GLIBS
23-12-2020
सिंहदेव उपवास की नौटंकी के बजाय किसानों को  समय पर पूरा भुगतान कराने की सार्थक पहल करेंः मूणत

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव द्वारा किसान दिवस के दिन बुधवार को किए गए उपवास को महज़ राजनीतिक नौटंकी निरूपित किया है। मूणत ने कहा कि जो प्रदेश सरकार किसानों के हित की बड़ी बड़ी डींगें हाँकने और तुग़लक़ी फ़रमानों से किसानों को परेशान करने के अलावा कोई काम नहीं कर रही है, उस सरकार और उसके मंत्रियों को किसानों के नाम पर ढोंग करना शोभा नहीं देता।
भाजपा प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री मूणत ने मंगलवार को धरसींवा, कचना और साँकरा क्षेत्र के किसानों से हुई चर्चा का हवाला देकर कहा कि इन धान ख़रीदी केंद्रों में जिन किसानों का धान विगत 3 दिसम्बर को बिका है, प्रदेश सरकार ने अब तक उनके खातों में भुगतान की राशि जमा नहीं कराई है। यह केंद्र सरकार के कृषि क़ानूनों के उस प्रावधान की स्पष्ट अवमानना है, जिसके मुताबिक़ किसानों को उनकी उपज का पूरा भुगतान 72 घंटों के भीतर किया जाना है।

मूणत ने सवाल किया कि जब केंद्र सरकार ने धान ख़रीदी के लिए 9 हज़ार करोड़ रुपए प्रदेश सरकार को काफ़ी पहले ही प्रदान कर दिए हैं तो फ़िर प्रदेश सरकार किसानों का भुगतान करने में आनाकानी क्यों कर रही है। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व मंत्री मूणत ने कहा कि  एक तरफ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कोरी सियासी नौटंकियाँ करके नारेबाजी और झूठे दिलासे देकर किसानों के साथ केवल छलावा करने में लगे हैं वहीं उनके मंत्री सिंहदेव अब उपवास पर बैठकर राजनीतिक पाखंड कर रहे हैं। मूणत ने मंत्री सिंहदेव को याद दिलाया कि वे किसानों को पिछले वर्ष की अंतर राशि का भुगतान किए बिना नई धान खरीदी करने पर इस्तीफ़ा देने की बात कर रहे थे और मुख्यमंत्री बघेल पिछले वर्ष की अंतर राशि का भुगतान आगामी मार्च में करने बात कह चुके हैं। मंत्री सिंहदेव अपनी ही कही बात से मुँह चुराते क्यों नज़र आ रहे हैं। मूणत ने कहा कि मंत्री सिंहदेव को अब उपवास की नौटंकी करने के बजाय या तो किसानों को पिछला भुगतान किए बिना नई धान खरीदी होने पर इस्तीफ़ा देना चाहिए या फिर किसानों का पुराना भुगतान कराने और ताज़ा धान ख़रीदी का समय पर पूरा भुगतान कराने की सार्थक पहल करनी चाहिए ताकि प्रदेश के किसानों का भला हो सके।

 

14-12-2020
किसान विरोधी कांग्रेस देश में अराजकता फैलाने का काम कर रही: राजेश मूणत

महासमुन्द। स्थानीय भाजपा कार्यालय में सोमवार को पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने केन्द्र सरकार के कृषि बिल पर पत्रकारों से बातचीत में कहा कि कांग्रेस पूरे देश में किसानों को भड़का कर कृषि बिल पर राजनीति कर रही है। कांग्रेस पूरे देश में शुरू से ही तोड़फोड़ की राजनीति कर देश को बांटने का काम कर रही है। केन्द्र सरकार ने जब कि स्पष्ट कर दिया है कि समर्थन मूल्य में धान खरीदी जारी रखेगी।। मूणत ने कहा कि यही कांग्रेस है,जो कभी कृषि बिल लाना चाहती थी। जिसे नरेन्द्र मोदी की सरकार पूरा किया है। मोदी सरकार चाहती है कि किसानों को उनके उपज की पूरी कीमत मिले और देश का किसान समृद्ध हो। कल तक जो किसान अपने उपज को औनपौने दाम पर बेचने मजबूर थी लेकिन अब कृषि बिल के आने से किसान अपने फसल की कीमत खुद तय कर सकेगी।

ये हक किसानों को कृषि बिल से अब मिलेगी। किसानों के नाम पर कांग्रेस राजनीत कर देश मे अराजकता का वातावरण बना रही है, देश को बांटने का काम कर रही है। स्थानीय भाजपा कार्यालय के प्रेसवार्ता में क्षेत्र के सांसद चुन्नीलाल साहू, भाजपा जिलाध्यक्ष रूपकुमारी चौधरी, नपाध्यक्ष प्रकाश चन्द्राकर, पूर्व विधायक डॉ.विमल चोपड़ा, पूनम चंद्रकार, परेश बागबाहरा, सरला कोसरिया, इंद्रजीत गोल्डी उपस्थित थे।

 

09-11-2020
भूपेश बघेल को उन्हीं के लोग आइना दिखा रहे : राजेश मूणत

रायपुर/बिलासपुर। बिलासपुर विधायक शैलेश पांडे के पुलिस की ओर से वसूली किए जाने के आरोप पर पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि यह बिलासपुर ही नहीं कांग्रेस सरकार की सच्चाई है और सच्चाई को कितने दिन तक दिल में छुपा कर रख सकते हैं, जुबा बयां कर ही देती है। प्रदेशभर में अपराध भ्रष्टाचार बढ़ावा देने अपराधियों को संरक्षण देने के कारण वैसे ही भूपेश सरकार के हाथ पुलिस विभाग से दबे हुए हैं। यही आक्रोश जनप्रतिनिधि के जरिए दिखाई दे रहा है।मूणत ने कहा है कि विभाग के ही थाने के उद्घाटन में विधायक अपने ही पुलिस के पर वसूली का आरोप लगाए, तो आप समझ सकते हैं वह कितना असहाय है। यह एक शहर विशेष की बात ही नहीं वरन पूरे प्रदेश में भूपेश बघेल के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बनते ही अपराध और अपराधियों को संरक्षण देने का क्रम जारी है,जो दिन प्रतिदिन बढ़ते ही जा रहा है।

यदि जिम्मेदारों की मनोवृति ही ऐसी रहेगी तो पुलिस कर भी क्या सकती है। जिस तरीके से जिम्मेदार विधायक ने रेट लिस्ट लगवा कर काम का दर तय करने की बात कही, यह इस सरकार के कार्य प्रणाली को दशार्ती है। यह विडंबना ही है कि जिस राज्य की पहचान डॉ. रमन के नेतृत्व में भाजपा शासन काल में भयमुख रहित विकासोन्मुखी की थी। उस राज्य में भय और आतंक के सहारे भ्रष्टाचार फैलाया जा रहा है। भाजपा लगातार पुलिस प्रशासन की खामियों को उजागर करती रही है। कांग्रेस विधायक का उक्त  कथन भाजपा के आरोपों की पुष्टि करता है । सभी को आइना भेजने वाले भूपेश बघेल को अब उन्हीं के लोग आइना दिखाने का काम कर रहे हैं।

 

21-10-2020
भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष अमित साहू ने किया पदभार ग्रहण,साय ने कहा- पुन: 2023 में जनता की सेवा का लक्ष्य बनाए

रायपुर। भारतीय जनता युवा मोर्चा के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष अमित साहू ने युवाओं के भारी उत्साह, जोश व स्वागत के बीच तेलीबांधा चौक स्थित दीनदयाल की प्रतिमा को दंडवत प्रणाम कर एकात्म परिसर के लिए निकले। मार्ग की तमाम महापुरुषों की प्रतिमाओं का आशीर्वाद लेकर एकात्म परिसर में अध्यक्ष का पदभार ग्रहण किया। भाजयुमो के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष अमित साहू का विभिन्न चौराहों पर युवा मोर्चा रायपुर जिला व मंडलों की टीम ने आतिशबाजी और ढोल धमाकों से जोरदार स्वागत किया। एकात्मक परिसर भाजपा कार्यालय के शपथ ग्रहण समारोह में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि आज ही के दिन जनसंघ की स्थापना हुई थी। उनके कार्यों से प्रेरणा लेकर युवा मोर्चा पुन: 2023 में जनता की सेवा का लक्ष्य बनाए। भाजपा के वरिष्ठ विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि अथक संघर्ष के कोख से जन्मी भाजपा के लिए अब एक-एक दिन मेहनत करने का है । इसके नेतृत्व की जिम्मेदारी युवा मोर्चा की है। आपको अपने प्रदेश ,जिले ,गांव, वार्ड के लोगों की दर्द पहचान कर उनकी आवाज बनकर उनके लिए संघर्ष करना है।
छत्तीसगढ़ के भाजयुमो के प्रथम अध्यक्ष व पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने कहा कि प्रदेश भर में कांग्रेस शासन ने भय का वातावरण बनाया है। युवा मोर्चा को अपने संघर्षों से जनता का साहस बनना है। उन्होंने लक्ष्य प्राप्ति का मंत्र देते हुए कहा कि पांव में गति, सीने में आग और दिमाग में बर्फ रखकर कार्य करने से सफलता निश्चित ही मिलती है। भाजपा प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने युवाओं में जोश भरते हुए कहा कि हमें अपने उत्साह से सरकार की गलत नीतियों का बांध तोड़ना है।
नवनियुक्त भाजयुमो अध्यक्ष अमित साहू ने पदभार ग्रहण के बाद वरिष्ठों का आभार व्यक्त किया। कहा कि मुझ जैसे छोटे कार्यकर्ता को प्रदेश अध्यक्ष का पद मिलना यह भाजपा में ही संभव है और यह पद नही दायित्व है। जिसका कर्ज हम सब को साथ मिलकर जनता की सेवा कर चुकाना है। समारोह के प्रारंभ में निर्वित्तमान भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष विजय शर्मा ने अपने 4 साल का कार्यवृत्त प्रस्तुत किया। भाजयुमो प्रदेश मीडिया प्रभारी अनुराग अग्रवाल ने कहा कि शपथ ग्रहण समारोह में भाजपा के वरिष्ठ नेता सच्चिदानंद उपासने, मोती साहू, चंद्रशेखर साहू ,भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी, ओपी चौधरी, भाजयुमो के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अभिषेक सिंह, भाजयुमो के राष्ट्रीय कार्यकारी सदस्य सुशांत शुक्ला, विक्रांत सिंह , मंच संचालन संजू नारायण सिंह ,अनुराग अग्रवाल ,राजेश पांडेय, अमित मैसेरी, तुषार चोपड़ा, सुनील चौधरी, टेकेश्वर सिन्हा, सभी भाजयुमो जिला अध्यक्ष व प्रदेश पदाधिकारी उपस्थित थे।

07-10-2020
भाजपा ने प्रदेश सरकार पर बोला हमला,किसानों के मुद्दों पर प्रदेशभर में धरना प्रदर्शन,राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

रायपुर। भाजपा प्रदेश इकाई के आह्वान पर बुधवार को किसानों से जुड़े मुद्दों पर प्रदेश सरकार को झकझोरने के लिए प्रदेशभर में ब्लॉक स्तर पर धरना-प्रदर्शन किया गया। एसडीएम के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन भेजा गया। इधर राजधानी के बूढ़ापारा धरना स्थल पर विरोध दर्ज कराकर भाजपा नेता राजभवन पहुंचे। भाजपा ने राज्यपाल अनुसुइया उईके को ज्ञापन सौंपा। भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश इकाई ने दोहराया है कि केंद्र सरकार के फैसलों का पूरा लाभ किसानों को देकर प्रदेश सरकार इस वर्ष धान खरीदी का काम भाजपा शासनकाल की तरह ही 1 नवंबर से प्रारंभ करें। पिछले वर्ष की तरह किसानों के साथ अपराधियों जैसा व्यवहार न करें। प्रति एकड़ 20 क्विंटल धान खरीदे जाने की मांग करते हुए भाजपा ने कहा है कि केंद्र सरकार ने अब पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष डेढ़ गुना ज्यादा चावल केंद्रीय पूल में लेने का फैसला किया है। प्रदेश सरकार अब ईमानदारीपूर्वक किसानों के साथ किए गए अपने सभी वादों को पूरा करें।राजधानी में भाजपा नेताओं ने धरना-प्रदर्शन कर प्रदेश सरकार को आड़े हाथों लिया।

भाजपा नेताओं ने प्रदेश सरकार को आगाह किया कि वह किसानों से जुड़े मुद्दों पर संवेदनशील होकर काम करें, ताकि किसानों का जीवन खुशहाल हो सके। ट्रैक्टर पर सवार होकर धरनास्थल पहुंचे भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि यह दुर्भाग्य की बात है कि 60 साल तक कांग्रेस के राज में किसानों को कांग्रेस ने दिनों-दिन प्रताड़ित कर उन्हें आत्महत्या करने पर मजबूर किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने किसानों के हित में क्रांतिकारी निर्णय लेने का काम किया है तब किसानों का शोषण करने वाली कांग्रेस विरोध कर रही हैं।पूर्व मंत्री व विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि जब हम किसानों के हितों की लड़ाई लड़ रहे हैं, तब कांग्रेस के लोग हाथरस पर धरना दे रहे हैं। क्या इन्हें छत्तीसगढ़ के सरगुजा का बलरामपुर नहीं दिख रहा, क्या इन्हें बस्तर का कोंडागांव नहीं दिख रहा? कैसी संवेदनहीन सरकार है! प्रदेश सरकार और कांग्रेस के नेता पहले अपना प्रदेश देखें, बाद में अन्य राज्यों के मुद्दों पर धरना दें। अग्रवाल ने कहा कि जब हमारी पार्टी की सरकार थी, तब हम 1 नवंबर से धान खरीदी करते थे ताकि दीपावली से पहले किसान भाई के घर धान का पैसा मिल जाए। ये सरकार दिसंबर में खरीदी की बात करते हैं। प्रदेश के किसानों को पिछले वर्ष के धान का भुगतान नहीं हुआ है। प्रधानमंत्री मोदी ने जो किसानों के हित में कानून लाया है, उसमें तो इस सरकार को जेल में होना चाहिए।

इस कानून में किसानों को उनकी उहज के मूल्य का 72 घंटे में भुगतान का प्रावधान है और प्रदेश की यह कांग्रेस सरकार इस किसान हितैषी बिल का विरोध कर रही है।धरना प्रदर्शन को प्रदेश के पूर्व मंत्री राजेश मूणत, पूर्व मंत्री और विधायक अजय चंद्राकर ने भी संबोधित किया। इस मौके पर संसद सदस्य सुनील सोनी, प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष मोतीलाल साहू, रायपुर शहर जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी, पूर्व विधायक नंदे साहू, भाजयुमो के प्रदेश अध्यक्ष अमित साहू, सच्चिदानंद उपासने, राजीव अग्रावाल, प्रफुल्ल विश्वकर्मा, सूर्यकांत राठौर, केदारनाथ गुप्ता, श्यामसुंदर अग्रवाल, अशोक पांडेय, डॉ.सलीम राज, सत्यम दुवा, सुभाष तिवारी, बजरंग खंडेलवाल, हेमेंद्र साहू, लक्ष्मी वर्मा, मीनल चौबे, शैलेंद्री परगनिया, नवीन शर्मा, राजेश पांडेय, अनुराग अग्रवाल, डॉ.अखिलेश दुबे,अमरजीत छाबड़ा, ललित जयसिंह, गीता ठाकुर, गोपी साहू, उमेश घोरमोडे ,जितेंद्र गोलछा, विजय जयसिंघानी, संजूनारायण सिंह ठाकुर, गौरीशंकर श्रीवास, अजय साहू, सुभाष अग्रवाल, आशु चंद्रवंशी, किशोर महानंद आदि उपस्थित थे। 

 

03-09-2020
प्रदेश सरकार का बार और क्लब संचालकों के प्रति कुछ ज्यादा ही अनुराग उमड़ रहा : राजेश मूणत 

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ  नेता व पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने प्रदेश सरकार की ओर से बार और क्लब के लिए वार्षिक लाइसेंस फीस माफ करने के फैसले पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा है कि, प्रदेश सरकार का बार और क्लब संचालकों के प्रति कुछ ज्यादा ही अनुराग उमड़ता नजर आ रहा है। खोमचे-ठेले चलाकर अपने परिवार का जैसे-तैसे भरण-पोषण कर रहे लघु व्यापारियों के प्रति प्रदेश सरकार का कोई सकारात्मक और संवेदनापूर्ण दृष्टिकोण अब तक नजर नहीं आया है। पूर्व मंत्री मूणत ने कहा है कि, प्रदेश सरकार ने अप्रैल से अगस्त तक 5 माह के लिए बार व क्लब संचालकों के लिए वार्षिक लाइसेंस फीस माफ और एफएल क्लब लाइसेंस के लिए चालू वर्ष में निर्धारित न्यूनतम प्रत्याभूत मात्रा में कमी करके यह साबित कर दिया है कि, गरीबों और लघु व्यवसायियों के लिए उससे किसी तरह की संवेदनशील पहल की उम्मीद करना बेमानी है। मूणत ने कहा है कि, प्रदेश एक तरफ गहरे अर्थसंकट के दौर में है, तब भी प्रदेश सरकार कोरोना काल की आड़ लेकर बार-क्लब की लाइसेंस फीस माफ करके प्रदेश की राजस्व आय को चूना लगा रही है। उसी कोरोना काल से जूझते हुए खोमचे-ठेले चलाकर अपने परिवार का जैसे-तैसे भरण-पोषण कर रहे लघु व्यापारियों के लिए उसकी संवेदना को काठ क्यों मार गया है? मूणत ने कहा है कि, सरकारी स्कूल-कॉलेजों में दाखिले से लेकर हर मद की पूरी फीस ले रही। सरकार बताए कि, यह कहां का न्याय है कि, एक तरफ सरकार शराब के धंधे में लगे लोगों पर मेहरबान होकर सरकारी खजाना लुटाने में भी नहीं हिचकिचा रही है। दूसरी तरफ रोजमर्रा के संघर्षों से जूझते लोगों को राहत पहुंचाने की कोई योजना ही उसने नहीं सोची है।

29-06-2020
वर्चुअल रैली की सफलता से बौखलाए भूपेश बघेल, क्या कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व पर भरोसा नहीं? : राजेश मूणत

रायपुर। पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने चीन के संबंध में दिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के बयान को थोथा चना बाजे घना कहा है। मूणत ने कहा कि सीएम बघेल के पास कितना अतिरिक्त समय है,जो जनता द्वारा दी गई राज्य की जिम्मेदारी को छोड़ दिन-रात दिल्ली के पीछे लगे रहते हैं। उन्होंने सवाल किया कि क्या भूपेश बघेल को भी कांग्रेस के अपने राष्ट्रीय नेतृत्व पर भरोसा नहीं है, जो अपना सारा कामकाज छोड़ कर चंद सलाहकारों के ड्राफ्ट किये प्रेस विज्ञप्तियों पर राष्ट्रीय विषयों पर अपना समय बर्बाद करते रहते हैं? मूणत ने कहा कि प्रदेश भाजपा अनेक बार यह कह चुकी है कि छत्तीसगढ़ में सत्ता में होने के कारण मुख्यमंत्री यहां की जनता और विपक्ष के सवालों के प्रति जवाबदेह हैं। उन्हें जवाबदेह बनना है न कि सवाल उठाने हैं। मूणत ने कहा कि भाजपा की ऐतिहासिक रूप से सफल अनूठे वर्चुअल रैली और जनसंवादों की सफलता से भूपेश बघेल बौखला गए हैं। उन्हें कुछ जवाब नहीं सूझ रहा तो जो काम राहुल गांधी को करना चाहिये उसे करने की कोशिश में अपना समय काट रहे हैं, उन्हें प्रदेश के सवालों और सरोकारों के साथ आना चाहिए। जवाबदेह होने के बदले गैर-जिम्मेदाराना बयान उन्हें शोभा नहीं देता। मूणत ने कहा कि एक ऐसा प्रदेश जहां कोविड-19 की महामारी रोज चिंताजनक होती जा रही है। ऐसा पहला प्रदेश जहां कोरोना से कई गुना ज्यादा कोरेंटाइन सेंटर्स में जानें जा रही हैं, उसकी व्यवस्था छोड़ कर प्रदेश से इतर के मुद्दे उठाने में लगे रहना वास्तव में बघेल द्वारा अपनी विफलता से ध्यान भटकाने की कवायद के अलावा और कुछ नहीं है। कांग्रेस के भीतर लाल बत्ती को लेकर सिर फुटव्वल है।

 

17-05-2020
राजेश मूणत ने पूछा, धूल खाती खड़ी सिटी बसों का मजदूरों को घर तक पहुंचानें में इस्तेमाल क्यों नहीं कर रही सरकार?

रायपुर। पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने कहा कि प्रदेश के बाहर जाकर काम करने वाले मजदूरों की घर वापसी के नाम पर कांग्रेस सरकार ने जिस तरह से खेल शुरू किया है, वह बेहद शर्मनाक है। राहत पहुंचाने के मुद्दे पर केंद्र सरकार को बदनाम करना छोड़कर कांग्रेस सरकार को मौजूदा संसाधनों से जरूरतमंदों की मदद करनी चाहिए। परोपकार की दृष्टि से भलाई इसी में है जब प्रदेशभर में पांच सौ से ज्यादा सिटी बसें खड़ी हैं तो क्या सरकार इसका इस्तेमाल मजदूरों के आवाजाही में नहीं कर सकती? कोरोना महामारी के संकट के बीच मजदूरों को गंतव्य स्थल तक पहुंचाने के लिए भला इससे बेहतर क्या विकल्प हो सकता है? मुख्यमंत्री खुद को दूरदर्शी बताते हुए जब-तब ताल ठोंकते रहते हैं, क्या उनकी दूरदर्शिता का यही परिचय है? आज प्रदेश के बाहर से किसी तरह जतन करके पहुंचाने वाले मजदूर पैरों में छाले के साथ अपनी दुर्दशा बयां कर रहे हैं। क्या प्रदेश में साधन नहीं हैं? वो भी ऐसे श्रमिकों के लिए, जो यहां पहुंच चुके हैं। प्रदेश में पांच सौ से ज्यादा सिटी बसें लॉक डाउन में खड़ी हैं,जिनका इस्तेमाल जरूरतमंदों को घर तक पहुंचाने के लिए भी तो हो सकता है।

 

15-05-2020
प्रदेशवासियों की जान खतरे में डालकर शराबखोरी को बढ़ावा देने में जुटी सरकार: मूणत

रायपुर। शराब दुकान खोलें जाने को लेकर पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने प्रदेश सरकार को घेरा है। उन्होंने कहा कि शराब दुकानों के खुलने के बाद लॉक डाउन के नियमों का उल्लंघन हुआ। शराब को घर-घर बांटने की जो व्यवस्था बनाई गई है उससे प्रदेश कारोना संकट की राह में निकल चुका है। इससे कोरोना महामारी का ग्राफ कभी भी बहुत तेजी से बढ़ सकता है। सरकार ने यह कदम तब उठाया है जब प्रदेश में कुल 1 लाख 400 करोड़ रुपये का बजट इस वित्तीय वर्ष के लिए प्रस्तावित किया गया है। राज्य आबकारी कर 5200 करोड़ रुपये प्रस्तावित है अर्थात आबकारी से प्रतिमाह 433 करोड़ रुपये कर प्रस्तावित है। इस प्रकार यदि 3 माह शराब की दुकानों से कोई राजस्व प्राप्त नहीं होगा तो भी 1200 करोड़ रुपये के राजस्व की कमी आती है। प्रतिशत में कमी देखी जाए तो आबकारी बजट में यह मात्र 1.2 प्रतिशत है। समझा जा सकता है सरकार ने सिर्फ इस छोटी सी राशि के लिए पूरे प्रदेश के लाखों लोगों की जान जोखिम में डाल दिया है, यह निंदनीय है। मूणत ने कहा कि जगह-जगह से शराब बिक्री के लिए विरोध के स्वर उठने लगे हैं। हजारों की संख्या में महिलाओं ने लाठियों के साथ व जांजगीर के एक ग्राम में भी ग्रामीण महिलाओं ने शराब दुकानों खुलने नहीं दी और शराब बंदी की मांग की। मूणत ने कहा कि सरकार को तत्काल शराब दुकान बंद कर देना चाहिए। केवल और केवल 1200 करोड़ रुपये जो इस हालात में महत्वहीन है, उसकी चिंता छोड़ देनी चाहिए। कांग्रेस सरकार में इस वर्ष 15700 करोड़ रुपये ऋण लेना प्रस्तावित है,जो कि छत्तीसगढ़ निर्माण के पश्चात किसी एक वित्तीय वर्ष में सर्वाधिक राशि है। कुल बजट का लगभग 15 प्रतिशत है। शराब कारोबार के मामले में पिछले साल सात हजार करोड़ रुपये राजस्व प्राप्ति का लक्ष्य रखा गया है। कुछ खर्चे कम करके शराब दुकान से प्राप्त राजस्व की भरपाई कर लाखों लोगों की जान बचाने कदम उठाया जा सकता है, लेकिन सरकार इस ओर चिंतित होने के बजाए असंवेदनशील रवैया अपनाए हुए हैं।

 

13-05-2020
अनुमति लेकर लौट रहे श्रमिकों को प्रदेश की सीमा पर रोकना संवेदनहीनता की पराकाष्ठा : राजेश मूणत

रायपुर। पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने प्रदेश सरकार पर प्रवासी मजदूरों के प्रति संवेदनहीन व्यवहार करने का आरोप लगाया है। मूणत ने कहा कि इन प्रवासी मजदूरों के साथ प्रदेश सरकार ने जैसा रवैया अपनाया हुआ है, वह प्रदेश सरकार के गरीब व मजदूर विरोधी होने का परिचायक है।मूणत ने कहा कि विभिन्न राज्यों से अनुमति लेकर जो श्रमिक वापस छत्तीसगढ़ लौट रहे हैं, उन मजदूरों को आधी रात को छत्तीसगढ़ की सीमा पर ही रोका जा रहा है और प्रदेश में प्रवेश की अनुमति नहीं दे रहे हैं। कई श्रमिकों को तो वापस भी लौटाए जाने की जानकारी मिली है।मूणत ने कहा कि मंगलवार 12 मई को लाखों भाजपा कार्यकतार्ओं के धरना आंदोलन की व्यापक सफलता यह सिद्ध करती है कि प्रदेश सरकार ने कोरोना संकट की रोकथाम और प्रभावितों की पर्याप्त मदद के मोर्चे पर पूरी तरह अव्यवस्था फैला रखी है। इसलिए लोगों में प्रदेश सरकार के खिलाफ आक्रोश है।

 

22-01-2020
राम मंदिर बनने वाला है,कांग्रेसियों तुम्हारे में दम है तो रोक लो: केशव प्रसाद मौर्य

रायपुर। नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में रायपुर में रैली और सभा हुई। सभा में उत्तरप्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य शामिल हुए। उत्तरप्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि मेरा सौभाग्य है कि रामलला के ननिहाल में आया हूं। स्वामी विवेकानंद  अपने जीवन का बड़ा समय रायपुर में बिताए हैं। छत्तीसगढ़ की जनता और देश की जनता को नमन की उन्होंने भाजपा की सरकार बनाई। कांग्रेस ने देश मे धारा 370 जैसी कैंसर जैसी बीमारी पैदा की। देश की जनता ने जब मोदी सरकार बनाई तो 40 दिन लगातार सुनवाई के बाद राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट में फैसला आया। रामलला का भव्य मंदिर बनने वाला है कांग्रेसियों तुम्हारे में दम है तो रोक लो। निहत्थे कारसेवकों को गोली मारी गई थी लेकिन अब ऐसा नहीं होगा क्योंकि उत्तरप्रदेश में योगी की सरकार है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के बयान उत्तरप्रदेश तक पहुंच जाते हैं। कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने कहा कि सीएए को लागू होने से कोई रोक नहीं सकता। गैंग गई थी सीएए को रोकने सुप्रीम कोर्ट, लेकिन सफल नहीं ही सकी। पाकिस्तान में हिंदुओं सहित अल्पसंख्यक लोगों की आबादी 23 प्रतिशत थी,जो 3 प्रतिशत हो गई। हिंदुस्तान में भेदभाव नही होता। कांग्रेसियों बताओ देश का विभाजन धर्म के आधार पर हुआ होता तो क्या आज नागरिकता संशोधन कानून की जरूरत पड़ती। पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर भी हमारा है, वहाँ भी हमारा तिरंगा फहराएगा। जहाँ विकास आती है वहाँ विकास ठप्प हो जाता है। उत्तर प्रदेश की जनता ने राहुल गांधी को अमेठी से विदा कर स्मृति ईरानी को जीता दिया। 2024 में रायबरेली में भी कमल खिलेगा। कांग्रेसी गैंग के लोगों की गरीबी के खिलाफ जंग पसन्द नही, 370 हट गया इन्हें पसंद नहीं। सीएए पर कांग्रेस ने देश को गुमराह करने का काम किया। उत्तरप्रदेश में तोड़फोड़ करने वालों से वसूली की जा रही है। पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि अब तक लोग सड़कों पर उतरते थे तो विरोध में उतरते थे। लेकिन अब देशभक्त सड़कों पर उतरे हैं वो भी सीएए के समर्थन में। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर निशाना साधते हुए बृजमोहन ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी पर बात करना छोड़कर प्रदेश के किसानों की बात करो। रायपुर लोकसभा सांसद सुनील सोनी ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के पारित होने के बाद में पड़ोसी देश के हमारे भाई बहन भारत मे आना चाहते हैं। कांग्रेस और विपक्षी पार्टियां भ्रम फैला रही है। रैली में पूर्व मंत्री राजेश मूणत, सांसद संतोष पांडे, गौरीशंकर अग्रवाल सहित अन्य नेता शामिल हुए।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804