GLIBS
14-10-2019
राहुल गांधी का कटाक्ष : युवाओं को बेवकूफ बनाकर सरकार नहीं चला सकते

चंडीगढ़।  हरियाणा विधानसभा चुनाव के प्रचार के लिए सोमवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी यहां के नूंह विधानसभा क्षेत्र में पहुंचे। राहुल ने अपनी सभा में सीएम खट्टर और पीएम नरेंद्र मोदी पर जमकर कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी अंबानी-अडानी के लाउडस्पीकर हैं और दिनभर उन्हीं की बात करते हैं। राहुल गांधी ने कहा कि देश में जो बेरोजगारी है और जो अर्थव्यवस्था की हालत है, आप देखना कि 6 महीने बाद यहां क्या होता है। देश में युवाओं को ज्यादा वक्त तक बेवकूफ   बनाकर सरकार नहीं चला सकता। आप 6 महीने एक साल सरकार चला सकते हो, लेकिन एक दिन सच्चाई बाहर आएगी। फिर देखना क्या होता है देश में और क्या होता है नरेंद्र मोदी का? कांग्रेस नेता ने कहा कि इस देश में अलग-अलग जाति और धर्म के लोग रहते हैं। यहां अमीर लोग गरीब लोग सभी एक साथ रहते हैं और इन सभी को हम हिंदुस्तान कहते हैं। कांग्रेस सबकी पार्टी है और हमारा काम लोगों को जोडऩे का है। बीजेपी और आरएसएस का काम जो पहले अंग्रेज करते थे देश को तोडऩे का काम और देश में एक दूसरे को लड़ाने का काम है। नोटबंदी और जीएसटी पर कटाक्ष करते हुए राहुल ने कहा कि पहले नोटबंदी ने देश में सबको लाइन में लगा दिया। उस लाइन में अनिल अंबानी और अडानी को देखा था क्या आपने? उस दौरान काले धन का कोई आदमी लाइन में नहीं लगा। उसके बाद गब्बर सिंह टैक्स आया। यहां कोई है जो कह सके कि जीएसटी से मुझे फायदा हुआ। छोटे दुकानदार, मिडिल साइज बिजनस सब खत्म हो गए क्योंकि उनका बिजनस मोदी अपने 15-20 दोस्तों को देना चाहते हैं।

अगर आप देशभक्त हैं तो आप बताओ कि हिंदुस्तान की पब्लिक सेक्टर की कंपनियां हैं उन्हें आप अपने अरबपति मित्रों को क्यों बेच रहे हो? राहुल ने आगे कहा कि ये लोग चाहते हैं कि आपका ध्यान सच्चे मुद्दों से हटकर अलग-अलग मुद्दों पर जाता रहे। बस आप सच्चाई पर सवाल ना पूछे। इनके मीडिया के मित्र हैं जिनका ठेका लगा हुआ है। आपने टीवी पर कभी देखा है कि भारत में बेरोजगारी है? क्योंकि ये लोग और इनके मालिक नहीं चाहते कि आपको पता चले कि नरेंद्र मोदी ने आपका पैसा लूटा है। राहुल ने कहा कि राफेल मामले में एयरफोर्स के लोगों ने साफ  कहा कि नरेंद्र मोदी ने कॉन्ट्रैक्ट बदलवाया। एयरफोर्स का डॉक्यूमेंट था, लेकिन ये मीडिया में नहीं आया क्योंकि सच्चाई आपको नहीं दिखानी है। आपको सिर्फ  झूठ दिखाना है, कभी चांद के बारे में और कभी राफेल के सामने पूजा होगी और कॉर्बेट में मूवी बनेगी। लेकिन नरेंद्र मोदी ये नहीं कहेंगे कि 2 करोड़ लोगों को रोजगार देने का वादा मैंने तोड़ा। नूंह की इस रैली के दौरान राहुल ने लोगों से किसानों की कर्जमाफी और अर्थव्यवस्था की हालत पर भी चर्चा की और हरियाणा में अपनी सरकार बनवाने के लिए कांग्रेस को वोट करने के लिए भी कहा।

09-10-2019
घपलों पर पर्दा डालने उछाला जा रहा राफेल जेट का मुद्दा : सुनील सिंह

लखनऊ। लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुनील सिंह ने विजयदशमी पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के फ्रांस जाकर राफेल की पूजा करने पर तीखी प्रतिक्रिया जताई है। उन्होंने कहा कि राफेल का महिमामंडन साबित करता है कि सरकार किसी घपले पर पर्दा डालने की कोशिश कर रही है। विदेश जाकर इतना भोंडा प्रदर्शन भारत के स्वाभिमान को चोट पहुंचाने वाला है। सरकार ने ऐसा आभास कराया है कि भारत की रक्षा केवल राफेल पर निर्भर है, जबकि यह सत्य से परे है। रक्षामंत्री के इस कृत्य से कांग्रेस की ओर से राफेल खरीद में लगाए गए आरोपों को बल मिला। चाहे वह एचएएल को काम न देने की बात हो या अंबानी को भागीदार बनाने की। 

 

09-10-2019
कांग्रेस को राफेल का शस्त्र पूजन नहीं हो रहा बर्दाश्त : गृहमंत्री अमित शाह

नई दिल्ली। केंद्रीय गृहमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने राफेल मामले को लेकर कांग्रेस पर जमकर वार किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा विजयादशमी के मौके पर फ्रांस में राफेल लड़ाकू विमान को शस्त्र पूजन बर्दाश्त नहीं हुआ। इस पार्टी को बस विरोध करना आता है, चाहे वह राफेल हो या अनुच्छेद 370 को हटाने का मामला। अमित शाह ने यहां भाजपा की विजय संकल्प रैली में कहा कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने फ्रांस में कल राफेल का शस्त्र पूजन किया। कांग्रेस को यह पसंद नहीं आया। क्या विजयदशमी पर शस्त्र पूजन नहीं किया जाता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को बस विरोध करना है। उन्होंने विजय दशमी पर राफेल को सेना में शामिल करने के लिए पीएम मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को बधाई। उन्होंने कहा कि राफेल का सेना में शामिल होना कांग्रेस को बुरा लगा रहा है। कांग्रेस को सोचना चाहिए कि किस चीज का विरोध करना चाहिए और किसका नहीं। शाह ने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि किसानों की भूमि (हरियाणा) में भाजपा 75 पार के लक्ष्य के साथ फिर सरकार बनाएगी। उन्होंने कांग्रेस को राफेल और अनुच्छेद 370 के मामले पर घेरा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेताओं ने देश की सुरक्षा के लिए अहम राफेल का विरोध किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की तीन पीढियां बदली, लेकिन कांग्रेस सरकारें जम्मू-कश्मीर से अनुुच्छेद 370 नहीं हटा पाईं। मोदी ने दूसरी बार प्रधानमंत्री बनते ही सबसे पहले इसे हटा दिया। कांग्रेस ने अनुुच्छेद 370 हटाने का विरोध किया। मैं पूछना चाहता हूं राहुल गांधी से कि आप हरियाणा में आकर स्पष्ट करो कि कांग्रेस अनुुच्छेद 370 हटाने के मुद्दे पर केंद्र सरकार के साथ है या विरोध में। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का काम बस हर बात का विरोध करना है। 

09-10-2019
रक्षा मंत्री राजनाथ की शस्त्र पूजा पर बोले खड़गे - तमाशा करने की क्या जरूरत थी?

नई दिल्ली। देश के लिए पहला राफेल लाने के लिए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के फ्रांस जाने और शस्त्र पूजा करने पर कांग्रेस ने टिप्पणी की है। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने इसे  तमाशा  करार देते हए कहा कि ऐसा ड्रामा करने की जरूरत ही नहीं थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस इस तरह का दिखावा करने में यकीन नहीं रखती। कांग्रेस शासनकाल में जब हमने सेना के लिए बोफोर्स हथियार खरीदा था, तो हमारी ओर से कोई नेता या मंत्री उसे लाने विदेश नहीं गया था। खड़गे ने राजनाथ सिंह के राफेल विमान में बैठने पर भी आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि हमारी वायुसेना के अधिकारी तय करते हैं कि वे अच्छे हैं या नहीं। ये लोग जाते हैं, विमान के अंदर बैठते हैं और दिखावा करते हैं। मालूम हो कि कांग्रेस शासनकाल में स्वीडन की हथियार निर्माता कंपनी से भारतीय सेना के लिए होवित्सर तोप खरीदे गए थे। 24 मार्च, 1986 को भारत सरकार और स्वीडन की हथियार निर्माता कंपनी एबी बोफोर्स के बीच 1,437 करोड़ रुपए का सौदा हुआ था। भारतीय सेना को 155 एमएम की 400 होवित्जर तोप की सप्लाई के लिए यह सौदा हुआ था।

02-09-2019
दिग्गी जैसे नेताओं के रहते कांग्रेस को दुश्मनों की जरूरत नहीं

रायपुर। लगातार झटके खा रही कांग्रेस की नैया फिर से हिचकोले खा रही है। इस बार भी उसे झटका दिया है उसके अपने सिपहसालार दिग्विजय सिंह ने। वैसे दिग्विजय सिंह अकेले नहीं है जो गाहे बगाहे कांग्रेस की डगमगाती नैया को झटके देते है। ऐसे समर्थकों की सूची बहुत लंबी है, जो कांग्रेस को भाजपा से ज्यादा झटके दे रहे हैं। सवाल दिग्विजय सिंह की विवादास्पद बयानबाज़ी का नहीं है, सवाल उनके जैसे बड़बोले नेताओं के बिगड़ें बोल का भी नहीं है, सवाल है ऐसे बेसुरे नेताओं के सुर साधने का। पिछले एक दशक से लगातार रिवर्स गियर में चल रही कांग्रेस जब जब फारवर्ड गियर मे आती है, तब तब उसे दिग्विजय सिंह जैसे नेता वापस रिवर्स गियर में डाल देते है। कहने को तो दिग्विजय सिंह अपने बयान से मुकर गए हैं और उन्होंने ऐसे मौके पर इस्तेमाल किया जाने वाला परमानेंट हथियार चला भी दिया है लेकिन पब्लिक इस बात को जानती है कि कोई किसी के बयान को कितना भी तोड़े मरोड़े उसके मूल में छिपी बात को बदला नहीं जा सकता। अब ये मीडिया पर बयान तोड़ने मरोड़ने वाला हथियार भी राफेल और चौकीदार चोर हैं जैसे हथियारों जैसा बोथरा और असफल साबित हो चुका है। ऐसे में मझधार में हिचकोले खाती अपनी नैया को पार लगाने के लिए कांग्रेस को अपनी ही नांव में छेद करने वालों पर नकेल कसना ही होगा, उसे अपने बेसुरे नेताओं के सुर साधना होगा वर्ना ये पब्लिक सब जानती है।

 

15-04-2019
राफेल होता तो भारत के पक्ष में आते और बेहतर परिणाम : धनोआ

नई दिल्ली। 'भविष्य की एयरोस्पेस शक्ति और प्रौद्योगिकी के प्रभाव' विषय पर एक संगोष्ठी को संबोधित करते हुए भारतीय वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने कहा है कि अगर बालाकोट में की गई एयर स्ट्राइक के समय सेना के पास राफेल होता तो परिणाम भारत के पक्ष में कहीं और ज्यादा बेहतर हो सकते थे। उन्होंने कहा कि हालांकि उस हमले में तकनीक भारत के पक्ष में थी। बीएस धनोआ ने कहा कि बालाकोट में की गई एयर स्ट्राइक में हमारे पास बेहतर तकनीक थी, यही कारण है कि हम बड़ी सटीकता के साथ हथियारों का इस्तेमाल कर पाने में सफल हो सके। उन्होंने यह भी बताया कि भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल मिग-21, बिसॉन और मिराज-2000 विमानों ने उन्हें दुनिया में बेहतर बनाया है। ज्ञात हो कि 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ  के काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद 26 फरवरी की सुबह भारतीय वायुसेना की ओर से पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक की गई थी। 

 

 

12-02-2019
राफेल में मोदी ने रक्षा सौदे की गोपनीयता को तोड़ा : राहुल

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल सौदे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला जारी रखते हुए मंगलवार को कहा कि उन्होंने रक्षा सौदे में सिर्फ प्रक्रियाओं का उल्लंघन ही नहीं किया है बल्कि गोपनीयता को भी तोड़ा है और राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता किया है। इसलिए उनके खिलाफ आपराधिक मामला चलना चाहिए। राहुल गांधी ने कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि एक नए ईमेल से खुलासा हुआ है कि इस सौदे की जानकारी तत्कालीन रक्षामंत्री, रक्षा सचिव और सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी एचएएल को नहीं थी, लेकिन उद्योगपति अनिल अंबानी को इसकी पूरी जानकारी थी और अंबानी ने इस संबंध में फ्रांस के रक्षामंत्री से बात की और कहा कि मोदी राफेल को लेकर समझौता करने वाले हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष ने सवाल उठाया कि जिस सौदे की जानकारी रक्षा सौदे से जुड़े मंत्री और अधिकारी को नहीं थी उसके बारे में अनिल अंबानी को कैसे मालूम हुआ, प्रधानमंत्री को इस बारे में जवाब देना चाहिए। उन्होंने मोदी पर इस सौदे को लेकर अनिल अंबानी के लिए बिचौलिए की भूमिका निभाने का आरोप लगाते हुए कहा कि यदि इसमें कोई गड़बड़ी नहीं हुई है, तो प्रधानमंत्री को इसकी जांच करानी चाहिए और इसके लिए संसद की संयुक्त समिति (जेपीसी) का गठन करना चाहिए। राहुल गांधी ने कहा कि राफेल में भ्रष्टाचार हुआ है, रक्षा सौदा की प्रक्रियाओं का उल्लंघन हुआ है और अब रक्षा सौदे में गोपनीयता का उल्लंघन हुआ है। उन्होंने इसे गंभीर मसला बताते हुए इसे राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतनाक करार दिया और कहा कि इस पूरे प्रकरण की जांच होनी चाहिए।

30-01-2019
राफेल पर नए सौदे से उनका कोई लेना-देना नहीं : पर्रिकर 

कोच्चि।कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल सौदे को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधते हुए मंगलवार को दावा किया कि पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने स्पष्ट रूप से कहा था कि ‘नये सौदे' से उनका कोई लेना-देना नहीं है। कांग्रेस अध्यक्ष ने यहां बूथ स्तरीय पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक में कहा, ‘‘दोस्तों, पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा है कि नये सौदे से उनका कोई लेना-देना नहीं है, जिसे नरेन्द्र मोदी ने अनिल अंबानी के फायदे के लिए किया।'' पणजी में राज्य सचिवालय परिसर में गोवा के मुख्यमंत्री पर्रिकर से मुलाकात के कुछ घंटे बाद उन्होंने यह बयान दिया। बहरहाल, कांग्रेस अध्यक्ष ने यह स्पष्ट नहीं किया कि पर्रिकर के साथ बैठक के दौरान क्या इस मुद्दे पर चर्चा हुई। पर्रिकर आंत संबंधी बीमारी से ग्रस्त हैं। ‘‘गोवा ऑडियो टेप'' को वास्तविक बताने के एक दिन बाद राहुल ने ये आरोप लगाए हैं। कांग्रेस ने इस टेप के जरिए राफेल मुद्दे पर केंद्र सरकार पर हमला किया था। दरअसल, इस टेप में दावा किया गया कि है कि पर्रिकर के पास ‘‘गोपनीय जानकारी'' है।

राहुल ने लगाए थे आराेप

राफेल सौदे में मोदी के खिलाफ आरोपों को दोहराते हुए राहुल ने कहा कि उन्होंने लोगों से 30 हजार करोड़ रुपए छीन कर अपने दोस्त अनिल अंबानी को दे दिए। उन्होंने पूछा, ‘‘जब एक विमान (राफेल) की कीमत 526 करोड़ रुपये थी तो फिर उसे 1,600 करोड़ रुपये में क्यों खरीदा गया?'' उन्होंने कहा, ‘‘देश के युवकों, केरल के युवकों को केवल एक जवाब मिलेगा और वह जवाब है...भारत का प्रधानमंत्री भ्रष्ट है।''

पीएम के खिलाफ जांच क्यों नहीं

सीबीआई प्रमुख (आलोक वर्मा) को उच्चतम न्यायालय द्वारा बहाल किए जाने के बावजूद उन्हें पद से हटाए जाने पर राहुल ने सवाल उठाया और आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने खुद को बचाने के लिए और यह सुनिश्चित करने के लिए ऐसा किया कि राफेल सौदे में उनके खिलाफ कोई जांच नहीं हो। उन्होंने कहा कि फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ने प्रेस से स्पष्ट रूप से यह क्यों कहा कि उन्हें भारत के प्रधानमंत्री ने राफेल अनुबंध अनिल अंबानी को देने को कहा है। राहुल ने कहा कि हजारों युवक जिन्हें एचएएल में मोटी पगार वाली नौकरियां मिलती ,उनके हाथ से यह अवसर अब चला गया।

08-10-2018
Supreme Court : राफेल पर दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई 10 को 

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने भारत और फ्रांस के बीच हुए राफेल विमान सौदे पर दायर नई याचिका पर 10 अक्टूबर को सुनवाई करने के लिए सोमवार को हामी भरी। जनहित याचिका में न्यायालय से केन्द्र को निर्देश देने का अनुरोध किया गया है कि वह सौदे की विस्तृत जानकारी और संप्रग तथा राजग सरकारों के दौरान विमान की कीमतों का तुलनात्मक विश्लेषण सील बंद लिफाफे में न्यायालय को सौंपे।    

प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एस. के. कौल और न्यायमूर्ति के. एम. जोसेफ की पीठ अधिवक्ता विनीत धांडा की ओर से दायर जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही थी।

 

09-09-2018
Rafale : राफेल में हुआ 21 हजार करोड़ के कमीशन का खेल 
सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने अनिल अंबानी की रिलायंस पर लगाए आरोप
Advertise, Call Now - +91 76111 07804