GLIBS
25-08-2020
Video: मुख्यमंत्री, गृहमंत्री के गृह जिले में काम करना चैलेंज था,जिसका बखूबी निर्वहन किया: पुलिस अधीक्षक लखन पटले

दुर्ग। दुर्ग पुलिस अधीक्षक ग्रामीण लखन पटले ट्रांसफर होने के पहले चार्ज देने पहुंचे वर्तमान पदस्थ अधिकारी प्रज्ञा मेश्राम को चार्ज देते हुए मीडिया से मुखातिब हुए। उन्होंने बताया कि उनके द्वारा दुर्ग जिले में लगभग एक से डेढ़ साल का समय बिताया गया जो कि काफी अच्छा रहा। इसमें उन्होंने बेसिक पुलिसिंग के साथ बड़े से बड़े केस को भी सुलझाने में सफलता हासिल की,जिसमें उन्हें बराबर अपने उच्च अधिकारियों का साथ मिलता रहा। इससे उन्होंने सफलतापूर्वक यहां कार्य किया। वहीं वीआईपी जिला होने की बात पर उन्होंने कहा कि क्योंकि यह जिला मुख्यमंत्री एवं गृहमंत्री का क्षेत्र है। इसलिए भी यहां पर काम करना चैलेंज के बराबर था,जिसका उन्होंने बखूबी निर्वहन किया। वहीं दो-तीन बड़े मर्डर केस व चोरी के मामलों का जिक्र करते हुए बताया कि चाहे मर्डर के केस हो या चाहे चोरी के उनके द्वारा सभी सफलता सुलझाया गया। उनमें दुर्ग जिले में बिताए समय पर संतुष्टि का भाव दिखा।

24-08-2020
एसपी ने चार निरीक्षकों और चार उप निरीक्षकों का किया ट्रांसफर, देखें लिस्ट..

जांजगीर चाम्पा। पुलिस अधीक्षक पारुल माथुर ने जिले में 8 पुलिस चौकियों के प्रभारियों के प्रभार में फेरबदल किया है। एसपी ने चार निरीक्षकों और चार उप निरीक्षकों का ट्रांसफर किया है। एसपी पारुल माथुर ने बेहतर पुलिसिंग के लिए थाना प्रभारियों के प्रभार में फेरबदल किया है। इसके अंतर्गत 8 पुलिस अधिकारियों को इधर से उधर किया गया है। देखें लिस्ट...

19-08-2020
स्पंदन से खिले पुलिसकर्मियों के चेहरे, किसी का बीस साल बाद ट्रांसफर, बेटे की मौत से अकेली मां को मिला पति का सहारा

रायपुर। छत्तीसगढ़ में पुलिसकर्मियों को तनाव रहित रखने के लिए स्पंदन योजना की शुरूआत की गई है। इसी क्रम में डीजीपी डीएम अवस्थी ने पुलिसकर्मियों और उनके परिजनों से वीडियो कॉल के जरिए बात की और उनकी समस्याओं का तत्काल समाधान किया। बलरामपुर में पदस्थ आरक्षक हेमलता साहू ने बताया कि उनका बच्चा जन्म से ही कमजोर है और सास लकवा से पीड़ित हैं,जो कि बिस्तर से उठ भी नहीं सकती हैं। हेमलता वीडियो कॉल के जरिए बीमार सास की स्थिति से डीजीपी को अवगत कराते हुए रो पड़ीं और कहा कि उनको बीमार बच्चा, सास की देखभाल और ड्यूटी के बीच सामंजस्य बैठाने में बहुत ही परेशानी हो रही है। मेरे पति की पोस्टिंग संकरी बटालियन बिलासपुर में है। डीजीपी अवस्थी ने संवेदनशीलता दिखाते हुए तत्काल हेमलता साहू का स्थानांतरण बलरामपुर से बिलासपुर करने के निर्देश जारी किया। अवस्थी ने कहा कि आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है,आप अपना सामान पैक करिए। आपका स्थानांतरण आदेश आज ही आपके पास पहुंच रहा है। इतना सुनते ही हेमलता और उनकी सास भावुक हो गईं और स्पंदन योजना शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का आभार व्यक्त किया।

दुर्ग निवासी शुभांगनी सेंगर के पिता का देहान्त मार्च में हो गया था। उन्होंने अनुकंपा नियुक्ति आरक्षक(अ) वर्ग में चाही क्योंकि परिवार के भरण-पोषण की जिम्मेदारी अब उन पर ही है। अवस्थी ने शुभांगनी से कहा कि आप निश्चिंत रहिए, बालोद जिले के लिए नियुक्ति-पत्र बहुत जल्द आपके घर पहुंच जायेगा। बस्तर के पखनार कैंप में पदस्थ आरक्षक अखिलेश यादव ने कहा कि उनका घर राजनांदगांव में है, कुछ समय पहले उनके बच्चे का आकस्मिक निधन हो गया है। इसके बाद से उनकी पत्नी लगातार अवसाद में है। अवस्थी ने कहा कि इस मुश्किल घड़ी में आपका पत्नी के इलाज और भावनात्मक सहयोग के लिए उनके पास रहना जरूरी है। अवस्थी ने तत्काल राजनांदगांव बटालियन के कमाण्डेंट सरजूराम सलाम को फोन लगाकर अखिलेश यादव को पखनार से राजनांदगांव स्थानांतरित करने के निर्देश दिए।दंतेवाड़ा के पोटाली कैम्प में पदस्थ छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के जवान केशव कुमार ने कहा कि उनकी दोनों किडनी खराब है, गठियावात और मोतियाबिंद है। उनका परिवार दुर्ग में रहता है। घर से दूर रहकर स्वास्थ्य लगातार खराब हो रहा है।

अवस्थी ने केशव कुमार के खराब स्वास्थ्य को देखते हुए तुरंत दुर्ग पुलिस लाईन पदस्थ करने के निर्देश जारी किए। अन्य कॉलर उर्मिला ने बताया कि उनके पति ओसन्त कुमार चन्द्रा बीस साल से जशपुर में पदस्थ हैं,जो बिलासपुर स्थानांतरण चाहते हैं। मुझे बेटे का एडमिशन भी ग्यारहवीं कक्षा में कराना है। डीजीपी ने आश्वस्त किया कि आज ही आपके पति का स्थानांतरण आदेश निकाल दिया जायेगा। बिलासपुर में पदस्थ एएसआई रूपा ठाकुर ने बताया कि उनका तीन बार मिस्कैरिज हो चुका है। पति और छोटी बच्ची रायगढ़ में रहते हैं मुझे भी रायगढ़ स्थानांतरित कर दिया जाये। अवस्थी ने एएसआई रूपा की परेशानी देखते हुए तुरंत रायगढ़ स्थानांतरित करने के आदेश जारी कर दिये। एएसआई रेडियो चुमेश कुमार साहू की पत्नी ने बताया कि वे राजिम में नगर पंचायत में इंजीनियर हूं और पति चुमेश कोरिया में पदस्थ हैं। मुझे छोटी बच्ची की देखभाल और आफिस के बीच सामंजस्य में परेशानी हो रही है। अवस्थी ने चुमेश कुमार साहू को तत्काल रायपुर स्थानांतरित करने के निर्देश जारी कर दिए।

 

09-08-2020
पुलिस अधीक्षक का जल्दी ट्रांसफर उचित नहीं, अधिकारियों को हताश करने वाला फैसला : मधुसूदन यादव

राजनांदगांव। जिला भाजपा अध्यक्ष और पूर्व सांसद मधुसूदन यादव ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि जिले के एसपी जितेंद्र शुक्ल का जल्दबाजी में किया गया स्थानांतरण कोई प्रशासनिक प्रक्रिया के तहत नहीं, बल्कि दुर्भावनापूर्ण उद्देश्य से किया गया है। यह अधिकारियों को हताश करने वाला और दुर्भाग्यपूर्ण है। यादव ने एसपी के स्थान्तरण की आलोचना करते हुए भूपेश बघेल की सरकार इतनी पारखी और गुणी कब से हो गई कि मात्र चार महीने में किसी एसपी की कार्यप्रणाली का आंकलन कर ले और उनका स्थानान्तरण कर दे। उन्होंने ऐसा कौन सा गुणवत्ता मीटर ईजाद कर लिया है कि वह 4 माह में किसी व्यक्ति के कार्यों का आंकलन कर लें। चार माह तो व्यक्ति को जिले के भौगोलिक और प्रशासनिक व्यस्था को ही समझने में लग जाते हैं और जब किसी के कार्य प्रणाली से शहर और जिले की जनता को सुकून और राहत मिल रही हो। कानून व्यवस्था बेहतर हो रही हो तो उन्हें हटाना किसी ईगो या जिद का ही परिणाम माना जा सकता है।

29-07-2020
Video: पदस्थापना को लेकर जिले में दो अधिकारियों के बीच असमंजस की स्थिति

रायगढ़। पदस्थापना को लेकर जिले में दो अधिकारियों के बीच असमंजस की स्थिति बन गई है। इधर अपने ट्रांसफर के खिलाफ हाईकोर्ट से स्टे लेकर आए डीईओ मनिंद्र श्रीवास्तव जब ऑफिस पहुंचे तो वहां केबिन में ताला जड़ा मिला। दूसरी तरफ नवपदस्थ डीईओ आरपी आदित्य ने कलेक्टर के निर्देशानुसार रायगढ़ डीईओ का प्रभार सम्हाल लिया है। टीएल बैठक में बतौर जिला शिक्षा अधिकारी शामिल भी हुए। मनिंद्र श्रीवास्तव का स्वास्थ्य ठीक नहीं है और वह नियमित डायलिसिस ले रहे हैं,उनका परिवार रायगढ़ में ही होने की वजह से वह रायगढ़ में ही रहना चाहते हैं। स्वास्थ्यगत कारणों के आधार पर उन्होंने हाईकोर्ट से स्टे भी लिया है। कलेक्टर भीम सिंह ने इस विषय में स्पष्ट कर दिया है कि हाईकोर्ट के निर्णय के अनुसार यथास्थिति बनाए रखते हुए आरपी आदित्य जिला शिक्षा अधिकारी के तौर पर काम करेंगे और मनिंद्र श्रीवास्तव ट्रांसफर के बाद अपनी नवीन पदस्थापना के लिए जाएंगे। जब तक मनिंद्र श्रीवास्तव यहां है उनके बैठने के लिए व्यवस्था बनाई जाएगी। चूंकि उनका स्वास्थ्य सही नहीं है और कोरोना के संक्रमण का खतरा भी है इसलिए उन्हें कुछ समय दिया जाएगा।

 

01-07-2020
धमतरी के कुछ अधिकारियों की कुर्सी में फेविकोल का जोड़, एक बार चिपक गए तो कहीं जाते ही नहीं...

धमतरी। जिले में सालों से कई शासकीय विभाग में अधिकारी और कर्मचारी जमे हुए है, लगता है उनकी कुर्सी में फेविकोल का जोड़ है, जो एक बार चिपक गए तो यहां से जाना ही नहीं चाहते हैं। ऐसे कई महत्वपूर्ण विभाग है, जिसमें से अधिकारी अपनी कुर्सी छोड़ना ही नहीं चाहते हैं। बताया जाता है कि यहां पर कुछ अधिकारी बीते पांच से दस साल से यहीं पर जमे हुए हैं। तबादला होने पर जोड़तोड़ कर अपना नाम लिस्ट से हटवा लिया जाता है। अधिकारियों के साथ ऐसे कई कर्मचारियों की भी यही स्थिति है। जानकारी के मुताबिक नियमानुसार विभिन्न विभागों में पदस्थ अधिकारी और कर्मचारियों का ट्रांसफर अधिकतम तीन साल में अनिवार्य रूप से करने का नियम बनाया गया है, लेकिन इन अधिकारियों के नाम लिस्ट में आते ही नहीं। ऐसे में कई सवाल उठते है कि क्यों आखिर सरकार इन अधिकारियों के नाम लिस्ट में नहीं रहता है। हाल में ही सरकार द्वारा बड़ी ट्रांसफर लिस्ट तैयार की गई थी, जिसमें से धमतरी के ही कलेक्टर रजत बंसल का ट्रंसफर बस्तर किया गया है और जिले की कमान कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य के हाथ में दी गई है। ऐसे में ये बात भी सामने आती है कि डेढ़ दो साल के भीतर ही जब कलेक्टरों का ट्रांसफर हो जाता है, तो ऐसे कई विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों का ट्रांसफर क्यों नहीं हो पाता है।

ऐसे में बात उठी है कि क्या सरकार द्वारा कुछ अधिकारियों और कर्मचारियों के ऊपर छूट दी जाती है। ऐसे कुछ विभाग के कई अधिकारी भी है जिन पर अनियमितता बरतने के आरोप भी लगते आए हैं। आप लोगों ने तो सुना ही होगा नेताओं को अपनी कुर्सी बहुत प्यारी होती है। पर पांच साल बाद होने उस कुर्सी को बचाने के लिए फिर से चुनाव में लड़ना पड़ता है, किंतु जिले के ऐसे कई अधिकारी है,जो अपनी कुर्सी छोड़ने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। इन अधिकारियों एवं कर्मचारियों के नाम क्या ऊपर तक जाते ही नहीं? क्या इन लोगों के नाम ट्रांसफर वाली लिस्ट में डाले भी नहीं जाते हैं? अगर आ भी जाए तो पहले ही रोकवा दिया जाता है क्या? ऐसे कई सवाल है जो हमेशा से उठते आए हैं। अब देखना ये होगा कि इन अधिकारियों एवं कर्मचारियों के ट्रांसफर होते हैं की नहीं, की यही से अपना रिटायरमेंट ले के जाएंगे। सूत्रों ने बताया कि कुछ अधिकारियों को धमतरी जिले से इतना प्यार है कि चुनाव के समय ट्रांसफर की जद में आने से बचने के लिए कुछ समय के लिए दूसरे जिले में ट्रांसफर कराकर फिर वापस धमतरी आ जाते हैं। इन अधिकारियों के धमतरी प्रेम का मतलब साफ दिखता है कि यहां इनकी सेटिंग तगड़ी है, ऊपरी कमाई भी खूब होती होगी। खैर अब शासन के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा वर्षो से जमे अधिकारी-कर्मचारियों को लेकर क्या निर्णय लिया जाता है यह देखना दिलचस्प होगा। अगर यूं ही चलता रहा तो सीधे तौर पर लोग सरकार पर उंगली उठाने लगेंगे।

 

22-06-2020
मध्यप्रदेश में 39 आईपीएस अधिकारियों के हुए ट्रांसफर

भोपाल। मध्यप्रदेश में सोमवार को आईपीएस ​अधिकारियों के तबादले किए है। मंत्रालय वल्लभ भवन से 39 आईपीएस अधिकारियों के आदेश की सूची जारी की गई हैं। आदेश के अनुसार कई जिलों के पुलिस अधीक्षकों को बदला गया है। देखें सूची..

26-05-2020
महासमुंद की जिम्मेदारी कार्तिकेय गोयल को दी गई, होंगे जिले के नए कलेक्टर  

महासमुंद। प्रदेश में आज मंगलवार को बड़े पैमाने में प्रशासनिक फेरबदल किया गया है।  इसमें कार्तिकेय गोयल को बलौदाबाजार कलेक्टर से ट्रांसफर कर महासमुंद जिले का नया कलेक्टर बनाया गया है। कलेक्टर सुनील कुमार जैन को महासमुंद से ट्रांसफर कर बलौदाबाजार का नया कलेक्टर बनाया गया है।

 

26-05-2020
राजनांदगांव जिले की कमान संभालेंगे टोपेश्वर वर्मा, होंगे नए कलेक्टर

 राजनांदगांव। प्रदेश में आज मंगलवार को बड़े पैमाने में प्रशासनिक फेरबदल किया गया है।  इसमें टोपेश्वर वर्मा को राजनांदगांव जिले का नया कलेक्टर बनाया गया है। कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य को राजनांदगांव से धमतरी ट्रांसफर किया गया है।

 

26-05-2020
जिले में बड़े पैमाने पर हुए एएसआई के तबादले, देखें सूची...

राजनांदगांव। पुलिस अधीक्षक जितेंद्र शुक्ला ने मंगलवार को जिले भर के थानों में पदस्थ 50 सहायक उप निरीक्षकों (एएसआई) के ट्रांसफर किए हैं। देखें सूची...  

 

 

25-04-2020
मुख्यालय में पटवारी के अनुपस्थित होने पर कलेक्टर ने किया ट्रांसफर

कोण्डागांव। जिले में विकास कार्यों की प्रगति का जायजा लेने कलेक्टर नीलकंठ टीकाम स्वयं पूरे जिले में दौरा कर रहे हैं। इसी क्रम में कलेक्टर विकासखण्ड बड़ेराजपुर के एफआरए क्लस्टर ग्राम गम्हरी पहुंचे। जहां उन्होंने क्लस्टर गम्हरी के अंतर्गत चल रहे निर्माण कार्यों का जायजा लिया साथ ही यहां मनरेगा के अंतर्गत कार्यों की समीक्षा की और कार्य में लगे श्रमिकों से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि लाॅक डाउन में दी गई।कलेक्टर ने दौरे के दौरान मुख्यालय में पटवारी के अनुपस्थित पाए जाने पर कलेक्टर ने ग्राम गम्हरी में कार्यरत पटवारी के स्थानांतरण के निर्देश दिए। साथ ही तहसीलदार द्वारा जल्द से जल्द नए पटवारी की गम्हरी में पदस्थ किए जाने के आदेश दिए।इस दौरान उन्होंने माकड़ी एवं विश्रामपुरी के मध्य बन रही सड़कों का सर्वे किया साथ ही इस मार्ग पर बन रहे नालो एवं पुलों का निरीक्षण किया तथा निर्माण कार्यों की प्रगति पर संतोष व्यक्त किया, तत्पश्चात कलेक्टर कांकेर एवं कोण्डागांव की सीमा पर बसे ग्रामों में निर्माणाधीन गौठानो का जायजा लिया एवं विश्रामपुरी में बन रहे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं शाला भवन का भी निरीक्षण किया।

 

12-04-2020
एसपी ने जारी किया आदेश, दो थानेदारों समेत 5 हेड कांस्टेबल और एक आरक्षक का हुआ ट्रांसफर

 

धमतरी। दो थानेदारों समेत 5 हेड कांस्टेबल और एक आरक्षक का तबादला किया गया है। इसमें निरीक्षक विनय कुमार परमार को रक्षित केंद्र से दुगली थाने की कमान सौंपी गई है, वहीं दुगली थाना प्रभारी डीएस नेताम को रक्षित केंद्र भेजा गया है। दूसरी ओर हेड कांस्टेबल श्यामसुंदर बरिहा को थाना खल्लारी से भखारा, विजयपति को कोतवाली थाने से बोराई थाना, विजय बैरागी को रक्षित केंद्र से कोतवाली थाना, पवन नागे को बोराई से सिटी कोतवाली संजीव मालेकर को रक्षित केंद्र से खल्लारी थाना और आरक्षक गिरीश मिश्रा को कोतवाली थाने से खल्लारी थाना तबादला किया गया है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804