GLIBS
29-07-2020
Video : जांजगीर कलेक्टर ने लॉक डाउन का लिया जायजा, बिना आईडी कार्ड के ड्यूटी कर रहे कर्मचारियों को लगाई फटकार

जांजगीर-चांपा। कलेक्टर यशवंत कुमार और पुलिस अधीक्षक पारूल माथुर ने कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए नगरीय निकायों में लागू प्रतिबंधात्मक आदेश और लाकडाऊन का जायजा लिया। उन्होंने नगर पंचायत राहौद, खरौद, शिवरीनारायण और नवागढ़ का निरीक्षण किया। लाकडाउन के उल्लंघन और बिना मास्क वाले प्रकरणों पर कार्रवाई करते हुए अर्थदण्ड वसूला गया। लाकडाउन के दौरान अब तक नगर पंचायत राहौद में 28 हजार रुपए, शिवरीनारायण में 25 हजार रुपए और नवागढ़ में 1300 रुपए अर्थदण्ड वसूला गया है। कलेक्टर ने बिना आईडी कार्ड के ड्यूटी कर रहे नगरीय निकाय व राजस्व विभाग के कर्मचारियों के प्रति नाराजगी व्यक्त की। उन्होने संबंधित एसडीएम और नगरीय निकाय के सीएमओ को तत्काल आईडी कार्ड उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। 

कलेक्टर ने कहा कि लाकडाउन के निर्देशों का पालन करवाने के लिए लगातार मुनादी करवाते रहें, ताकि लोग निर्देशों के प्रति जागरूक रहें। उन्होंने कहा कि सड़क पर आवागमन कर रहे लोगों से पूछताछ करते रहें, अनावश्यक घूमते पाये जाने पर मोटर व्हीकल एक्ट के तहत कार्यवाई कर वाहन जप्ती की कार्रवाई की जाए। कलेक्टर ने कहा कि स्वास्थ्य सहित अन्य अति आवश्यक कार्य से निकले लोगों को परेशानी ना हो, इस बात का ध्यान रखा जाए। कलेक्टर ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि स्वास्थ्य विभाग की एडवायजरी और निषेधाज्ञा के आदेश का कड़ाई से पालन करें।

24-07-2020
कंपनियां नौकरी से निकल रही है कर्मचारियों को,रतन टाटा ने जताई नाखुशी, कहा-छंटनी समस्या का समाधान नहीं

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बीच कंपनियों के द्वारा की जा रही छंटनी पर टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन रतन टाटा ने नाखुशी जताई है। रतन टाटा ने कहा कि छंटनी किसी भी समस्या का समाधान नहीं है। उनके मुताबिक छंटनी समस्या को लेकर तेजी से लिया गया एक एक्शन है, इससे पता चलता है कि टॉप मैनेजमेंट में अपने कर्मचारियों के लिए सहानुभूति की कमी है।
रतन टाटा ने कहा कि वो मानते हैं कि संकट में वो सभी बदलाव करने होंगे,जो आपको लगता है कि बचे रहने के लिए सही और आवश्यक हैं। हालांकि अगर आप अपने कारोबार से जुड़े लोगों को लेकर संवेदनशील नहीं हैं तो इस तरह से आप न तो कारोबार कर सकते हैं और न हीं संकट के दौर में बचे रह सकते हैं। उनके मुताबिक घर से काम जारी रखना एक विकल्प हो सकता है लेकिन छंटनी आपकी समस्या खत्म नहीं करेगा क्योंकि कर्मचारी भी आपकी अपनी जिम्मेदारी हैं।
रतन टाटा के मुताबिक कोरोना संकट अभूतपूर्व संकट है। ये ऐसे वक्त पर आया है जब अर्थवयवस्थाएं पहले से ही आर्थिक मंदी में फंस रहीं हैं और दुनिया की बड़ी अर्थव्वस्थाओं जैसे भारत-चीन और अमेरिका-चीन के बीच तनाव का माहौल है। वहीं अप्रवासी मजदूरों के हालात पर इंडस्ट्री की नैतिकता पर सवाल उठाते हुए रतन टाटा ने कहा कि जिस तरह से अप्रवासी मजदूरों को बिना खाना, बिना काम और बिना रहने की जगह के बेसहारा छोड़ दिया उससे पता चलता है कि कारोबारी नैतिकता का कितना अभाव है। उनके मुताबिक ये वो लोग हैं जो पूरे साल आपको सेवा देते हैं, क्या यही कंपनियों की नैतिकता की परिभाषा है।
टाटा ग्रुप ने इस महामारी के बीच किसी भी कर्मचारी को नौकरी से नहीं निकाला है। हालांकि कंपनी ने टॉप मैनजमेंट की सैलरी में कटौती की है। टाटा ग्रुप की कई कंपनियां उन सेक्टर में हैं जहां महामारी की सबसे ज्यादा मार पड़ी है, लेकिन ग्रुप ने उन कंपनियों में से किसी को लागत घटाने के नाम पर नौकरी से नहीं निकाला। हालांकि होटल, टूरिज्म और एविएशन जैसे सेक्टर की कई अन्य कंपनियों ने कर्मचारियों की छंटनी की है।

24-07-2020
पर्यावरण संरक्षण व संवर्धन के लिए अंबिका सिंहदेव ने किया फलदार पौधों का रोपण

कोरिया। विकासखंड बैकुण्ठपुर के ग्राम सलका में स्थित लाइवलीहुड कॉलेज परिसर एवं पॉलीटेक्निक कन्या छात्रावास परिसर में शुक्रवार को फलदार पौधों का रोपण कर बैकुण्ठपुर विधायक एवं संसदीय सचिव अम्बिका सिंहदेव, कलेक्टर एसएन राठौर, सीईओ जिला पंचायत तूलिका प्रजापति, एसडीएम बैकुण्ठपुर ज्ञानेन्द्र ठाकुर व सांसद प्रतिनिधि प्रदीप गुप्ता सहित स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों ने पर्यावरण संरक्षण व संवर्धन का संदेश दिया। इस दौरान कलेक्टर राठौर ने पौधों की सुरक्षा एवं उचित देखभाल के लिए संबंधित अधिकारियों व कर्मचारियों को निर्देश दिए।
इसके बाद कलेक्टर राठौर बैकुण्ठपुर स्थित एसडीएम कार्यालय के औचक निरीक्षण पर पहुंचे। एसडीएम बैकुण्ठपुर की उपस्थिति में यहां उन्होंने एसडीएम कक्ष का अवलोकन किया। कलेक्टर  राठौर ने इस दौरान राजस्व प्रकरणों की जानकारी ली एवं संबंधित पंजियों का अवलोकन किया। उन्होंने डायवर्सन मामलों से संबंधित पंजी का अवलोकन करने के साथ ही अन्य लंबित प्रकरणों की भी जानकारी ली। कलेक्टर राठौर ने तहसील कार्यालय का भी निरीक्षण किया। इस दौरान संबंधित अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।

24-07-2020
Video: मलगांव में तालाब तोड़े जाने को लेकर गहराया विवाद, कर्मचारियों को ग्रामीणों ने बनाया बंधक

कोरबा। दीपिका विस्तार परियोजना के लिए ग्राम मलगांव की जमीन को एसईसीएल प्रबंधन ने अधिग्रहित किया है। बीती रात एसईसीएल प्रबंधन की टीम ग्राम मलगांव स्थित तालाब का समतलीकरण (तोड़ने) करने पहुंची हुई थी,जहां बड़ी संख्या में ग्रामीण जा पहुंचे और एसईसीएल के अधिकारी कर्मचारियों को बंधक बना लिया। एसईसीएल के अधिकारियों ने इसकी जानकारी एसईसीएल के वरिष्ठ अफसरों को दी,जिसके बाद एसईसीएल के सुरक्षा अधिकारी मौके पर पहुंचे।ग्रामीणों से बातचीत कर बंधक बनाए गए एसईसीएल के अधिकारियों को छुड़ाया गया। लेकिन इसके बाद भी ग्रामीणों का गुस्सा शांत नहीं हुआ और उन्होंने एसईसीएल के कर्मचारियों पर हमला कर दिया। इस हमले में कई एसईसीएल के कर्मचारी घायल हो गए हैं,जिन्हें स्थानीय अस्पताल में दाखिल कराया गया। एसईसीएल प्रबंधन के अधिकारी किसी तरह जान बचाकर दीपका थाना पहुंचे और अपनी आपबीती बताई। दीपका पुलिस ने मामले में हमलावर ग्रामीणों के खिलाफ मामला पंजीबद्ध कर मामले की जांच शुरू कर दी है। लिखित शिकायत के आधार पर अपराध क्रमांक 111/20 धारा 147,148,149,186,294,506 (ब) 323,342 ipc के तहत मामला पंजीबद्ध कर लिया गया है।

14-07-2020
निगम आयुक्त ने 20 कर्मचारियों को सम्मान के साथ दी विदाई

भिलाई। नगर पालिक निगम के भिलाई नगर के सभागार में अधिकारियों और कर्मचारियों का विदाई समारोह हुआ। निगम आयुक्त ऋतुराज रघुवंशी ने सहायक अधीक्षक, राजस्व निरीक्षक, पंप सहायक, स्वच्छता पर्यवेक्षक सहित 20 कर्मचारियों को श्रीफल, शाल और स्मृति चिन्ह भेंट किया। 
इस मौके पर आयुक्त रघुवंशी ने सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारियों की सेवा कार्य की सराहना की। उनकी पेंशन का शीघ्रता से भुगतान कराने की बात कही। वहीं निगम उपायुक्त तरूण पाल लहरे ने कहा कि निगम में मार्च 2020 से जून 2020 तक 20 कर्मचारियों ने 62 वर्ष की आयु पूर्ण कर ली थी। कोविड-19 के संक्रमण की वजह से निर्धारित तिथियों में विदाई समारोह का आयोजन नहीं किया जा सका। सेवानिवृत्त होने वाले सभी कर्मचारियों के सम्मान में यह आयोजन किया गया है। 
ये हुए सेवानिवृत्त :
 गंगाराम निषाद पंप सहायक, लेड़गा राम देवांगन माली, प्रबोध कुमार वासनिक प्रोसेस सर्वर, चिंता राम बंजारे सहायक अधीक्षक, अधन पंप सहायक, गणपत राम वर्मा माली, चुन्नीलाल  सफाई कामगार, रमा बाई सफाई कामगार, दुबेलाल सेन राजस्व उप निरीक्षक, मेहत्तर राम स्वच्छता पर्यवेक्षक, किशोर कुमार खिरोड़कर पंप सहायक, चंदन बाई चौकीदार, संतराम पाटिल चैकीदार, घसिराराम भारती पंप सहायक, चंद्रिका प्रसाद  राजस्व निरीक्षक, राधेलाल भोजवानी चालक, जसपाल कौर सहायक ग्रेड-3, कुंदन तिवारी सफाई कामगार, राधेश्याम साहू सफाई कामगार, पोलैया सफाई कामगार को सम्मान के साथ विदाई गई। इस मौके पर कर्मचारी संघ के अध्यक्ष रामेश्वर चंद्राकर, स्वास्थ्य अधिकारी धर्मेन्द्र मिश्रा, प्रवक्ता संजय शर्मा, शरद दुबे, जावेद अली, वकील अहमद, अजय शुक्ला, उषा शर्मा, रीता यादव सहित अन्य मौजूद रहे।

23-06-2020
भारत करेगा पाकिस्तान उच्चायोग के कर्मचारियों की संख्या आधी 

नई दिल्ली। भारत ने  पाकिस्तान को मंगलवार को करारा झटका दिया है। आतंकी और जासूसी गतिविधियों को लेकर भारत अब नई दिल्ली स्थित पाकिस्तान उच्चायोग के कर्मचारियों की संख्या घटाकर आधी कर देगा। यह जानकारी विदेश मंत्रालय के बयान में कही है। जारी बयान में कहा गया है कि भारत ने पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त को तलब कर दिल्ली स्थित उच्चायोग के अधिकारियों की गतिविधियों को लेकर अपनी चिंता जाहिर की है।
 एमईए के अनुसार “भारत ने पाकिस्तान के उपउच्चायुक्त से कहा कि पाक उच्चायोग के अधिकारी जासूसी में लिप्त हैं और आतंकी संगठनों से संबंध रखे हैं। इंडिया ने पाकिस्तान से नई दिल्ली स्थित अपने उच्चायोग से कर्मचारियों की संख्या 50 फीसदी तक कम करने को कहा है। विदेश मंत्रालय के मुताबिक, भारत इसी तरह इस्लामाबाद (पाकिस्तान) स्थित भारतीय उच्चायोग में अपने कर्मचारियों की संख्या में कमी लाएगा। यह फैसला सात दिनों के भीतर प्रभाव में आएगा और इस बारे में पाकिस्तान को सूचित कर दिया गया है। विदेश मंत्रालय के अनुसार, पाकिस्तान इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों को डराने का लगातार अभियान चला रहा है। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में इस्लामाबाद में हाल ही में दो भारतीय अधिकारियों का अपहरण होने और उनके साथ किये गये ‘‘बर्बर बर्ताव’’ का भी जिक्र किया गया है। मंत्रालय ने कहा, ‘‘पाकिस्तान और इसके अधिकारियों का बर्ताव वियना संधि तथा राजनयिक अधिकारियों एवं दूतावास अधिकारियों के साथ व्यवहार के बारे में द्विपक्षीय समझौतों के अनुरूप नहीं है। मंत्रालय ने कहा कि इसलिए भारत ने नई दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग में कर्मचारियों की संख्या 50 प्रतिशत घटाने का फैसला लिया है। मंत्रालय ने कहा, ‘यह (भारत) भी इसके बदले में इस्लामाबाद में इसी अनुपात में अपनी मौजूदगी घटाएगा। इस फैसले से, जो सात दिनों में क्रियान्वित किया जाएगा, पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त को अवगत करा दिया गया है।’

11-06-2020
Video: अस्पताल में काली पट्टी लगाकर कर्मचारियों ने किया विरोध प्रदर्शन

रायगढ़। जिले के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल की नर्सेस और स्टॉफ, ड्यूटी तो आम दिनों की तरह ही दे रहे हैं। लेकिन ये अपनी कुछ मांगों को मनवाने के लिए काली पट्टी लगाकर विरोध भी जता रहे हैं। यही सूरत-ए-हाल तकरीबन सभी वार्डों का है। दरअसल, कोरोना काल में काम करने के बावजूद डीए में कटौती और इंक्रीमेंट पर रोक लगाने के ख़िलाफ़ शासकीय कमर्चारी-अधिकारी फेडरेशन की मांगों को पूरा करवाने के लिए स्वास्थ्य कर्मचारी संघ भी सामने आ गया है। यही नहीं, कोरोना संकट के इस दौर में ड्यूटी कर रहे कर्मचारियों ने 50 लाख का बीमा और जोखिम भत्ता की मांग पर भी अडिग हैं। इस दौरान मेडिकल कॉलेज के सभी कर्मचारी काली पट्टी लगाकर काम कर रहे हैं। इनका कहना है कि जब तक शासन उनकी मांग पूरी नहीं करती है, तब तक यह विरोध चलता रहेगा। वहीं 1 जुलाई को प्रदेश भर में मुख़ालफ़त भी की जाएगी।स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव को पत्र भेजकर मांग भी की है कि इनको वार्षिक वेतन वृद्धि का लाभ दिया जाए। वहीं, कर्मचारी और पेंशनरों को जुलाई 2019 और जनवरी 2020 से कुल 9 प्रतिशत महंगाई भत्ता भुगतान की सौगात भी मिले। बहरहाल, कोरोना वायरस के कहर के बीच अपनी जान को जोखिम में डालकर लोगों की जान बचाने वाले कर्मचारियों की सैलरी में 30 फीसदी कटौती हो रही है तो जनवरी के डीए भी रोक दिया गया है।  यही वजह है कि अपनी मांगों को मनवाने को लेकर अस्पताल के कर्मचारी काली पट्टी लगाकर सांकेतिक विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। 

 

05-06-2020
Video: कांग्रेस सरकार मितव्ययिता के नाम पर कर्मचारियों को निशाना बना रही : संजय श्रीवास्तव 

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी ने छत्तीसगढ़ सरकार पर कुप्रबंधन का आरोप लगाया है। प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने कहा कि अब जब सरकार का खजाना खाली हो गया है तो ऐसे समय में सरकार मितव्ययिता के नाम पर शासकीय कर्मचारियों को निशाना बना रही है। शासकीय कर्मचारियों को अनेक प्रकार के लाभ देने के वादे के साथ सत्ता में आई कांग्रेस पार्टी अब उनकी वेतन वृद्धि, पदोन्नति और एरियर्स रोक रही है। साथ ही साथ प्रदेश के साढ़े 4 लाख कर्मचारियों का 30% वेतन भी काटने की तैयारी कर रही है।संजय श्रीवास्तव ने कहा कि शासकीय कर्मचारियों का प्रत्येक माह का अपना नियत वेतन होता है और वह वेतन के माध्यम से ही उनका खर्च चलता है।

यदि उनके नियत वेतन में कटौती होती है तो माह का बजट बिगड़ता है जिससे उन्हें समस्या होती है। अन्य सरकारों की तरह छत्तीसगढ़ सरकार कर्मचारियों का 50-50 लाख का बीमा तुरंत कराए और अल्प वेतन कर्मचारियों को जोखिम भत्ता प्रदान करे। आज राज्य के छोटे-छोटे कर्मचारी कोरोना की रोकथाम में अपनी सेवाएं दे रहे हैं जिससे जोखिम का भय बना रहता है। शासकीय कर्मचारी सरकार के संचालन का पहिया होता है अत: शासकीय कर्मचारियों के खाते से किसी भी प्रकार की कटौती नहीं की जाए।

05-06-2020
रायपुर रेल मंडल के संरक्षा विभाग ने परिचालन से जुड़े कर्मचारियों को दिए नए टिप्स 

रायपुर। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर रेल मंडल के संरक्षा विभाग ने शुक्रवार को ट्रेनों के सुरक्षित परिचालन विषय पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के से संगोष्ठी का आयोजन किया। इस सेमिनार में रेल परिचालन से जुड़े विभागों के कर्मचारियों और सुपरवाइजरों, मंडल यातायात निरीक्षक, स्टेशन मास्टर, गार्ड और पॉइंट्समैन शामिल हुए। सभी को शंटिंग के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां, गाड़ियों का सिक्योरिंग, ट्रैक मशीन परिचालन के लिए प्राधिकार और ट्रेन पासिंग के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां आदि की विस्तृत जानकारी दी गई। रेल परिचालन की बारीकियों और नई जानकारियों को बताया गया। संरक्षा सेमिनार में वरिष्ठ मंडल संरक्षा अधिकारी डॉ.आर. सुदर्शन, सहायक मंडल संरक्षा अधिकारी आर.देवांगन संरक्षा सलाहकार, सुपरवाइजर औरं कर्मचारियों को मिलाकर 40 लोग शामिल हुए।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804