GLIBS
18-06-2020
बांधों में लबालब पानी, फिर भी लोग बने लापरवाह, नहाने के नाम पर बांध में लगा रहे छलांग

कवर्धा। बारिश अपने रूप में नहीं आई है। इसके बाद भी जिले के लगभग सभी बांधों में लबालब पानी भरा हुआ है। इसके बावजूद लोग लापरवाही बरत रहे हैं। लोग सरोधा बांध सहित अन्य बांध में नहाने के नाम पर ऊंचे स्थान से पानी में छलांग लगा रहे हैं। इससे बड़े हादसे का डर बना हुआ है। वही रात को लोग बांध की ओर घूमने भी जा रहे हैं। इससे भी हादसा हो सकता है। इस वर्ष सरोधा बांध, छीरपानी, कर्रानाल सहित अन्य बांधों में छमता के बराबर पानी भरा हुआ है। बारिश होने से बांध का पानी उलट की ओर से बहने लग जाएगा। इसके बाद भी सरोधा बांध के गेट से कूदकर पानी मे युवक नहा रहे हैं। इसी प्रकार रात में शराब पीने व घूमने लोग सरोधा बांध जा रहे हैं। इससे बड़ी दुर्घटना घट सकती है। शहर से लगे होने के कारण सरोधा बांध में असमाजिक तत्व के लोगों का जमावड़ा रहता है। इसके लिए पुलिस पेट्रोलिंग की अधिक जरूरत है। लेकिन इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

05-05-2020
छत्तीसगढ़ लौटने वालों को गांव से बाहर किया जाएगा क्वारेंटाइन, कलेक्टर-मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश जारी

रायपुर। राज्य शासन ने छत्तीसगढ़ से अन्य राज्यों में रोजगार के लिए गए श्रमिकों और व्यक्तियों को वापस लाने का निर्णय लिया है। बड़ी संख्या में बाहर से मजदूर अपने जिले और गांव में आएंगे। इन सभी को क्वारेंटाइन सेंटर में रखा जाएगा। इसके लिए राज्य के सभी जिलों की ग्राम पंचायतों के गांवों के बाहर क्वारेंटाइन सेंटर बनाए जा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की सचिव निहारिका बारिक सिंह ने सभी जिलों के कलेक्टर और मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को क्वारेंटाइन सेंटर तैयार करने के संबंध में जारी निर्देशानुसार पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग से आवश्यक समन्वय बनाकर कार्य करने को कहा है। छत्तीसगढ़ शासन के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के निर्देशानुसार गांव के बाहर क्वारेंटाइन सेंटर बनाकर चारों ओर बेरिकेटिंग करने कहा गया है। इसकी निगरानी ग्राम पंचायत सचिव,कोटवार करेंगे। यदि क्वारेंटाइन सेंटर किसी सामुदायिक भवन या स्कूल में बनाया गया हो तो सेंटर के अंदर भी अलग-अलग खंड बनाने कहा गया है। कोई व्यक्ति पाजिटिव पाया जाए तो उसे तत्काल दूसरे खण्ड में शिफ्ट किया जा सके। इन व्यक्तियों के नहाने और शौचालय के लिए अलग व्यवस्था करने कहा गया है। ऐसे व्यक्तियों का स्वास्थ्य परीक्षण कर, तत्काल निकटस्थ आइसोलेशन सेंटर में भेजने कहा गया है। जांच रिपोर्ट आने तक किसी भी अवस्था में संदिग्धों को डिस्चार्ज न करने की सख्त हिदायत दी गई है।

क्वारेंटाइन सेंटर बनाने और संचालित करने का दायित्व ग्राम पंचायत का होगा। कम्युनिटी सवेर्लेंस का कार्य आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और आवश्यकतानुसार कान्टैक्ट ट्रेसिंग का कार्य शिक्षकों से कराया जाएगा। ग्राम के कोटवार सोशल डिस्टेंसिंग का कार्य संभालेंगे। निगरानी की जिम्मेदारी स्थानीय राजस्व अधिकारी की होगी। स्पष्ट कहा गया है कि इन क्वारेंटाइन सेंटर में सेवा देने वाले प्रत्येक व्यक्ति को ध्यान देना होगा कि संदग्धि व्यक्ति संक्रमित भी हो सकते हैं। पर्याप्त सावधानी बरतने के साथ ही अनावश्यक मिलने से बचना होगा। कैम्पों में राजस्व विभाग, पुलिस विभाग और अन्य संबंधित विभाग निरंतर निगरानी रख रहा है। इन क्षेत्रों में कार्य करने वाले प्रत्येक अधिकारी और कर्मचारी को अपनी सुरक्षा के लिए बनाए रखने, मास्क अनिवार्य रूप से पहनने और अन्य समस्त आवश्यक उपायों का पालन कराने के लिए निर्देश देने कहा गया है। स्वास्थ्य विभाग की सचिव ने क्वारेंटाइन सेंटर में रखे गए व्यक्तियों के स्वास्थ्य के संबंध में जानकारी निर्धारित परिपत्र में प्रतिदिन स्वास्थ्य विभाग को भेजने के निर्देश दिए हैं।

25-06-2019
सात दोस्त एक साथ उतरे थे नदी में नहाने, 2 दोस्त डूबे, शहर में पसरा मातम

सूरजपुर। अपने दोस्तों के साथ रेणुका नदी में स्नान करने गए दो मासूम बच्चों की जल समाधि हो गई। समाचार लिखे जाने तक मृतकों के शव नदी से नहीं निकाला जा सके है। इसके लिए गोताखोरों की मदद ली जा रही है। गौरतलब है कि मंगलवार को दोपहर करीब 2 बजे नगर के नया बस स्टैंड मोहल्ला निवासी सुमित साहू 12 वर्ष और आयुष साहू 12 वर्ष अपने 5 अन्य दोस्तों के साथ छठ घाट के समीप स्थित नौकाघाट रेड नदी में स्नान करने गए थे। उसी दौरान सुमित और आयुष के गहरे पानी में चले जाने के कारण डूब गए। जबकि उनके साथ गए तीन अन्य साथी सकुशल हैं, जिन्होंने परिजनों को इस घटना की सूचना दी। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस टीम, परिजन और स्थानीय नागरिक मौके पर पहुंचे है। स्थानीय गोताखोरों ने उनकी तलाश शुरू कर दी है लेकिन अभी तक उनका कोई सुराग नहीं लग पाया है।

कपड़ों से हुई पहचान, परिजनों का रो रो कर बुरा हाल


जिस स्थान पर सुमित साहू और आयुष साहू के डूबने की बात कही जा रही है उसी स्थान पर नदी के घाट पर उन दोनों बच्चों के कपड़े चप्पल और जूते रखे हुए हैं, जो स्पष्ट है कि वे दोनों बच्चे आयुष और सुमित हैं। इस घटना की सूचना जब परिजनों के पास पहुंची तो दोनों बच्चों के परिजन तत्काल घटनास्थल पर पहुंच गए और कपड़े देखकर परिजनो का रो रो कर बुरा हाल है।

इसी स्थान पर होली के दिन हुआ था हादसा

बताया जा रहा है कि जहां पर वे दोनों बच्चे नहा रहे थे वहां पर गहरा खोह है। इसमें कुछ वर्षों पूर्व होली के दिन तीन बच्चों की जल समाधि हो चुकी हैं। इस हादसे के बाद रेड नदी के इस स्थल को प्रतिबंधित कर दिया गया था लेकिन पुनः प्रशासनिक अनदेखी के कारण आज पुनः दो बच्चों की इसी स्थान पर जल समाधि हो गई।

12-01-2019
Youth : तालाब में डूबने से युवक की मौत

बागबाहरा। शिवा साहू पिता चुनुराम साहू उम्र 20 वर्ष निवासी ग्राम कोचर्रा को पिछले 10-12 वर्षों से मिर्गी की बीमारी थी। वह सुबह तालाब नहाने गया, नहाते समय उसे मिर्गी का दौरा पड़ा। इसके चलते डूबने से उसकी मौत हो गई। बागबाहरा पुलिस को परिजनों ने इसकी सूचना दी। बागबाहरा पुलिस मर्ग कायम कर मामले की विवेचना में जुटी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804