GLIBS
03-12-2019
भोपाल गैस त्रासदी 35वीं बरसी: कमलनाथ,शिवराज,सिंधिया ने दी श्रद्धांजलि,दिग्विजय ने की ये मांग

भोपाल। भोपाल गैस त्रासदी को आज 3 दिसंबर को 35 साल पूरे हो गए हैं। बरसी पर सीएम कमलनाथ, पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान, कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य राजे सिंधिया और दिग्विजय सिंह ने श्रद्धांजलि दी है। दिग्विजय सिंह ने पीड़ितों को लेकर मुख्यमंत्री कमलनाथ से मांग की है। उन्होंने प्रभावित परिवारों की स्मृति में मेमोरियलल बनाए और पीड़ितों के इलाज के लिए अस्पताल को एक इंस्टीट्यूट बनाने के लिए केन्द्र से मांग करें। दिग्विजय सिंह ने ट्वीटर के माध्यम से इस त्रासदी में जान गँवाने वाले सभी नागरिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की है। दिग्विजय ने लिखा है कि 3 दिसंबर 1984 को भोपाल गैस त्रासदी में हज़ारों लोग नहीं रहे थे। उन्हें हम हार्दिक श्रद्धांजली देते हैं। गैस त्रासदी पीड़ित परिवारों के लिए, जिसने जीवन भर निस्वार्थ भावना से लड़ाई लड़ी सेवा की, जब्बार भाई को भी अब हमारे बीच में नहीं है। हम उन्हें भी श्रद्धांजली देते हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भोपाल गैस त्रासदी के शिकार निर्दोष नागरिकों को श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने लोगों से पर्यावरण प्रदूषण के प्रति हमेशा सतर्क, सजग रहने का आह्वान किया है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज ने अपने ट्वीटर पर लिखा है कि भोपाल गैस त्रासदी की 35वीं बरसी पर मैं इस हादसे में जान गँवाने वाले सभी नागरिकों को विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ। हज़ारों सामाजिक कार्यकर्ताओं को भी प्रणाम करता हूँ, जिन्होंने पीड़ितों के अधिकारों के लिए जीवनपर्यंत लड़ाई लड़ी और उन्हें न्याय दिलाया। वही सिंधिया ने लिखा है कि भोपाल गैस त्रासदी में दिवंगत हुए पीड़ितों के प्रति आत्मीय संवेदनाएं।

 

24-10-2019
झाबुआ विधानसभा उपचुनाव : कांग्रेस ने बढ़ाई निर्णायक बढ़त, कमलनाथ ने दी कांतिलाल भूरिया को बधाई

भोपाल। झाबुआ विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस ने निर्णायक बढ़त बनाए हुए है। कांग्रेस प्रत्याशी कांतिलाल भूरिया ने इस पर जनता का आभार व्यक्त किया है। बता दें झाबुआ उपचुनाव में 9 राउंड की मतगणना के बाद कांग्रेस के कांतिलाल भूरिया को 35,969 वोट मिले हैं। वहीं भाजपा का भानु भूरिया को 28,782 मत मिले हैं। 9वें राउंड के बाद भूरिया 7,187 वोटों से आगे चल रहे हैं। इस पर कांतिलाल भूरिया को सीएम कमलनाथ ने बधाई प्रेषित की है। निर्णायक नतीजे आने के बाद भूरिया ने पूर्व सीएम शिवराज पर निशाना साधा। 

14-10-2019
मध्यप्रदेश: बाबा साहब डॉ. अंबेडकर एक व्यक्ति नहीं एक सोच है: सीएम कमलनाथ

छिंदवाड़ा। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सोमवार को कहा कि बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडर एक व्यक्ति नहीं एक सोच है, युवा पीढ़ी को इस सोच से परिचय कराने की जरुरत है।
सीएम कमलनाथ ने यहां सत्कार चौक पर 63वें धर्मचक्र प्रवर्तन कार्यक्रम में अवसर पर अपने उद्गार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि हमें नई पीढ़ी पर ध्यान देना होगा कि आज की नई पीढ़ी की अपनी क्या सोच है, उन्हें भारत की संस्कृति और बाबा साहब की सोच से परिचित कराए जाने की आवश्यकता है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हर धर्म का एक संदेश होता है। ठीक इसी प्रकार बौद्ध धर्म का भी जो संदेश है, उसकी आज सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विश्व में भी आवश्यकता है। बाबा साहेब अंबेडकर देश के ही नहीं बल्कि विश्व के हैं, जिनके कारण हमारे देश की बुनियाद खड़ी है। विभिन्न भाषा,जाति,त्यौहार और धर्म के होते हुए भारत आज बाबा साहब अंबेडकर के संविधान के कारण एक झंडे के नीचे है।
उन्होंने कहा कि इतना ही नहीं बाबा साहब अंबेडकर की सोच के कारण ही कई अफ्रीकी देशों को स्वतंत्रता मिली और अपने संविधान में उनकी सोच को अपनाया गया। वे लोग बाबा साहब अंबेडकर को अपना मार्गदर्शक मानते हैं। इस अवसर पर गुप्त ध्यान केंद्र एवं पाली भाषा रिसर्च के लिये 5 एकड़ जमीन की मांग पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मांग की चिंता न करें, मेरी तरफ से मदद मिलेगी। 

04-10-2019
भोपाल मेट्रो का नाम भोज मेट्रो करने को लेकर हाथापाई

भोपाल। भोपाल के प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह ने शहर के कार्यकतार्ओं की समस्याएं सुनने के लिए जिला कांग्रेस की बैठक बुलाई थी लेकिन बैठक में भोपाल मेट्रो का नाम भोज मेट्रो करने को लेकर नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष मोहम्मद सगीर ने आपत्ति जताई। जबकि कांग्रेस नेता आसिफ जकी ने इसे सीएम कमलनाथ का फैसला बताते हुए मुद्दा नहीं उठाने की सलाह दी। इस पर बैठक में जमकर हंगामा हो गया और मोहम्मद सगीर और आसिफ जकी के कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। हंगामा इतना हुआ कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं की एक दूसरे के साथ जमकर हाथापाई हुई। भोपाल के प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह और मंत्री पीसी शर्मा की मौजूदगी में हुए हंगामे के कारण दोनों मंत्री बैठक बीच में छोड़कर बाहर आ गये। इससे पहले बैठक में मोहम्मद सगीर समेत कुछ नेताओं ने भोपाल मेट्रो का नाम भोज मेट्रो रखे जाने पर आपत्ति जताई, तो वहीं दूसरे कांग्रेस नेताओं ने इस सीएम कमलनाथ का फैसला बताते हुए मुद्दे पर अब चर्चा नहीं करने की सलाह दी। लेकिन मामला यहीं नही थमा और कार्यकर्ताओं के बीच जमकर बहस के बाद हाथापाई हो गई। 

26-09-2019
भोपाल में सीएम कमलनाथ ने किया मेट्राे रेल प्रोजेक्ट का शिलान्यास

भोपाल| मुख्यमंत्री कमलनाथ ने एमपी नगर स्थित गायत्री मंदिर के पास मेट्राे रेल प्रोजेक्ट का शिलान्यास किया। मेट्रो रेल की परियोजना में पहले चरण में 27.87 किलोममीटर का रुट तैयार किया जाएगा। इसमें 2 किलोमीटर का कॅारिडोर निर्मित होगा। इस प्रोजेक्ट के निर्माण में करीब 7 हजार करोड़ रुपए की लागत आएगी। कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, मंत्री पीसी शर्मा, गोविंद सिंह, आरिफ अकील और जयवर्धन सिंह और पूर्व सांसद पीसी शर्मा मौजूद हैं। सीएम कमलनाथ ने भोपाल मेट्रो रेल परियोजना के शिलान्यास कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि भोपाल मेट्रो का नाम "भोज मेट्रो" होगा। शिलान्यास से पहले 11 पंडितों ने मुख्यमंत्री से भूमिपूजन कराया। इसके बाद मुख्यमंत्री ने पट्टिका का अनावरण किया। बताया जा रहा है राजधानी में चलने वाली मेट्राे रेल जयपुर की मेट्राे रेल जैसी हाेगी, लेकिन वहां 6 कोच की मेट्राे चलती है, यहां तीन कोच की मेट्रो चलेगी। शुरुआत भले तीन काेच की ट्रेन से हाेगी, लेकिन यात्रियाें की संख्या बढ़ने पर काेच में इजाफा किया जाएगा। यात्रियाें काे हर पांच मिनट में स्टेशन से मेट्राे रेल मिलेगी। हर स्टेशन पर ट्रेन 30 सेकंड रुकेगी। पहला भाग दिसम्बर 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य है।

मेट्रो रेल प्रोजेक्ट में 27.87 किलोमीटर में 2 कॉरीडोर बनेंगे, एक कॉरीडोर करोंद सर्कल से एम्स तक 14.94 किलोमीटर और दूसरा भदभदा चौराहा से रत्नागिरि चौराहा तक 12.88 किलोमीटर का होगा। इसकी कुल लागत 6941 करोड़ 40 लाख होगी। प्रोजेक्ट में एलीवेटेड सेक्शन 26.08 किलोमीटर का होगा। इसमें कुल 28 स्टेशन बनेंगे। दूसरी ओर अंडर ग्राउण्ड सेक्शन 1.79 किलोमीटर का होगा, जिसमें 2 स्टेशन बनेंगे। मेट्राे रेल के ट्रैक पर रफ्तार की सीमा 90 किमी/घंटा तक हाेगी। 

 

14-09-2019
इंदौर मेट्रो रेल परियोजना की सीएम कमलनाथ ने रखी नींव

इंदौर। प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में शहरी लोक परिवहन का एक नया अध्याय जुड़ गया है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शनिवार को 7,500.80 करोड़ रुपये की लागत वाली मेट्रो रेल परियोजना की नींव रखी। भूमिपूजन कार्यक्रम में कमलनाथ ने शहर के एमआर-10 रोड पर टोल नाके के पास इस बहुप्रतीक्षित परियोजना के निर्माण कार्य की औपचारिक शुरूआत की। कार्यक्रम में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री जयवर्धन सिंह, उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी सहित विधायक और बड़ी संख्या में इंदौर के निवासी उपस्थित थे। अधिकारियों ने बताया कि राज्य में आबादी के लिहाज से सबसे बड़े शहर में मेट्रो रेल परियोजना के तहत कुल 31.55 किलोमीटर लम्बा रिंग कॉरिडोर बनाया जाना प्रस्तावित है। मेट्रो रूट का अधिकांश हिस्सा एलिवेटेड (ऊंचे पिलरों पर टिका) होगा, जबकि कुछ भाग भूमिगत रहेगा यानी वहां सुरंग बनाकर रेल लाइन बिछाई जाएगी।  उन्होंने बताया कि मेट्रो रेल गलियारा नैनोद, भंवरासला चौराहा, रेडिसन चौराहा और बंगाली चौराहा से होते हुए गुजरेगा। इस मार्ग पर 29 स्टेशन बनाये जाने हैं।
अधिकारियों ने बताया कि मेट्रो रेल परियोजना का काम चरणबद्ध तरीके से अगस्त 2023 तक पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया है।
गौरतलब है कि इंदौर में मेट्रो रेल परियोजना का खाका सूबे की पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के कार्यकाल में तैयार किया गया था। लेकिन वित्तपोषण की समस्याओं के चलते इस परियोजना का निर्माण कार्य भाजपा शासनकाल में औपचारिक रूप से शुरू नहीं हो सका।
पिछले साल नवंबर में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ भाजपा को सीटों के नजदीकी अंतर से मात देते हुए कांग्रेस 15 साल के लंबे अंतराल के बाद सूबे की सत्ता में लौटी।

21-08-2019
सीएम कमलनाथ ने पूर्व सीएम बाबूलाल गौर के निधन पर किया शोक व्यक्त, कहा-जनहित के मुद्दों से कभी समझौता नहीं किया

भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम और भाजपा के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौर के निधन से राजनीति में शोक की लहर छा गई है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल ग़ौर के निधन का समाचार मुझे स्तब्ध करने वाला है। आज मैंने एक अच्छा मित्र, अच्छा साथी खो दिया है। उनसे मेरे सदैव क़रीबी संबंध रहे। वे एक ज़िंदादिल, बेबाक़ शैली के, सीधे साधे सरल व्यक्ति थे। उन्होंने हमेशा निर्भिकता,बेबाक़ी से अपने विचार व्यक्त किए और खुलेमन से अपना जीवन जिया। सीएम कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश के विकास ख़ासकर भोपाल के विकास की उन्हें हमेशा चिंता रहती थी।

जब में केंद्रीय मंत्री था, हमेशा मध्यप्रदेश की कई योजनाओं को लेकर मेरे पास आते थे और राशि स्वीकृत कराकर ले कर जाते थे। जो वे ठान लेते थे उसे मनवाकर रहते थे। जनता के साथ उनका जीवंत संपर्क था। जनहित के मुद्दों पर कोई समझौता नहीं करते थे। स्पष्टवादिता के कारण अपने विचारों में कभी उन्होंने दलगत राजनीति नहीं आने दी, पार्टी लाइन से भी परे हटकर अपने विचार खुलेमन से रखते थे। मेरे साथ विदेश दौरे पर भी गये। मेरे प्रति सदैव उनका प्रेम, स्नेह रहा। हमारे रिश्तों, संबंधो में कभी दलीय राजनीति आड़े नहीं आई।

29-07-2019
मध्यप्रदेश के 28वें राज्यपाल के रूप में लालजी टंडन ने ली शपथ

भोपाल। मध्यप्रदेश के 28वें राज्यपाल के रूप में सोमवार को लालजी टंडन ने शपथ ली। शपथ ग्रहण समारोह में सीएम कमलनाथ, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव समेत कई नेता मौजूद रहें। राज्यपाल लालजी टंडन का जन्म 12 अप्रैल 1935 में हुआ। उत्तर प्रदेश की राजनीति में सक्रिय लालजी टंडन का राजनीतिक सफर साल 1960 में शुरू हुआ है। ये भाजपा सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। 

 

24-07-2019
कचरे की ट्रॉली में लाया गया पोस्टमार्टम के लिए महिला का शव, भड़के सीएम कमलनाथ

 अशोकनगर। अस्पताल में अव्यवस्था के आलम को देखकर एमपी के सीएम दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए। अशोकनगर में एक महिला के शव को पीएम के लिए ले जाने के लिए वाहन नही मिला तो परिजन नगर पालिका की कचरा गाड़ी में शव रख अस्पताल पहुंचे। जब इस घटना की जानकारी सीएम कमलनाथ को लगी तो वे भड़क गए और उन्होंने दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए है। वही घटना के बाद अस्पताल प्रबंधन में हडकंप मच गया है। जिले के पठार मोहल्ला निवासी पूजा पति नरेंद्र ओझा उम्र 22 वर्ष ने बीती रात अज्ञात कारणों से पंखे से लटककर फांसी लगा ली। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव का पंचनामा बनाने के बाद जिला अस्पताल में

पोस्टमार्टम कराने को कहा। परिजनों ने शव वाहन के लिए फोन लगाया तो मौके पर शव वाहन के स्थान पर नपा की कचरा भरने वाली ट्रैक्टर-ट्रॉली पहुंच गई। लेकिन जब ट्राली ब्रिज से गुजर रही थी तभी उसका एक पहिया निकल गया। इसके बाद महिला के शव को दूसरे कचरा वाहन में रखा गया। इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल लाया गया। पीएम होने के बाद शव को किराए के वाहन से ले जाना पड़ा। इस घटना पर सीएम कमलनाथ ने नाराजगी जताई है और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की बात कही है। सीएम ने ट्वीट कर लिखा है कि अशोकनगर में एक महिला के शव को शववाहन के स्थान पर कचरा गाड़ी व डंपर में ले जाने की घटना इंसानियत व मानवता को तार-तार कर देने वाली है। ऐसी घटनाएँ व चित्र, दिल को झकझोर देते है,बर्दाश्त नहीं किये जा सकते है।

 

17-07-2019
कमलनाथ कैबिनेट का फैसला, नहीं होगी दीनदयाल रसोई योजना बंद, बेचे जाएंगे शास. हेलीकॉप्टर 

भोपाल। मध्यप्रदेश में बधुवार को कैबिनेट की बैठक सीएम कमलनाथ की अध्यक्षता में हुई। इसमें कई अहम प्रस्तावों को मंजूरी मिली है। कैबिनेट बैठक में दीनदयाल रसोई योजना को बंद नहीं करने का फैसला लिया गया। इस योजना में पांच रुपए में गरीबों को भरपेट भोजन मिलता है। बैठक में कैबिनेट ने शासकीय हेलीकाप्टर बेल-430, उसके स्पेयर्स एवं स्पेयर्स इंजिन अधिकतम 2 करोड़ 80 लाख 71 हजार 953 रुपए का प्रस्ताव देने वाली संस्था मेसर्स थम्बी एविएशन प्रा.लि. केरला को बेचने का निर्णय लिया। इसी प्रकार शासकीय हेलीकाप्टर बेल-407 सीरियल नं.53540 एवं उसके स्पेयर्स को अधिकतम 6 करोड़ रुपए का प्रस्ताव देने वाली संस्था मेसर्स आक्सफोर्ड इंटरप्राइजेस प्रा.लि. पुणे को बेचने का निर्णय लिया।

कैबिनेट ने आधुनिक उद्योगों की आवश्यकताओं की पूर्ति करने के लिए, कौशल विकास रणनीति को दृष्टिगत और अत्यधिक कुशल जनशक्ति के पूल को बनाने की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए शासन द्वारा उत्कृष्टता केन्द्र के लिए वित्तीय सहायता की एक योजना शुरू करने का निर्णय लिया। योजना अगले 5 वर्ष के लिये प्रभावशील होगी। योजना में न्यूनतम 85 प्रतिशत पूंजी निवेश आवेदक पात्र संस्था द्वारा तथा शेष अधिकतम 15 प्रतिशत वित्तीय भार राज्य शासन द्वारा वहन किया जाएगा। कैबिनेट की बैठक में 188 विस्थापित परिवारों को लाभ देने और ओंकारेश्वर परियोजना के शेष अन्य 379 विस्थापित परिवारों को भी विभागीय प्रस्ताव अनुसार लाभ देने की मंजूरी दी। नर्मदा घाटी विकास विभाग में विस्थापितों को 182 लोगों को राशि देने का निर्णय लिया गया। बंद उद्योगों को लोन चुकाने की एक मुश्त पेमेंट करने की अवधि बढ़ाई गई। एससी-एसटी वर्ग के ऐसे बच्चों को अस्थाई जाति प्रमाण-पत्र जारी किए जाएंगे, जिनके जाति प्रमाण पत्र नहीं है।  इसके अलावा भोपाल, जबलपुर, रायसेन में तीन निजी विवि की स्थापना के प्रस्ताव को भी मंजूरी मिल गई।

08-07-2019
सीएम कमलनाथ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मां बिंदेश्वरी देवी की निधन पर श्रद्धांजलि अर्पित करने आज आएंगे भिलाई 

रायपुर। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ सिंह आज प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मां बिंदेश्वरी देवी की निधन पर श्रद्धांजलि अर्पित करने आज भिलाई -3 स्थित उनके निवास जाएंगे। आपको बता दें कि बिंदेश्वरी देवी पिछले कुछ दिनों से अस्वस्थ चल रहीं थी। जिसके चलते उनका उपचार राजधानी रायपुर के एक निजी चिकित्सालय में चल रहा था। जहां रविवार शाम 4 बजे उनका निधन हो गया।

04-07-2019
आमलोगों की समस्याओं के निराकरण के लिए शुरू होगा जन अधिकार कार्यक्रम, सीएम कमलनाथ सुनेंगे शिकायत  

भोपाल। आमजनों की समस्याओं के निराकरण के लिए मध्यप्रदेश में जन अधिकार कार्यक्रम शुरू किया गया है। इसमें सीएम कमलनाथ प्रदेश के जनसामान्य की शिकायतें सुनेंगे और उनका निराकरण करेंगे। जानकारी के अनुसार 9 जुलाई जन अधिकार कार्यक्रम की शुरुआत की जा रही है। इसमें सीएम को प्राप्त होने वाली शिकायतें, सीएम हेल्पलाइन और जनशिकायत प्रकोष्ठ में से कुछ शिकायतें चयनित की जाएंगी। सीएम के जन अधिकार कार्यक्रम में कलेक्टर-एसपी सहित जिला स्तर के सभी अधिकारियों का मौजूद रहना अनिवार्य किया गया है।

बता दें कि हर महीने के दूसरे मंगलवार की शाम को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जन अधिकार कार्यक्रम होगा। सचिवालय का पत्र, नागरिक अधिकार शिकायत का समाधान सीएम सचिवालय की ओर से सभी एसीएस, पीएस और कमिश्नर-कलेक्टरों को जारी पत्र में कहा गया है कि प्रामाणिक शिकायत या समस्या का निराकरण प्राप्त करना हर व्यक्ति का नागरिक अधिकार है। समयसीमा में उसकी शिकायतों या समस्या का निराकरण होना चाहिए।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804