GLIBS
13-01-2021
बहुचर्चित किशनपुर हत्याकांड के घटना स्थल की फॉरेंसिक एक्सपर्ट करेंगे पुन: जांच, महिला आयोग करेगा खर्च वहन

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक ने बुधवार को महासमुंद में महिला उत्पीड़न से संबंधित प्रकरणों पर जन-सुनवाई की। सुनवाई में 16 प्रकरण रखे गये थे। इसमें 13 प्रकरण सुनवाई के पूर्व रजामंदी होने के कारण नस्तीबद्ध किया गया। इसी प्रकार 7 प्रकरणों को भी रजामंदी और सुनवाई योग्य नही होने के कारण नस्तीबद्ध किया गया। डॉ. नायक ने महिलाओं को समझाइश दी कि  घरेलू आपसी मनमुटाव का समाधान परिवार के बीच किया जा सकता है। घर के बड़े बुजुर्गों का सम्मान एवं आपसी सामंजस्य सुखद गृहस्थ के लिए महत्वपूर्ण है। पिथौरा विकासखंड के आवेदकों ने पुलिस अधिकारियों और चार अन्य लोगों के विरुद्ध कार्रवाई करने की मांग की। आवेदकों ने बताया कि किशनपुर हत्याकांड के मामलें में पुलिस अधिकारियों ने समुचित जांच नहीं करने की जानकारी दी। इस प्रकरण पर महिला आयोग ने तीन साल पुराने मामलें की निष्पक्ष तरीके से जांच कराने कहा। महिला एवं बाल विकास विभाग के व्यय पर फॉरेंसिक एक्सपर्ट डॉ. सुनंदा ढेंगे को नियुक्त किया गया है। उनके सहयोग के लिए आयोग की अधिवक्ता शमीम रहमान और एसडीओपी अपूर्वा सिंह को दो माह के भीतर विस्तृत जांच कर रिपोर्ट आयोग को प्रस्तुत करने के निर्देश दिए है। इस संबंध में आवश्यकतानुसार न्यायालय से अनुमति प्राप्त की जाएगी।इसी तरह एक अन्य मामले में पिथौरा के आवेदिका ने पटवारी पुत्र को मानसिक प्रताड़ना व भरण पोषण की राशि दिलाने की मांग की। आयोग ने अनावेदक को आपसी रजामंदी से प्रत्यके माह की पहली तारीख को 8,000 रुपए आवेदिका के खातें आरटीजीएस के माध्यम से जमा करने कहा। स्वयं अपने विभाग में आवेदन देकर लिखित सहमति प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। इसके अलावा आवेदिका को अनावेदक के घर पर किसी भी प्रकार की दखल अंदाजी नहीं करने के निर्देश दिए। इस पर दोनों पक्षों ने सहमति जताई। इसके अलावा पिथौरा के आवेदिका ने अनावेदक के खिलाफ दैहिक शोषण की शिकायत की थी।  इस पर अध्यक्ष ने दोनो पक्षो को गंभीरता से सुनने के बाद पति-पत्नि को सुलह के साथ रहने की समझाइश दी।एक अन्य प्रकरण में महिला आवेदक ने दैहिक शोषण का आरोप लगाया। इस पर आयोग ने दोनों पक्षोें की बातों को गंभीरता पूर्वक सुनकर अनावेदिका को भरण-पोषण के लिए एकमुश्त 1,60,000 (एक लाख 60 हजार रूपए) की राशि देने के निर्देश दिए।  इस पर आवेदक एवं अनावेदिका पक्ष ने आयोग के समक्ष आपसी रजामंदी में तलाक लेने की बात भी स्वीकार की।
जिला कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित सुनवाई में मुख्य रूप से महिलाओं से मारपीट, मानसिक, शारीरिक, दैहिक प्रताड़ना, कार्यस्थल पर प्रताड़ना, दहेज प्रताड़ना, से संबंधित प्रकरणों पर सुनवाई की गई। सुनवाई के दौरान अपर कलेक्टर जोगेन्द्र कुमार नायक अतिरिक्त पुलिस अधिक्षक मेघा टेंबुलकर, डिप्टी कलेक्टर बीएस मरकाम, सीमा ठाकुर, प्रशिक्षु डीएसपी अपूर्वा सिंह, शासकीय अधिवक्ता शमीम रहमान सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

 

07-01-2021
खुड़मुड़ा हत्याकांडः आरोपियों की गिरफ़्तारी की मांग के लिए सोनकर समाज ने निकाली रैली

धमतरी। सोनकर समाज द्वारा खुड़मुड़ा जिला दुर्ग में सोनकर परिवार के एक ही घर के चार लोगों की बेरहमी से हुए हत्या का विरोध जताते हुए पैदल रैली निकाली गई । कैंडल जलाकर मृतकों को श्रद्धांजलि दी गई। साथ ही मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौपा गया। इसमें सोनकर समाज के प्रदेश उप मंत्री अखिलेश सोनकर ने कहा कि आरोपी अभी भी पुलिस की पकड़ से बाहर है यहाँ घटना हाई प्रोफाइल लगता है। तथा जो यह हुआ है वह मुख्यमंत्री के कर्म क्षेत्र की है तथा गृहमंत्री के जिले की घटना है अगर लोग यह सुरक्षित नही है तो प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सावलिया निशान पर है। उन्होंने  कहा कि अगर आरोपी को जल्द से जल्द नही पकड़ा जाता तो सोनकर समाज उग्र आन्दोलन पूरे छत्तीसगढ़ में करेगी और मुख्यमंत्री निवास का घेराव करेंगी । रैली में सोनकर समाज के अध्यक्ष संतोष सोनकर,अखिलेश सोनकर,रामेश्वर सोनकर,हेमन्त सोनकर,पुश राम,धनीराम सोनकर,नरेश सोनकर,ईश्वर सोनकर,दीपक सोनकर,कमलेश सोनकर,लखन,लखन सोनकर, प्रीत राम,सुदामा सोनकर आदि समाज जन बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

13-10-2020
2 टीआई के खिलाफ जांच शुरू, दोहरे हत्याकांड में लापरवाही बरतने का मामला

भिलाई। सुपेला थाना अंतर्गत न्यू कृष्णा नगर में हुए दोहरे हत्याकांड में पुलिस की गैर जिम्मेदाराना व्यवहार के कारण दो निरीक्षक जांच के दायरे में आ गए हैं। आईजी ने सुपेला थाना के पूर्व व वर्तमान प्रभारी के खिलाफ जांच शुरू करवा दी। इसके लिए जिम्मेदार निरीक्षक की भूमिका की स्पष्ट होने के बाद उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उल्लेखनीय है कि चचेरे भाई-बहन होने के बाद भी प्रेम करने वाले न्यू कृष्णा नगर सुपेला निवासी युवती और श्रीहरि कोप्पल की उनके ही परिवार के लोगों ने शनिवार-रविवार की दरम्यानी रात हत्या कर दी थी। युवती के भाई चरण कोप्पल और चाचा के रामू ने दोनों को जहर पिलाने के बाद उनका गला घोंटा था। इसके बाद उनकी लाश को बोरे में भरकर कार से शिवनाथ नदी के किनारे सिरसा खार ले जाकर टायर पर शवों को रखकर जला दिया था। शव को जलाने के बाद दोनों आरोपी कार को कुरुद ने एक स्थान पर लावारिस छोड़कर घर आ गए थे।

रविवार की दोपहर में जब सुपेला पुलिस मौके पर पहुंची तब भी शव जल रहे थे। पुलिस ने पानी डालकर उसे बुझाया और उसे जब्त किया था। सुपेला पुलिस ने घटना के दोनों आरोपित चरण कोप्पल और के रामू को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शनिवार को पुलिस को जानकारी मिली कि युवती और श्रीहरि के साथ कुछ अनहोनी हो सकती है। सुपेला थाना के पूर्व प्रभारी गोपाल वैश्य के पास इसकी सूचना गई तो उन्होंने कहा कि उन्होंने छावनी थाना का प्रभार ले लिया है और नए प्रभारी दिलीप सिंह सिसोदिया से संपर्क करने के लिए कहा। वहीं दिलीप सिंह सिसोदिया प्रभार लेने के बाद बधाई देने वालों से घिरे थे। इसलिए इस मामले की गंभीरता को नहीं समझ पाए। दोनों थाना प्रभारियों द्वारा लापरवाही बरतने के मामले की जांच के लिए एएसपी शहर रोहित झा को आईजी ने निर्देशित किया है। जांच में जिसकी लापरवाही सामने आएगी, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

26-09-2020
हत्या कर फरार हुए 4 आरोपियों को बालाघाट से किया गया गिरफ्तार

राजनांदगांव। 23 सितम्बर की रात हुए हत्याकांड,जिसमें कुल 12 आरोपी शामिल थे। पहले दिन 4 आरोपी गिरफ्तार हुए औ दूसरे दिन फिर 4 आरोपी पकड़े गए। शेष बचे 4 आरोपियों को सूचना के आधार पर बालाघाट से गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार शेष 4 आरोपियों को रिमांड के लिए 26 सितम्बर को न्यायालय में पेश किया गया। लगातार दो हत्याएं होने के बाद पुलिस ने आपरेशन क्लीन अभियान शुरू किया। इसके चलते बड़ी संख्या में निगरानीशुदा व वारंटी अपराधियों की गिरफ्तारी हुई, जो आगे भी जारी रहेगी।

 

02-09-2020
शिवसेना नेता की गोली मारकर हत्या, मध्यप्रदेश इकाई के थे पूर्व प्रमुख

इंदौर। शिवसेना की मध्यप्रदेश इकाई के पूर्व प्रमुख की अज्ञात बदमाश ने मंगलवार देर रात यहां गोली मारकर हत्या कर दी। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। तेजाजी नगर के थाना प्रभारी आरएनएस भदौरिया ने बुधवार को बताया कि शिवसेना की प्रदेश इकाई के पूर्व प्रमुख 70 वर्षीय रमेश साहू इंदौर-खंडवा रोड पर उमड़ी खेड़ा गांव में ढाबा चलाते थे। इसी ढाबे में मंगलवार देर रात अज्ञात बदमाश ने उनके सीने पर गोली मारकर उनकी जान ले ली। उन्होंने बताया कि हत्या की वजह का अब तक पता नहीं चल सका है। हम मामले की जांच चल रही है।

भदौरिया ने बताया कि साहू इन दिनों शिवसेना में सक्रिय नहीं थे। हत्याकांड को लेकर उनके परिजन और करीबी लोगों से पूछताछ की जा रही है, ताकि वारदात के संबंध में सुराग मिल सके। सियासी जानकारों ने बताया कि साहू 1990 के दशक में शिवसेना के प्रदेश प्रमुख रहे थे और उस वक्त उन्होंने कई आंदोलनों की अगुवाई की थी।

30-05-2020
रावल मल जैन मामले में आरोपी पुत्र को 1 जुलाई तक मिली अंतरिम जमानत                  

दुर्ग। बहुचर्चित रावल मल जैन दंपत्ति हत्याकांड के मुख्य आरोपी संदीप जैन को हाई कोर्ट ने 1 जुलाई तक के लिए अंतरिम जमानत दे दी है। गौरतलब है कि नगपुरा पार्श्व ट्रस्ट के ट्रस्टी रावल मल जैन व उनकी पत्नी सुरजी बाई की 1 जनवरी 2018 को उनके ही पुत्र द्वारा हत्या कर दी गई थी। घटना के 24 घंटे के बाद ही पुलिस ने माता-पिता की हत्या के आरोप में बेटे संदीप जैन को गिरफ्तार किया था। तब से संदीप जैन के खिलाफ जिला सत्र न्यायालय की विशेष अदालत में ट्रायल चल रहा है। ट्रायल के दौरान अभियोजन पक्ष का मुख्य गवाह सौरभ गोलछा प्रतिपरीक्षण में पहले दिए बयान से मुकर गया। इसके कारण गवाह का दोबारा परीक्षण कराए जाने के लिए कोर्ट में आवेदन दाखिल किया गया। इस आवेदन को नामंजूर कर दिया गया। जिस पर अभियोजन पक्ष ने हाईकोर्ट में अपील की इस अपील आवेदन को स्वीकार करते हुए उच्च न्यायालय ने बचाव पक्ष को 3 सप्ताह में जवाब देने निर्देश दिया जिसमें 50 हजार के निजी मुचलके पर जमानत दी गई।

14-05-2020
Video: युवक की हत्या कर फरार हुए आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

रायगढ़। मंगलवार की शाम रायगढ़ शहर से एक सनसनीखेज हत्या की वारदात सामने आई। यहां दो भाइयों ने मिलकर मामूली विवाद पर एक युवक की हत्या कर दी। घटना चक्रधर नगर क्षेत्र के प्राची बिहार की है। घटना की सूचना मिलने पर सीएसपी एवं चक्रधर नगर थाना टीआई अपने स्टाफ के साथ मौके पर मौजूद हैं। इस मामले में प्राप्त जानकारी के अनुसार करीब 8:35 बजे 112 को सूचना मिली कि प्राची बिहार में हत्या हुई है। सूचना पाकर कोतवाली राइनो मौका ए वारदात पर पहुंची। जहां उसे पता चला कि आरोपी में से एक भागने की कोशिश कर रहा है। जिसे आरक्षक रूप साहू और ड्राइवर अज्ञात मल्होत्रा ने पकड़ा। इस मामले में चक्रधर नगर थाना प्रभारी विवेक पाटले से प्राप्त जानकारी के अनुसार आरोपी आशिक़ चौहान और मंगल चौहान दोनों भाई हैं। आज शाम दोनों भाई मृतक कृष्णा सिदार के घर गए थे। जहां विवाद होने पर दोनों ने तैश में आकर मृतक की हत्या कर दी। मृतक की हत्या गला रेतकर की गई है। आरोपी में से एक मंगल चौहान दिव्यांग है।

वह अभी पुलिस की हिरासत में है, जबकि उसका भाई आशीष चौहान फरार हो गया था लेकिन कल शाम 8:30 बजे रायगढ़ शहर के टीवी टावर रोड स्थित प्राची विहार कॉलोनी में हुए हत्याकांड के दूसरे आरोपी को महज 20 घंटे के अंदर ही धर दबोचा गया। बताया जा रहा है कि आरोपी भेलवा टिकरा जाने वाले मार्ग पर सड़क से लगभग 200 मीटर अंदर केलो नदी के किनारे पर छिपा बैठा था आरोपी ने बतलाया की वारदात के बाद से वह डर गया था की मोहल्ले वाले मिलकर कहीं उसकी धुलाई ना कर दे इसलिए वह रात से ही दोपहर तक नदी किनारे छिपा रहा। विवेक ने अपने खबरियों को आरोपी की खोजबीन के लिए अलर्ट कर दिया था। जिस पर मुखबिर ने सूचना दी की हत्यारा नदी किनारे छिपा हुआ है। तब थाना प्रभारी विवेक पाटले अपनी टीम के साथ नदी किनारे पहुंचे और आरोपी को गिरफ्तार कर थाना ले आए।

13-04-2020
13 अप्रैल हो हुआ था जलियांवाला बाग हत्याकांड, भूपेश बघेल ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि

रायपुर। अंग्रेजों से आजादी की लड़ाई में 13 अप्रैल 1919 का दिन कोई भारतीय नहीं भूल सकता। पंजाब के अमृतसर में इस दिन जलियांवाला बाग में अंग्रेजों ने कई मासूम बेगुनाह लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी थी। जलियांवाला बाग को याद कर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सभी शहीदों को श्रद्धांजलि दी है। भूपेश बघेल ने कहा कि जलियांवाला बाग आजादी की लड़ाई का सबसे दर्दनाक मंजर था। उसकी पीड़ा आज भी महसूस होती है। आजादी के लिए अत्याचार के खिलाफ लड़ते लड़ते शहीद हुए लोगों को विनम्र श्रद्धांजलि।

20-03-2020
निर्भया केस : पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को अंत्येष्टि के लिए सौंपे गए चारों दोषियों के शव

नई दिल्ली। निर्भया सामूहिक दुष्कर्म एवं हत्याकांड के चारों दोषियों के शव पोस्टमार्टम के बाद अंत्येष्टि के लिए शुक्रवार को उनके परिजनों को सौंप दिए गए। तिहाड़ जेल अधिकारियों ने यह जानकारी दी। दोषियों के शवों का पोस्टमार्टम यहां दीन दयाल उपाध्याय (डीडीयू) अस्पताल में किया गया। दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 को एक चलती बस में पैरामेडिकल की 23 वर्षीय एक छात्रा के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म एवं उस पर हमले के चारों दोषियों मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) को शुक्रवार सुबह साढ़े पांच बजे तिहाड़ जेल में फांसी दी गई।

जेल अधिकारियों ने बताया कि शवों को आधे घंटे तक फंदे से लटका कर रखा गया, जो जेल नियमावली के मुताबिक फांसी पर चढ़ाने के बाद एक अनिवार्य प्रक्रिया है। तिहाड़ जेल के महानिदेशक संदीप गोयल ने कहा कि शवों की डॉक्टरों द्वारा जांच किए जाने और और चारों को मृत घोषित किए जाने के बाद, उन्हें पोस्टमार्टम के लिए डीडीयू अस्पताल भेजा गया। बाद में उनके शव उनके परिजनों को सौंप दिए गए। जेल के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक अक्षय का शव बिहार के औरंगाबाद स्थित उसके गांव ले जाया जाएगा। उन्होंने बताया कि मुकेश के परिजन उसका शव राजस्थान ले जाएंगे। विनय और पवन के शवों को दक्षिण दिल्ली स्थित रविदास कैम्प में मौजूद उनके घर ले जाया जाएगा। इससे पहले, उनके परिजन पोस्टमार्टम को लेकर आवश्यक कागजी कार्यवाही के डीडीयू अस्पताल पहुंचे थे। अस्पताल और खासतौर पर मुर्दाघर में सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए थे। यह पहला मौका है जब दक्षिण एशिया की सबसे बड़ी जेल में चार दोषियों को फांसी दी गई। इस जेल में करीब 16,000 कैदी रखे गए हैं।

 

26-02-2020
किशनपुर हत्याकांड की सीबीआई से जांच की मांग, परिजनों को पुलिस ले गई थाने, समझाईश के बाद छोड़ा...

महासमुंद। जिले के पिथौरा थाना क्षेत्र के ग्राम किशनपुर में हुए बहुचर्चित हत्या कांड मामले में परिजन सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं। सीबीआई जांच की मांग पर साइकिल रैली निकालकर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने रायपुर जा रहे मृतक के परिजनों को पुलिस ने रास्ते में ही रोक लिया था। पुलिस सभी को पिथौरा थाना लेकर आई थी। महासमुंद एसपी जितेन्द्र शुक्ल खुद पिथौरा थाना पहुंचे और परिजनों को समझाइश देकर वापस घर भेजा। पूरा मामला पिथौरा थाना क्षेत्र के किशनपुर गांव के उप स्वास्थ्य केंद्र में 2018 में 30-31 मई की दरम्यानी रात को हुए हत्याकाड से जुड़ा है।
बताया गया कि उप स्वास्थ्य केंद्र में काम करने वाली महिला कर्मचारी और उसके पति के साथ 2 मासूमों को हत्यारों ने मौत के घाट उतार दिया था। मामले में पुलिस ने अब तक मुख्य आरोपी धर्मेन्द्र बरिहा सहित पांच लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। जो अभी जेल में है और मामला न्यायालय में चल रहा है। लेकिन इस हत्याकांड में और कई लोगों के शामिल होने आशंका परिजनों ने व्यक्त की है। पुलिस की जांच से असंतुष्ट परिजन सीबीआई  जाँच की मांग कर रहे हैं।

इसी बात पर परिजन पिथौरा से सायकल यात्रा कर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने रायपुर जा रहे थे। इन्हें पुलिस ने एनएच-53 पर रास्ते में ही रोक लिया और थाने ले आई। इस दौरान परिजनों ने पुलिस की जबरिया कार्रवाई का विरोध किया लेकिन यात्रा की एसडीएम से अनुमति नहीं होने पर पुलिस सभी को रास्ते से उठाकर थाने ले आई। महासमुंद एसपी खुद थाने पहुंचे और परिजनों से बात की। लम्बी बात के बाद परिजनों को वासप घर भेज दिया गया।

मृतकों के परिजनों ने मिडिया से बातचीत मे कहा कि इस हत्याकांड में और भी आरोपी शामिल हैं। इसमें सीबीआई जाँच की मांग करने रायपुर जा रहे थे, परमिशन नहीं होने की बात करते हुए हमें रोक दिया गया। एसपी ने सीबीआई जाँच की मांग करने का अश्वासन दिया है। वहीं पुलिस अधीक्षक का कहना है कि मामले को लेकर वे लगातार परिजनों से चर्चा करते रहे हैं। रैली की परमिशन नहीं होने के कारण परिजनों को रोका गया है।  वहीं सीबीआई जाँच की मांग के लिए आवेदन लिया गया है। इसे मुख्यमंत्री और राजयपाल को भेज दिया जाएगा। बता दें कि इस जघन्य हत्याकांड मे किशनपुर में पदस्थ स्वास्थ्य कार्यकर्ता योगमाया साहू, उसके पति चेतन साहू और 2 पुत्र तन्मय और कुणाल की निर्मम हत्या कर दी गई थी। इसके बाद पुलिस ने 5 आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। लेकिन परिजन इससे संतुष्ट नहीं हैं। साथ ही और भी आरोपी होने की बात कहते हुए लगातार सीबीआई जाँच की मांग करते आ रहे हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804