GLIBS
18-01-2021
निगम से सिद्धार्थ डोंगरे और  अमीन हुड्डा जिला योजना समिति के निर्विरोध सदस्य बने

राजनांदगांव। छग जिला योजना समिति अधिनियम 1995 के धारा 11 (1) के अंतर्गत राज्य सरकार द्वारा बनाये गये छग जिला योजना समिति निर्वाचन नियम 1995 के नियम 3 के तहत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए टोपेश्वर वर्मा, जिलाधीश एवं सचिव जिला योजना समिति राजनांदगांव द्वारा जिला योजना समिति राजनांदगांव के गठन के लिए 18 जनवरी को निर्वाचन कराये जाने प्रथम सम्मेलन आयोजित किया गया। जिला योजना समिति राजनांदगांव के लिये जिला पंचायत सदस्यो के बीच से 13 सदस्य एवं नगरीय क्षेत्रों के निर्वाचित पार्षदों के बीच राजनांदगांव नगर निगम से 02, नगर पालिका परिषदों एवं नगर पंचायतों से 1 सदस्य का निर्वाचन किया जाना था। नगरीय निकाय क्षेत्रों के 03 निर्वाचन सदस्य के लिये आज बल्देव प्रसाद मिश्र हायर सेकेन्ड्री स्कूल में निर्वाचन कराया जाना था।जिला योजना समिति के निर्वाचन के संबंध में महापौर हेमा देशमुख ने बताया कि निर्वाचन के लिए छग अल्प संख्यक आयोग के सदस्य  हफीज खान, पूर्व महापौर नरेश डाकलिया व सुदेश देशमुख तथा पूर्व नगर निगम अध्यक्ष  रमेश डाकलिया को प्रभारी बनाया गया था।

प्रभारियों की उपस्थिति में वार्ड नं. 12 के पार्षद सिद्धार्थ डोंगरे एवं वार्ड नं. 30 के पार्षद अमीन हुड्डा का नाम प्रस्तावित किया गया। इसपर सभी कांग्रेस के पार्षदों ने एक मत सहमति दी। सहमति उपरांत सभी प्रभारियों ने वरिष्ठ पार्षद एवं जिला शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के साथ बल्देव प्रसाद मिश्र स्कूल जाकर निर्वाचन अधिकारी के पास दोनों नाम की सूची प्रेषित किये और  सिद्धार्थ डोंगरे एवं  अमीन हुड्डा नगर निगम से जिला योजना समिति राजनांदगांव के लिये निर्विरोध सदस्य चुने गये।डोंगरे एवं हुड्डा के सदस्य चुने जाने पर प्रभारियों सहित महापौर हेमा देशमुख, निगम अध्यक्ष हरिनारायण पप्पू धकेता सहित पार्षदों, नामांकित पार्षदों ने उन्हें बधाई एवं शुभकामनाएं दी। इसके पश्चात नगर निगम में फटाका फोडकर, माला पहनाकर, मिठाई खिलाकर इनका स्वागत किया गया। 

 

 

15-01-2021
निगम ने 11 स्थानों पर कार्यवाही कर हटाया अतिक्रमण

दुर्ग। कातुलबोर्ड वार्ड के साकेत कालोनी की 80 फीट सड़क पर यहॉ के 14 लोगों ने सड़क भाग को घेर कर बाऊड्रीवाल, फेसिंग तार लगाकर, कुछ चबुतरा बनाकर सड़क को संकरा कर दिया था। इससे सफाई में परेशानी हो रही थी। वहीं आसपास के क्षेत्र में गंदगी से लोग परेशान थे और आवागमन भी प्रभावित हो रहा था। इसकी शिकायत कलेक्टर टीएल में भी की गई थी। इसके आधार पर आज आयुक्त इंद्रजीत बर्मन के निर्देशानुसार साकेत कालोनी के इस सड़क से 11 लोगों के अतिक्रमण को जेसीबी से हटाया गया। तीन लोगों को अपना अतिक्रमण हटाने तीन दिनों का समय भवन अधिकारी द्वारा दिया गया है। कार्यवाही के दौरान अतिरिक्त तहसीदार प्रीतम चौहान, भवन अधिकारी प्रकाशचंद थवानी, सहा. भवन अधिकारी गिरीश दीवान, उपअभियंता विनोद मांझी, अतिक्रमण प्रभारी शिव शर्मा, के अलावा मोहन नगर थाना टीआई अवधराम,एएसआई विरेन्द्र सिंह, उमेश देशमुख, नवीन यादव, शानू सिंह, कृति पांडेय, सहित पुलिस बल मौजूद थे ।

 

12-01-2021
रायपुर के इस चौक का नाम निगम के रिकार्ड में नहीं है दर्ज,एमआईसी सदस्य ने की मांग

रायपुर। राजधानी रायपुर के भारत माता चौक का नाम निगम क रिकार्ड में नहीं है।  नगर निगम के एमआईसी सदस्य सुंदर रूखमणी जोगी ने गुढ़ियारी स्थित भारत माता चौक का नाम निगम के रिकार्ड में विधिवत दर्ज करने की मांग की है। इस संबंध में उन्होंने नगरीय निकाय मंत्री डॉ. शिव डहरिया, महापौर एजाज ढेबर और निगमायुक्त सौरभ कुमार को ज्ञापन सौंप है। उन्होंने कहा है कि गुढ़ियारी स्थित भारत माता चौक का नामकरण हो चुका है,किंतु चौक का नाम रायपुर नगर निगम के रिकार्ड में दर्ज नहीं किया गया है। एमआईसी सदस्य जोगी ने नाम दर्ज करने की मांग की है।

 

30-12-2020
कबाड़ की बनी मशीन का क्रय आदेश निरस्त कर,नई मशीन का क्रय करें निगम : भाजपा

जगदलपुर।  भाजपा पार्षद दल एवं पार्टी के नेता एक्वैटिक वीड हार्वेस्टर मशीन का निरीक्षण करने बुध्वार को आयुक्त के पत्र के साथ पहुँचे। विदित हो कि इस मशीन के संबंध में भाजपा पार्षद दल ने इसके अनियमितता एवं कबाड़ होने के संदर्भ में महापौर को पत्र लिखा लिखा था, पत्र के जवाब में आयुक्त ने जानकारी दी है तथा यह पत्र महापौर को भी प्रेषित किया गया है।इस पत्र में निविदा पत्र, निर्माता कम्पनी का  सर्टिफिकेट, इंजन तथा कन्वेयर बेल्ट का बिल दिया गया है तथापि यह बताया गया है कि चूंकि यह मशीन केरल के तटीय क्षेत्र में रखने से आद्रतावश इसके हिस्से पुराने से प्रतीत होते है। निरीक्षण के पश्चात भाजपा पार्षद दल ने महापौर को अपनी माँगो के साथ एक ज्ञापन सौंपा।
इस ज्ञापन में संजय पांडे ने आरोप लगाया है कि इस जवाब से ना तो पार्षद दल और ना ही शहर की जनता सहमत है। निविदा में जो स्पेशिफिकेशन रखे गये थे वह निर्माता कम्पनी के द्वारा बताये गये थे तथापि इस स्पेशिफिकेशन का निर्माण और कोई अन्य उद्योग नहीं करता है। जिन दो नागपुर के डीलरों ने निविदा में भाग लिया है वे निर्माता कम्पनी के ही डीलर है। ऐसे में यह टेण्डर अपने आप में गलत तथा दर की प्रतिस्पर्धा ना होकर आपसी तालमेल से दर डाले गये हैं स्पष्ट है।निर्माता कम्पनी ने जो बिल दिनांक 30 मई 2017 का प्रस्तुत किया है, वह टिन नम्बर तथा सीएसटी नम्बर का बिल दिया है जोकि जीएसटी आने से काफी पहले समाप्त हो गये है। इससे यह बिल फर्जी प्रतीत होता है। बिल में इंजन का इंजन नम्बर नहीं बताया गया है, जिस कारण से इंजन नम्बर मिलान नहीं हो सकता।

इससे यह सिद्ध है कि यह इंजन काफी पुराना है। इसकी कीमत 1,25,624 रूपये बताई गयी है। कन्वेयर बेल्ट की कुल लम्बाई लगभग 40 मीटर है तथा बिल अनुसार इसकी कीमत 3,50,000 रूपये है।मशीन के दो बड़े कम्पोनेंट इंजन तथा कन्वेयर बेल्ट की कुल कीमत 4,75,000. रूपये है, ऐसे में मशीन की कीमत 73.96 लाख रू बहुत अधिक तथा अनुचित प्रतीत होती है। पाण्डेय ने कहा कि निर्माता कम्पनी को यह बेहतर मालूम है कि आद्रता से नट बोल्ट सड़ जाते है तो उसने एलाय जैसे एसएस या पीतल या आद्रता सहने वाले नट बोल्ट का उपयोग नहीं करना,गंभीर लापरवाही है। कई सामान तो कबाड़ से ही प्राप्त किया गया है एवं मशीन की बाडी में तीन अलग अलग कोट के रंग लगाना भी इसके कबाड़ की कहानी बयां करती है।जबसे मशीन आई है इतने अल्प काल में ही उसे तीन बार पानी से बाहर कर बनाया गया है तथा रोजाना कुछ ना कुछ खराबी की खबर आती रहती है।सुरेश गुप्ता अध्यक्ष भाजपा ने महापौर से कहा है कि पार्षददल की मांग है कि ऐसे गंभीर अनियमितताओं के कारण यह मशीन का आदेश निरस्त करें तथा पुनः निविदा बुलाकर प्रतिस्पर्धा के द्वारा दर का निर्धारण कर नई मशीन बीएस 6 मापदण्ड की क्रय की जावे एवं जिम्मेदार अधिकारी एवं कर्मचारियों पर कार्यवाही करें। इससे दूध का दूध और पानी का पानी स्पष्ट हो जावेगा तथा जनता के पैसे का सदुपयोग होगा।ज्ञापन मे कहा गया है कि आशा है आप जनआकांक्षाओं अनुसार निर्णय लेंगी अन्यथा पार्षददल इस पूरे प्रकरण की जांच हेतु अन्य संस्थाओं से गुहार लगायेगा। ज्ञापन की प्रतिलिपि कलेक्टर एवं आयुक्त को भी दी गई है !कलेक्टर ने जाँच करवाने का आश्वासन दिया है। ज्ञापन के दौरान नेता प्रतिपक्ष संजय पाण्डेय,सुरेश गुप्ता,खेमसिंह देवांगन,राजपाल कसेर,निर्मल पानीग्राही,दिगम्बर राव,त्रिवेणी रंधारी,धनसिंग नायक,आलोक अवस्थी एमोतीराम बघेल,शंभु नाग, महेन्द्र पटेल, दण्तेश्वर राव दन्ती,राकेश तिवारी,आनन्द झॉ,राजा यादव,रवि कश्यप,मनोज पटेल,परेश ताटी,अभिषेक तिवारी,भुवनेश नाग,एवं निगम के इंजीनियर अमर सिंह मौजूद थे।

 

28-12-2020
अवैध प्लाटिंग पर निगम ने की इस वर्ष कई बड़ी कारवाई, बहुतों के खिलाफ कराया एफआईआर

भिलाई। नगर पालिक निगम भिलाई क्षेत्र में अवैध प्लाटिंग करने वालों के खिलाफ निगम प्रशासन ने कई बड़ी कारवाई की है और बहुतों के विरूद्ध इस प्रकार के मामले में कानूनी कारवाई के लिये एफआईआर दर्ज कराने पत्र भी प्रेषित किया गया है। इसके अलावा जमीनों पर अतिक्रमण करने वालों पर भी निगम प्रशासन ने शिकंजा कसा है। अवैध प्लाटिंग पर जुनवानी, कुरूद, कोहका क्षेत्र में सबसे अधिक कारवाई की गई है। 25 से अधिक स्थानों से मार्ग संरचना को इस वर्ष ध्वस्त कर जमीन को मूल स्वरूप में तब्दील करने का कार्य किया गया है। कई ऐसे प्लाटों के बिक्री नकल पर रोक लगाने निगम ने पंजीयक, तहसीलदार, संयुक्त संचालक, नगर तथा ग्राम निवेश से पत्राचार किया है। कई ऐसे भूमि जो अवैध प्लाटिंग से संबंधित थे, उनके खसरा नं. रकबा एवं खातेदार का नाम एवं पता जुटाने का कार्य किया गया है। अवैध प्लाटिंग के कारवाई में मार्ग संरचना ध्वस्त करने के अलावा कुछ स्थानों से सीमेंट पोल हटाने, मुरूम जब्ती, सामग्री जप्ती, डीपीसी लेवल तोड़ने, फैंसिंग ध्वस्त करने तथा काॅलम हटाने का कार्य भी सम्मिलित है। अवैध रूप से प्लाटिंग कर विक्रय करने के लिये प्रचार करने वालों को भी निगम ने नहीं बक्शा है।

हाॅल ही में बीबीसी के खिलाफ बड़ी कारवाई की गई है। दुकान को सील करने के साथ ही एफआईआर भी कराया गया। अवैध प्लाटिंग पर इस वर्ष कई बड़ी कारवाई को अंजाम दिया गया है। सूचना एवं शिकायत पर भी निगम द्वारा त्वरित कारवाई की जा रही है। निगम के इस प्रकार की कार्यवाही से अवैध प्लाटिंग कर्ताओ पर अंकुश लग रहा है। उल्लेखनीय है कि निगमायुक्त  ऋतुराज रघुवंशी के निर्देश पर इस वर्ष निगम क्षेत्र में अवैध प्लाटिंग के खिलाफ जमकर कार्रवाई हुई है। नेहरू नगर एवं वैशाली नगर जोन क्षेत्र में सबसे ज्यादा कार्यवाही हुई है! छत्तीसगढ़ नगर तथा ग्राम निवेश अधिनियम 1973 की धारा 37 के विभिन्न अधिनियमों के प्रावधानों के तहत एवं छ.ग. नगर पालिक निगम अधिनियम 1956 की धारा 308 के तहत कई सारी कार्यवाहियां निगम क्षेत्र में की गई है। भूखंड क्रय विक्रय करने से पहले अच्छी तरह से जांच पड़ताल करना आवश्यक है। अन्यथा अवैध भूखंड का क्रय विक्रय करने पर अनावश्यक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

 

22-12-2020
स्वच्छता सर्वेक्षण के लिए निगम ने कसी कमर,डोर टू डोर कचरा संग्रहण और पालिथीन मुक्त करने अभियान तेज

राजनांदगांव। विगत वर्ष की तरह इस वर्ष 2021 में भी स्वच्छता सर्वेक्षण मेें उच्च स्थान प्राप्त करने नगर निगम द्वारा व्यापक प्रबंध किया जा रहा है। इसके तहत विशेष सफाई अभियान चलाकर पॉलिथीन से मुक्ति, डोर टू डोर कचरा संग्रहण तथा डस्टबिन का उपयोग करने के साथ साथ कोरोना संक्रमण के बढते प्रकोप को देखते हुये समाजिक दूरी का पालन करने व मास्क का उपयोग करने की समझाइश दी जा रही है। स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 को ध्यान में रखते हुए नगर निगम आयुक्त चंद्रकांत कौशिक एवं उपायुक्त सुदेश सिंह द्वारा सफाई का निरीक्षण कर स्वास्थ्य सेवाओें मेें गुणात्मक सुधार लाने स्वास्थ्य अमले को निर्देशित कर रहे है। नगर निगम द्वारा पालीथीन मुक्त करने झिल्ली, पन्नी के विरूद्ध अभियान चलाया जा रहा है और नागरिकों एवं व्यवसायियों को इसका उपयोग नहीं करने समझाइश भी दी जा रही है। एक विशेष क्षेत्र को लेकर जहॉ पर अत्याधिक पॉलीथिन, झिल्ली-पन्नी है वहा युद्ध स्तर से हटाने की कार्यवाही भी की जा रही है।

इसी क्रम में सार्वजनिक शौचालय,सामुदायिक शौचालय में सफाई पर जोर देते हुए वहा के दरवाजा आदि मरम्मत कर पानी, विद्युत व्यवस्था दुरूस्त की जा रही है। साथ ही साफ-सफाई पर विशेष रूप से ध्यान देेते हुए लम्बे समय से एकत्रित कचरा उठाकर साफ करने, एक स्थान पर कचरा इक्ट्ठा होने नहीं देने सफाई मित्रों,स्वच्छता दीदियों, सुपरवाइजर, सफाई चपरासी, सफाई दरोगा एवं स्वच्छता निरीक्षकों को निर्देशित किया जा रहा है तथा सफाई में लापरवाही बरतने व लम्बे समय से अनुपस्थित कर्मचारियों के विरूद्ध कार्यवाही करने के भी निर्देश स्वास्थ्य अधिकारी को दिए गए हैं। इसी के साथ साथ प्रत्येक घरों व प्रतिष्ठानों से डोर टू डोर कचरा एकत्रित करने एवं शतप्रतिशत यूजर चार्ज वसूलने के साथ साथ डस्टबिन का उपयोग करने, पॉलिथीन का उपयोग नहीं करने की समझाईस देने स्वाच्छता दीदियों को भी निर्देशित किया गया है। इसी के साथ गत वर्ष की तरह इस वर्ष भी स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 में उच्च स्थान प्राप्त करने नागरिकों सहित व्यापारियोें, सामाजिक संस्थाओं, पत्रकार बंधुओं से सहयोग करने अपील भी की जा रही है। 

 

13-12-2020
गोलबाजार में किया गया वीडियो सर्वे,सोमवार से निगम की राजस्व टीम चलाएगी अभियान 

रायपुर। नगर निगम के राजस्व विभाग की टीम की ओर से विगत दिवस गोलबाजार का ड्रोन सर्वे और रविवार को वीडियो सर्वे किया गया। विगत दिवस किए गए ड्रोन सर्वे से नगर निगम के राजस्व विभाग को यह जानकारी प्राप्त होगी कि खुलने के बाद गोलबाजार कैसा दिखता है। आज रविवार को बंद दुकानों के वीडियो सर्वे से नगर निगम के राजस्व विभाग को यह जानकारी प्राप्त हो सकेगी कि बंद होने पर गोलबाजार कैसा दिखता है। महापौर एजाज ढेबर और आयुक्त सौरभ कुमार के निर्देश पर नगर निगम की राजस्व विभाग टीम गोलबाजार की प्रत्येक दुकान की लम्बाई और चौड़ाई की नाप लेगी। निगम राजस्व विभाग के अधिकारियों ने बताया कि प्रारंभिक सर्वे के दौरान नगर निगम राजस्व विभाग की टीमों की ओर से स्थल पर दुकानदारों से दुकान से संबंधित दस्तावेज भी लिए जाएंगे। प्रारंभिक सर्वे के दौरान किसी भी दुकानदार को नगर निगम राजस्व विभाग की टीम की ओर से दुकान के दस्तावेज देने कोई निर्देश नहीं दिया जाएगा।

12-12-2020
कचरा फैलाने वाले दुकानदारों पर निगम ने लगाया 3800 जुर्माना, डस्टबिन नहीं रखने वाले से वसूला अर्थदंड

भिलाई। नगर पालिक निगम भिलाई क्षेत्र अंतर्गत कचरा फैलाने वाले दुकानों से निगम की टीम ने जुर्माना वसूल किया। आयुक्त  ऋतुराज रघुवंशी ने गंदगी फैलाने वालों पर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए है। इसी क्रम में जोन क्रमांक एक के जोन आयुक्त सुनील अग्रहरि की टीम ने द्वितीय पाली में संध्याकालीन दुकानों का निरीक्षण किया और गंदगी फैलाने वालों पर जुर्माने की कार्रवाई करते हुए अर्थदंड वसूल किया। जोन 1 के स्वास्थ्य अधिकारी अंकित सक्सेना अपनी टीम के साथ वार्ड क्रमांक 3 नेहरू नगर, वार्ड 05 लक्ष्मीनगर मार्केट, वार्ड 06 आकाशगंगा, राधिकानगर व सुपेला क्षेत्र पहुंचे इस दौरान वार्ड 6 के महेन्द्र द्वारा डस्टबिन नहीं रखने पर 100 रुपए, वार्ड 03 कोसानगर के प्रशांत से 500 रुपए, वार्ड 06 आकाशगंगा के चम्पालाल द्वारा प्रतिबंधित कैरी बैग उपयोग करते पाए जाने पर 200 रुपए, वार्ड 05 के गौरव दत्ता द्वारा डस्टबिन नहीं रखने पर 200 रुपए, वार्ड 6 दिनेश भीवगडे से प्रतिबंधित डिस्पोजल विक्रय करने पर 500 रुपए, नन्नू टी स्टॉल आकाशगंगा से 500 रुपए, वार्ड 3 के प्रमोद से 200 रुपए, वार्ड 3 के गौरव से 200 रुपए, वार्ड 03 के चंदन से 200 रुपए, वार्ड 03 के संतोष से 200 रुपए, लक्ष्मी मार्केट के गोल्डी सावानी से 1000 रुपए का अर्थदंड वसूला गया। इस प्रकार कुल 11 व्यवसायियों से 3800 रुपए जुर्माना वसूल करने की कार्रवाई की गई। फास्ट फूड जैसे अधिकतर दुकाने संध्याकालीन संचालित होती है, ठेले पर ज्यादातर खाद्य सामग्री संध्याकालीन एवं रात्रि के समय लगती है और इसी दरमियान कचरे को अव्यवस्थित तरीके से फेंकने की शिकायत प्राप्त होती है। जिसका निरीक्षण करने निगम की टीम लगातार ऐसे क्षेत्रों के लिए निकल रही है। कचरा पसारने वाले दुकानदारों को समझाइश देने साथ ही जुर्माना भी वसूल किया जा रहा है। कार्रवाई की गई दुकानों में पुनः जाकर निगम की टीम फीडबैक भी प्राप्त कर रही है। स्वच्छता के प्रति जागरूकता के उद्देश्य के साथ दुकानों में सूखा एवं गीला कचरा के लिए डस्टबिन रखे जाने प्रेरित भी किया जा रहा है, फिर भी समझदारी नहीं दिखाने वाले दुकानदारों से जुर्माना वसूलने की कार्रवाई की जा रही है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804