GLIBS
25-03-2021
वन्य प्राणियों के शिकार और अवैध कटाई के मामले बढ़ रहे : गागड़ा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री महेश गागड़ा ने प्रदेश के अधिकांश वन परिक्षेत्रों में अब कनिष्ठ डिप्टी रेंजर को ही रेंजर का प्रभार सौंपे जाने पर प्रदेश सरकार और वन महकमे की कार्यप्रणाली पर निशाना साधा है। गागड़ा ने कहा कि डिप्टी रेंजर्स को रेंजर का प्रभार सौंपने और पूर्णकालिक रेंजर्स में अधिकांश को उत्पादन और अन्य कार्यों में लगाने के इस तुगलकी फरमान के पीछे प्रदेश सरकार की बदनीयती झलक रही है। गागड़ा ने कहा कि विगत छह माह से प्रदेश के एक उच्च अधिकारी ने एक अभियान चलाकर रेंजर्स के स्थान पर फॉरेस्ट और डिप्टी रेंजर्स को प्रभार दे दिया है। इसके बाद से अब प्रदेशभर में वन संपदा के दोहन, वन्य प्राणियों के शिकार एवं अवैध कटाई के मामले बढ़ गए हैं। गागड़ा ने कहा कि वर्तमान में रेंजर का प्रभार संभाल रहे अधिकांश डिप्टी रेंजर दैनिक वेतनभोगी से नियमित हुए और समय के साथ इन्हें प्रमोशन मिला। प्रमोशन में डिप्टी रेंजर बनने के बाद अब अपने राजनीतिक आकाओं की कृपा से वे प्रभारी रेंजर का पद संभाल रहे हैं। जबकि बाकायदा प्रदेश वन सेवा की परीक्षा पास कर रेंजर बने अफसर अब अपनी पोस्टिंग के लिए चक्कर लगा रहे हैं।

 

23-02-2021
अवैध कटाई से जंगल हो रहा साफ, पंडरिया वन विभाग पश्चिम रेंज में हो रही है अवैध कटाई

कवर्धा। विकासखंड पंडरिया पश्चिम रेंज आदिवासी अंचल ग्राम पंचायत कुई बिट,बांगर,कांदावानी,पंडरीपानी,आगरपानी,भेलकी क्षेत्र में सागौन सहित इमारती पेड़ों की अवैध कटाई जोरों पर है। कुई कुकदुर के आगे जंगल में पहाड़ी तक सागौन के पेड़ों की अवैध कटाई की जा रही है। इनके टूट अभी भी मौजूद हैं,जिन पर वन विभाग ने कोई कार्रवाई नहीं की है।
जंगल का अस्तित्व खतरे में पड़ता जा रहा है। दस साल पहले यह इलाका काफी हरा-भरा रहता था लेकिन अवैध कटाई के चलते अब यह जंगल सपाट मैदान में तब्दील होते जा रहा है। वनों की सुरक्षा के लिए नियुक्त विभाग के आधे से अधिक कर्मचारी अपना फील्ड छोड़ मुख्यालय में रहते हैं। कार्य क्षेत्र से नदारद रहने का फायदा लकड़ी तस्कर उठाते हैं।
वर्जन कुई क्षेत्र में वनों की अवैध कटाई हो रही है ऐसी शिकायत नहीं मिली है। हमारे अधिकारी कर्मचारी लगातार दौरा करते हैं। यदि अवैध कटाई हुई है तो दिखवाता हूं।
एनपी देशलहरा, एसडीओ वन विभाग पंडरिया

 

30-09-2020
अवैध कटाई, अवैध प्लाटिंग पर प्रभावी कार्यवाही जरूरी: पूर्व विधायक

कोंडागाँव। केशकाल के पूर्व विधायक कृष्णकुमार ध्रुव ने राजस्व भूमि पर खड़े हरे भरे फलदार एवं इमारती लकड़ी के वृक्षों की अंधाधुंध कटाई पर गहरा दुख व्यक्त किया है। उन्होंने राजस्व विभाग के अधिकारियों द्वारा प्रभावी कार्यवाही न होने पर अफसोस जाहिर किया। पूर्व विधायक ध्रुव ने केशकाल नगर क्षेत्र में नियम कानून की परवाह न करते कृषि भूमि पर बसाये जा रही कालोनी और इसके लिए हो रहे हरे भरे नैसर्गिक वृक्षों की बेरोकटोक कटाई पर आश्चर्य जाहिर करते कहा है कि हालात देखकर लगता है की कोई देखने ताकने वाला ही नहीं रह गया है। पूर्व विधायक कृष्णकुमार ध्रुव ने शासन एवं जिला प्रशासन से मांग किया है कि बढ़ते हुए शहरीकरण के चलते उत्पन्न हो रहे वायु प्रदूषण, गिरते जल स्तर,घटती कृषि भूमि के कारण मानव जीवन के लिए उत्पन्न हो रहे संकट एवं समस्या पर नैतिक फर्ज का निर्वाह करते इन सब पर रोक लगाएं।

 

22-07-2020
पूर्व मंत्री का आरोप, लीपापोती के प्रयासों के कारण अब बीटगार्ड को ही कार्रवाई की जद में लाने की कोशिश

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री महेश गागड़ा ने कटघोरा के बांकीमोगरा क्षेत्र के हल्दीबाड़ी में बाँस की अवैध कटाई के हाल ही सामने आए चर्चित मामले में रेंजर और डिप्टी रेंजर को बचाने के लिए आला अफसरों की लॉबी के सक्रिय हो जाने का आरोप लगााया है। गागड़ा ने कहा कि अवैध कटाई में अधिकारियों की संलिप्तता जाहिर होने के बाद विभागीय तौर पर किए जा रहे लीपापोती के प्रयासों के कारण अब वनरक्षक (बीटगार्ड) को ही कार्रवाई की जद में लाने की कोशिशें जोर-शोर से चल रही हैं।

इससे यह आशंका बलवती हो रही है कि सचमुच दाल में कुछ-न-कुछ काला है। गागड़ा ने कहा कि अपना काम पूरे साहस और ईमानदारी से करने वाले जिस बीटगार्ड को सम्मानित व पुरस्कृत करना चाहिए था, उस पर कार्रवाई की चल रहीं कोशिशें इस बात की तस्दीक कर रही हैं कि अवैध कटाई के इस मामले के सामने आने के बाद विभाग के बड़े अधिकारियों और मंत्रियों के होश उड़े हुए हैं और अब कार्रवाई का भय दिखाकर बीटगार्ड का मुँह बंद करने की कवायद चल रही है। इस मामले में डीएफओ के बयान को हास्यास्पद बताते हुए गागड़ा ने पूछा कि 359 हरे बाँस गलती से कटने की बात कहकर डीएफओ आखिर किसे बचाने में लगी हैं, क्योंकि जो रेंजर-डिप्टी रेंजर वहाँ बाँस कटवा रहे थे, वे कह रहे हैं कि विभागीय काम के लिए बाँस कटवाए जा रहे थे। हरे बाँस गल्ती से और वह भी इतनी संख्या में कैसे कट गए?

11-03-2020
इमारती लकड़ी की तस्करी करते पकड़ाया तस्कर, 2.5 लाख की लकड़ियां बरामद

कोरबा। वन मंडल कटघोरा क्षेत्र के केंदई वनपरिक्षेत्र के जंगल से होली की रात इमारती लकड़ियों को काटकर चार पहिया मेटाडोर वाहन के माध्यम से तस्करी कर ले जा रहे थे। आरोपी को वाहन सहित वनमण्डल की टीम ने पीछाकर पकड़ा। यहाँ लकड़ी तस्कर के पास से भारी मात्रा में चिरान लकड़ी जब्त कर और आगे की कार्यवाही की जा रही है। प्राप्त जानकारी के अनुसार केंदई वनपरिक्षेत्र के मदनपुर सर्किल में इमारती लकड़ी की अवैध कटाई कर परिवहन किए जाने की सूचना वन विभाग को मिली  थी। विभाग कर्मियों द्वारा उक्त जंगल में छापा मारा गया। इस दौरान वन तस्कर साल लकड़ी का चिरान मेटाडोर वाहन क्रमांक- CG15B1910 में लोड कर रहे थे। मौके पर वन अमले की टीम को देख आरोपी वाहन लेकर भागने लगे। विभाग की टीम ने तस्करों का पीछा किया और वाहन को रास्ते में रोक लिया। इस दौरान अन्य आरोपी भाग निकले। चालाक वाहन सहित वन अमले के हत्थे चढ़ गया। यहाँ वाहन में 44 नग साल चिरान लकड़ियाँ पाई गई। इसकी कीमत लगभग ढाई लाख रुपये आंकी जा रही है।

14-10-2019
उदंती अभ्यारण्य में अवैध कटाई पर पुलिस ने किया 16 लोगों को गिरफ्तार

 गरियाबंद। पुलिस ने अवैध कटाई और अतिक्रमण मामले में कार्रवाई की है। पुलिस ने सीतानदी उदंती अभ्यारण 1210 कैंप मामले में उक्त कार्रवाई की है। इसमें पुलिस ने 10 पुरुष और 6 महिलाओं को हिरासत में लिया और देवभोग की अदालत में पेश किया है। ग्रामीणों ने बताया कि हज़ारों हैक्टेयर जंगल उदंती में ओडिशा के लोगों ने काटा है। इसकी शिकायत ग्रामीणों ने वनमंत्री मो. अकबर से की थी और वनमंत्री ने इसके लिए जांच के लिए कहा था। 

05-10-2019
वन अधिकारियों पर हो तत्काल कार्रवाई : कौशिक

रायपुर। प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने छत्तीसगढ़ में जंगलों में हो रही अवैध कटाई पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश में अंतरराज्यीय गिरोह सक्रिय है। अवैध कटाई रोकने में वन अमला पूरी तरह से नाकाम है। कौशिक ने कहा कि उदन्ती अभ्यारण्य हो या कांगेर वैली, जंगल की अवैध कटाई के पीछे अंतरराज्यीय गिरोह का हाथ है। वन अमला कार्रवाई के नाम पर महज खानापूर्ति कर रहा है। नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि गरियाबंद इलाके में करीब 3 वर्ग किमी. से भी अधिक हिस्सों में अवैध कटाई की गई है। इससे स्पष्ट होता है कि इन इलाकों में गिरोह सक्रिय है। उन्होंने कहा कि उदन्ती अभ्यारण्य में संरक्षित वन्य प्राणी के लिए बनाया गया है। यहां पर अवैध रूप से प्रवेश पर भी प्रतिबंध है, लेकिन तस्कर तीन से चार किमी की दूरी तक जंगलों से अवैध लकड़ियां काटकर लगातार ले जाते रहे हैं। यह आश्चर्य का विषय है कि विगत कई माह से इस क्षेत्र में दाल की खेती हो रही है और वन अमले को इसकी सूचना तक नहीं है। बस्तर से लेकर सरगुजा तक तस्करों का अंतरराज्यीय गिरोह सक्रिय है। यही कारण है कि प्रदेश में वनों की तस्करी रुकने का नाम नहीं ले रही है। आखिरकार अवैध कटाई की रोकथाम को लेकर किस तरह के कदम उठाये जा रहे हैं ? वन विभाग का अमला गश्त के नाम पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है, इससे तस्करों के हौसले बुलंद है।
कौशिक ने कहा कि वन मंत्री का अपने अमले पर अंकुश नहीं है। आला अधिकारी निरीक्षण के नाम पर केवल कागजी कार्रवाई कर रहे हैं। इस पूरे मसले की जांच के लिए एक उच्चस्तरीय कमेटी बनायी जानी चाहिए और दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई होनी चाहिए।

 

 

31-01-2019
Collector : वनभूमि पट्टा हासिल करने हो रही अवैध कटाई, परेशान ग्रामीणों ने कलेक्टर से गुहार

दंतेवाड़ा। गीदम ब्लॉक के समलूर गांव से लगे जंगल में अवैध कटाई से ग्रामीण परेशान हैं। ग्रामीणों का कहना है कि स्थानीय कुछ कर्मचारियों के संरक्षण में ग्रामीण आरक्षित वनों की कटाई कर खेत- मकान बना रहे हैं। ताकि भविष्य में उन्हें वनभूमि पट्टा मिल सके। इस अवैध कब्जाधारियों के खिलाफ कार्रवाई करने की अपील कलेक्टर से समलूर के ग्रामीणों ने की है। बुधवार को कलेक्टोरेट पहुंचे ग्रामीण पतिराम शोरी, सुदराम, मोतीराम, बालकू, पंकज आदि ने बताया कि बन भूमि आरएफ 1341 में लगातार अवैध कटाई हो रही है। जबकि ग्रामीण वहां नीलगिरी के पौधे रोपना चाहते हैं। साथ ही पौधों को पानी देने के लिए ग्रामीण खुद बोर कराने की भी बात कह रहे हंै।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804