GLIBS
17-08-2019
मुख्यमंत्री ने पद्मश्री सम्मानित दामोदर गणेश बापट के निधन पर गहरा दुख पकट किया 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने समाजसेवी पद्मश्री सम्मानित दामोदर गणेश बापट के निधन पर गहरा दुख प्रकट किया है। बापट का बीती रात बिलासपुर के एक अस्पताल में निधन हो गया। मुख्यमंत्री ने अपने शोक संदेश में कहा है कि स्वर्गीय बापट ने अपना पूरा जीवन कुष्ठ रोगियों की सेवा में समर्पित कर दिया। चांपा शहर के नजदीक ग्राम सोठी में भारतीय कुष्ठ निवारक संघ द्वारा संचालित आश्रम में कुष्ठ पीड़ितों के इलाज के साथ उनके पुनर्वास के अनेक कार्यों की उन्होंने शुरूआत की। कुष्ठ रोग के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए भी उन्होंने महत्वपूर्ण योगदान दिया। मानवता की सेवा के प्रति स्वर्गीय बापट का समर्पण अनुकरणीय और देहदान का संकल्प प्रेरणादायक है। उनका निधन छत्तीसगढ़ के लिए अपूरणीय क्षति है। मुख्यमंत्री ने उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की है।

17-08-2019
पेंड्रा नगर को जिला घोषित करने पर तिरंगा रैली का आयोजन

पेंड्रा। पेंड्रा नगर को जिले का दर्जा 20 वर्ष पहले ही मिल गया था, लेकिन आज तक राजनीतिक दलों के चलते इस नगर को जिले का अस्तित्व नहीं मिल पाया था। स्वतंत्रता दिवस के दिन प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने स्वतंत्रता दिवस के भाषण में पेण्ड्रा को जिला घोषित करते हुए लोगों की लंबे समय से की जाने वाली मांग को पूरी कर दी है। पेण्ड्रा नगर के लोग इसे बड़ी सौगात मान रहे हैं। खुशी को व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री का धन्यवाद ज्ञापन करने नगर के जन प्रतिनिधि व कांग्रेस कार्यकर्ताओं के द्वारा नगर में तिरंगा रैली का आयोजन किया गया, जिस पर पूरे नगर के लोगों ने जम कर हिस्सा लिया व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को ह्रदय से धन्यवाद दिया गया।

16-08-2019
अरबो खरबो की खनिज संपदा से ज्यादा महत्व दिया भूपेश ने हाथियों को 

रायपुर। हाथियों और मानवों के बीच लगातार बढ़ रहे टकराव को टालने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने अरबो खरबो की खनिज संपदा को दरकिनार कर दिया।उन्होंने लेमरू को विश्व स्तरीय हाथी रिज़र्व बनाने की घोषणा करके सबको बता दिया कि उन्हें छत्तीसगढ़ से,यंहा के निवासियों से,वन्य प्राणियों से व पर्यावरण की चिंता राजस्व से ज्यादा है।इस परियोजना की शुरुआत 2005 से शुरू हुई और केंद्र सरकार की सहमति के बावजूद ये अटकी हुई थी जिसकी नैया भूपेश बघेल ने पार लगा दी। राज्य में सत्ता परिवर्तन के बाद भूपेश बघेल राज्य के हित में बेहिचक बड़े बड़े फैसले रहे थे,लेकिन सबसे बड़ा और चौंका देने वाला फैसला विश्व स्तरीय हाथी रिज़र्व बनाने का है।इस इलाके में अरबो खरबो के कोयला भंडार होने के अलावा,रेडियोएक्टिव मिनरल्स का भी खज़ाना है।खनिज संपदा के अलावा भी ये इलाका बायो डायवर्सिटी का अद्भुत उदाहरण है।

दुर्भाग्य से इस इलाको को हाथियों के लिए सुरक्षित करने की योजना सिर्फ अफसरशाही के कारण आतंकी रही।2005 से शुरू हुई योजना पर अब अमलीजामा पहनाया जाएगा ।इस बीच केंद्र सरकार के परिपत्र पर तत्कालीन फारेस्ट अफसर ने नकारात्मक जवाब दिया और ये सिलसिला लगातार चलता रहा क्योंकि देश के सबसे बड़े घरानों में से एक कि नज़र यंहा दबी खनिज संपदा पर पड़ चुकी थी। सत्ता परिवर्तन के साथ ही इस  परियोजना का भाग्य बदला।औधोगिक घरानों से ज्यादा अपने राज्य की जनता को तवज्जो देने वाले भूपेश बघेल के हाथ राज्य की कमान आई और वन विभाग की कमान यंही पले बढ़े,पढ़े आईएफस राकेश चतुर्वेदी के हाथों आई।दोनों का राज्य के लिए लगाव जगजाहिर है और भूपेश बघेल की इच्छानुसार लेमरू में हाथी रिज़र्व बनाने की दिशा में राकेश चतुर्वेदी ने तत्काल सकारात्मक कार्रवाई शुरू कर उसे अंजाम तक पहुंच दिया।
      यंहा ये बताना गैर जरूरी नही होगा कि राज्य में नक्सलियों के बाद हाथी ही सबसे बड़ी समस्या बन हुए थे।हाथी मानव द्वंद खूनी रूप ले चुका है और इस समस्या के स्थायी समाधान के लिए भूपेश बघेल ने जो कदम उठाए है,वो मील के पत्थर साबित होंगे।भूपेश बघेल के इस कदम की राज्य और हाथी प्रभावित क्षेत्रों में जमकर तारीफ हो रही है और उनके इस कदम से छत्तीसगढ़ को एक विश्व स्तरीय हाथी रिज़र्व मिलेगा।

16-08-2019
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दक्षिण बस्तर दन्तेवाड़ा प​​हुंचे

दंतेवाड़ा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का आज दक्षिण बस्तर दन्तेवाड़ा प​​हुंचे। इस दौरान उनके साथ मुख्यमंत्री के सलाहकार राजेश तिवारी, पूर्व विधायक देवती कर्मा, प्रभारी मंत्री कवासी लखमा, सांसद दीपक बैज तथा विधायक रेखा चंद जैन उपस्थित ​थे। मुख्यमंत्री ने यहां घोषणा की कि एनीमिया से पीड़ित महिलाओं तथा कुपोषण से पीड़ित बच्चों को सुपोषण दिया जाएगा। 2 अक्टूबर से फ्लैट प्रोजेक्ट लागू किया जाएगा। साथ ही हाट-बाजार भी उपलब्ध कराया जाएगा। इन सब के लिए 125 करोड़ रुपए की घोषणा की। जिले में अभी 19 हाट-बाजार है।

16-08-2019
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि पर सीएम बघेल ने किया श्रद्धापूर्वक नमन 

रायपुर। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि पर पूरे देशभर के दिग्गज नेताओं ने उन्हें याद किया। वहीं छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी की पहली पुण्यतिथि पर अपने ट्वीटर अकाउंट के माध्यम ट्वीट करते हुए लिखा है कि ''कवि, पूर्व प्रधानमंत्री एवं भारत रत्न स्व. अटल बिहारी वाजपेयी जी की प्रथम पुण्यतिथि पर मैं श्रद्धापूर्वक नमन करता हूं। देश के हर फैसले में सभी दलों को विश्वास में लेकर चलना उनके कार्यकाल की विशेषता रही है, जो आज लोगों को बहुत याद आती है''। एक साल पहले आज ही के दिन 16 अगस्त, 2018 को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी का 93 वर्ष की उम्र में निधन हो गया था। 

 

16-08-2019
तीज-त्यौहार, बोली और भाषा हमारी पहचान : भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल गोंडवाना भवन टिकरापारा में आयोजित राष्ट्रीय भोजली महोत्सव में शामिल हुए। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री का स्वागत परम्परागत रूप से पगड़ी पहनाकर किया गया। कार्यक्रम का आयोजन गोंडी धर्म संस्कृति संरक्षण समिति और छत्तीसगढ़ गोंडवाना संघ के संयुक्त तत्वाधान में किया गया। इस अवसर पर गोंड समाज प्रमुख लाल तारकेश्वर प्रसाद खुसरो, गोड़ समाज के पदाधिकारी सहित ओडिशा, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों से आए सामाजिक बंधु उपस्थित थे। 
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आदिवासी समाज को स्वतंत्रता दिवस, रक्षाबंधन पर्व और भोजली पर्व की शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति, बोली-भाषा, रहन-सहन और तीज-त्यौहार हमारी पहचान का अभिन्न हिस्सा है। हमें इन्हें बचाकर रखना होगा। उन्होंने कहा कि पहले भोजली का त्यौहार गांव-गांव में परम्परागत उत्साह के साथ मनाया जाता था। लोग भोजली बदते थे और भोजली का रिश्ता खून के रिश्ते से भी बड़ा होता था। हमारी यह परम्परा समाप्त हो रही थी। आदिवासी समाज ने इस परम्परा को न सिर्फ पुनर्जीवित किया है बल्कि जगह-जगह इसका बड़े स्तर पर आयोजन कर इसे एक बार फिर समाज की परम्परा का हिस्सा बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। अपनी परम्परा के संरक्षण के लिए राज्य सरकार ने हरेली,  विश्व आदिवासी दिवस, तीज, छठ, माता कर्मा जयंती पर सामान्य अवकाश की घोषणा की है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चों को उनकी मातृ भाषा में शिक्षा देने से यह दिल की गहराईयों तक पहुंचती है। अन्य भाषा में यह केवल दिमाग तक पहुंचती है। उन्होंने कहा कि आदिवासी समाज की सबसे प्राचीन भाषाओं में शामिल गोंड़ी, हल्बी, और कुडुख में पढ़ाई होनी चाहिए। ये भाषाएं हमारी पहचान हैं। नई पीढ़ी तक इसकी जानकारी पहुंचनी चाहिए। प्रदेश में बच्चों को छत्तीसगढ़ी, सरगुजिया, हल्बी, कुड़ुख, गोंडी भाषा में शिक्षा के लिए डिजी दुनिया एप बनाया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आदिवासियों के हित में सरकार लगातार काम कर रही है। सरकार में मंत्रीगणों के अलावा बस्तर, सरगुजा और मध्य क्षेत्र विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष तथा उपाध्यक्ष आदिवासी समाज से बनाए गए हैं। उन्होंने राज्य सरकार के द्वारा लिए गए फैसलों की विस्तार से जानकारी दी।     उन्होंने राजधानी में समाज के लिए जमीन आबंटित करने की मांग पर कहा कि नवा रायपुर अटल नगर में विभिन्न समाजों को सामाजिक कार्यों के लिए जब जमीन का आबंटन होगा तब आदिवासी समाज को भी जमीन आबंटित की जाएगी। इस अवसर पर समाज के अनेक पदाधिकारी और सदस्य बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

16-08-2019
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ‘‘गढ़बो नवा छत्तीसगढ़‘‘ छायाचित्र प्रदर्शनी का किया शुभारंभ

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर गुरुवार को यहां राजधानी रायपुर के कलेक्टोरेट गार्डन के पास टाऊन हॉल में ‘‘गढ़बो नवा छत्तीसगढ़‘‘  छायाचित्र प्रदर्शनी का शुभारंभ किया। जनसंपर्क विभाग द्वारा आयोजित यह छायाचित्र प्रदर्शनी आगामी 21 अगस्त तक आयोजित होगी। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी डॉ. महादेव प्रसाद पाण्डेय को शॉल श्रीफल भेंट कर उन्हें सम्मानित किया। इस अवसर पर रायपुर पश्चिम के विधायक विकास उपाध्याय, महापौर प्रमोद दुबे, इतिहासकार प्रो. रमेन्द्रनाथ मिश्र सहित अनेक गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। 

मुख्यमंत्री बघेल ने प्रदर्शनी में स्वतंत्रता संग्राम में छत्तीसगढ़ का योगदान के साथ गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ थीम पर आधारित सजीव छायाचित्रों का अवलोकन किया। इस छायाचित्र प्रदर्शनी में महात्मा गांधी का प्रथम और द्वितीय छत्तीसगढ़ प्रवास, छत्तीसगढ़ के प्रमुख स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, ऐसे गढ़ा देश, सभी वर्गो के विकास का संकल्प, शिक्षा, स्वास्थ्य, सुपोषण अभियान, गढ़बो नवा छत्तीसगढ़, महिला सशक्तिकरण, हमारा गौरव हमारा रायपुर, सांस्कृतिक विरासत-हरेली, ब्लैक बोर्ड से की-बोर्ड की ओर, आदिवासियों का साथी सरकार, ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती, किसान के मितान सरकार, जन-चौपाल, भेंट-मुलाकात, लोकवाणी पर आधारित बोलती तस्वीरों को बहुत ही आकर्षक ढंग से प्रदर्शित किया गया है। आयुक्त जनसंपर्क तारण प्रकाश सिन्हा ने प्रदर्शनी के बारे में विस्तार के जानकारी दी। मुख्यमंत्री  बघेल इस अवसर पर रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा नई साज-सज्जा के साथ टाउन हॉल भवन का लोकार्पण किया। जनसंपर्क विभाग द्वारा आयोजित गढ़़बो नवा छत्तीसगढ़ छायाचित्र प्रदर्शनी आमजनों के लिए आगामी 21 अगस्त तक प्रतिदिन सुबह 10 बजे से रात्रि 8 बजे तक चलेगी।

16-08-2019
उल्लेखनीय कार्य के लिए 13 अधिकारियों को पुलिस वीरता,10 को भारतीय पुलिस पदक

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 15 अगस्त को यहां पुलिस परेड ग्राउंड में स्वतंत्रता दिवस के मुख्य समारोह में उल्लेखनीय कार्य करने वाले पुलिस और जेल विभाग के 35 अधिकारियों को पुरस्कृत किया। उन्होंने पुलिस विभाग के 13 अधिकारियों को पुलिस वीरता पदक और 10 अधिकारियों को भारतीय पुलिस पदक प्रदान किया। भारतीय पुलिस सेवा के सेवानिवृत्त अधिकारी पूर्व उप पुलिस महानिरीक्षक एस.एस. सोरी को विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति के विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया गया। पुलिस वीरता पदक से सम्मानित होने वालों में निरीक्षक प्रकाश राठौर, ई.ओ.डब्ल्यू. में पुलिस अधीक्षक आई.के. एलेसेला, निरीक्षक अब्दुल समीर, सहायक उपनिरीक्षक  हनीफ खान, उपनिरीक्षक शहीद पुष्पराज नागवंशी, निरीक्षक  निलेश पाण्डेय, देवेन्द्र दर्रो, संग्राम सिंह ध्रुर्वे, आरक्षक शहीद  आदित्यशरण प्रताप सिंह, उपनिरीक्षक शहीद मूलचंद कंवर, उप पुलिस अधीक्षक आकाश राव गिरेपुंजे, निरीक्षक  सोनल ग्वाला तथा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार सोनी शामिल हैं।

मुख्यमंत्री ने स्वतंत्रता दिवस समारोह में रेल पुलिस अधीक्षक मिलना कुर्रे, सेनानी  मनोज कुमार खिलारी, उप पुलिस अधीक्षक नजमुस साकिब, कंपनी कमांडर मोहन सिंह, प्लाटून कमांडर इस्तेफन कुजूर, सहायक उप निरीक्षक बलराम बघेल, सहायक प्लाटून कमांडर ओंकार दास साहू, प्रधान आरक्षक  ताज खान, संजय सिंह बघेल और  जुलेखा बेगम को भारतीय पुलिस पदक से अलंकृत किया। उन्होंने जेल विभाग की मुख्य प्रहरी  फ्लोरा लकड़ा, प्रहरी  दाऊराम कठोतरे और दुलार सिंह वर्मा को सराहनीय सुधार सेवा पदक से सम्मानित किया। कंपनी कमांडर शिव कुमार सोनी एवं प्रधान आरक्षक सत्यनारायण प्रजापति को यूनियन होम मिनिस्टर मेडल फॉर एक्सीलेंस इन पुलिस ट्रेनिंग से सम्मानित किया गया। वहीं राज्य स्तरीय पुरस्कारों में प्रधान आरक्षक हरीश टेम्भूरकर को गुरू घासीदास पुरस्कार, निरीक्षक सुषमा सिंह को राज्यपाल पुरस्कार, निरीक्षक  सतरूपा तारम को मुख्यमंत्री पुरस्कार, निरीक्षक सी. तिर्की को रानी सुवरन कुंवर पुरस्कार, सहायक उपनिरीक्षक वेदराम खूंटे को वीर नारायण सिंह पुरस्कार और प्रधान आरक्षक कन्हैया लाल उइके को पुलिस महानिदेशक पुरस्कार प्रदान किया गया।

15-08-2019
पेंड्रा- मरवाही-गौरेला को जिला बनाने पर क्षेत्रवासियों ने माना सीएम बघेल का आभार

पेंड्रा। 20 वर्षों की मांग पर आज पेंड्रा को जिला बनाकर कांग्रेस सरकार ने स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन का तोहफा नगरवासियों को दिया है। आज भूपेश सरकार ने बड़ी सौगात प्रदेश को दी है। अब छत्तीसगढ़ में 28 जिले होंगे। सीएम बघेल ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बिलासपुर से अलग पेंड्रा- मरवाही-गौरेला जिला बनाने का ऐलान किया है। बता दें कि पेंड्रा-गौरेला को लंबे समय से जिला बनाने की मांग की जा रही थी। कोटा विधायक डॉ रेणु जोगी ने कांग्रेस सरकार के इस फैसले का सम्मान किया है और धन्यवाद दिया है। साथ ही उन्होंने नगरवासियों को जिला बनने की बधाई दी। नगर के जन प्रतिनिधियों ने भी नगर की जनता को बधाई दी। लोगों का कहना है आज हमें ऐसा लगा कि 20 वर्षों बाद आजादी मिली। पेंड्रा- मरवाही-गौरेला को जिला बनाने पर क्षेत्रवासियों ने सीएम बघेल का आभार माना है।

 

15-08-2019
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजधानी के पुलिस परेड ग्राउण्ड में ध्वजारोहण कर ली परेड की सलामी

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज यहां राजधानी रायपुर के पुलिस परेड ग्राउण्ड में आयोजित स्वतंत्रता दिवस के मुख्य समारोह में सुबह 9 बजे ध्वजारोहण किया। ध्वजारोहण कर राष्ट्रगान के बाद मुख्यमंत्री बघेल ने परेड की सलामी ली। परेड की सलामी लेने के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लोगों के बीच पहुंचकर उनका अभिवादन किया। इसके बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने तिरंगे रूपी गुब्बारे आसमान की ओर छोड़कर अमन और शांति का संदेश दिया। इसके बाद हर्ष फायर किया गया। इसके बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ी भाषा मे संदेश वाचन की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि हमर छत्तीसगढ़ के जम्मो सियान दाई दीदी संगी जहुंरिया नोनी बाबू मन ल सुराजी तिहार के पावन बेरा म गाड़ा गाड़ा बधाई।

आज उन सभी स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को नमन करता हु जिन्होंने भारतमाता को गुलामी की जंजीरों से आजाद कराने के लिए एक सदी से अधिक लंबी लड़ाई लड़ी। अमर शहीद गैंद सिंह, शहीद वीर नारायण सिंह, मंगल पांडे, भगतसिंह, चंद्रशेखर आजाद, रामप्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खान, रानी लक्ष्मी बाई, और हर धर्म जाति के लोगों के बलिदान से देश आजाद हुआ था। हजारों लोगों ने आजादी की लड़ाई से लेकर भारत के नवनिर्माण तक की महती भूमिका निभाई थी।

15-08-2019
सीएम भूपेश आज शाम करेंगे गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ छायाचित्र प्रदर्शनी का शुभारंभ 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ छायाचित्र प्रदर्शनी का शुभारंभ करेंगे। आज शाम साढ़े 4 बजे मुख्यमंत्री बघेल राजधानी रायपुर के कलेक्टोरेट गार्डन के पास टाऊन हॉल में गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ छायाचित्र प्रदर्शनी का शुभारंभ आम जनता के लिए करेंगे। जनसंपर्क विभाग द्वारा यह छायाचित्र प्रदर्शनी 15 अगस्त से 21 अगस्त तक सुबह 10 बजे से रात्रि 8 बजे तक आयोजित की जाएगी।

15-08-2019
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों को दी स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्वतंत्रता दिवस पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी है। उन्होंने कहा कि आज का दिन देश को आजाद कराने वाले महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को याद करने का दिन है। देश के लिए त्याग और बालिदान देने वाले सेनानियों से हमें प्रेरणा लेकर उनके सपनों को आगे बढ़ाने का संकल्प लेना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ के महान सपूतों ने स्वतंत्रता आंदोलन में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। उन्होंने कहा कि इन सपूतों के योगदान को आने वाली पीढ़ी तक पहुंचाने की आवश्यकता है, जिससे कि वे अपने पुरखों पर गर्व कर सकें। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य को पुरखों के सपनों के अनुरूप विकसित करने के लिए राज्य सरकार ‘गढ़बो नवा छत्तीसगढ़’ की नई सोच के साथ काम कर रही है।

बघेल ने कहा है कि राज्य सरकार का लक्ष्य लोगों के जीवन स्तर में उन्नयन के साथ प्रति व्यक्ति आय में बढ़ोत्तरी करना है। हम प्रदेश की समृद्धि को सबकी खुशहाली का माध्यम बनाएंगे। राज्य में ग्रामीण जन-जीवन को खुशहाल बनाने के लिए छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी नरवा, गरूवा, घुरवा अउ बारी के संवर्धन के लिए सुराजी गांव योजना शुरू की है। इससे राज्य की कृषि और ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। लोक भावना के अनुरूप संस्कृति के संरक्षण के लिए हरेली, तीज, छठ, माता कर्मा जयंती और विश्व आदिवासी दिवस पर सामान्य अवकाश घोषित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि किसानों, समाज के कमजोर तबके के लोगों सहित समाज के सभी वर्गों की बेहतरी के लिए राज्य सरकार ने अनेक योजनाएं प्रारम्भ की है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि पुरखों के सपनों के अनुरूप छत्तीसगढ़ को विकसित और समृद्ध राज्य बनाने के लिए ‘गढ़बो नवा छत्तीसगढ़’ का संकल्प हम सब मिलकर पूरा करेंगे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804