GLIBS
12-05-2020
प्रधानमंत्री के संबोधन में ठोस जमीनी सोच, चिंतन नदारद था : मोहन मरकाम

रायपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के देश के नाम संदेश पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने प्रतिक्रिया व्यक्त की है। मरकाम ने कहा कि राष्ट्र के नाम संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा तो की हैै लेकिन लॉक डाउन को भी आगे बढ़ाने की घोषणा की है। इस घोषणा से देश की आम जनता को, किसानों को, पैदल जैसे-तैसे घर पहुंच रहे मजदूरों को, बंद पड़े उद्योगों को क्या मिलेगा? यह आने वाले दिनों में पता चलेगा? लॉक डाउन के चौथे संस्करण में क्या खुलेगा और क्या बंद रहेगा यह भी अभी पता नहीं है? फिलहाल तो यह दिखता है कि कोरोना संकट की भयावहता से जूझने के उपायों पर, इसके लिए देश की तैयारियों पर उनके पास कहने को कुछ नहीं था। बेरोजगार होकर घर लौट रहे श्रमिकों को फिर से रोजगार कैसे मिलेगा इस पर भी वे चुप ही रहे। जिस भाषा में उन्होंने राष्ट्र को संबोधित किया है और जिस विषय पर उन्होंने अपनी बात रखी उससे जाहिर है वे श्रमिकों, किसानों और गरीबों को संबोधित नहीं कर रहे थे। वे महात्मा गांधी के स्वदेशी के एजेंडे पर लौटते हुए दिखे पर विडंबना है कि इसमें अंतिम पंक्ति का व्यक्ति शामिल नहीं दिखा।

आज के संबोधन से एक बात जरूर रेखांकित हुई है वो यह कि नरेंद्र मोदी ने पहली बार स्वीकार किया कि आजादी के बाद देश लगातार आत्मनिर्भर हुआ है। इस तरह से देखें तो यह बात आज खत्म हो गई कि पिछले 70 सालों में कुछ नहीं हुआ। मरकाम ने कहा है कि देश प्रधानमंत्री के आज के संबोधन की ओर बड़ी आशा भरी निगाहों से देख रहा था, लेकिन उन्होंने बड़ी-बड़ी बातें तो की लेकिन देश में सबको निराश किया। लॉक डाउन के परिणाम स्वरूप भूख प्यास रहने की जगह, इलाज और अपने घर गांव प्रदेश पंहुचने की जद्दोजहद में लगे मजदूरों की घर वापसी तक के लिये मोदी के संबोधन में कुछ भी नहीं था। प्रधानमंत्री से आज रात के संबोधन में सड़कों पर चलते लाखों श्रमिक भाइयों-बहनों को उनके घरों तक सुरक्षित पहुंचाने की घोषणा की अपेक्षा भी मोदी ने पूरी नहीं की। इसके साथ ही इस संकट के समय में सहारा देने के लिए सभी मजदूरों के खातों में कम से कम 7500 रुपए का सीधा हस्तांतरण पर भी कोई भी ठोस घोषणा नहीं की।

10-05-2020
नरेंद्र मोदी 11 मई दोपहर 3 बजे करेंगे सभी मुख्यमंत्रियों से बात

नई दिल्ली। देश में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण के बीच खबर है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कल यानी 11 मई को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात करेंगे। पीएम मोदी  यह बैठक वीडियो कांन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कल दोपहर 3 बजे करेंगे। अनुमान है कि इस बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी 17 मई के बाद देश भर में लॉकडाउन को लेकर आगे की रणनीति तय करेंगे। कोरोना महामारी को लेकर लॉक डाउन की घोषणा होने के बाद से लेकर अब तक पीएम नरेंद्र मोदी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से तीसरी बार वीडियो कांन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बात करेंगे।

देश में जिस तरह तेजी से कोरोना संक्रमण बढ़ता जा रहा है, उसे देखते हुए पीएम मोदी सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से आगे महामारी से लड़ने को लेकर तैयारी पर भी अपडेट जानकारी ले सकते हैं। बता दें कि देश में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। देश में जारी लॉकडाउन के बावजूद कोरोना से करीब 63 हजार लोग संक्रमित हो चुके हैं। वहीं 2100 से ज्यादा लोगों की अब तक मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा रविवार सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 62,939 हो गई है। 

28-04-2020
भाजपा कार्यकर्ताओं ने कोरोना योद्धाओं का किया सम्मान

 कोरबा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर व भारतीय जनता पार्टी प्रदेश नेतृत्व द्वारा कोरोना वारियर्स के सम्मान के तहत नगर पालिका परिषद दीपका में भाजपाइयों ने दीपका थाना में कोरोना वारियर्स थाना प्रभारी अविनाश सिंह व समस्त स्टाफ पुलिसकर्मी का सम्मान किया।  लॉक डाउन में पुलिसकर्मी,बैंक कर्मचारी, डॉक्टर,पैरामेडिकल स्टाफ संकट की घड़ी में निस्वार्थ सेवा कर रहे हैं। इस अवसर पर दीपक जायसवाल, भारत पटेल,डा. पीयूष जायसवाल, गोविंदा सोमूकर, चक्रधर साहू, राजेश साहू, डॉ.महेद्र तेंदुए, मनोज गुप्ता,आयुष जायसवाल उपस्थित थे।

 

09-04-2020
डॉ.रमन सिंह बताएं तबलीगी समाज और मौलाना साद से भाजपा के क्या संबंध हैं ?: कांग्रेस

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह ने कहा कि जनता की ओर से नकार दिए जाने के बाद राज्य की राजनीति में अप्रासंगिक हो चुके डॉ.रमन सिंह इस तरह के बयान देकर किसी भी तरीके से चर्चा में बने रहने का असफल प्रयास कर रहे हैं। दरअसल रमन सिंह में इतना नैतिक साहस नहीं है की तबलीगी जमात को लेकर नरेंद्र मोदी से सवाल पूछ सकें,क्योंकि अगर तबलीगी जमात के माध्यम से कोरोना संक्रमण फैल रहा है तो इसके लिए कोई जिम्मेदार व्यक्ति है तो नरेंद्र मोदी हैं और केंद्र की सरकार है।

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि दरअसल डॉ रमन सिंह को तथ्यों की जानकारी है ही नहीं। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि 15 और 16 मार्च को तबलीगी जमात का कार्यक्रम मुंबई के उपनगर वसई में होने वाला था,जिसे महाराष्ट्र की कांग्रेस नीत सरकार ने अनुमति नहीं दी। केंद्र की सरकार ने निजामुद्दीन दिल्ली में तबलीगी जमात के मरकज के आयोजन को इजाजत कैसे दी और अगर इजाजत नहीं दी तो इसे रोका क्यों नहीं ? निजामुद्दीन मरकज के बाजू में निजामुद्दीन पुलिस स्टेशन है इसके बावजूद पुलिस ने इस प्रोग्राम को रोका क्यों नहीं क्या इसके लिए गृह मंत्रालय और केंद्रीय सरकार जिम्मेदार नहीं हैं ? किसके कहने पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रात को 2 बजे मरकज में मौलाना साद से मिलने गए थे रमन सिंह को यह नाम भी बताना चाहिए? किस के गुप्त निर्देशों पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार तबलीगी जमात के मुखिया मौलाना साद के साथ गुप्त मंत्रणा कर रहे थे और उस मंत्रणा में क्या चर्चा हुई ? आखिर क्या वजह है कि ना तो राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और ना ही दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने मौलाना से इस मुलाकात के बारे में कोई बयान दिया केंद्र सरकार भी संदेहास्पद चुप्पी साध के बैठी हुई है। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार से मिलने के दूसरे दिन बाद मौलाना कहां फरार हो गए और दिल्ली पुलिस उनके बारे में अभी तक कोई जानकारी क्यों नहीं लगा पा रही है क्या उन्हें किसी का संरक्षण प्राप्त है ? आज तक जितने भी तबलीगी जमात के लोगों को ढूंढ कर निकाला गया है वह राज्य सरकार ने अपने संसाधनों से किया है। सरकार के साथ सहयोग नहीं करने के कारण तबलीगी समाज से संबंधित 17 लोगों के ऊपर कानूनी कार्रवाई की गई है क्या भाजपा शासित किसी राज्य में कोई ऐसी कार्रवाई हुई है? डॉ.रमन सिंह के साथ साथ पूरी भारतीय जनता पार्टी को अब यह भी स्पष्ट करना चाहिए कि तबलीगी समाज और मौलाना साद से भाजपा के क्या संबंध है?

08-04-2020
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना को लेकर विपक्षी नेताओं से कर रहे हैं वीडियो कॉन्फ्रेंस 

नई दिल्ली। कोरोना वायरस मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए विपक्षी नेताओं से बातचीत कर रहे हैं। इस चर्चा में प्रधानमंत्री के साथ गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद हैं। पीएम मोदी के साथ बातचीत में उन सभी दलों के नेता शामिल हैं, जिनके पांच से अधिक सांसद हैं। वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए पीएम मोदी बीजेपी के अलावा कांग्रेस, डीएमके, एआईएडीएमके, टीआरएस, सीपीआईएम, टीएमसी, शिवसेना, एनसीपी, अकाली दल, एलजेपी, जेडीयू, एसपी, बीएसपी, वाईएसआर कांग्रेस और बीजेडी के सांसदों के साथ बातचीत कर रहे हैं।

01-04-2020
कोरोना संकट: नरेंद्र मोदी 2 अप्रैल को करेंगे सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से चर्चा

नई दिल्ली। देश में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या से राज्य से लेकर केंद्र तक में हलचल तेज है। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से विडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर चर्चा करेंगे। इस दौरान वह कोविड-19 से निपटने के लिए राज्यों की तैयारियों का जायजा लेंगे। साथ ही मुख्यमंत्रियों से उनके राज्य में आ रही दिक्कतों और परेशानियों को भी सुनेंगे। बता दें कि भारत में कोरोना के अब तक 1,637 मामले आ चुके हैं। इनमें से 39 की मौत हो गई है। कोरोना के सबसे अधिक संक्रमित मरीज महाराष्ट्र से हैं। यहां अब तक 320 कोरोना संक्रमित सामने आ चुके हैं जबकि 9 की मौत हो चुकी है। इसके अलावा देश के अंदर कोरोना वायरस के कई हॉटस्पॉट भी बनकर तैयार हो गए हैं जो खतरे से कम नहीं। कोरोना से निपटने की तैयारियों को लेकर पीएम मोदी खुद ही फ्रंट फुट से कमान संभाले हुए हैं। इससे पहले उन्होंने मेडिकल प्रफेशनल्स से भी विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की थी।

28-03-2020
कोरोना के खिलाफ लड़ाई में करें आर्थिक सहयोग : नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पिछले 24 घंटे में कोरोना के 149 मामले सामने आने के साथ ही देश में अब कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 873 हो गई है। लेकिन, देश ने कोरोना वायरस के खिलाफ पहले ही जंग छेड़ दी है। पूरे देश में लॉक डाउन लागू है। ऐसे में पीएम मोदी ने देशवासियों से कोरोना वायरस के खिलाफ इस जंग में आर्थिक सहयोग देने की अपील की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा, "PM-CARES फंड सूक्ष्म दान को भी स्वीकार करता है। यह आपदा प्रबंधन क्षमताओं को मजबूत करेगा और नागरिकों की सुरक्षा पर अनुसंधान को प्रोत्साहित करेगा। आइए हम अपनी भावी पीढ़ियों के लिए भारत को स्वस्थ और अधिक समृद्ध बनाने में कोई कसर न छोड़ें।" इसके साथ ही इस ट्वीट में पीएम मोदी ने PM-CARES की बैंक डिटेल्ट भी जारी की, जिमें लोग अपनी ओर को आर्थिक योग दान दे सकते हैं।

25-03-2020
नरेंद्र मोदी ने कहा,महाभारत का युद्ध 18 दिन में जीता था,कोरोना को 21 दिन में हराने की कोशिश

 नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को वीडियो कॉनफ्रेंसिंग के जरिए वाराणसी के लोगों से बातचीत की। इस दौरान कहा कि आज काबुल में गुरुद्वारे में हुए आतंकी हमले से मन काफी दुखी है। मैं इस हमले में मारे गए सभी लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं। इसके साथ ही पीएम मोदी,'महाराभारत का युद्ध 18 दिन में जीता था। अब कोरोना से 21 दिन में जीत की कोशिश है।'
इससे पहले मंगलवार को पीएम मोदी ने कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए अभूतपूर्व कदम उठाते हुए पूरे देश में 21 दिनों के लिए लॉकडाउन की घोषित कर दिया, जोकि मंगलवार आधी रात से लागू हो गया। बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र बनारस है और वह दूसरी बार इसी क्षेत्र से जीतकर संसद पहुंचे हैं। प्रधानमंत्री ने बीते दिन कोरोना वायरस के संक्रमण से मुकाबला करने के लिए स्वास्थ्य अवसंरचना को मजबूत करने के लिए 15,000 करोड़ रुपये के केंद्रीय आवंटन का भी ऐलान किया। बीमारी के फैलने के डर से कई राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने पहले ही 31 मार्च तक बंद की घोषणा कर रेल, सड़क और हवाई यातायात को स्थगित कर दिया था। हालांकि, आवश्यक वस्तुओं को देशभर में पहुंचाने के लिए माल की ढुलाई जारी रहेगी। दो राज्यों-पंजाब और महाराष्ट्र तथा एक केंद्रशासित प्रदेश-पुडुचेरी पहले ही अपने यहां कर्फ्यू लगा चुके हैं। 

 

20-03-2020
बॉलीवुड सेलिब्रिटीज ने पीएम मोदी का किया सपोर्ट, 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगाने की अपील

मुंबई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया में महामारी बन चुके कोरोना वायरस पर राष्ट्र के नाम संबोधन में जहां देशवासियों को इसके खतरों से आगाह किया, वहीं बचने के लिए तमाम अहम सुझाव भी दिए। कोरोना के खतरे को मद्देनजर रखकर जनता से 22 मार्च को एक दिन के लिए जनता कर्फ्यू लगाने की अपील की है। इसका बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने समर्थन किया है। उन्होंने सोशल मीडिया पर फैंस से अपील की है कि वो सुरक्षित रहें और सतर्कता बरतें। अमिताभ ने ट्विटर पर लिखा, 'मैं जनता कर्फ्यू का समर्थन करता हूं। 22 मार्च को 7 बजे से रात 9 बजे तक..मैं सभी साथी देशवासियों की सराहना करता हूं, जो इस तरह की विलुप्त परिस्थितियों में आवश्यक सेवाओं को चालू रखने के लिए अथक प्रयास करते हैं। एक रहो, सुरक्षित रहो, प्रभाव में रहो।' अमिताभ के साथ-साथ अजय देवगन, ऋषि कपूर सहित कई बॉलीवुड सेलिब्रिटीज ने कोरोना वायरस से लड़ने में पीएम मोदी का सपोर्ट किया है, लोगों से जनता कर्फ्यू का पालन करने की अपील की है। 

20-03-2020
निर्भया के दोषियों की फांसी पर पीएम मोदी ने कहा- आज हुई न्याय की जीत

नई दिल्ली। 2012 को हुए निर्भया गैंगरेप मामले के चारों दोषियों को 20 मार्च को फांसी दी गई। आखिरकार 7 साल 3 महीने और 3 दिन के बाद निर्भया को इंसाफ मिल गया। अक्षय कुमार, पवन गुप्ता, विनय शर्मा और मुकेश कुमार को शुक्रवार तड़के 5:30 बजे तिहाड़ जेल में फांसी पर लटका दिया गया। दोषियों को फांसी होने के बाद पूरे देश में जश्न का माहौल है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि न्याय हो गया है। वहीं, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि प्रण लें कि निर्भया जैसा दूसरा मामला ना हो।

दोषियों की फांसी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर कहा न्याय हुआ है। महिलाओं की गरिमा और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए इसका अत्यधिक महत्व है। हमारी नारी शक्ति ने हर क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है। हमें मिलकर एक ऐसे राष्ट्र का निर्माण करना है, जहां महिला सशक्तीकरण पर ध्यान दिया जाए, जहां समानता और अवसर पर जोर हो। वहीं, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा सात साल बाद निर्भया के दोषियों को फांसी दी गई। आज एक ऐसा दिन है, जब प्रण लेने की जरूरत है कि अब कोई दूसरी निर्भया न बनें। पुलिस, कोर्ट, राज्य सरकार, केंद्रीय सरकार-सभी यह मिलकर प्रण लें कि हम सिस्टम की खामियों को दूर करेंगे और किसी भी बेटी के साथ ऐसा नहीं होने देंगे।
बता दें कि 16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में चलती बस में पैरामेडिकल की 23 वर्षीय छात्रा से छह दरिंदों ने मिलकर सामूहिक दुष्कर्म करने के बाद उसके साथ ऐसी बर्बरता की जिसने उसकी जान ले ली। आज इसी केस में सात साल बाद इंसाफ मिल गया है। निर्भया के सभी दोषियों को फांसी की सजा हो चुकी है और सात साल का इंतजार भी खत्म हो गया है। जब 2012 में इस केस की जांच शुरू हुई थी तो छह दोषियों में राम सिंह को प्रमुख दोषी पाया गया था। हालांकि उसने अदालत के अंतिम फैसले से पहले साल 2013 में ही फांसी लगा ली थी। 

04-03-2020
पीएम मोदी का बड़ा निर्णय, होली मिलन में नहीं होंगे शामिल

नई दिल्ली। दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस की दहशत के बाद धीरे-धीरे अब यह भारत में भी पैर पसारता जा रहा है। कोरोना की दहशत के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसको लेकर संदेश जारी किया। उन्होंने कहा कि वो इस साल किसी भी होली मिलन समारोह में शामिल नहीं होंगे। प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को कहा कि दुनिया भर में विशेषज्ञों की सलाह है कि नोवेल कोरोना वायरस कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए सामूहिक कार्यक्रमों को कम करना चाहिए। इसलिए इस वर्ष मैंने किसी होली मिलन कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लेने का निर्णय किया है। मंगलवार को प्रधानमंत्री मोदी ने कोविड-19 नोवेल कोरोनावायरस से निपटने की तैयारी का जायजा लिया था। प्रधानमंत्री ने कहा था कि कोविड-19 नोवेल कोरोनावायरस के मद्देनजर तैयारी की गहन समीक्षा की। भारत आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग से लेकर तुरंत चिकित्सा प्रदान करने तक की समस्त गतिविधियों के लिए विभिन्न मंत्रालय मिलकर काम कर रहे हैं और घबराने की कोई जरूरत नहीं है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804