GLIBS
16-01-2021
Breaking: अच्छा पहनावा और परेड करने वाले पुलिस कर्मियों को मिलेगा इनाम,खराब के लिए सजा 

रायपुर। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव के आदेशानुसार पुलिस परेड ग्राउंड रायपुर में शनिवार को जनरल परेड हुई। परेड में उप पुलिस अधीक्षक लाइन मणि शंकर चंद्रा, सुबेदार अभिजीत सिंह भदोरिया और जिला बल व पुलिस खिलाड़ियों के लगभग 80 जवान शामिल हुए। परेड में डीएसपी चंद्रा ने सलामी और परेड निरीक्षण किया। इसके अलावा  और परेड मार्च भी कराया गया। इस दौरान अच्छी वेशभूषा और परेड करने वाले कर्मचारियों को इनाम व खराब वेशभूषा व परेड करने वाले कर्मचारियों को सजा के लिए अनुशंसित किया गया। इसके अतिरिक्त सभी पुलिस कर्मचारियों को अनुशासित रहने  ड्यूटी के प्रति सजग रहने और शारीरिक रूप से स्वयं को फीट रखने के आवश्यक निर्देश दिए गए।

26-11-2020
डीएम अवस्थी ने कहा- आदतन अपराधी और गुण्डे-बदमाशों की लिस्ट बनाकर सख्ती से करें कार्यवाही

रायपुर। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने गुरूवार को रायपुर जिले में कानून व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा बैठक ली। बैठक में अवस्थी ने कहा कि राजधानी रायपुर की पुलिस का जोर बेसिक, इम्पेक्टफुल और विजिबल पुलिसिंग पर होना चाहिए। प्रदेश भर में रायपुर पुलिस की कार्यशैली और अपराधियों पर कार्यवाही अनुकरणीय होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि आदतन अपराधी और गुण्डे-बदमाशों की लिस्ट बनाकर सख्ती से कार्यवाही करें। गुण्डे-बदमाशों में पुलिस का भय और आमजन में पुलिस के प्रति विश्वास होना चाहिए।

बैठक में डीजीपी ने पुलिस पेट्रोलिंग बढ़ाने के निर्देश दिये और कहा कि सट्टा, जुआ, अवैध शराब पर छापामार कार्यवाही करें। उन्होंने कहा कि महिला विरूद्ध अपराधों पर प्राथमिकता से कार्यवाही करें। अपराधों को रोकने और अपराधियों पर सख्त कार्यवाही के लिये एक्शन प्लान बनाकर कार्य करें। अपराधियों पर सख्त और त्वरित कार्यवाही करें, जिससे आमजन को पुलिसिंग होती हुई दिखायी दे। डीएम अवस्थी ने कहा कि रायपुर पुलिस ने पिछले 11 माह में कई बड़े मामले सफलतापूर्वक सुलझाये हैं एवं लगभग सभी अपराधी पकड़े गये हैं।

उन्होंने यातायात पुलिस को निर्देश दिये कि वाहन चेकिंग के दौरान गुण्डे-बदमाश प्रवृत्ति के लोगों पर भी नजर रखें एवं कार्यवाही करें। डीजीपी ने कम्युनिटी पुलिसिंग पर जोर देते हुए कहा कि आमजन एवं पुलिस के बीच लगातार संवाद स्थापित होते रहना चाहिए। इसके लिये फ्रेण्ड्स ऑफ पुलिस बनाकर अच्छे लोगों को पुलिस से जोड़कर अपराधों की रोकथाम में मदद मिल सकती है। बैठक में पुलिस महानिरीक्षक डॉ. आनंद छाबड़ा, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव, उप पुलिस महानिरीक्षक सीआईडी हिमानी खन्ना, सहायक पुलिस महानिरीक्षक राजेश अग्रवाल एवं रायपुर जिले के सभी पुलिस अधिकारी उपस्थिति रहे।

 

16-11-2020
मंदिर हसौद में शराब, गांजा और जुआ पर रोक लगाने किसान संघर्ष समिति ने सौंपा ज्ञापन

रायपुर। मंदिर हसौद थाना‌ क्षेत्र के अधिकतर ग्रामों में हो रहे शराब व गांजा की अवैध बिक्री सहित होने वाले जुआ पर रोक लगाने की मांग को लेकर किसान संघर्ष समिति ने थाना प्रभारी सहित पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों को ज्ञापन सौंपा है। इधर क्षेत्रीय पंचायत प्रतिनिधियों ने भी क्षेत्र में चल रहे असामाजिक गतिविधियों पर रोक लगाने की मांग शासन -प्रशासन से की है। ज्ञातव्य हो कि बीते दिनों पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने अपने अधीनस्थों को अवैध शराब बिक्री रोकने कड़ा निर्देश जिम्मेदार तय करते हुए दिया था।

थाना प्रभारी राजेंद्र दीवान को प्रदत्त ज्ञापन में सन् 93 - 94 के आबकारी सत्र‌ में आरंग थाना क्षेत्र के ग्राम भानसोज में किसान‌ संघर्ष समिति के अगुवाई में यहां खोले गए 9 वर्ष पुराने शराबभट्ठी को बंद कराने पूरे सत्र के दौरान गांधीवादी तरीके से हुए सफल शराबभट्ठी विरोधी आंदोलन का जिक्र करते हुए समिति संयोजक भूपेन्द्र शर्मा ने लिखा है कि इस आंदोलन में मंदिरहसौद थाना क्षेत्र के 25-30 ग्राम नारा, संडी, कुकरा, डिघारी, खम्हरिया, कुंडा, टेकारी, अमेरी, संकरी, जावा, नगपुरा, बड़गांव, तोडव, कुटेसर, नगपुरा, चंदखुरी, चंदखुरीफार्म, मुनगेसर, मुनगी, पिपरहट्ठा, सिवनी, उमरिया, जरौद आदि ने सक्रिय सहभागिता निबाही थी। कोशिश-19 के संक्रमण को रोकने में पुलिस विभाग की व्यस्तता के चलते इनमें से अधिकतर ग्रामों सहित क्षेत्र के अन्य ग्रामों में भी शराब व गांजा की अवैध विक्रेताओं की बाढ़ आने व ताशपत्ती के खेल में इजाफा होने व इससे ग्रामीण जनजीवन अशांत होते जाने की जानकारी देते हुए और खासकर आसन्न दीपावली पर्व के मद्देनजर ग्रामों में शांति व्यवस्था बनाए रखने पुख्ता कार्यवाही का आग्रह किया है।

ज्ञापन में पिपरहट्ठा से नारा , नारा से टेकारी व बड़गांव से कुंडा सड़क मार्ग के सुनसान रहने व खासकर शाम ढले यहां असामाजिक तत्वों के सक्रियता दिखने की ग्रामीणों से मिल रहे शिकायत के परिप्रेक्ष्य में इन स्थलों पर सघन पुलिसिया गश्त की व्यवस्था का भी आग्रह किया गया है। ज्ञापन की प्रति पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी को कोरियर से प्रेषित करने के साथ-साथ पुलिस महानिरीक्षक आनंद छाबड़ा से मुलाकात न होने पर उनके कार्यालय में व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से मुलाकात न हो पाने से अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक तारकेश्वर पटेल को प्रदत्त करने की जानकारी शर्मा ने दी है। इधर क्षेत्रीय जिला पंचायत सदस्य अनीता थानसिंह साहू व ललिता कृष्णा वर्मा ,जनपद सदस्य संजय शर्मा व हृदयराम गडे सहित आरंग जनपद पंचायत सरपंच संघ के अध्यक्ष गोपाल धीवर व नारा के सरपंच हेमंत चंद्राकर, पिपरहट्ठा के सरपंच बीरसिंह वर्मा, मुनगेसर के सरपंच हेमंत कोटराने, टेकारी के‌ सरपंच नंदकुमार यादव आदि ने मंदिरहसौद व आरंग थाना क्षेत्र के ग्रामों में चल‌ रहे असामाजिक गतिविधियों पर रोक लगाने की पुख्ता व्यवस्था की मांग शासन-प्रशासन से की है।

05-10-2020
महिलाओं से संबंधित अपराधों पर करें त्वरित कार्रवाई, प्रकरणों पर नहीं ​की जाएगी देरी बर्दाश्त : डीजीपी 

रायपुर। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने सोमवार को पुलिस मुख्यालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए राज्य के सभी पुलिस महानिरीक्षकों और पुलिस अधीक्षकों की बैठक ली। उन्होंने महिलाओं से संबंधित प्रकरणों की समीक्षा की। पुलिस महानिदेशक अवस्थी ने सभी पुलिस अधीक्षकों को निर्देशित किया कि महिलाओं से संबंधित अपराधों पर त्वरित कार्रवाई करें, ऐसे प्रकरणों में विलंब बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। महिलाओं से संबंधित घटनाओं में विभागीय जांच में उप पुलिस अधीक्षक स्तर के अधिकारी ही विवेचना करें। उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों में निरीक्षक, उप निरीक्षक, प्रधान आरक्षक, आरक्षक के भरोसे नहीं रहना चाहिए।

उन्होंने कहा कि महिलाओं से संबंधित अपराधों पर नियंत्रण के लिए जिलेवार मेकेनिजम बनाया जाए, ताकि घटनाओं की समीक्षा जल्द हो सके। उन्होंने कहा कि महिलाओं से संबंधित प्रकरणों में कार्रवाई जरूर करें ताकि पुलिस की बेहतर छवि बन सके। डीएम अवस्थी ने कहा कि राज्य में अवैध शराब, ड्रग्स, सट्टा, हुक्काबार, गांजा से संबंधित अपराधों में कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि डायल 112 और हाईवे पेट्रोलिंग के कर्मचारियों की रोटशनवार ड्यूटी लगाई जाए। इसके साथ ही ऐसे पुलिस कर्मचारी जिनके विरूद्ध शिकायत मिले, उन्हें तत्काल निलंबित कर उनके विरूद्ध विभागीय जांच कराई जाए।

03-10-2020
डीएम अवस्थी 7 अक्टूबर को पुलिस अधिकारियों से करेंगे बातचीत

रायपुर। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने स्पंदन कार्यक्रम के अंतर्गत स्पेशल इंटरेक्शन प्रोग्राम के तहत वीडियो कॉल के माध्यम से आरक्षक से लेकर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक स्तर के अधिकारियों से पुलिसिंग के संबंध में संवाद करने का निर्णय लिया है। इसके तहत पहला संवाद कार्यक्रम 7 अक्टूबर को रखा गया है। इसमें उप पुलिस अधीक्षक स्तर के अधिकारियों से चर्चा की जाएगी। इसके पश्चात् अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, निरीक्षक, उप निरीक्षक, सहायक उप निरीक्षक, प्रधान आरक्षक एवं आरक्षक स्तर के अधिकारी-कर्मचारियों से पृथक-पृथक सप्ताहवार चर्चा की जायेगी। उक्त चर्चा के लिए तिथि एवं समय पृथक से निर्धारित किया जाएगा। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य छत्तीसगढ़ पुलिस के समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों से चर्चा कर पुलिसिंग को और अधिक बेहतर बनाना है, जिससे आम जनता को पुलिसिंग के माध्यम से और बेहतर सेवा मिल सके।


 

02-10-2020
अनुसूचित जनजाति वर्ग के लोगों पर दर्ज केस की हुई समीक्षा, 8 जिलों के 528 प्रकरणों पर हुआ विचार

रायपुर। उच्चतम न्यायालय के न्यायमूर्ति एके पटनायक (से.नि.) की अध्यक्षता में बीते कल वीडियो कांफ्रेंसिंग से अनुसूचित जनजाति वर्ग के रहवासियों के खिलाफ दर्ज प्रकरणों की समीक्षा की गई। इनमें बस्तर संभाग के जिले क्रमशः बस्तर, दंतेवाड़ा, कांकेर, नारायणपुर, सुकमा, बीजापुर, कोंडागांव और राजनांदगांव शामिल हैं। बैठक में 528 प्रकरणों पर विचार किया गया। इसमें से 216 प्रकरण अभियोजन से वापस लिए जाने की अनुशंसा समिति की ओर से की गई। इसी प्रकार 169 प्रकरण धारा 265 ए दंड प्रक्रिया सहिता के तहत अभिवाक् सौदेबाजी (प्ली ऑफ बारगेनिंग) के माध्यम से न्यायालय से निराकरण के लिए अनुशंसा की गई। बैठक में समिति के सदस्य एवं महाधिवक्ता छत्तीसगढ़ शासन सतीशचन्द्र वर्मा, अपर मुख्य सचिव गृह सुब्रत साहू, पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी, सचिव गृह विभाग एडी गौतम, महानिदेशक जेल एवं सुधारात्मक सेवाएं संजय पिल्लै, संचालक लोक अभियोजन प्रदीप गुप्ता, पुलिस महानिदेशक रेंज बस्तर सुंदरराज पी, उप पुलिस महानिरीक्षक सीआईडी एससी द्विवेदी, उप पुलिस महानिरीक्षक कांकेर डॉ. संजीव शुक्ला उपस्थित थे।

उल्लेखनीय है कि पूर्व में अक्टूबर 2019 और मार्च 2020 में समिति की ओर से उक्त आठों जिलों के अनुसूचित जनजाति वर्ग के रहवासियों के विरुद्ध दर्ज कुल 404 प्रकरणों को अभियोजन से वापस लिए जाने और 81 प्रकरण धारा 265 ए दंड प्रक्रिया संहिता के तहत अभिवाक् सौदेबाजी (प्ली ऑफ बारगेनिंग) के माध्यम से न्यायालय से निराकरण के लिए अनुशंसा की गई थी। इस प्रकार अब तक अनुसूचित जनजाति वर्ग के रहवासियों के विरूद्ध दर्ज कुल 620 प्रकरणों को अभियोजन से वापस लिए जाने और 250 प्रकरण धारा 265 ए दंड प्रक्रिया संहिता के तहत अभिवाक् सौदेबाजी (प्ली ऑफ बारगेनिंग) के माध्यम से न्यायालय से निराकरण के लिए अनुशंसा की जा चुकी है।

31-08-2020
पुलिस मुख्यालय के चार कर्मचारियों को दी गई सेवानिवृत्ति पर भावभीनी विदाई

रायपुर। पुलिस मुख्यालय, नवा रायपुर में सोमवार को सत्यनारायण देवांगन, जीतपाल सिंह जायस, चैनसिंह सलाम, प्रकाशचन्द्र दुबे को सेवानिवृत्ति के बाद भावभीनी विदाई दी गई। उल्लेखनीय है कि पुलिस विभाग की सेवा उपरांत अधिवार्षिकी आयु पूर्ण कर 31 अगस्त को सेवानिवृत्त हुए। कार्यक्रम में पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने कहा कि सत्यनारायण देवांगन एक मृदुभाषी, सहज, सरल रहे। उन्हें अधीनस्थ कर्मचारियों के प्रति उत्तम व्यवहार के लिए पुलिस विभाग याद रखेगा। डीजीपी ने उनके सफल कार्यकाल की सराहना की।

आईजी आनंद छाबड़ा ने अपने संबोधन में कहा कि सत्यनारायण देवांगन अपने काम के प्रति सदैव ईमानदार रहे हैं।  डीजीपी अवस्थी और पुलिस महानिरीक्षक, (रायपुर रेंज) ने शॉल, श्रीफल और स्मृति चिन्ह् भेंटकर सत्यनारायण देवांगन(अअवि), चैन सिंह सलाम(ऑडिटर), जीतपाल सिंह जायस(अअवि) और प्रकाशचन्द्र दुबे(अअवि) को विदाई दी। इस अवसर पर पुलिस मुख्यालय के अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहे।

 

23-08-2020
भूपेश बघेल को मुख्यसचिव सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों ने दी जन्मदिन की शुभकामनाएं

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से उनके निवास में मुलाकात कर मुख्यसचिव आरपी मंडल, पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी तथा प्रधान मुख्य वन संरक्षक राकेश चतुर्वेदी सहित अपर मुख्य सचिव प्रमुख सचिव, सचिव एवं विभागाध्यक्षों ने जन्मदिन की बधाई और शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव वित्त अमिताभ जैन एवं अपर मुख्य सचिव गृह सुब्रत साहू, प्रमुख सचिव मनोज पिंगुआ, कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ.एम.गीता, सचिव स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण निहारिका बारिक सिंह, राज्यपाल के सचिव सोनमणि बोरा, सचिव जल संसाधन अविनाश चम्पावत, सचिव खाद्य डॉ.कमलप्रीत सिंह, चिप्स के मुख्य कार्यपालन अधिकारी समीर विश्नोई, रायपुर कलेक्टर डॉ.एस. भारतीदासन, पुलिस महानिरीक्षक आनंद छाबड़ा, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने मुख्यमंत्री बघेल से मुलाकात कर उन्हें जन्मदिन की शुभकामनाएं दी।

11-08-2020
थाना अकलाडोंगरी-माटेगहन पहुंचे एएसपी, जवानों से रुबरु होकर सुनी समस्याएं, दिए निराकरण के निर्देश

धमतरी। पुलिस जवानों की समस्या को जानने और उन्हें कर्तव्य के साथ-साथ पारिवारिक दायित्व निर्वहन करने के दौरान मानसिक तनाव से मुक्त रहकर उत्कृष्ठ कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी द्वारा स्पंदन अभियान की शुरुआत की गई है। पुलिस अधीक्षक धमतरी बीपी राजभानू द्वारा स्पंदन अभियान के तहत इकाई में पदस्थ जवानों से व्यक्तिगत रूप से मिलकर उनसे चर्चा कर उनकी समस्याओं को सुनते हुए यथोचित निराकरण किया जा रहा है।

इसी क्रम में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे द्वारा थाना अकलाडोंगरी-माटेगहन का भ्रमण कर थाना का आकस्मिक निरीक्षण करते हुए उपस्थित अधिकारी एवं जवानों से चर्चा कर उन्हें तनाव में रहकर कोई कार्य नहीं करने, अपना मनोबल ऊंचा रखने समझाइश देते हुए परिवार से दूर रहने की स्थिति में उनसे मोबाइल से संपर्क बनाए रखने, शारीरिक स्वस्थता के लिए नित्य खेलकूद, योग आदि करने तथा बारिश के मौसम को देखते हुए थाना परिसर एवं उसके आसपास स्वच्छ वातावरण बनाए रखने साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने निर्देशित किया गया। इस दौरान थाना प्रभारी अकलाडोंगरी-माटेगहन मथुरा सिंह ठाकुर एवं अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे।

 

 

28-07-2020
स्पंदन अभियान के तहत जवानों से चर्चा कर उन्हें शारीरिक स्वस्थता एवं आसपास स्वच्छता बनाए रखने दिए निर्देश

धमतरी। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी के मार्गदर्शन में चलाए जा रहे स्पंदन अभियान के तहत पुलिस अधीक्षक धमतरी बीपी राजभानू के द्वारा जनरल परेड दिवस में जवानों के स्वास्थ्य एवं सुरक्षा के लिए पीटी,योगाभ्यास एवं खेलकूद कराने निर्देशित करते हुए उपस्थित अधिकारियों एवं कर्मचारियों से चर्चा कर उनकी समस्याओं का निराकरण करने तथा सभी थाना प्रभारियों को अपने-अपने थाना परिसर व उसके आसपास साफ-सफाई रखने, थाना में आगंतुकों से शालीनता पूर्वक व्यवहार करने आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए। इसी परिप्रेक्ष्य में मंगलवार को जनरल परेड में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे ने उपस्थित अधिकारियों एवं कर्मचारियों के साथ पीटी में हिस्सा लिया। तदुपरांत उन्हें तनाव में रहकर कोई कार्य नहीं करने तथा शारीरिक स्वच्छता बनाए रखते हुए मानसिक एवं शारीरिक तनाव को दूर करने के लिए ड्यूटी पश्चात अपने परिवार को ज्यादा से ज्यादा समय देने समझाइश दी गई। साथ ही अपने घर व आसपास की स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने एवं पर्यावरण को स्वच्छ बनाए रखने वृक्षारोपण करने निर्देशित किया गया। तत्पश्चात स्वच्छता अभियान के तहत उपस्थित अधिकारियों एवं कर्मचारियों के साथ मिलकर रक्षित केंद्र व उसके आसपास साफ-सफाई कर श्रमदान किया गया।
इस दौरान धमतरी पुलिस के स्पंदन अभियान को सुनकर अनुविभागीय दंडाधिकारी धमतरी मनीष मिश्रा एवं तहसीलदार धमतरी ज्योति मसियारे अपने परिवार के साथ रक्षित केंद्र धमतरी में उपस्थित हुए और अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक धमतरी से चर्चा कर उपस्थित पुलिस अधिकारी एवं कर्मचारियों के साथ मिलकर रक्षित केंद्र धमतरी में साफ-सफाई पौधरोपण कर श्रमदान में सहयोग किए। इसी क्रम में थाना प्रभारी मगरलोड अपने स्टाफ के साथ थाना मगरलोड क्षेत्रांतर्गत ग्राम कमईपुर पहुंचकर शहीद आरक्षक राधेश्याम नागवंशी की स्थापित प्रतिमा व शहीद स्मारक के आसपास साफ-सफाई व रंग-रोगन किया गया,जिसे देखकर ग्रामीणों ने प्रशंसा की।

07-07-2020
डीजीपी ने पुलिस अधीक्षकों को दिए निर्देश, अपराधियों पर करें सख्त कार्रवाई, कानपुर जैसी घटना छत्तीसगढ़ में न हो

रायपुर। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने प्रदेश के पुलिस अधीक्षकों को अपराधियों पर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। उन्होंने सभी एसपी को कहा कि अपराधियों की लिस्ट बनाकर कार्रवाई करें। कानपुर जैसी कोई भी वारदात छत्तीसगढ़ में नहीं होनी चाहिए। पुलिस को प्रोफेशनल होकर काम करने की जरूरत है। उन्होंने सभी एसपी को थानों का औचक निरीक्षण करने और थानों के सामने बैरियर लगाने के निर्देश दिये।वीडियो कान्फ्रेंसिंग से हुई बैठक में डीजीपी ने कहा कि अपराधियों को रोकने में बैरियर सहायक साबित होते हैं। अपराधी अपराध करके भागते हैं तो आसानी से पकड़ा जा सकता है। सरकार की प्राथमिकताओं में शामिल चिटफंड और अवैध शराब के प्रकरणों पर शीघ्रता से कार्रवाई करें। चिटफंड प्रकरणों के संचालकों पर सख्त कार्रवाई करते हुए जेल भेजें और उनकी संपत्ति कुर्क करने की कार्रवाई करें साथ ही न्यायालय के माध्यम से एजेंटों से प्रकरण वापस लें।

नक्सल प्रभावित जिलों में आदिवासियों से सामान्य किस्म के प्रकरण वापसी पर शीघ्रता से कार्रवाई के निर्देश दिये गये।डीजीपी ने कहा कि पुलिसकर्मियों के विरूद्ध जो शिकायतें हैं उनकी एक माह के अंदर जांच कर कार्रवाई करें। सभी एसपी को सर्विस प्रकरण गंभीरता से निपटाने के निर्देश दिये गये। अनुकंपा नियुक्ति के प्रकरणों में वेबजह देरी ना करने के निर्देश दिये गये। वीसी में सभी कमांडेंट को निर्देशित किया गया कि स्पंदन कार्यक्रम के तहत जवानों से लगातार संवाद स्थापित करते रहें। उनकी आवास से संबंधित समस्याओं का तत्काल निराकरण करें।बैठक में एडीजी अशोक जुनेजा, एडीजी हिमांशु गुप्ता, डीआईजी सीआईडी सुशील द्विवेदी, एचआर मनहर, एआईजी राजेश अग्रवाल उपस्थित रहे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804