GLIBS
01-06-2020
कोरोना संक्रमण के मद्देनजर स्कूल नहीं खोलने सिंध युवा ब्रिगेड ने मंत्री प्रेमसाय सिंह को सौंपा ज्ञापन

रायपुर। कोरोना संक्रमण के मद्देनजर स्कूली बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर राष्ट्रीय सिंध युवा ब्रिगेड ने स्कूल नहीं खोलने की अपील की है। इस संबंध में स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम को ज्ञापन सौंपा है।
अध्यक्ष विशाल कुकरेजा ने बताया कि छत्तीसगढ़ में स्कूलों के 1 जुलाई से विभिन्न सुरक्षा सैनिटाइजर, सोशल डिस्टेनसिंग के साथ शिक्षा प्रारंभ करने की योजना की बात सामने आ रही है। वहीं पालकों में चिंता है कि बढ़ते संक्रमण के बीच बच्चों को स्कूल जाने के उनमें भी संक्रमण की संभावनाएं अधिक है। विशाल ने कहा कि बच्चे स्कूल पहुंच जैसे ही अपने मित्रों से मिलेंगे और किसी भी नियम का पालन नहीं करेंगे। स्कूल के अध्यापकों द्वारा प्रत्येक छात्रों पर ध्यान देना मुमकिन नहीं है, छोटी सी लापरवाही बच्चों के लिए खतरा बन सकती है। उन्होंने मांग की है कि जबतक स्थिति पूरी तरीके से ठीक नहीं होती है तबतक स्कूलों को खोलने की मंजूरी नहीं दी जाए।

 

16-01-2020
बाबा गुरु घासीदास ने समतामूलक समाज की दिखाई राह : प्रेमसाय सिंह टेकाम

दुर्ग। राज्य स्तरीय गुरु घासीदास लोक कला महोत्सव का गुरुवार को भिलाई 3 स्थित मंगल भवन में शुभारंभ हुआ। कार्यक्रम के मुख्यअतिथि अनुसूचित जाति जनजाति मंत्री प्रेमसाय सिंह ने शुभारंभ करते हुए कहा कि बाबा गुरु घासीदास ने मनखे मनखे एक समान का संदेश देकर समता मूलक समाज का संदेश दिया है। बाबाजी ने सत्य अहिंसा का संदेश देकर सभी जीवों के प्रति प्रेम करुणा का उपदेश दिया है। उन्होंने आगे कहा कि छत्तीसगढ़ की पावन धरती में अनेक संत महात्माओं ने जन्म लिया है। इनमे गुरु घासीदास सर्वोपरि है, जिन्होंने समूचे समाज को एक सूत्र में बांधने और ऊंचनीच के भेद को मिटाने का संदेश दिया। मंत्री टेकाम ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार बाबाजी के संदेश को आगे बढ़ाने की दिशा में गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ के माध्यम से काम कर रही है। सरकार राज्य की कला संस्कृति को बढ़ावा देने का काम कर रही है। अनुसूचित जाति जनजाति के लोगों की हितों के संवर्धन के लिए विभिन्न योजनाएं संचालित कर रही है। इन वर्ग के युवाओं और विद्यार्थियों को सुविधा मुहैया करा रही है,जिससे इनका सही विकास हो सके। मंत्री टेकाम ने लोगों को आहवान करते हुए कहा कि सभी बाबाजी के संदेश को आत्मसात कर अपने जीवन में उतारकर अपना जीवन सिद्ध करें। 2 दिवसीय राज्य स्तरीय लोक कला महोत्सव में प्रदेश के विभिन्न जिलों से आये 30 पंथी नर्तक दलों के बीच प्रतियोगिता होगी। समापन दिवस पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 17 जनवरी को पुरस्कृत करेगें। संस्कृति विभाग छत्तीसगढ़ शासन द्वारा महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इसके पूर्व राज्य सरकार द्वारा राज्य की संस्कृति को सहेजने के उद्देश्य से आदिवासी महोत्सव  युवा महोत्सव का आयोजन रायपुर में कर चुके हैं।

 

29-11-2019
भाजपा विधायक ने सदन में उठाया मध्यान्ह भोजन मामला, कही ये बात...

रायपुर। विधानसभा में शीतकालीन सत्र के पांचवे दिन सदन में बीजेपी विधायक डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी मध्यान्ह भोजन का मामला उठाया। उन्होंने कहा कि घटिया क्वालिटी का सोया मिल्क बांटा जा रहा है। बदबूदार सोया मिल्क स्कूली बच्चों को दिया जा रहा। अंडा प्रदेश के अधिकांश स्कूलों में नहीं बांटा गया। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने भी सवाल दागते हुए कहा कि बलरामपुर, बस्तर, सुकमा, सूरजपुर, जशपुर जैसे आदिवासी जिलों में सरकार अंडा नहीं पहुंचा पाई है? क्या इन जगहों पर विरोध है? आदिवासी जिलों के बच्चों को सुपोषित करने की बात कहकर सरकार ने अंडे वितरित किये जाने की दलील की थी, फिर इन आदिवासी जिलों में अंडा कैसे नहीं पंहुचाया जा सका। स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह ने कहा कि अंडे को लेकर कहीं विरोध नहीं है। स्थानीय स्तर पर अंडे वितरण की व्यवस्था की जाती है। डीएमएफ से भी अंडा वितरित किया जा रहा है। अंडा जहां नहीं पहुंच पा रहा है, वहां जल्द व्यवस्था कराई जाएगी।

08-09-2019
मंत्री प्रेमसाय सिंह ने ई-एजुकेटर्स और डिजिटल नवसाक्षरों को दिया आखर सम्मान

रायपुर। अंतरराष्ट्रीय साक्षरता दिवस के अवसर पर 8 सितम्बर को स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने पंडित जवाहरलाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय रायपुर के सभागृह में आयोजित राज्यस्तरीय समारोह में 'मुख्यमंत्री शहरी कार्यात्मक साक्षरता कार्यक्रम' अंतर्गत ई-एजुकेटर्स और डिजिटल नवसाक्षरों को 'आखर सम्मान' प्रदान किया। उन्होंने इस अवसर पर शिक्षकों के लिए टीम्स टी एप लॉन्च और आखर अंजोर-श्रेष्ठ पालकत्व कार्यक्रम-कैलेण्डर, पोस्टर, चित्रकार्ड, निर्देश कार्ड का विमोचन किया। इस एप में शिक्षकों के पे-स्केल, पदस्थापना, योग्यता और व्यवसायिक योग्यता की जानकारी शामिल की गई है। समारोह का आयोजन राज्य साक्षरता मिशन प्राधिकरण द्वारा किया गया। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह ने प्रदेशवासियों को साक्षरता दिवस की बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि जीवन में शिक्षा का बड़ा महत्व है। उन्होंने कहा कि 21वीं सदी संचार तकनीक की सदी है।

सूचना संचार तकनीक से समृद्ध जनमानस राज्य के विकास में महती भूमिका निभा सकते हैं और दैनिक जीवन में ई-साक्षरता का उपयोग करके अपने जीवन को बेहतर बना सकते है। स्कूल शिक्षा मंत्री ने बताया कि डिजिटल साक्षरता के माध्यम से उन्हें कम्प्यूटर के साथ सभी प्रकार के डिजिटल उपकरणों जैसे टेबलेट, मोबाइल आदि उपकरणों से परिचित कराते हुए उन्हें इसका चलाना सिखाया जा रहा है। इसी तरह इंटरनेट का उपयोग, ऑनलाइन सेवा के द्वारा शासन की विभिन्न योजनाओं और लक्ष्यों की जानकारी प्राप्त करने, ई-आवेदन जमा करने, कैश-लेस लेनदेन, ई-भुगतान, डिजिटल लॉकर का उपयोग करने व दस्तावेजों की ई-शेयरिंग करने जैसे कार्य भी सिखाए जा रहे है। इसके साथ ही आत्मरक्षा, आखर अंजोर श्रेष्ठ पालकत्व, चुनावी साक्षरता, विधिक साक्षरता, वित्तीय साक्षरता, व्यक्तित्व विकास नागरिक कपतव्य, जीवन मूल्यों जैसे विषयों पर भी प्रशिक्षित किया जा रहा है। इस योजना का उद्देश्य साक्षरता क्रांति के दौर में छत्तीसगढ़ के नागरिकों को अधिक डिजिटल साक्षर बनाना उन्नत तकनीक से उनकी कार्यक्षमता का उन्नयन करना है। स्कूल शिक्षा मंत्री ने समारोह में 'मुख्यमंत्री शहरी कार्यात्मक साक्षरता कार्यक्रम' अंतर्गत पुरस्कार प्राप्त करने वाले ई-एजुकेटर्स और डिजिटल नवसाक्षरों को भी शुभकामनाएं और बधाई दी। समारोह समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में जिला पंचायत अध्यक्ष शारदा वर्मा, विधायक सत्यनारायण शर्मा, कुलदीप सिंह जुनेजा, विकास उपाध्याय, बृजमोहन अग्रवाल, महापौर प्रमोद दुबे शामिल हुए। कार्यक्रम में स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव गौरव द्विवेदी ने विभागीय गतिविधियों की जानकारी दी। इस अवसर पर संचालक लोक शिक्षण एस प्रकाश, संचालक राज्य शिक्षण एवं प्रशिक्षण परिषद पी. दयानंद, कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन, विशेष सचिव स्कूल शिक्षा सौरभ कुमार सहित स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारी और स्कूली बच्चे उपस्थित थे।  



 

27-12-2018
Premasai Singh : शिक्षा के क्षेत्र में करूंगा बेहतर काम : प्रेमसाय सिंह

रायपुर। स्कूल शिक्षा और अनुसूचित जाति-जनजाति मंत्री प्रेमसाय सिंह ने ग्लिब्स डॉट इन चैनल से चर्चा करते हुए कहा है कि पिछली बार के मंत्रियों ने छत्तीसगढ़ में जो काम नहीं किया है वह काम मैं स्कूल शिक्षा व अनुसूचित जाति-जनजाति के क्षेत्र में करके दिखाऊंगा। मैं जनता से वादा करता हूं कि जो जिम्मेदारी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मुझे दी है उसे निष्ठापूर्वक और ईमानदारी से निभाकर छत्तीसगढ़ की जनता की सेवा करूंगा। शिक्षा के क्षेत्र में नई योजनाएं  लाकर बच्चों का भविष्य बनाने का काम करेंगे और बेहतर से बेहतर शिक्षा देने के लिए काम करेंगे। छत्तीसगढ़ की जनता ने पूर्व शिक्षा मंत्री को जिस प्रकार नकारकर हमें विधायक चुना है उसका मैं शुक्रगुजार हूं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804