GLIBS
12-02-2020
जिला स्तरीय युवा संसद की स्पर्धा में प्रेमनगर के प्रतिभागियों ने दी प्रस्तुति

कोरिया। सूरजपुर जिले के दूरस्थ ब्लॉक प्रेमनगर के युवा संसद की टीम जिला स्तरीय युवा संसद प्रतियोगिता में शामिल हुई। इसका उद्देश्य युवा पीढ़ी में लोकतंत्र की बुनियाद विकसित करने के लिए मंत्रालय की ओर से विद्यालयों और महाविद्यालयों/विश्वविद्यालयों की विभिन्न श्रेणियों में युवा संसद प्रतिस्पर्धा का आयोजन किया जाता है। युवा संसद योजना को सर्व प्रथम 1966-67 में दिल्ली के विद्यालयों में आरंभ किया गया था। जिला स्तरीय इस कार्यक्रम में प्रेमनगर से ब्लॉक युवा संसद की टीम ने शानदार प्रस्तुति दी,जिसको तैयार करने में बीईओ आलोक सिंह, बीपीओ रमेश जायसवाल,कन्या प्राचार्य जीआर बघेल,व्याख्याता कृष्ण कुमार ध्रुव,रमेश साहू का सराहनीय योगदान रहा। इसके कारण प्रेमनगर की युवा संसद टीम जिला में बेहतरीन प्रस्तुति दी। इस कार्यक्रम के प्रभारी शिक्षक कृष्ण कुमार ध्रुव,रमेश साहू, कविता पाल और बी.कंवर उपस्थित थे,जिसके नेतृत्व में पूरे संसद की कैबिनेट ने भाग लिया।

इस युवा संसद की कैबिनेट में लोकसभा अध्यक्ष ज्योति राजवाड़े, प्रधानमंत्री रितिका तिवारी,गृहमंत्री अनामिका तिवारी, रक्षा मंत्री दीप्ति, वित्त मंत्री मायावती, विदेश मंत्री अनिता सिंह, श्रम मंत्री प्रमिला सिंह, संचार मंत्री सीताराम, लघुउद्योग मंत्री बालेश्वर, कृषि मंत्री परमेश्वर, वस्त्रालय मंत्री पवन दास, आदिम जाति कल्याण मंत्री गजेंद्र तिवारी, दिनेश साहू रेल मंत्री, देवेंद्र खेल मंत्री, राजकुमार उद्योग मंत्री, चैतलाल पर्यावरण मंत्री, लीलावती पेट्रोलियम मंत्री, राहुल परिवहन मंत्री, संतोष स्वास्थ्य मंत्री एवं अम्बिकेश्वर शिक्षा मंत्री, मार्शल के रूप में श्रीराम सिंह एवं आरजू जगत शामिल थे। इस कार्यक्रम में प्रेमनगर की टीम पहली बार भाग लिए है,जिससे छात्रों को बहुत कुछ सीखने को मिला है। सभी छात्रों ने कहा आगे जब भी ऐसी प्रतियोगिता होगी उसमें हम और अच्छे तैयारी के साथ अपना प्रस्तुति देंगे। इस प्रतियोगिता में अनामिका तिवारी को बेस्ट पक्ष की भूमिका निभाने के प्रमाण पत्र मिला। प्रेमनगर बच्चों की युवा संसद की प्रस्तुति पर बीईओ आलोक सिंह ने कहा कि हमारे बच्चे बहुत अच्छा प्रस्तुति दिए है, जिसकी सभी ने सराहना किया है, आगे आने वाले समय में हम और बेहतर प्रस्तुति करेंगे। इस प्रतियोगिता से बच्चे संसद की पूरी प्रक्रियाओं से अवगत हुए, नए बिल पास पर विस्तृत चर्चा किये,शपथ, मौन, अनुपूरक बजट जैसे अन्य मुद्दों को अपने युवा संसद की कैबिनेट में रखा।

 

 

09-02-2020
प्रधानमंत्री के पास देश में बढ़ रही बेरोजगारी पर सोचने की फुरसत नहीं: अखिलेश यादव

नई दिल्ली। समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 'सूर्य नमस्कार' वाले बयान पर तंज किया है। रविवार को उन्होंने कहा कि मोदी किसी बेरोजगार युवा के पिता के लिए भी कोई आसन बता देते तो अच्छा होता। अखिलेश ने कहा,‘प्रधानमंत्री 'सूर्य नमस्कार' अभ्यास की आवृत्ति बढ़ाकर अपनी पीठ मजबूत करने की बात कह रहे हैं। अच्छा होता, अगर वह किसी बेरोजगार युवा के पिता के लिए भी ऐसा कोई आसन बता देते।’ उन्होंने कहा, ‘देश में बेरोजगारी बढ़ रही है। प्रधानमंत्री के पास उसके बारे में सोचने की फुरसत नहीं है तो कम से कम वह कोई आसन ही बता दें।’ गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी की 'डंडे' वाली टिप्पणी पर बीते बृहस्पतिवार को लोकसभा में तंज करते हुए कहा कि अब वह और भी ज्यादा सूर्य नमस्कार करेंगे ताकि उनकी पीठ और मजबूत हो सके।

दिल्ली विधानसभा चुनाव के एग्जिट पोल अनुमानों का जिक्र करते हुए सपा अध्यक्ष ने कहा कि दिल्लीवासियों ने भाजपा की नफरत भरी राजनीति को नकार दिया है। कई राज्यों में शिकस्त पा चुकी भाजपा दिल्ली के चुनाव में खाता भी नहीं खोल पाएगी और आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल की एक बार फिर से मुख्यमंत्री के तौर पर ताजपोशी होगी। बस्ती जिले का नाम बदले जाने की अटकलों के बीच सपा मुखिया ने कहा कि यह सरकार केवल नाम बदलने में माहिर है।

 

09-02-2020
19 फरवरी को राम मंदिर ट्रस्ट की पहली बैठक, हो सकती है मंदिर निर्माण की तिथि की घोषणा

नई दिल्ली। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण तथा उसकी देखरेख के लिए बनाए गए ट्रस्ट 'श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र' की पहली बैठक 19 फरवरी को दिल्ली में बुलाई गई है। जानकारी के मुताबिक, बैठक में ट्रस्ट के अध्यक्ष, महामंत्री और कोषाध्यक्ष का चुनाव किए जाने की योजना है। सूत्रों के मुताबिक, ट्रस्ट के दिल्ली ऑफिस में यह बैठक शाम को पांच बजे रखी गई है। बैठक में दो अतिरिक्त सदस्यों का चुनाव भी किया जा सकता है। इसके अलावा राम मंदिर निर्माण कब से शुरू करना है, इसे लेकर भी ट्रस्ट की बैठक में घोषणा की जा सकती है। सूत्रों की मानें तो आगामी रामनवमी (2 अप्रैल) या अक्षय तृतीया (26 अप्रैल) से राम मंदिर का निर्माण शुरू करने पर सहमति बन सकती है।

बता दें कि इसी महीने केन्द्र सरकार ने अयोध्या में राम मंदिर ट्रस्ट बनाने के लिए मंजूरी दी थी। पीएम नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में इसकी घोषणा करते हुए कहा था कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के अनुसार, सरकार ने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के गठन का प्रस्ताव पारित किया है। उन्होंने बताया था कि यह ट्रस्ट अयोध्या में भगवान श्रीराम की तीर्थस्थली पर भव्य और दिव्य राम मंदिर के निर्माण और उससे संबंधित विषयों पर निर्णय लेने के लिए पूर्ण रूप से स्वतंत्र होगा। गौरतलब है कि 'श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र' ट्रस्ट में कुल 15 सदस्यों को शामिल किया गया है। 

 

07-02-2020
डंडे मारने वाले बयान पर बोले राहुल गाँधी, कहा - कभी-कभी ऐसा हो जाता है

नई दिल्ली। लोकसभा में हंगामे के बाद राहुल ने सेंट्रल हॉल में मीडिया के सामने अपने दिल की बात कही। डंडे वाले बयान पर घिर जाने और प्रधानमंत्री के सीधे निशाने पर आए राहुल ने खेद तो नहीं जताया लेकिन कहा कि कभी कभी ऐसा हो जाता है।

अध्यक्ष पद के सवाल पर राहुल ने कही दिल की बात
कांग्रेस में एक बड़ा वर्ग फिर से राहुल गांधी की अध्यक्ष पद पर वापसी की आस लगाए है। जबकि राहुल गांधी ने शुक्रवार को फिर अपनी मंशा जताते हुए कहा मैं पार्टी अध्यक्ष नहीं बनूंगा। ये बात उन्होंने मीडिया के सवालों के जवाब में संसद के सेंट्रल हॉल में कही। राहुल के इंकार के बाद पार्टी में इस बात का मंथन भी शुरू होना तय है कि आखिर सोनिया गांधी के बाद ये जिम्मेदारी कौन संभालेगा। अध्यक्ष पद को लेकर पूछे जाने पर राहुल ने कहा कि मैं अभी पार्टी अध्यक्ष नहीं हूं, लेकिन पार्टी जो कहेगी वो करूंगा। पार्टी प्रचार के लिए कहेगी, प्रचार करूंगा, पद यात्रा के लिए कहेगी तो पद यात्रा करूंगा।

राहुल के अध्यक्ष न बनने के बयान ने पार्टी में उनके समर्थक नेताअें को जरूर निराश किया है। दरअसल कांग्रेस में राहुल गांधी को फिर अध्यक्ष बनाने के लिए उनके समर्थक नेता जमीन तैयार कर लंबे समय से उनकी हरी झंडी का इंतजार कर रहे थे। सोनिया गांधी को कार्यकारी अध्यक्ष चुने जाने के बाद से ही इस बात के कयास लगातार लगाए जा रहे हैं कि कुछ महीनों बाद राहुल गांधी की ही इस पद पर वापसी होगी। ऐसे में राहुल का स्पष्ट तौर पर इंकार पार्टी में नई बहस और नए समीकरण तैयार करेगा। कांग्रेस नेताओं के पास विकल्प के तौर पर महासचिव प्रियंका गांधी का नाम है लेकिन प्रियंका इतनी बड़ी जिम्मेदारी के लिए तैयार होंगी ये सवाल अहम है।

कांग्रेस के लिए किसी नेता का चुनना मुश्किलों भरा होगा
अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद राहुल गांधी ने चुनाव के माध्यम से नया अध्यक्ष चुने जाने की बात कही थी। उस दौरान इस बात के संकेत भी दिए थे कि अगला अध्यक्ष गांधी परिवार के बाहर से होगा। ऐसे में जब भी पार्टी में नए अध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया शुरू होगी कांग्रेसजनों के लिए किसी नेता का चुनना मुश्किलों भरा होगा। 

 

06-02-2020
संसद में नरेंद्र मोदी लगातार 100 मिनट तक बोले,सीएए-एनआरसी से लेकर पं.नेहरू तक का हुआ जिक्र  

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी ने धन्यवाद प्रस्ताव पर लोकसभा में गुरुवार को भाषण दिया। वे करीब 100 मिनट तक लगातार बोले। मोदी अपने भाषण के दौरान सीएए,एनआरसी और बजट समेत सभी मुद्दों पर अपनी राय रखी। मोदी ने कांग्रेस पर भी निशाना साधा। इसके साथ ही उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की चिट्ठी का भी जिक्र किया। भाषण में उन्होंने कहा कि देश ने देख लिया है कि दल के लिए कौन है और देश के लिए कौन है। जब बात निकली है तो दूर तक जानी चाहिए। किसी को प्रधानमंत्री बनना था,इसलिए हिंदुस्तान में लकीर खींची गई और हिंदुस्तान का बंटवारा कर दिया गया।

उन्होंने कहा कि 5 नवंबर 1950 को इसी संसद में पं. नेहरू ने कहा था कि इसमें कोई संदेह नहीं हैं कि जो प्रभावित लोग भारत में बसने के लिए आए हैं, ये नागरिकता मिलने के अधिकारी हैं और अगर इसके लिए कानून अनुकूल नहीं हैं तो कानून में बदलाव किया जाना चाहिए। इतने दशकों के बाद भी पाकिस्तान की सोच नहीं बदली है,वहां आज भी अल्पसंख्यकों पर अत्याचार हो रहे हैं। इसका ताजा उदाहरण ननकाना साहिब में देखने को मिला। ये केवल हिंदू और सिखों के साथ नहीं बल्कि वहां जो अन्य अल्पसंख्यक हैं, उनके साथ भी यही हो रहा है।

कांग्रेस से सवाल पूछते हुए उन्होंने कहा,' पं. नेहरू इनते बड़े विचारक थे, फिर उन्होंने उस समय वहां के अल्पसंख्यकों की जगह, वहां के सारे नागरिक को समझौते में शामिल क्यों नहीं किया? जो बात हम आज बता रहे हैं, वही बात नेहरू की भी थी। क्या पंडित नेहरू कम्युनल थे?' नागरिकता कानून पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस की दिक्कत ये हैं कि वो बाते करती है, झूठे वादे करती है और दशकों तक उन वादों को टालती रहती है। आज हमारी सरकार अपने राष्ट्र निर्माताओं की भावनाओं पर चलते हुए फैसले ले रही है तो इनकों दिक्कत हो रही है। मैं फिर से इस सदन के माध्यम से बड़ी जिम्मेदारी के साथ स्पष्ट कहना चाहता हूं कि सीएए से हिंदुस्तान के किसी भी नागरिक पर कोई प्रभाव नहीं पड़ने वाला। चाहे वो मुस्लिम हो, हिंदू हो, सिख हो या अन्य किसी धर्म को मानने वाला हो।

 

06-02-2020
आज देश में सबसे बड़ा मुद्दा रोजगार,मोदी ने इस पर कुछ नहीं कहा : राहुल गांधी

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वक्तव्य के बाद पीएम मोदी पर पलटवार किया। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने बेरोजगारी के बारे में कोई बात नहीं की और सिर्फ ध्यान भटकाने की कोशिश की। गांधी ने लोकसभा में राष्ट्रपति अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा पर प्रधानमंत्री के जवाब की ओर संकेत करते हुए संसद परिसर में संवाददाताओं से यह कहा। उन्होंने कहा,‘आज देश के सामने सबसे बड़ा मुद्दा रोजगार का है, अर्थव्यवस्था का है। हर युवा चाहता है कि पढ़ाई के बाद यह देश उसे रोजगार दे पाए।’ उन्होंने कहा,‘हमने प्रधनमंत्री से कई बार कहा कि आप देश के युवाओं को रोजगार के बारे में बताइए। प्रधानमंत्री जवाब नहीं दे पाए। वह रोजगार के बारे में एक शब्द नहीं बोल सकते। वित्त मंत्री ने भी अपने भाषण में रोजगार के बारे में कुछ नहीं बोला।’ कांग्रेस नेता ने दावा किया, ‘वह भटकाने की कोशिश कर रहे हैं। कभी जवाहरलाल नेहरू की बात करेंगे, कभी पाकिस्तान की बात करेंगे और कभी बांग्लादेश की बात करेंगे। बस रोजगार की बात नहीं करते।’

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने हर साल दो करोड़ लोगों को रोजगार देने का वादा किया था, लेकिन नए रोजगार की बात छोड़िए, पिछले साल एक करोड़ युवाओं की नौकरी चली गई। इससे पहले लोकसभा में प्रधानमंत्री मोदी ने पूर्ववर्ती कांग्रेस नीत सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि पहले जो कुछ भी हुआ,‘राजनीति के तराजू से तौलकर और आधे-अधूरे मन से किया गया’ जबकि उनकी सरकार ने चुनौतियों को चुनौती देते हुए समस्याओं का समाधान निकालने के लिये दीर्घकालिक नीति के तहत काम किया, जिससें अर्थव्यवस्था आगे बढ़ी तथा वित्तीय घाटा एवं महंगाई स्थिर रही।

 

 

06-02-2020
बजट सत्र 2020: पीएम मोदी आज राष्ट्रपति के अभिभाषण पर लोकसभा में करेंगे चर्चा

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को बजट सत्र के दौरान राष्ट्रपति के अभिभाषण पर लाए गए धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा करेंगे। केंद्र सरकार राष्ट्रपति के अभिभाषण को बिना किसी संशोधन के लोकसभा और राज्यसभा से पारित करवाने का प्रयास करेगी। वहीं कांग्रेस, वामदल, टीएमसी, बसपा और सपा केंद्र सरकार को एनआरसी-सीएए पर घेरने की कोशिश करेंगे। आपको बता दें कि राष्ट्रपति के अभिभाषण को बिना किसी संशोधन के पारित कराने की जिम्मेदारी मौजूदासरकार की होती है। इससे उस सरकार के लोकसभा और राज्यसभा में शक्ति का पता चलता है। 

05-02-2020
राम मंदिर निर्माण सामाजिक सौहार्द्र को मजबूत करने वाला निर्णय : नेताम

रायपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोकसभा में श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट की घोषणा की। भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सांसद रामविचार नेताम ने सामाजिक सौहार्द्र को मजबूत करने वाला निर्णय बताकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बधाई दी। रामविचार नेताम ने कहा कि ट्रस्ट की 15 सदस्यों में से एक ट्रस्टी हमेशा दलित समाज से रहने की बात कह कर केन्द्र सरकार ने समरसता स्थापित करने की मिसाल पेश की है। ट्रस्ट की बैठक और भव्य राममंदिर निर्माण प्रारंभ होने की यह प्रक्रिया अब अतीत की समस्त कटुता को भुलाकर तमाम विवादों को समाप्त करेगी और देश को प्रगति के शिखर पर स्थापित करने के लिए देशवासियों को एकजुट करेगी। 
 

05-02-2020
एयरक्राफ्ट संशोधन बिल लोकसभा में पेश, अब विमान में हंगामा करने पर लगेगा जुर्माना

नई दिल्ली। लोकसभा में एयरक्राफ्ट एक्ट को बदलने के लिए एयरक्राफ्ट संशोधन बिल 2020 मंगलवार को पेश किया गया है। विमान में हंगामा होने की घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए अब सरकार एक नया कानून ला रही है। इस बिल के पास होने के बाद विमान में नियम तोड़ने वालों और हुड़दंग मचाने वालों को 1 करोड़ रुपये तक का जुर्माना देना पड़ सकता है। ये बिल संसदीय कार्य राज्य मंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने पेश किया। कहा जा रहा है कि बिल के पास होने के बाद केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय एविएशन क्षेत्र में मजबूती ला सकता है। नए नियमों के तहत अगर कोई विमान में बम की अफवाह, एयर होस्टेस के साथ बदतमीजी या प्लेन को हाइजैक करने की कोशिश करता है तो उसपर भारी जुर्माना लग सकता है। वहीं अगर कोई विमान में उड़ान के दौरान नियम तोड़ता है या फिर एयर होस्टेस से साथ बदसलूकी करता है तो उसे वर्तमान प्रावधान के तहत 10 लाख रुपये तक का जुर्माना भरना होगा। जानकारी के मुताबिक नए संशोधित बिल को कैबिनेट की मंजूरी मिल गई है। बता दें कि केंद्र सरकार सिविल एविएशन नियमों को कड़े करने की नीति के तहत नए नियमों को मौजूदा कानून में जोड़ रही है।

 

03-02-2020
ओवैसी ने संसद में उठाया जामिया गोलीकांड का मुद्दा, बोले- बच्चों पर जुल्म कर रही सरकार  

नई दिल्ली। लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान जामिया में हुई गोलीबारी का मुद्दा जोरशोर से उठा। एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी मोदी सरकार पर जमकर बरसे। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार बच्चों पर जुल्म कर रही है। बच्चों को गोली मारी जा रही है। संसद में बढ़ते हंगामे के कारण लोकसभाध्यक्ष ने प्रश्नकाल को स्थगित कर दिया। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि मैं हुकूमत को बताना चाहता हूं कि हम तमाम जामिया के बच्चों के साथ हैं। ये हुकूमत बच्चों पर जुल्म कर रही है। एक बच्चे की आंख चली गई, बेटियों को मारा गया...बच्चों को मार रहे हैं। शर्म नहीं आई इनको, गोली मार रहे है। सदन में हंगामे के बीच लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने सदस्यों से अपने स्थान पर जाने की अपील की। उन्होंने कहा कि जब वे चर्चा करेंगे तभी संविधान और लोकतंत्र बचेगा।
 
सीएए, एनपीआर के मुद्दे पर कांग्रेस का हंगामा

कांग्रेस सदस्यों ने प्रश्नकाल के दौरान संशोधित नागरिकता कानून, राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के मुद्दे पर भारी हंगामा किया। विपक्षी सदस्यों ने दिल्ली विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान विवादित बयान देने का आरोप लगाते हुए वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर का भी भारी विरोध किया। सदन की कार्यवाही शुरू होने पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने जैसे प्रश्नकाल शुरू करने को कहा वैसे ही कांग्रेस के सदस्य नारेबाजी करते हुए अध्यक्ष के आसन के निकट पहुंच गए। कई सदस्यों ने 'लोकतंत्र बचाओ-भारत बचाओ' और ‘नो सीएए-एनआरसी-एनपीआर’ के नारे वाली तख्तियां ले रखी थीं। शोर शराबे के बीच प्रश्नकाल में वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर जब पूरक प्रश्नों का उत्तर देने खड़े हुए तो कांग्रेस सदस्यों ने ‘अनुराग ठाकुर शेम शेम’ और ‘गोली मारना बंद’ करो के नारे लगाए।

 

02-02-2020
महाराष्ट्र में नहीं लागू होने देंगे एनआरसी : उद्धव ठाकरे

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का कहना है कि वह महाराष्ट्र में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) को लागू नहीं होने देंगे। ठाकरे ने कहा कि नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) नागरिकता छीनने को लेकर नहीं है। यह देने के लिए है। हिंदुओं और मुसलमानों दोनों के लिए नागरिकता साबित करना मुश्किल होगा। मैं ऐसा होने नहीं दूंगा। सीएए को लेकर शिवसेना ने लोकसभा में पहले भाजपा का समर्थन किया था। हालांकि जब यह राज्यसभा पहुंचा तो उसने सदन से वाक आउट कर दिया था। उद्धव ठाकरे का यह बयान ऐसे समय पर सामने आया है जब सीएए और एनआरसी को लेकर दिल्ली के शाहीन बाग सहित देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन देखने को मिल रहा है। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि सीएए मुसलमानों और संविधान के खिलाफ है। इसके अलावा यह धर्म के आधार पर भेदभाव करता है।

मुस्लिम घुसपैठियों को भारत से बाहर निकालना चाहिए

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे के बांग्लादेशी और पाकिस्तानी घुसपैठियों को बाहर निकालने को लेकर मोदी सरकार को अपना समर्थन देने के दो दिन बाद शिवसेना ने 25 जनवरी को कहा था कि इन देशों के मुस्लिम घुसपैठियों को भारत से बाहर निकाला जाना चाहिए। शिवसेना ने हिंदुत्व की ओर अपनी विचारधारा बदलने के लिए राज ठाकरे पर निशाना साधते हुए कहा था कि वीडी सावरकर और दिवंगत पार्टी संस्थापक बालासाहेब ठाकरे द्वारा प्रसारित विचारधारा के तौर पर हिंदुत्व का मुद्दा लेकर चलना बच्चों का खेल नहीं है। उसने यह कहते हुए उन्हें ताना मारा कि दो झंडे होना दिखाता है कि दिमाग में भ्रम है। शिवसेना ने पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में एक संपादकीय में कहा, पाकिस्तान और बांग्लादेश के मुस्लिम घुसपैठियों को भारत से बाहर करना चाहिए। इसमें कोई शक नहीं होना चाहिए। लेकिन यह देखना दिलचस्प है कि एक पार्टी इसके लिए अपना झंडा बदल रही है। दो झंडे होना दिमाग में भ्रम की स्थिति दिखाता है।

02-02-2020
चंदूलाल चन्द्राकर से निष्पक्ष पत्रकारिता की प्रेरणा मिलती रहेगी : भूपेश बघेल

रायपुर। स्वर्गीय चंदूलाल चंद्राकर की मूल्य आधारित निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता, मातृभूमि के लिए सेवा भावना, उनके अमूल्य विचार नई पीढ़ी को हमेशा प्रेरित करते रहेंगे। उक्त बातें छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने चंदूलाल चन्द्राकर की पूण्य तिथि पर कही। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के महान सपूत, प्रखर पत्रकार और पूर्व सांसद स्वर्गीय चंदूलाल चंद्राकर की पुण्यतिथि 2 फरवरी पर उन्हें नमन है। बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ के माटी पुत्र चंदूलाल चंद्राकर ने अपने प्रखर व्यक्तित्व और निर्भीक पत्रकारिता से देश में छत्तीसगढ़ का नाम रोशन किया है। उन्होंने लोकसभा में सांसद के रूप में तथा कई महत्वपूर्ण पदों का दायित्व संभालते हुए देश और प्रदेश की सेवा की। उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य आंदोलन को नई दिशा प्रदान की।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804