GLIBS
16-12-2018
Congress: मल्लिकार्जुन खडगे के साथ  पीएल पुनिया टीएस सिंहदेव और डॉ. चरणदास महंत कुछ देर में पहुंच रहे रायपुर

रायपुर। प्रदेश का नए मुख्यमंत्री का नाम लेकर पर्यवेक्षक मल्लिकार्जुन खडगे कुछ देर में रायपुर आने वाले हैं। उनके साथ प्रदेश कांग्रेस प्रभारी पीएल पुनिया, टीएस सिंहदेव और डॉ. चरणदास महंत भी आ रहे हैं। उनकी अगुवानी करने के लिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल एयरपोर्ट पहुंच गए हैं। एयरपोर्ट में हजारों की संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता भी मौजूद हैं। 

बता दें कि रविवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक लेने के बाद मल्लिकार्जुन छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री का ऐलान करेंगे। सूत्रों के अनुसार भूपेश बघेल को मुख्यमंत्री बनाए जाने की संभावना जताई जा रही है। हालांकि अभी भी मुख्यमंत्री पद को लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है। 

बता दें कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की बहुमत आ गई। अब सरकार बनाने की कवायद शुरू हो गई। लेकिन इससे पहले मुख्यमंत्री के नाम को लेकर सस्पेंस बना हुआ है। मुख्यमंत्री पद को लेकर चार दावेदारों के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिल रही है। मध्यप्रदेश और राजस्थान में मुख्यमंत्री का फैसला हो चुका है लेकिन छत्तीसगढ़ का मुख्यमंत्री तय करने में कांग्रेस हाईकमान निर्णय नहीं ले पा रहा है। शुक्रवार को राहुल गांधी के निवास में इस विषय को लेकर लंबी बैठक हुई। बैठक बेनतीजा रहा! क्योंकि बैठक के बाद मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान नहीं हो पाया। 

राहुल गांधी ने शनिवार को अपने ट्वीटर में छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री के दावेदार चारों नेताओं के साथ फोटो शेयर की है। इसके पहले भी वे मध्यप्रदेश और राजस्थान के मुख्यमंत्री के दावेदारों के साथ ट्वीटर फोटो शेयर किया था। 

बता दें कि प्रदेश में हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में प्रदेश की 90 सीटों में कांग्रेस ने 68 सीटों पर जीत दर्ज की। वहीं भाजपा महज 15 सीटों पर सिमट गई। जबकि जनता कांग्रेस 5 और बहुजन समाज पार्टी ने 2 सीटें हासिल की है। 

11-12-2018
Ajay Chandrakar: कुरुद से अजय चंद्राकर ने 12317 वोटों से हासिल की जीत

धमतरी। विधानसभा चुनाव में धमतरी जिले के कुरुद विधानसभा क्षेत्र से वर्तमान विधायक व मंत्री अजय चंद्राकर अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी से 12317 वोट से विजयी हुए हैं। उन्हें 72922 वोट मिले हैं जबकि दूसरे स्थान पर निर्दलीय नीलम चंद्राकर रहे, जिन्हें 60605 वोट मिले।

कुरुद में तीसरे स्थान पर कांग्रेस की लक्ष्मीकांता साहू रहीं जिन्हें 26483 वोट मिले हैं। पत्रकारों से चर्चा  करते हुए मंत्री अजय चंद्राकर ने कहा कि अब तक पूरे 90 सीटों के परिणाम आए नहीं हैं इसलिए वे कुछ नहीं कहेंगे। पूरे परिणाम आने के बाद ही कहेंगे। 

11-12-2018
लोकतंत्र में मैन ऑफ द मैच होती है जनता : ममता बनर्जी

नई दिल्ली। पांच राज्यों हुए विधानसभा चुनाव की मतगणना और आ रहे रुझान पर पं. बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनेर्जी ने प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में मैन ऑफ द मैच जनता होती है। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले सेमीफाइनल में भाजपा कही नजर नहीं आ रही है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि लोगों ने भाजपा के विरोध में वोट डाला।

सीएम ममता ने कहा कि ये रुझान 2019 के आम चुनावों के परिणाम की ओर इशारा करते हैं। ममता ने ट्वीट किया सेमीफाइनल से साबित होता है कि पांच राज्यों में भाजपा कहीं भी नहीं है। यह 2019 में होने जा रहे फाइनल मैच का असली लोकतांत्रिक संकेत है। 

11-12-2018
EVM : सुबह 9 बजे टूटेगी ईवीएम की सील, शुरुआती एक घंटे में डाक मतपत्रों की गणना जारी 

रायपुर। विधानसभा चुनाव के मतगणना जारी है। सुबह 8 बजे से डाक मतपत्रों की गिनती शुरु हो गई है। सुबह 9 बजे ईवीएम की सील तोड़ी जाएगी। इसके बाद ईवीम में पड़े वोटों की गिनती शुरू की जाएगी। डाक मतपत्रों की गणना के अनुसार 13 में भाजपा और 10 सीटों में कांग्रेस आगे चल रही है। बता दें कि एक टेबल में 5 सौ मतों की गिनती होगी। इसके परिणाम आने के बाद करीब नौ बजे इवीएम की गणना शुरू होगी। गणना में आधा घंटा का वक्त लग सकता है। अब इस गणना के एआरओ और फिर आरओ से मिलान होने के बाद टेबुलेशन के लिए भेजा जाएगा। टेबुलेशन हो जाने के आरओ फिर इसका मिलान करेंगे। इसके बाद आॅब्जर्वर मिलान करेंगे। इस सब में 15 से 20 मिनट लग सकता है। इसके बाद परिणाम की घोषणा होगी।

बता दें कि हर राउंड के परिणाम की घोषणा के बाद ही दूसरे दौर के लिए इवीएम मशीनों को स्ट्रांग रूम से निकाली जाएंगी। हर विधानसभा क्षेत्र में 14 टेबल लगाकर गणना की जाएगी और अलग अलग विधानसभा क्षेत्र में 16 से लेकर 20 राउंड में गणना होगी। हर राउंड की गणना और फिर उसके परिणाम की घोषणा में आधा से पौन घंटा लग सकता है। ऐसे में समझा जा सकता है कि पूरी गणना में दस घंटे से ज्यादा का समय लगेगा। साफ है कि इस वजह से वास्तविक परिणाम काफी देर से आएगा।

 गणना के बाद टेबुलेशन, मिलान और घोषणा के दौरान के समय में मतगणना दल और अभिकतार्ओं को खाली बैठना होगा। घोषणा के बाद दूसरे दौर के लिए इवीएम लाई जाएंगी। इस तरह हर राउंड के बीच 15 से 20 मिनट का खाली समय जाएगा और पूरी प्रक्रिया में लंबा वक्त लगेगा। हर राउंड की घोषणा को मतगणना कक्ष के डिस्प्ले बोर्ड पर प्रदर्शित किया जाएगा और इसकी माइक से घोषणा भी की जाएगी। राउंड वार यह रिजल्ट शीट राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों को भी दी जाएगी। राउंड वार यह जानकारी रिटर्निंग आॅफिसर द्वारा आयोग के काउंटिंग सॉफ्टवेयर पर भी लोड की जाएगी। 

आयोग ने यह भी साफ कर दिया है कि अगले राउंड की गिनती तब-तक प्रारंभ नहीं होगी, जब तक पहले राउंड की मतगणना की गिनती समाप्त होकर उसका परिणाम डिस्प्ले बोर्ड पर प्रदर्शित न कर दिया जाए। कांग्रेस पार्टी ने हर राउंड के बाद उम्मीदवार को सर्टिफिकेट दिए जाने की मांग केंद्रीय निर्वाचन आयोग से की थी। इसके बाद आयोग ने मतगणना के दौरान अपनाई जाने वाली प्रक्रिया स्पष्ट की है। 

11-12-2018
Election : प्रदेश के 90 विधानसभा सीटों पर मतगणना शुरू, 1269 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला आज 

रायपुर। छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव के लिए हुए मतदान की मतगणना शुरू हो गई है। प्रदेश की 90 विधानसभा सीटों में चुनाव लड़ रहे 1269 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला आज होगा। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, मतगणना में सबसे पहले पोस्टल बैलेट (डाक मतपत्र) की गिनती होगी। 

अधिकारियों ने बताया कि डाक मतपत्र की गणना के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में अलग से एक टेबल लगाई जाएगी। इसके लिए एक सहायक निर्वाचन अधिकारी नियुक्त होगा। डाक मतपत्र की गणना में केवल वैध डाक मतों को ही शामिल किया जाएगा। डाक मतपत्र की गणना प्रारंभ करने के 30 मिनट बाद ईवीएम से मतगणना प्रारंभ की जाएगी। यदि पोस्टल बैलेट की गणना ईवीएम के वोटों की गिनती के अंतिम चरण के पूर्व पूर्ण नहीं होती है तो पोस्टल बैलेट की गणना समाप्त होने के बाद ही ईवीएम की अंतिम चरण की गणना की जाएगी। आधिकारिक जानकारी के मुताबिक, प्रत्येक चरण की मतगणना का परिणाम मतगणना अभिकर्ता (एजेंट) को प्रदान किया जाएगा और इसका गणना-पत्रक निर्वाचन अधिकारी की टेबल पर नियुक्त मतगणना अभिकर्ताओं (एजेंट)को दिया जाएगा। 

11-12-2018
नए नियम ने बढ़ाई प्रत्याशियों की धड़कन, परिणाम जानने के लिए करना होगा 4 घंटे अतिरिक्त इंतजार

रायपुर।  देश के पांच राज्यों हुए विधानसभा चुनाव के परिणाम आज आएंगे। कुछ देर में वोटों की गिनती शुरू होगी। इस बार चुनाव आयोग ने नए नियम बनाए हैं। इसकी वजह से पिछले चुनाव की अपेक्षा इस बार अंतिम परिणाम जानने के लिए करीब 4 घंटे इंतजार करना पड़ेगा। 
भारत निर्वाचन आयोग ने राज्य निर्वाचन आयोग को निर्देश दिए हैं कि प्रत्येक राउंड की गिनती के बाद प्रमाण पत्र जारी किया जाए। आयोग के इसी नियम के कारण अब लगभग चार घंटे से ज्यादा समय की देरी के बाद जान पाएंगे कि प्रदेश में आखिर किसकी सरकार होगी। 

मतगणना 14 राउंड में होगी। एक चक्र की गणना पूरी होने के बाद रिटर्निंग आॅफीसर घोषणा कर सूचना पटल पर विवरण लिखवाएंगे। इसके बाद परिणाम की फोटोप्रति एनआइसी, मीडिया कक्ष और जिला निर्वाचन अधिकारी कक्ष में पहुंचाई जायेगी। वहां से परिणाम जारी होगा। इस प्रक्रिया में कम से कम 20 मिनट का समय लगेगा। प्रत्येक राउंड में 20 मिनट का समय लगा तो 14 राउंड में 280 मिनट यानी 4 घंटे 40 मिनट का अतिरिक्त समय लगेगा। 
प्रत्येक राउंड में प्रमाण पत्र की प्रक्रिया तो बीते चुनाव में होने वाली मतगणना में भी अपनाई जाती थी। इस बार अतिरिक्त समय लगने का जो प्रमुख कारण है वह है एक चरण की प्रक्रिया पूरी होने से पहले तक दूसरे चरण की गिनती का प्रारंभ नहीं होना। 

पहले यह होता था कि एक चरण की गणना के बाद डाटा तैयार होता रहता था। इधर इवीएम रखने और दूसरे चरण के लिए इवीएम लाने की प्रक्रिया भी चलती रहती थी। इस बार ऐसा नहीं होगा। एक चरण गिनती की प्रक्रिया जब तक पूरी नहीं होगी, तब तक दूसरे चरण में इवीएम नहीं लाया जाएगा। इसकी कारण इस बार प्रत्येक चरण में अतिरिक्त 20 मिनट का समय लगेगा। 
रायपुर के  जिला निर्वाचन अधिकारी बसव राजू ने बताया कि इस बार फाइनल गणना पूरी होने में शाम हो जाएगी। प्रत्येक चरण में कम से कम 20 मिनट अतिरिक्त  समय लगेगा तो 14 राउंड में 4 घंटे 40 मिनट। यानी शाम 4 बजे तक जो गणना पूरी हो जाती थी उसे पूरा होने में देर हो सकता है। 
 

11-12-2018
Assembly Election : प्रदेश के 90 विधानसभा सीटों पर मतगणना आज, 1269 प्रत्याशियों के किस्मत खुलेगा पिटारा 

रायपुर। छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव के लिए हुए मतदान की मतगणना 11 दिसंबर को सुबह आठ बजे शुरू होगी। प्रदेश की 90 विधानसभा सीटों में चुनाव लड़ रहे 1269 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला आज होगा। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार, मतगणना में सबसे पहले पोस्टल बैलेट (डाक मतपत्र) की गिनती होगी। 

अधिकारियों ने बताया कि डाक मतपत्र की गणना के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में अलग से एक टेबल लगाई जाएगी। इसके लिए एक सहायक निर्वाचन अधिकारी नियुक्त होगा। डाक मतपत्र की गणना में केवल वैध डाक मतों को ही शामिल किया जाएगा। डाक मतपत्र की गणना प्रारंभ करने के 30 मिनट बाद ईवीएम से मतगणना प्रारंभ की जाएगी। यदि पोस्टल बैलेट की गणना ईवीएम के वोटों की गिनती के अंतिम चरण के पूर्व पूर्ण नहीं होती है तो पोस्टल बैलेट की गणना समाप्त होने के बाद ही ईवीएम की अंतिम चरण की गणना की जाएगी। आधिकारिक जानकारी के मुताबिक, प्रत्येक चरण की मतगणना का परिणाम मतगणना अभिकर्ता (एजेंट) को प्रदान किया जाएगा और इसका गणना-पत्रक निर्वाचन अधिकारी की टेबल पर नियुक्त मतगणना अभिकर्ताओं (एजेंट) को दिया जाएगा। 

11-12-2018
Assembly Elections : छत्तीसगढ़ समेत देश के पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के परिणाम आज

नई दिल्ली। देश के पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के परिणाम आज आएंगे। सुबह 8 बजे से मतगणना शुरू होगी। पहले चरण में डाक मतपत्रों की गिनती शुरू होगी। उसके बाद ईवीएम में पड़े वोटों की गणना होगी। बता दें कि देश के छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना और मिजोरम में हाल ही में विधानसभा चुनाव में मतों की गणना आज होगी। 
बता दें कि छत्तीसगढ़ विधानसभा में कुल 90 सीटें हैं, बीजेपी के रमन सिंह लगातार 3 बार से यहां मुख्यमंत्री हैं। 2013 के चुनाव में बीजेपी को 49 सीटें मिली थीं, वहीं प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस को 41 सीटों से संतोष करना पड़ा था। कांग्रेस इस बार आश्वस्त है कि एंटी इन्कंबेंसी की वजह से उसे सत्ता मिलेगी। दूसरी ओर, बीजेपी डॉ. रमन सिंह के नाम पर ही दांव खेल रही है। छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की पार्टी बसपा से गठबंधन कर दोनों का खेल बिगाड़ने में लगी है। नक्सलियों की वजह से यहां मतदान 2 चरणों- 12 नवंबर और 20 नवंबर को हुआ था। यहां भी मतगणना 11 दिसंबर को होगी।
मध्य प्रदेश 
मध्य प्रदेश में विधानसभा की 230 सीटें हैं। 2013 में हुए चुनाव में यहां बीजेपी को 168 सीटें मिली थीं और शिवराज सिंह चौहान तीसरी बार मुख्यमंत्री बने थे। कांग्रेस को 58 सीटों से संतोष करना पड़ा था। इस बार कांग्रेस ने पूरा दम लगाया है। यहां कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया को सीएम का दावेदार बताया जा रहा है, वहीं बीजेपी जीत के प्रति आश्वस्त है और शिवराज को ही सीएम के चेहरे के तौर पर पेश किया है। 2018 के चुनाव के लिए 28 नवंबर को वोट डाले गए थे। 11 दिसंबर को नतीजे आएंगे।
राजस्थान
राजस्थान विधानसभा में कुल 200 सीटें हैं, लेकिन चुनाव 199 सीटों के लिए हुए हैं। बता दें कि 2013 के चुनाव में बीजेपी को 163 सीटें मिलीं थीं और वसुंधरा राजे सिंधिया को मुख्यमंत्री बनाया गया था। यहां अशोक गहलोत के नेतृत्व में चल रही कांग्रेस की सरकार को बुरी तरह हार का मुंह देखना पड़ा था और कांग्रेस को केवल 21 सीटें मिली थीं। इस बार राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट के नेतृत्व में कांग्रेस ने जमीन पर संघर्ष किया है और पार्टी यह दावा कर रही है कि सत्ता परिवर्तन होगा, सचिन पायलट को सीएम पद का दावेदार माना जा रहा है। यहां 7 दिसंबर को वोट डाले गए। 11 दिसंबर को मतगणना होगी।    

तेलंगाना
2014 के चुनाव के दौरान आंध्र प्रदेश और तेलंगाना एक ही राज्य थे। राज्य का बंटवारा होने के बाद तेलंगाना के हिस्से में 119 सीटें आई। इनमें तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) को 90 सीटें और कांग्रेस के हिस्से में 13 सीटें आई। टीआरएस के अध्यक्ष के. चंद्रशेखर राव को सीएम बनाया गया।  यहां कांग्रेस और टीआरएस में लड़ाई है। राज्य बनाने का श्रेय दोनों पार्टियां लेना चाहती हैं। इसे देखते हुए कांग्रेस नेता सोनिया गांधी ने केवल तेलंगाना में ही सभा भी की। कांग्रेस को लगता है कि केंद्र में यूपीए सरकार के दौरान उसने राज्य का निर्माण किया। चंद्रशेखर राव पहले तो कांग्रेस को श्रेय देते रहे, लेकिन बाद में उन्होंने इसका सारा श्रेय अपने नाम कर लिया। समय से पहले ही चंद्रशेखर राव ने विधानसभा भंग करने की सिफारिश भी कर दी। तेलंगाना में 7 दिसंबर को वोटिंग हुई. 11 दिसंबर को नतीजे घोषित किए जाएंगे।

मिजोरम
मिजोरम में विधानसभा की 40 सीटें हैं। 2013 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 34 सीटों पर जीत दर्ज की थी। मिजो नेशनल फ्रंट के खाते में 5 और मिजो पीपुल्स 


पार्टी के खाते में 1 सीट आई थी। कांग्रेस के ललथनहवला को मुख्यमंत्री बनाया गया 
था। बीजेपी ने पूर्वोत्तर राज्यों में अपनी पहुंच बढ़ाने के लिए 2018 के चुनाव में पूरा जोर लगाया है। मिजोरम जैसे छोटे राज्य में भी प्रचार करने के लिए पीएम मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह समेत पार्टी के बड़े नेता पहुंचे। मिजोरम में 28 नवंबर को वोट डाले गए, 11 दिसंबर को ही यहां के परिणाम भी घोषित किए जाएंगे।
 

09-12-2018
Assembly Election : विधानसभा चुनाव के परिणाम की उल्टी गिनती शुरू, मतगणना के दौरान सावधानी बरतनें एजेंटों को निर्देश 

कवर्धा। प्रदेश में विधानसभा चुनाव के परिणाम 11 दिसंबर को आएंगे। मतगणना के दौरान वैधानिक पहलुओं और व्यावहारिक गड़बड़ियों को रोकने के लिए राजनीतिक दलों ने रणनीति तैयार कर ली है। कार्यकर्ताओं को मतगणना के दौरान के क्या-क्या एहतियायत रखने हैं, इसकी जानकारी दे दी गई है। 

 प्रत्याशी सभी चौदह टेबल्स में अपना मतगणना अभिकर्ता की नियुक्ति भी कर चुके है। जो बारिकी से मतगणना में आने वाले परिणाम को नोट करेंगे और अपने एआरओ व प्रत्याशियों को सूचना देते रहेंगे। मतगणना अभिकर्ता व एजेंटों को उनके अधिकार देने के लिऐ भी पूरी तयारी की जा चुकी है। वही इसके लिए सभी पार्टी के प्रत्याशी अपने मतगणना अभिकर्ता व  एआरओ के साथ कलेक्ट्रेट में निर्वाचन अधिकारी के पास डटे रहे और साक्षात्कार की प्रक्रिया पूरी करते रहे। वही प्रत्याशी व पूर्व में अनुभव रखने वाले एजेंट अभिकर्ताओं को विशेष ट्रेनिंग भी दिए ताकि परिणाम को सही ढंग से नोट कर सकें।

08-12-2018
Election : मतगणना की हर टेबल पर माईक्रो आब्जर्वरों की होगी पैनी नजर 

रायपुर। शासकीय इंजीनियरिंग कालेज सेजबहार में 11 दिसंबर को विधानसभा चुनाव की मतगणना के समय भारत निर्वाचन आयोग की ओर से माईक्रो आब्जर्वर लगाया गया है। इस दौरान ईवीएम मशीन की मतगणना के दौरान पैनी नजर रखी जाएगी। ताकि किसी भी राजनीतिक दलों को मतगणना के दौरान गड़बड़ी होने की शिकायत न हो। निर्वाचन आयोग द्वारा नियुक्त सामान्य प्रेक्षक के प्रतिनिधि के रुप में कार्य करने के लिए विभिन्न केन्द्रीय बैंकों और केन्द्रीय विद्यालय के अधिकारियों को माइक्रो आब्जर्वर के रुप में नियुक्त किया गया है।


जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं प्रशिक्षण के नोडल अधिकारी दीपक सोनी ने बताया कि 11 दिसंबर को मतगणना के दौरान ईवीएम मशीन के हर टेबल पर माईक्रो आब्जर्वरों की होगी पैनी नजर होगी ताकि मतगणना के दौरान किसी भी पार्टी के नेता मशीन में गड़बड़ी होने की शिकायत न करें। क्योंकि मशीन से पूरी रिकॉर्डिंग होगी और यह जानकारी चुनाव आयोग के पास रहेगी। चुनाव आयोग द्वारा 11 दिसंबर को होने वाले मतगणना को लेकर प्रशिक्षण देकर अधिकारी-कर्मचारियों को जानकारी दी गई है। मतगणना के दौरान 14-14 टेबल लगाई जाएगी। इसमें हर एक टेबल में एक-एक माइक्रो आब्जर्वर को गणना सुपरवाईजर और गणना सहायक के साथ बैठेंगे। डाक मतपत्र की गणना हेतु एक माइक्रो आब्जर्वर और एक-एक माइक्रो आब्जर्वर टेबुलेशन गणना हेतु अलग से नियुक्त रहेंगे। विधानसभा की मतगणना के लिए कुल 16 माइक्रो आब्जर्वर शामिल रहेंगे। मतगणना स्थल पर माइक्रो आब्जर्वर किसी प्रकार का इलेक्ट्रॉनिक गैजेट, जिसमें मोबाईल फोन, कैलकुलेटर, पेन ड्रॉईव, हार्ड डिस्क इत्यादि नहीं ले जा सकेंगे। मतगणना के दिन माइक्रो आब्जर्वर को सुबह 6 बजे मतगणना स्थल में उपस्थित होना होगा। मतगणना में सबसे पहले 8 बजे से डाक मतपत्रों की गणना शुरू होगी। इसके बाद सुबह 8:30 बजे से इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन की कंट्रोल यूनिट से मतगणना शुरू की जाएगी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804