GLIBS
15-04-2019
Rahul Gandhi:

नई दिल्ली। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी दिल्ली में आम आदमी पार्टी को चार सीटें देकर अरविंद केजरीवाल से गठबंधन करने के इच्छुक हैं।   गठबंधन को लेकर दोनों पार्टियों के बीच हां-ना, हां-ना के बीच राहुल गांधी ने 'आप' के सामने यह खुला प्रस्ताव रखा है। हालांकि राहुल गांधी ने केजरीवाल पर यू-टर्न लेने का भी आरोप लगाया है। इसके जवाब में केजरीवाल ने भी राहुल गांधी पर भाजपा को मदद करने का आरोप लगाया है। बता दें कि अरविंद केजरीवाल ने कल ही यह बयान दिया था कि मोदी और शाह को रोकने के लिए हर कुर्बानी के लिए तैयार हैं। इसी बयान के आधार पर राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा है कि गठबंधन के लिए दरवाजे अभी भी खुले हुए हैं। गांधी ने ट्वीट किया कि दिल्ली में कांग्रेस और  'आप'के बीच गठबंधन का मतलब है बीजेपी की जबरदस्त हार। कांग्रेस इसे सुनिश्चित करने के लिए दिल्ली में 'आप' को 4 सीट देना चाह रही है। लेकिन केजरीवाल ने एक और यू-टर्न लिया। हमारे दरवाजे अभी भी खुले हैं, लेकिन समय बीता जा रहा है। गौरतलब हो कि 'आप' गठबंधन के लिए कांग्रेस से पंजाब और हरियाणा में भी कुछ सीटें मांग रही है, लेकिन बात नहीं बन पाई।  राहुल गांधी ने इसीलिए कहा कि दोनों दलों में सीट शेयरिंग पर संभवत: सहमति हो गई थी लेकिन अरविंद केजरीवाल ने बाद में 'यू-टर्न' ले लिया। इस आरोप का जवाब देते हुए अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट कर कहा है कि गठबंधन की राहुल की इच्छा महज दिखावा है। ज्ञात हो कि दिल्ली में छठे चरण में 12 मई को मतदान होगा। इसके लिए 16 अप्रैल से नामांकन पत्र भरने का दौर शुरू हो जाएगा। 23 अप्रैल नामांकन की आखिरी तारीख है। 'आप' और कांग्रेस के बीच गठबंधन की संभावनाओं को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी ने भी दिल्ली में अपने प्रत्याशियों के नामों की घोषणा नहीं की है। 

06-09-2018
Land Scam : ‘आप’ ने की पूर्व कलेक्टर ओपी चौधरी पर कार्रवाई की मांग, लोकायुक्त को सौंपा ज्ञापन

रायपुर। दंतेवाड़ा में जमीन अदली-बदली मामले में तत्कालीन कलेक्टर ओपी चौधरी के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए आम आदमी पार्टी के प्रदेश संयोजक संकेत ठाकुर ने अपने कार्यकर्ताओं के साथ छत्तीसगढ़ लोक आयोग पहुंचकर लोकायुक्त को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन लेने के बाद इस मामले में लोकायुक्त ने कार्रवाई करने की बात पर आश्वासन दिया है।

बता दें कि आप पार्टी के प्रदेश संयोजक संकेत ठाकुर और उचित शर्मा ने अपने कार्यकर्ताओं के साथ आज छत्तीसगढ़ लोक आयोग पहुंचकर तत्कालीन कलेक्टर ओपी चौधरी के खिलाफ लोकायुक्त को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने बताया कि वर्ष 2010 में एक किसान बैजनाथ से 4 लोगों ने मिलकर 3.67 एकड़ कृषि भूमि की खरीदी थी, जिसमें मोहम्मद साहिल हमीद, कैलाश गुप्त मिश्र और मुकेश शर्मा और प्रशांत अग्रवाल शामिल है। वर्ष 2011 में ओपी चौधरी दंतेवाड़ा के कलेक्टर बन कर आए तो इन चारों ने कलेक्टर ओपी चौधरी से आग्रह किया कि उनकी निजी भूति जमीन को सरकार जिला पंचायत परिसर में विकास भवन बनाने के नाम पर ले लें। मार्च 2013 में निरीक्षक तहसीलदार पटवारी और एसडीएम ने मिलकर सिर्फ 15 दिन के भीतर ही इन चारों की निजी जमीन के बदले में सरकारी भूमि देने की प्रक्रिया पूरी कर डाली। मात्र एक दिन के भीतर ही जमीन बेचने की परमिशन और नामांरण संबंधी प्रक्रिया पूरी कर ली गई। जिस जमीन को बैजनाथ से इन लोगों ने मात्र 10 लाख रुपए में खरीदा था उसे ये लोग 25 लाख रुपए में बेचने में सफल हो गए और उसके बदले में दंतेवाड़ा के बस स्टैण्ड के पास व्यवसायिक भूमि के साथ 2 अन्य स्थानों पर जमीन मालिकाना हक पाने में सफल रहे।

उन्होंने कहा कि निजी भूमि को महंगे दर पर और सरकारी महंगी जमीन को सस्ती बताकर कूटरचना की गई। जिसके फलस्वरूप 5.67 एकड़ सरकारी कीमती भूमि हथियां ली गई। उन्होंने बताया कि कलेक्टर के रिजाईन के बाद अब धारा 197 दंड प्रक्रिया सहिता के तहत सरकार से कोई अनुमति की कोई जरूरत नहीं है इसलिए सीधे तरीके से बिना अनुमति के ही भ्रष्टाचार का प्रकरण दर्ज करा सकते है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हाईकोर्ट ने आदेश 15 सितंबर 2016 को पारित किया है एवं इंक्वायरी के साफ आदेश दिए है निश्चित रूप से इन्क्वारी करने के लिए अधिकारियों को निलंबित कर दिया जाना चाहिए था और ऐसा प्रतीत होता है अभी तक इन्क्वायरी चालू भी नहीं की गई है। यह न्यायालय के आदेश की अवमानना है जिसके लिए सरकार जिम्मेदार है।

उक्त पूरे प्रकरण में अपराधिक साजिक कर भू माफिया को लाभ पहुंचाने एवं शासन को हानि पहुंचाने की मंशा साफ जाहिर होती है। अत: हम यह मांग करते है कि प्रकरण में मुख्य भूमिका निभाने वाले तत्कालीन कलेक्टर ओपी चौधरी एवं अन्य सभी संबद्ध लोगों पर अपराधिक प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच की जाए और दोषियों पर कार्रवाई की जाए।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804