GLIBS
01-11-2020
छत्तीसगढ़ विधानसभा के सचिव होंगे दिनेश शर्मा, अपर सचिव राममोहन अग्रवाल सेवानिवृत्त

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा सचिवालय के अपर सचिव पद से राममोहन अग्रवाल 31 अक्टूबर को सेवानिवृत्त हुए। उनकी सेवा निवृत्ति पर विधानसभा सचिवालय परिवार ने सम्मान कार्यक्रम रखा। उन्हें भावभीनी विदाई दी गई। इधर छत्तीसगढ़ विधानसभा के सचिव की जिम्मेदारी दिनेश शर्मा को दी गई। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने अपर सचिव दिनेश शर्मा को सचिव प्रमोट करने का निर्देश दिया है। छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद पहली बार छत्तीसगढ़ के मूल निवासी को विधानसभा सचिव की जिम्मेदारी मिली है। राममोहन ने 1984 से अपनी सेवा प्रारंभ की। विधानसभा सचिवालय में वर्ष 2000 से पदस्थापना के बाद अवर सचिव, उप सचिव पद पर कार्य करते हुए वे अपर सचिव (लेखा) के पद से सेवानिवृत्त हुए। सम्मान कार्यक्रम में विधानसभा के प्रमुख सचिव चंद्रशेखर गंगराड़े ने उन्हें शाल, श्रीफल और स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।  अग्रवाल के सुखी, उज्जवल और समृद्धि शाली भविष्य की कामना की। राममोहन अग्रवाल ने भी सचिवालयीन सेवा में सहयोग के लिए सचिवालय के समस्त अधिकारियों व कर्मचारियों के प्रति आभार व्यक्त किया।
बता दें कि विधानसभा के नए सचिव दिनेश शर्मा ने विधानसभा में अवर सचिव, उपसचिव और अपर सचिव के पद पर कार्य किया। उनकी कार्यकुशलता ने सभी को प्रभावित किया। दिनेश शर्मा की नियुक्ति अविभाजित मध्यप्रदेश के समय वर्ष 1987 में विधानसभा में सीधी भर्ती से हुई थी। वे द्वितीय श्रेणी राजपत्रित अधिकारी के रूप में नियुक्त हुए थे। वर्ष 2000 में राज्य निर्माण के बाद उनकी सेवाएं छतीसगढ़ विधानसभा में स्थानातरित हो गई।

27-10-2020
विधानसभा का विशेष सत्र शुरू : राज्य में कृषि कानून पास कराना चाहती है सत्ता पक्ष

रायपुर। छत्तीसगढ़ के विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत की अध्यक्षता में मंगलवार को  विधानसभा के समिति कक्ष में कार्यमंत्रणा समिति की बैठक हुई। बैठक में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक और संसदीय कार्यमंत्री रविन्द्र चौबे समेत समिति के सदस्य बैठक में मौजूद रहे। गौरतलब है कि आज से दो दिनों का विशेष सत्र बुलाया गया है। इस सत्र में सत्ता पक्ष राज्य के नए कृषि कानून को पास कराना चाहती है। बहरहाल विपक्ष इस बिल के विरोध में सरकार को घेरने की तैयारी पूरी कर चुकी है।

26-09-2020
वरिष्ठ पत्रकार मोहन राव के निधन पर राज्यपाल और विधानसभा अध्यक्ष ने जताया शोक 

रायपुर। वरिष्ठ पत्रकार मोहन राव के निधन पर राज्यपाल अनुसुईया उइके और विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने शोक व्यक्त किया है। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने वरिष्ठ पत्रकार मोहन राव के निधन पर दुख व्यक्त किया है। राज्यपाल ने कहा है कि, राव के निधन से छत्तीसगढ़ की पत्रकारिता जगत को अपूरणीय क्षति पहुंची है। राज्यपाल ने उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है और उनके शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है। छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने भरे मन से कहा है कि,वरिष्ठ पत्रकार मोहन राव के निधन का समाचार बेहद ही दुखद है।

मेरे उनसे  निजी संबंध रहे हैं, वे कलम के धनी थे। पत्रकार जगत को यह अपूरणीय क्षति है। डॉ. महंत ने ईश्वर से प्रार्थना की है कि,स्व. राव की आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें और उनके परिजनों को दुख की इस घड़ी में शक्ति संबल प्रदान करें। बता दें कि, शुक्रवार देर रात वरिष्ठ पत्रकार मोहन राव के निधन की खबर से मीडिया जगत में शोक की लहर दौड़ पड़ी। हैदराबाद में उन्होंने अंतिम सांस ली। उन्हें बेहतर उपचार के लिए हैदराबाद ले जाया गया था। जहां उपचार के दौरान निजी अस्पताल में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया।

28-08-2020
51 एकड़ में बनेगा नया विधानसभा भवन, 29 अगस्त को सोनिया और राहुल गांधी करेंगे भूमिपूजन

रायपुर। छत्तीसगढ़ के नए विधानसभा भवन का भूमिपूजन 29 अगस्त को दोपहर 12 बजे सांसद  सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी द्वारा वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया जाएगा। छत्तीसगढ़ के नवा रायपुर अटल नगर में विधानसभा का नवीन भवन बनेगा। भूमिपूजन कार्यक्रम मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू, संसदीय कार्य मंत्री  रविन्द्र चौबे, विधानसभा के उपाध्यक्ष मनोज मंडावी सहित मंत्रियों, सांसदों, संसदीय सचिवों और विधायकों की गरिमामय उपस्थिति में निर्माण स्थल पर संपन्न होगा। गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ के नवीन विधानसभा भवन का निर्माण महानदी एवं इन्द्रावती भवन के मध्य के पीछे 51 एकड़ भूमि पर किया जाएगा। नवीन भवन 52 हजार 497 वर्ग मीटर में होगा। भवन में विधायकों की बैठक क्षमता के अनुरूप सदन का निर्माण एवं अध्यक्षीय दीर्घा, अधिकारी दीर्घा, प्रतिष्ठित दर्शक दीर्घा, पत्रकार दीर्घा एवं दर्शक दीर्घा का निर्माण किया जाएगा। विधानसभा अध्यक्ष, मुख्यमंत्री एवं मंत्रियों, नेता प्रतिपक्ष एवं उपाध्यक्ष और मुख्य सचिव तथा विधानसभा के प्रमुख सचिव, सचिव एवं अन्य सचिव के लिए कक्ष, मीटिंग हॉल एवं स्टाफ कक्षों का निर्माण किया जाएगा। नवीन भवन में विभिन्न समिति कक्षों का निर्माण, पुस्तकालय, एलोपैथिक, होम्योपैथिक एवं आयुर्वेदिक औषधालय, पोस्ट ऑफिस, रेल्वे रिजर्वेशन काऊंटर एवं बैंक के लिए भी कक्षों का निर्माण होगा। विधानसभा के चारों ओर सड़क निर्माण, वृक्षारोपण सहित सौन्दर्यीकरण का कार्य किया जाएगा।

28-08-2020
नवा रायपुर में बनेगा नया विधानसभा भवन, डॉ. महंत और ताम्रध्वज साहू ने भूमिपूजन की तैयारियों का लिया जायजा

रायपुर। लोक निर्माण मंत्री ताम्रध्वज साहू, विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत और विधानसभा के उपाध्यक्ष मनोज मंडावी शुक्रवार को नवा रायपुर अटल नगर में कल 29 अगस्त को आयोजित छत्तीसगढ़ के नवीन विधानसभा भवन के भूमिपूजन समारोह की तैयारियों का जायजा लिया। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को सभी आवश्यक तैयारियां सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। इस अवसर पर लोक निर्माण विभाग के सचिव सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी, प्रमुख अभियंता व्ही.के. भटपहरी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

 

28-08-2020
डॉ. महंत और भूपेश बघेल ने विधायन और विधानसभा पर केन्द्रित डॉक्यूमेंट्री का किया विमोचन

रायपुर। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार को छत्तीसगढ़ विधानसभा की शोध पत्रिका ‘विधायन‘ के नवीनतम अंक का विमोचन किया। इस दौरान उन्होंने विधानसभा पर केन्द्रित वृत्तचित्र (Documentary Film) का भी विमोचन कर,इसकी डीवीडी जारी की।  नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल और विधानसभा के प्रमुख सचिव चंद्रशेखर गंगराड़े भी उपस्थित थे।  उल्लेखनीय है कि, अविभाजित मध्यप्रदेश में शोध पत्रिका ‘विधायनी‘ का प्रकाशन होता था। छत्तीसगढ़ राज्य गठन के बाद छत्तीसगढ़ विधानसभा में ‘विधायन‘ नाम से पत्रिका का प्रकाशन वर्ष 2001 से प्रारंभ हुआ। विगत 10 वर्षों से इस पत्रिका का प्रकाशन स्थगित था। पिछले 1 वर्ष से विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत की रुचि, निर्देश और मार्गदर्शन पर अब नियमित रूप से ‘विधायन‘ के प्रकाशन का कार्य प्रारंभ किया गया है।

‘विधायन‘ के जिस अंक का आज विमोचन किया गया है। वह ‘पर्यावरण‘ पर केंद्रित है। वर्तमान समय में विश्वव्यापी महामारी कोरोना ने पूरे विश्व को झकझोर दिया है। ये संकट प्रकृति और पर्यावरण के साथ मानव की ओर से लंबे समय तक की जाने वाली लापरवाही और छेड़छाड़ का परिणाम है। इसेे ध्यान में रखते हुए विधानसभा अध्यक्ष डॉ. महंत ने ‘विधायन‘ का वर्तमान अंक ‘पर्यावरण‘ पर केंद्रित करने के लिए निर्देशित किया था।  इस पत्रिका के नियमित प्रकाशन के लिए संपादक मंडल का गठन किया गया है। इस अंक में पर्यावरण प्रदूषण, ओजोन परत और ग्रीनहाउस जैसे विषयों पर देश भर के वरिष्ठ विशेषज्ञों के उच्च स्तरीय लेख प्रकाशित किए गए हैं। इस पत्रिका में प्रकाशित होने वाले लेख संदर्भ और शोध करने वाले छात्रों के लिए लाभदायक होंगे।

27-08-2020
कोरोना से लड़ाई हम सबकी लड़ाई है, केन्द्र सरकार के निर्देशों के अनुसार संकट से निपटने किए गए सभी जरूरी इंतजाम: भूपेश

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा के सदन में आज प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति, रोकथाम और बचाव तथा प्रबंधन पर विपक्ष द्वारा लाए गए स्थगन प्रस्ताव पर सदन में 4 घंटा 40 मिनट तक चर्चा की गई। सदन में समवेत स्वर में कोरोना वारियर्स की कर्त्तव्य निष्ठा की सराहना करते हुए उनके प्रति आभार प्रकट किया गया। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने कहा कि सदन में हुई चर्चा में आए महत्वपूर्ण सुझावों से प्रदेश में कोरोना संक्रमण को रोकने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि मैं अपनी ओर से और सदन की ओर से सभी कोरोना वारियर्स की कर्त्तव्य निष्ठा की सराहना करता हूं और उन्हें सम्मानित करना चाहता हूं। 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि कोरोना से लड़ाई हम सबकी लड़ाई है। हम सभी इसे लेकर चिंतित हैं। पक्ष-विपक्ष के सदस्य कोरोना संक्रमण से बचाव और रोकथाम तथा प्रबंधन के संबंध में जो सुझाव देंगे, उन्हें केन्द्र सरकार को भेजा जाएगा। उन सुझाव को मानना या न मानना केन्द्र सरकार पर निर्भर है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में नेशनल डिजास्टर एक्ट प्रभावी है। राज्य सरकार केन्द्र सरकार द्वारा तय दिशा-निर्देशों के अनुसार कोविड-19 संक्रमण से निपटने के लिए कार्य कर रही है। हम केन्द्र सरकार के निर्देशों का पालन कर रहे हैं और भविष्य में भी करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा क्वारेंटाइन सेंटरों की व्यवस्था, आइसोलशन सेंटर और अस्पतालों की व्यवस्था तथा प्रवासी मजदूरों के संबंध में जो निर्देश जारी किए थे, राज्य सरकार उसका पालन कर रही है। सैम्पलों की टेस्टिंग भी केन्द्र की गाइडलाइन के अनुसार की जा रही है।

बघेल ने कहा कि कोरोना महामारी के प्रबंधन के लिए सभी मंत्रियों की जिम्मेदारी तय की गई कि कौन किस राज्य और किन कलेक्टरों से बात करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रवासी श्रमिकों से आने से प्रदेश में संक्रमण नहीं बढ़ा है, बल्कि हवाई अड्डे और सड़क मार्ग खोलने से संक्रमण बढ़ रहा है। अधिकतर मजदूर गांवों में हैं। ग्रामीणों ने संक्रमण रोकने की बड़ी अच्छी व्यवस्था की है। बाहर से आने वालों को क्वारेंटाईन सेंटरों में रखा जा रहा है। इससे हमारे गांव बचे हुए हैं।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने चर्चा के जवाब में कहा कि प्रदेश में एक सितम्बर से प्रतिदिन 20 हजार सैम्पलों की टेस्टिंग का लक्ष्य है। वर्तमान में 10 से 12 हजार सैम्पलों की टेस्टिंग की जा रही है। अधिक संक्रमण वाले क्षेत्रों में सिंगल सैम्पल की टेस्टिंग की जा रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल प्रतिदिन प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति की समीक्षा कर रहे हैं। अभी कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। राज्य सरकार द्वारा संक्रमित लोगों के इलाज की सभी व्यवस्थाएं की जा रही है। भविष्य में सुविधाएं बढ़ने के साथ-साथ सैम्पलों की टेस्टिंग की संख्या भी बढ़ायी जाएगी। उन्होंने कहा कि अन्य प्रदेशों की तुलना में छत्तीसगढ़ बेहतर स्थिति में है, जल्द ही बेहतर परिणाम आएंगे। उन्होंने कोरोना संक्रमण से बचने के लिए गाईडलाइन का कड़ाई से पालन करने की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने पक्ष-विपक्ष से इस विश्वव्यापी संकट से निपटने के लिए सुझाव देने का आग्रह किया।

उन्होंने कहा कि पर्याप्त संख्या में बिस्तरों और वेंटिलेटर की व्यवस्था है, जरूरत के अनुसार इसमें इजाफा किया जाएगा। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि ने कहा कि राजधानी रायपुर के मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में 80 बिस्तरों का आईसीयू जल्द ही तैयार हो जाएगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 22 हजार 375 क्वारेंटाईन सेंटर बनाए गए, जिनमें 778 शहरी क्षेत्रों में हैं। क्वारेंटाइन सेंटरों में 7 लाख 7 हजार 286 लोगों को रखा गया और उनके लिए सभी के सहयोग से दिन-रात मेहनत कर सभी जरूरी व्यवस्थाएं की गई। वर्तमान में क्वारेंटाइन सेंटर में 2422 लोग हैं। मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री सहित पक्ष-विपक्ष के सदस्यों ने कोरोना वारियर्स, स्वास्थ्य, पुलिस, राजस्व, शहरी विकास विभागों सहित सभी विभागों के अधिकारियों-कर्मचारियों, समाजसेवी संस्थाओं, पंचायत प्रतिनिधियों, जनप्रतिनिधियों और कोरोना संकट के दौर में कार्य करने वाले सभी लोगों के प्रति आभार प्रकट किया।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804