GLIBS
07-02-2020
मनीष सिसोदिया के ओएसडी को रिश्वत लेते सीबीआई ने किया गिरफ्तार

नई दिल्ली। दिल्ली चुनाव के दौरान सीबीआई ने दो लाख रुपए के कथित रिश्वत मामले में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के एक अधिकारी को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किया गया अधिकारी उपमुख्यमंत्री का विशेष कर्तव्य अधिकारी (ओएसडी) बताया जा रहा है। मामले में सीबीआई ने बताया कि गिरफ्तार अधिकारी का नाम गोपाल कृष्ण माधव है, जिसे जीएसटी संबंधित मामले में कथित रूप से दो लाख रुपए रिश्वत लेते देर रात को गिरफ्तार किया गया। इस मामले में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर कहा कि मुझे पता चला है कि सीबीआई ने एक जीएसटी इन्स्पेक्टर को रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। यह अधिकारी मेरे ऑफिस में बतौर ओएसडी भी तैनात था। सीबीआई को उसे तुरंत सख्त से सख्त सजा दिलानी चाहिए। ऐसे कई भ्रष्टाचारी अधिकारी मैंने खुद पिछले 5 साल में पकड़वाए हैं।

04-01-2020
मंत्रिमंडल बना नही और नाराज़गी का खेल शुरू, सावरकर पर भी विवाद जारी

रायपुर। मंत्रिमंडल बना नहीं विभाग बटे नहीं और नाराजगी भी शुरू हो गई है। शिवसेना कांग्रेस और एनसीपी की मिली जुली सरकार में पोर्टफोलियो को लेकर एक मंत्री अब्दुल सत्तार की नाराजगी सामने आ गई है। हालांकि उनके इस्तीफे की भी खबरें सामने आई लेकिन खुद अब्दुल सत्तार ने उससे इनकार कर दिया मगर वे नाराजगी में छुपा नहीं पाए। और उनकी नाराजगी संभवत कल शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे से मिलने के बाद खत्म हो पाए। नाराजगी अगर खत्म होती भी है तो भी यह गठबंधन की सरकार के लिए शुभ संकेत तो नहीं कहा जा सकता। इतनी जल्दी नाराजगी सामने आना कोई बहुत अच्छी बात नहीं माना जा सकता हैं। फिर सावरकर को लेकर भी पार्टियों के बीच खींचतान जारी है। इधर अजित पवार फिर से उपमुख्यमंत्री पद पा गए हैं और साथ ही वित्त विभाग जैसा महत्वपूर्ण पोर्टफोलियो भी। फडणवीस के साथ भी उपमुख्यमंत्री और उद्धव ठाकरे के साथ भी उपमुख्यमंत्री याने कुल मिलाकर उपमुख्यमंत्री रहना बनना ज्यादा जरूरी। सिद्धांत की बात बहुत पीछे हो जाती है। ऐसे में 3 चक्के वाला ऑटो कितनी रफ्तार से और कितनी दूर तक चलेगा इस पर इसलिए भी शक किया जा रहा है क्योंकि तीनों चक्के अलग-अलग दिशा मैं भागने वाले हैं। बहरहाल सत्तार की नाराजगी ने पहले ही कदम पर छींक मार कर अपशकुन कर दिया है।

16-12-2019
जल्द कैबिनेट का विस्तार करेंगे येदियुरप्पा, हो सकते है पांच उपमुख्यमंत्री

नई दिल्ली। कर्नाटक में दो और उपमुख्यमंत्री बनाए जा सकते हैं। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा जल्द कैबिनेट का विस्तार करने वाले हैं। 20 दिसंबर के बाद इसकी घोषणा हो सकती है। कैबिनेट में पहले से ही तीन उपमुख्यमंत्री, गोविंद कार्जोल, सीएन अश्वथनारायण और लक्ष्मण सावादी हैं। हालांकि, सावादी ने इसे मीडिया की अटकलें बताते हुए ऐसी किसी चर्चा से इनकार किया। इसके साथ ही सावादी ने कहा, राज्य और केंद्रीय नेतृत्व जो भी फैसला लेगा उसे हम मानेंगे।

दरअसल, नौ दिसंबर को उपचुनाव के नतीजों में कांग्रेस और जदएस के बागी नेताओं के कारण भाजपा 12 सीटें जीतने में सफल रही थी। इनमें से अधिकतर का मंत्री बनना तय माना जा रहा है। पार्टी के अंदर चल रही चर्चा के अनुसार उपचुनाव में गोकाक से विधायक चुने गए रमेश जर्किहोली डिप्टी सीएम पद के प्रमुख दावेदारों में से एक हैं। इसके अलावा, श्रीरामुलु भी कई बार खुलेआम इस पद की दावेदारी कर चुके हैं।

 

26-11-2019
महाराष्ट्र: अजित पवार ने दिया उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा, देवेंद्र फडणवीस लेगें प्रेस कांफ्रेंस

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बुधवार को फ्लोर टेस्ट के पहले अजित पवार ने डिप्टी सीएम पद से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस ने दोपहर साढ़े तीन बजे मीडिया को संबोधित करेंगे। महाराष्ट्र के विपक्षी दलों की याचिकाओं पर विचार करने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को बुधवार शाम पांच बजे से पहले विधानसभा में अपना बहुमत साबित करने का अंतरिम निर्देश दिया है। शीर्ष अदालत के न्यायमूर्ति एनवी रमना, न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की सदस्यता वाली पीठ ने विपक्षी दलों की याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए कहा कि चूंकि विधायकों ने शपथ ग्रहण नहीं किया है, इसलिए 27 नवंबर को जल्द से जल्द बहुमत परीक्षण हो जाना चाहिए। पीठ ने कहा कि बहुमत परीक्षण बुधवार शाम पांच बजे से पहले हो जाना चाहिए। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि इसके लिए एक प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया जाएगा और बहुमत परीक्षण गुप्त मतदान द्वारा नहीं होगा और सदन की कार्यवाही का लाइव प्रसारण किया जाएगा। कोर्ट ने कहा कि विधायकों का शपथ ग्रहण बुधवार शाम पांच बजे से पहले होना चाहिए। शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने शीर्ष अदालत में आवेदन कर देवेंद्र फडणवीस सरकार को महत्वपूर्ण निर्णय लेने से रोकने का आग्रह किया।

26-08-2019
कर्नाटक: सीएम येदियुरप्पा के मंत्रिमंडल में 3 उपमुख्यमंत्री, 17 मंत्रियों को बांटे विभाग

नई दिल्ली। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने सोमवार को मंत्रियों के विभागों का बंटवारा कर दिया। राज्य में तीन उपमुख्यमंत्री बनाए गए हैं। दरअसल पार्टी में उठ रहे विरोध के स्वर को देखते हुए येदियुरप्पा ने ये फैसला लिया है। येदियुरप्पा ने 26 जुलाई को ही मुख्यमंत्री पद की कमान संभाली थी लेकिन उन्होंने तब कैबिनेट विस्तार नहीं किया था। करीब 25 दिनों बाद 20 अगस्त को 17 मंत्रियों को शपथ दिलाई गई थी। उपमुख्यमंत्री बनाए जाने वालों में गोविंद करजोल, अश्वथ नारायण और लक्ष्मण सावदी शामिल हैं। करजोल को उपमुख्यमंत्री पद के साथ-साथ पीडब्ल्यूडी और सोशल वेलफेयर विभाग दिया गया है। वहीं नारायण को उच्च शिक्षा विभाग के साथ आईटी और सावदी को परिवहन विभाग दिया गया है। दिलचस्प है कि सावदी न तो विधानसभा के और न ही विधान परिषद के सदस्य हैं। 20 अगस्त को जब सावदी को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया था तो कई भाजपा विधायकों ने इसपर आपत्ति जताई थी। बता दें कि कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस की सरकार गिरने के बाद भाजपा ने येदियुरप्पा के नेतृत्व में सरकार बनाई। लेकिन कैबिनेट का बंटवारा नहीं किया था। इसको लेकर कांग्रेस येदियुरप्पा पर निशाना साध रही थी।

 

06-09-2018
सृजन घोटाला: बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी की बहन के दफ्तर में IT की रेड

बिहार। करोड़ों रुपए के सृजन घोटाले मामले में आज गुरुवार को उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी की बहन रेखा मोदी के दफ्तर पर IT विभाग ने छापेमारी की है। इनकम टैक्स के साथ बिहार पुलिस की टीम भी मौजूद है। राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने लगातार सुशील मोदी पर इस घोटाले में सम्मिलित होने का आरोप लगाए थे। इस साल जून में ही तेजस्वी यादव ने ट्विटर पर कुछ कागजात शेयर करते हुए बड़े आरोप लगाए थे। तेजस्वी ने आरोप लगाते हुए दावा किया था कि सृजन घोटाले में सुशील मोदी के रिश्तेदारों की सहभागिता है। तेजस्वी ने ट्विटर के जरिए कुछ दस्तावेजों के प्रति भी पोस्ट की है। इन दस्तावेजों में सृजन घोटाले में प्रयोग किए गए बैंक अकाउंट के डिटेल दिए गए हैं।

आपको बता दें कि सृजन महिला आयोग नाम की संस्था ने बैंक और ट्रेजरी अधिकारियों के साथ मिलकर करोड़ों रुपए के गबन को अंजाम दिया। बैंक अधिकारी सरकारी फंड को गुपचुप तरीके से सृजन के खाते में डाल देते थे। संस्था ने पैसे को रियल एस्टेट जैसे धंधों में लगाकर करोड़ों रुपये के वारे-न्यारे किए। बिहार सरकार ने मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश की है। तेजस्वी के अलावा पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने इस मसले की निष्पक्ष जांच के लिए नीतीश सरकार से इस्तीफा मांगा था। उनका कहना था कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के इस्तीफे के बिना सृजन घोटोले की निष्पक्ष जांच नहीं हो सकती। उन्होंने सृजन घोटाले को देश का सबसे बड़ा घोटाला बताते हुए आरोप लगाया कि नीतीश और सुशील मोदी सृजन घोटले में संलिप्त हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804