GLIBS
16-09-2020
Video : विकास ने शिक्षकों की भर्ती का रास्ता खोलने मुख्यमंत्री का माना आभार, पूर्व सरकार पर साधा निशाना

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता व सचिव विकास तिवारी ने प्रदेश सरकार की ओर से 14580 शिक्षकों की नियुक्ति का रास्ता खोलने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कांग्रेस सरकार का आभार व्यक्त किया है। विकास तिवारी ने कहा है कि, शिक्षकों की नियुक्ति के बाद लगातार प्रदेश में शिक्षा के स्तर में सुधार होगा और दूरस्थ क्षेत्रों में रहने वाले गरीब और मध्यवर्गी बच्चों को सीधा फायदा मिलेगा। साथ ही कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा है कि, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के इस आदेश के बाद पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह और भारतीय जनता पार्टी को प्रदेश की जनता से माफी मांगना चाहिए। विकास तिवारी ने कहा है कि, कांग्रेस  पार्टी ने चुनाव के समय यह वादा किया था कि, प्रदेश में रिक्त शिक्षक पदों में सीधी भर्ती की जाएगी और शिक्षा के स्तर और गुणवत्ता में सुधार के लिए कार्य किया जाएगा, जो कि इस आदेश के बाद द्रुत गति से संपादित होगा। 

कांग्रेस प्रवक्ता ने आरोप लगाया है कि, 15 वर्षों के कुशासन के कारण प्रदेश में लगातार शिक्षकों की कमी थी। इसके कारण कारण 2 लाख से अधिक गरीब और मध्यमवर्गीय बच्चों ने अपनी पढ़ाई लिखाई छोड़ दी थी। इसके लिए सीधा जिम्मेदार पूर्वर्ती रमन सरकार ही थी। शिक्षा विभाग में भारी घोटाला करने वाली पूर्ववर्ती रमन सरकार का एकमात्र धेय कमीशनखोरी करना था, जिसके कारण शिक्षकों की भर्ती को लटका कर रखा गया था। छत्तीसगढ़ राज्य शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ा रहा, इसका श्रेय भी पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और भारतीय जनता पार्टी को जाता है। भाजपा को बताना चाहिए कि, किन कारणों से पंद्रह सालों में हजारों पदों में शिक्षकों की नियुक्ति नहीं की गई थी? इसके कारण लाखों बच्चे स्कूल छोड़ने को मजबूर हो गए थे। कांग्रेस प्रवक्ता ने पूर्व मुख्यमंत्री व भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह से मांग की है कि, अब समय आ गया है केंद्र में 30 लाख रिक्त पदों में कम से कम तीन लाख पदों पर प्रदेश के पढ़े-लिखे बेरोजगारों को रोजगार दिलाने की पहल करें। तत्काल प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर मोदी सरकार को भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से सीख लेते हुए केंद्र में रिक्त पदों पर तत्काल नियुक्ति प्रारंभ करने कहें।

04-09-2020
खुशहाली के दांवे के बीच क्यों 233 कृषकों व खेतिहर ने आत्महत्या की : रमन सिंह 

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने वर्ष 2019 की नेशनल क्राइम ब्यूरो के रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया व्यक्त की हैं। उन्होंने राज्य सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल करते हुए छत्तीसगढ़ में आत्महत्या के बढ़ते मामलों को चिंताजनक बताया हैं। डॉ.सिंह ने कहा है कि राष्ट्रीय औसत 3.4 प्रतिशत हैं। वहीं आत्महत्या के मामलों में छत्तीसगढ़ में 8.3 प्रतिशत की वृद्धि प्रदेश सरकार की नीति और कार्यप्रणाली पर सवाल खड़ा करता हैं। रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2019 में 7629 लोगों का आत्महत्या किया जाना और छत्तीसगढ़ राज्य में आत्महत्य की दर में वृद्धि के साथ देश में नौवें स्थान पर आना प्रदेश सरकार की हर मोर्चे पर विफलताओं को प्रमाणित करता हैं। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ जैसे छोटे प्रदेश की तुलना में कई बड़े बड़े प्रदेशों की आत्महत्या की दर में गत वर्ष की तुलना में कमी दर्ज की गई हैं।

 प्रदेश में आत्महत्या के मामलों में वृद्धि प्रदेश में कांग्रेस सरकार से बढ़ती निराशा और हताशा का परिणाम हैं। पूर्व मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से पूछा है कि उनकी सरकार किसान हितैषी होने का दावा करती है। सीएम अपने आपको लगातार किसान पुत्र बताते हैं फिर क्यों किसान पुत्र के राज में छत्तीसगढ़ किसानों की आत्महत्या के मामले में देश में छठवें स्थान पर हैं?  किसानों की खुशहाली के दावे के बीच क्यों 233 कृषकों व खेतिहर ने आत्महत्या की? उन्होंने कहा है कि एक तरफ प्रदेश सरकार किसानों की खुशहाली का दावा करते नहीं थकती, किसानों के नाम पर लाई गई तमाम योजनाओं का ढिंढोरा पीटा जाता हैं। राजीव गांधी न्याय योजना से लेकर रोका छेका और गोबर खरीदी की बात की जाती हैं। विज्ञापन,होर्डिंग में खूब प्रचार होता हैं परंतु यह बड़ा दुर्भग्यपूर्ण हैं कि इन तमाम दावों की पोल छत्तीसगढ़ में किसान आत्महत्या के बढ़ते आंकड़ों से आज खुल चुकी हैं। उन्होंने कहा कि रोजगार देने का दावा करने वाले भूपेश बघेल और उनकी सरकार को बताना चाहिए कि प्रदेश में 1679 मजदूरों ने आत्महत्या क्यों कर ली? मजदूरों की आत्महत्या के मामले में छत्तीसगढ़ देश में आठवें स्थान पर कैसे पहुंच गया? क्या प्रदेश में बेरोजगारी की पीड़ा झेल रहे प्रदेश के युवाओं की आत्महत्या की जिम्मेदार भूपेश बघेल की सरकार नहीं हैं? कांग्रेस अध्यक्ष होने के नाते बेरोजगारी भत्ता का वादा करने वाले बघेल जी मुख्यमंत्री बनते ही क्या आपने बेरोजगारी भत्ता और रोजगार ना देकर प्रदेश के युवाओं को छला नहीं? छल और धोखे के चलते प्रदेश के कई युवाओं ने आत्महत्या का रास्ता अख्तियार कर लिया। उन्होंने भूपेश बघेल से पूछा, आप तो कर्मचारियों के हित में निर्णय की बात करते थे। प्रदेश सरकार के तानाशाही रवैये के चलते प्रदेश में शासकीय कर्मचारी व अधिकारी कितने दबाव में हैं वह पिछले वर्ष 66 शासकीय कर्मचारियों व अधिकारियों की आत्महत्या से प्रमाणित होता हैं।

30-08-2020
रमन सरकार के पास नवा रायपुर में बसाहट के लिए नहीं थी कोई योजना : सुशील आनंद शुक्ला

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह के विधानसभा भवन के शिलान्यास के औचित्य पर सवाल खड़ा करने को कांग्रेस ने उनकी खीझ बताया है। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा है कि पूर्ववर्ती रमन सिंह सरकार की अदूरदर्शिता के कारण वीरान पड़ी नई राजधानी को आबाद करने नवा रायपुर में नए भवनों,मंत्रियों के निवास,मुख्यमंत्री निवास और विधानसभा भवन बनाने की जरूरत महसूस की जा रही है। नई राजधानी में 7 से 8 हजार करोड़ खर्च बिना किसी योजना के तत्कालीन भाजपा सरकार ने खर्च कर दिया था। बड़े बड़े भवन बनाए गए। चौड़ी चौड़ी सड़कें बनाई गई,सड़कों के किनारे लैंड स्केपिंग करवाया गया,गार्डन बनाया गया,हाउसिंग बोर्ड के माध्यम से कॉलोनियां बनवा दी गई। इतना सब करने के बाद नई राजधानी में आबादी बढ़ाने और लोगों की बसाहट बढ़ाने का कोई प्रयास नहीं किया गया। हजारों करोड़ खर्च करने के बाद भी नया रायपुर वीरान पड़ा हुआ है। वहां बने सरकारी भवन खंडहर में तब्दील होने की कगार पर हैं। सरकार को खाली भवन ,सड़कों और गार्डनों के रख रखाव पर लाखों रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं। यदि रमन सरकार थोड़ी दूरदर्शिता दिखाती तो नई राजधानी को पूर्ण कैपिटल कॉम्प्लेक्स के रूप में विकसित करती।

 

17-08-2020
छत्तीसगढ़ी को आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए लिखा पत्र मुख्यमंत्री बघेल का एक और राजनीतिक छलावा : रमन सिंह

रायपुर। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने छत्तीसगढ़ी भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे गए पत्र को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का एक और राजनीतिक धोखा कहा है। डॉ. सिंह ने कहा कि अपने दम पर कुछ सार्थक व रचनात्मक काम करने का पराक्रम दिखाने के बजाय बस घूम-फिरकर प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखने का नित-नया शिगूफा रचने में मशगूल मुख्यमंत्री बघेल की प्रदेश को भरमाने की राजनीति अब ज्यादा नहीं चलने वाली है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ी भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल करने की मांग कर रहे मुख्यमंत्री का मुखौटा अब उतर चुका है। केंद्र सरकार ने हाल ही जिस राष्ट्रीय शिक्षा नीति के प्रारूप को स्वीकृति दी है, उस नीति में बच्चों को मातृभाषा में शिक्षा देने की बात कही गई है लेकिन मुख्यमंत्री बघेल ने ही सबसे पहले इस शिक्षा नीति का न केवल विरोध किया, अपितु छत्तीसगढ़ी भाषा का घोर अपमान करते हुए यहाँ तक कहा कि छत्तीसगढ़ी में बच्चों की पढ़ाई संभव नहीं है, क्योंकि छत्तीसगढ़ी में पढ़कर प्रदेश के विद्यार्थी पिछड़ जाएंगे। डॉ. सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री अब प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर छत्तीसगढ़ी भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल करने की मांग करके प्रदेश को भरमाने में लगे हैं, लेकिन प्रदेश अब उनके झांसों में आने वाला नहीं है। रमन सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़िया, छत्तीसगढ़ी अस्मिता के नाम पर राजनीतिक लफ़्फाजी और जुबानी जमाखर्च करके कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ के साथ छल किया, इसका शोषण किया, उपेक्षा, भुखमरी,अशिक्षा, पिछड़ापन,बेकारी,बेबसी को छत्तीसगढ़ की नियति बनाकर रख दिया था। पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी ने एक राज्य के रूप में छत्तीसगढ़ को उसकी पहचान दी और 15 वर्षों के भाजपा के सुशासन ने छत्तीसगढ़ को देश-विदेश के मानचित्र में स्थापित कर छत्तीसगढ़ के गौरव और मान-सम्मान को बढ़ाने का काम किया, छत्तीसगढ़ी को राजभाषा का दर्जा दिया तो आज कांग्रेस वृथा गाल बजाकर अपने मुँह मियां मिठ्ठू बनने पर आमादा नजर आ रही है।

 

 

16-08-2020
अटल बिहारी बाजपेयी के विचार और आदर्श हमारा आज भी मार्ग प्रशस्त करते हैं : रमन सिंह

रायपुर। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी की पुण्यतिथि पर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने उन्हें नमन किया है। रमन सिंह ने कहा कि आज अटल बिहारी बाजपेयी जी निसंदेह हमारे साथ नहीं है लेकिन उनके विचार व आदर्श हमारा आज भी मार्ग प्रशस्त कर रहे हैं। मुझे जैसे लाखों कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन उन्होंने किया। मुझे व्यक्तिगत रूप से उनका स्नेह मिला, वह मेरे पथप्रदर्शक रहे।  हृदय पटल पर उनकी स्मृतियां आज भी अटल हैं। पूर्व प्रधानमंत्री, भारत रत्न, श्रद्धेय अटल बिहारी बाजपेयी जी ने हम सब छत्तीसगढ़वासियों को अपना अलग राज्य व पहचान दी। वह राजनीतिक शुचिता, सादगी व सरलता की मिसाल थे। उनके पदचिन्हों पर चलकर ही मैंने राजनैतिक दायित्वों को समझा। ऐसे महान व्यक्तित्व की पुण्यतिथि पर शत-शत नमन।

08-07-2020
सोशल मीडिया में ट्रेंड हुआ #डरगईकांग्रेस, रमन-कौशिक-पांडेय ने प्रदेश सरकार पर साधा निशाना

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी का #डरगईकांग्रेस बुधवार को सुबह से ही सोशल मीडिया पर काफी ट्रेंड हुआ। भाजपा से जुड़े लोगों ने छत्तीसगढ़ सरकार पर जमकर निशाना साधा। भाजपा आईटी सेल के प्रदेश संयोजक दीपक म्हस्के ने बताया कि कांग्रेस की बौखलाहट और बदजुबानी के विरुद्ध भाजपा ने बुधवार को यह अभियान चलाया और छत्तीसगढ़ सरकार से कई सवाल पूछकर, उसके फैसलों पर टिप्पणियाँ करके कहा कि सवालों से डरी और बौखलाई कांग्रेस छत्तीसगढ़ को उजाड़ने का काम कर रही है। सवालों से उसकी घबराहट बताती है कि #डरगईकांग्रेस।पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने ट्वीट किया कि प्रश्नों से परहेज, जवाब पर बौखलाहट और विकास के नाम पर झूठे वादे करने वाली भूपेश बघेल सरकार का सच आज जनता के सामने आ गया है। जब प्रदेश के युवा रोजगार के मुद्दे उठाते हैं, तब उन्हें केवल मुख्यमंत्री का मौन मिलता है। इस प्रतिक्रिया से स्पष्ट है कि प्रश्नों से डर गई कांग्रेस।नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने ट्वीट किया कि, आज प्रदेश का युवा रोजगार के लिए भटक रहा, किसान झूठे वादों से त्रस्त हैं लेकिन कांग्रेस की सरकार भ्रष्टाचार, प्रतिशोध और नाकामी की ज्वाला में कुंठित होकर भाजपा के विरुद्ध झूठे प्रोपेगेंडा फैलाने का काम कर रही है। आज इनको जवाब देना हर प्रदेशवासियों के लिए जरूरी है।

राजनांदगाँव के सांसद संतोष पांडेय ने ट्वीट किया कि युवाओं को नहीं मिला रोजगार छत्तीसगढ़ की निकम्मी कांग्रेस सरकार। युवाओं को रोजगार के नाम पर ठगने वाले छत्तीसगढ़ कांग्रेस सरकार के स्वास्थ्य मंत्री खुद दु:खी हैं कि वे अपने वादों को पूरा नहीं कर पा रहे हैं और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल झूठे सपने फिर दिखा रहे। एक अन्य ट्वीट संतोष पांडेय ने किया कि छत्तीसगढ़ कांग्रेस सरकार ने जिस तरह किसानों, युवाओं, महिलाओं, बुजुर्गों को ठगा और छत्तीसगढ़ को बेहाल कर दियाहै, उससे लगता है, भूपेश बघेल ने गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ का नारा बदलकर उजाड़बो छत्तीसगढ़ कर दिया है।पूर्व निगम सभापति संजय श्रीवास्तव ने ट्वीट किया कि जो सरकार सवालों से घबराती हो, अपनी अक्षमता पर कवर चढ़ाती हो, सत्ता की जब ऐसी मति फिर जाती है, सच मानो तब वो सत्ता गिर जाती है।

03-07-2020
जून 2020 तक सरकार के पास जितना अनाज स्टॉक में है उसे अगले 15 महीने तक गरीबों में बाँटा जा सकता है : रमन सिंह

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी विपरीत परिस्थितियों में भी चट्टान की तरह मजबूती के साथ डटे रहने वाले प्रधानमंत्री हैं,जो चुनौतियों को भी देश के लिए अवसर के रूप में बदलने का हौसला और ताकत रखते हैं। कोरोना के संकट काल में मेडिकल इक्विपमेंट्स की दृष्टि से भारत को आत्मनिर्भर बनाने की बात हो,प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के माध्यम से देश के 80 करोड़ लोगों के सशक्तिकरण की बात हो या फिर देश की जीडीपी के 10 प्रतिशत के बराबर 20 लाख करोड़ रुपये की निधि से आत्मनिर्भर भारत की मुहिम, प्रधानमंत्री मोदी ने यह दिखा दिया है कि यदि 130 करोड़ देशवासी ठान लें तो भारत के लिए कोई भी लक्ष्य असंभव नहीं है। डॉ.सिंह शुक्रवार को राजधानी में पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे। भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि चावल और गेहूं के लिए सरकार ने 46 हजार करोड़ रुपए खर्च किए थे, जिसका पूरा खर्चा केंद्र सरकार ने ही उठाया था, वहीं तीन महीनों के लिए कुल 5.87 लाख मीट्रिक टन दाल की जरूरत थी। इसके लिए 5 हजार करोड़ रुपए का खर्च केंद्र सरकार ने ही उठाया। डॉ.सिंह ने बताया कि फूड कॉपोर्रेशन आफ इंडिया के डेटा के मुताबिक, जून तक सरकार के पास 832.69 लाख मीट्रिक टन अनाज है। सरकार के मुताबिक, नेशनल फूड सिक्योरिटी एक्ट (एनएफएसए) और दूसरी योजनाओं के तहत हर महीने करीब 55 लाख मीट्रिक टन अनाज की जरूरत होती है। इस हिसाब से जून 2020 तक सरकार के पास जितना अनाज स्टॉक में है, उससे अगले 15 महीने तक गरीबों में अनाज बाँटा जा सकता है। डॉ. सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोविड-19 के खिलाफ निर्णायक लड़ाई में बहुत ही सजगता और संवेदनशीलता के साथ देश का नेतृत्व किया हैै।

 

28-06-2020
भूपेश बघेल के रहते डॉ.रमन और सरोज पांडेय  कभी मुख्यमंत्री नहीं बन सकते :  विकास उपाध्याय

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह और भाजपा नेत्री डॉ.सरोज पांडये का वर्चुअल रैली के जरिए भूपेश सरकार पर हमला करने की असल वजह ये नहीं है कि कांग्रेस सरकार असफल है। इस बात को वो भी समझ रहे हैं। असल वजह तो ये है कि दोनों को लगने लगा है कि भूपेश बघेल के रहते छत्तीसगढ़ में अब वे कभी मुख्यमंत्री नहीं बन सकते। ये चिन्ता उन्हें रोज सताए जा रही है। ये कहना है कांग्रेस विधायक विकास उपाध्याय का। विधायक उपाध्याय ने कहा है कि भूपेश सरकार बहुत कम समय में अपने कार्यप्रणाली के दम पर साबित कर दिया है कि यह आम लोगों की, किसानों,मजदूरों की सरकार है। उन्होंने मोदी सरकार पर प्रहार करते हुए कहा है कि दशकों बाद भारत की अर्थव्यवस्था मंदी में है, भारत सरकार इसे स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं थी। हालांकि,अब अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने इसकी घोषणा कर दी है, जो साल 2020 में भारतीय अर्थव्यवस्था 4.5 प्रतिशत की नकारात्मक वृद्धि दर्ज करेगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोविड-19 की महामारी से पैदा हुए संकट से निबटने के लिए 12 मई को 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज की घोषणा की थी। उन्होंने कहा था कि इस पैकेज के जरिए देश के विभिन्न वर्गों को सहायता मिलेगी और यह 'आत्मनिर्भर भारत अभियान' को नई गति देगा। तो क्या अभी तक किसी को इसका फायदा होते दिखा है क्या? उन्होंने कहा "इससे जब फायदा होगा तब होगा लेकिन अभी तत्काल राहत देने वाली इसमें बात कम हुई है। बुरी तरह से प्रभावित जरुरतमंद लोगों को सीधे फायदा पहुंचाने वाली घोषणाएं बहुत कम हुई है।" नतीजन देश की जनता इसे भुगत रही है। उपाध्याय ने कहा कि ऐसे हालात में महंगाई चरम सीमा पर है, तो ऊपर से तेल के दामों में बेतहाशा रोज हो रही वृद्धि लोगों की कमर तोड़ कर रख दी है। डॉ.रमन सिंह और सरोज पांडेय इस बारे में क्यों कुछ नहीं बोलते। विकास उपाध्याय ने नसीहत देते हुए कहा कि भाजपा के नेता भूपेश बघेल के कार्यो की आलोचना करना छोड़, छत्तीसगढ़ के विकास में सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाना सीख जाएं अन्यथा प्रदेश की जनता उन्हें दीर्घकालिक सबक सिखाने से पीछे नहीं हटेगी।

 

28-06-2020
छत्तीसगढ़ की 18 महीने की सरकार ने प्रदेश के लोगों को ठगा, यहां माफिया राज चल रहा है : डॉ.रमन सिंह

रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कांग्रेस की प्रदेश सरकार पर 18 महीने के कार्यकाल के आधार पर निशाना साधा है। रमन सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ की 18 महीने की सरकार ने प्रदेश के लोगों को ठगा है। एक हाथ में गीता और गंगाजल लेकर कसम खाने वाले कांग्रेस के नेता जवाब दें। प्रदेश में सारे विकास के काम ठप्प हो गए हैं। 18 माह में एक ईट भी नहीं रखी गई। शराबबंदी तो नहीं किए लेकिन घर पहुंच शराब की व्यवस्था यहां है। हिंदुस्तान में जो कहीं नहीं हो सकता वह यहां हो रहा। कांग्रेस सरकार ने प्रदेश के नवयुवकों को धोखा दिया है। पुलिस भर्ती को निरस्त कर दिया गया। शिक्षा और पुलिस के क्षेत्र में जितनी भर्ती निकली थी उसे निरस्त कर दिया। रमन सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ को कलंकित करने का काम कर रही है सरकार। प्रदेश में माफिया राज चल रहा है। भाजयुमो और महिला मोर्चा कार्यकर्ताओं पर झूठे आरोप लगाकर एफआईआर दर्ज की जा रही है। प्रशासन में भी गिरावट आई है। मुख्यमंत्री बताएं 5 लाख मजदूरों में से आपने कितने लोगों को लाया। 4 लाख 30 हजार लोग पैदल और अपने साधन से आए हैं। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में हालात यह है कि क्वारेंटाइन सेंटर में मरीजों को सरपंच और कोटवारों के भरोसे छोड़ दिया गया है। देशभर में कहीं नहीं हो रहा होगा,जो छत्तीसगढ़ में हो रहा है। यहां क्वारेंटाइन सेंटर में आत्महत्या के मामले सामने आ रहे हैं। 2500 रुपए में खरीदी की बात करने वाले भूपेश बघेल ने किसान को तरसा दिया। आज तक विपक्ष को विश्वास में नहीं लिया।

25-06-2020
प्रधानमंत्री के दूसरे कार्यकाल का पहला वर्ष देश की वर्षों संजोई आशा और आकांक्षाओं की पूर्ति का रहा : डॉ. रमन


रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में अपने कार्यों व फैसलों की जो बुनियाद रखी थी, दूसरे कार्यकाल में उस बुनियाद पर एक भव्य,समृद्ध, शक्तिशाली और स्वाभिमानी भारत की इमारत के निर्माण का काम प्रधानमंत्री मोदी के दूसरे कार्यकाल के पहले वर्ष की ऐतिहासिक, साहसिक व क्रांतिकारी उपलब्धि है। डॉ. सिंह गुरुवार को  कुशाभाऊ ठाकरे स्मृति परिसर में भाजपा के जिला जनसंवाद कार्यक्रम के तहत बलौदाबाजार जिÞला की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग सभा को संबोधित कर रहे थे। यह सभा गुरुवार की पहली सभा थी।भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के दूसरे कार्यकाल का पहला वर्ष देश की वर्षों की संजोई हुई आशा व आकांक्षाओं की पूर्ति का रहा है। केंद्र सरकार ने कोरोना संक्रमण काल में चौपट हो रही अर्थ व्यवस्था के दौर में भी देश को एकजुट रखते हुए गरीब कल्याण योजना के तहत 1.70 लाख करोड़ रुपए का प्रावधान कर प्रभावित गरीब परिवारों, श्रमिकों और जरूरतमंदों को हरसंभव सहायता सामग्री व आवश्यक राशि मुहैया कराई, देश की अर्थ व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए स्थायी आर्थिक उपायों पर काम करते हुए आत्मनिर्भर भारत की दिशा में कदम बढ़ाकर 20 लाख करोड़ रुपए का आर्थिक पैकेज घोषित किया। दूरदर्शितापूर्ण निर्णय लेकर उन पर त्वरित अमल करके प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना संकट को काबू में रखा। केंद्र सरकार ने 45 सौ ट्रेनों से देशभर में फंसे लगभग 56 लाख और बसों से 45 लाख प्रवासी श्रमिकों को उनके घरों तक पहुंचाने का काम किया।डॉ. सिंह ने प्रदेश सरकार के डेढ़ वर्ष के कार्यकाल की आलोचना करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ को संभालने की जिम्मेदारी निभाने में कांग्रेस की प्रदेश सरकार विफल रही है। प्रदेश सरकार को बेरहम बताते हुए डॉ. सिंह ने कहा कि वह प्रदेश के लोगों की वेदना को महसूस नहीं करती। देश के दीगर राज्यों ने अपने प्रवासी श्रमिकों के खातों में आर्थिक सहायता के रूप में पर्याप्त राशि जमा कराई लेकिन छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार ने अपने ढाई लाख प्रवासी श्रमिकों के खाते में ढाई रुपए तक जमा नहीं कराए।

उनकी वापसी के लिए ट्रेनों को अनुमति तक देने में प्रदेश सरकार आनाकानी करती रही। प्रदेश के किसानों के साथ छल-कपट किया, शराबबंदी के वादे से मुकर रही है। शराब के धंधे में करोड़ों की हेराफेरी हो रही है और 30 फीसदी शराब अवैध रूप से बिक रही है और वह पैसा सरकारी खजाने में नहीं जा रहा है। शराब की तस्करी में पुलिस के लोग पकड़े जा रहे हैं। किसानों के दो साल के बकाया बोनस भुगतान के वादे की याद दिलाते हुए डॉ. सिंह ने तेंदूपत्ता संग्राहकों को भी दो साल का बोनस नहीं मिलने की बात कही।कोरोना के मोर्चे पर प्रदेश सरकार को विफल बताते हुए डॉ. सिंह ने कहा कि विभिन्न मदों में 18 सौ करोड़ रुपए होने के बावजूद प्रदेश सरकार कोरोना संकट की रोकथाम और लॉकडाउन से प्रभावितों की सहायता में खर्च नहीं कर रही है। टेस्टिंग सुविधा नहीं बढ़ाए जाने के कारण जाँच रिपोर्ट का काम पेंडिंग पड़ा है और क्वारेंटाइन सेंटर्स यातना गृह बनकर रह गए हैं। केंद्र की राशि से संचालित मनरेगा को छोड़कर प्रदेश में कहीं कोई काम यह सरकार नहीं कर रही है। प्रदेश में माफिया आतंक बढ़ता जा रहा है और माफिया अपने खिलाफ आवाज उठा रहे जनप्रतिनिधियों और लोगों पर जानलेवा हमले कर रहे हैं।

प्रदेश सरकार बदलापुर की राजनीति कर भाजपा कार्यकर्ताओं को प्रताड़ित कर रही है।प्रदेश में भाजपा के 15 वर्षों के शासनकाल की चर्चा कर डॉ. सिंह ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ता केंद्र सरकार के साथ ही प्रदेश के भाजपा शासनकाल की उपलब्धियों को भी बताएं और मौजूदा प्रदेश की कांग्रेस सरकार की विफलताओं से भी प्रदेश को अवगत कराएं।सभा की शुरुआत जिला भाजपा अध्यक्ष सनम जांगड़े के संबोधन से हुई। भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष मोतीलाल साहू ने सभा की कार्यवाही संचालित की। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल ने सबको आत्म निर्भर भारत की संरचना की शपथ दिलाई। जिला महामंत्री राकेश तिवारी ने अंत में सबका आभार माना। इस मौके पर भाजपा वर्चुअल रैली के प्रदेश संयोजक व पूर्व मंत्री राजेश मूणत, संसद सदस्य द्वय सुनील सोनी व गुहाराम अजगले, प्रदेश प्रवक्ता व विधायक शिवरतन शर्मा, पूर्व विधायक द्वय लक्ष्मी बघेल व मनाराम धृतलहरे, जिला महामंत्री सुभाष जालान, डॉ. अजय राव, पूर्व जिला भाजपा अध्यक्ष सुरेंद्र टिकरिहा, पूर्व जिपं सदस्य पूनम माकंर्डेय सहित काफी संख्या में पदाधिकारी व कार्यकर्ता वर्चुअली जुड़े थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804