GLIBS
13-08-2019
अपमान सहन नहीं हुआ तो इन स्वतंत्रता सेनानी ने छोड़ दिया खाना-पीना

नई दिल्ली। स्वतंत्रता सेनानी 93 वर्षीय डंडू राम ने दिल्ली में सम्मान के नाम पर हुए अपमान के बाद चार दिनों से खाना-पीना छोड़ दिया। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया है कि उन्हें सम्मानित न होने का मलाल नहीं है लेकिन अपमानित किए जाने से वे बेहद आहत हैं। लिहाजा इस मामले की जांच होने तक वह अन्न-जल ग्रहण नहीं करेंगे। डंडू राम ने आरोप लगाया कि 9 अगस्त को राष्ट्रपति की ओर से सम्मानित करने के लिए उन्हें जिला प्रशासन से निमंत्रण पत्र प्राप्त हुआ था लेकिन जब वे दिल्ली पहुंचे तो राष्ट्रपति भवन के अधिकारियों ने सूची में नाम न होने का हवाला देकर सम्मान समारोह में शामिल होने तक से मना कर दिया। स्वतंत्रता सेनानी की बेटी मीरा देवी ने बताया कि इस घटना से उनके पिता बहुत आहत हुए हैं। उन्होंने वहां से घर आने तक के लिए मना कर दिया था। स्वतंत्रता सेनानी डंडू राम ने बताया कि आजादी की लड़ाई के दौरान बाल्यकाल में ही तत्कालीन कहलूर राजा आनंद चंद ने उन्हें बारह वर्ष का देश निकाला दिया था। उस दौरान छह माह कारावास की सजा भी झेली थी। बारह वर्ष तक वह घर नहीं आ सके थे। देश आजाद होने के बाद वर्ष 1948 में वह भारतीय सेना की डोगरा रेजिमेंट में भर्ती हो गए। वर्ष 1962 में चीन, वर्ष 1965 और 1971 में भारत-पाक युद्धों में भी हिस्सा लिया। उत्कृष्ट सेवाओं के प्रति भारतीय सेना व भारत सरकार से भी उन्हें कई मेडल मिल चुके हैं।

 

 

10-08-2019
कांग्रेस सरकार आदिवासी युवाओं के आकांक्षाओं का कर रही अपमान : नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने प्रदेश सरकार के एक मंत्री द्वारा आदिवासी समाज के युवकों को पंचर बनाकर जीवन जीने की सलाह दिये जाने पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि  प्रदेश के एक मंत्री ने आदिवासी समाज के युवकों को पंचर बनाकर अपनी आर्थिक उन्नति करने की जो सलाह दी है, वह एक तो आदिवासी युवकों की आकांक्षाओं का अपमान है। कौशिक ने कहा कि राज्य की पूर्ववर्ती भाजपा सरकार ने आदिवासी समाज के उत्थान अनेक योजनाएँ चलाकर आदिवासी युवकों को पुरुषार्थी और दक्ष बनाकर उन्नति के पथ पर ले जाने का काम किया। भाजपा का स्पष्ट दृष्टिकोण और चिंतन रहा है कि प्रदेश के आदिवासियों को सम्मानपूर्वक विकास की मुख्यधारा से जुड़कर सर्वांगीण विकास के समान अवसर उपलब्ध हो और समाज की युवा शक्ति उच्चतम पदों पर पहुँचकर समाज, प्रदेश व देश की सेवा करे। भाजपा इसके लिए प्रतिबद्ध है। नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने प्रदेश सरकार और कांग्रेस नेताओं से इस बयान के लिए आदिवासी समाज से क्षमायाचना करने की मांग की है।

 

03-06-2019
सह न सकी पति का अपमान, खुद को कर दिया आग के हवाले

 

कन्नौज। उत्तर प्रदेश के कन्नौज में एक महिला ने पुलिस के सामने ही खुद को जिंदा जला लिया। इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। मृत महिला के पति सुखपाल ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है। जानकारी के मुताबिक मामला जिले के सौरिख थाना क्षेत्र स्थित ग्राम रौसेन का है। कहा जा रहा है कि दो भाइयों के बीच जमीनी विवाद हुआ था। तीन दिन पहले भी दोनों पक्षों में झगड़ा हुआ था, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की थी। ऐसे में सोमवार को फिर दोनों पक्षों में झगड़ा हो गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने उल्टी शिकायकर्ता को ही धमकाना शुरू कर दिया। ऐसे में पति की बेइज्जती को देख कर रामादेवी ने पुलिस के सामने ही खुद को आग के हवाले कर दिया। महिला को जिंदा जलता देख पुलिस के हाथ-पैर फूल गए। आनन-फानन में पुलिस ने गाड़ी में रखे फायर सेफ्टी सिस्टम का इस्तेमाल कर आग बुझाई। इसके बाद महिला को अस्पताल में भर्ती करवाया गया। इलाज के दौरान महिला की मौत हो गई। इस मामले में अपर पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार ने बताया कि अभी पीडि़त पक्ष की तरफ से कोई शिकायत नहीं मिली है। अगर पुलिस की लापरवाही की शिकायत मिलेगी तो जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

07-05-2019
राजीव गांधी के अपमान से भड़के 200 शिक्षकों ने पीएम मोदी को लिखा पत्र

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन दिनों पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर  टिप्पणी करके चौतरफा आलोचना का शिकार हो रहे हंै। कांग्रेस के नेताओं, कार्यकर्ताओं या विपक्षी पार्टियों ने तो पीएम मोदी के बयान की आलोचना की ही, अब शिक्षा जगत से जुड़े दिग्गजों ने भी पीएम के बयान पर आपत्ति जताई है। बता दें कि उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में शनिवार को पीएम मोदी ने राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए उनके पिता राजीव गांधी पर भी निशाना साधा था। पीएम मोदी ने कहा था कि आपके पिताजी राजीव गांधी को आपके राजदरबारियों ने मिस्टर क्लीन बना दिया था लेकिन देखते ही देखते  भ्रष्टाचारी नंबर वन के रूप में उनका जीवनकाल समाप्त हो गया। पीएम मोदी के इस बयान पर सोमवार को दिल्ली यूनिवर्सिटी के 200 शिक्षकों ने कड़ी आपत्ति जताई और एक हस्ताक्षर किया हुआ पत्र जारी किया है। इस पत्र को कांग्रेस नेता सैम पित्रौदा ने ट्वीट किया है। पत्र में लिखा गया है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की उपलब्धियों के बारे में हम सब जानते हैं। देश ने काफी तरीकों से इसकी सराहना की है। जब भारत ने कारगिल में आक्रमणकारियों को हराया था तो हमारे सैनिकों ने बोफोर्स के लिए राजीव गांधी की प्रशंसा में नारे लगाए थे।  आगे पत्र में लिखा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र की सेवा में सर्वोच्च बलिदान करने वाले स्वर्गीय राजीवजी के बारे में अपमानजनक और असत्य टिप्पणी करते हुए प्रधानमंत्री के पद की गरिमा को गिराया है। मोदी जैसे कार्यों के माध्यम से किसी भी पूर्व पीएम ने कभी इस स्तर तक कदम नहीं रखा है।  ज्ञात हो कि इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी के बयान पर अपनी बात रखी थी। उन्होंने कहा था कि मोदी जी, लड़ाई खत्म हो चुकी है। आपके कर्म आपका इंतजार कर रहे हैं। खुद के बारे में खुद के भीतर की सोच को मेरे पिता पर थोपना भी आपको नहीं बचा पाएगा।

 

 

26-04-2019
बिहार में लालू के अपमान का मिलेगा करारा जवाब : राहुल गांधी

समस्तीपुर। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने समस्तीपुर में प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा। राहुल गांधी ने कहा कि केंद्र सरकार जिस तरीके से बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार का अपमान कर रही है, उन्हें चोट पहुंचा रही है, उसे बिहार की जनता कभी भूलेगी नहीं। बिहार की जनता इसका जवाब देगी और बखूबी देगी। समस्तीपुर में महागठबंधन की संयुक्त रैली में राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी पर वादों को पूरा नहीं करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी सरकार बनते ही सभी वादे पूरे कर दिए जाएंगे। राहुल ने कहा कि पीएम मोदी ने 15 लाख रुपए देने का वादा किया था, लेकिन एक रुपया नहीं मिला। उन्होंने 2 करोड़ रोजगार का वादा किया लेकिन आज देश में बेरोजगारी सबसे अधिक है। राहुल ने वादा किया कि जैसे ही हमारी सरकार बनेगी हम अपनी 'न्याय' योजना से जादू कर देंगे। हर गरीब परिवार के खाते में हर महीने सीधे 6 हजार रुपए हम भेजेंगे। साल के 72 हजार रुपए आपके खाते में हम जरूर डाल देंगे। भगोड़े उद्योगपतियों का हवाला देते हुए राहुल गांधी ने पीएम मोदी को घेरते हुए कहा कि नीरव मोदी, मेहुल चौकसी, विजय माल्या अरबों लूटकर भाग जाते हैं। वे आराम से विदेश में घूम रहे हैं। चौकीदार को आपकी फिक्र नहीं है। उन्हें सिर्फ उन्हीं अमीर 15 लोगों के लिए काम करना है। यकीन मानिए ये जो भगौड़े उद्योगपति हैं, उनकी जेब से पैसे निकालकर हम आपके बैंक अकाउंट में डालेंगे।

 

22-04-2019
स्मृति ईरानी जूते बांटकर अमेठी की जनता का कर रहीं अपमान : प्रियंका गांधी

रायबरेली। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने अपने दो दिवसीय  रायबरेली के दौरे पर फुर्सतगंज में भारतीय जनता पार्टी प्रत्याशी स्मृति ईरानी पर जमकर वार करते हुए कहा कि ईरानी ने अमेठी के लोगों में जूते बांटकर राहुल गांधी का नहीं, बल्कि यहां की जनता का अपमान किया है। प्रियंका गांधी ने नुक्कड़ सभा में हजारों की संख्या में मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि आपके क्षेत्र में बहुत बाहरी लोग भी आ गए हैं। वे लंबी-लंबी कहानियां बता रहे हैं कि राहुल जी आते नहीं हैं। आप फुर्सतगंज के सामने रहते हैं, आपको मालूम है कि राहुल जी कितना आते हैं और कितना घूमते हैं।  आपको मालूम है किसके दिल में अमेठी है और किसके दिल में नहीं। अजीब बात तो मुझे ये लगती है कि स्मृति ईरानी यहां आईं और यहां जूते बांटे। ये कहने के लिए यहां के लोगों के पास जूते नहीं हैं। यह राहुल का नहीं, अमेठी की जनता का अपमान है। अमेठी की जनता ने कभी किसी से भीख नहीं मांगी है। जो आया है उनके सामने आदर के साथ आया है। जो खड़ा है उनके सामने वो प्यार के साथ खड़ा है। मेरे परिवार के एक-एक सदस्य को पूरा एहसास है कि हमें बनाने वाले आप हैं। हमें नेता बनाने वाले आप हैं। जूते बांटकर जो अपमान कर रहे हैं, उनको सिखाइए कि अमेठी-रायबरेली की जनता भीख नहीं मांगती। प्रियंका गांधी ने कहा कि आज देश की हालत बहुत खऱाब है। मैं जहां-जहां भी जा रही हूं, सभी परेशान हैं। किसान कह रहा है कि वह रात-रातभर जागकर अपने खेतों की सुरक्षा कर रहा है। आवारा पशुओं की वजह से उसकी जिंदगी बर्बाद हो रही है। भदोही में कालीन व्यवसाय चौपट हो गया है।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804