GLIBS
18-09-2019
रेलवे कर्मचारियों के लिए बोनस के ऐलान के साथ ई-सिगरेट पर लगा बैन

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने बुधवार को कैबिनेट बैठक में 2 अहम फैसले लिए। सरकार ने रेलवे कर्मचारियों के लिए बोनस का ऐलान किया है तो दूसरी तरफ ई-सिगरेट को पूरी तरह से बैन कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में इन दोनों फैसलों पर मुहर लगाई गई। केंद्र सरकार ने त्योहारों से पहले रेलवे कर्मचारियों के लिए बोनस का ऐलान किया है। बुधवार को कैबिनेट बैठक में रेलवे कर्मचारियों को 78 दिन के वेतन के बराबर बोनस का ऐलान किया गया। 11 लाख से ज्यादा कर्मचारियों को इसका फायदा मिलेगा। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि पहली बार लगातार छठे वर्ष रेलवे कर्मचारियों को बोनस दिया जा रहा है। बोनस देने में सरकारी खजाने पर 2024 करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा। प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि सरकार ने ई-सिगरेट को बैन कर दिया है। उन्होंने बताया कि ई-सिगरेट के उपयोग, उत्पादन, बिक्री, भंडारण को पूरी तरह बैन कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि स्कूली बच्चों में भी इसका चलन तेजी से बढ़ रहा था। सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से जब पूछा गया कि सरकार ई-सिगरेट से ज्यादा नुकसानदेह सिगरेट पर भी बैन क्यों नहीं लगा रही है, तो उन्होंने कहा कि अभी इसकी लत नई है, इसलिए सरकार ने इसे शुरुआत में ही रोकने का फैसला किया है। सरकार ने साफ किया है कि ई-हुक्का पर भी बैन लगा है। पहला गुनाह करने पर आरोपी को 1 साल की सजा या एक लाख का जुर्माना या दोनों हो सकती है लेकिन अगर बार-बार गुनाह करता है तो दूसरी बार पकड़े जाने पर 5 लाख तक जुर्माना या 3 साल की कैद या दोनों हो सकती है। ई-सिगरेट बैटरी से चलने वाले ऐसी डिवाइस हैं जिनमें लिक्विड भरा रहता है। यह निकोटीन और दूसरे हानिकारक केमिकल्‍स का घोल होता है। जब आप कश खींचते हैं तो हीटिंग डिवाइस इसे गर्म करके भाप में बदल देती है। इसीलिए स्‍मोकिंग की तर्ज पर वेपिंग कहते हैं।

 

14-08-2019
एआईसीडब्ल्यूए ने किया गायक मीका सिंह को बैन, जानिए क्या कहा राखी सावंत ने... 

मुंबई। पंजाबी सिंगर मीका सिंह पर पाकिस्तान में परफॉर्म करना भारी पड़ गया है। मीका सिंह के पाकिस्तान में गाना गाने के वीडियो सामने आने के बाद उनकी भारत में काफी आलोचना हो रही है, अब ऑल इंडिया सिने वर्कर्स एसोसिएशन (एआईसीडब्ल्यूए) ने उनपर बैन लगा दिया है।  सूत्रों के मुताबिक ऑल इंडियन सिने वर्कर्स एसोसिएशन ने गायक मीका सिंह को पाकिस्तान के कराची में एक कार्यक्रम में परफॉर्म करने पर भारतीय फिल्म उद्योग से प्रतिबंधित कर दिया है। बता दें कि कार्यक्रम पाकिस्तान में पूर्व पाकिस्तानी राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के करीबी रिश्तेदार द्वारा आयोजित किया गया था। एआईसीडब्ल्यूए के चेयरमैन सुरेश श्यामलाल गुप्ता के एक पत्र में बताया है, कि एआईसीडब्ल्यूए ने 8 अगस्त को कराची में एक हाई प्रोफाइल कार्यक्रम में परफॉर्म करने के लिए भारतीय फिल्म उद्योग से गायक मीका सिंह का बहिष्कार किया है। पत्र में यह भी बताया गया है कि, फिल्म प्रोडक्शन हाउस, म्यूजिक कंपनियों और ऑनलाइन म्यूजिक कंटेंट प्रोवाइडर्स के साथ उनके सभी जुड़ाव का बहिष्कार करते हुए एआईसीडब्ल्यू तुरंत सख्त रुख अपनाता है। एआईसीडब्ल्यूए के कार्यकर्ता यह सुनिश्चित करेंगे कि भारत में कोई भी मीका सिंह के साथ काम नहीं करे और यदि कोई करता है, तो उन्हें अदालत में कानूनी परिणाम का सामना करना पड़ेगा। एसोसिएशन ने यह भी बताया कि, “जब देशों के बीच तनाव चरम पर होता है, तो मीका सिंह देश के गौरव को ताक पर रखकर पैसे को ज्यादा महत्व देते हैं।” एसोसिएशन ने इस मामले में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के हस्तक्षेप की भी मांग की।

एक्ट्रेस राखी सावंत ने ​की निंदा

इसी बीच एक्ट्रेस राखी सावंत का एक बयान भी सामने आया है। एक वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में राखी ने कहा कि मीका सिंह को देश में नाम, शोहरत और दौलत सब मिल रही है फिर वो पाकिस्तान में गाने क्यों गए, उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था। राखी ने इंटरव्यू में कहा कि, मीका सिंह ने देश का नाम डुबो दिया है। राखी ने कहा कि जब पाकिस्तान में हमारी फिल्में बैन हैं और वहां के आर्टिस्ट हमारी इंडस्ट्री में बैन हैं तो मीका को वहां जाना ही नहीं चाहिए था। चंद पैसों के लिए अपना इमान से नहीं बेचना चाहिए।  

16-04-2019
Supreme Court : सुप्रीमकोर्ट ने की मायावती की याचिका खारिज, बैन के खिलाफ जल्द सुनवाई से किया इनकार

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती की दायर याचि​का को खारिज कर दिया है। सर्वोच्च अदालत ने मंगलवार याचिका पर जल्द सुनवाई करने से इनकार कर दिया, जिसमें उन्होंने चुनाव आयोग के प्रचार पर रोक लगाने के फैसले को चुनौती दी थी। इस मामले को ऐडवोकेट दुष्यंत दवे ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष उठाया था, लेकिन अदालत ने मायावती को फौरी तौर पर राहत देने से इनकार कर दिया। मायावती के चुनाव प्रचार करने पर आयोग ने 48 घंटे की रोक लगाई हुई है।
चुनाव आयोग ने अलग-अलग आदेश जारी कर कहा था कि दोनों को चुनाव प्रचार करने से ‘रोका गया है।’ मायावती ने देवबंद में मुस्लिमों से अपील की थी कि एक पार्टी विशेष को वोट नहीं दें। इसे लेकर उन्हें नोटिस जारी किया गया था। चुनाव आयोग ने कहा कि बसपा प्रमुख ने प्रथमदृष्ट्या आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया है।
आदित्यनाथ ने मेरठ में एक रैली को संबोधित करते हुए ‘अली’ और ‘‘बजरंग बली’ की टिप्पणी की थी जिसपर उन्हें नोटिस जारी किया गया था। 

08-04-2019
जानिए किस ऐप पर बैन का मामला पहुंचा सुप्रीमकोर्ट

नई दिल्ली। टिक-टॉक ऐप पर बैन के मद्रास हाईकोर्ट की मदुरै बेंच के आदेश के खिलाफ ऐप निर्माता कंपनी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है।

साेमवार को याचिकाकर्ता की ओर से वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट से जल्द सुनवाई की मांग की तो कोर्ट ने इनकार कर दिया। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि सुनवाई नियमित प्रक्रिया के तहत होगी। अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि इस ऐप को एक बिलियन बार डाउनलोड किया जा चुका है, लेकिन हाईकोर्ट ने इसे एक वकील की याचिका पर इसकी डाउनलोडिंग पर बैन लगा दिया।

हाईकोर्ट ने हमें अपनी बात रखने का मौका भी नहीं दिया। ऐप बनाने वाली कंपनी ने मद्रास हाईकोर्ट के आदेश पर रोक की मांग की है। मद्रास हाईकोर्ट ने सरकार को निर्देश दिया था कि ऐप की डाउनलोडिंग पर रोक लगे। मीडिया से भी कहा था कि इस ऐप से बने वीडियो का प्रसारण न करे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804