GLIBS
14-12-2019
शराब, पिकनिक से प्रत्याशी पस्त-मतदाता मस्त, 30 वार्डों में कांटे की टक्कर

महासमुन्द। नगर पालिका का चुनाव अब अपने पूरे शबाब पर है। महासमुन्द के पूरे 30 वार्डों में प्रत्याशी अपने-अपने मतदाताओं को अपनी ओर रिझाने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे है। बकरा भात और पिकनिक और शाम सुबह शराब का दौरान चल रहा है। प्रत्याशियों मतदाताओं को अपने पक्ष में मतदान करने के लिए सेवा भाव से जूटे हुए है वहीं शराबी मतदाताओं की चांदी हो गई है। सुबह पंजा, दोपहर कमल और रात्रि में निर्दलीय या अन्य पार्टी के प्रत्याशियों से शाम की व्यवस्था करवा रहे है। कुछ प्रत्याशियों ने महिला मतदाताओं को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए पिकनिट और अन्य तरह के उपहार देने का वादा किया है। सुबह से शाम तक कान फोडू लाऊडस्पीकर बच रहे है वहीं प्रत्याशी पूरे परिवार के साथ डोर टू डोर सम्पर्क कर रहे है। सुबह 9 बजे से लेकर रात्रि 10 बजे तक जनसम्पर्क का काम प्रत्याशियों का चल रहा है। प्रत्याशियों के द्वारा सोशल मीडिया का भी उपयोग बखूबी किया जा रहा है।

अब नगरपालिका चुनाव ने रंग जमा लिया है। वार्ड प्रत्याशी दल बल के साथ मतदाताओं के घरों तक रैलियों के रूप में पहुंच रहे हैं। प्रत्याशियों के परिजन मसलन बीबी बच्चे भी मतदाताओं से अपने पक्ष में मत की अपील कर रहे हैं। प्रत्येक वार्ड में दिन भर बैंड बाजे के साथ जनसम्पर्क जारी है। शहर के हर कोने में रिक्शे, आटो में लाउडस्पीकर से मतों की अपील जारी है। इसके साथ ही वार्ड से बाहर निवासरत मतदाताओं को रिझाने का काम भी शुरू हो चुका है। प्रत्याशी ऐसे मतदाताओं से बकायदा मोबाइल से सम्पर्क साध कर उन्हें मतदान के लिए पहुंचने का न्यौता दे रहे हैं। न्यौता भी ऐसा कि मतदाता को आने जाने का किराया सूद समेत दिया जाएगा। ऐसे मतदाताओं से चिरौरी की जा रही है कि वोट की अपील के लिए आपके घर आया था, पता चला कि आप बाहर रहते हैं। आपका एक वोट मेरे लिए अमूल्य है, कृपया आप 21 दिसंबर को महासमुंद आएं और मतदान जरूर करें। शहर के किसी-किसी वार्ड में मौजूदा वार्डवासियों को बाहर घुमाने का दौर भी जारी है।

हाल ही में वार्ड क्रमांक 29 से एक प्रत्याशी ने वार्डवासियों को डोंगरगढ़ का भ्रमण कराया। वार्ड क्रमांक 14,16 व अन्य वार्डों के निवासियों को चुनाव के पहले पुरी व अन्य पर्यटन स्थल की यात्रा कराई जा रही है। गुरुवार को ही एक टोली ट्रेन से पुरी के लिए रवाना हुई। वहीं वार्ड 17 के मतदाताओं को चंद्रहासिनी का भ्रमण कराया गया। गौरतलब है कि महासमुंद शहर के 30 वार्डों में 43 हजार 391 मतदाता हैं। लेकिन इनमें से करीब 2 हजार 179 वोटर बाहर रहते हैं। इनमें से अधिकांश युवा हैं, जो रायपुर, भिलाई, बिलासपुर या अन्य शहरों में पढ़ाई अथवा जॉब कर रहे हैं। कुछ ऐसे लोग भी हैं, जो अब बाहर रहकर नौकरी कर रहे हैं। कई तो सरकारी नौकरी भी करते हैं। लेकिन अब भी उनका नाम शहर की वोटर लिस्ट में है। ऐसे में वार्ड के पार्षद प्रत्याशी इन्हीं वोटर्स को साधने में लगे हुए हैं। शहर के अधिकांश युवा राजधानी सहित दूसरे शहरों में पढ़ाई कर रहे जो यहां के मतदाता हैं।

सूत्रों की माने तो वार्ड क्रमांक 1 में कुल 1742 मतदाता हैं और इनमें से 100 लोग बाहर हैं। इसी तरह वार्ड 2 में 1640 में से 150, 3 में 1573 में से 55, 5 में 1463 में से 30, 6 में 1382 में से 64, वार्ड 7 में 1392 में से 87, वार्ड 8 में 1420 में से 60, वार्ड 9 में 1296 में से 40 तथा वार्ड 10 में 1922 में से 80  मतदाता शहर से बाहर हैं। इसी तरह वार्ड 11 में 1098 में से 130, 12 में 1317 मं से 33, 13 में 1776 में से 25, वार्ड 14 में 1629 में से 160, वार्ड 15 में 1740 में से 100, वार्ड 16 में कुल 1473 मतदाता हैं लेकिन यहां से करीब 175 अब यहां नहीं रहते। इसी तरह वार्ड क्रमांक 17 में 1281 मतदातओं में से 11, वार्ड 18 में 1769 में से 60, वार्ड 19 में 1352 में से 113, वार्ड 20 में 1243 में 125 मतदाता शहर से बाहर हैं। ठीक इसी तरह वार्ड 21 में 916 में से 17 मतदाता, वार्ड 22 मं 1462 में से 22, वार्ड 23 मं 1506 में से 25, वार्ड 24 में 1205 में से 87, वार्ड 25 में 1217 में से 40, वार्ड 26 में 1555 में से 60, वार्ड 27  में 1390 में से 65, वार्ड 28 में 1411 में से 50, वार्ड 29 में 1714 मं से 45 और वार्ड 30 में 1127 में से 39 मतदाता शहर से बाहर निवासरत हैं। इस तरह शहर के कुल मतदाता 43 हजार 391 में से दो हजार 179 मतदाता बाहर से आकर मतदान करेंगे।

09-12-2019
ग्राहकों की सुरक्षा के लिए एसबीआई जारी करेगा नया चिप वाला कार्ड

नई दिल्ली। देश का सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक आफ इंडिया ने ग्राहकों की सुरक्षा के लिए बड़ा कदम उठाया है। बैंक ने एटीएम कार्डधारियों के लिए सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी साझा की है। इसमें बताया गया है कि बैंक एसकार्ट को बंद करने जा रहा हैं। कार्ड बंद हो जाने के बाद नया कार्ड के लिए एप्लाई करना होगा। बैंक ने कहा कि ग्राहक 31 दिसंबर से पहले ईएमवी चिप और पिन आधारित एटीएम कार्ड के एप्लाई कर सकते हैं। यह चिप वाले एटीएम डेबिट कार्ड बिना किसी चार्ज के फ्री में बनेगा। दरअसल इस बदलाव के पीछे ग्राहकों की सुरक्षा को ध्यान में रखा गया है। वहीं बैंक का यह भी कहना है कि एटीएम डेबिट कार्ड पर किसी भी तरह के फ्रॉड से बचने के लिए ये कदम उठाया गया है।

 

08-12-2019
पहले नाबालिग से किया सामूहिक दुष्कर्म, फिर माँ के साथ मिलकर पीड़िता को जलाया जिंदा

नई दिल्ली। त्रिपुरा में 17 साल की लड़की को कथित तौर पर उसके ब्वॉयफ्रेंड और दोस्तों ने अगवा करके पहले कई दिनों तक सामूहिक दुष्कर्म किया। इसके बाद उसे जिंदा जला दिया गया। शनिवार को 90 प्रतिशत तक जलने की वजह से उसकी मौत हो गई। लड़की पर उसके ब्वॉयफ्रेंड और उसकी मां ने कथित तौर पर आग लगाई थी। यह घटना दक्षिणी त्रिपुरा के शांतिरबजार में शुक्रवार को घटित हुई। पुलिस का कहना है कि लड़की को आरोपी के पड़ोसियों ने बचाया और उसे जीबी पंत अस्पताल में भर्ती कराया। उन्होंने बताया कि ब्वॉयफ्रेंड ने लड़की को पिछले दो महीने से फिरौती के लिए बंदी बनाकर रखा था। जैसे ही लड़की की मौत की खबर फैली, अस्पताल के बाहर लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई और उन्होंने आरोपी लड़के और उसकी मां पर हमला किया।

लड़की के परिवार ने आरोप लगाया कि आरोपी जिसकी पहचान अजॉय रुद्रपाल के तौर पर हुई है, उसने लड़की की रिहाई के लिए 50,000 रुपयों की मांग की लेकिन वह शुक्रवार तक केवल 17,000 रुपये ही दे पाए। जिससे अजॉय नाराज हो गया और उसने लड़की पर आग लगा दी। दक्षिणी त्रिपुरा के पुलिस अधीक्षक जल सिंह मीणा ने कहा, 'मामले के मुख्य आरोपी अजॉय को अस्पताल से गिरफ्तार कर लिया गया और बाद में शांतिरबाजार पुलिस स्टेशन लाया गया। लड़की पर शुक्रवार शाम को आग लगाई गई। जांच जारी है।'

पुलिस का कहना है कि लड़की सोशल मीडिया के जरिए आरोपी से मिली थी। वह दिवाली के बाद उसके साथ भाग गई जब उसने उसे शादी के लिए प्रपोज किया। इसके बाद आरोपी ने फिरौती के लिए कथित तौर पर उसे बंदी बना लिया और अपने दोस्तों के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। पीड़िता की मां का कहना है कि उन्होंने लड़की के गायब होने के बाद पुलिस में शिकायत की थी। जब आरोपी ने पैसों की मांग की तो उन्होंने पुलिस से मदद मांगी लेकिन उन्हें कोई मदद नहीं मिली। लड़की की मां ने आरोप लगाया, 'शुक्रवार की रात को उन्होंने अजॉय की मां को चंद्रपुर आईएसबीटी पर 17,000 रुपये दिए लेकिन वह इससे खुश नहीं हुईं और चेतावनी दी कि यदि पूरी राशि नहीं मिली तो लड़की वापस नहीं मिलेगी। इसी बीच हमें उसका पता मिल गया और हम उस तक पहुंचने वाले थे। हमें सुबह जानकारी मिली की उसपर आग लगा दी गई है और वह अस्पताल में भर्ती है।'

07-12-2019
भोपाल की इस महिला पुलिस अधिकारी ने सोशल मीडिया पर माताओं-पिताओं से की यह अपील

भोपाल। हैदराबाद में डॉक्टर के साथ गैंगरेप की घटना के बाद  भोपाल की एक पुलिस अफसर ने फेसबुक पर पोस्ट लिख हर माता-पिता से एक जरूरी अपील की है। भोपाल की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पल्लवी त्रिवेदी ने सोशल मीडिया पर पोस्ट कर अभिभावकों को कुछ सुझाव दिए हैं।  पल्लवी त्रिवेदी ने लिखा है कि कल निर्भया थी, आज प्रियंका। निर्भया से प्रियंका के बीच हजारों लड़कियां बलात्कार का शिकार हुईं। चुनिंदा केस ही चर्चा में आए, बाकी दूरदराज के कस्बों के केस लोकल समाचार पत्रों की एक कॉलम की खबर बन कर रह गई।  उन्होंने लिखा कि आज मैं एक लड़की, एक जिम्मेदार नागरिक और एक पुलिस अधिकारी होने के नाते कुछ प्रिवेंटिव एक्शन और जरूरी कदम सभी को सजेस्ट करना चाहती हूं, जो हर हालत में हर लड़की और उनके परिजनों तक पहुंचे। उन्होंने सुझाव दिया है कि नाबालिग लड़कियों के केस में पैरेंट्स और स्कूल प्रबंधन की सबसे ज्यादा जिम्मेदारी होती है। नासमझ बच्ची अपने साथ हुई घटना को न ठीक से समझ सकती है और न बता सकती है। इसलिए हर वक्त उसे सुरक्षित निगरानी में रखना बेहद जरूरी है। खासकर पुरुष स्टाफ  जैसे ड्राइवर, सर्वेंट, रिश्तेदार, ट्यूशन टीचर वगैरह के साथ अकेला न छोड़ें और न ही उनसे बच्ची के कपड़े बदलने या नहलाने जैसे कार्य कराएं। उसे तीन साल की उम्र से ही अच्छे और खराब स्पर्श की ट्रेनिंग दें। इसे अपने मौलिक कर्तव्य की तरह निभाएं। किशोर लड़कियों को अकेले निकलने से न रोकें किंतु उसे जरूरी सेफ्टी मेजर्स के बारे में बताएं। उसके साथ रेप के केसेस डिस्कस करें और उसके मोबाइल में वन टच इमरजेंसी नम्बर रखें जो आवश्यक रूप से पुलिस का ही हो। उसके बाद वह परिजनों को कॉल कर सकती है। स्प्रे,चाकू ,कैंची, सेफ्टी पिन, मिर्च पाउडर उसके बैग में अनिवार्य रूप से रहे। यह आदत जितनी जल्द विकसित कर दें, उतना बढिय़ा। इसका डेमो देकर उसे ट्रेंड करवा दें। रिहर्सल आवश्यक है अन्यथा हथियार होते हुए भी घबराहट में उसका उपयोग नहीं हो पाता। वयस्क लड़कियां भी पर्स में ऊपर बताए हुए हथियार अनिवार्य रूप से रखें और जरूरत पडऩे पर बिना घबराए उनके इस्तेमाल में कुशल हो। इन हथियारों के साथ एक तेज आवाज वाली सीटी रखें। अपराध के वक्त तेज शोर से अक्सर अपराधी भाग जाते हैं। अगर कोई ऐसी डिवाइस हो या बन सकती हो जो एक बटन दबाते ही इतना तेज विशेष आवाज का सायरन बजाए जो आसपास के सारे क्षेत्र में गूंज जाए और जिसकी आवाज को सिर्फ  रेप होने की आशंका के रूप में यूनिवर्सल साउंड माना जाए तो कृपया इसकी जानकारी दें और अगर नहीं है और कोई व्यक्ति या कम्पनी इसे बना सकती है तो इसे सभी नागरिकों की तरफ से मेरा आग्रह मानकर बना दें। यह बेहद प्रभावी सिद्ध होगी। पुलिस कंट्रोल रूम व किसी भी पुलिस अधिकारी का नंबर हमेशा अपने पास रखें। और सबसे पहले उन्हें डायल करें। पुलिस की छवि आपके मन में जो भी हो पर याद रखें कि महिलाओं के अपराधों में पुलिस बेहद तत्परता से काम करती है और आपकी सबसे निकट का पुलिस वाहन शीघ्र आपके पास पहुंच जाएगा। पुलिस एप अपने मोबाइल में रखें व अपनी लोकेशन भेजें। अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन जाकर स्टॉफ  व अधिकारियों से परिचय करें। पुलिस वाकई आपकी दोस्त है। यह आप महसूस करेंगी।




 

 

07-12-2019
दुष्कर्म की घटनाओं के लिए अश्लील साईट जिम्मेदार, लगना चाहिए प्रतिबंध : नितीश कुमार

नई दिल्ली। महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने अश्लील साइटों को जिम्मेदार ठहराया है और केंद्र सरकार से मांग की है कि षड्यंत्रकारियों द्वारा बनाए गए सभी इंटरनेट प्लेटफॉर्म को बंद किया जाए जहां बलात्कार के वीडियो क्लिप डाले गए हैं। हैदराबाद गैंगरेप मामले का जिक्र करते हुए नितीश कुमार ने कहा कि वह केंद्र को पत्र लिखकर देश भर में ऐसे सभी साइटों पर प्रतिबंध लगाने की मांग करेंगे। हैदराबाद की घटना के बाद बक्सर और समस्तीपुर जिलों में ऐसी ही घटनाएं सामने आई हैं।

कुमार ने कहा, 'दुर्भाग्यपूर्ण चलन देखने को मिल रहा है। हैदराबाद, बिहार, उत्तरप्रदेश सभी स्थानों पर ऐसी घटनाएं सामने आ रही हैं। मैंने हमेशा सोशल मीडिया और तकनीक के खराब प्रभाव पर आपत्ति जताई है, जबकि इसके लाभ से भी इनकार नहीं किया जा सकता है।' मुख्यमंत्री 'जल जीवन हरियाली यात्रा' के पहले चरण के अंतिम दिन उत्तर बिहार के इस जिले में आए थे। इस यात्रा में पर्यावरण संरक्षण और जलवायु परिवर्तन से लड़ने के संदेश के साथ वह पूरे राज्य की यात्रा करने वाले हैं। उन्होंने कहा कि जब से शराब की बिक्री और उपभोग को प्रतिबंधित किया गया है, कई लोग मुझसे खफा हैं जिनमें कुछ विद्वान भी शामिल हैं। कुमार ने कहा, 'मुझे इन अश्लील साइट के बारे में बताया गया लोग लड़कियों एवं महिलाओं के खिलाफ जघन्य अपराध करते हैं, फिल्म बनाते हैं और इन घिनौने कृत्यों को अपलोड करते हैं। जो लोग इन्हें देखते हैं वे स्वाभाविक रूप से विकृतियों का शिकार हो जाते हैं। मैं युवकों से अपील करता हूं कि इन सबसे दूर रहें।'

 

04-12-2019
टेपकांड मामले में फिरोज पहुंचे एसआईटी दफ्तर

रायपुर। अंतागढ़ टेप कांड  मामले के मास्टर माइंड फिरोज सिद्दीकी बुधवार को एसआईटी दफ्तर पहुंचे। बता दें कि पूर्व में फिरोज सिद्दीकी ने बड़ा बयान दिया था और अंतागढ़ टेप कांड में पूर्व मंत्री राजेश मूणत को निर्दोष बताया था। उन्होंने कहा था कि इस पूरे मामले में राजेश मूणत की कोई भूमिका नहीं है। इससे पहले अंतागढ़ टेप कांड की जांच कर रही एसआइटी की टीम फिरोज सिद्दीकी और अमीन मेमन का वाइस सैंपल लेने गंज थाना परिसर स्थित एसआइटी के कंट्रोल रूम में बुलाया है। इसे लेने के बाद जांच के लिए हैदराबाद स्थित एफएसएल लैब भेज दिया था। इस दौरान अंतागढ़ टेपकांड से जुड़े हुए रसूखदार लोगों के संबंध में पूछताछ हो सकती है।

साथ ही जांच के दौरान अब तक मिले दस्तावेजों का वेरिफिकेशन भी कराया जा सकता है। एसआइटी के आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि अंतागढ़ मामले में फिरोज सिद्दीकी और अमीन मेमन के पास अहम जानकारी है। इसके सामने आने के बाद ही पूरी स्थिति साफ होगी। बता दें कि फिरोज सिद्दीकी द्वारा ही पूरे मामले में स्टिंग ऑपरेशन कर आधा दर्जन से अधिक आडियो और वीडियो टेप बनाए गए हैं। इसका खुलासा वह पहले ही सोशल मीडिया पर कर चुके हैं। लेकिन इसमें से मात्र एक अब तक सामने आया है। इसे वह सार्वजनिक करने के साथ ही एसआइटी को सौंप चुके हैं।

एसआइटी के हाथ लगे महत्पूर्ण साक्ष्य

अंतागढ़ टेपकांड की जांच कर रही एसआइटी टीम के हाथ महत्वपूर्ण साक्ष्य हाथ लगे हैं। इसमें लेनदेन के दस्तावेज,रकम की व्यवस्था,वितरण और इसके लाभांवित होने वाले लोगों के नाम के साथ ही मध्यस्थता निभाने वालों की सूची शामिल है। बताया जाता है कि कांकेर,अंतागढ़, पखांजूर, बांदे सहित अन्य स्थानों से भी जानकारी जुटाई गई है। बता दें कि जांच के दौरान टीम को कागज का एक पन्ना भी मिला है। इसमें प्रदेश के एक बड़े शराब माफिया, बिल्डर और अफसर द्वारा की गई रकम की व्यवस्था और उनकी भूमिका का ब्यौरा दिया हुआ है।

नए एसआइटी प्रभारी करेंगे पूछताछ

अंतागढ़ टेपकांड के लिए गठित एसआइटी प्रभारी नीथू कमल के स्थानांतरण के बाद शेख आरीफ हुसैन जिम्मेदारी सौंपी गई है। वह इस मामले में फिरोज सिद्दीकी से पूछताछ करेंगे। बताया जाता है कि फिरोज सिद्दीकी से मिले टेप को जांच के लिए लैब भेजा गया था। इसकी रिपोर्ट आने के बाद फिरोज को दोबारा बयान देने के लए बुलवाया गया है।

सुरक्षा देने की मांग

छत्तीसगढ़ पुलिस से फिरोज सिद्दीकी ने  सुरक्षा की गुहार लगाई थी। इस संबंध वह पहले ही तात्कालिन एसपी नीथू कमल को ज्ञापन सौंपा चुका है। साथ ही अज्ञात लोगों द्वारा प्राणघातक हमला करने की आशंका जताई थी। बता दें कि अंतागढ़ टेपकांड से जुडी़ हुए सभी महत्वपूर्ण साक्ष्य और आडियो-वीडियो सीडी फिरोज सिद्दीकी के पास है। इसे प्रभावित करने के लिए आरोपी किसी भी हद तक जा सकते है। एसी स्थिति में साक्ष्य प्रभावित होने के साथ ही पूरा मामले में पर्दा पड़ सकता है।

02-12-2019
सारेकुंडा मामले को लेकर विपक्ष ने किया सदन में हंगामा, सभापति ने स्थगित की सदन की कार्यवाही

रायपुर। विधानसभा में शीतकालीन सत्र में सोमवार को प्रश्नकाल के दौरान विपक्ष ने सारेकुंडा का मामला उठाते हुए जोरदार हंगामा किया। सारेकुंडा पर सदन में सवाल सोमवार को पेश किया गया, जबकि इसकी खबर एक दिन पहले ही लीक हो गई थी। रविवार को ज्यादातर सोशल मीडिया पर यह खबर छाई रही, वहीं सोमवार को प्रदेश के प्रमिख अखबारों की हेडलाइन थी। विपक्ष ने विशेषाधिकार हनन की सूचना देते हुए आक्रोश जताया और जोरदार हंगामा किया। सदन में विपक्ष ने सत्तापक्ष को इस मामले में किसी तरह की सफाई पेश नहीं करने दी। बढ़ते हंगामे को देखते हुए सभापति सत्यनारायण शर्मा ने सदन की कार्यवाही को 5 मिनट के लिए स्थगित कर दिया। विधानसभा के जारी शीतकालीन सत्र में यह दूसरी बार है, जब विपक्ष ने विशेषाधिकार की सूचना दी है। इससे पहले आबकारी मंत्री के बयान के बाद ब्रेवरेज कार्पोरेशन के एमडी ने खंडन जारी कर दिया था, जिसे लेकर सदन में विपक्ष ने जोरदार हंगामा किया था।

01-12-2019
कश्मीरी ट्रक ड्राइवर से ट्रैफिक पुलिस ने की मारपीट, छीन लिए 30 हजार रुपए

नई दिल्ली। हरियाणा के फरीदाबाद में ट्रैफिक पुलिसकर्मियों ने एक कश्मीरी ड्राइवर को कथित रूप से पाकिस्तानी कहकर आधे घंटे तक जमकर पीटा। आरोप है कि पिटाई करने के बाद उसके 30 हजार रुपए भी छीन लिए। घटना का किसी ने वीडियो बना लिया। पीड़ित ड्राइवर ने इसे सोशल मीडिया पर शेयर किया तो पुलिस के उच्च अधिकारी एक्टिव हुए और पुलिस आयुक्त के आदेश पर ड्राइवर की शिकायत पर ट्रैफिक पुलिस के ईएएसआई के खिलाफ थाने में भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम और मार पिटाई का केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस बूथ पर तैनात सभी पुलिसकर्मियों व होमगार्ड को तत्काल प्रभाव से वहां से तबादला कर दिया गया। एसीपी तिगांव ने हवलदार व सिपाही पद के चार पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया। साथ ही दो होमगार्डों को वहां से ड्यूटी से हटाकर उनके खिलाफ कार्रवाई के लिए डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट को लिखा गया है। कार्रवाई से विभाग में हड़कंप मच गया। उधर, पुलिस अपने बचाव में पीड़ित ड्राइवर पर चालान का विरोध करते हुए मारपीट करने और सिपाही का गला पकड़ने का आरोप लगा रही है।
जम्मू कश्मीर के कुलगांव जिले के मो.मकबूल ट्रक ड्राइवर हैं। 13 नवंबर को वह कश्मीर से ट्रक में सेब लोडकर कोलकाता के लिए निकला था। उनके साथ दो अन्य साथी भी थे। कोलकाता में सेब उतारकर 21 नवबंर को वह एचएमटी का माल लोड कर हाईवे के रास्ते श्रीनगर जा रहा था। शुक्रवार सुबह वह छांयसा थाना क्षेत्र के मौजपुर टोल प्लाजा के पास पहुंचे तो ट्रैफिक पुलिसकर्मियों ने उसे रोककर पहले ट्रक का 18 हजार रुपए का चालान किया। फिर 30 हजार रुपए छीन लिए। इस दौरान पुलिस कर्मियों ने उन्हें आधे घंटे तक जमकर पीटा।

01-12-2019
हैदराबाद मामला : आरोपी की मां ने कहा, 'नहीं करूंगी बेटे का बचाव', उसे फांसी दो या जला दो

हैदराबाद। डॉक्टर के निर्मम रेप और हत्याकांड के आरोपियों के परिवारों ने कहा कि उनके बेटों को अगर मौत की सजा दी जाती है तो वे विरोध नहीं करेंगे। एक आरोपी की मां ने यह भी कहा है कि जैसा पीड़िता के साथ किया गया, वैसे ही आरोपियों को जला देना चाहिए। हैदराबाद के इस कांड ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है। सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक पीड़‍िता डॉक्‍टर के हत्‍यारे को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग उठ रही है। मामले में चार में से एक आरोपी सी.केशवुलु नारायणपेट जिले के मकठल मंडल के गुडीगांडला गांव का निवासी है। उसकी मां श्यामला ने कहा है, 'उसे फांसी दे दीजिए या जला दीजिए, जैसे उन लोगों ने डॉक्टर के साथ किया उसका रेप करने के बाद।' उन्होंने कहा है कि वह डॉक्टर के परिवार का दर्द समझती हैं। उन्होंने कहा, 'मेरी भी एक बेटी है और मुझे पता है कि महिला का परिवार दर्द से गुजर रहा है। अगर ये पता होने के बावजूद कि मेरे बेटे ने जघन्य अपराध किया है, में उसका बचाव करूं तो लोग मुझसे सारी जिंदगी नफरत करेंगे।'

श्यामला ने बताया कि गुरुवार सुबह जब पुलिस उनके बेटे को पूछताछ के लिए लेकर गई तो उनके पति ने हताश होकर घर छोड़ दिया। उन्होंने बताया कि केशवुलु की शादी पांच महीने पहले हुई थी। उन्होंने बताया, 'हमने उसकी पसंद की लड़की से उसकी शादी कराई। घर पर कभी कोई दबाव नहीं डाला क्योंकि उसे किडनी की बीमारी थी। हम उसे हर 6 महीने पर इलाज के लिए हैदाराबाद के निम्स अस्पताल ले जाते थे।' जोलू शिवा और जोलू नवीन भी गुडगांडला के रहने वाले हैं। मो.आरिफ पास के जकलैर गांव का है। आरिफ की मां मूले बी से जब पत्रकारों ने बात की तो वह टूट गई थीं। आरिफ कुकृत्य को अंजाम देने के बाद घर आया था।

मूले बी ने बताया, 'उसने मुझे बताया कि उसकी गाड़ी से ऐक्सिडेंट में एक लड़की की मौत हो गई।' उसके पिता हुसैन ने कहा कि उन्हें उसके अपराध के बारे में कुछ नहीं पता था। उन्होंने कहा, 'वह जिस सजा के लायक उसे वह मिलनी चाहिए।' मूले बी ने बताया कि बाकी तीनों आरोपी अक्सर उनके घर आते थे। शिवा और नवीन के परिवारों को भी घटना के बाद झटका लगा है और वे कानून के अनुसार सजा की मांग कर रहे हैं। गुडीगांडला और जकलैर में लोगों में गुस्सा है और उनका कहना है कि अपराध से उनके गांव शर्मसार हैं। स्थानीय लोगों और स्टूडेंट्स ने दोनों गांवों में रैलियां की। जकलैर में रैली के दौरान छात्राओं ने आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804