GLIBS
10-05-2020
भूकंप से फिर कांपी दिल्ली, गाजियाबाद के पास था केंद्र

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में फिर एक बार भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 3.5 मापी गई। इसका सेंटर दिल्ली के पास गाजियाबाद बताया जा रहा है। इससे पहले 12 और 13 अप्रैल को भी दिल्ली में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। इससे पहले 12 अप्रैल को दिल्ली एनसीआर में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। कोरोना वायरस लॉक डाउन की वजह से उस दिन भी ज्यादातर लोग अपने घरों में ही थे ऐसे में सबने झटके महसूस किए। तब भूकंप की तीव्रता 3.5 बताई गई थी। तब केंद्र दिल्ली के ही पूर्वी हिस्से में था।इसके बाद 13 अप्रैल को फिर भूकंप आया था। इस दिन रिक्टर स्केल पर तीव्रता 2.7 दर्ज की गई थी। भूकंप की अधिक तीव्रता के लिहाज से देश को पांच जोन में बांटा गया है। दिल्ली, अधिक तीव्रता वाले चौथे जोन में आता है। 

झटकों से घबराने की जरूरत नहीं : जेएल गौतम
नेशनल सेंटर फॉर सीस्‍मोलॉजी के हेड (ऑपरेशंस) जेएल गौतम ने बताया था कि पहले वाले दोनों भूकंप फॉल्‍ट-लाइन प्रेशर की वजह से आए, ऐसा नहीं लगता। उन्‍होंने कहा, "इन लोकल और कम तीव्रता वाले भूकंपों के लिए, फॉल्‍ट लाइन की जरूरत नहीं है। धरातल के नीचे छोटे-मोटे एडजस्‍टमेंट्स होते रहते हैं और इससे कभी-कभी झटके महसूस होते हैं। बड़े भूकंप फॉल्‍ट लाइन के किनारे आते हैं।"

दिल्ली के इन इलाकों में भूकंप का खतरा ज्यादा
दिल्ली में भूकंप की आशंका वाले इलाकों में यमुना तट के करीबी इलाके, पूर्वी दिल्ली, शाहदरा, मयूर विहार, लक्ष्मी नगर और गुड़गांव, रेवाड़ी तथा नोएडा के नजदीकी क्षेत्र शामिल हैं।
भूकंप को लेकर दिल्ली बहुत संवेदनशील है। दिल्ली और इसके आसपास के इलाके को भूवैज्ञानिकों ने जोन 4 में रखा है। इस क्षेत्र में 7.9 तीव्रता तक का भूकंप आ सकता है।

03-05-2020
बिना पास के निगम मुख्यालय में नहीं होगी एंट्री,किए जा रहे पुख्ता इंतजाम

भिलाई। निगम द्वारा शासन के विभिन्न निर्देशों के तहत कार्यालय खुलने के लिए आदेश जारी करने के बाद निगम कार्यालय में सोशल डिस्टेंस एवं अन्य व्यवस्था को लेकर पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं। उपायुक्त अशोक द्विवेदी ने बताया कि फिजिकल डिस्टेंस मेंटेन करने के लिए नगर पालिक निगम भिलाई मुख्यालय में आने वाले लोगों का पास जारी किया जाएगा। जारी किए गए पास की अवधि 30 मिनट की होगी। इस दौरान उनको अपने कार्यों को करना होगा इसके साथ ही वाहनों की पार्किंग निगम मुख्यालय के बाहर करनी होगी। सभी विभागीय कार्य नियमित रूप से संचालित किए जाएंगे प्रत्येक विभाग में कार्य के लिए एक तिहाई कर्मचारी रहेंगे जोकि फिजिकल डिस्टेंस के साथ कार्य करेंगे और मास्क अनिवार्य रूप से पहनेंगे! मुख्य प्रवेश द्वार पर सुरक्षा गार्ड के कक्ष के समीप एक शिकायत पेटी रखी जाएगी। 

इसके अंदर आम नागरिक एवं अन्य अपनी समस्याए इस पेटी में डाल सकेंगे। इसे प्रतिदिन सायंकालीन नोडल अधिकारी द्वारा खोलकर संबंधित विभाग को निराकरण करने के लिए प्रेषित किया जाएगा, ऐसे लोग निगम मुख्यालय में बिना प्रवेश के ही अपनी समस्या से अवगत करा सकेंगे, शासन द्वारा जारी किए गए निर्देशों का पालन सुनिश्चित कराने निगम द्वारा कयावद की जा रही है! झुंड में या 5 से अधिक व्यक्ति मुख्यालय के भीतर एक साथ प्रवेश नहीं कर पाएंगे और न ही एक जगह पर एकत्रित रह सकेंगे, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए सुरक्षा गार्ड भी मौजूद रहेंगे। भिलाई निगम में टैक्स, आवेदन, जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र, आधार कार्ड सहित अन्य तरह के कार्य के लिए आने वाले लोगों को कार्य का विवरण देना अनिवार्य होगा। तभी पास जारी किया जाएगा,जिसका प्रारूप तैयार कर लिया गया है। 

 

26-04-2020
स्कूटी व कार में भिड़ंत, स्कूटी चालक का पैर टूटा

कांकेर। कोरर थाना अंतर्गत ग्राम धनेलीकन्हार व मरकाटोला के बीच पुल के पास बिना नंबर की स्कूटी व कार के बीच आमने-सामने भिड़ंत हो गई। इससे स्कूटी चालक के पैर की हड्डी टूटी गई।वहीं स्कूटी व कार भी क्षतिग्रस्त हुई है।
जानकारी के अनुसार बीती रात कांकेर निवासी शालिकराम साहू अपनी कार सीजी 19 बीएफ 6622 से कोरर गया हुआ था, वापस लौटते वक्त मरकाटोला पुल के पास विपरीत दिशा से आ रही बिना नंबर की स्कूटी से भिड़त हो गई। दुर्घटना में स्कूटी चालक चिल्हाटी निवासी सन्तकुमार भुआर्य की की पैर की हड्डी टूट गई, जिन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र धनेलीकन्हार में भर्ती कराया गया है।वहीं दुर्घटना में कार और स्कूटी भी क्षतिग्रस्त हुई।

22-04-2020
अब ब्लड डोनेट करने पर मिलेगा स्पेशल सर्टिफिकेट,स्वैच्छिकों आवागमन के लिए दिया जाएगा पास

रायपुर। कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रसार के कारण जरुरी स्वास्थ्य सेवाओं के साथ आपातकालीन स्वास्थ्य सेवाएं बाधित हुई हैं। इसमें ब्लड बैंकों के सुगम संचालन में भी बाधा आई है। इसे ध्यान में रखते हुए विज्ञान और प्रौद्योगिकी एवं पृथ्वी विज्ञान मंत्री,स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय डॉ.हर्षवर्धन ने सभी राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रालय को ब्लड बैंकों के कुशल क्रियान्वयन के संबंध में एडवाइजरी जारी की है। एडवाइजरी में कहा गया है कि कोविड 19 संक्रमण की रोकथाम व संक्रमितों व संदिग्धों सहित आमलोगों के स्वास्थ्य की देखभाल के लिए आवश्यक प्रबंधन किये जाने को लेकर राज्य की स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उल्लेखनीय काम किया है। लेकिन इस दौरान सरकारी व गैर-सरकारी ब्लड बैंकों में पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता को बरकरार रखने के लिए और भी आवश्यक इंतजाम किये जाने हैं।  कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर हो रही रोकथाम व लॉकडाउन के मद्देनजर रक्तदान शिविर का आयोजन संभव नहीं है। लेकिन इन तमाम हालात में ब्लड बैंकों में पर्याप्त मात्रा में रक्त उपलब्ध कराया जाना भी आवश्यक है। एडवाइजरी में कहा गया है कि रक्त का उपलब्ध कराया जाना कई कारणों से आवश्यक हैं। वैसे लोग जो थैलसिमिया, स्क्लि सेल एनिमिया व हिमोफीलिया से पीड़ित हैं उन्हें नियमित ब्लड ट्रांसफ्यूजन की आवश्यकता पड़ती है। ऐसे लोगों को समय पर रक्त उपलब्ध कराया जाना निहायत जरूरी है।
मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री को स्वैच्छिक रक्तदान की अपील करने की सलाह

एडवाइजरी के माध्यम से राज्यों के मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री से स्वैच्छिक रक्तदान को बढ़ावा देने के लिए स्थानीय अखबारों, टीवी व रेडियो चैनल के माध्यम से आम लोगों से अपील करने की बात कही गयी है। साथ ही रक्तदान संबंधी सूचनाओं को ई-रक्तकोश पोर्टल पर अपडेट करने के लिए कहा गया है। यह एक ऐसा पोर्टल है जहाँ रक्तदाताओं के रिकॉर्ड मौजूद होते हैं। साथ ही इस पोर्टल के माध्यम से प्रत्येक रक्त समूह की उपलब्धता की वर्तमान स्थिति पर रियल टाइम इंफॉर्मेशन दी जा सकती है। इसके लिए भावी रक्तदाताओं को इस पोर्टल पर रक्तदान के लिए रजिस्ट्रर किये जाने के लिए कहा गया है। ब्लड बैंकों को यह आदेश दिया गया है कि ई- रक्तकोश पोर्टल पर नियमित रूप से रक्त की उपलब्धता की जानकारी दी जाये।

ब्लड ट्रांसपोर्टशन के लिए उपलब्ध कराया जायेगा वाहन

एडवाइजरी के माध्यम से राज्योंको रक्त को जमा करने व उसके सही तरीके से ट्रांसपोर्टेशन के लिए आवश्यक इंतजाम करने की सलाह दी गयी है। विभागीय वाहन नहीं होने की स्थिति में भाड़ा पर वाहन का इंतजाम करने की भी बात बताई गयी है ताकि क्षेत्र में लोगों को पर्याप्त मात्रा में आसानी से रक्त सुलभ कराया जा सके। एडवाइजरी में रक्तदाताओं के लिए एक निश्चित समय तय करने पर जोर दिया गया है। साथ ही तय समय सीमा को आवश्यकतानुसार बढ़ाने की बात कही गयी है। रक्तदान करने वालों को क्रमबद्ध तरीके से आने और रक्तदान करने के लिए कहा गया है। साथ ही रक्तदान केन्द्रों पर सोशल डिस्टेंसिंग नियमों का पालन किए जाने की बात कही गयी है।
रक्तदाताओं को मिलेगा पूरा सम्मान, जारी होगा पासकोरोना संक्रमण के कारण आम लोगों को बाहर निकलने की अनुमति नहीं है। ऐसे में स्वेच्छा से रक्तदान करने वाले रक्तदाताओं के आवागमन में दिक्कत नहीं हो इसका भी ध्यान दिया गया है। एडवाइजरी  में बताया गया है कि रक्तदाताओं के आवागमन को आसान करने के लिए उन्हें पास मुहैया कराया जाए। साथ ही कोरोना संकटकाल में रक्तदान करने वाले इन रक्तवीरों को रक्तदान से संबंधित विशेष सर्टिफिकेट भी प्रदान कराए जाने की सलाह दी गयी है।

सुरक्षा नियमों का पूर्ण पालन करने का है निर्देश 
एडवाइजरी में रक्तदान करने वाले केंद्रों व ब्लड बैंकों में कोरोना संक्रमण के मद्देनजर विशेष सावधानी व कोविड-19 के मापदंड अनुपालन करने की बात कही गयी है। ताकि इन केन्द्रों पर किसी प्रकार का संक्रमण प्रसारित नहीं हो सके। इसके लिए व्यक्तिगत सुरक्षा नियमों के तहत हाथों की धुलाई, रक्तदान करने वाले क्षेत्र की नियमित सफाई, डोनर के लिए जीवाणुरहित सामग्रियां व एंटीसेप्टिक क्लीनर की व्यवस्था करने की बात कही गयी है। साथ ही थैलीसिमिया व हिमोफीलिया के मरीजों के लिए अस्पतालों में आयरन चेल्टिंग एजेंट्स एवं एंटी- हिमोफीलिया फैक्टर्स उपलब्ध कराने की हिदायत दी गयी है।

 

05-08-2019
जम्मू कश्मीर पुनर्गठन बिल राज्यसभा से पास, पक्ष में 125 विपक्ष में 61 वोट

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक राज्यसभा से पास हो गया है। बिल के पक्ष में 125 वोट और 61 विपक्ष में वोट पड़े हैं। ये बिल में जम्मू कश्मीर से लद्दाख को अलग करने और दोनों को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा देने के प्रावधान शामिल हैं। राज्यसभा में गृहमंत्री अमित शाह ने धारा 370 को हटाने और जम्मू कश्मीर के पुनर्गठन का संकल्प पेश किया, जिसे राष्ट्रपति ने मंजूरी दी है। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 और 35ए हटा दिया है। इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर को अलग केंद्रशासित प्रदेश बना दिया गया है जबकि लद्दाख भी केंद्रशासित प्रदेश बन गया है।

06-05-2019
सीबीएसई 10वीं की परीक्षा में 91.1 फीसदी विद्यार्थी हुए पास ,केरल की भावना ने किया टॉप

नई दिल्ली। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने सोमवार को दसवीं के परीक्षा परिणाम घोषित किए। इसमें 91.1 फीसदी छात्र परीक्षा में पास हुए हैं। सीबीएसई की 10वीं की परीक्षा में त्रिवेंद्रम में 99.85%, चेन्‍नई में 99%, अजमेर में 95.89% छात्र सफल हुए हैं। केरल की भावना एन. शिवादास ने परीक्षा में टॉप किया है। भावना को 500 में से 499 अंक मिले हैं। इसके अलावा 10वीं की परीक्षा में 13 छात्रों ने टॉप किया है। इन सभी को 499 अंक मिले हैं। वहीं दूसरे क्रमांक पर 25 छात्रों ने दूसरी पोजिशन प्राप्‍त की है। इन्‍हें 498 अंक मिले हैं।  तीसरे नंबर पर 18 छात्रों का नाम शामिल है, जिनमें से 7 लड़के हैं। 

इधर केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने ट्वीट कर अपनी बेटी के पास होने की खबर दी है। स्मृति ईरानी ने ट्वीट कर बताया कि उनकी बेटी को 10वीं बोर्ड की परीक्षा में 82 प्रतिशत अंक मिले हैं।  बता दें कि  10वीं की परीक्षाएं 21 फरवरी से 29 मार्च तक आयोजित की गई थी। इसमें 18 लाख छात्रों ने परीक्षा दी थी। 

 

16-04-2019
आतंकियों ने नेशनल कॉफ्रेंस की चुनावी सभा के पास फेंका ग्रेनेड

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के त्राल में नेशनल कॉन्फ्रेंस की एक चुनावी सभा के पास आतंकवादियों ने मंगलवार को ग्रेनेड फेंका। इसमें किसी तरह का कोई नुकसान नहीं हुआ। पुलिस सूत्रों के अनुसार जब सभा चल रही थी तभी आतंकियों ने पार्टी के नेता मोहम्मद अशरफ भट के आवास के पास ग्रेनेड फेंका। पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि ग्रेनेड फटा लेकिन इससे किसी तरह का कोई नुकसान नहीं हुआ। पुलिस ने हमलावर की तलाश के लिए क्षेत्र की घेराबंदी की और तलाश जारी है। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804