GLIBS
06-08-2020
लॉक डाउन की मियाद नहीं बढ़ेगी आगे, सुबह 8 से शाम 5 बजे तक खुलेंगी दुकानें

रायपुर/बलौदाबाजार। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिये जिले में जारी लॉक डाउन की मियाद 6 तारीख के बाद आगे नहीं बढ़ाई जाएगी। दुकानें और व्यापारिक प्रतिष्ठान कल 7 तारीख से कोरोना  की रोकथाम के नियमों का पालन करते हुये संचालित हो सकेंगी। दुकानें सवेरे 8 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक खुली रह सकती हैं। जिला कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने बताया कि कोरोना महामारी का संकट अभी टला नहीं है। रोजाना बड़ी संख्या में प्रकरण सामने आ रहे हैं। इसलिये हम सभी को पहले से और ज्यादा सजग और सावधान रहने की जरूरत है। संक्रमण की रोकथाम में सामुदायिक भागीदारी की अहम भूमिका है। सभी को मास्क पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना अनिवार्य है। कोरोना से बचाव का यही एक प्रभावी उपाय है। लोगों में कोरोना के बचाव से सम्बंधित तमाम उपायों के बारे में पर्याप्त जागरूकता हो चुकी है। बावजूद इसके पालन नहीं किये जाने पर जान बुझकर कानून की अवज्ञा किये जाने के आरोप में कठोर कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने व्यापारियों को भी बगैर मास्क पहने सामान लेने आये ग्राहकों को सामग्री नहीं बेचने के निर्देश दिए हैं।

01-08-2020
कोरोना संक्रमण की रोकथाम के नाम पर सरकार सिर्फ ड्रामेबाजी कर जनस्वास्थ्य के साथ कर रही खिलवाड़ : भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी ने छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार तेजी से हो रहे इजाफे पर चिंता व्यक्त की है। प्रदेश प्रवक्ता श्रीचंद सुंदरानी ने कहा कि कांग्रेस सरकार शुरू से इस महामारी को लेकर लापरवाह रही है। घर-घर तक पहुँच रहे कोरोना संक्रमण की रोकथाम के नाम पर सिर्फ ड्रामेबाजी कर जनस्वास्थ्य के साथ क्रूर खिलवाड़ कर रही है। सुंदरानी ने कहा कि अब बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के लिए अनलॉक के दौरान लोगों द्वारा सावधानी और बचाव के उपाय नहीं अपनाने की बात कहकर मुख्यमंत्री बघेल अपनी विफलता का ठीकरा लोगों के सिर फोड़ने पर आमादा हैं। भाजपा प्रवक्ता ने सवाल किया कि कांग्रेस के नेताओं और सैंपल देकर कायदा-कानून ताक पर रख घूम रहे कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों से जो संक्रमण का खतरा ज्यादा बढ़ रहा है, मुख्यमंत्री इस पर संज्ञान कब लेंगे?

सुंदरानी ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार की ओर से घोषित सख़्त लॉक डाउन पूरी तरह ध्वस्त हो चुका है और सरकार को यह सूझ ही नहीं रहा है कि इस संक्रमण की रोकथाम के लिए किस तरह के उपाय किए जाएँ? उन्होंने कहा कि अफसरशाही पूरे प्रदेश में कोरोना के नाम पर अव्यावहारिक फैसले लेकर अपना राज चला रहे हैं, वहीं नित-नए फैसलों के चलते बाजार में जो हुजूम उमड़ रहा है, उससे संक्रमण फैलने की बढ़ती आशंका के लिए प्रदेश सरकार अपनी जिम्मेदारी से पल्ला कैसे झाड़ सकती है? यह स्थिति प्रदेश सरकार की नेतृत्वहीनता और भटकन को रेखांकित कर रही है। प्रदेश में अब भी टेस्टिंग लैब की कमी के चलते जाँच का काम धीमी गति से चल रहा है, क्वारेंटाइन सेंटर्स के बाद अब कोविड-19 सेंटर्स भी बदइंतजामी और बदहाली के चलते नरकीय यंत्रणा के केंद्र बन चुके हैं, जमीनी सच यह भी है कि प्रदेश में अब संदेही लोगों की जांच के लिये सैंपल भी नहीं लिए जा रहे हैं, जिसके चलते परिस्थितियां और चिंताजनक बनती जा रही हैं। तो, प्रदेश सरकार क्या अपनी इस नाकामी के लिए भी शर्म महसूस नहीं करेगी?

31-07-2020
17 अगस्त की सुबह 6 बजे या अगले आदेश तक मुंगेली जिले में धारा 144 प्रभावशील

रायपुर/मुंगेली। कलेक्टर पीएस एल्मा ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव और रोकथाम के लिए सम्पूर्ण जिले में धारा 144 को 17 अगस्त की सुबह 6 बजे तक या आगामी आदेश जो भी पहले आये तक प्रभावशील होने का आदेश पारित किया है। यहा यह भी तथ्य ध्यान में लाने योग्य है कि इस आपात स्थिति में व्यवहारिक तौर पर संभव नहीं है कि मुंगेली जिले में निवासरत् सभी नगरिको को नोटिस तामिली कराई जा कराई जा सके। अतः एकपक्षीय कार्यवाही करते हुए दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 के अंतर्गत मुंगेली जिले में धारा 144 लागू की गई है।  अतः उक्त आदेश की ओर से,तत्पश्चात् समय-समय पर भारत सरकार एवं राज्य सरकार ने कार्यालय, प्रतिष्ठान, सेवाओं इत्यादि को दी छूट इस आदेश में भी यथावत रहेगी।

 

28-07-2020
जिले में अब लॉक डाउन 6 अगस्त की मध्यरात्रि तक

दुर्ग। जिला दण्डाधिकारी डाॅ.सर्वेश्वर नरेन्द्र भुरे ने सभी नगरीय निकायों एवं 29 ग्राम पंचायतों में राज्य शासन के द्वारा जारी गाइडलाइन के परिप्रेक्ष्य में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए 6 अगस्त 2020 की मध्य रात्रि तक पूर्ण लाकडाउन करते हुए प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया है। इनमें नगर निगम दुर्ग एवं प्रभावित ग्राम पंचायत हनोदा, धनोरा, मोहलई, चिखली, कोलिहापूरी, अंजोरा (ख), खपरी (कु.) एवं महमारा कुठेलाभांठा, सिरसाखुर्द, जेवरा, चन्दखुरी, विनायकपुर एवं खुरसुल में यह आदेश लागू होगा। इसी तरह नगर पालिक निगम भिलाई में एवं इससे लगे ग्राम पंचायत खेदामरा, कचादुंर, नगर निगम रिसाली एवं ग्राम पंचायत डूमरडीह, उमरपोटी, नगर निगम भिलाई चरोदा एवं ग्राम पंचायत औंधी, नगर पालिका जामुल एवं निकाय सीमा से लगे ग्राम पंचायत ढ़ौर, नगर पंचायत पाटन एवं ग्राम पंचायत अमलेश्वर, सांकरा, भरर, नगर पालिका कुम्हारी एवं इससे लगे ग्राम पंचायत पंचदेवरी, अकोला, नगर पालिका अहिवारा, नगर पंचायत उतई एवं नगर पंचायत धमधा के बोरी, करेली, पोटिया एवं ग्राम पंचायत दनिया में यह प्रतिबंधात्मक आदेश लागू होगा। अनुमति प्राप्त दुकानें में स्वास्थ्य सुविधाएं एवं आपातकालीन सेवाएं संचालित रहेंगी। दवा/मेडिकल/चश्मा की दुकानें समय प्रातः 7 बजे से शाम 5 बजे तक खोलने की अनुमति रहेगी।  सब्जी व्यवसाय, दूध, मांस, चिकन, मटन, मछली, अण्डा समय प्रातः 6 बजे से प्रातः 10 बजे तक संचालित रहेगी। लॉॅक डाउन अवधि के दौरान केवल दो दिवस 29 एवं 30 जुलाई  के लिए किराना दुकानें प्रातः 6 बजे से प्रातः 10 बजे तक खुली रहेंगी तथा उक्त अवधि में ईद एवं राखी त्यौहार में उपयोग आने वाली सामग्री का विक्रय स्टाल लगाकर किया जा सकेगा।

 

26-07-2020
शहर में मिले दो कोरोना पॉजिटिव, कलेक्टर ने दिए क्षेत्र को सील करने का आदेश

कवर्धा। शहर के राजमहल कालोनी और आदर्श नगर में रविवार को कोविड-19 कोरोना वायरस से संक्रमित दो व्यक्तियों की पहचान कर ली गई है। संक्रमितों में 25 साल की लड़की और 50  साल पुरुष है। दोनों रिश्तेदार है। कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने वायरस के रोकथाम और बचाव के उपायों के तहत राजमहल चौक और आदर्श नगर को सील करने के निर्देश दिए है।जिला सर्विलेंस अधिकारी डॉ.केशव ध्रुव ने बताया कि ये दोनों पिछले 10 दिनों से रायपुर में थे। जानकारी मिली है कि रायपुर में रहने वाला उनका भाई भी कोरोना से संक्रमित है। इन दोनों ने रायपुर में ही कोरोना जांच के लिए सैम्पल दिए थे। दोनों को हॉस्पिटल की एम्बुलेंस से कवर्धा पहुँचाया गया था। दोनों सेल्फ होम क्वारेटाइन में थे। दोनों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद जिला एक्टिव सर्विलेंस की टीम उपचार की तैयारी कर रही है।

 

24-07-2020
कोंडागांव में लॉक डाउन 25-31 जुलाई तक, कलेक्टर ने जारी किए दिशा निर्देश

कोंडागांव। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों को लॉक डाउन किया गया है। नगरीय क्षेत्र कोण्डागांव, फरसगांव, केशकाल और विकासखण्ड माकड़ी में आज 24 जुलाई के मध्य रात्रि से 31 जुलाई तक होगा लॉकडाउन। कोण्डागांव जिले में भी कोरोना वायरस तीव्र गति से फैल रहा है। इस महामारी के प्रसार से बचाव और नियंत्रण के लिये राज्य शासन की ओर से जारी दिशा-निर्देशों के अनुक्रम में कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा ने जिले के नगरीय क्षेत्रों के लिए प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किए हैं। इसके तहत जिला कोण्डागांव के नगरीय क्षेत्र नगरपालिका परिषद् कोण्डागांव, नगरपंचायत फरसगांव/केशकाल और विकासखण्ड मुख्यालय ग्राम माकड़ी में 24 जुलाई की मध्य रात्रि 12 बजे से 31 जुलाई रात 12 बजे तक लॉकडाउन (तालाबंदी) कर दिया गया है।नगरीय क्षेत्रों में जिला प्रशासन की ओर से समय-समय पर घोषित कंटेटमेंट जोन और बफर जोन को छोड़कर अनुमति प्राप्त समस्त गतिविधियों का संचालन सुबह 6 से शाम 4 बजे तक होगा।

प्रतिबंधित क्षेत्र में लॉकडाउन की अवधि के दौरान समस्त सार्वजनिक और निजी गैर आवश्यक परिवहन सेवाएं (जिनमें निजी बसें, टेक्सी, बसें, आॅटो रिक्शा, ई-रिक्शा एवं रिक्शा भी शामिल है) के परिचालन की अनुमति नहीं होगी। जबकि इमरजेंसी मेडिकल सेवा वाले व्यक्तियों को वाहन द्वारा आवागमन की अनुमति होगी। ऐसे निजी वाहन जो इस आदेश के अंतर्गत आवश्यक वस्तुएं, सेवाओं  के उत्पादन और उनके परिवहन का कार्य कर रहें है उन्हे भी अपवादित स्थिति और तात्कालिक आवश्यकताओं को देखते हुए परिवहन की छूट रहेगी। इसके अलावा शासन की ओर से संचालित सार्वजनिक परिवहन को भी इसके तहत छूट दी गई है। प्रतिबंधित क्षेत्र में स्थित समस्त शासकीय कार्यालयों के संचालन में आदेशित कुछ कार्यालयों को  छोड़कर तृतीय एवं चतुर्थ कर्मचारियों की उपस्थिति एक तिहाई होगी।

इस हेतु रोस्टर बनाते हुए ड्यूटी लगाने की जिम्मेदारी कार्यालय प्रमुख को दी गई है। शासकीय कार्यालयों में कार्यालय प्रमुख की अनुमति के बिना आगंतुकों का प्रवेश नहीं होगा। साग-सब्जी, फल, दूध-डेयरी, पनीर और किराना दुकानों को सुबह 6 से शाम 4 बजे तक संचालन करने की अनुमति होगी। उपरोक्त आदेशों और दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करते हुए पाए जाने पर आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 से 60, भारतीय दण्ड संहिता 1860 की धारा 188 तथा अन्य सुसंगत विधिक प्रावधानों के तहत कार्यवाही की जायेगी।

22-07-2020
महासमुंद नगरीय क्षेत्र में 25 से 31 जुलाई तक पूर्ण लाॅक डाउन

महासंमुद। कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए महासमुंद नगरीय क्षेत्र में शनिवार 25 जुलाई से शुक्रवार 31 जुलाई रात्रि 12 बजे तक पूर्ण लाॅक डाउन रहेगा। इस दौरान आम जरूरत की चीजों को छोड़कर सब बंद रहेगा और यातायात पूर्णता बंद रहेंगे। केवल आवश्यक सेवाएं एवं कर्मचारी ही बाहर निकल सकते हैं। लाॅक डाउन के दौरान सब्जी दूध तथा अन्य आवश्यक सेवाओं के लिए प्रातः 6 से सुबह 10 बजे तक का समय निर्धारित किया गया है। दूध वितरण के लिए शाम 5 बजे से 6.30 बजे तक की अनुमति है। निर्धारित समय के बाद सड़क पर घूमने वालों के विरूद्ध पुलिस वैधानिक कार्रवाई करेंगी ।

 

21-07-2020
पांच नगरीय निकायों सहित तीन ग्राम पंचायत क्षेत्रों में 22 जुलाई से लॉक डाउन

कोरबा। जिले में कोरोना संक्रमण की प्रभावी रोकथाम के लिए 22 जुलाई से पांचों नगरीय क्षेत्रों के साथ-साथ तीन ग्राम पंचायत क्षेत्रों में भी लाॅक डाउन रहेगा। जिला दण्डाधिकारी किरण कौशल ने पोड़ीउपरोड़ा विकासखण्ड की पसान, कोरबा विकासखण्ड की बरपाली और कुदुरमाल ग्राम पंचायत क्षेत्रों को कोरोना संक्रमण के कारण कंटेनमेंट जोन घोषित किया है। तीनों ग्राम पंचायत क्षेत्रों में अभी तक कुल 73 कोरोना संक्रमित मिले हैं, जिनमें से सात एक्टिव है जबकि 66 इलाज के बाद स्वस्थ हो चुके हैं। पसान के दो क्वारेंटाइन सेंटरों में 16 और कुदुरमाल क्वारेंटाइन सेंटर में 50 प्रवासी श्रमिको की कोरोना रिपोर्ट पाॅजिटिव आई थी। इन्हें ईलाज के लिए कोविड अस्पतालो मे भेजा गया था। ये सभी प्रवासी स्वस्थ होकर अस्पतालों से वापस लौट चुके हैं। इसी प्रकार बरपाली क्वारेंटाइन सेंटर से 7 प्रवासी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं,जिनका ईलाज कोविड अस्पताल में चल रहा है। इन ग्राम पंचायतों में इतनी अधिक संख्या मे कोरोना संक्रमित मिलने के कारण संक्रमण फैलने की संभावना को देखते हुए प्रतिबंध लागू किए जा रहे हैं। कलेक्टर कौशल ने बैठक में 22 जुलाई से लागू हो रहे कोरोना रोकथाम के प्रतिबंधो को कड़ाई से पालन कराने संबंधी तैयारियों की समीक्षा की। कलेक्टर ने शहरी क्षेत्रो सहित कोरोना संक्रमित घोषित तीनों ग्राम पंचायतो में अतिआवश्यक सेवाओं को छोड़कर अन्य सभी प्रकार की दुकानें जारी निर्देशों के अनुसार बंद होना सुनिश्चित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। इन सभी क्षेत्रों में दूध, फल, सब्जी, किराना दुकानें आदि निर्देश अनुसार निर्धारित समय पर ही खुलेंगे। ग्रामीण क्षेत्रों में राशन दुकानें, खाद-बीज की दुकाने सुबह 10 बजे तक ही खुलेंगी। तीनों ग्राम पंचायत क्षेत्रों में शहरी क्षेत्रो की तरह ही सार्वजनिक आयोजनो पर प्रतिबंध रहेगा। 

 

18-07-2020
कलेक्टर स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार केवल शहरी इलाकों में लॉक डाउन करेंगे लागू

रायपुर। राज्य में कोरोना संक्रमण के प्रसार की तात्कालिक स्थिति को देखते हुए रोकथाम और नियंत्रण के लिए राज्य शासन ने जिला कलेक्टरों को शहरी क्षेत्रों में निषेधाज्ञा लगाने के लिए अधिकृत किया है। यह आदेश शनिवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में हुई एक उच्चस्तरीय बैठक में लिए गए निर्णय के बाद जारी किया गया। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, वन मंत्री मो.अकबर, कृषिमंत्री रविन्द्र चौबे, नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ.प्रेमसाय सिंह टेकाम, उद्योग मंत्री कवासी लखमा, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरू रूद्र कुमार सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

बैठक में लिया गया यह निर्णय
जिला कलेक्टर स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार महामारी एक्ट और धारा-144 के तहत निषेधाज्ञा जारी कर सकेंगे। यह निषेधाज्ञा बड़े शहरी क्षेत्रों के लिए होगी। ग्रामीण क्षेत्र इससे मुक्त रहेंगे। यह निर्णय कलेक्टरों के स्व-विवेक पर छोड़ा गया है कि वे कब और किस शहरी क्षेत्र में इसे लागू करेंगे। यह निषेधाज्ञा स्थानीय परिस्थितियों के अनुरूप कुछ वार्डों में अथवा आधे शहर में या पूरे शहर में भी लागू की जा सकती है। बैठक में निर्देश दिया गया है कि कंटेनमेंट जोन के संबंध में जारी किए गए निर्देशों का कड़ाई से पालन किया जाए।
बैठक में निर्देश दिए गए है कि निषेधाज्ञा का आदेश लागू करने के पहले तीन दिन पूर्व नोटिस दिया जाए। इस जानकारी को स्थानीय मीडिया में प्रसारित किया जाए। इसके बाद ही इसे अमल में लाया जाए। इससे आम जनता को आवश्यक वस्तुओं को खरीदने का पर्याप्त समय मिल सके और वे अनावश्यक घबराहट में वस्तुओं का संग्रहण करने से बचें। निषेधाज्ञा का कोई भी ऐसा आदेश सात दिन का हो और परिस्थितियों को देखकर इसे आगे बढ़ाने पर निर्णय लिया जा सकता है। इस दौरान स्वास्थ्य, पेयजल आपूर्ति, साफ-सफाई, विद्युत व्यवस्था, फायर ब्रिग्रेड आदि बुनियादी सेवाएं पूर्व की तरह कार्य करते रहेंगे। इस अवधि के दौरान शासकीय कार्यालय एक तिहाई कर्मियों के साथ कार्य करेंगे। कारखाने या निर्माण इकाईयों को शर्तों के साथ काम करने की अनुमति होगी। इन शर्तों में कामगारों को नियंत्रित वातावरण में रखना, कामगारों के परिवहन की व्यवस्था करना और कोविड-19 पॉजीटिव होने की स्थिति में उनके उपचार और अस्पताल का खर्च उठाना शामिल है। पेट्रोल पंप,अस्पताल, क्लीनिक, पशु चिकित्सा सेवाएं, दवाई दुकान, दूध और इससे संबंधित उत्पाद, सब्जी दुकान पहले की तरह नियत समयानुसार खुले रहेंगे। इन्हें खुला रखने के लिए कोई अतिरिक्त समय नहीं दिया जाएगा। कृषि उपज मंडी पूर्व की तरह कार्य करती रहेगी। निषेधाज्ञा वाले क्षेत्रों में केवल वाणिज्यिक परिवहन की अनुमति होगी। यह अनुमति केवल रात्रि में होगी। मास्क पहनना और सोशल डिस्टेसिंग का पालन करना हर परिस्थिति में अनिवार्य होगा, जो इसका पालन नहीं करेगा उस पर जुर्माना किया जाए।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804