GLIBS
20-07-2019
मौसमी बीमारी के रोकथाम के लिए ग्रामीणों को किया जा रहा है जागरूक

कोंडागांव। विकासखंड फरसगांव के अंतर्गत बड़ेडोंगर क्षेत्र के सुदूर अंचल उरंदाबेड़ा बाजार में जिला प्रशासन के निर्देशानुसार मौसमी बीमारियों केे रोकथाम एवं मक्का प्रसंस्करण केंद्र का पंजीयन करनेे शिविर का आयोजन किया गया। साथ ही स्थानीय बोली में नृत्य नाटक केे माध्यम सेे कला जत्था दल द्वारा ग्रामीणों को इस ओर आकर्षित कर जागरूक किया जा रहा है।
कोण्डागांव जिले के ग्रामीण क्षेत्र के अंदरूनी इलाकों में मौसमी बीमारियों से बचाव एवं स्वच्छ पेयजल हेतु प्रचार अभियान के तहत कला जत्थाओं के माध्यम से जन जागरुकता कार्यक्रम प्रारंभ किया गया है। जिला कलक्टर नीलकंठ टीकाम के निर्देशन में कला जत्था की टीमों द्वारा दूरस्थ इलाकों के हॉट बाजारों में स्थानीय बोली में नृत्य, नाटक के माध्यम से स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता, शिक्षा, सुपोषण पर आधारित कार्यक्रम का प्रस्तुतिकरण किया जा रहा है। 
4 जुलाई से प्रारंभ हुए इन जागरुकता कार्यक्रम के प्रस्तुतिकरण को स्थानीय ग्रामीण भी बड़ी रुचि से देखते हैं। जिला कलेक्टर ने इन कार्यक्रमों में मक्का प्रसंस्करण केन्द्र के लिए पंजीयन आधारित नृत्य नाटकों को भी शामिल करने के निर्देश दिए है ताकि अधिक से अधिक ग्रामीणों को मक्का प्रसंस्करण केन्द्र के लिए पंजीयन के लिए प्रेरित किया जा सके।

16-05-2019
संक्रामक बीमारियों के रोकथाम के लिए नगर निगम गंभीर

रायपुर। ग्रीष्म ऋतु और बारिश पूर्व जलजनित व संक्रामक बीमारियों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए नगर निगम, जिला स्वास्थ्य व चिकित्सा, मलेरिया व महिला बाल विकास विभाग की संयुक्त बैठक की गई। बैठक में बीमारियों से बचाव के लिए सार्थक प्रबंध करने सभी विभागों ने अपनी भूमिका पर चर्चा की। आयुक्त शिव अनंत तायल के निर्देश पर इस बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक में नगर निगम के अपर आयुक्त लोकेश्वर साहू, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. केआर सोनवानी, नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ बीके मिश्रा सहित जिला मलेरिया विभाग के अधिकारी, सभी  जोन कमिश्नर, जोन स्वास्थ्य अधिकारी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मितानिन भी शामिल थेे। निगम मुख्यालय में आयोजित इस बैठक में जल जनित बीमारियों की रोकथाम हेतु उठाए जाने वाले कदम पर सभी ने मिलकर चर्चा की। सभी विभाग पीलिया, डेंगू, मलेरिया जैसी बीमारियों से बचाव के लिए हर स्तर पर आम नागरिकों को जागरूक करने मिलकर प्रयास करेंगे। प्रदूषित खाद्य व पेय पदार्थों, अखाद्य बर्फ  के विनिष्टीकरण के लिए नगर निगम खाद्य विभाग के साथ मिलकर अपनी सतत कार्रवाई आगे भी जारी रखेगा। इसी तरह पानी में क्लोरीन की मात्रा की जांच नियमित रुप से नगर निगम द्वारा आगे भी की जाएगी। विभिन्न कार्यों के संचालन व त्वरित क्रियान्वयन सुनिश्चित करने के लिए जिला स्वास्थ्य विभाग तथा नगर निगम  नियंत्रण कक्ष स्थापित करेगा ।  चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्वास्थ्य शिविर लगाए जाएंगे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804