GLIBS
20-02-2020
शिवरात्रि स्पेशल काशी महाकाल एक्‍सप्रेस की सेवा शुरू, तीन ज्योतिर्लिंगों को आपस में जोड़ेगी ये ट्रेन

नई दिल्ली। काशी महाकाल एक्सप्रेस का आधिकारिक सफर गुरुवार से शुरू हो गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16 फरवरी को चंदौली के पड़ाव से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। ये ट्रेन वाराणसी से इंदौर के बीच चलेगी, जो तीन ज्योतिर्लिंगों (श्री ओम्कारेश्वर, श्री महाकालेश्वर और काशी विश्वनाथ) को आपस में जोड़ेगी। आईआरसीटीसी काशी महाकाल एक्सप्रेस का शुभारंभ महाशिवरात्रि के एक दिन पहले यानी 20 फरवरी से शुरू हो रहा है। देश की तीसरी कॉरपोरेट ट्रेन कैंट रेलवे स्टेशन से दोपहर 2.45 बजे इंदौर के लिए रवाना होगी और दूसरे दिन सुबह 9.40 बजे इंदौर पहुंच जाएगी। महाकाल के पहले यात्रियों को आईआरसीटीसी की ओर से आकर्षक उपहार भी दिए जाएंगे।

17-02-2020
महाकाल एक्सप्रेस के सभी कोच में बजता है ओम नम: शिवाय मंत्र, साथ ही गूंजता है अन्य भजनों की धुन

नई दिल्ली। वाराणसी से इंदौर के बीच चलने वाली आईआरसीटीसी की कॉरपोरेट ट्रेन काशी महाकाल एक्सप्रेस रविवार को पहली बार कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर आई। ट्रेन में ओम नम: शिवाय मंत्र की धुन बज रही थी। ट्रेन के एक कोच में भगवान शिव का छोटा सा मंदिर भी बनाया गया यहां पर पूजा-अर्चना के बाद नारियल फोड़कर इसका स्वागत किया गया। उल्लेखनीय है कि रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो ज्योतिर्लिंग को जोड़ने के लिए ट्रेन काशी-महाकाल एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर शुरुआत की थी। भगवान शिव के तीन ज्योतिर्लिंगों ओंकारेश्वर, महाकालेश्वर और काशी विश्वनाथ को जोड़ने वाली काशी महाकाल एक्सप्रेस सप्ताह में दो दिन वाराणसी से इंदौर के बीच चलेगी। महाकाल एक्सप्रेस में 12 कोच हैं। सभी एसी थ्री टियर कोच हैं। आईआरसीटीसी की ओर से कैटरिंग सेवाएं दी यात्रियों को जाएंगी। ट्रेन में सर्विस देने वाले कर्मियों का ड्रेस केसरिया है। इसका टिकट ऑनलाइन मिलेगा। इस ट्रेन की विषेशता है कि इसमें ऊं नम: शिवाय मंत्र बजता रहता है।

14-02-2020
विशेष टूरिस्ट ट्रेन रामायण एक्सप्रेस अगले महीने से होगी शुरू, इन शहरों को करेगी कवर

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे भगवान राम से जुड़े तीर्थ स्थानों पर विशेष टूरिस्ट ट्रेन शुरू करने जा रहा है। जिसे'रामायण सर्किट ऑफ इंडिया' कहा जाता है। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने बताया कि अब आईआरसीटीसी रामायण सर्किट को भी चलाएगी। इसे मार्च में होली के बाद चलाने की योजना है। ट्रेन की खासियत ये है कि इसकी रामायण थीम है। यादव का कहना है कि बोर्ड ने इसे मंजूरी दे दी है। वैसे ट्रेन में यात्रियों को हर तरह की सुविधा दी जाती है, लेकिन रास्ते में अगर दवा या कोई अन्य सामान की जरूरत पड़ी तो खुद ही पैसे देने होंगे। किसी स्मारक में घूमने जाने के लिए यात्रियों को फीस देनी होगी। इन जगहों पर घूमेगी ट्रेन आईआरसीटीसी के टूर पैकेज के तहत यात्रियों को हम्पी,नासिक,चित्रकूट धाम, वाराणसी,बक्सर,रघुनाथपुर,सीतामढ़ी,जनकपुरी,अयोध्या,नंदीग्राम,इलाहाबाद और श्रृंगवेरपुर की यात्रा कराई जाएगी।

ट्रेन में यात्रियों को स्लीपर क्लास के तहत यात्रा कराई जाएगी। रास्ते में धर्मशाला या हॉल पर ठहराया जाएगा। यात्रियों को सुबह की चाय/कॉफी,सुबह का नाश्ता, दोपहर और रात का खाना दिया जाएगा। इसके साथ ही प्रतिदिन एक लीटर पानी भी दिया जाएगा। पैकेज के तहत रास्ते में यात्रियों को नॉन एसी गाड़ियों से ले जाया जाएगा। सुरक्षा के लिहाज से ट्रेन में कर्मियों की भी व्यवस्था की जाएगी। वहीं अगर टूर पैकेज की अवधि की बात करें तो इस बार समय की अवधि को कम किया जा सकता है। इससे पहले नवंबर 2019 में इस टूर पैकेज के तहत कुल 14 दिन की यात्रा कराई गई थी। लेकिन किसी भी शख्स को काम से 14 दिन की छुट्टी मिल पाना थोड़ा मुश्किल है। इसके बाद अवधि कम करने का फैसला लिया गया। टूर पैकेज की बुकिंग आईआरसीटीसी की वेबसाइट, आईआरसीटीसी के किसी टूरिस्ट फैसिलिटेशन सेंटर, जोनल या क्षेत्रीय कार्यालय से की जा सकती है। फिलहाल 15,990 रुपये किराया रखा गया है। लेकिन अभी तक मार्च के लिए रामायण यात्रा विशेष टूर पैकेज के दाम तय नहीं हुए हैं। बता दें भारतीय रेलवे ने बीते साल नवंबर माह में भी रामायण सर्किट पर ट्रेन चलाई थी। 2018 में भी चार विशेष पर्यटक ट्रेनें चलाई गई थीं। आईआरसीटीसी का ये पैकेज भारत दर्शन योजना का हिस्सा है।

 

05-02-2020
मोतीलाल वोरा ने संसद में उठाया ई-टिकटों की कालाबाजारी का मामला, जानिए क्या कहा, पढ़े पूरी खबर..

रायपुर। राज्यसभा में शून्यकाल में मोतीलाल वोरा सांसद ने ई-टिकटों की कालाबाजारी और उसके कारण ईमानदार रेल यात्रियों को होने वाली असुविधा का मामला उठाया। इस संबंध में बोलते हुए उन्होंने कहा कि रेलवे का टिकट बिक्री का कारोबार सालाना 55 हजार करोड़ का है। मांग व आपूर्ति में भारी अंतर के चलते कंफर्म टिकट की मांग हमेशा बनी रहती है। यात्री मजबूरी में यात्री टिकट की तय कीमत से दोगुना पैसा दलालों को देते हैं। उन्होंने आगे कहा कि देश में ई-टिकटिंग की कालाबाजारी पिछले कुछ सालों से चल रही है। रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के वर्तमान महानिदेशक ने ई-टिकट कालाबाजारी के खिलाफ अभियान चलाया है और इसमें गिरोह की संलिप्तता सामने आई है। इसके तार पाकिस्तान,बांग्लादेश,दुबई और सिंगापुर आदि देशों से जुड़े है। रेल यात्रियों को ऑनलाइन टिकट बुकिंग की सुविधा दलालों के लिए मोटी कमाई का जरिया बन गई है। देशभर में रोजाना साढ़े तीन हजार से अधिक लंबी दूरी की यात्री ट्रेन चलती है और हर रोज लगभग 12 लाख कंफर्म टिकट की बुकिंग होती है। दलाल आधुनिक साफ्टवेयर की मदद से आईआरसीटीसी की वेबसाइट में सेंधमारी कर, 85 फीसदी कंफर्म टिकट हथिया रहे हैं। रेलवे के माध्यम से रेल यात्रियों को मात्र 15 फीसदी कंफर्म टिकट मिल रहे हैं। निश्चय ही इस कार्य में काफी बड़ा गिरोह सक्रिय होगा। मोतीलाल वोरा ने सरकार से आग्रह किया कि वह ई-टिकटों की दलाली में लगे एजेंट तथा अन्य लोगों का पता लगाकर उन्हें गिरफ्तार करें, और रेलवे का सॉफ्टवेयर अत्याधुनिक लगाया जाये ताकि उसमें सेंध न लगाई जा सके और इस अवैध कारोबार को रोका जा सके।

 

02-02-2020
इंदौर से वाराणसी के बीच चलेगी देश की तीसरी निजी ट्रेन, भारतीय रेलवे ने किया एलान

नई दिल्ली। रेलवे ने इंदौर से वाराणसी के बीच देश की तीसरी निजी ट्रेन चलाने की घोषणा की है। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष विनोद कुमार यादव ने शनिवार को कहा, आईआरसीटीसी रात में चलने वाली इस ट्रेन के डिब्बे हमसफर एक्सप्रेस की तरह होंगे। पिछले कुछ महीनों में दो मार्गों नई दिल्ली-लखनऊ और मुंबई-अहमदाबाद पर तेजस एक्सप्रेस का संचालन किया जा रहा है।

नई दिल्ली और मुंबई स्टेशन होंगे वर्ल्ड क्लास

रेलवे ने पीपीपी मॉडल पर अमृतसर, ग्वालियर, साबरमती, नागपुर स्टेशन निर्माण की योजना तैयार कर ली है। सोमवार को निजी भागीदारी के तहत चारों स्टेशन के निर्माण की जिम्मेदारी सौंप दी जाएगी। इसके साथ ही रेलवे ने 10 और स्टेशन को निजीभागीदारी के तहत निर्माण करने का निर्णय लिया है। इसमें मुंबई के साथ नई दिल्ली रेलवे स्टेशन को भी शामिल किया गया है। अगले तीन महीने में इन स्टेशनों का प्रोजेक्ट फाइनल कर निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाएगा। इस योजना के लिए रेलवे ने नीति में बदलाव कर फास्ट ट्रैक मोड के तहत काम करने का निर्णय लिया है।

550 स्टेशनों पर वाई-फाई सुविधा

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, सरकार के 100 दिन पूरे होने के अंदर ही 550 स्टेशनों पर वाई-फाई सुविधा दी गई है। इस साल 27 हजार किलोमीटर रेलवे लाइन के विद्युतीकरण के लक्ष्य की घोषणा की गई है।

रेलवे लाइन के विद्युतीकरण से बचेगा डीजल इंजन का खर्च

वित्त मंत्री ने बजट पेश करने के दौरान रेलवे का खर्च कम करने का एक खाका पेश करते हुए 2700 किलोमीटर रेलवे लाइन का विद्युतीकरण करने की बात कही। इससे डीजल इंजन के जरिये होने वाले खर्च पर लगाम लगाई जा सकेगी। इलेक्ट्रिक इंजन से ट्रेनों की रफ्तार को भी बढ़ाया जा सकेगा। मौजूदा समय की बात करें तो रेलवे में करीब 6 हजार डीजल इंजन हैं, जबकि विद्युतीकरण वाले रेल इंजन 5500 हैं। रेलवे में बिजली उत्पादन अपने स्तर पर होने के कारण खर्च कम हो रहा है, जबकि एक डीजल इंजन एक किमी में 5 लीटर डीजल की खपत करता है। इसे ध्यान में रखते हुए अब रेलवे का जोर विद्युतीकरण पर है।

 

23-01-2020
पहली बार लेट हुई तेजस एक्सप्रेस, आईआरसीटीसी 630 यात्रियों को देगा इतने रुपए

नई दिल्ली। अहमदाबाद से मुंबई तक चलने वाली तेजस एक्सप्रेस के लेट होने की वजह से हर यात्री को 100 रुपये दिए जाएंगे। आईआरसीटीसी ने बुधवार को बताया कि ट्रेन के 630 यात्रियों को 100-100 रुपये मिलेंगे। तेजस एक्सप्रेस का संचालन आईआरसीटीसी करता है और अहमदाबाद-मुंबई के बीच इस ट्रेन की शुरुआत 19 जनवरी को हुई है। ट्रेन मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर डेढ़ घंटे लेट पहुंची। आईआरसीटीसी के प्रवक्ता ने कहा, 'यात्री हमारी रिफंड पॉलिसी के तहत अप्लाई करेंगे। इसके बाद वेरिफिकेशन के बाद रिफंड दिया जाएगा।' रेल अधिकारियों के अनुसार, तेजस अहमदाबाद से दो मिनट लेट होते हुए सुबह 6:42 पर चली थी। इसके बाद वह मुंबई सेंट्रल पर दोपहर 2.36 बजे पहुंची। जबकि ट्रेन को दोपहर 1.10 बजे पहुंचना था। तेजस एक्सप्रेस और कुछ अन्य ट्रेनों को मुंबई के बाहरी इलाके में भयंदर और दहिसर स्टेशनों के बीच तकनीकी समस्या के कारण रोका गया था। आईआरसीटीसी के प्रवक्ता ने कहा कि ट्रेन के लेट होने की वजह से 630 यात्रियों को 100-100 रुपये दिए जाएंगे। आईआरसीटीसी के नियम के अनुसार, यदि तेजस ट्रेन एक घंटे से ज्यादा लेट होती है तो फिर 100 रुपये दिए जाते हैं। वहीं, अगर दो घंटे तक ट्रेन लेट होती है तो फिर 250 रुपये मिलते हैं। इस हिसाब से आईआरसीटीसी तकरीबन 63 हजार रुपये देगा। कंपनी ने बताया कि यात्री 18002665844 पर कॉल या फिर irctcclaims@libertyinsurance.in पर ईमेल करके क्लेम कर सकते हैं।

04-01-2020
तेजस का किराया कम करेगा आईआरसीटीसी प्रबंधन, कर रहा विचार-विमर्श

नई दिल्ली। रेलवे ने ट्रेनों में यात्री किराया बढ़ाया है लेकिन देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस में ऑफ सीजन की वजह से किराया कम किया गया है। यह किराया तीन श्रेणियों में सबसे कम है। अगर यात्री कम होते हैं तो आईआरसीटीसी इसका किराया और भी कम करने पर विचार कर रहा है। तेजस में किराया घटाने-बढ़ाने के लिए आईआरसीटीसी प्रबंधन पूरी तरह से स्वतंत्र है। तेजस एक्सप्रेस में तीन मौकों पर तीन श्रेणियों का किराया लिया जाता है। होली-दिवाली जैसे त्योहारों पर टिकटों की मारामारी की वजह बेस फेयर सबसे ज्यादा होता है। गर्मियों की छुट्टियों में बेस किराया द्वितीय श्रेणी का होता है लेकिन ठंड में कोहरे के दौरान किराया सबसे कम श्रेणी का है। आईआरसीटीसी ने तेजस एक्सप्रेस को लीज पर ले रखा है। इसलिए वह अपनी आमदनी के मद्देनजर किराया कम ज्यादा कर सकती है।

अभी 1680 रुपये है किराया

तेजस एक्सप्रेस में कानपुर से नई दिल्ली का मौजूदा किराया 1680 रुपये है। अब इस किराये को भी कम करने की तैयारी चल रही है। हालांकि यह किराया दिवाली के दौरान तीन हजार रुपये तक पहुंच चुका है।  फ्लैक्सी फेयर सिस्टम के तहत ट्रेन में जितनी कम सीटें बचेंगी और डिमांड जितनी ज्यादा होगी, उसके आधार पर टिकट का दाम बढ़ेगा।

इस समय तेजस एक्सप्रेस का किराया ऑफ सीजन में सबसे कम है। यात्री कम होने पर आईआरसीटीसी किराया और कम करने पर विचार करने के लिए स्वतंत्र है।
- अश्विनी श्रीवास्तव, मुख्य क्षेत्रीय प्रबंधक, आईआरसीटीसी

29-12-2019
15 रुपए का पानी 20 में बेचा, यात्री ने ट्विटर के जरिए की शिकायत, वेंडर पर लगा 5 हजार का जुर्माना

बिलासपुर। ट्रेनों में ओवरचार्जिंग बंद होने का नाम नहीं ले रही है। दुर्ग जम्मू तवी एक्सप्रेस में पैंट्री कार के कर्मचारी ने यात्री को 15 रुपए का रेल नीर 20 रुपए  में बेचा आपत्ति करने पर कर्मचारी ने बहस करते हुए 5 रुपए अतिरिक्त वसूल लिए। इस पर यात्री ने ट्विट कर मामले की शिकायत की। प्रकरण बिलासपुर पहुंचने के बाद आईआरसीटीसी ने पेंट्री कार लाइसेंसी के खिलाफ 5000 रुपए का जुर्माना किया है। मामला बीते  दिनों का है जयदेव साहू नाम का यात्री ट्रेन में सफर कर रहा था। उसने ट्रेन में पैंट्री कार के कर्मचारी से पानी बोतल खरीदा।

पेंट्री कार कर्मचारी ने यूनिफॉर्म पहनी थी। यात्री ने अधिक कीमत मांगने पर कहा कि प्रिंट रेट में 15 रुपए का है तो 15 रुपए में दीजिए। इस पर वेंडर ने कहा 20 रुपए ही देने होंगे। यात्री ने इसकी शिकायत करने की बात कही तब वह उससे बहस करने पर उतारू हो गया। लिहाजा यात्री ने ट्विटर पर मामले की शिकायत की। जांच के बाद आईआरसीटीसी के एरिया मैनेजर राजेंद्र बोरबन ने 5000 रुपए का जुर्माना करने का आदेश दिया। बता दें कि अक्सर ट्रेनों में यात्रियों से बदसलूकी के मामले सामने आते हैं, लेकिन जागरूक यात्रियों के कारण बदसलूकी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई हो जाती है और उन्हें सबक भी मिल जाती है।

 

14-12-2019
शिवानंद नगर में डिटेक्टिव विंग ने मारा छापा, टिकट दलाल गिरफ्तार

रायपुर। राजधानी में अनाधिकृत रूप से रेलवे आरक्षित टिकट दलालो के विरुद्ध कार्यवाही के दौरान मुखबिर की सूचना पर डिटेक्टिव विंग ने शिवानंद नगर में दबिश दी। शुक्रवार को डिटेक्टिव विंग रायपुर के निरीक्षक बीके चौधरी के निर्देशन में  उप निरीक्षक संजय वर्मा के साथ एएसआई यूएस श्रीवास,प्रधान आरक्षक डीके पांडेय व टीम ने श्रीनगर क्षेत्र में स्थित सोमी इंटरनेट कैफे में छापामार कार्यवाही की। यहां से एक आवैध टिकट दलाल को गिरफ्तार किया गया। आरोपी कपिल कुमार गुहिया (36) के अवैध रूप से आईआरसीटीसी के 8 पर्सनल आईडी जब्त की गई, इन आईडी का प्रयोग कर आरोपी आरक्षित ई टिकट बनाता था। आरोपी के कब्जे से कुल 59 रेलवे आरक्षित टिकट बरामद की गई, जिसकी कीमत 1,14,326.72 रुपए है। साथ ही 1 सीपीयू, 1 मॉनिटर, 1 मोबाइल और नगद-1100 रुपए व अन्य सामान जब्त किया गया है। आरोपी को तैयार किए कागजातों के साथ उचित कानूनी कार्यवाही के लिए रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट सेटेलमेंट को सुपुर्द किया गया। आरोपी को आज न्यायालय में पेश किया गया।

29-11-2019
प्रीमियम ट्रेनों के लेट होने पर यात्रियों को मिलेगा यह...

नई दिल्ली। शताब्दी, वंदेभारत, राजधानी और दूरंतो जैसी प्रीमियम ट्रेनों के लेट होने पर यात्री भूखे-प्यासे न रहे, इसके लिए रेलवे ने नया मेन्यू कार्ड जारी किया है। इस मेन्यू कार्ड में सुबह की चाय से लेकर के रात के खाने तक का प्रावधान किया गया है। यह मेन्यू अभी चल रहे निर्धारित मेन्यू के अलावा है। इस मेन्यू का पालन तभी होगा जब ट्रेन अपने निर्धारित समय से तीन घंटे से अधिक लेट चल रही होगी। यह नया नियम एक दिसंबर से लागू होगा। आईआरसीटीसी द्वारा जारी मेन्यू के अनुसार, सुबह और शाम के वक्त यात्रियों को चाय या फिर कॉफी सर्व की जाएगी। इसके साथ दो बिस्किट, चाय या फिर कॉफी के साथ में चीनी का शैसे, टी-बैग अथवा कॉफी पाउडर और मिल्क पाउडर दिया जाएगा। सुबह और शाम के नाश्ते में लेट हो रही ट्रेन के यात्रियों को एक फ्रूट ड्रिंक टेट्रापैक में, एक मक्खन चिपलेट, चाय अथवा कॉफी और ब्रेड के चार स्लाइस मिलेंगे। यह यात्रियों को समय के अनुसार दिया जाएगा। जिस वक्त ट्रेन लेट चल रही होगी तब इसका पालन किया जाएगा। लंच-डिनर के दौरान ट्रेन लेट होने पर यात्रियों को 200 ग्राम चावल, दाल अथवा राजमा अथवा छोले और अचार दिया जाएगा। इसके अलावा भी सात पूड़ी, मिक्स वेज/आलू भाजी, अचार और नमक व मिर्च का शैसे दिया जाएगा। इसके अलावा भी आईआरसीटीसी ने निर्धारित मेन्यू में काफी बदलाव किए हैं, जो एक दिसंबर से लागू होगा।

29-11-2019
टिकट दलालों के ठिकानों पर कार्रवाई जारी,1 लाख से अधिक के टिकट बरामद

रायपुर। आरपीएफ की डिटेक्टिव विंग इन दिनों अनाधिकृत रूप से रेलवे आरक्षित टिकट दलालों के विरुद्ध कार्यवाही कर रही है। मुखबिर की सूचना पर दुर्ग शहर में गुरुवार को डिटेक्टिव विंग भिलाई की टीम ने अवैध ई टिकट दलाल के ठिकाने पर  दबिश दी। मौके से 103286.80 रुपए के 66 रेलवे आरक्षित टिकट बरामद किए गए। आरपीएफ के अनुसार डिटेक्टिव विंग भिलाई निरीक्षक निशा भोईर, सहा उप निरीक्षक नरेंद्र ,प्रधान आरक्षक  यू के मिश्रा की टीम ने के ऑनलाइन दुकान में दबिश दी। सागर महोबिया (27) निवासी शंकर नगर ,थाना मोहन नगर जिला दुर्ग को अवैध रूप से आईआरसीटीसी के पर्सनल आईडी का प्रयोग कर आरक्षित ई टिकट बनाने के आरोप में पकड़ा गया। आरोपी के कब्जे से 12 पर्सनल यूजर आईडी से बने  कुल  66 नग रेलवे आरक्षित टिकट बरामद किए गए, जिसकी कुल कीमत 103286.80 रुपए है। साथ ही 1 कंप्यूटर सेट, नगद 250 रुपए के साथ  गिरफ्तार कर आरोपी को उचित कानूनी कार्यवाही के लिए रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट  दुर्ग को सुपुर्द किया गया। आरोपी के खिलाफ धारा 143 रेलवे एक्ट  के तहत जुर्म पंजीबद्ध किया गया है।

बता दें कि रेलवे टिकट दलालों के ठिकानों पर रेलवे पुलिस की दबिश से हड़कंप मचा हुआ है। गत दिवस टीम ने एक अवैध रेलवे- ई-टिकट दलाल को 19 नग रेलवे-ई-टिकट कीमती 40,890 रुपए  के सहित पकड़ कर रेलवे सुरक्षा बल भाटापारा को सुपुर्द किया। इसी तरह  डिटेक्टिव विंग रेलवे सुरक्षा बल भिलाई ने एक अवैध रेलवे- ई-टिकट दलाल को  39 नग रेलवे-ई-टिकट  कीमती 40086.52 रुपए सहित पकड़ कर धारा 143 रेलवे अधिनियम के तहत कार्यवाही की। डिटेक्टिव विंग रेलवे सुरक्षा बल रायपुर ने एक अवैध रेलवे- ई-टिकट दलाल को 121 नग रेलवे-ई-टिकट  कुल  कीमत 378152.73 रुपए व 4 काउंटर टिकट कीमत 20040 रुपए  कुल कीमत 398,192.73 के टिकट सहित पकड़ा था। इसी तरह गोलबाजार क्षेत्र से टिकट दलाल के कब्जे से 43 नग रेलवे आरक्षित -ई -तत्काल/सामान्य टिकट मूल्य 111206 रुपए जब्त किया गया, जिसमें (2 नग लाइव टिकट कीमत 6337 रुपए ) एक नग कम्प्यूटर सेट कीमत 45000 रुपए को मौके पर जब्त किया गया था। 

20-11-2019
तेजस एक्सप्रेस हुई सवा घंटे लेट, यात्रियों को मिलेगा इतना मुआवजा..

नई दिल्ली। देश की पहली कॉर्पोरेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस एक बार फिर लेट हो गई है।  इसके कारण कई यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। सप्तक्रांति एक्सप्रेस से सांड की टक्कर हो गई थी। इसके के बाद कई ट्रेनें बाधित हुई। उसमें तेजस एक्सप्रेस भी शामिल थी। इस बार भी आईआरसीटीसी को यात्रियों को मुआवजा देना पड़ेगा। ट्रेन में लगभग 604 यात्री सफर कर रहे थे। 100 रुपये की दर से आईआरसीटीसी यात्रियों को 64,400 रुपये मुआवजे का भुगतान करेगा।
दरअसल, तेजस एक्सप्रेस सप्तक्रांति के पीछे आ रही थी। फिरोजाबाद के पास एक सांड अचानक सप्तक्रांति एक्सप्रेस से टकरा गया। इससे ट्रेन के इंजन ने काम करना बंद कर दिया। सप्तक्रांति के पीछे तेजस सहित कई ट्रेनें जहां-तहां खड़ी हो गई। इसकी जानकारी एनसीआर के अफसरों को हुई, तो उन्होंने आनन-फानन में दूसरा इंजन भेजकर सप्तक्रांति एक्सप्रेस के चलाने का इंतजाम किया। इसके चलते तेजस एक्सप्रेस ट्रेन सवा घंटा लेट हो गई थी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804