GLIBS
31-10-2020
Breaking : डेढ़ साल की मासूम को 50 बार सिगरेट से दागने वाले आरक्षक की होगी गिरफ्तारी

रायपुर। बालोद में दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। आरक्षक ने एक डेढ़ साल की मासूम को 50 बार सिगरेट से दागा है। जानकारी के मुताबिक पुलिसकर्मी मकान मालिक से उधार के पैसे वसूलने गया था। आरक्षक अविनाश राय नशे में धुत था। इस दौरान उसने डेढ़ साल की मासूम को कई बार सिगरेट से दागा। मासूम बच्ची की मां ने बालोद थाने में आरोपी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। आरक्षक अविनाश राय का ​अभी-अभी बालोद से दुर्ग रक्षित केंद्र ट्रांसफर हुआ है। आरक्षक ग्राम सिवनी में किराए के मकान में रह रहा था। मामले को संज्ञान में लेते हुए प्रदेश के डीजीपी दुर्गेश माधव अवस्थी ने आरोपी आरक्षक के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार करने के निर्देश दिए हैं।

09-08-2020
हुक्का, सिगरेट, गुटखा और तंबाकू का सेवन कोविड-19 को देता है निमंत्रण...

रायपुर। स्मोकिंग और गुटखा सेहत के लिए नुकसानदेह तो है ही लेकिन इससे कोविड-19 होने का खतरा अधिक है। स्मोकिंग और किसी भी रूप में तम्बाकू लेने पर सीधा असर फेफड़े के काम करने की क्षमता पर पड़ता है। सांस से संबंधी बीमारियां इससे बढ़ती हैं। संक्रमण होने पर कोरोना सबसे पहले फेफड़ों पर ही अटैक करता है। इसलिए इसका मजबूत होना बेहद जरूरी है। वायरस फेफड़े की कार्यक्षमता को घटा देता है। अब तक की रिसर्च के मुताबिक धूम्रपान करने वाले लोगों में वायरस का संक्रमण और मौत दोनों का खतरा ज्यादा है। 

सिगरेट, सिगार, बीड़ी, वाटरपाइप और हुक्का पीने वालों पर कोविड-19 का रिस्क ज्यादा है। सिगरेट पीने के दौरान हाथ और होंठ का इस्तेमाल होता है और संक्रमण का खतरा रहता है। वहीं एक ही हुक्का को कई लोग इस्तेमाल करते हैं जो कोरोना का संक्रमण सीधे तौर पर एक से दूसरे इंसान में पहुंचा सकता है। गुटखा और सिगरेट का सेवन करने वालों को कोरोना संक्रमण होने का खतरा ज्यादा रहता है। खैनी, गुटखा खाने वाले लोग कई गैरसंचारी रोगों के भी आसानी से शिकार बन जाते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और शोधकर्ताओं ने भी चेतावनी दी है कि तम्बाकू से कमजोर हुए फेफड़े कोरोना को संक्रमण का दायरा बढ़ाने में मुफीद साबित हो रहे हैं।

29-07-2020
लॉक डाउन का उल्लंघन कर बेच रहा था सिगरेट और गुटखा, पुलिस ने किया गिरफ्तार

रायपुर। शहर में लॉक डाउन के दौरान सिगरेट,गुटखा बेचते हुए पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने उसके पास से सिगरेट,गुटखा जब्त किया है। पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगलवार को मुखबिर की सूचना लॉकडाउन के दौरान कुकरेजा फार्म हाउस महावीर नगर में बिना मास्क घर के सामने खड़े होकर सिगरेट,गुटखा व बीड़ी बेचते भगवान दास पंजवानी को गिरफ्तार कर उससे गुटखा,सिगरेट,बीड़ी जब्त कर लिया है। जब्त सामान की कीमत 5 हजार रुपये बताई जा रही है। आरोपी के खिलाफ लॉक डाउन के दौरान शासन के नियमों के उल्लंघन के मामले में धारा 269,270 के तहत अपराध दर्ज किया गया है।

 

24-06-2020
सिगरेट देने के बाद पैसा मांगना दुकानदार को पड़ा भारी, चाकू की नोक पर मोबाइल व नगदी की लूट

रायपुर। शहर के दीनदयाल उपाध्याय क्षेत्र में सिगरेट खरीदने के बाद पैसा मांगना दुकानदार को भारी पड़ गया। आरोपी ने दुकानदार पर चाकू दिखाकर मोबाइल और नगदी लूट लिए। बता दें कि इंद्रप्रस्थ गेट के समीप पान ठेले में ललित तिवारी अपने खाली समय में अपने मित्र अकाश छाबड़ा की मदद करने पान ठेले पर बैठा करता था। बीते दिन दोपहर 1 बजे जब आकाश खाना खाने घर गया। तब ललित ठेले पर बैठा था। उसी समय दो युवक स्कूटी में ठेले के पास आकर रुककर सिगरेट मांगी। सिगरेट देने के बाद जब ललित ने पैसा मांगा तब विवाद करते हुए एक युवक ने जेब से चाकू निकाल लिया साथ ही दूसरे युवक ने ललित के जेब में रखे मोबाइल व ठेले में रखे नगदी रुपए लूटकर फरार हो गए। मामले की शिकायत पर पुलिस ने लूट का मामला दर्ज कर लिया है। साथ ही आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।

12-05-2020
प्रतिबंधित गुटखा, तम्बाखू के साथ 3 गिरफ्तार

महासमुन्द। पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल ठाकुर के सतत निर्देशन में जिले में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने की रणनीति के तहत जहां जिले के पूरे बार्डर को सील कर दिया गया है, वही थाना क्षेत्रों में भी सख्त पहरा लगाकर लोगों के आने-जाने के करणों की भी पूछताछ व सघन जांच कार्यवाही की जा रही है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मेघा टेम्भूरकर एवं अनुविभागीय अधिकारी पुलिस विकास पाटले के कुशल मार्गदर्शन में बसना पुलिस की टीम ने आज थाना बसना क्षेत्र के पौसारा बस्ती मंडी के पास एक तीन सवार मोटर सायकिल को रोककर जांच किया गया।

जांच पर मोटर सायकिल सवार द्वारा अपने पास रखी बोरे नुमा पोटली की जांच करने पर उसमें मुनाफाखोरी करने ले जा रहे भारी मात्रा में प्रतिबंधित राजश्री गुटखा, तम्बाकू सिगरेट कुल 170 पैकेट जिसकी कीमत पच्चीस हजार पांच सौ रुपए की पाए जाने से जप्ती कार्यवाही की गई। साथ ही सप्लाई में उपयोगरत एक मोटर सायकिल एच एफ डीलक्स कीमती तीस हजार रुपये सहित कुल जुमला राशि पचपन हजार पांच सौ रुपये की जप्ती की गई। आरोपी श्याम सुंदर पटेल निवासी ग्राम बरपेलाहीह बसना, मदन लाल पटेल व झनकराम पटेल दोनों ग्राम गहनाखार थाना सिंघोडा के विरुद्ध अपराध धारा 188, 269,270 का घटित होना पाए जाने से आरोपीगण के विरुद्ध मामला पंजीबद्ध कर विवेचना मे लेते हुए आरोपियों को जेल भेजा गया। बसना पुलिस के इस सफलता में थाना प्रभारी निरीक्षक वीणा यादव, प्रधान आरक्षक राजेश सिकरवार, आरक्षक अनिल खांडे एवं आरक्षक महेन्द्र यादव की सक्रियता महत्वपूर्ण रही है। 

03-05-2020
सरकार के प्रतिबंध के बाद भी खुलेआम बिक रहा पान मसाला, सिगरेट, गुड़ाखू जिला प्रशासन कर रहा अनदेखा

सूरजपुर। कोरोना महामारी को लेकर सरकार अलर्ट है। सरकार ने पान मसाला, तंबाकू सामाग्री को पूर्ण प्रतिबंध करते हुए सार्वजनिक जगहों पर थूकने पर जुर्माना तक प्रावधान है। इसके बाद भी जिला मुख्यालय समेत आसपास के क्षेत्रों में थोक व्यापारी खुलेआम ऊंचे दामों में पान मसाला, सिगरेट, गुड़ाखू की बिक्री औने पौने दाम में बेच रहे है, जिसके बाद भी जिला प्रशासन द्वारा आँख बंद किए हुए है। गौरतलब है कि सूरजपुर जिला मुख्यालय के धन्ना सेठ अपने गोदामों में बड़ी भारी वाहनों में ट्रकों में पान मसाला, सिगरेट, गुड़ाखू रखे हुए है। जिसे जिले भर के छोटे व्यपारियों द्वारा यहां सूरजपुर से खरीद कर ले जाने का कार्य करते हैं। थोक व्यापारी द्वारा छोटे दुकानदारों को 3-4 गुणा अधिक में समान बेच रहे है। वहीं हमने अपने पड़ताल में पाया कि 5 रुपये की बिक्री होने वाली पान मसाला की कीमत 15-20 रुपये में बिक्री की जा रही है। तो वहीं 8 रुपये में बिकने वाले धूम्रापान (सिगरेट) 10-15 रुपये में बेची जा रही है। गुड़ाखू कि कीमतों में भी आसमान छू गया है। जो गुड़ाखू कि बाजार कीमत 10 रुपये थी उसे 30-40 रुपये, वहीं गुड़ाखू का बड़ा डिब्बा बाजार दर 20 रुपये है उसे 80-100 रुपये में बेचा जा रहा है। इतनी बड़ी कालाबाजारी जिले में होने के बाद भी जिला प्रशासन द्वारा अब तक कोई कार्यवाही करने की सूचना नहीं मिली है।

22-04-2020
गश्त के दौरान गुटखा सिगरेट बेचते पुलिस ने 3 लोगों को किया गिरफ्तार

रायपुर/बिलासपुर। कोरोना वायरस के संक्रमण के बढ़ने के खतरे को नजरअंदाज करते हुए खुलेआम गुटखा, सिगरेट और तंबाकू बेचते तीन लोगों को गश्त के दौरान गिरफ्तार की है। सिरगिट्टी पुलिस के अनुसार सिरगिट्टी के नगर निरीक्षक यू एन शांत कुमार साहू ने बताया की गश्त के दौरान न्यू लोको कॉलोनी निवासी महेश तिवारी, आदर्श नगर निवासी मो इरफान खान, और महिमा कॉलोनी निवासी विक्की पासी को सिगरेट एवं गुटखा का विक्रय करते पाया गया। तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर इनके पास से हजारों रुपए कीमत का गुटखा और सिगरेट बरामद किया गया है। तीनों आरोपियों के खिलाफ प्रतिबंधात्मक धाराओं के तहत कार्यवाही की जा रही है।

04-03-2020
तंबाकू की राज्य में खपत पर नियंत्रण के लिए विभागीय प्रयास की आवश्यकता : सत्यनारायण राठौर

रायपुर। सिगरेट एवं अन्य तम्बाकू उत्पाद नियंत्रण अधिनियम (कोटपा), 2003 को राज्य मे प्रभावी रूप से कार्यान्वित किए जाने के लिए एक दिवसीय राज्य स्तरीय प्रशिक्षण एवं उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन किया गया। संचालक स्वास्थ्य सेवाऐं एवं परिवार कल्याण संस्थान की ओर से आयोजित इस कार्यशाला मे बीजापुर, बालोद, बलरामपुर, बेमेतरा, दन्तेवाड़ा, जांजगीर-चम्पा, कवर्धा, कोंडागांव, कोरिया, नारायणपुर, रायगढ़, सुकमा, सूरजपुर सहित 13 जिलों के अंर्तविभागीय अधिकारियों ने प्रतिभाग लिया। इस अवसर पर नियंत्रक खाद्य एवं औषधि प्रशासन छत्तीसगढ़, सत्यनारायण राठौर ने बताया कि तंबाकू का सेवन स्वास्थ्य के लिए अत्याधिक हानिकारक होता है। तंबाकू की खपत पर नियंत्रण के लिए सामाजिक जागरूकता एवं कोटपा 2003 और खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम का सख्ती से पालन कराया जाना आवश्यक है। यह सभी की सामाजिक जिम्मेदारी है।

राज्य नोडल अधिकारी डॉ. कमलेश जैन ने कहा तंबाकू के नियंत्रण में केवल आधिकारिक तौर पर नहीं बल्कि सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में भी आगे आने की जरूरत है। तंबाकू के प्रति जागरूकता के अलावा कानून से भी नियंत्रण करने की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि तंबाकू में 4,000 प्रकार के रसायन तत्व मौजूद होते हैं, जिनमें 200 ऐसे विष मौजूद हैं, जिनके बारे में जानकारी मिल चुकी है और यह 60 तरह के कैंसर पैदा करने वाले एजेंट होते हैं। इसीलिए तंबाकू को मौत का दूसरा नाम कहा गया है। कोटपा 2003 को प्रभावी रूप से लागू करवाने में यह प्रशिक्षण कार्यशाला महत्वपूर्ण साबित होगी। दिल्ली से आये मुख्य प्रशिक्षक अधिवक्ता, रंजीत सिंह और अधिवक्ता अनंत क्रिश्चियन (गुजरात) ने सिगरेट एवं अन्य तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम (कोटपा), 2003 के बारे में आए हुए प्रशिक्षणार्थियों को विस्तृत जानकारी दें उन्होंने धारा 4, 5,6 और 7 के बारे में आए हुए प्रशिक्षणार्थियों समझ विकसित की।

राज्य स्तरीय कार्यशाला में पूजा अग्रवाल, अतिरिक्त पुलिस महानिरीक्षक पुलिस मुख्यालय रायपुर, शोएब अली परिवहन विभाग के साथ 13 जिलों के श्रम ,परिवहन, पुलिस, खाद्य एवं औषधि प्रशासन नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग राज्य स्वास्थ्य संसाधन केंद्र मेडिकल कॉलेज एवं डेंटल कॉलेज के प्रतिनिधियों ने कार्यशाला में प्रशिक्षण प्राप्त किया। कार्यशाला में आभार प्रदर्शन आरके सुखदेवे उप-संचालक राज्य स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण संस्थान रायपुर एवं डॉ. कमलेश जैन राज्य नोडल अधिकारी की ओर से किया गया। प्रशिक्षण में विशेष रूप से ख्याति जैन राज्य विधिक सलाहकार एनटीसीपी, श्वेता आडिल प्रशिक्षण सलाहकार, गौरव खरे तंबाकू नियंत्रण इकाई का योगदान रहा।

13-02-2020
सार्वजनिक स्थानों पर सिगरेट का कश लेना डाल सकता है मुश्किल में,कोटपा के तहत होगी चालानी कार्यवाही

बिलासपुर। तंबाकू मुक्त जिला बनाने के लिए कलेक्टर डॉ.संजय अलंग द्वारा सिगरेट एवं अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम कोटपा 2003 के प्रावधानों के क्रियान्वयन,निगरानी एवं उल्लंघन होने पर कानूनी कार्यवाही किए जाने के लिए सभी विभागों द्वारा गठित परिवर्तन दलों(एनफोर्समेंट स्कॉट) को कार्यवाही सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.प्रमोद कुमार महाजन ने बताया कोटपा अधिनियम के क्रियान्वयन सुनिश्चित करने के लिए धारा 4 से 7 तक के प्रावधानों के तहत कार्यवाही की जाएगी। प्रशासन द्वारा शुरू की जाने वाली चालानी कार्यावाही की जानकारी देते हुए गैर संचारी रोग के नोडल डॉ.बीके वैष्णव ने बताया कोटपा अधिनियम की धारा 4 एवं 6 के अंतर्गत समस्त सार्वजनिक स्थलों एवं कार्यस्थलों पर गैर ध्रूमपान क्षेत्र का बोर्ड लगाया जाना और बोर्ड पर प्रभारी अधिकारी सहायक नोडल अधिकारी का नाम लिखा जाना अनिवार्य होगा। सार्वजनिक स्थल जैसे-रेलवे स्टेशन,बस स्टैंड, बाजार,शासकीय कार्यालय,समस्त शैक्षणिक संस्थाएं,गार्डन,सिनेमा हॉल,मॉल,अस्पताल और समस्त सार्वजनिक स्थल पर धूम्रपान करते पाए जाने पर 200 रूपये तक का जुर्माना तथा 1 साल की सजा दोनों प्रावधानों से दण्डित किया जा सकता है। समस्त पान दुकान, किराना दुकान और होलसेल विक्रेता,जिनमें तंबाकू पदार्थ का वितरण और सेवन किया जाता है उन स्थानों पर धूम्रपान करना गैर कानूनी अपराध है। इन स्थानों पर धूम्रपान निषेध का बोर्ड एवं नाबालिग व्यक्तियों को तंबाकू उत्पाद ना बेचने का बोर्ड लगाया जाना अनिवार्य है। आदेश का पालन न किए जाने पर बोर्ड तथा धूम्रपान करने वाले व्यक्ति को 200 रूपये तक का जुर्माना तथा 1 साल की सजा दी जा सकती है।

 

10-01-2020
कोटपा-2003 की धाराओं पर व्यापारियों का हुआ प्रशिक्षण

रायपुर। जिला में तंबाकू उत्पाद के थोक व्यापारियों (होल सेलरो) को सिगरेट एवं अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम (कोटपा) 2003 पर एक दिवसीय प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य थोक व्यापारियों को सरकार द्वारा बनाए गए नियमों पर समझ स्पष्ट करके लागू करवाना था। सिगरेट एवं अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम की विभिन्न धाराओं के साथ साथ नशा मुक्त के विषय पर भी व्यापारियों को जागरूक किया गया।
प्रशिक्षण की जानकारी देते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी नोडल अधिकारी राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम डॉ.मीरा बघेल ने बताया सिगरेट एवं अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम (कोटपा) 2003 में  सरकार द्वारा बनाए गए नियमों को जिला के तंबाकू उत्पाद के थोक व्यापारियों की मदद से ज़िले में प्रभावी रुप से लागू करवाना है।


मुख्य प्रशिक्षक,सहायक प्रो.डॉ.शिल्पी जैन ने प्रतिभागियों को तंबाकू और नशे से होने वाली बीमारियां एवं आदत छुड़ाने में उपयोग की जाने वाली दवाइयों की जानकारी भी दी गई। खाद्य सुरक्षा अधिकारी बृजेन्द्र भारती ने थोक व्यापारियों को खाद्य व तंबाकू संबंधी लायसेंस के विषय  में विस्तार से चर्चा की और नियमों के प्रति जागरूक भी किया। द यूनियन संस्था के डिविजनल कॉर्डिनेटर प्रकाश श्रीवास्तव ने जुवेनाइल जस्टिस (जेजे) एक्ट, 2015 एवं कोटपा एक्ट 2003 के विषय पर आये थोक व्यापारियों को अवगत कराया गया। राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठकी जिला सलाहकार डॉ.सृष्टि यदु ने थोक व्यापारियों को तंबाकू नशा मुक्ति एवं कोटपा अधिनियम 2003 की धाराओं के विषय में विस्तृत जानकारी दी। उन्होने थोक व्यापारियों को बताया 18 वर्ष से काम उम्र के बच्चो के खरीदी बिक्री में प्रतिबंध व धूम्रपान रहित क्षेत्र का सभी पान दुकानों में बोर्ड लगाने के लियें निर्देश भी दिया गया। प्रशिक्षण में विशेष रूप से युवा वर्ग को तंबाकू उत्पाद,पान दुकानों से दूर रखने और सरकार द्वारा बनाए गए नियमों का पालन करने पर प्रिंट संदेशों के बोर्ड भी वितरित किये गये। प्रशिक्षण में आए सभी को 18 वर्ष के काम उम्र के बच्चों के खरीदी बिक्री में प्रतिबंध व धूम्रपान रहित क्षेत्र का बोर्ड भी वितरित किए। साथ ही थोक व्यापारी को सभी पान दुकानों में बोर्ड लगाने के लियें भी कहा गया। प्रशिक्षण जिला कार्यक्रम प्रबंधक मनीष मेजरवार के मार्गदर्शन में संपन्न हुआ। कार्यक्रम को सफल बनाने में सोशल वर्कर नेहा सोनी और अजय बैस की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

 

08-12-2019
कोटपा की धारा 4 और 6 के तहत हुई चालानी कार्यवाही, सार्वजानिक स्थानों पर ले रहे थे कश

बिलासपुर। राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम अन्तर्गत जिले को पूर्णतः तंबाकू मुक्त बनाये जाने के उद्देश्य से कलेक्टर डॉ.संजय अलंग एवं डिप्टी कलेक्टर अंशिका पांडेय के आदेशा पर स्वास्थ्य विभाग के नेतृत्व में चालानी कार्यवाही की गई। धारा 4 के तहत 35 और धारा 6 के तहत 3 चालान काटकर 7600 रूपए की राशि जुर्माने के तौर पर वसूल की गई। कार्यवाही का उद्देश्य शहरी क्षेत्रों में सिगरेट एवं अन्य तम्बाकू उत्पाद अधिनियम (कोटपा), 2003 को जिले के शहरी क्षेत्रों में सख्ती से लागू करना। कारवाही सिम्स अस्पताल के आसपास और कंपनी गार्डन क्षेत्र की पान दुकानों में की गई। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.प्रमोद महाजन ने बताया कार्यवाही का उद्देश्य लोगों में सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान करने और उसके दुष्परिणाम से बचाने के लिए किया गया। जिला नोडल अधिकारी डॉ.बीके वैष्णव ने कहा ज़िला कलेक्टर डॉ.संजय अलंग की अध्यक्षता में हुई बैठक में निर्णय लिया गया था। इसमें जिले के शहरी क्षेत्रों को तंबाकू मुक्त क्षेत्र बनाये जाने का निर्णय हुआ था। चालानी कार्यवाही का उद्देश्य कोटपा अधिनियम 2003 धाराओं को शहरी क्षेत्रों में लागू करना है ।
कार्यवाही के दौरान पान स्टाल पर धूम्रपान किया जा रहा था एवं बिना चेतवानी चिन्ह के तम्बाकू पदार्थो को बेचा जा रहा था। इस संबंध में दुकान के मालिक सहित वहां पर आए लोगों को भी कोटपा एक्ट 2003 के बारे में जागरूक कराया गया। जिले को पूर्णता तंबाकू सेवन से मुक्त जिला बनाए जाने के उद्देश्य से जिले में कोटपा अधिनियम 2003 के अधिनियम की धारा 4 एवं 6 के अंतर्गत समस्त सार्वजनिक स्थलों एवं कार्यस्थलों पर गैर ध्रूमपान क्षेत्र का बोर्ड लगाया जाना और बोर्ड पर प्रभारी अधिकारी सहायक नोडल अधिकारी का नाम लिखा जाना अनिवार्य है। कार्यवाही में मुख्य रूप से स्वास्थ्य विभाग,औषधि विभाग,पुलिस विभाग, द यूनियन के सलाहकार का सहयोग रहा।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804