GLIBS
15-03-2020
मध्यप्रदेश : 16 मार्च को होगा फ्लोर टेस्ट, मौजूदा सरकार को साबित करना होगा बहुमत

भोपाल। मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने कहा कि मध्यप्रदेश विधानसभा में 16 मार्च को कांग्रेस सरकार का शक्ति परीक्षण होगा। राजनीतिक उथल-पुथल के बीच भाजपा ने राज्यपाल लालजी टंडन को ज्ञापन सौंप कर 16 मार्च से पहले ही विधानसभा का सत्र बुलाकर कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस नीत सरकार को अविलंब विश्वास मत साबित करने के निर्देश देने की मांग की थी।

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव एवं भाजपा विधायक दल के मुख्य सचेतक नरोत्तम मिश्रा के साथ राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने के बाद बताया,'हमने राज्यपाल से अल्पमत में आई कमलनाथ सरकार को अविलंब विश्वास मत सिद्ध करने के निर्देश देने की मांग की है।" उन्होंने कहा,'हमने राज्यपाल से यह भी अनुरोध किया है कि विश्वास मत पर मतदान ध्वनि मत से ना होकर डिवीजन एवं बटन दबाकर किया जाए तथा सदन की सारी कार्यवाही की वीडियोग्राफी की जाए।" गौरतलब है कि मध्यप्रदेश के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिधिंया के कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल होने के बाद प्रदेश कांग्रेस के 22 विधायकों ने त्यागपत्र भेजा था। सिंधिया समर्थक विधायकों के कथित तौर पर कांग्रेस से बागी होने से मध्यप्रदेश में कमलनाथ के नेतृत्व वाली कमलनाथ सरकार संकट में आ गई है। 

13-03-2020
ज्योतिरादित्य सिंधिया ने राज्यसभा के लिए भरा नामांकन, शिवराज और प्रभात झा रहे मौजूद

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश में तीन राज्यसभा सीटों के लिए सियासी जंग जारी है। देश के अलग-अलग राज्यों की 55 सीटों पर हो रहे राज्यसभा चुनाव के लिए शुक्रवार को नामांकन का आखिरी दिन है। कांग्रेस का साथ छोड़कर भाजपा में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शुक्रवार को भोपाल से राज्यसभा के लिए अपना नामांकन भरा। सिंधिया के पर्चादाखिला के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, राज्यसभा सांसद प्रभात झा, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव मौजूद रहे। भाजपा में शामिल होते ही सिंधिया को मध्यप्रदेश से राज्यसभा के लिए प्रत्याशी घोषित कर दिया गया। वहीं कांग्रेस ने उनके खिलाफ पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को अपना उम्मीदवार बनाया है। मध्यप्रदेश से राज्यसभा की तीसरी सीट के लिए भाजपा और कांग्रेस में कांटे की टक्कर दिखाई दे रही है। कांग्रेस ने फूल सिंह भारिया तो भाजपा ने सुमेर सिंह सोलंकी को अपना प्रत्याशी घोषित किया है। 

 

04-03-2020
माफियाओं का सहारा लेकर सरकार को अस्थिर कर रही भाजपा : कमलनाथ

भोपाल। मध्यप्रदेश में जारी सियासी हलचल के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि भाजपा उनकी सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रही है। कमलनाथ ने कहा, हमारे पास पूर्ण बहुमत है, बजट के दौरान और उससे पहले स्पीकर और डिप्टी स्पीकर के चुनाव के वक्त हम ये साबित कर चुके हैं। इसके बावजूद भारतीय जनता पार्टी माफियाओं का सहारा लेकर हमारी सरकार को अस्थिर करने की असफल कोशिश कर रही है। कांग्रेस की ओर से कहा गया है कि भाजपा मध्यप्रदेश में उसकी सरकार को गिराना चाहती है। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि दस विधायकों को भाजपा गुरुग्राम में एक होटल में भी ले गई है।

वहीं भाजपा ने इन आरोपों का खंडन किया है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि यह कांग्रेस का अपने घर का मामला है, उन्हें हमपर आरोप नहीं लगाने चाहिए। बता दें कि मध्यप्रदेश की 230 सदस्यों वाली विधानसभा में वर्तमान में 228 सदस्य हैं। कांग्रेस के पास 114 विधायक हैं। वहीं उसे 4 निर्दलीय, 2 बसपा और 1 सपा विधायक का भी समर्थन है। भाजपा के पास 107 विधायक हैं।

 

02-03-2020
दिग्विजय ने लगाया भाजपा पर घूस देने का आरोप,शिवराज ने कहा सनसनी फैलाना दिग्गी राजा की पुरानी आदत

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने यह कहकर मध्यप्रदेश के सियासी गलियारों में हलचल मचा दी कि भाजपा खुलेआम कांग्रेस के विधायकों को 25-35 करोड़ में खरीदने का ऑफर दे रही है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी दिग्विजय सिंह के इस आरोप का जवाब देते हुए कहा है कि झूठ बोलकर सनसनी फैलाना दिग्विजय सिंह की पुरानी आदत है।

खबर है कि पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मध्यप्रदेश की विपक्षी पार्टी भाजपा के शिवराजसिंह चौहान, नरोत्तम मिश्रा आदि ने मिलकर 15 साल तक प्रदेश को लूटा और अब कांग्रेस के विधायकों की खरीद फरोख्त की कोशिश कर रहे हैं। ये लोग कांग्रेस विधायक को खुलेआम 25 से 35 करोड़ रुपए की रिश्वत ऑफर कर रहे हैं। दिग्विजय सिंह के इस बयान पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पलटवार किया है। चौहान ने कहा कि झूठ बोलकर सनसनी फैलाना दिग्विजय सिंह की पुरानी आदत है। यह भी संभव है कि दिग्विजय सिंह यह सब झूठ बोलकर मध्यप्रदेश के मौजूद मुख्यमंत्री कमलनाथ को ब्लैकमेल करके अपना कद बढ़ाना चाहते हो। इसलिए वे इस तरह के आरोप लगा रहे हैं।

 

22-01-2020
भाजपा नेताओं ने कहा, सीएए का समर्थन कर रहे कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट करना संविधान का अपमान

गुना। राजगढ़ क्षेत्र में बुधवार को भाजपा के जंगी प्रदर्शन में प्रदेश के आला नेताओं ने जमकर कांग्रेस पर जमकर हमला बोला। भाजपा नेताओं ने कलेक्टर और डिप्टी कलेक्टर पर मारपीट और तिरंगे का अपमान करने का आरोप लगाते हुए एक शिकायत पुलिस को सौंपी। प्रदर्शन में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने सभा को संबोधित किया। इस दौरान बड़ी संख्या में भाजपा के कार्यकर्ता उपस्थित थे। पूर्व सीएम और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि क्या किसी प्रशासनिक अधिकारी को संविधान अधिकार देता है कि जब चाहे किसी को भी थप्पड़ जड़ दें। क्या कानून आपको इसकी इजाजत देता है। उन्होंने कहा कि इमरजेंसी के दौरान मुझे गिरफ्तार किया गया और लाठियां बरसाई गई तो भी हमें कोई नहीं डरा सका।

भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने राजगढ़ के ब्यावरा में कहा कि मैंने सुना है कि जेएनयू का वायरस यहां भी आ गया है। मुझे जानकारी लगी है कि जेएनयू से पढ़ी महिला ही इस जिले की कलेक्टर है। यहां की जनता जानती है कि वायरस को समाप्त करने के लिए क्या करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि देश विरोधी नारे लगाने की घटनाएं जेएनयू में सामने आती है। वहां पर तिरंगा का विरोध भी किया जाता है। इसलिए यहां पर तिरंगे झंडे को थामे भाजपा कार्यकर्ताओं का अपमान किया गया। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि सीएए का समर्थन कर रहे कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट संविधान और भारत माता का अपमान है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा हमारे कार्यकर्ताओं को जो थप्पड़ मारा गया है वह कमलनाथ सरकार के ताबूत में आखिरी कील होगी। हमारे कार्यकर्ताओं सड़क पर उतरेंगे और संघर्ष जारी रहेगा।

राकेश किरार की रिपोर्ट

 

22-01-2020
कलेक्टर के खिलाफ एफआईआर कराएंगे भाजपा नेता

गुना। राजगढ़ कलेक्टर के खिलाफ भाजपा के वरिष्ठ नेता एफआईआर कराएंगे। इसमें सीएए के समर्थन में भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ हाथापाई मामले में भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता बुधवार को ब्यावरा कलेक्टर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराएंगे। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, राष्ट्रीय महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय, गोपाल भार्गव ब्यावरा पहुंचेंगे। इसमें सभी नेता आमसभा को संबोधित करेंगे।

 

20-01-2020
सीएए समर्थन में रैली निकाल रहे कार्यकर्ताओं को कलेक्टर और डिप्टी कलेक्टर ने मारा थप्पड़

गुना। राजगढ़ की महिला कलेक्टर निधि निवेदिता एवं उनके अधीनस्थ काम कर रहीं डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा ने राजगढ़ जिले के ब्यावरा में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के समर्थन में धारा 144 लगाने के बाद भी रैली निकालने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं को पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों के सामने कथित रूप से रविवार को चांटे मारे। इससे नाराज प्रदर्शनकारियों ने इन दोनों अधिकारियों से भी धक्कामुक्की हुई और डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा की चोटी भी खींची, जिससे उनके बाल बिखर गये। इस सारी घटना के कुछ वीडियो भी वायरल हो गये हैं।

भाजपा ने इन दोनों अधिकारियों द्वारा सीएए के समर्थकों को पीटे जाने पर कहा कि आज का दिन लोकतंत्र के सबसे काले दिनों में गिना जायेगा। वहीं, कलेक्टर निधि से इस बारे में पक्ष जानने के लिए फोन पर बार-बार संपर्क करने का प्रयास किया गया, लेकिन सफलता नहीं मिली। इस घटना के बाद 22 जनवरी को पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव और  भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ कलेक्टर और एसडीएम पर एफआईआर के लिए मांग कर घेराव करेंगे।

राकेश किरार की रिपोर्ट

07-12-2019
पूर्व सीएम ने दी गिरफ्तारी और कमलनाथ सरकार के लिए कही यह बात

सागर। शुक्रवार को यूरिया संकट और भाजपा विधायक प्रदीप लारिया पर दर्ज मुकदमे के खिलाफ भाजपा ने शनिवार को धरना-प्रदर्शन किया। इस दौरान प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गिरफ्तारी भी दी। चौहान के साथ-साथ नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने भी गिरफ्तारी दी। इस दौरान  शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस की कमलनाथ सरकार को चेतावनी दी कि प्रदेश में किसान परेशान हुए तो मंत्रियों को सड़कों पर निकलना बंद कर देंगे। विरोध प्रदर्शन के बाद शिवराज सिंह चौहान समेत सभी टैक्टर पर बैठकर गिरफ्तारी देने पहुंचे। लेकिन मकरोनिया थाना पहुंचने से पहले ही पुलिस ने बैरिकेट लगाकार नेताओं को रोक दिया। बाद में पुलिस ने नेताओं की गिरफ्तारी की घोषणा की और फिर सामूहिक रिहाई की भी घोषणा कर दी। शिवराज सिंह चौहान ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि  एक आदमी लाइन में लगेगा तो एक बोरी खाद मिलेगी। इसलिए पूरा परिवार लाइन में लग जाता है। बेटा, बहू, माता, पिता और 48 घंटे लाइन में लगे रहने के बाद एक बोरी खाद मिलती है तो दिल पर क्या गुजरती है, यह उस किसान से पूछो। उन्होंने कहा कि सीएम कमलनाथ को इसके लिए शर्म आनी चाहिए। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि जो किसान समय पर कर्ज चुकाते थे, वह भी आज कांग्रेस के झूठे वादे के जाल में फंसकर डिफाल्टर हो गए। डिफाल्टर होने की वजह से उन किसानों को सोसायटी से खाद-बीज के लिए ऋण नहीं मिल रहा है।

 

24-11-2019
कैलाश जोशी का निधन एक युग का अंत : शिवराज सिंह

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पार्टी के वरिष्ठ नेता कैलाश जोशी के निधन पर कहा है कि उनके निधन के साथ ही एक युग का अंत हो गया है। चौहान ने रविवार को अपने ट्वीट में कैलाश जोशी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा है कि मध्यप्रदेश की राजनीति को नई दिशा देने वाले, निर्धन और कमजोर की आवाज़, विनम्र एवं मृदुभाषी राजनेता, पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी के अवसान के साथ ही एक युग का अंत हो गया। उन्हें कोटि-कोटि प्रणाम, विनम्र श्रद्धांजलि।

 

04-09-2019
कृष्ण भक्ति में पूर्व सीएम शिवराज सिंह ने पत्नी संग गाया भजन

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने भजन प्रेम के लिए जाने जाते रहे हैं, उन्हें कई मौकों को भजन गाते हुए देखा जा चुका है। बीते दिनों उनका ट्रेन में सफर के दौरान भजन गाते हुए एक वीडियो भी तेजी से वायरल हुआ था। इसे काफी लोगों ने सराहा भी थी। ऐसा ही एक वीडियो अब फिर सोशल मीडिया पर धूम मचा रहा है,जिसमें शिवराज अपनी पत्नी साधना सिंह के साथ भजन गाते नजर आ रहे हैं।

वीडियो जन्माष्टमी का बताया जा रहा है, जिसमें शिवराज कृष्ण के 'बड़ी देर भई नंदलाल' भजन गाते हुए नजर आ रहे है और उनके साथ उनकी पत्नी साधना भी सुर में सुर मिलाती हुई नजर आ रही है। इतना ही नहीं भजन मंडली भी ढोलक, मंजीरे और झांझ से साथ देते हुए नजर आ रही है। ये ऐसा पहला मौका नहीं है कि सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इस तरह कोई भजन गाया हो। इससे पहले भी वह कई मौकों पर भजन गा चुके हैं। अब सोशल मीडिया पर पूर्व सीएम शिवराज का ये वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है।

17-08-2019
अपनी मौत मरेगी जनता को धोखा देने वाली कमलनाथ सरकार : उमा भारती

भोपाल। मध्यप्रदेश में उमा भारती की सक्रियता से सत्ताधारी कांग्रेस और बीजेपी में खलबली है। उमा भारती ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि वो मध्यप्रदेश की राजनीति से न कभी दूर हुईं थी, और ना कभी दूर होंगी। लेकिन पार्टी (बीजेपी) जो जिम्मेदारी देगी उसे वो निभाएंगी। इस दौरान उन्होंने मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार पर जमकर निशाना साधा। उमा भारती ने कमलाथ सरकार पर कहा कि यह कांग्रेस सरकार धोखे से बन गई है और अब जनता खुद को छला हुआ महसूस कर रही है, लेकिन कांग्रेस की कमलनाथ सरकार अपनी ही मौत मरेगी, इसकी हत्या का हम पाप नहीं लेंगे, क्योंकि कांग्रेस की सरकार को कांग्रेस के लोग ही मारेंगे।

साथ ही उमा भारती ने कहा कि हमने अटल जी से सीखा है और हम सत्ता के लोभी नहीं है, लेकिन कांग्रेस के लोग ही अपनी सरकार गिराएंगे। बता दें कि उमा भारती ग्वालियर में अपनी करीबी रिश्तेदार के बेटे से मिलने के लिए ग्वालियर की सिंधिया स्कूल पहुंची थीं, यहां वे लगभग एक घंटे से ज्यादा रही हंै। बहरहाल मध्य प्रदेश की सिसायत में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की बढ़ती दूरियों के बीच उमा भारती की राज्य में सक्रियता बढ़ गई है।  बीते तीन दिनों से वह भोपाल में हैं और उनकी नेताओं से मुलाकात का दौर जारी है। साथ ही वह पार्टी के उन नेताओं के साथ खड़ी होती नजर आ रही हैं, जो किसी न किसी तौर पर मुश्किल में हैं।

11-08-2019
अनुच्छेद 370 : भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह ने पूर्व पीएम पर दिया विवादित बयान...

नई दिल्ली। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को लेकर विवादित बयान दिया है। जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद इस पर प्रतिक्रिया देते हुए शिवराज सिंह चौहान ने जवाहरलाल नेहरू को अपराधी बता दिया। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है, जवाहरलाल नेहरू एक अपराधी है। जब भारतीय सेना कश्मीर में पाकिस्तानी कबीलायों का पीछा कर रही थी तो जवाहरलाल नेहरू ने युद्ध विराम की घोषणा कर दी। उन्होंने कहा, ’कश्मीर के एक तिहाई हिस्से पर पाकिस्तान का कब्जा था। अगर कुछ और दिनों के लिए युद्धविराम नहीं होता तो पूरा कश्मीर हमारा होता। शिवराज सिंह चौहान ने आगे कहा, जवाहरलाल नेहरू का दूसरा अपराध अनुच्छेद 370 था। एक देश में दो-दो निशान, दो विधान, दो प्रधान। यह देश के लिए अन्याय नहीं बल्कि इसके खिलाफ एक अपराध था।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804