GLIBS
05-01-2020
पांच दिवसीय महापुराण कथा का हुआ समापन

मुंगेली। देवांगन समाज द्वारा पांच दिवसीय माता परमेश्वरी महोत्सव एवं महापुराण कथा का भव्य आयोजन किया गया। इसका समापन रविवार को हवन पूजन के पश्चात विशाल रैली, झांकी निकालकर की गई। इसमें समाज के लोगों के साथ-साथ बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल रही। रैली में कलश यात्रा भी निकाली गई। कथावाचक किशनराव चाम्पा वाले द्वारा प्रतिदिन माता परमेश्वरी की कथा का वाचन किया गया। रात्रि में माता की भक्ति में जसगीत का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के रंगोली प्रतियोगिता, मेंहंदी प्रतियोगिता, थाली सजावट प्रतियोगिता एवं रात्रि माता का जगराता का आयोजन किया गया। अंतिम दिवस सुबह युवाओं द्वारा बाईक रैली निकाली गई। जो नगर के विभिन्न मार्गो से होते हुए कार्यक्रम स्थल पहुंची। सुबह हवन-पूजा पाठ, कन्या भोज के पश्चात विशाल रैली एवं शोभायात्रा निकाली गई। रैली के पश्चात माता परमेश्वरी की मूर्ति को पूजा-अर्चना कर विसर्जित किया गया। रात्रि में विशाल भण्डारे का आयोजन किया गया। इसमें हजारों की संख्या में भक्त भण्डारे में शामिल हुए।

03-01-2020
मेहंदी, रंगोली प्रतियोगिता में बालिकाओं ने लिया उत्साह से हिस्सा

मुंगेली। देवांगन समाज द्वारा 5 दिवसीय माता परमेश्वरी महोत्सव का आयोजन देवांगन मोहल्ला स्थित भट्ठबाड़ा में किया जा रहा है। कार्यक्रम के तीसरे दिन शुक्रवार को माता की आरती के बाद मेहंदी व रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। मेंहदी प्रतियोगिता में निशा देवांगन,कविता, मनीषा, शीतल,अर्चिता,दीपा देवांगन एवं रंगोली प्रतियोगिता में अमृता देवांगन,चरिता,भुनेश्वरी,सनम, श्रुति,मेधा,वर्षा,आरुषि,सौम्या,नम्रता,प्राची,मैथली,आकांक्षा,प्रिंसी,विभा,विषा,उमेश्वरी,ऋतु,खुशबू, अनिशा,अमिषा,खुशी एवं निशा ने भाग लिया। प्रतियोगिता में बालिकाओं ने उत्साहपूर्वक भाग लेकर आकर्षक रंगोली एवं मेंहंदी का प्रदर्शन किया। दोपहर 2 बजे से कथावाचक किशनराव चाम्पा वाले द्वारा गोत्र उत्पत्ति कथा, प्रवचन किया गया। शाम में भव्य आरती थाली सजावट प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। रात्रि में बच्चों के द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। तत्पश्चात जसगीत सेवा मण्डली द्वारा माता के जसगीत का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का बड़ी संख्या में श्रद्धालुजनों ने लुत्फ उठाया। 4 जनवरी शनिवार को सुबह अतिथि का सम्मान एवं पुरस्कार वितरण का कार्यक्रम रखा गया है।

14-12-2019
रंगोली स्पर्धा में छात्राओं ने दिखाई प्रतिभा

मुंगेली। व्यापार मेला के तीसरे दिन दिवस के कार्यक्रम में बच्चों की अच्छी सहभागिता रही। तीसरे दिन दोपहर जूनीयर एवं सीनियर वर्ग के लिए रंगोली प्रतियोगिता आयोजित की गई। रंगोली प्रतियोगिता में दोनों वर्गों के लगभग 60 प्रतिभागियों ने भाग लिया। चित्रकला के लिए विषय निर्धारित किया गया था। जूनियर वर्ग में प्रथम स्थान- आकृति उपाध्याय,द्वितीय स्थान- आकर्षि जैन एवं प्रियांशी सोनी ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। सीनियर वर्ग के लिए ऐतिहासिक स्थल विषय पर रंगोली बनाने बच्चे उपस्थित हुए और प्रतिभागियों ने शानदार जीवंत रंगोली बनाकर लोगों का दिल जीत लिया। सीनियर वर्ग में प्रथम स्थान-वर्षा देवांगन,द्वितीय स्थान- अपर्णा ध्रुव एवं ज्योति चंद्राकर ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। रंगोली प्रतियोगिता की निर्णायक श्वेता कोटडिया, स्नेहा केशरवानी एवं सुलोचना पाण्डेय रहीं। मुंगेली व्यापार मेला का मंच केवल मनोरंजन तक सीमित नहीं है, अपितु यह आयोजन प्रतिभा को अवसर और सम्मान देना भी है। इस कार्यक्रम के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रभारी आशीष सोनी,सतपाल मक्कड़, अनुराग सिंह, सूरज मंगलानी ने अच्छा प्रयास किया था। कार्यक्रम का संचालन संयोजक रामपाल सिंह ने किया। स्वागत भाषण महावीर सिंह एवं आभार प्रदर्शन रामशरण यादव ने किया। मुंगेली व्यापार मेला में स्वच्छता का भी विशेष ध्यान रखा जा रहा है। गोकुलेश परिहार ने बताया कि टीम के सभी सदस्य मेला में स्वच्छता हेतु स्वयं भाग लेते हैं, वहीं मंच से भी इस हेतु प्रेरित किया जाता है। दूसरे दिन के रात्रिकालिन कार्यक्रम में सीनियर वर्ग के बच्चे वेस्टर्न स्टाइल डांस प्रतियोगिता से लोगों को प्रभावित करने वाले हैं। सायं 7 बजे से नगर के बच्चे अपने नृत्य से नगरवासियों का मन मोह लेंगे ।

 

18-11-2019
नि:शुल्क आयुष शिविर में 106 लाभार्थियों पर किया गया मिट्टी-पट्टी चिकित्सा का प्रयोग

रायपुर। शासकीय खुदादाद डूंगाजी आयुर्वेद महाविद्यालय अस्पताल परिसर में आज आयुष संचालनालय के तत्वावधान में द्वितीय प्राकृतिक चिकित्सा दिवस के अवसर पर नि:शुल्क शिविर आयोजित किया गया। इस अवसर पर आयुष योग वेलनेस सेंटर में 106 लाभार्थियों पर मिट्टी-पट्टी चिकित्सा का प्रयोग किया गया। आज प्राकृतिक एवं योग चिकित्सक डॉ. विवेक भारतीय द्वारा 'प्राकृतिक चिकित्सा परिचय एवं स्वस्थ जीवन के लिए प्राकृतिक चिकित्सा का महत्व' विषय पर व्याख्यान प्रस्तुत किया गया जिसमें मिट्टी चिकित्सा, जल चिकित्सा, उपवास आदि प्राकृतिक चिकित्सा के महत्व को विस्तार से बताया गया व स्वस्थ रहने पर जोर दिया गया। वहीं लोगों को आहार विहार की जानकारी दी गई। लोगों को किस ऋतु में कैसा भोजन लेना है। इसकी जानकारी दी गई। डॉ. भारतीय ने बताया कि पारंपरिक भारतीय चिकित्सा प्रणाली को आयुष के नाम से जाना जाता है जो आयुर्वेद, योग, प्राकृतिक, यूनानी, सिद्व और होम्योपैथी का संक्षिप्त नाम है। इन चिकित्सा पद्धतियों को विधिवत संहिताबद्ध किया गया है। भारत सरकार द्वारा 9 नवंबर 2014 को आयुष मंत्रालय का गठन कर मान्यता प्रदान किया गया है। प्राकृतिक चिकित्सा में इलाज की दवा मुक्त प्रणाली होती है। जहां शरीर की स्व-अरोग्य क्षमता, अविषाक्तता के अलावा सेहतमंद जीवन के सिद्वांतों के आधार पर प्राकृतिक तत्वों से इलाज किया जाता है। महात्मा गांधी जी शरीर को संयमित और स्वस्थ्य रखने के लिए उपवास चिकित्सा का उपयोग किया करते थे। प्राकृतिक चिकित्सा इलाज की पारंपरिक प्रणाली है जो जीवन और स्वास्थ्य को संचालित करने वाले प्राकृतिक सिद्वांतों पर आधारित है। प्राकृतिक चिकित्सा प्रणाली के मुताबिक पूरा ब्रम्हाड पांच बुनियादी तत्वों आकाश, वायु, अग्नि , जल, पृथ्वी और मानव की रचना भी इन्हीं तत्वों से हुई है। आयुर्वेदिक अस्पताल के अधीक्षक डा. प्रवीण कुमार जोशी द्वारा प्राकृतिक चिकित्सा एवं पंचमहाभूत के बारे में बताया कि संसार में जितनी भी चिकित्सा पद्धतियां हैं। उनमें जल चिकित्सा सबसे प्राचीन है। मानव शरीर के पांच निर्माण कारक तत्वों में से एक तत्व जल है। शरीर में जल की कमी से जहां अनेक रोगों का कारण बनती है। वहीं जल समुचित मात्रा में रोगों को दूर करती है। त्वचा रोग, कब्ज, अनिद्रा, थकान, मिर्गी, उच्च रक्तचाप, पाचन क्रिया संबंधित विकार आदि अनेक रोगों में जल चिकित्सा बेहद असरदार होती है। प्राकृतिक चिकित्सा में इस्तेमाल की जाने वाली विधियों में उपवास, आहार, मिट्टी, जल, मालिश, सूर्य किरण, वायु व योग चिकित्सा है। मिट्टी चिकित्सा प्राकृतिक के अंतर्गत आने वाली ऐसी विधि है जिसमें विकारों को दूर करने तथा स्वास्थ्य संवर्धन के लिए मिट्टी का विभिन्न रूपों में प्रयोग किया जाता है। यह शरीर को शीतलता प्रदान करती है तथा शरीर के दूषित पदार्थों को घोलकर एवं अवशोषित कर शरीर से बाहर निकाल देती है। सिर दर्द एवं उच्च रक्तचाप आदि में पेट के साथ-साथ माथे पर भी मिट्टी की पट्टी रखने से लाभ द्विगुण हो जाता है। कार्यक्रम समन्वयक डॉ अनिता शर्मा ने बताया कि लोगों को संदेश देने प्रथम दिवस जागरुकता रैली निकाली गई।  वहीं महात्मा गांधी एवं नेचर क्योर विषय पर निबंध व रंगोली प्रतियोगिता भी महाविद्यालय के छात्र व छात्राओं के लिए आयोजित की गई। इस कार्यक्रम में रायपुर शहर के जनमानस महाविद्यालय के शिक्षकगण एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे। कार्यक्रम के अंत में सभी जनसामान्य को अंकुरित आहार व काढ़ा वितरण किया गया।

 

23-10-2019
धनतेरस के शुभमुहूर्त पर 11 हजार दीपों से जगमगाएगा महावीर तालाब

डोंगरगढ़। श्री हनुमान भक्त युवा समिति के तत्वावधान में 25 अक्टूबर संध्या 6 बजे से धनतेरस के दिन दीपोत्सव का आयोजन किया गया है जिसमें समिति द्वारा लक्ष्य लेकर 11 हजार दीपों का प्रज्ज्वलन किया जाएगा। समिति के हनी गुप्ता ने बताया कि  पिछले वर्ष 5100 दीपों का प्रज्ज्वलन कर एक लक्ष्य व थीम तैयार की गई थी जिसे 'संकल्प राम मंदिर निर्माण'  रखा गया था। ठीक उसी प्रकार इस वर्ष धनतेरस के दिन थीम 'भव्य राम मंदिर' रख 11 हजार दीपों का प्रज्ज्वलन किया जाएगा। साथ ही संगीतमय हनुमान चालीसा का पाठ, भारत माता की आरती व शक्ति  वाहिनी द्वारा रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन रखा गया है। सभी प्रतिभागियों को आकर्षक पुरस्कार दिया जाएगा। समिति के कमल किशोर शर्मा ने प्रदेश सरकार व कलेक्टर को कुम्हारों की हस्तकला के प्रति ध्यान आकर्षण हेतु आभार व्यक्त किया व समस्त नगरवासियों से अपील की है कि इस भव्य आयोजन में अधिक से अधिक संख्या में लोग जुड़ें व इस पर्व में दीप, तेल, बाती या आर्थिक सहयोग प्रदान कर आयोजन की सफल बनाएं।

 

07-02-2019
सौ विद्यार्थियों ने यातायात के प्रति जागरूकता लाने बनाई रंगोली

भिलाई। गुरुवार को सिविक सेंटर में आयोजित रंगोली प्रतियोगिता में स्कूल व कॉलेज के छात्र-छात्राओं ने रंगोली बनाकर यातायात नियमों के पालन करने संदेश दिया। प्रतियोगिता में विभिन्न प्रशिक्षण संस्थाओं से लगभग 100 प्रतिभगियों ने हिस्सा लिया। इसमें श्रेष्ठ रंगोलियों को प्रथम,  द्वितीय व तृृतीय पुरुस्कार सप्ताह के समापन दिवस पर 10 फरवरी को दिया जाएगा। सुपेला चौक एवं चंद्रा—मौर्या चौक पर कल्याण कॉलेज के विद्यार्थियों ने नुक्कड़ नाटक के माध्यम मे लोगों को यातायात नियमों की जानकारी दी। 8 फरवरी को सुबह 8 बजे ग्लोब चौक से मुर्गा चौक तक यातायात जागरुकता के लिए साइकिल रैली का आयोजन किया गया है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804