिता कुंवरपाल 52 वर्ष निवासी नायकबंधा अभनपुर को कल रात करीब 8.50 बजे बैंक ऑफ बड़ौदा अभनपुर के पास अज्ञात कार ने टक्कर मारकर फरार हो गया, जिससे चंद्रपाल की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस ने मृतक के भाई सुरेन्द्र सिंह की रिपोर्ट पर आरोपी अज्ञात कार चालक के खिलाफ धारा 304ए के तहत मामला दर्ज कर उसका पता लगाने का प्रयास कर रही है।

18-06-2020
Video: एम्पलाई घायल हुआ तो कंपनी ने रोकी तनख्वाह, पत्नी इलाज के लिए लगा रही गुहार

अम्बिकापुर। अदानी कंपनी के रेगुलर एम्पलाई विनोद द्विवेदी की 2019 में सड़क दुर्घटना हुई थी। सड़क दुर्घटना में विनोद द्विवेदी गंभीर रूप से घायल हुआ था। उसके सिर में गहरी चोट आई थी। उपचार अंबिकापुर तथा रांची के हॉस्पिटल में चल रहा था। शुरुआत के 5 महीने कंपनी के द्वारा इलाज के लिए मदद की गई तथा तनख्वाह भी नियमित  दी जा रही थी। इससे उपचार में मदद मिल रही थी। मरीज अभी भी कोमा में है। परंतु विगत 2 माह से कम्पनी द्वारा उसका तनख्वाह भी रोक दी गई है। विनोद द्विवेदी की पत्नी पति का इलाज कराने तथा वेतन चालू करने की मांग को लेकर कम्पनी के जीएम से बातचीत करना चाह रही है।

परंतु कम्पनी के लोगों द्वारा उसे चेक पोस्ट से अंदर नही जाने दिया जा रहा है।अदानी कम्पनी के द्वारा रेगुलर कर्मचारी को इलाज के अभाव में इस तरह छोड़ दिये जाने से कम्पनी में कार्य करने वाले लोगों के भीतर आक्रोश पनप रहा है।बीमार पति बिस्तर पर पड़ा है और पत्नी बच्चे को लेकर हक की लड़ाई के लिए 24 घंटे से अदानी चेक पोस्ट के सामने खड़ी है।

10-06-2020
प्रवासी मजदूरों से भरी बस ने बाइक सवार को मारी टक्कर, घटनास्थल पर ही युवक की मौत

कोरबा। कटघोरा थाना क्षेत्र अंतर्गत तानाखार मुख्य मार्ग पर प्रवासी मजदूरों से भरी बस ने विपरीत दिशा से आ रहे बाइक सवार CG 12 M 4096 को जोरदार टक्कर मार दी। टक्कर इतनी जबरजस्त थी कि बाइक सवार की मौके पर ही मौत हो गई। कटघोरा पुलिस ने बस ड्राइवर और परिचालक को थाने में लाकर उनसे पूछताछ की जा रही है। आरोपी चालक का नाम चुन्नीलाल है। पुलिस ने बाइक सवार मृतक के शव को कटघोरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भेज दिया गया है। आरोपी बस चालक से पूछताछ में जानकारियां मिली है कि महाराष्ट्र पासिंग की बस MH48 A 8496 जो कि झारखंड के गढ़वा से नागपुर जाने के लिए रवाना हुई थी।

बस में 26 मजदूर सवार है और सभी सकुशल है। इस हादसे में अपनी जान गवाने वाले बाइक सवार का नाम कृष्णा बिंझवार बताया जा रहा है। जो कि पास के ही गांव बरपाली का रहने वाला है। जानकारी के मुताबिक कृष्णा कटघोरा से चिकन लेकर वापस अपने घर लौट रहा था। इसी दौरान तानाखार के पास अनूप ढाबा के नजदीक यह घटना घटी। बस की टक्कर से कृष्णा के सिर मे गंभीर चोट लगने के कारण अत्यधिक रक्त श्राव के कारण उसकी घटना स्थल पर ही मौत हो गई। आरोपी बस ड्राइवर ने बताया कि दुर्घटना वाली जगह पर सड़क बिल्कुल सीधी है उसके बस की रफ्तार 45 किलोमीटर प्रति घंटा के आसपास थी तभी कटघोरा की ओर से बेहद तेज रफ्तार में एक बाइक सवार आते हुए दिखा। बाइक की रफ्तार 80 KM.के आसपास थी।

वह अपने दिशा को छोड़ विपरीत दिशा से आगे बढ़ रहा था। मोटरसाइकिल को बचाने ड्राइवर ने बस दूसरी दिशा में ले लिया लेकिन मोटरसाइकिल की रफ्तार तेज होने से कृष्णा ने बाइक अचानक मोड दी और फिर मोटरसाइकिल सीधे बस के सामने हिस्से से जा टकराई। इससे यह घटना घटित हुई बस में सवार सभी मजदूर महाराष्ट्र के हैं और सभी झारखंड के गढ़वा से वापस महाराष्ट्र की ओर जा रहे थे। घटना के बाद कटघोरा पुलिस ने बस को अपने कब्जे में ले लिया फिलहाल बस कटघोरा थाने में खड़ी है। आरोपी ड्राइवर के खिलाफ मामला पंजीबद्ध किया गया है। कटघोरा पुलिस बस के मालिक से संपर्क करने का प्रयास कर रही है। बस को उसके गंतव्य के लिए छोड़ा जाए अथवा मजदूरों को किसी अन्य बस से भेजा जाए इस पर अभी विचार किया जा रहा है। फिलहाल पुलिस ने सुरक्षा को देखते हुए मजदूरों को बस से नहीं उतरने दिया है।

03-06-2020
सड़क दुर्घटना में घायल मरीज का फेफड़ा और दिल बाहर आया, टाइटेनियम की नई पसली बनाकर दिया नया जीवन

रायपुर। पं.जवाहर लाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय से संबद्ध डॉ. भीमराव अम्बेडकर स्मृति चिकत्सालय के एडवांस कार्डियक इंस्टीट्यूट के अंतर्गत संचालित कार्डियोथोरेसिक एवं वैस्कुलर सर्जरी विभाग के डॉक्टरों ने सड़क दुर्घटना में घायल एक 23 वर्षीय युवक की जटिल सर्जरी करके दुर्घटना में टूटकर चकनाचूर हो चुकीं पसलियों की जगह टाइटेनियम की नई पसली लगाकर नया जीवन प्रदान किया। यह हादसा इतना दर्दनाक था कि मरीज के फेफड़े एवं हृदय तक बाहर निकल आये। एसीआई के हार्ट, चेस्ट, वैस्कुलर सर्जरी विभागाध्यक्ष डॉ. कृष्णकांत साहू, डीकेएस के प्लास्टिक सर्जन डॉ. कृष्णानंद ध्रुव एवं टीम के नेतृत्व में इस नवयुवक का इलाज हुआ। डॉक्टरों ने इस आधुनिकतम सर्जरी में दुर्घटना के कारण क्षतिग्रस्त पसली की जगह में टाइटेनियम प्लेट की सहायता से नई पसली का निर्माण किया। सर्जरी इतनी सफल रही कि मरीज को अपेक्षाकृत बेहद कम समय में ही वेंटिलेटर से बाहर निकाल लिया गया।


 22 एवं 23 मई की दरम्यानी रात एक आइल डिपो में काम करने वाला चरौदा निवासी 23 वर्षीय नवयुवक अपने मित्र के साथ मोटर सायकल पर आरंग की ओर जा रहा था। तभी तेज़ रफ़्तार से आती हुई ट्रक ने जोर से ठोकर मारी,जिससे मोटर सायकल चालक ट्रक के नीचे राड में फंसकर घसीटता चला गया,जिससे कारण उसके बायें फेफड़े की पसलियां पूरी तरह चकनाचूर हो गईं। पसली का टुकड़ा बाहर रोड में बिखर गया। चोट इतनी गहरी थी कि मरीज का फेफड़ा एवं दिल छाती से बाहर आ गया। घायल युवक को संजीवनी 108 एम्बुलेंस की सहायता से मेकाहारा के ट्रामा सेंटर में लाया गया। यहां आपातकाल में उपस्थित डॉक्टरों द्वारा उपचार किया गया। हादसे में खून बहुत बह चुका था इसलिये उसको खून चढ़ाया गया। मरीज की हालत को हीमोडायनामिकली स्थिर ( Hemodynamically stable / जीवन रक्षक उपकरणों की सहायता से हृदय एवं रक्त वाहिकाओं में रक्त प्रवाह एवं सामान्य अंगों को स्थिर बनाये रखने की प्रक्रिया) किया गया।

मरीज की स्थिति को देखते हुए आपात चिकित्सा से फौरन हार्ट एवं चेस्ट सर्जन डॉक्टर कृष्णकांत साहू को सूचना दी गई। डॉ. साहू ने मरीज की स्थिति को भांपकर तुरंत ऑपरेशन की योजना बनायी। इस ऑपरेशन में उन्होंने डीकेएस के प्लास्टिक सर्जन डॉ. कृष्णानंद ध्रुव को शामिल किया क्योंकि छाती में पसली के साथ-साथ चमड़ी में बहुत बड़ा गेप था,जिसको सामान्य तरीके से नहीं भरा जा सकता था। इसके लिये प्लास्टिक सर्जन का होना जरूरी है। मरीज का सीटी-स्कैन कराकर अंदरूनी चोटों को देखा गया। स्थिति स्थिर होने पर उसको ऑपरेशन थियेटर में ले जाया गया एवं बहुत ही हाईरिस्क एवं डेथ ऑन टेबल कंसेट लिया गया। मरीज के ऑपरेशन में जो पसलियां (6-7-8-9-10-11) गायब हो गयी थी उसके स्थान पर डॉ. कृष्णकांत साहू ने टाइटेनियम की नई पसली बनाई। पसली बनाने के लिये लगभग 15-17 सेंटीमीटर लम्बाई की चार टाइटेनियम प्लेट का उपयोग किया गया। ऑपरेशन से पूर्व घाव को धोकर अच्छी तरह से साफ किया गया क्योंकि फेफड़े के अंदर बहुत ज्यादा मिट्टी एवं कंकड़ घुस गया था।

बायें फेफड़े में छेद हो गया था एवं फट गया था,जिसको रिपेयर किया गया। डायफ्रॉम भी फट गया था इसे भी रिपेयर किया गया। इस ऑपरेशन में सबसे बड़ी समस्या घाव को बंद करने की थी क्योंकि दुर्घटना में छाती की चमड़ी कट कर गायब हो गयी थी,जिसको प्लास्टिक सर्जन डॉ. ध्रुव ने आस-पास की चमड़ी एवं मांसपेशियों को मोबलाइज (Mobilize) करके छाती में आये गेप को भरा। टाइटेनियम प्लेट का उपयोग करने से मरीज वेंटीलेटर से जल्दी बाहर आ गया एवं छाती बेडौल होने से बच गयी। कृत्रिम पसली नहीं लगायी जाती तो मरीज को वेंटीलेटर से बाहर निकालना बहुत ही मुश्किल हो जाता। ऑपरेशन में चार घंटे से ज्यादा का समय लगा एवं तीन यूनिट रक्त मरीज को लगा। आज मरीज पूर्णतः स्वस्थ्य होकर डिस्चार्ज होने वाला है। इस सर्जरी में रेडियोडायग्नोसिस विभाग की भूमिका भी महत्वपूर्ण रही। एसीआई में सभी प्रकार की आधुनिकतम पद्धति से फेफड़ों एवं खून की नसों का उपचार होने लगा है। निकट भविष्य में ओपन हार्ट सर्जरी एवं बायपास सर्जरी प्रारंभ होने की संभावना है।

टीम में ये रहे शामिल :

हार्ट,चेस्ट एवं वैस्कुलर सर्जन डॉ.कृष्णकांत साहू(विभागाध्यक्ष),डॉ.निशांत चंदेल, डॉ.अश्विन जैन (सर्जरी रेसीडेंट), प्लास्टिक सर्जन-डॉ. कृष्णानंद ध्रुव, एनेस्थेटिस्ट एवं क्रिटिकल केयर-डॉ. अरुणाभ मुखर्जी एवं टीम, नर्सिंग स्टॉफ- राजेन्द्र, चोवाराम।

31-05-2020
सड़क हादसे में एक की मौत, एक गंभीर रूप से घायल

दंतेवाड़ा। जिले में सड़क दुर्घटना में एक युवक की मौत हो गई और एक घायल हो गया। रविवार को कुआकोंडा विकासखंड में नकुलनार मोड़ पर दो बाइक सवार दुघर्टना का शिकार हो गए। इसमें एक की मौत और एक गंभीर रूप से घायल हुआ है। घटना कुआकोण्डा थाना क्षेत्र की है। दुर्घटना किस वजह से हुई अभी जानकारी नहीं मिल पाई है। मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है।जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और घायल युवक को अस्पताल भेज गया और दूसरे की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही कुछ जानकारी दी जा सकेगी।

20-05-2020
दर्दनाक सड़क हादसे में एक युवक की मौत, पुलिस पहुंची मौके पर

धमतरी। शहर के एक सड़क दुर्घटना में एक युवक की मौके पर ही मौत हो गई। बताया जा रहा है कि अशोक मुलवानी नाम है जो कि कुछ काम से कहीं जा रहा था। इसी दरम्यान अधारी नवागांव की मोड़ के पास अचानक गाड़ी फिसल जाने से वह रोड पर गिर गया और पीछे से आ रही आईसर ट्रक के चपेट ने उसे अपने चपेट में लिया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। मिली जानकारी के अनुसार मृतक अशोक मूलवानी शांति कॉलोनी का रहने वाला था। इधर सूचना मिलते ही यातायात और कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंच स्थिति को संभाला।

20-05-2020
इटावा में ट्रक ने पिकअप वाहन को मारी टक्कर 6 सब्जी विक्रेताओं की मौत, 1 की हालत गंभीर

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में इटावा के फ्रेंड्स कॉलोनी थाना क्षेत्र में ट्रक की चपेट में आने से पिकअप वाहन पर सवार छह सब्जी विक्रेताओं की मौत हो गई जबकि एक गंभीर रूप से घायल हो गया। बताया जा रहा है कि पक्के बाग के पास मंगलवार और बुधवार की मध्य रात्रि के करीब यह हादसा उस समय हुआ जब एक तेज रफ्तार ट्रक डिवाइडर तोड़ते हुए सड़क के दूसरी ओर आ गया और विपरीत दिशा से जा रहे कटहल लदे पिकअप वाहन पर पलट गया।

इस हादसे में पिकअप पर सवार छह सब्जी विक्रेताओं की मौके पर ही मृत्यु हो गई जबकि गंभीर रूप से घायल एक विक्रेता को डॉक्टर भीमराव अंबेडकर राजकीय संयुक्त चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। सूत्रों ने बताया कि मरने वाले और घायल सभी सब्जी बेचने वाले बकेवर थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं। पुलिस ने हादसे को अंजाम देने वाले ट्रक को पकड़ लिया है। उसके चालक और मालिक के खिलाफ कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जा रही है।

19-05-2020
फिर 7 मजदूरों की सड़क हादसों में मौत, कई घायल, आखिर क्यों ट्रकों पर सवार होकर बेमौत मरने पर मजबूर है मजदूर?

रायपुर। फिर 7 मजदूरों ने सड़क हादसों में अपनी जान गवा दी। एक दर्जन से ज्यादा मजदूर गंभीर रूप से घायल होकर अस्पताल में भर्ती है। बीती रात महोबा यवतमाल और मुंबई में सड़क हादसे हुए। यवतमाल और मुंबई में तो बसों में सवार थे मजदूर पर महोबा में एक बार फिर ट्रक पर सवार 3 मजदूरों ने जान गवा दी और एक दर्जन से ज्यादा मजदूर बुरी तरह घायल हो गए है।

अब सवाल यह उठता है सरकारी राहत रेल सेवा व राहत बस सेवा शुरू होने के बावजूद मजदूर ट्रकों पर सवार क्यों हो रहे है? क्या सरकार की राहत रेल व बस सेवा पर्याप्त नहीं है? क्या मजदूरों को सरकारी राहत सेवाओं पर भरोसा नहीं है? क्यों मजदूर ट्रकों पर सवार होकर अपने ठिकाने वापस लौटने के लिए मजबूर है? आखिर कुछ ना कुछ तो वजह होगी जो मजदूर ट्रकों पर सवार होकर वापस लौट रहे हैं? मजदूर सरकारी अपील सरकारी सख्ती के बावजूद आज भी पैदल सड़क पर चलते नजर आ रहे हैं। कहीं ना कहीं तो प्रशासनिक चूक होगी या फिर सरकारी अनदेखी वरना इस तरह कोई सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलने पर मजबूर नहीं होता। कोई ट्रकों में जानवरों की तरह सफर करने को मजबूर नहीं होता। कहीं न कहीं तो कोई चूक हो ही रही होगी जिस पर विराम लगाना बहुत जरूरी है अन्यथा सड़क हादसों के आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे समय में जब हाईवे पर ट्रैफिक करीब-करीब बंद है सारे देश में जरूरी सेवा छोड़ सभी वाहनों की आवाजाही पर रोक लगी हुई है तब इस तरह भीषण दुर्घटनाएं सड़क दुर्घटनाएं होना बेहद चिंता का विषय है।

16-05-2020
घर वापस लौट रहे 23 मजदूरों की औरैया में भीषण सड़क दुर्घटना में मौत 15 बुरी तरह घायल

औरैया/रायपुर। उत्तर प्रदेश के औरैया में भीषण सड़क दुर्घटना हुई है। मजदूरों से भरी ट्रक हादसे का शिकार हो गई। इस भीषण सड़क दुर्घटना में ट्रक की अन्य गाड़ी से टक्कर हुई और 23 मजदूरों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। 15 मजदूर बुरी तरह घायल हुए हैं, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दुर्घटना इतनी भीषण थी कि 23 मजदूरों को समझने का मौका ही नहीं मिला और वे घटनास्थल पर ही मौत के मुंह में समा गए। घर वापस जाने के लिए ट्रकों में भरकर निकले मजदूर घर तो नहीं पहुंच पाए अलबत्ता जिंदगी की अंतिम मंजिल मौत के मुंह में समा गए। घर वापस लौटते मजदूरों की सड़क दुर्घटना में मौत की यह कोई पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी इस तरह की दुर्घटनाएं हो चुकी है। सारे मजदूर दिल्ली में काम कर रहे थे और अपने घर वापस गोरखपुर जा रहे थे लेकिन रास्ते में ही औरैया में उनकी मौत हो गई।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804