GLIBS
27-01-2021
धान की बोरियों से तौले गए मुख्यमंत्री, बस्तर के पारंपरिक आदिवासी नृत्य से किया गया स्वागत

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का आदर्श गौठान परिसर में बिहान समूह की महिलाओं ने पुष्पवर्षा कर और लोकनर्तकों ने बस्तर के पारंपरिक आदिवासी नृत्य से स्वागत किया। मुख्यमंत्री ने गोठान परिसर में लगाए गए विभिन्न स्टाल का अवलोकन किया। आदर्श गौठान कोंगेरा के अवलोकन के दौरान मुख्यमंत्रीभूपेश बघेल को तराजू में बिठाकर धान की बोरियों से तौला गया। स्थानीय विधायक संतराम नेताम ने फूलों से सुसज्जित तराजू के एक पलड़े में मुख्यमंत्री को और दूसरे पलड़े में धान की बोरियों को रखा  इस दौरान मुख्यमंत्री ने गौठान परिसर में नारियल का पौधा रोपकर उसे सींचा। 

गौठान में ग्रामीण महिलाएं ढेंकी व जांता चलाती हुई नजर आईं। इसे देखकर मुख्यमंत्री उत्साहित हुए। उन्होंने कहा कि ढेंकी और जांता (धान कूटने व चावल पीसने का उपकरण) छत्तीसगढ़ की पुरातन परंपरा है। इसे संजोकर रखने की जरुरत है। ग्रामीणों ने बताया कि अंचल में आज भी इसका चलन बदस्तूर जारी है। मुख्यमंत्री बघेल ने गौठान निरीक्षण के दौरान गाय की पूजा की। चारा खिलाकर प्रदेश की प्रगति और खुशहाली के लिए आशीर्वाद मांगा। इसके बाद उन्होंने गौठान के दूसरी ओर निर्मित वर्मी टांके, वर्मी कम्पोस्ट शेड, कोटना आदि का निरीक्षण किया। साथ ही गौरी महिला स्वसहायता समूह द्वारा 2.25 एकड़ में आधुनिक तरीके से लगाए गए मुनगा, बरबट्टी, टमाटर, गोभी आदि सब्जी की पैदावार का भी मुख्यमंत्री ने अवलोकन किया। अच्छे कार्य के लिए उनका उत्साहवर्धन किया। इस दौरान बस्तर संभाग के कमिश्नर जीआर चुरेन्द्र, कलेक्टर पुष्पेन्द्र मीणा, एसपी अभिषेक तिवारी सहित अधिकारी-कर्मचारी व स्थानीय जनप्रतिनिधि मौजूद थे।

27-01-2021
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों को  दी लोक पर्व छेरछेरा की बधाई

रायपुर। प्रदेश के मुखिया मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध लोक पर्व छेरछेरा की बधाई देते हुए प्रदेशवासियों की खुशहाली, सुख, समृद्धि की कामना की है। बघेल ने छेरछेरा पर्व की पूर्व संध्या पर जारी अपने शुभकामना संदेश में कहा है कि नई फसल के घर आने की खुशी में महादान और फसल उत्सव के रूप में पौष मास की पूर्णिमा को छेरछेरा पुन्नी तिहार मनाया जाता है। यह त्यौहार हमारी समाजिक समरसता, समृद्ध दानशीलता की गौरवशाली परम्परा का संवाहक है। इस दिन ‘छेरछेरा, कोठी के धान ल हेरहेरा‘ बोलते हुए गांव के बच्चे, युवा और महिला संगठन खलिहानों और घरों में जाकर धान और भेंट स्वरूप प्राप्त पैसे इकट्ठा करते हैं और इकट्ठा किए गए धान और राशि रामकोठी में रखते हैं और वर्ष भर के लिए अपना कार्यक्रम बनाते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ का किसान बहुत उदार होता है। किसानों द्वारा उत्पादित फसल केवल उसके लिए नहीं अपितु समाज के अभावग्रस्त और जरूरतमंद लोगों, कामगारों और पशु-पक्षियों के लिए भी काम आती है। पौराणिक मान्यता के अनुसार आज ही के दिन भगवान शंकर ने माता अन्नपूर्णा से भिक्षा मांगी थी, आज ही मां शाकम्भरी जयंती है। इसलिए लोग धान के साथ साग-भाजी, फल का दान भी करते हैं। मान्यता है कि रतनपुर के राजा छह माह के प्रवास के बाद रतनपुर लौटे थे। उनकी आवभगत में प्रजा को दान दिया गया था। छेरछेरा के समय धान मिसाई का काम आखरी चरण में होता है। इस दिन छोटे-बड़े सभी लोग घरों, खलिहानों में जाकर धान और धन इकट्ठा करते हैं। इस प्रकार एकत्रित धान और धन को गांव के विकास कार्यक्रमों में लगाने की परम्परा रही है। छेरछेरा का दूसरा पहलू आध्यात्मिक भी है, यह बड़े-छोटे के भेदभाव और अहंकार की भावना को समाप्त करता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान समय में कुपोषण समाज की बहुत बड़ी समस्या है। कुपोषण दूर करने के लिए सरकार के साथ समाज और लोगों की भागीदारी जरूरी है। अपनी प्राचीन गौरवशाली परम्परा को आगे बढ़ाते हुए बच्चों के स्वस्थ, कुपोषण मुक्त, सुखद भविष्य के लिए सहयोग करें।

27-01-2021
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किया उड़ाव आजीविका केन्द्र का अवलोकन 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को कोण्डागांव में उड़ाव आजीविका केन्द्र का अवलोकन किया। उन्होंने वहां विभिन्न रोजगार मूलक गतिविधियों में काम कर रही महिला स्वसहायता समूहों की महिलाओं से चर्चा कर उनके काम के बारे में जानकारी ली और उनका उत्साह बढ़ाया। ग्रामोद्योग मंत्री गुरू रूद्र कुमार, उद्योग मंत्री कवासी लखमा, लोकसभा सांसद दीपक बैज और विधायक मोहन मरकाम भी इस अवसर पर उपस्थित थे। कोण्डागांव के इस उड़ान बिहान आजीविका केन्द्र में लगभग 200 महिला समूहों ने 12 प्रकार की आजीविका गतिविधियां संचालित की जा रही है। महिला समूहों को प्रशिक्षण के साथ रोजगार के अवसर भी यहां प्रदान किए जा रहे हैं। महिला समूह खाद्य प्रसंस्करण, मसाला निर्माण, कुकीज, फुट वियर निर्माण, अगरबत्ती, चॉक, साबुन, सेनेटरी पेड, लौहशिल्प निर्माण, एलईडी बल्ब, चुड़ी और सीमेंट के पोल बना रही है।

26-01-2021
गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ और आमचो बस्तर थीम पर रंगोली की मुख्यमंत्री बघेल ने की तारीफ

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बस्तर जिले के किलेपाल में आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए। उन्होंने यहां आमसभा परिसर में ‘गढ़बो नवा छत्तीसगढ़’ और ‘आमचो बस्तर’ की थीम पर बनाई गई आकर्षक रंगोली का अवलोकन किया। मुख्यमंत्री बघेल ने रंगोली कलाकारों की इन कलाकृतियों, हाथों के हुनर की सराहना की। उन्होंने कहा कि रंगोली बनाने वाले इन कलाकारों के हाथों में जादू है, ऐसे कलाकारों के हुनर को आगे लाने बढ़ावा देना चाहिए।

26-01-2021
मुख्यमंत्री से विभिन्न समाज के प्रमुखों, संगठन और संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने की मुलाकात

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से सोमवार को विश्राम गृह में विभिन्न समाज के प्रमुखों, समाजिक संगठनों और संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने मुलाकात कर चर्चा की। मुख्यमंत्री ने उनकी बातों को ध्यान से सुना और उनके ज्ञापन पर आवश्यक कार्यवाही करने की बात कही। इस दौरान विभिन्न समाजों के प्रमुखों व पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री के बस्तर आगमन पर उनका आत्मीय स्वागत किया गया। बस्तर जिले को विकास एवं निर्माण कार्यों की ऐतिहासिक सौगात के लिए भी समाज एवं संगठनों के पदाधिकारियों ने उनका आभार जताया। इस दौरान स्थानीय जनप्रतिनिधि भी मौजूद थे।

26-01-2021
डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने सीएसईबी ग्राउंड में फहराया तिरंगा, शहीदों के परिजनों और कोरोना वारियर्स का हुआ सम्मान

कोरबा। जिला मुख्यालय स्थित सीएसईबी फुटबाॅल ग्राउंड में आयोजित कार्यक्रम में स्कूल शिक्षा एवं सहकारिता मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने ध्वजारोहण किया और सशस्त्र बलों की टुकड़ियों की सलामी ली। उन्होंने इस अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का प्रदेश की जनता के नाम संदेश का वाचन किया। डॉ. टेकाम ने कोरबावासियों को गणतंत्र दिवस की बधाई देते हुए संविधान के प्रावधानों का पालन करते हुए अग्रणी छत्तीसगढ़ के निर्माण में सहयोग की अपील की। इस अवसर पर अनेकता में एकता के प्रतीक गुब्बारे आकाश में छोड़े। प्रभारी मंत्री डाॅ. टेकाम ने साल और श्रीफल भेंटकर शहीदों के परिजनों का सम्मान भी किया। कार्यक्रम में लगभग 50 कोरोना वारियर्स डॉक्टरों, पुलिस कर्मियों, स्वास्थ्य कर्मियों एवं स्वच्छता मित्रों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में उत्कृष्ट कार्य करने वाले शासकीय अधिकारी-कर्मचारियों को भी पुरस्कृत किया गया।

कार्यक्रम में पाली-तानाखार के विधायक मोहित केरकेट्टा, महापौर राजकिशोर प्रसाद, नगर निगम के सभापति श्याम सुंदर सोनी, कलेक्टर किरण कौशल, पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा, जिला पंचायत सीईओ कुंदन कुमार, नगर निगम आयुक्त एस जयवर्धन, एडीएम प्रियंका महोबिया, डीएफओ एन. गुरूनाथन सहित अन्य अधिकारी जनप्रतिनिधि एवं नागरिक उपस्थित थे। कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए इस वर्ष गणतंत्र दिवस के कार्यक्रम में स्कूली छात्र-छात्राओं की भागीदारी भी प्रतिबंधित रही। सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित नहीं हुए। कार्यक्रम में सभी लोग मास्क पहनकर और सामाजिक दूरी का पालन करते हुए शामिल हुए।

 

 

26-01-2021
भूपेश बघेल ने कहा-व्यवस्था में आड़े आने वाले नए कानून की चुनौती से निपटना राज्य सरकार की जिम्मेदारी

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गणतंत्र दिवस पर बस्तर संभाग के मुख्यालय जगदलपुर के लालबाग मैदान में ध्वजारोहण के बाद प्रदेशवासियों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि देश की एकता, अखंडता के साथ प्रदेश में संविधान प्रदत्त नागरिक अधिकारों की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है। समाज के किसी भी वर्ग पर यदि कहीं से कोई भी संकट आता है तो हमारी सरकार उनके साथ चट्टान की तरह खड़ी मिलेगी। किसानों, ग्रामीणों और आम जनता का सबसे बड़ा संरक्षक हमारा संविधान है, लेकिन अगर कोई नया कानून इस व्यवस्था में आड़े आता है तो ऐसी चुनौती से निपटना राज्य सरकार की जिम्मेदारी है, जिसे हमने छत्तीसगढ़ कृषि उपज मंडी (संशोधन) विधेयक के माध्यम से निभाया। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं आज फिर एक बार कहना चाहता हूं कि संविधान ने जो संरक्षण आपको दिया है, उसके रास्ते में आने वाली बाधाओं के निदान के लिए हम हमेशा तत्पर रहेंगे, चाहे इसके लिए किसी भी स्तर पर संघर्ष करना पड़े। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने बीते दो वर्षों में विशेषकर जरुरतमंद तबकों के हक और हित में बड़े कदम उठाए हैं। गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन करने वाले परिवारों की बहुतायत को देखते हुए, उन्हें राष्ट्रीय औसत के बराबर लाने की चुनौती स्वीकार की। किसानों, ग्रामीणों, भूमिहीनों के साथ आर्थिक रूप से कमजोर तबकों को न्याय दिलाने का वादा पूरा करने के लिए हम हर चुनौती का सामना करने को तैयार है।

मुख्यमंत्री ने अमर शहीदों, संविधान निमार्ताओं और देश के नेताओं को याद किया :
मुख्यमंत्री ने परलकोट विद्रोह के नायक अमर शहीद गैंदसिंह और उनके साथियों को नमन किया। जिन्होंने सन1857 की पहली व्यापक क्रांति के पहले ही छत्तीसगढ़ में आजादी की अलख जगाई थी। उसकी ज्वाला को वीर गुण्डाधूर और शहीद वीरनारायण सिंह जैसे क्रांतिकारियों ने आगे बढ़ाया और फिर पूरा छत्तीसगढ़ राष्ट्रीय आंदोलन से जुड़ गया। आजादी की लड़ाई को जुनून में बदलने वाले अनेक अमर शहीदों के साथ इसे निर्णायक मुकाम पर पहुंचाने वाले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, पंडित जवाहर लाल नेहरू, मौलाना अबुल कलाम आजाद, उस दौर के सभी नायकों और भारतमाता के गुमनाम सिपाहियों को मुख्यमंत्रियों ने नमन किया।

सद्भाव और समरसता के रास्ते पर अडिग रहा है छत्तीसगढ़ :
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज यह अवसर है कि हम अपने संविधान निमार्ताओं की चिंता को साझा करें, आपस में विचार-विमर्श करें। संविधान के आधार पर देश चले, संविधान निर्माताओं की भावनाओं का सम्मान हो और हमारे संसदीय लोकतंत्र की गौरवशाली परंपराओं का मान कायम रहे। इस दिशा में मजबूती से चलने का संकल्प लेना भी इस वक्त की एक बड़ी जरुरत है। मुझे यह कहते हुए बहुत खुशी हो रही है कि हमारा छत्तीसगढ़ हमारे महान स्वतंत्रता सेनानियों और संविधान निर्माताओं की आशाओं के अनुरूप सद्भाव और समरसता के रास्ते पर अडिग रहा, जिसके लिए आप सब बधाई के पात्र हैं।

राज्य सरकार ने बीपीएल परिवारों के हक और हित में उठाए बड़े कदम :  
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने बीते दो वर्षों में विशेषकर इन तबकों के हक और हित में बड़े कदम उठाए हैं। गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन करने वाले परिवारों की बहुतायत को देखते हुए और उन्हें राष्ट्रीय औसत के बराबर लाने की चुनौती स्वीकार करते हुए हमने पूना माड़ाकाल दंतेवाड़ा कार्यक्रम शुरू किया, जो ऐसे अन्य जिलों में भी तेज विकास के लिए नवाचार का आधार बनेगा। इस अभियान से दंतेवाड़ा जिले में 10 माह में कुपोषण की दर 26 प्रतिशत कम हुई। 500 एकड़ भूमि लघु उद्योगों के लिए चिन्हांकित की गई। रोजगार के नए अवसर बने। स्थानीय लोगों को जोड़कर 4 कारखाने शुरू किए गए हैं, जो रेडीमेड परिधानों के नए ब्रांड डैनेक्स (दंतेवाड़ा नेक्स्ट) को राष्ट्रीय स्तर पर बाजार में उतारेंगे। लोहंडीगुड़ा में आदिवासियों की जमीन वापसी और जगरगुंडा में 13 साल बाद स्कूलों में रौनक वापसी हुई। मेहरार चो मान बेटियां के स्वाभिमान का अभियान बना तो आमचो बस्तर स्वावलम्बन का नया प्रतीक। मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लीनिक योजनाएं, कुपोषण और मलेरिया मुक्ति का आगाज भी बस्तर से हुआ, जो आगे चलकर पूरे प्रदेश के लिए एक नजीर और प्रेरणा स्रोत बना।

झीरम गांव में आजादी के 73 साल बाद पहुंची बिजली :
मुख्यमंत्री ने कहा कि आकांक्षी जिलों की देशव्यापी डेल्टा रैंकिंग में बीजापुर देश में अव्वल आया। आकांक्षी जिलों के अन्य मापदंडों में कोण्डागांव, नारायणपुर और सुकमा जिले ने भी अपना झंडा गाड़ा। झीरम गांव में आजादी के 73 साल बाद बिजली पहुंचने की जितनी खुशी बस्तरवासियों को है, उससे अधिक खुशी हमें है। बस्तर में 400 के.व्ही. से लेकर 132 के.व्ही. का ऐसा अति उच्च दाब नेटवर्क बनाया गया, जिससे बस्तर में दोहरी-तिहरी बिजली आपूर्ति की व्यवस्था हो। इसी प्रकार सौर ऊर्जा से घरों, अस्पतालों, शालाओं, आश्रमों को रोशन करने के कीर्तिमान बने, ताकि बिजली की शक्ति भी आदिवासी समाज की शक्ति बने। बस्तर को दूरसंचार टॉवर व हवाई सेवाओं से जोड़कर सुगम सम्पर्क का एक नया युग भी शुरू किया गया। दशकों से वनोपज के नाम पर तेंदूपत्ता संग्रहण को सीमित तौर पर आजीविका का साधन बनाकर रखा गया था, हमने संग्रहण पारिश्रमिक 2 हजार 500 रुपए से बढ़ाकर 4 हजार प्रति मानक बोरा किया, शहीद महेन्द्र कर्मा तेंदूपत्ता संग्राहक सामाजिक सुरक्षा योजना के माध्यम से इस काम में लगे परिवारजनों को सुरक्षा और बेहतरी का सुरक्षा कवच उपलब्ध कराया। इसके साथ ही 7 से बढ़ाकर 52 लघु वनोपजों की समर्थन मूल्य पर खरीदी की शुरुआत की तथा वनांचल में प्रसंस्करण केन्द्रों की स्थापना पर जोर दिया।

26-01-2021
लालबाग परेड मैदान में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को गणतंत्र दिवस पर बस्तर के संभागीय मुख्यालय जगदलपुर के लालबाग परेड मैदान में आयोजित मुख्य समारोह में ध्वजारोहण कर परेड की सलामी ली।

 

25-01-2021
मुख्यमंत्री लोकवाणी में इस बार 'उपयोगी निर्माण, जनहितैषी अधोसंरचनाएं आपकी अपेक्षाएं' विषय पर करेंगे बात

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आकाशवाणी के माध्यम से होने वाले मासिक कार्यक्रम लोकवाणी में इस बार उपयोगी निर्माण, जनहितैषी अधोसंरचनाएं, आपकी अपेक्षाएं विषय पर प्रदेशवासियों से बातचीत करेंगे। इस संबंध में कोई भी व्यक्ति आकाशवाणी रायपुर के दूरभाष नंबर 0771-2430501, 2430502, 2430503 पर 27, 28 और 29 जनवरी को दोपहर 3 से 4 बजे के बीच फोन करके अपने सवाल रिकॉर्ड करा सकते हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मासिक रेडियो वार्ता लोकवाणी की इस 15वीं कड़ी का प्रसारण 14 फरवरी को किया जाएगा। लोकवाणी का प्रसारण छत्तीसगढ़ स्थित आकाशवाणी के सभी केंद्रों, एफएम रेडियो और क्षेत्रीय समाचार चैनलों से सुबह 10:30 से 11 बजे तक किया जाएगा।

25-01-2021
VIDEO:  क्रिकेट ग्राउंड का लोकार्पण कर बल्ला लेकर मैदान में उतरे सीएम भूपेश बघेल, लगाया छक्का 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सोमवार को क्रिकेट खेलते दिखे। उन्होंने बल्लेबाजी के साथ-साथ गेंदबाजी में भी हाथ अजमाया। बल्लेबाजी करते समय उन्होंने जोरदार छक्का जड़ा। उपस्थित सभी लोग मुख्यमंत्री के शॉट को देखते ही रह गए। सभी ने जमकर तारीफ भी की। बता दें कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दो दिवसीय बस्तर  प्रवास पर हैं। उन्होंने आज जगदलपुर में हाता ग्राउंड का लोकार्पण किया। लोकार्पण के बाद मुख्यमंत्री बल्ला लेकर मैदान में उतरे। उन्होंने बल्लेबाजी के साथ-साथ गेंदबाजी भी की। बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने बॉल को बाउंड्री के बाहर पहुंचाया।

25-01-2021
मुख्यमंत्री दो दिवसीय प्रवास पर पहुंचे बस्तर, मांदरी नृत्य से बड़े किलेपाल में हुआ स्वागत

जगदलपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सोमवार को अपने दो दिवसीय प्रवास पर बस्तर पहुंचे। बड़े किलेपाल पहुंचने पर आत्मीय स्वागत किया गया। इस दौरान सांसद दीपक बैज, बस्तर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष लखेश्वर बघेल,बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष  विक्रम शाह मंडावी, संसदीय सचिव  रेखचंद जैन, राज्य हस्त शिल्प बोर्ड के अध्यक्ष  चंदन कश्यप, विधायक  राजमन बेंजाम, कमिश्नर जीआर चुरेन्द्र, बस्तर आईजी सुंदरराज पी, मुख्य वन संरक्षक मोहम्मद शाहिद, कलेक्टर रजत बंसल, पुलिस अधीक्षक दीपक झा, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी इंद्रजीत चंद्रवाल सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि और वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। अदिवासी मांदरी नृत्य दल के कलाकारों ने मंदार के सुमधुर धुन के साथ मुख्यमंत्री का स्वागत किया।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804