GLIBS
17-09-2020
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मुख्यमंत्री बघेल के ट्वीट का दिया जवाब,अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा...

रायपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के ट्वीट का जवाब अपने ट्विटर हैंडल पर दिया है। प्रधानमंत्री ने सीएम बघेल का आभार माना है। उन्होंने ट्वीट किया है कि, आभार भूपेश बघेल जी। बता दें कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके जन्मदिन की बधाई और शुभकामनाएं दीं मुख्यमंत्री ने सुबह  ट्वीट कर प्रधानमंत्री मोदी को बधाई दी। सीएम बघेल ने प्रधानमंत्री मोदी के स्वस्थ और सुदीर्घ जीवन की कामना की।

17-09-2020
Breaking : भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री मोदी को जन्मदिन की दी शुभकामनाएं

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जन्मदिन की शुभकामनाएं दी है। मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर शुभकामना संदेश दिया है। मुख्यमंत्री बघेल ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा है कि, "माननीय प्रधानमंत्री @narendramodi जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं। आपके अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हूँ।"

 

23-08-2020
मुख्यमंत्री बघेल से सीएसपीडीसीएल के प्रबंध संचालक गौतम ने की सौजन्य मुलाकात

रायपुर। प्रदेश के मुखिया मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से उनके निवास कार्यालय में छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी लिमिटेड के प्रबंध संचालक हर्ष गौतम ने सौजन्य मुलाकात की। हर्ष गौतम ने 17 अगस्त को अपना पदभार ग्रहण किया है। मुख्यमंत्री बघेल ने प्रबंध संचालक गौतम को उनके नवीन दायित्व के लिए बधाई और शुभकामनाएं दी। 

इस अवसर पर मुख्यमंत्री को गौतम ने रायपुर निवासी चित्रकार रेणु द्वारा चित्रित खुशहाल कृषक का प्रतीकात्मक चित्र भी भेंट किया। इस चित्र में मुख्यमंत्री बघेल के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा किसानों के हित में चलाए जा रहे विभिन्न कल्याणकारी कार्यक्रमों के फलस्वरूप किसानों की खुशहाली की झलक साफ-साफ दिखाई दे रही है। इसमें उनके जीवन में आए क्रांतिकारी परिवर्तन का आभास भी हो रहा है। मुख्यमंत्री बघेल ने राज्य में वर्तमान में किसानों की खुशहाली को व्यक्त करते इस प्रतीकात्मक चित्र की सराहना की। इस दौरान मुख्यमंत्री को प्रबंध संचालक गौतम ने विद्युत विभाग की ओर से भी राज्य में किसानों की खुशहाली के लिए हर संभव पहल करने के लिए आश्वस्त किया। इस अवसर पर कार्यपालन अभियंता मनोज वर्मा तथा अधिवक्ता मनोज वर्मा उपस्थित रहे। उन्होंने मुख्यमंत्री को उनके जन्मदिन की बधाई भी दी।

17-08-2020
छत्तीसगढ़ी को आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए लिखा पत्र मुख्यमंत्री बघेल का एक और राजनीतिक छलावा : रमन सिंह

रायपुर। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने छत्तीसगढ़ी भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे गए पत्र को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का एक और राजनीतिक धोखा कहा है। डॉ. सिंह ने कहा कि अपने दम पर कुछ सार्थक व रचनात्मक काम करने का पराक्रम दिखाने के बजाय बस घूम-फिरकर प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखने का नित-नया शिगूफा रचने में मशगूल मुख्यमंत्री बघेल की प्रदेश को भरमाने की राजनीति अब ज्यादा नहीं चलने वाली है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ी भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल करने की मांग कर रहे मुख्यमंत्री का मुखौटा अब उतर चुका है। केंद्र सरकार ने हाल ही जिस राष्ट्रीय शिक्षा नीति के प्रारूप को स्वीकृति दी है, उस नीति में बच्चों को मातृभाषा में शिक्षा देने की बात कही गई है लेकिन मुख्यमंत्री बघेल ने ही सबसे पहले इस शिक्षा नीति का न केवल विरोध किया, अपितु छत्तीसगढ़ी भाषा का घोर अपमान करते हुए यहाँ तक कहा कि छत्तीसगढ़ी में बच्चों की पढ़ाई संभव नहीं है, क्योंकि छत्तीसगढ़ी में पढ़कर प्रदेश के विद्यार्थी पिछड़ जाएंगे। डॉ. सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री अब प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर छत्तीसगढ़ी भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल करने की मांग करके प्रदेश को भरमाने में लगे हैं, लेकिन प्रदेश अब उनके झांसों में आने वाला नहीं है। रमन सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़िया, छत्तीसगढ़ी अस्मिता के नाम पर राजनीतिक लफ़्फाजी और जुबानी जमाखर्च करके कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ के साथ छल किया, इसका शोषण किया, उपेक्षा, भुखमरी,अशिक्षा, पिछड़ापन,बेकारी,बेबसी को छत्तीसगढ़ की नियति बनाकर रख दिया था। पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी ने एक राज्य के रूप में छत्तीसगढ़ को उसकी पहचान दी और 15 वर्षों के भाजपा के सुशासन ने छत्तीसगढ़ को देश-विदेश के मानचित्र में स्थापित कर छत्तीसगढ़ के गौरव और मान-सम्मान को बढ़ाने का काम किया, छत्तीसगढ़ी को राजभाषा का दर्जा दिया तो आज कांग्रेस वृथा गाल बजाकर अपने मुँह मियां मिठ्ठू बनने पर आमादा नजर आ रही है।

 

 

10-08-2020
छत्तीसगढ़ की प्रथम महिला सांसद मिनीमाता की 48वीं पुण्यतिथि 11 अगस्त को

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 11 अगस्त को छत्तीसगढ़ की प्रथम महिला सांसद मिनीमाता की 48वीं पुण्यतिथि पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल होंगे। वे इस मौके पर न्यू राजेन्द्र नगर सांस्कृतिक भवन स्थित नवनर्मित वातानुकूलित भवन का लोकार्पण करेंगे। मुख्यमंत्री बघेल इस अवसर पर सामाजिक क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए महिलाओं और प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को सम्मानित भी करेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता नगरीय प्रशासन और श्रम मंत्री डॉ.शिवकुमार डहरिया करेंगे। विशिष्ठ अतिथि के रूप में नगर निगम रायपुर के महापौर एजाज ढेबर उपस्थित होंगे। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार कल सवेरे 9 बजे न्यू बस स्टैण्ड स्थित स्व.मिनीमाता की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं पुष्पांजलि कार्यक्रम होगा। इसके बाद दोपहर 12 बजे राजेन्द्र नगर स्थित सांस्कृतिक भवन में नवनिर्मित वातानुकूलित भवन का लोकार्पण होगा।

 

01-08-2020
राज्यपाल की भेजी राखी स्वीकार कर मुख्यमंत्री बघेल ने दी रक्षाबंधन की शुभकामनाएं

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने रक्षाबंधन के पावन पर्व पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को राखी और मिठाई भेजकर रक्षाबंधन की शुभकामनाएं दी। राज्यपाल ने ईश्वर से मुख्यमंत्री की यशस्वी, दीघार्यु और स्वस्थ जीवन प्रदान करने की कामना की। उन्होंने कहा है कि मुझे विश्वास है कि आपके नेतृत्व में प्रदेश सरकार छत्तीसगढ़ को निरंतर प्रगति के पथ पर अग्रसर होता रहेगा।राज्यपाल की भेजी राखी को स्वीकार कर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी उन्हें शुभकामनाएं दीं। भूपेश बघेल ने कहा कि रक्षा बंधन और भुजलिया पर्व के अवसर पर आपने मुझे स्नेह आशीर्वाद और राखी भेजकर जो विश्वास व्यक्त किया है वह मेरे लिए अत्यंत प्रसन्नता तथा सम्मान का विषय है। रक्षाबंधन का यह पर्व हमारे पारिवारिक संबंधों को नए शिखर पर पहुंचाने का माध्यम बना है। उन्होंने कहा है कि यह पावन पर्व हमारी संस्कृति के गरिमामय उत्कर्ष का प्रतीक भी है, जो बहनों के प्रति भाईयों के उत्तरदायित्वों के संकल्पों को सदृढ़ बनाता है।

 

20-07-2020
हरेली पर्व पर जय धरती मां महिला स्व-सहायता समूह ने परंपरा निभाते हुए मुख्यमंत्री को भेट किये सब्जी-भाजी

रायपुर। मुख्यमंत्री निवास में पारंपरिक रीति-रिवाज के साथ हरेली का त्यौहार मनाया गया। हरेली पर्व में परंपरा है कि किसान और उनके परिवार की महिलाएं अपने खेत और बाड़ी की सब्जियां अपने सियान लोगों को भेंट करती हैं। इसी परंपरा को जय धरती मां महिला स्व-सहायता समूह की महिलाओं ने निभाई। अध्यक्ष दुर्गा बाई चक्रधारी सहित लक्ष्मी ध्रुव, आरती साहू सहित समूह की महिलाओं ने मुख्यमंत्री बघेल को सब्जियां भेंट की। लौकी, रमकेलिया, कोहड़ा, बरबट्टी, करेला, तरोई सहित चेचभाजी, पटवा भाजी, अमारी भाजी का गुलदस्ता बनाकर भेंट किए। महिलाओं ने उनकी बाड़ी के भुट्टे भी मुख्यमंत्री को भेंट किए।

06-07-2020
प्रदेश में मुनगा पौधरोपण का विशेष अभियान, स्कूलों, आंगनबाड़ी केन्द्रों और छात्रावासों में रोपे जा रहे मुनगा के पौधे

रायपुर। वन विभाग की ओर से आज 6 जुलाई को राज्य भर में मुनगा पौधरोपण का विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत प्रदेश के समस्त शासकीय स्कूलों, आंगनबाड़ी केन्द्रों और छात्रावास-आश्रमों में मुनगा के पौधे का रोपण किया जाएगा। वन मंत्री मोहम्मद अकबर ने बताया कि यह अभियान मुख्यमंत्री बघेल के कुपोषण मुक्त छत्तीसगढ़ की परिकल्पना को साकार करने में अहम भूमिका निभाएगा। राज्य शासन की ओर से संचालित इस महत्वपूर्ण अभियान को शासन-प्रशासन के साथ-साथ जनप्रतिनिधियों और आम नागरिकों के सहयोग से सफल बनाना है। इस महत्वपूर्ण कार्य को अभियान का रूप देने के लिए राज्य भर में एक ही तिथि 6 जुलाई निर्धारित की गई है। उन्होंने कहा कि मुनगा हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। राज्य के स्कूलों, आंगनबाड़ी केन्द्रों और छात्रावास-आश्रमों में इसके रोपण से मुनगा की सहजता से उपलब्धता होगी वहीं इन संस्थाओं के परिसरों में हरियाली सहित पर्यावरण के संरक्षण तथा संवर्धन को भी बढ़ावा मिलेगा। 

इस संबंध में प्रधान मुख्य वन संरक्षक राकेश चतुवेर्दी ने अभियान को सफल बनाने के लिए सभी वनमंडलाधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि पौष्टिकता से भरपूर मुनगा को आयुर्वेद में महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है। यह डायबिटीज से लेकर कैंसर जैसे भयंकर बीमारियों तक के लिए चमत्कारी होता है। यह भी बताया जाता है कि मुनगा मल्टीविटामिन से भरपूर होता है। इसकी पत्तियों में प्रोटीन के साथ-साथ विटामिन बी-6, विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन ई पाया जाता है। सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि इसमें आयरन, मैगनिशियम, पोटेशियम और जिंक जैसे मिनरल भी पाए जाते हैं।

01-07-2020
शिक्षित बेरोजगारों के सामने आत्मदाह करने की नौबत प्रदेश सरकार की संवेदनहीनता की पराकाष्ठा : विजय शर्मा

रायपुर। भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष विजय शर्मा ने प्रदेश में शिक्षित बेरोजगारों के सामने आत्मदाह करने की नौबत आ जाने को प्रदेश सरकार की संवेदनहीनता की पराकाष्ठा बताया है। उन्होंने मुख्यमंत्री बघेल से तत्काल इस्तीफे की मांग की है। विजय शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री बघेल छत्तीसगढ़ के मूल मुद्दों पर ध्यान देने के बजाय अपने सलाहकारों की लिखी स्क्रिप्ट पढ़ने में ही मशगूल रहते हैं। अब कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व को किसी समझ-बूझ रखने वाले जमीनी नेता को प्रदेश की बागडोर सौंप देनी चाहिए।भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि पाँच लाख युवकों को रोजगार देने और शिक्षित बेरोजगारों को प्रतिमाह 2500 रुपए बेरोजगारी भत्ता देने का वादा करके कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद सारे वादे छलावा साबित हुए हैं। रोजगार नहीं मिलने के कारण अब सब ओर से हताश शिक्षित युवाओं के सामने आत्मदाह करने की नौबत कांग्रेस की सरकार ने पैदा कर दी है।

शर्मा ने कहा कि प्रदेश सरकार अब धमतरी के आत्मदाह का प्रयास करने वाले युवक हरदेव सिन्हा को मानसिक रोगी बताकर अपनी जान छुड़ाने पर आमादा नजर आ रही है, जबकि हरदेव की पत्नी व पिता ने उसके मानसिक रोगी होने की बात को सिरे से खारिज किया है। प्रदेश सरकार बताए कि आखिर लॉक डाउन के समय प्रभावितों को राशन व अन्य सहायता सामग्री मुहैया कराने की जो बड़ी-बड़ी डींगें हाँकी जा रही हैं तो हरदेव के परिवार के हक व हिस्से का राशन और चावल कौन खा गया? शर्मा ने तंज कसा कि जिन कांग्रेस नेताओं को पकौड़े तलकर बेचने की सलाह में कोई रोजगार नहीं दिख रहा था, उसी कांग्रेस की सरकार को अब शिक्षित बेरोजगारों को शराब डिलीवरी ब्वॉय बनाने में रोजगार नजर आ रहा है।

27-06-2020
खरीफ फसल के लिए 7.65 किसानों को मिला 2 हजार 721 करोड़ रुपए का ब्याज मुक्त ऋण

रायपुर। राज्य सरकार प्रदेश में खेती किसानी को बढ़ावा देने और किसानों को समय पर खाद, बीज सहित अन्य कृषि आदानों की उपलब्धता के लिए सहकारी समितियों के माध्यम से ब्याज मुक्त कृषि ऋण उपलब्ध करा रही है। इस वर्ष खरीफ में राज्य के किसानों को 4 हजार 600 करोड़ रुपए का ऋण वितरण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। लक्ष्य के  विरुद्ध चालू खरीफ फसल के लिए अब तक 7.65 लाख किसानों को 2 हजार 721 करोड़ रुपए का ब्याज मुक्त अल्पकालीन कृषि ऋण सहकारी समितियों के माध्यम से वितरित किया गया है। जबकि गत वर्ष इसी अवधि तक एक हजार 538 करोड़ रुपए का कृषि ऋण वितरित किया गया था। इस प्रकार किसानों को इस खरीफ में अब तक 1183 करोड़ रुपए का अधिक ऋण वितरण हो चुका है।मुख्यमंत्री बघेल के निर्देश पर किसानों को ऋण और खाद-बीज के वितरण के लिए सहकारी समितियों में बेहतर व्यवस्था तय की गई है। खरीफ फसलों के लिए सहकारिता के माध्यम से कुल 6.35 मीट्रिक टन रासायनिक खाद के भंडारण का लक्ष्य रखा गया है। 26 जून तक सहकारी समितियों में 5.77 लाख मी.टन खाद का भंडारण किया जा चुका है,जो कि कुल लक्ष्य का 90.81 प्रतिशत है। सहकारी समितियों की ओर से 4.53 लाख टन खाद का वितरण किसानों को किया जा चुका है, जो कि लक्ष्य का 71 प्रतिशत है। जबकि पिछले साल इसी समय तक सहकारी समितियों की ओर से 2.43 लाख मी.टन रासायनिक खाद का वितरण किया गया था।

गत वर्ष की तुलना में इस साल 2.10 लाख टन अधिक खाद का वितरण सहकारी समितियों की ओर किया गया है।खरीफ फसल के लिए  बीज निगम की ओर से सहकारी समितियों के माध्यम से 5.88 लाख क्विंटल उन्नत किस्मों के प्रमाणित बीज का भंडारण कराया गया है। 26 जून की स्थिति में कुल 4.52 लाख क्विंटल का उठाव किसानों ने कर लिया है। गत वर्ष इसी अवधि में सहकारी समितियों में 4.98 लाख क्विंटल प्रमाणित बीज का भंडारण और 2.88 लाख क्विंटल का वितरण किसानों को किया गया था। इसी अवधि की तुलना में गत वर्ष से 1.64 लाख क्विंटल का प्रमाणित बीज अधिक वितरित किया गया है।इस वर्ष राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) ने भी छत्तीसगढ़ राज्य को अब तक 1150 करोड़ रुपए की विशेष और अतिरिक्त साख सीमा स्वीकृत की गई है। इसके विरुद्ध अब तक 740 करोड़ रुपए का आहरण राज्य सहकारी बैंकों ने कर लिया है। राज्य सरकार की किसान न्याय योजना के अंतर्गत प्रथम किस्त के रूप में 18.35 लाख किसानों के खाते में 1492 करोड़ रुपए जमा किए जाने से खेती के प्रति किसानों में रूझान और भी बढ़ा है।देश में जारी कोविड-19 महामारी के दौर में भी राज्य के कृषि क्षेत्र में हुई वृद्धि सुखद और सुकूनदायक है। मानसून के समय पर आगमन एवं कृषि आदान की समय पर अच्छी व्यवस्था से राज्य में इस वर्ष खरीफ फसल के अच्छे उत्पादन की संभावना बढ़ गई है, जिससे किसानों और ग्रामीण क्षेत्रों की अर्थव्यवस्था में और भी सुधार होने के अच्छे संकेत दिख रहे हैं। सहकारी समितियों की कृषि आदान व्यवस्था को चुस्त एवं गतिशील करने के लिए कृषि विभाग के साथ ही सहकारिता विभाग, पंजीयक सहकारी संस्थाएं, छत्तीसगढ़ प्रबंध संचालक विपणन संघ एवं छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी बैंक, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंकों की भी अहम भूमिका रही है। राज्य स्तर पर प्रतिदिन कृषि आदानों की मॉनिटरिंग किए जाने से ही कृषि आदान के क्षेत्र में अच्छी स्थिति निर्मित हुई है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804