GLIBS
05-08-2019
जम्मू कश्मीर पुनर्गठन बिल राज्यसभा से पास, पक्ष में 125 विपक्ष में 61 वोट

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक राज्यसभा से पास हो गया है। बिल के पक्ष में 125 वोट और 61 विपक्ष में वोट पड़े हैं। ये बिल में जम्मू कश्मीर से लद्दाख को अलग करने और दोनों को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा देने के प्रावधान शामिल हैं। राज्यसभा में गृहमंत्री अमित शाह ने धारा 370 को हटाने और जम्मू कश्मीर के पुनर्गठन का संकल्प पेश किया, जिसे राष्ट्रपति ने मंजूरी दी है। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 और 35ए हटा दिया है। इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर को अलग केंद्रशासित प्रदेश बना दिया गया है जबकि लद्दाख भी केंद्रशासित प्रदेश बन गया है।

29-07-2019
अनुसुईया उइके ने ली राज्यपाल पद की शपथ, पक्ष,विपक्ष के नेता रहे उपस्थित

रायपुर। प्रदेश की प्रथम पूर्णकालिक महिला राज्यपाल अनुसुइया उइके ने सोमवार को राजभवन में पद और गोपनीयता की शपथ ली। राजभवन में हुए समारोह में हाईकोर्ट के मुख्य न्यायधीश पीआर रामचंद्र मेनन ने नई राज्यपाल को शपथ दिलाई। समारोह में प्रदेश के पक्ष, विपक्ष के प्रमुख नेता उपस्थित थे। इसमें सीएम भूपेश बघेल, पूर्व मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह और अजीत जोगी शामिल हुए। शपथ ग्रहण समारोह में मंत्रिमंडल के सदस्यों सहित विधायक उपस्थित थे। 

 

10-06-2019
सीएम बघेल ने डॉ. रमन सिंह से पूछा- अडानी को एमओयू देने के पक्ष में हैं या नहीं 

 

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दिल्ली प्रवास से लौटने के बाद रायपुर स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट पर पत्रकारों से चर्चा करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि रमन सिंह को पहले यह बताना चाहिए कि वे अडानी को एमओयू देने के पक्ष में हैं या नहीं? दूसरी बात यह है कि जब भी कोई सरकार फैसला करती है तो वर्तमान सरकार पिछली सरकार के फैसले को आगे बढ़ाने का काम करती है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि मैं पार्टी के आला नेताओं से मिलने के लिए गया था। वरिष्ठ नेताओं से मेरी मुलाकात हुई है। उन्होंने बताया कि संगठन के मुद्दे पर भी चर्चा हुई है। मंत्रिमंडल की सुगबुगाहट पर उन्होंने कहा कि इसकी चर्चा हाईकमान से होने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। प्रदेश अध्यक्ष और मंत्रिमंडल का विस्तार हाईकमान के निर्देश और उनसे चर्चा के बाद होगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने यह भी कहा कि दिल्ली के हाईकमान की हरी झंडी मिलते ही छत्तीसगढ़ के प्रदेश अध्यक्ष और निगम आयोग मंडल का गठन किया जाएगा।

15-04-2019
राफेल होता तो भारत के पक्ष में आते और बेहतर परिणाम : धनोआ

नई दिल्ली। 'भविष्य की एयरोस्पेस शक्ति और प्रौद्योगिकी के प्रभाव' विषय पर एक संगोष्ठी को संबोधित करते हुए भारतीय वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने कहा है कि अगर बालाकोट में की गई एयर स्ट्राइक के समय सेना के पास राफेल होता तो परिणाम भारत के पक्ष में कहीं और ज्यादा बेहतर हो सकते थे। उन्होंने कहा कि हालांकि उस हमले में तकनीक भारत के पक्ष में थी। बीएस धनोआ ने कहा कि बालाकोट में की गई एयर स्ट्राइक में हमारे पास बेहतर तकनीक थी, यही कारण है कि हम बड़ी सटीकता के साथ हथियारों का इस्तेमाल कर पाने में सफल हो सके। उन्होंने यह भी बताया कि भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल मिग-21, बिसॉन और मिराज-2000 विमानों ने उन्हें दुनिया में बेहतर बनाया है। ज्ञात हो कि 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ  के काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद 26 फरवरी की सुबह भारतीय वायुसेना की ओर से पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक की गई थी। 

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804