GLIBS
27-06-2020
गौण खनिज का अवैध परिवहन करते 8 वाहन जब्त

जगदलपुर। कलेक्टर रजत बंसल के निर्देशानुसार प्रभारी खनिज अधिकारी हेमंत चेरपा के मार्गदर्शन में जिला खनिज जांच दल द्वारा 27 जून को जिले के भानपुरी, नंदपुरा, बालेंगा, कोलावल, करपावंड  एवं बडानजी क्षेत्र में आकस्मिक निरीक्षण के दौरान गौण खनिज चूना पत्थर के 7 वाहन तथा रेत के 1 वाहन अवैध परिवहन करते पाये जाने पर परिवहनकर्ताओं के विरुद्ध खनिज का अवैध परिवहन का प्रकरण दर्ज किया गया है।
उपरोक्तानुसार अवैध परिवहन के कुल 8 प्रकरण को बिना वैध अभिवहन पास के चालकों द्वारा खनिजों का परिवहन करते पाये जाने पर खनिज मय वाहनों को जब्त किया गया। पूर्व में भी विज्ञप्ति के माध्यम  से जिले के खनिज ठेकेदार, खनिज परिवहनकर्ताओं को निर्देशित किया गया है कि बिना वैध  अभिवहन पास के खनिजों का परिवहन करना दंडनीय अपराध है, अवैध परिवहनकर्ताओं के विरुद्ध पुनः इसी प्रकार कृत्य करने पर दंडात्मक कार्यवाही की जाएगी। कलेक्टर के निर्देशानुसार जिले में खनिज के अवैध उत्खनन एवं परिवहन पर पर प्रभावी नियंत्रण के लिए खनिज अमलो द्वारा निरंतर जांच किया जाएगा।

03-11-2019
मुख्यमंत्री ने डीएमएफ के मूल नियम में किये गये संशोधनों के संकलन का किया विमोचन 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने डीएमएफ के मूल नियम में अब तक किए गए संशोधनों के संकलन का विमोचन राज्योत्सव के दौरान खनिज विभाग के स्टॉल के निरीक्षण के दौरान किया। राज्योत्सव के अंतर्गत आयोजित प्रदर्शनी में खनिज संसाधन विभाग छत्तीसगढ़ के स्टॉल में सभी वर्ग के लोगों की अपार भीड़ उमड़ रही है। खनिज संसाधन विभाग की प्रदर्शनी में विभाग की गतिविधियों, उपलब्धियों तथा खनिज नमूनों को आकर्षक तरीके से प्रदर्शित किया गया है। प्रदर्शनी के दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तथा अन्य वरिष्ठ मंत्रीगणों द्वारा पैवेलियन का भ्रमण किया गया तथा प्रदर्शनी की सराहना की। डीएमएफ के नियम के नवीन संशोधन 14 अगस्त 2019 को राज्य शासन द्वारा किया गया है। मूल नियम मे अब तक किये गये संशोधन का संकलन कर इसका विमोचन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, वरिष्ठ मंत्रीगणों एवं विभागीय विशेष सचिव की गरिमामयी उपस्थिति मे खनिज विभाग के स्टाल मे किया गया। छत्तीसगढ़ में खनिजों के प्रचूर भण्डार है, जो राज्य के विकास की धुरी है। इस राज्य में अनेक महत्वपूर्ण खनिज आधारित वृहत उद्योग कार्यशील है और खनिज आधारित उद्योगों को अपार संभावनाएं है। खनिज आधारित उद्योगों की स्थापना तथा परिचालन के लिए आवश्यक मूलभूत संभावनाएं भी प्रदेश में उपलब्ध है। प्रदेश में प्रमुख रूप से कोयला, लौह अयस्क, चूना पत्थर, डोलोमाइट, बाक्साइट, टिन अयस्क, हीरा एवं स्वर्ण है। इनके अलावा भी विभिन्न औद्योगिक महत्व के खनिज, जेमस्टोन तथा भवन निर्माण हेतु उपयोगी खनिज प्रचूर मात्रा में उपलब्ध है। 
राज्य में देश का लगभग 19.6 प्रतिशत लौह अयस्क (4031 मिलियन टन), 18 प्रतिशत कोयला (54912 मिलियन टन), तथा 8959 मिलियन टन चूना पत्थर के भण्डार उपलब्ध हैं। देश का 11 प्रतिशत सीमेंट छत्तीसगढ़ में उत्पादित होता है। देश को 13 प्रतिशत बिजली की आपूर्ति छत्तीसगढ़ से होती है। देश के कुल खनिज उत्पादन मेें छत्तीसगढ़ 16 प्रतिशत का योगदान देता है। छत्तीसगढ़ राज्य में गौण खनिज रेत से संबंधित नियमों में संशोधन कर नवीन नियम ‘छत्तीसगढ़ गौण खनिज साधारण रेत (उत्खनन एवं व्यवसाय) नियम, 2019‘ बनाया गया है। जिसके तहत नीलामी (रिवर्स ऑक्शन) प्रक्रिया के द्वारा पारदर्शिता के साथ रेत खदानों का आबंटन किया जा रहा हैं। प्रथम चरण में नवीन नियम के तहत प्रदेश स्तर पर 168 रेत खदानों हेतु एनआईटी जारी कर रेत खदान आबंटन हेतु खुली निविदा पारदर्शी तरीके से किया जाकर 02 वर्षाें हेतु खदान आबंटन की कार्यवाही प्रक्रियाधीन है। 
     
 

02-02-2019
Seized: चूना पत्थर और रेत का अवैध परिवहन करने वाले चार वाहन जब्त

जगदलपुर। खनिज विभाग ने रेत और चूना पत्थर का अवैध परिवहन करते हुए पाए गए चार वाहनों को जब्त करने की कार्यवाही की है। यह कार्यवाही शनिवार को नगरनार क्षेत्र में की गई। इनमें ओड़ीसा राज्य के चांदली निवासी संतोष गुप्ता के टिप्पर क्रमांक सीजी 17-केपी 2403, जगदलपुर निवासी बलराम पाल के टिप्पर क्रमांक सीजी 17 एच 3908, और टिप्पर क्रमांक सीजी 17 एच 2603 में रेत का अवैध परिवहन करते हुए पाया गया। इसके साथ ही जगदलपुर निवासी नेत्रपाल सिंह के टिप्पर क्रमांक सीजी 17 केएन 3638 में चूना पत्थर का अवैध परिवहन करते हुए पकड़ा गया है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804