GLIBS
09-04-2021
भूपेश बघेल आज मिलेंगे नक्सल चंगुल से मुक्त हुए जवान राकेश्वर सिंह से 

रायपुर। तर्रेम में हुए मुठभेड़ के बाद नक्सलियों ने जवान राकेश्वर सिंह का अपहरण कर लिया था। गुरुवार को नक्सलियों ने बंधक जवान को रिहा किया है। जवान शुक्रवार को बीजापुर से रायपुर पहुंचेगा। वहीं सीएम बघेल आज जवान की रिहाई कराने वाले समाजसेवियों से मिलेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सबके साथ मिलकर चर्चा करूंगा। बता दें कि​ जवान राकेश्वर की पत्नी और बेटी ने भी नक्सलियों से उन्हें सुरक्षित छोड़ने की अपील की थी। उन्होंने अपील की थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस तरह पाकिस्तान से अभिनंदन को छुड़ाया था, उसी तरह उनके पति को भी नक्सलियों के कब्जे से छुड़ाकर लाएं।

07-04-2021
नक्सल गश्त सर्चिंग के दौरान डीआरजी टीम ने माओवादियों के डम्प किये गये आईईडी की बरामद 

नारायणपुर। सुरक्षा बलों की ओर से नक्सल विरोधी अभियान चलाया जा रहा है। इसी तारतम्य में नारायणपुर से डीआरजी ने बुधवार को ताड़ोकी से मुरनार की ओर एरिया डाॅमिनेशन कर रही थी। ग्राम धौसा एवं मुरनार के मध्य पहाड़ी में सर्चिंग के दौरान पुलिस पार्टी को नक्सलियों के डम्प किए गए 2 टीफिन बम (करीबन 05-05 किग्रा), बैनर, वायर करीबन 15 मीटर व 1 बैटरी बरामद की। सुरक्षाबलों को नक्सलियों के मंसूबे को विफल करने में सफलता मिली है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

23-02-2021
नक्सल पीड़ित परिवार को बस किराए में मिलेगी 50 प्रतिशत की छूट

रायपुर/दंतेवाड़ा। जिले के नक्सल पीडि़त परिवारों तथा आत्मसमर्पित नक्सलियों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने के उद्देश्य से पर्याप्त सुरक्षा एवं पुनर्वास से संबंधित कार्य योजना को कार्यान्वित करने एवं समीक्षा करने के लिए पुनर्वास समिति की बैठक हुई। इसमें छत्तीसगढ़ में निवासरत नक्सल पीडि़त परिवार को प्रदेश के अंदर संचालित बसों को यात्री किराये में 50 प्रतिशत छूट की पात्रता होगी। नक्सल हिंसा में मृतकों में टिकनपाल के शामसिंह ताती, मडक़ामीरास के भीमे मरकाम, काड़े मंडावी को 5-5 लाख रूपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई। पुनर्वास समिति की बैठक में नक्सली हिंसा से मृत व्यक्ति के बच्चों को 25 वर्ष की उम्र तक उनकी शिक्षा एवं पुनर्वास के लिए 14 बच्चों को वित्तीय सहायता दी गई।

नक्सली हिंसा में मृत व्यक्ति के परिवार को पुनर्वास कार्य योजना के तहत आवश्यक सुविधा दिए जाने पर चर्चा की गई। डीईओ राजेश कर्मा, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास आशीष बैनर्जी  को निर्देश दिया गया। पीडि़त परिवार में ऐसे कम उम्र के बच्चे, जो 18 वर्ष से कम के हो और अध्ययनरत हो उन्हें समीप के आश्रम में रहने की सुविधा एवं छात्रवृत्ति ठीक उसी प्रकार उपलब्ध करायी जाएगी, जैसे अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के बच्चों को उपलब्ध करायी जाती है। जिपं सीईओ अश्वनी देवांगन को निर्देश दिए गए। ग्रामीण विकास विभाग की आवास एवं स्वरोजगार संबंधी विभिन्न प्रचलित योजनाओं के अन्तर्गत पात्रता प्राथमिकता देते हुए सहायता दी जाए। इस दौरान दंतेवाड़ा कलेक्टर दीपक सोनी एवं एसपी अभिषेक पल्लव व अन्य अधिकारी मौजूद थे।

 

17-01-2021
पुलिस अधीक्षक पहुंचे धुर नक्सल प्रभावित परदोनी,पीड़ित परिजनों से की मुलाकात

राजनांदगांव। थाना मानपुर क्षेत्रांतर्गत ग्राम परदोनी में 13 जनवरी को पूर्व सरपंच मैनूराम सलामे की हत्या नक्सलियों द्वारा की गई थी। घटना स्थल निरीक्षण एवं पीड़ित परिवार से मुलाकत करने के लिए रविवार को पुलिस अधीक्षक राजनांदगांव  डी.श्रवण द्वारा ग्राम परदोनी जाकर पीड़ित परिवार के सदस्यों से मुलाकात कर संवेदना व्यक्त की गई। साथ ही उन्हें शासन द्वारा पुनर्वास योजना के तहत मिलने वाले लाभ दिलाये जाने का आश्वासन भी पुलिस अधीक्षक ने दिया। उनके साथ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जयप्रकाश बढ़ाई, नगर पुलिस अधीक्षक मणिशंकर चंद्रा, अनुविभागीय अधिकारी मानपुर रुचि वर्मा एवं अन्य मानपुर थाना प्रभारी उपस्थित रहे। पुलिस अधीक्षक ने डीआरजी के अधिकारियों व कर्मचारियों से भी चर्चा की और समस्याओं की जानकारी ली। अपने भृमण के दौरान पुलिस अधीक्षक ने मदनवाड़ा में निर्मित शहीद स्व.वीके चौबे स्मृति साइबर कैफे का भी निरीक्षण किया।र नक्सली गतिविधियों पर अधिकारियों से चर्चा की।

 

08-01-2021
नक्सल क्षेत्र दन्तेवाड़ा के तीन छात्रों का डॉक्टर बनने का सपना पूरा होगा भूपेश सरकार की पहल से, सीएम हो तो ऐसा

रायपुर।  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की संवेदनशील पहल से प्रदेश के सुदूर अंचल दंतेवाड़ा के तीन प्रतिभावान विद्यार्थियों का डॉक्टर बनने का सपना अब साकार हो सकेगा। पीईटी तथा पीएमटी की कोचिंगके लिए संचालित बालक आवासीय विद्यालय बालूद एवं कन्या आवासीय विद्यालय कारली, दन्तेवाड़ा के इन तीनों छात्र-छात्राओं को जयपुर केे निजी मेडिकल कॉलेज जेएनयू इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस एण्ड रिचर्स सेंटर में सरकारी खर्चे पर प्रवेश दिलाया गया है। इन तीनों छात्र-छात्राओं के प्रवेश के लिए एक करोड़ 36 लाख 74 हजार रूपए फीस जिला प्रशासन दंतेवाड़ा द्वारा जमा करा दी गई है। छत्तीसगढ़ राज्य के इतिहास में यह पहली बार है कि कोई सरकार सुदूर अंचलों के छात्र-छात्राओं को निजी कॉलेज में सरकारी खर्चे पर डठठै की पढ़ाई पूरी कराने जा रही है। ज्ञातव्य है कि जिला प्रशासन द्वारा पीईटी तथा पीएमटी की कोचिंग के लिए संचालित बालक आवासीय विद्यालय बालूद एवं कन्या आवासीय विद्यालय कारली, दन्तेवाड़ा से छम्म्ज् 2020 क्वालिफाई कर चुके इन छात्र-छात्राओं का तकनीकी त्रुटि के कारण एमबीबीएस कोर्स के लिए स्टेट काउंसिलिंग में रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाने के कारण ये छात्र-छात्राएं मेडिकल कॉलेज में प्रवेश लेने से वंचित रह गये थे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के संज्ञान में जैसे ही यह जानकारी आई, तो उन्होंने संवेदनशील पहल करते हुए छात्र-छात्राओं को निजी मेडिकल कॉलेजों में सरकारी खर्चे पर प्रवेश दिलाने के निर्देश जिला प्रशासन दंतेवाड़ा को दिए। मुख्यमंत्री के निर्देश के परिपालन में जिला प्रशासन द्वारा कार्यवाही करते हुए तीन विद्यार्थियों सुधीर कुमार रजक, जयंत कुमार और कुमारी ऐश्वर्या नाग को निजी कॉलेजों में प्रवेश दिलाने की कार्यवाही सुनिश्चित की गयी। इन तीनों छात्र-छात्राओं के निजी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस कोर्स की फीस 3 करोड़ 32 लाख 25 हजार रूपए में से कुल 1 करोड़ 36 लाख 74 हजार रुपए की राशि जमा करा दी गई है।

24-12-2020
धरने पर बैठे ग्रामीणों का हालचाल जानने आधी रात पहुंचे कलेक्टर, की ठंड से बचने की व्यवस्था  

पखांजूर। जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्र कोयलीबेड़ा में बीएसएफ कैंप खोले जाने का विरोध अब थमने का नाम नही ले रहा है। 103 गांवों के हजारों ग्रामीणों ने पखांजूर मुख्यालय में बुधवार से अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए हैं। कांकेर कलेक्टर चंदन कुमार और एसडीएम पखांजूर, तहसीलदार पखांजूर, बीएमओ कोयलीबेड़ा की मेडिकल टीम सहित पूरा अमला आधी रात ग्रामीणों का हालचाल जानने पहुंची। अमले ने जगह-जगह आग जलाने की व्यवस्था करवाई। ग्रामीणों के स्वास्थ्य का भी चेकअप करवाया और दवाइयां दी गई। बीएसएफ कैंप हटाए जाने के विरोध में जुटे प्रदर्शनकारियों को स्वस्थ और ठंड से बचने के लिए प्रशासन की पूरी टीम पूरी प्रयास कर रही हैं। ताकि प्रदर्शनकारियों को कोई तकलीफ ना हो। विरोध प्रदर्शन कर रहे ग्रामीण कलेक्टर की इस संवेदनशील पहल की प्रसंशा कर रहे हैं।

पीयूष मंडल की रिपोर्ट

 

19-11-2020
विभिन्न समस्याओं को लेकर 68 गांव के आदिवासियों ने निकाली रैली, सौंपा ज्ञापन

कांकेर। जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्र कोयलीबेड़ा में गुरुवार को आदिवासियों ने किसानों से सम्बन्धित मूलभूत सुविधाएं व धान खरीदी के संबंध में रैली निकाल अपने पारम्परिक गीतों में नाच गाना गाकर कोयलीबेड़ा ब्लॉक मुख्यालय में सभा व रैली प्रदर्शन किया। इसमें क्षेत्र के 68 गाँव के करीब 1000 की संख्या में ग्रामीण किसान शामिल हुए और अपनी समस्याओं को लेकर तहसीलदार को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। किसानों की मुख्य मांग है कि कोयलीबेड़ा में सहकारी बैंक खोल जाए,जिससे किसानों को दूरी तय कर अन्तागढ़ जाना न पड़े एवं पिछले बार धान बेचने से वंचित लगभग 350 किसानों का कर्ज माफ किया जाये।

 

13-11-2020
नक्सल मोर्चे पर तैनात जवानों को छत्तीसगढ़ वॉरियर प्रशस्ति पत्र से नवाजा जाएगा, रूबरू हुए डीजीपी

 रायपुर। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने गुरुवार को अभिनव पहल की। उन्होंने बस्तर के सभी जिलों में स्थित कैम्पों में पदस्थ जवानों से वर्चुअल माध्यम बात की। उन्होंने कहा कि नक्सल मोर्चे पर तैनात असाधारण कार्य के लिए जवानों को पुलिस मुख्यालय की तरफ से छत्तीसगढ़ वॉरियर के प्रशस्ति पत्र से नवाजा जाएगा। डीजीपी ने कहा कि जवानों की वीरता और साहस का कोई मोल नहीं है। नक्सल मोर्चे पर तैनात जवानों को उल्लेखनीय कार्यों के लिए आउट ऑफ टर्न प्रमोशन एवं अन्य सम्मान मिल जाते हैं, लेकिन कई ऐसे जवान हैं जिन्हें यह सम्मान नहीं मिल पाता है। ऐसे में पुलिस मुख्यालय की ओर से असाधारण वीरता का प्रदर्शन करने वाले जवानों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया जाएगा। पुलिस के जवान हर दिन , हर पल लड़ाई लड़ते हैं। सभी दिवाली के त्यौहार पर अपने परिवार से दूर नक्सल मोर्चे पर मुस्तैदी से तैनात हैं। उन्होंने कहा कि दीपावली के बाद मैं प्रत्येक कैम्प में आकर सभी से मुलाकात करूंगा और हर समस्या का तत्काल हल किया जाएगा।

यह पहला अवसर है जब डीजीपी से अपनी बात सुदूर वनांचल स्थित नक्सल प्रभावित इलाकों से जुड़े करीब एक हजार जवानों ने अपनी बात रखी। दिवाली से पहले अपने मुखिया से रूबरू होकर और समस्याओं का तत्काल निराकरण होने पर जवानों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिला। वर्चुअली मुलाकात में सुकमा के फुलबागड़ी कैंप, दंतेवाड़ा के पालनार कैंप, पुलिस लाइन, बीजापुर के गुदमा कैंप, बस्तर के तिरिया कैंप, बास्तानार कैंप, कोंडागांव के मर्दापाल कैंप, कांकेर के अरगूर कैंप, नारायणपुर के एसपी ऑफिस और राजनांदगाव के मानपुर थाना, गातापार थाना से जवानों ने अपनी बात रखी। इस दौरान डीजीपी अवस्थी ने नक्सल प्रभावित इलाकों में तैनात जवानों के त्याग और कर्तव्यनिष्ठा को सलाम किया। उन्होंने कहा कि नक्सल मोर्चे पर महिला कमांडो भी उल्लेखनीय कार्य कर रही हैं। डीजीपी के समक्ष जवानों ने आवास, स्थानान्तरण, अग्रिम राशि और अन्य मांगे रखीं, जिनका तत्काल निराकरण किया गया।

19-10-2020
कलेक्टर ने कहा, नक्सल पीड़ित परिवारों के पुनर्वास के लिए आवश्यक कदम उठाएं

बीजापुर। कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल ने जिले के नक्सल पीड़ित परिवारों को आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराने एवं शासन की योजनाओं का शतप्रतिशत लाभ पहुंचाने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए है। उन्होंने प्रकरणों पर कार्यवाही सुनिश्चित करने को कहा है। विदित हो कि जिले में नक्सल पीड़ित परिवारों की विभिन्न मांगों के आवेदन पत्र जिला कार्यालय में लंबित हैं उन प्रकरणों पर समीक्षा की गई। इसमें भूमि, आवास, नौकरी सहित अन्य मांग जिला प्रशासन से किया गया है, जिस पर विचार विमर्श कर उनका काउंसिलिंग कर आवश्यकतानुसार उनके मांगों पर विचार करते हुए शासन की योजनाओं का लाभ प्रदान किया जाएगा। नक्सल पीड़ित परिवारों की सूची एवं अन्य जानकारी के साथ विभिन्न विभाग के अधिकारी उपस्थित हुए। इसमें आदिम जाति,शिक्षा,स्वास्थ्य प्रमुख हैं। बैठक में अपर कलेक्टर ओपी सिंह,एसडीएम,डिप्टी कलेक्टर्स उपस्थित थे।

 

17-10-2020
नक्सल प्रभावित क्षेत्र के बच्चों ने नीट में मारी बाजी,कलेक्टर ने दी शुभकामनाएं

बीजापुर। जिले के धुर नक्सली प्रभावित इलाके के सामान्य कृषक परिवारों के 5 बच्चों ने देश की सर्वोच्च मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट को क्वालीफाई कर अपनी मेहनत और लगन को साबित कर दिया है। वहीं ये सभी बच्चे साधनों की कमी और दूरस्थ इलाके से होने के वाबजूद इस सर्वोच्च मेडिकल प्रवेश परीक्षा में सफलता हासिल कर अन्य बच्चों के लिए प्रेरणास्त्रोत बन गये हैं। जिला प्रशासन बीजापुर द्वारा खनिज न्यास निधि से संचालित ’छूलो आसमान’ संस्था बीजापुर में अध्ययनरत् अजय कलमूम, सुरेश मड़कम, सीमा भगत, शुनू झाड़ी और हरीश एगड़े ने अपनी मेहनत और अथक लगन के बलबूते नीट प्रवेश परीक्षा में सफलता हासिल किए है। कलेक्टर रितेश कुमार अग्रवाल जिले के सूदूर ग्रामीण क्षेत्रों के इन बच्चों की सफलता पर उन्हें शुभकामनाएं दी है। उन्होंने इन बच्चों की सफलता के लिए ’’छूलो आसमान’’ संस्था के शिक्षकों को भी बधाई देते हुए आगामी प्रवेश परीक्षाओं के लिए बच्चों को बेहतर कोचिंग एवं मार्गदर्शन प्रदान करने कहा है।
देश की सर्वोच्च मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट क्वालीफाई करने वाले इन बच्चों में उसूर ब्लाॅक अंतर्गत कोत्तागुडम निवासी सुरेश मड़कम के पिताजी का स्वर्गवास हो चुका है। सुरेश ने बताया कि माताजी सहित दो बड़े भाई संतोष और अर्जुन खेती-किसानी कर उसे पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित करते हैं। सुरेश भी 12वीं में 60 प्रतिशत अंक हासिल कर अपने भाईयों के सपने को साकार करने कृतसंकल्पित है। सुरेश ने नीट प्रवेश परीक्षा में 24115वां रैंक हासिल किया है। इसी तरह भैरमगढ़ ब्लाक के बेंचरम निवासी अजय कलमूम ने नीट में 23390वां रैंक हासिल किया है।अजय ने बताया कि उसके माता-पिता रामेश्वरी और सोमारू खेती-किसानी कर उसे पढ़ाई करवा रहे हैं,अजय को भरोसा है कि उसे मेडिकल काॅलेज में अवश्य प्रवेश मिलेगी। वहीं बीजापुर निवासी सीमा भगत ने बताया कि पिताजी का स्वर्गवास हो चुका है और बड़े भाई अर्जुन भगत उसकी पढ़ाई पर ध्यान दे रहे हैं एक छोटे भाई प्रीतम बीएससी द्वितीय वर्ष की पढ़ाई कर रहा है। सीमा ने बताया कि माता गृहणी हैं और उसकी पढ़ाई पर सतत् ध्यान देती हैं। सीमा को नीट में 26454वां रैंक मिला है। बीजापुर के ही रहने वाले हरीश एगड़े और बीजापुर ब्लाक के पापनपाल निवासी शीनू झाड़ी ने भी देश की सर्वोच्च मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट क्वालीफाई कर जिले का नाम रोशन किया है।

09-10-2020
दो महिला नक्सलियों ने किया आत्मसमर्पण

रायपुर/दंतेवाड़ा। नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत दो महिला नक्सलियों ने दंतेवाड़ा पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण किया है। जिले में चलाए जा रहे नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत प्रतिबंधित नक्सली संगठन में सक्रिय लोगों को आत्मसमर्पण कर सम्मान पूर्वक जीवन यापन करने के लिए थाना/कैम्पों एवं ग्राम पंचायतों में संबंधित क्षेत्र के सक्रिय नक्सलियों के नाम चस्पा कर घर वापस आइए अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत पुलिस अधीक्षक दंतेवाड़ा डॉ. अभिषेक पल्लव के समक्ष दो महिला नक्सलियों मुड़े मुचाकी सीएनएम कमांडर और सुनीता कलमोमी सीएनएम सदस्य ने आत्मसमर्पण किया। दोनों महिलाएं कई नक्सली वारदातों में शामिल थी।

28-09-2020
मुख्यमंत्री से के.विजय कुमार ने की मुलाकात,नक्सल समस्या के संबंध में हुई महत्वपूर्ण चर्चा

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से सोमवार को उनके निवास कार्यालय में केन्द्र सरकार के वरिष्ठ सुरक्षा सलाहकार के.विजय कुमार के नेतृत्व में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल महानिदेशालय नई दिल्ली के वरिष्ठ अधिकारियों ने सौजन्य मुलाकात की। मुलाकात के दौरान छत्तीसगढ़ राज्य में नक्सल समस्या की स्थिति और नियंत्रण के संबंध में आवश्यक चर्चा हुई। मुख्यमंत्री बघेल को इस मौके पर प्रतिनिधिमंडल ने स्मृति चिन्ह भेंट किया। इस दौरान प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह सुब्रत साहू भी उपस्थित थे। प्रतिनिधिमंडल में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के महानिदेशक एपी.महेश्वरी, विशेष पुलिस महानिदेशक कुलदीप सिंह,पुलिस महानिरीक्षक नवीन प्रभात सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804