GLIBS
27-11-2020
सीएम भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ी राजभाषा दिवस पर छत्तीसगढ़ सेवियों का करेंगे सम्मान

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 8वें छत्तीसगढ़ी राजभाषा दिवस पर 28 नवम्बर को सुबह साढ़े 11 बजे अपने निवास से छत्तीसगढ़ सेवियों का सम्मान करेंगे। इस मौके पर संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत मौजूद रहेंगे। जिन छत्तीसगढ़ी सेवियों का सम्मान किया जाएगा,उनमें नंदकिशोर शुक्ला बिलासपुर, वैभव पाण्डेय बेमेतरिहा, रायपुर, चितरंजन कर रायपुर, मुकुंद कौशल दुर्ग, डॉ.परदेशीराम वर्मा भिलाई, रामेश्वर वैष्णव रायपुर, संजीव तिवारी भिलाई, व्याख्यता, संजीव तिवारी दुर्ग, डॉ.राजन यादव खैरागढ़, देवेश तिवारी और सुधा वर्मा रायपुर शामिल है।

 

23-11-2020
सीएम भूपेश बघेल ने कन्या कुमारी के मां भगवती के दर्शन कर प्रदेश के सुख शांति और समृद्धि की कामना की

रायपुर। सीएम भूपेश बघेल ने सोमवार को प्रसिद्ध कन्या कुमारी के मां भगवती के दर्शन किए। बता दें कि मुख्यमंत्री बघेल दो दिवसीय प्रवास पर दक्षिण भारत पहुंचे हैं। आज सुबह कन्याकुमारी के ऐतिहासिक स्थल पर सूर्योदय दर्शन किया और उसके के बाद मां भगवती के दर्शन के लिए उनके दरबार पहुंचे। उन्होंने कन्याकुमारी में मां भगतवी की पूजा अर्चना कर प्रदेश के सर्वांगीण विकास और समृद्धि की कामना की। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ खनिज विकास निगम के चेयरमैन गिरिश देवांगन, सलाहकर विनोद वर्मा, प्रदीप शर्मा, रूचिर गर्ग के अलावे विजय भाटिया मौजूद थे। इन सब गतिविधियों को मुख्यमंत्री ने अपने ट्वीटर एकाउंट में शेयर भी किया है।

19-11-2020
सीएम बघेल दाई-दीदी क्लीनिक का करेंगे शुभारंभ, रायपुर, भिलाई और बिलासपुर में होगी क्लीनिक

रायपु। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की गुरुवार को जयंती है। इस मौके पर राजधानी समेत प्रदेशभर में कई कार्यक्रम आयोजित होंगे। सीएम भूपेश बघेल भी कई कार्यक्रमों में शामिल होंगे। सीएम बघेल सुबह साढ़े 10 बजे देश की पहली महिला स्पेशल क्लीनिक 'दाई-दीदी क्लीनिक' का शुभारंभ किए। इसमें महिला डॉक्टर और स्टॉफ महिलाओं का निःशुल्क इलाज करेंगी। छत्तीसगढ़ के तीन बड़े शहरों रायपुर, भिलाई और बिलासपुर में इस क्लीनिक की शुरुआत की जा रही है। इसके बाद सीएम सुबह 11 बजे प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन पहुंचकर इंदिरा गांधी की जयंती कार्यक्रम में शामिल होंगे। यहां से वे नवा रायपुर में खनिज विकास निगम के नए कार्यालय का लोकार्पण करेंगे। शाम 5 से 6 बजे तक रायपुर में कृषि विश्वविद्यालय के पास चार एकड़ जमीन में साढ़े 17 करोड़ की लागत से बनने वाले टेनिस स्पोर्ट अकादमी निर्माण का भूमिपूजन भी करेंगे। इसके बाद खरोरा-तिल्दा मार्ग पर 555 हेक्टेयर में विकसित इंदिरा प्रियदर्शिनी नेचर सफारी मोहरेंगा का लोकार्पण करेंगे।

16-11-2020
सीएम भूपेश बघेल दोपहर 3 बजे होंगे दिल्ली रवाना

रायपुर। सीएम भूपेश बघेल सोमवार को दिल्ली के दौरे पर दोपहर 3 बजे रवाना होंगे। यहां सीएम बघेल पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाक़ात करेंगे। सीएम भूपेश दिल्ली में वरिष्ठ नेताओं को मरवाही में शानदार जीत की जानकारी देंगे। वहीं बिहार विधायक दल की बैठक की भी जानकारी देंगे। मरवाही विधानसभा उप-चुनाव में कांग्रेस की जीत के साथ अब छत्तीसगढ़ विधानसभा में कांग्रेस के विधायकों की संख्या 70 हो गई है।

25-10-2020
रामकथा पर स्वामी आत्मानन्द के व्याख्यानों का संकलन पुस्तक रामरस का विमोचन किया सीएम भूपेश बघेल ने

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने वेबिनार के माध्यम से आयोजित कार्यक्रम में ‘रामरस‘ पुस्तक का विमोचन किया। इस पुस्तक में स्वामी आत्मानंद जी द्वारा उनके जीवन काल में रामकथा के विभिन्न प्रसंगों पर दिए गए सुंदर व्याख्यानों को संकलित किया गया है। स्वामी आत्मानंद  द्वारा रामायण के चरित्रों की सुंदर व्याख्या अनेक स्त्रोतों में बिखरी है, जिन्हें संकलित करने का महत्वपूर्ण कार्य डॉ.राजलक्ष्मी वर्मा ने किया और इसे ‘रामरस‘ पुस्तक का स्वरूप दिया है।  
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि स्वामी आत्मानंद के इस अतुलनीय कार्य को सहेजा जाना बहुत महत्वपूर्ण कार्य है। यह पुस्तक सुधि पाठकों के लिए अत्यंत उपयोगी होगी।

उन्होंने संकलन कार्य के लिए डॉ.राजलक्ष्मी वर्मा को भी बधाई दी एवं शुभकामनाएं व्यक्त की। इस अवसर पर  मुख्यमंत्री बघेल की धर्मपत्नी मुक्तेश्वरी बघेल, संभागायुक्त टीसी महावर, आईजी विवेकानंद सिन्हा, कलेक्टर डॉ.सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे, एसपी प्रशांत ठाकुर व अन्य अतिथि और अधिकारी उपस्थित थे।

 

20-10-2020
भूपेश बघेल को डॉ. रमन सिंह ने रावण की संज्ञा देकर प्रदेश की जनता का अपमान किया : आलोक चंद्राकर

महासमुन्द। कांग्रेस के पूर्व जिला अध्यक्ष आलोक चंद्रकार ने पूर्व सीएम रमन सिंह की ओर से सीएम भूपेश बघेल को रावण की संज्ञा देने वाले बयान पर कटाक्ष किया है। उन्होंने इसे प्रदेश की जनता का अपमान करना कहा है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के तीन बार के सीएम सत्ता हाथ से जाने के बाद लगता है अपना आपा खो बैठे हैं। वे राजनैतिक विरोध की भाषा की मर्यादा भूल बैठे हैं। रमन सिंह ने मुख्यमंत्री के लिए रावण की संज्ञा देकर छत्तीसगढ़ की पौने तीन करोड़ जनसंख्या का अपमान किया है। श्री राम वन पथ गमन मार्ग को सुव्यवस्थित करने को भूपेश बघेल की सरकार कृतसंकल्पित है जो रमन सिंह को अच्छा नहीं लग रहा है। चन्द्राकर ने कहा कि रावण राक्षसों का शासक था। भूपेश बघेल को छत्तीसगढ़ की जनता ने तीन चौथाई बहुमत के साथ चुना है। रमन सिंह ने राज्य के मतदाताओं, नागरिकों, गरीबों, किसानों सभी का अपमान किया है। रमन सिंह छत्तीसगढ़ की जनता से माफी मांगे। 

आलोक चंद्रकार ने कहा कि प्रदेश में पिछले 22 महिनों से श्री राम के आदर्शों का राज चल रहा ​है। किसान कर्जा मुक्त हो गए, किसानों को उनकी उपज की भरपूर कीमत 2500 रुपए मिल रही है। आम आदमी के बिजली के दाम आधे हो गए, तेंदूपत्ता 4000 रुपए प्रति मानक बोरा हो गया, गोधन योजना में गोबर की खरीदी हो रही है, प्रदेश में सरकारी अंग्रेजी स्कूल खोले जा रहे हैं, गरीब, आम आदमी खुश है। युवाओं को सरकारी नौकरी के द्वार खोले गए हैं। आम आदमी का सशक्तिकरण हो रहा, राज्य से बेरोजगारी घट रही व्यापार फल फूल रहा ,कोरोना जैसी महामारी में भी जनता की सेवा सरकार का मूल ध्येय है। कांग्रेस की सरकार हर वर्ग के लिए काम कर रही जो रमन सिंह को नहीं भा रहा है। रमन सिंह को समझना होगा कि उनके कुशासन और अति के कारण ही प्रदेश के जनता ने 15 सीट में ही रोक दिया।
 

06-10-2020
सीएम भूपेश बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ पूरे देश में व्यक्तिगत और सामुदायिक वन अधिकारों की मान्यता देने में अग्रणी

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ पूरे देश में व्यक्तिगत एवं सामुदायिक वन अधिकारों की मान्यता देने के मामले अग्रणी है। प्रदेश में अब तक के अंत तक 4 लाख 41 हजार से अधिक व्यक्तिगत और 46 हजार से अधिक सामुदायिक वनाधिकार का प्रदाय अनुसूचित जनजाति एवं अन्य परम्परागत वनवासियों को किया गया है। इस प्रकार व्यक्तिगत एवं सामुदायिक वन अधिकारों में कुल 51 लाख 6 हजार एकड़ से अधिक व्यक्तिगत एवं सामुदायिक वन अधिकारों को स्थानीय समुदायों को वितरण किया गया है। राज्य में प्रति व्यक्ति वन अधिकार पत्र धारक को औसतन 1 हेक्टेयर वनभूमि पर मान्यता प्रदान की गई है, जो तुलनात्मक रूप से देश में बेहतर स्थिति है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 151 जयंती 2 अक्टूबर को मुख्यमंत्री ने उनके निवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में विडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से 5 लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र के लगभग 13 सौ सामुदायिक वन संसाधन संरक्षण अधिकार पत्रों का वितरण किया। राज्य में सामुदायिक वन संसाधन अधिकारों को ग्राम सभाओं को प्रदाय किया है।

छत्तीसगढ़ राज्य में वितरित किए गए 4 लाख 41 हजार से अधिक व्यक्तिगत वन अधिकार पत्रों का रकबा 9 लाख 41 हजार 800 एकड़ से अधिक है। इसी प्रकार 46 हजार से अधिक सामुदायिक वन अधिकार पत्रों का रकबा 41 लाख 64 हजार 700 एकड़ से अधिक है।उल्लेखनीय है कि प्रदेश में पहली बार राज्य सरकार द्वारा जनवरी 2019 के बाद सामुदायिक वन संसाधन अधिकार के 23 प्रकरण के अंतर्गत 26 हजार हेक्टेयर वन भूमि पर ग्राम सभाओं को प्रबंधन के अधिकार की मान्यता प्रदाय की गई है। व्यक्तिगत वन अधिकार मान्यता प्राप्त हितग्राहियों को केवन वन अधिकार पत्र ही नहीं सौपे गए बल्कि उनकी मान्य वन भूमि पर शासकीय योजनाओं के कन्वर्जेंस से सिचिाई सुविधा, खाद-बीज , कृषि उपकरण भी उपलब्ध कराए जा रहे हैं। राज्य में 41 हजार से अधिक हितग्राहियों को 11 हजार हेक्टेयर से अधिक भूमि पर सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराई गई है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 95 हजार से अधिक ग्रामीणों को आवास प्राप्त हुआ है और 2 लाख से अधिक हितग्राहियों को किसान सम्मान निधि प्रदान की गई है। सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराई गई है, जिससे उनकी भूमि की फसल उत्पादन क्षमता बढ़े और आजीविका में स्थायित्व के साथ आमदनी में भी वृद्धि हो। 

वन अधिकार अधिनियम के प्रावधान अनुसूचित जनजाति और अन्य परम्परागत वन निवासी परिवारों को उनके अधिकार, स्वावलंबन और सम्मान का जीवन दिलाने के लिए हैं। सामुदायिक वन अधिकार के अंतर्गत निस्तार, लघु वनोपज का स्वामित्व, मछली और जल निकायों के उत्पादों पर उपयोग का अधिकार, चराई, विशेष रूप कमजोर जनजाति समूह एवं कृषि पूर्व समुदायों के पर्यावास का अधिकार दिया गया है। इसके तहत पूर्व में सितम्बर माह तक 9 लाख 74 हजार 635 हेक्टेयर वन क्षेत्र में 14 हजार 970 सामुदायिक वन अधिकार पत्र प्रदाय किए जा चुके हैं। इसके अतिरिक्त सामुदायिक वन अधिकार के अंतर्गत सामुदायिक वन संसाधन का संरक्षण, पुनर्जीवन एवं प्रबंधन का अधिकार भी दिया गया है। वन क्षेत्र में ग्राम सभा द्वारा वन, वन्य प्राणी और जैव विविधता का संरक्षण, विकास एवं प्रबंधन के लिए वन विभाग के मार्गदर्शन में प्रबंधन योजना तैयार कर क्रियान्वित की जाएगी। इससे वनों का संरक्षण, विकास एवं ग्रामीणों के आजीविका के लिए संसाधनों की उपलब्धता सुनिश्चित हो सकेगी। इसी प्रकार पूर्व में सितम्बर माह तक 81 हजार 358 हेक्टेयर वन क्षेत्र में 97 सामुदायिक वन संसाधन अधिकार पत्र प्रदाय किए जा चुके हैं।

वन अधिकार अधिनियम 2006 के अंतर्गत जन सुविधाओं जैसे-विद्यालय, औषधालय, आंगनबाड़ी, उचित मूल्य की दुकान, विद्युत एवं दूरसंचार लाइन, टंकियां एवं लघु जलाशय, पेयजल की आपूर्ति एवं जल पाइपलाइन, जल या वर्षा जल संचयन संरचनाएं, लघु सिंचाई नहर, अपारम्परिक ऊर्जा स्त्रोत, कौशल उन्नयन या व्यवसायिक प्रशिक्षण केन्द्र, सड़के एवं सामुदायिक केन्द्रों से 13 प्रयोजन के लिए 2309 कार्य के लिए 1158 हेक्टेयर वन भूमि विभिन्न विभागों को प्रदाय की गई है। वनवासियों को सम्मान का जीवन के साथ-साथ अतिरिक्त आय के संसाधन उपलब्ध कराते हुए आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से 1110 व्यक्तिगत न अधिकार हितग्राहियों को 1150 हेक्टेयर भूमि पर सिंचित फलदार, लघु वनोपज और औषधि रोपण, सब्जी उत्पादन आदि कार्य मनरेगा योजना के अंतर्गत क्रियान्वित किए जा रहे हैं।

03-10-2020
17 करोड़ की लागत से कोसा नाला में बनेगी रिटेनिंग वॉल,बस्तियों में नहीं भरेगा पानी

भिलाई। कोसा नाला शहर का महत्वपूर्ण नाला है। इस नाले में उफान आने से बारिश के दिनों में निचली बस्तियों में पानी भर जाता है। इस वजह से बारिश के दिनों से हजारों परिवारों को बड़ी समस्या उठानी पड़ती है। भिलाई नगर विधायक व मेयर देवेंद्र यादव की पहल जल्द कोसानाला में 17 करोड़ की लागत से रिर्टनिंग वाल बनाया जाएगा। साथ ही आसपास को सौंदर्यीकरण किया जाएगा। यही नहीं करीब 5 जगह पर पुल भी बनाएं जाएंगे। गत दिनों सीएम भूपेश बघेल ने ई लोकार्पण और भूमिपूजन कार्यक्रम के माध्यम से करोड़ों के विकास कार्यों का भूमिपूजन किया।

इसी के साथ ही मेयर देवेंद्र यादव के निर्देश पर निगम प्रशासन अब जल्द ही कोसानाल के विकास कार्य को शुरू करने की तैयारी में जुट गई है। जल्द ही टेंडर प्रक्रिया पूरी कर निर्माण कार्य पूरा कराया जाएगा। कार्यपालन अभियंता संजय शर्मा ने बताया कि प्रियदर्शनी परिसर से लेकर मॉडल टाउन स्कूल के समीप पुल तक कोसानाला में रिटेनिंग वॉल एवं नाला का पक्कीकरण कार्य किया जाएगा। महापौर यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल कोसानाला का विकास एवं सौंदर्यीकरण बहुत जल्द ही शुरू किया जाएगा। इसके लिए विभागीय प्रक्रिया प्रारंभ की जा रही है। मेयर देवेंद्र यादव ने कहा कि कोसानाला एक महत्वपूर्ण नाला है। इसका विकास होने से निचली बस्तियों में पानी भरने की संभावना समाप्त हो जाएगी। 

 

 

03-10-2020
सीएम भूपेश बघेल के सुशासन काल में नक्सली हमलों में 48 प्रतिशत की कमी आई : विकास तिवारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव एवं प्रवक्ता विकास तिवारी ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुइया उइके को लिखे नक्सली समस्या पर पत्राचार को राजनीतिक नौटंकी करार दिया है। विकास ने कहा है कि डॉ.रमन सिंह को पत्र लिखने के जगह पश्चाताप करना चाहिए। साथ ही प्रदेश की जनता से नक्सलवाद को फैलाने के लिए माफी भी मांगनी चाहिए। रमन राज के 15 सालों में नक्सलवाद जो कि बस्तर के कुछ ही जगह में था बढ़कर समूचे छत्तीसगढ़ में फैल गया। डॉ. रमन सिंह के गृह जिले राजनांदगांव में भी नक्सलियों ने अपना मजबूत पकड़ बना लिया था। पूरे विश्व में छत्तीसगढ़ की छवि नक्सलियों के गढ़ के रूप में की जाने लगी थी पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह नक्सलियों को माटी पुत्र, धरतीपुत्र कहकर संबोधित करते थे। जबकि नक्सली सीआरपीएफ सेना पुलिस के जवान आदिवासियों और अन्य लोगों की निर्मलता से हत्या किया करते थे। वर्तमान समय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सुशासन के चलते छत्तीसगढ़ राज्य में नक्सली हमलों में 48% की कमी आई है। इसका कारण यह था कि बस्तर में किसानों को भाजपा सरकार द्वारा बलात अधिग्रहित की गई। अट्ठारह सौ एकड़ जमीन को उन्हें वापस कर दिया गया जिसमें वह फसल जाकर 2500 रुपए धान समर्थन मूल्य प्राप्त कर रहे हैं। बस्तर और बस्तरवासियों का विकास देखकर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह बेचैन हो उठे हैं। अपने 15 सालों के असफलताओं को छुपाने और पर्दा डालने के लिए राज्यपाल को पत्राचार कर रहे हैं। जबकि उन्हें नक्सलवाद को फैलाने के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगने की आवश्यकता है। कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को उनके समय उनके शासनकाल में हुए नक्सली हमलों को याद दिलाते हुए सिलसिलेवार आंकड़े जारी करते हुए बताया कि 28 अप्रैल 2019 : छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले में नक्सलियों ने पुलिस जवानों पर हमला किया। हमले में दो पुलिस जवान शहीद हो गए तथा एक ग्रामीण गंभीर रूप से घायल हो गया है।

19 मार्च 2019 : छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सली हमले में उन्नाव के रहने वाले सीआरपीएफ जवान शशिकांत तिवारी शहीद हो गए। घात लगाकर हुए इस हमले में पांच अन्य लोग घायल भी हो गए।
24 अप्रैल 2017 : छत्तीसगढ़ के सुकमा में लंच करने को बैठे जवानों पर घातक हमला हुआ जिसमें 25 से ज्यादा जवान शहीद हो गए।
1 मार्च 2017 : सुकमा जिले में अवरुद्ध सड़कों को खाली करने के काम में जुटे सीआरपीएफ के जवानों पर घात लगाकर हमला कर दिया। इस हमले में 11 जवान शहीद हो गए और 3 से ज्यादा घायल हो गए।  
11 मार्च 2014 : झीरम घाटी के पास ही एक इलाके में नक्सलियों ने एक और हमला किया। इसमें 15 जवान शहीद हुए थे और एक ग्रामीण की भी इसमें मौत हो गई थी।
12 अप्रैल 2014 : बीजापुर और दरभा घाटी में आईईडी ब्लास्ट में पांच जवानों समेत 14 लोगों की मौत हो गई थी। मरने वालों में सात मतदान कर्मी भी थे। हमले में सीआरपीएफ के पांच जवानों समेत एंबुलेंस चालक और कंपाउंडर की भी मौत हो गई थी।
दिसंबर 2014 : सुकमा जिले के चिंतागुफा इलाके में एंटी-नक्सल ऑपरेशन चला रहे सीआरपीएफ के जवानों पर नक्सलियों ने हमला कर दिया दिया था। नक्सलियों के इस हमले में 14 शहीद हो गए थे जबकि 12 लोग घायल हो गए थे।
25 मई 2013 : झीरम घाटी हमला नक्सलियों ने कांग्रेस नेताओं के काफिले पर हमला कर दिया था जिसमें कांग्रेस के 30 नेता व कार्यकर्ताओं की शहादत हुई थी। नक्सलियों ने सबसे पहले सड़क पर ब्लास्ट किया और फिर काफिले पर अंधाधुंध फायरिंग कर दर्जनों लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। हमले में पूर्व केंद्रीय मंत्री विद्याचरण शुक्ल, तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार पटेल, महेन्द्रकर्मा, उदय मुदलियार, दिनेश पटेल, योगेंद्र शर्मा समेत 30 से ज्यादा कांग्रेसी शहीद हुए थे।
6 अप्रैल 2010 : दंतेवाड़ा जिले के ताड़मेटला में यह हमला सुरक्षाकर्मियों पर हुआ यह हमला देश का सबसे बड़ा नक्सली हमला है। इसमें सीआरपीएफ के 76 जवान शहीद हो गए थे। सीआरपीएफ के करीब 120 जवान तलाशी अभियान चला रहे थे तभी उन पर घात लगाकर करीब 1000 नक्सलियों हमला कर दिया था। इस हमले में 76 जवान शहीद हो गए थे।
12 जुलाई 2009 : छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव में घात लगाकर किए गये नक्सली हमले में पुलिस अधीक्षक वीके चौबे सहित 29 जवान शहीद हुए थे।

02-10-2020
सीएम भूपेश बघेल ने महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री को किया नमन

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने निवास कार्यालय में शुक्रवार को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर उनके चित्र पर माल्यार्पण करके उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, पंचायत मंत्री टीएस सिंहदेव, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह, मुख्यमंत्री के सलाहकार द्वय विनोद वर्मा, राजेश तिवारी, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू एवं मुख्यमंत्री सचिवालय के सचिव सिद्दार्थ कोमल परदेशी भी उपस्थित थे।

01-10-2020
Breaking : कृषि सुधार बिल के विरोध में विधायक दल की बैठक 5 बजे, विधानसभा के विशेष सत्र पर चर्चा

रायपुर। कृषि सुधार बिल के विरोध में गुरुवार शाम पांच बजे विधायक दल की बैठक होगी। बैठक में सीएम भूपेश बघेल और पीसीसी चीफ मोहन मरकाम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शामिल होंगे। बैठक में कृषि सुधार बिल के विरोध को लेकर नई रणनीति तय की जाएगी। शुक्रवार कांग्रेस कार्यकर्ता किसानों के बीच पहुंचकर रायपुर में आयोजित होने वाली किसान सम्मेलन पर चर्चा करेंगे। कृषि बिल के लिए विधानसभा के विशेष सत्र पर चर्चा की जाएगी।

09-09-2020
एनएमडीसी के चेयरमैन सुमित देव ने सीएम भूपेश बघेल को सौजन्य मुलाकात में कोरोना से लड़ने के लिए 10 करोड़ का चेक सौंपा

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से एनएमडीसी के सीएमडी सुमित देव ने सौजन्य मुलाकात की। उन्होंने कोरोना संक्रमण से रोकथाम व बचाव के लिए मुख्यमंत्री बघेल को मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए 10 करोड़ रूपए की राशि के चेक सौंपा। मुख्यमंत्री ने इस सहायता के लिए देव को धन्यवाद दिया। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, सचिव खनिज संसाधन विभाग  अन्बलगन पी. एवं एनएमडीसी के सलाहकार दिनेश श्रीवास्तव भी उपस्थित थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804