GLIBS
31-12-2020
प्रदेश सरकार ने जमा नहीं किया एफसीआई में पिछले साल का 28 लाख मीटरिक टन चावलः भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा है कि प्रदेश सरकार ने पिछले साल अनुमति मिलने के बावजूद 28 लाख मीटरिक टन चावल एफसीआई में जमा नहीं कराया और मुख्यमंत्री व कृषि मंत्री लगातार झूठ बोलकर किसानों के साथ खुली धोखाधड़ी करने पर आमादा हैं। कौशिक ने कहा कि जब से कांग्रेस सत्ता में आयी है तब से ही उसकी मंशा स्पष्ट व सही नहीं है। जब भी किसानों के धान की ख़रीदी की बात आती है तो केवल भ्रम फैलाकर प्रदेश की सरकार अपनी ज़िम्मेदारियों से बचने की कोशिश करती है। कौशिक ने कहा कि प्रदेश सरकार की बदनीयती और कुनीतियों के चलते आज पूरे प्रदेश में धान खरीदी बंद हो रही है। प्रदेश सरकार के पास बहानों और बयानों का ही सहारा है।नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि पिछले समय जो धान ख़रीदने की अनुमति चावल के लिए केंद्र सरकार द्वारा दी गईए उसमें 28 लाख मीटरिक टन 30 सितंबर 2020 तक एफसीआई में जमा करने थे। राज्य सरकार यह चावल जमा करने में विफल रही है। सितंबर के बाद अक्टूबर और नवंबर तक प्रदेश सरकार ने समय मांगने के बाद अब प्रदेश सरकार दिसंबर तक का समय इसके लिए मांग रही है। इस प्रकार तीन बार समय वृद्धि हुई है और अभी भी प्रदेश सरकार 28 लाख मीटरिक टन चावल एफसीआई में जमा करने में विफल रही है।

कौशिक ने कहा कि अभी भी एफसीआई के गोदाम में 06 लाख मीटरिक टन चावल रखने के लिए ज़गह खाली हैए किंतु इस सरकार ने आने वाले समय का रोना शुरू कर दिया है। प्रदेश सरकार का इस मामले में केंद्र सरकार पर मदद नहीं करने का आरोप लगाना मिथ्या प्रलाप है। प्रदेश सरकार ने धान ख़रीदी का काम ही एक माह विलंब से शुरू किया हैए उसके चलते इसमें जो बात सामने आ रही है, सोसाइटियों को जाम करके रखा गया है और यह कहना कि सोसाइटियों में ज़गह नहीं है, किसानों का धान नहीं ख़रीदी जा रहा है।नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि अभी भी सोसाइटियों में रखे धान की कस्टम मिलिंग शुरू करके सोसाइटियों को खाली रखे और धान ख़रीदी का काम जारी रखेए क्योंकि कांग्रेस ने अपने चुनाव घोषणा पत्र में 25 सौ रुपए में धान ख़रीदने का वादा किया था तो अब सरकार की साँस क्यों फूलने लगी है। कौशिक ने कहा कि धान खरीदी को लेकर पूर्व में ही पुख़्ता इंतज़ाम कर लिए जाने चाहिए थे, लेकिन सरकार ने तैयारी के नाम पर कुछ भी नहीं किया। प्रदेश की पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के समय एक नवम्बर से धान खरीदी शुरू हो जाती थी। कौशिक ने कहा कि प्रदेश की सरकार इस मसले पर सियासत कर रही है। अगर सरकार की मंशा सही होती तो किसानों के साथ छलावा नहीं करती। जब पूरे प्रदेश के किसान धान बेचने केन्द्रों में जा रहे हैं तो धान की ख़रीदी नहीं की जा रही है। यह किसानों के साथ सरासर धोखा है। धान नहीं खरीदने से किसानों को काफी आर्थिक नुकसान होगा। भाजपा प्रदेश सरकार के इस रवैए की निंदा करती है। किसानों के हितों को ध्यान में रखकर प्रदेश सरकार को धान खरीदी जारी रखनी चाहिये। यही किसानों के हित में होगा।

 

25-12-2020
अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर भाजपा मनाएगी सुशासन दिवस, किसानों के समर्थन में सत्याग्रह भी

रायपुर। स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर भाजपा शुक्रवार को सुशासन दिवस मनाएगी। शहर के आजाद चौक में आयोजित एक कार्यक्रम को पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, सांसद सुनील सोनी, पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल संबोधित करेंगे। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन का सीधा प्रसारण एलईडी के माध्यम से प्रसारित किया जाएगा। इसके बाद नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के नेतृत्व में भाजपा विधायक प्रदेश के किसानों की मांगों को लेकर सत्याग्रह करेगी।

 

19-12-2020
झूठा बयान देकर कौशिक राज्य की छवि खराब कर रहे : कांग्रेस

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा है कि नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक राज्य सरकार पर सिर्फ आरोप लगाने के लिए गलत बयान कर राज्य की छवि खराब कर रहे हैं। नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने बयान दिया है कि एनसीआरबी के 2020 के जारी आंकड़ों के अनुसार छत्तीसगढ़ बलात्कार के मामलों में देश में चौथे स्थान पर है। जबकि एनसीआरबी 2020 के आपराधिक आंकड़ों को अभी तक जारी ही नहीं किया गया है। 2019 के एनसीआरबी के आंकड़ों में भी छत्तीसगढ़ अपराधों के मामलों में चौथे स्थान पर नहीं है। इस वर्ष भी छत्तीसगढ़ महिलाओं के प्रति अपराधों में देश में 12वें क्रम पर है।राष्ट्रीय क्राइम रिकार्ड ब्यूरो के आंकड़ों के तुलनात्मक अध्ययन में भी छत्तीसगढ़ पिछले तीन वर्ष (16,17,18) जब राज्य में भाजपा की सरकार थी,इसकी अपेक्षा अपराधों में कमी आई है।

राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद कांग्रेस सरकार और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्य के नागरिकों विशेष कर महिलाओं को भय मुक्त जीवन जीने का वातावरण देने को प्राथमिकता में रखा। यही कारण है कि राज्य में अपराधों और महिला अत्याचार की घटनाओं में कमी आई। सरकार की कानून व्यवस्था के प्रति मुस्तैदी का ही परिणाम है कि राज्य में नक्सल जैसे घटनाओं में भी कमी आई है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा है कि रेप जैसे शर्मनाक अपराध के मामले में राज्य के संबंध में गलत आंकड़ें देकर नेता प्रतिपक्ष ने राज्य की छवि खराब करने का प्रयास किया है। इस गलत बयानी के लिए वे राज्य की जनता से माफी मांगे।

 

12-12-2020
किसानों के हितों को बताने होगी किसान महापंचायत : साय

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदेव साय व नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने शनिवार को कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में संयुक्त पत्रकार वार्ता को सम्बोधित किया। प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि पूरे प्रदेश में किसानों के हितों को लेकर किसान पंचायत का आयोजन किया जा रहा है,जिसमें पार्टी का प्रत्येक कार्यकर्ता अपनी सहभागिता देगा। ऐतिहासिक कृषि अधिनियम पर देशव्यापी जनजागरण व जनसम्पर्क अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश की आजादी के बाद कृषि सुधारों को लेकर किसान कल्याणकारी फैसले लिए गए हैं, जिसे लेकर जो दुष्प्रचार किया जा रहा है। यह कार्य किसान विरोधी लोग कर रहे हैं जो किसानों के हित में नहीं है। उन्होंने कहा कि केन्द्र द्वारा निर्धारित कार्यक्रम के तहत 14 से 16 दिसम्बर तक पूरे प्रदेश में किसान पंचायत सोशल मीडिया अभियान व प्रेसवार्ता का आयोजन किया गया है। इसके लिए संचालन टीम गठित की गई है। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि जिन्हें कभी किसानों से मतलब ही नहीं रहा है, वह आज किसानों की हितों की बात केवल अपने राजनैतिक स्वार्थ के लिए कर रहे हैं।

कृषि अधिनियम किसानों के हित में हैं। केवल कुछ लोग भ्रम फैलाकर किसानों तथाकथित हितैषी बनने की कोशिश कर रहे हैं, जिसे जनता भलीभांति समझती है। उन्होंने कहा कि इस बिल से किसी किसानों का अहित नहीं हो रहा है लेकिन कुछ सियासी दलों की सियासी जमीन खिसक रही है, जिससे वे चिंतित हैं। कौशिक ने कहा कि यह बिल किसानों की समग्रता के लिए मील का पत्थर साबित होगा।बैठक में प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदेव साय, पूर्व मुख्यमंत्री व राष्ट्रीय डॉ.रमन सिंह, राष्ट्रीय सहसंगठन महामंत्री सौदान सिंह, पूर्व राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पाण्डेय, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, अनु. जनजाति मोर्चा पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष रामविचार नेताम, पूर्व सांसद विक्रम उसेंडी, पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, पूर्व मंत्री पुन्नुलाल मोहले, मोर्चा प्रकोष्ठ प्रभारी रामप्रताप सिंह व प्रदेश संगठन महामंत्री पवन साय शामिल हुए।

प्रस्तावित कार्यक्रम
14 दिसम्बर को जिले स्तर पर प्रेसवार्ता, 15 दिसम्बर को किसान महापंचायत, रायगढ़,कवर्धा व महासमुंद में आयोजित की गई है। 16 दिसम्बर को सोशल मीडिया के माध्यम से अभियान।

 

12-12-2020
भाजपा विधायक दल की बैठक आज, सरकार को घेरने की रणनीति पर होगी चर्चा

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा सत्र को लेकर शनिवार को भाजपा विधायक दल की बैठक होगी। बता दें कि नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक विधानसभा सत्र की रणनीति पर विधायकों से चर्चा करेंगे। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ विधानसभा का शीतकालीन सत्र 21 से 30 दिसंबर तक चलेगा। आज की बैठक में भाजपा विधायक भूपेश सरकार को को घेरने के लिए रणनीति तैयार करेंगे। वहीं दूसरी तरफ भूपेश सरकार भी शीतकालीन सत्र की तैयारियों में जुट गई है।

08-12-2020
मुख्यमंत्री को किसानों के बारे में कुछ भी बोलने का नैतिक अधिकार नहीं है : भाजपा

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा है कि केन्द्र सरकार ने किसानों के हित में दूरगामी योजनाओं को ध्यान में रखते हुए बेहतर कृषि बिल लाया है,जिसका विरोध ऐसे लोग कर रहे हैं जो हमेशा किसानों के विरोधी रहे हैं। किसानों के हितकर वो होते तो किसानों के हित में देश की आजादी के बाद से ही बेहतर नीति बनाते जिसका परिणाम बहुत पहले ही देखने को मिलता लेकिन जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी किसानों के हितों को लेकर संकल्पवान हैं तो कुछ लोग केवल अपनी सियासी ज़मीन को लेकर चिंतित हैं।नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री को प्रदेश के किसानों की चिंता करनी चाहिए लेकिन इन सबसे दूर वे दूसरे राज्यों पर सवाल उठाकर अपनी नाकामी को छिपाना चाहते हैं जिसे प्रदेश की जनता भली भांति समझ रही है। कौशिक ने कहा कि प्रदेश में हो रही लगातार किसानों की आत्महत्या के लिए सरकार अपनी जिम्मेदारी से दूर भाग रही है।

किसानों के हितों की बात करके अब तक बोनस की किश्त नहीं दे पा रही है। अब प्रदेश की सरकार को किसानों को लेकर कुछ भी बोलने का नैतिक अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि किसानों के साथ केन्द्र की सरकार सार्थक संवाद करना चाहती है लेकिन कुछ लोग केवल अपने राजनैतिक स्वार्थ के लिए बातचीत को सफल नहीं होना देना चाहते और पूरे देश का ध्यान इस मामले में भटकाकर अपनी राजनैतिक रोटी सेंक रहे हैं। आयोजित बंद सियासी लाभ के लिए रहा है इसमें किसान, आमजन की कोई सहभागिता नहीं रही है।

 

07-12-2020
भाजपा प्रदेश प्रभारी डी.पुरंदेश्वरी और सह-प्रभारी नितिन नवीन के साथ कोर ग्रुप की बैठक जारी

रायपुर। भाजपा प्रदेश कार्यालय में प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी एवं सह-प्रभारी नितिन नवीन के साथ पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक एवं सौदान सिंह की मौजूदगी में कोर ग्रुप की बैठक जारी है। बैठक में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व संगठन महामंत्री शामिल है।

 

06-12-2020
किसान आत्महत्या मामले में आपराधिक मामला दर्ज हो : कौशिक

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा है कि किसानों के नाम पर सत्ता में आई कांग्रेस अब किसानों छलने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। सत्ता सुख में मस्त कांग्रेस सरकार को अब किसानों को कैसे ठग रही है और कैसे प्रताड़ित कर रही है, इसके कई उदाहरण लगातार देखने को  मिल रहे हैं। कौशिक ने कहा कि वर्ष 2019 में प्रदेश में 233 किसानों व खेतिहरों ने आत्महत्या की, जो सबके लिये चिंता का विषय है। नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने इस बात पर हैरत जताई कि लगातार बढ़ रही किसानों की आत्महत्याओं की घटना के बाद भी प्रदेश सरकार का ज़रा भी पीड़ित नहीं होना दुखद तो है ही,इससे प्रदेश सरकार की संवेदनहीनता भी ज़ाहिर हो रही है। प्रदेश की दावाशील सरकार इनसे सबक लेकर किसानों के हित में काम करती तो यह दिन देखना नहीं पड़ता। कौशिक ने कहा कि यह चिंता का विषय है कि विगत दो माह में प्रदेश में 5 किसानों ने आत्महत्या कर ली है, वहीं हर दूसरे सप्ताह एक के बाद एक किसान की आत्महत्या की घटना समाने आई है। कौशिक ने कहा कि इन सबके बीच सरकार में बैठे महत्वपूर्ण लोग केवल किसानों की पारिवारिक स्थिति पर टीका-टिप्पणी कर रहे हैं, जो निंदनीय है।
नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि अब जब किसान आत्महत्या को विवश हो रहे हैं, तो मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज अधिकारियों को निर्देशित किया है कि गिरादावरी में कोई त्रुटि नहीं होनी चाहिये। कौशिक ने कहा कि यह दु:खद है कि प्रदेश में कोंडागाँव ज़िले में किसान धनीराम की आत्महत्या के पश्चात आदेश जारी किया गया है, जबकि वास्तव में तो धान खरीदी के पहले व्यवस्था बेहतर हो जाए, इसकी चिंता करनी थी। मगर प्रदेश सरकार ने इस दिशा में गंभीर प्रयास नहीं किया।
नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि प्रदेश में 18-19 में 17.2 लाख किसानों 25.59 लाख हेक्टेयर रकबा पंजीकृत किया था अर्थात प्रत्येक किसान का औसत रकबा 1.48 हेक्येटर या 3.6 एकड़ था। इस वर्ष 21.30 लाख किसानों ने 27.5 लाख हेक्टेयर का पंजीकरण किया है अर्थात प्रति किसान 1.29 हेक्टेयर या 3.1 एकड़ है।वहीं सरकार ने गिरदावरी में 80 हजार हेक्टेयर अर्थात दो लाख एकड़ जमीन गिरदावरी में कम कर दी है ताकि किसानों से 30 लाख क्टिवंटल धान कम ले सके। इससे किसानों को करीब सात सौ पचास करोड़ का नुकसान हुआ है। कौशिक ने कहा कि कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में किसानों की गिरदावरी  के माध्यम से रकबा कम किया है। प्रशासन की तरफ़ से घर पर बैठकर ही गिरादावरी किया जा रहा है जिसके कारण कोंडागांव जैसी ही घटना हो रही हैं। नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि कोंडागाँव किसान आत्महत्या के मामले पर जिम्मेदार लोगों  पर अपराधिक मामला दर्ज होना चाहिये। किसानों की लगातार आत्महत्या को विवश है और जिम्मेदारों पर कार्रवाई नहीं होने से पीड़ित परिवारों में निराशा का भाव है। कौशिक ने कहा कि कोंडागाँव सहित पूरे प्रदेश में किसानों आत्महत्याएं की है उस पर अब तक जांच के नाम पर कुछ भी नहीं हुआ है। इसकी स्वतंत्र इकाई से जांच होनी चाहिये। इसके साथ ही पीड़ित परिवार एक सदस्यों को नौकरी व आर्थिक मदद भी तत्काल की जानी चाहिये।  कौशिक ने किसानों की आत्महत्या की घटनाओं पर चिंता व्यक्त करते कहा कि प्रदेश सरकार की किसानों को लेकर कोई उचित नीति नहीं है जिसके चलते ही किसानों आत्महत्या को विवश हैं।

 

02-12-2020
ललित सुरजन पत्रकारिता की पूरी पाठशाला थेः धरमलाल कौशिक 

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने देशबंधु पत्र समूह के प्रमुख ललित सुरजन के निधन पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि देश-प्रदेश की पत्रकारिता व साहित्य के क्षेत्र में उनका योगदान अनुकरणीय रहा है। उन्होंने पत्रकारिता की नयी पौध को पल्लवित किया। इसके कारण प्रदेश की पत्रकारिता को और मजूबती मिली है। वे पत्रकारिता की एक पाठशाला थे, जिससे अनेक सफल पत्रकार तैयार हुए हैं। नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने स्व. ललित सुरजन को विनम्र श्रद्धांजलि आर्पित की है।

22-11-2020
कोरोना के कारण जा रही हैं हर दिन 10 लोगों की जान : भाजपा

रायपुर। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा है कि प्रदेश सरकार पहले भी कोरोना को लेकर संवेदनशील नहीं रही है और न ही अब है। कौशिक ने कहा कि एक बार फिर से कोरोना का विस्तार हो रहा है तो प्रदेश की सरकार इलाज करने में देरी होने के कारण कोरोना में मौतों की संख्या अधिक होने की बात कह रही है।नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि कोरोना स हो रही मौतों के लिए प्रदेश की सरकार की नीतियां जिम्मेदार हैं और अपनी कुनीतियों व विफलताओं पर पर्दा डालने के लिए प्रदेश सरकार गलत तथ्यों का सहारा ले रही है। कौशिक ने कहा कि  कोरोना को लेकर प्रदेश की सरकार ने जनता से दूरी बना ली है और प्रदेश की जनता मजबूरी में जीने को विवश है। कौशिक ने कहा कि कोरोना के सक्रिय मामलों में प्रदेश सातवें स्थान पर है और हम गुजरात, मध्यप्रदेश जैसे राज्यों से भी आगे हैं। अब तक करीब 2,691 लोगों की मौत केवल करोना की वजह से हुई है।

करीब हर दिन 10 लोगों व हर तीसरे घंटे एक संक्रमित की मौत कोरोना के कारण पिछले 9 माह के भीतर हुई है। नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि बदलते के मौसम में कोरोना का  प्रभाव जब बढ़ने की बातें हो रही हैं तो प्रदेश सरकार को इससे निपटने के लिए पुख़्ता इंतज़ाम करना था, लेकिन यह सरकार तो सत्ता-सुख भोगने में ही मस्त है। कौशिक ने कहा कि पूरे प्रदेश में कोरोना की रोकथाम के लिये आवश्यक सामग्रियों का नि:शुल्क वितरण किया जाना चाहिये। साथ ही कोरोना जांच का दायरा भी बढ़ाया जाना चाहिये। जिन जिलों में पहले कोरोना के केस ज्यादा समाने आये थे, उन सबकी समीक्षा कर कारगर योजना बनाने की जरूरत है। इसके साथ ही कोरोना के रोकथाम में तैनात सभी का एक-एक करोड़ रूपये का सामूहिक बीमा भी किया जाना चाहिए।

 

17-11-2020
छत्तीसगढ़ को लेकर भाजपा की सोच नकारात्मक : मोहन मरकाम

रायपुर। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय और नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के बयान पर कांग्रेस ने प्रतिक्रिया व्यक्त की है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा है कि निश्चित तौर पर भूपेश बघेल सक्षम और जनहितैषी मुख्यमंत्री हैं। वे छत्तीसगढ़ के सर्वागींण विकास की सोच रखते हैं। वे अनेक जनकल्याणकारी फैसले लेकर छत्तीसगढ़ को खुशहाल बना रहे हैं। मोहन मरकाम ने कहा है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बस्तर के बहुउद्देशीय बोधघाट परियोजना में केंद्र सरकार से मदद मांगी। बस्तर के युवाओं के लिए रोजगार की मांग की। बस्तर के विकास के लिए औद्योगिक स्थापना के लिए स्थानीय खनिज संपदा पर 30 परसेंट की छूट की मांग किए हैं। इसमें भाजपा नेताओं को तकलीफ क्यों हो रही है? मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के केंद्रीय गृह मंत्री को लिखे पत्र का विरोध करके बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय और नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने, भाजपा के छत्तीसगढ़ विरोधी कृत्यों को ही आगे बढ़ाने का काम किया है। भाजपा के नेता नहीं चाहते कि छत्तीसगढ़ का किसान नौजवान यहां की महिलाएं खुशहाल हो।
मोहन मरकाम ने आरोप लगाया है कि बीते 7 साल में मोदी सरकार ने ऐसा कोई काम नहीं किया, जिसकी चर्चा हो। मोदी सरकार के हर फैसले ने सिर्फ आमजनता को मुसीबत में डालने का काम किया है। बीते सात साल में मोदी सरकार ने असफलताओं का नया कीर्तिमान रचा है। मोदी सरकार की नाकामी जनविरोधी नीतियों के चलते भाजपा नेताओं के दिमाग में नकारात्मकता घर कर गई है। भाजपा नेता इस बात को भलीभांति मानते हैं कि छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से केंद्र सरकार से मांगी गई मदद को केंद्र सरकार पूर्ति करने में अक्षम है।  भाजपा की केंद्र सरकार यदि छत्तीसगढ़ के जन भावनाओं को पूरा नहीं कर पाएंगी, ऐसे में भाजपा की किरकिरी होगी। भाजपा नेता जनता को अपना चेहरा नहीं दिखा पाएंगे। इससे बचने के लिए भाजपा के नेता छत्तीसगढ़ के विकास विरोधी कृत्यों को आगे बढ़ा रहे हैं।


 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804