GLIBS
22-09-2021
सुप्रीम कोर्ट ने एनडीए में महिला उम्मीदवारी से संबंधित अंतरिम आदेश हटाने से किया इनकार

 नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) की परीक्षाओं में महिला उम्मीदवारों को शामिल करने संबंधी अपना अंतरिम आदेश हटाने से इनकार कर दिया है। बुधवार को न्यायमूर्ति संजय किशन कौल की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने रक्षा मंत्रालय का वह आग्रह ठुकरा दिया कि महिला उम्मीदवारों को एनडीए में शामिल करने के लिए मई 2022 तक तंत्र विकसित किया जा सकेगा और तब तक न्यायालय को अपना अंतरिम आदेश हटा लेना चाहिए। हालांकि न्यायालय ने इस अनुरोध को ठुकरा दिया।

18-09-2021
5 लीटर से अधिक शराब के साथ 2 कोचियों को पुलिस ने धर दबोचा

रायपुर। 5 लीटर से अधिक शराब के साथ 2 कोचियों को मंदिरहसौद थाना अमला ने पकड़ने में सफलता हासिल की। 5 लीटर से अधिक शराब होने की‌ वजह से इनके खिलाफ अजमानतीय अपराध का‌ मामला दर्ज किया गया है। कोचियों को गिरफ्तार कर न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम वर्ग ‌‌‌पंकज आलोक तिर्की के न्यायालय में पेश किया गया, जहां से दोनें को 30 सितंबर तक के लिए न्यायिक अभिरक्षा में जेल दाखिल करा दिया गया। इनमें से एक कोचिया इसी थाना क्षेत्र के‌ ग्राम बड़गांव का व‌ दूसरा इस ग्राम से लगे ग्राम मुनगेसर का है। दोनों के विरुद्ध आबकारी अधिनियम की धारा 34 (2) का मामला दर्ज किया गया है ।

29-07-2021
5 स्थाई वारंटियों को पेश किया गया न्यायालय में

कोरबा। पुलिस अधीक्षक कोरबा भोजराज पटेल ने अभियान चलाकर स्थाई वारंटियों की तामिली कार्यवाही करने के लिए निर्देशित किया था। इस पर राजू उर्फ हरिश्चंद्र जगत, पिता धनसिंह जगत साकिन डूग्गूपखना, रमाशंकर शुक्ला पिता जीवराखन प्रसाद शुक्ला साकिन पठारीकापा थाना लालपुर जिला बिलासपुर हालमुकाम रावा थाना कटघोरा,जागेश्वर प्रसाद उर्फ बौरहा पिता नान्ही राम चौहान साकिन देवभांठा लेमरू थाना कटघोरा जिला कोरबा , जगत मांझी पिता लच्छन मांझी साकिन देवपहरी माझीपारा थाना कटघोरा जिला कोरबा,जगतराम मांझी पिता लच्छन मांझी साकिन देवपहरी मांझीपारा थाना कटघोरा जिला कोरबा को स्थाई वारंट तामिली किया। वारंटियों को न्यायालय पेश कर जेल वारंट जारी होने पर जेल दाखिल किया गया है ।

 

23-07-2021
निलंबित आईपीएस जीपी सिंह की याचिकाएं खारिज, बेनामी संपत्ति और राजद्रोह का है आरोप

रायपुर। निलंबित आईपीएस जीपी सिंह को उच्च न्यायालय से राहत नहीं मिली है। जीपी सिंह की याचिकाओं को न्यायालय ने खारिज कर दिया है। आय से अधिक संपत्ति और राजद्रोह के आरोपी आईपीएस जीपी सिंंह ने मामले में सीबीआई से जांच कराने की मांग की थी। राजद्रोह के मामले में भी उन्हें राहत नहीं दी गई। जस्टिस नरेंद्र व्यास की कोर्ट ने याचिकाओं को खारिज कर दिया है।  बता दें कि पिछली सुनवाई में न्यायालय ने फैसला सुरक्षित रखा था। पिछली सुनवाई में दोनों याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से केस डायरी तलब की थी।

जीपी सिंह ने अंतरिम राहत की मांग कर पहली याचिका लगाई थी। इस पर न्यायालय ने सरकार से केस की डायरी पेश करने कहा था। शासन की ओर से केस डायरी पेश की गई थी। जीपी सिंह ने अपने वकील किशोर भादुड़ी के माध्यम से रिट पिटीशन दायर कर उन्होंने सीबीआई से जांच की मांग के साथ ही  एक और याचिका दायर कर राजद्रोह के केस को भी हाईकोर्ट में चुनौती दी। आईपीएस जीपी सिंह के खिलाफ एसीबी और ईओडब्ल्यू  की संयुक्त टीम ने छापामार कार्रवाई की थी। 1 जुलाई को एसीबी की टीम ने जीपी सिंह के कई ठिकानों पर छापा मारा था।  करीब तीन दिनों तक चली जांच में 10 करोड़ से अधिक की बेनामी चल-अचल संपत्ति का खुलासा किया था। दस्तावेज बरामद किए थे। नक्सलियों से भी तार जुड़े थे। दस्तावेजों के सामने आने पर राज्य सरकार ने जीपी सिंह को निलंबित कर दिया था। उन पर राजद्रोह का मामला भी दर्ज किया गया। राजद्रोह का मामला दर्ज होने के बाद जीपी सिंह ने हाईकोर्ट की शरण ली।

12-07-2021
आरोपी न्यायालय से हथकड़ी सहित फरार, पुलिस ने घेराबंदी कर गांव से पकड़ा

कोरबा। दर्री थाना क्षेत्र में छेड़छाड़ के एक आरोपी,जो की कटघोरा उपजेल से पैरोल में छोड़ गया था। सोमवार को दर्री थाना आरक्षकों ने आरोपी को हथकड़ी समेत कटघोरा न्यायालय में पेश किया था। आरोपी इतना शातिर था कि पुलिस को चकमा देकर हथकड़ी समेत न्यायालय की दीवार से छलांग लगाकर फरार हो गया। इससे न्यायलय परिसर में हड़कंप मच गया। अधिवक्ता संघ के पदाधिकारियों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। दर्री पुलिस ने न्यायालय पुलिस की मदद से घेराबंदी कर आरोपी को पास के गांव धवईपुर से गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया।

 

06-07-2021
लूट के आरोपी चंद घंटो में गिरफ्तार, न्यायालय में किया गया पेश  

रायपुर। राजधानी के तिल्दा इलाके में लूट के आरोपियों को चंद घंटों में गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपियों के पास से लूट का सामान भी बरामद किया गया है। मिली जानकारी के अनुसार बन्टू ठाकुर ग्राम बिलाड़ी वेंकटरामा पोल्ट्री फार्म में काम करता है, जो 4 जुलाई को दोपहर के समय पोल्ट्री फार्म में काम करने आए दिलीप यादव, अजय यादव के साथ पैदल पोल्ट्री फार्म जा रहे थे। दोपहर 3 बजे करीब ग्राम बिलाड़ी के रोड पर एक मोटरसाइकिल एचएफ डीलक्स लाल रंग में चार लोग आकर बाइक को रोककर गाली गलौज करते हुए प्रार्थी से एक मोबाइल कीमती 10500 रुपए, दिलीप यादव से एक मोबाइल कीमती 12500 रुपए, चांदी की चेन वजन 7 ग्राम करीब कीमती 4600 रुपए और अजय कुमार से मोबाइल कीमती 1350 रुपए और 800 रुपए नगदी जुमला 29950 रुपए को लूटकर तिल्दा की तरफ भाग गए। प्रार्थी की रिपोर्ट पर अपराध कायम कर जांच पड़ताल शुरू की गई। पता तलाश के दौरान चारों संदेहियों (1) यशवंत साहू (2) शाहिल मंडावी (3) अजय नेताम (4) सत्यनारायण उर्फ सत्तू निषाद सभी निवासी ग्राम खपरीकला को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ करने पर चारों ने मिलकर लूट की योजना बनाकर लूट करना स्वीकार किया। आरोपी यशवंत साहू से एक मोबाइल व घटना में प्रयुक्त बाइक हीरो एचएफ डीलक्स लाल रंग क्रमांक CG 04 MM 5310, घटना में प्रयुक्त एक चाकू, शाहिल मण्डावी से एक चांदी की चेन व एक मोबाइल व बचत राशि 200 रुपए, सत्यनारायण उर्फ सत्तू निषाद से एक मोबाइल जब्त किया। आरोपियों को गिरफ्तार कर ज्यूडिशियल रिमांड पर न्यायालय पेश किया गया है।

04-07-2021
फरार स्थायी वारंटी गिरफ्तार,बस स्टैंड में पुलिस ने घेराबंदी कर पकड़ा

राजनांदगांव। स्थायी वारंटी लोचन प्रसाद तिवारी,जो लंबे समय से फरार था पकड़ा गया। आरोपी 2014 से मानपुर थाना में दर्ज अपराध धारा 406 में फरार था। मानपुर थाना प्रभारी निरीक्षक लक्ष्मण केवट के प्रयासों से शनिवार को मानपुर बस स्टैंड पर घेराबंदी कर गिरफ्तार किया गया। वारंटी को न्यायालय में पेश किया गया ।

 

15-06-2021
प्रधानमंत्री मोदी के नाम कलेक्टर को ज्ञापन,बेरोजगार और बेसहारा परिवार का सहारा बनने केंद्र सरकार से मांग 

रायपुर। जनसेवा सामाजिक संस्था के एक प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को संस्था के संरक्षक भगवानू नायक की अगुवाई में देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम कलेक्टर सौरभ कुमार को ज्ञापन सौंपा। जनसेवा सामाजिक संस्था के महामंत्री आशीष तांडी ने कहा है कि सदी की सबसे बड़ी महामारी कोरोना की दूसरी लहर ने देश और दुनिया में जन-जीवन को बुरी तरह प्रभावित कर दिया है। भारत देश में लगभग 3,67,081 लोग और अकेले छत्तीसगढ़ में लगभग 13,284 लोग कोरोना महामारी से मारे गए हैं। हजारों परिवार बेरोजगार और बेसहारा हो गए हैं। लोगों का जीवन संकट में आ गया।  ऐसे पीड़ित परिवारों को देश हित में  मुआवजा 4 लाख रुपए राशि और 5 हजार रुपए प्रतिमाह आजीवन पेंशन की मांग की गई है। 
भगवानू नायक ने कहा है कि कोरोना महामारी ने कई मां,बहनों को विधवा कर दिया, बूढ़े मां-बाप का सहारा छीन लिया। बच्चों के सिर से पिता का साया छूट  गया। पीड़ित परिवारों के सामने रोजी-रोजगार,भरण-पोषण, शिक्षा-दीक्षा, स्वास्थ्य की विकराल समस्या उत्पन्न हो गई है। उनका भविष्य अंधकारमय दिख रहा है। ऐसी स्थिति में सरकारों को ऐसे परिवारों के लिए विशेष व्यवस्था दी जानी चाहिए। जब देश की सर्वोच्च न्यायालय ने कोरोना  महामारी को प्राकृतिक आपदा माना है,तब केंद्र की सरकार और  राज्य की सरकारों को भी कोरोना महामारी को प्राकृतिक आपदा मानकर गंभीरता के साथ सहानुभूति पूर्वक विचार करते हुए शासन के राजस्व परिपत्र में प्राकृतिक आपदा आने पर की गई व्यवस्था के अनुसार मुआवजा राशि  दिया जाना चाहिए। कोरोना महामारी में मृत परिवारों को 4 लाख मुआवजा दिए जाने का मामला सर्वोच्च न्यायालय  में लंबित है।

इसमें न्यायालय ने केंद्र सरकार को 10 दिन का समय दिया है। 21 जून को सुनवाई होगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से आग्रह है कि देश की जनता के लिए एक ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए कोरोना से मृत पीड़ित परिवारों को 4 लाख रुपए का मुआवजा और 5 हजार रुपए प्रतिमाह आजीवन पेंशन देने की घोषणा करें।
इस अवसर पर अध्यक्ष बंटी निहाल ने कहा हमने पूर्व में भी छत्तीसगढ़ शासन को ज्ञापन सौंपकर कोरोना से मुखिया खोने वाले परिवार को मुआवजा और पेंशन देने की मांग की है परंतु केंद्र के द्वारा इस सम्बंध में कोई दिशा निर्देश नहीं मिलने का हवाला देकर ऐसे मुआवजा आवेदन नहीं लिए जाने का छत्तीसगढ़ शासन ने आदेश जारी कर दिया है। जबकि दिल्ली और बिहार राज्य में मुआवजा और पेंशन दिए जाने का खबर सामने आई है। ऐसे में केंद्र सरकार की बड़ी जिम्मेदारी बनती है कि उन्हें देश हित में फैसला देते हुए तत्काल 4 लाख रुपया मुआवजा और आजीवन 5 हजार रुपया पेंशन राशि देने की घोषणा करनी चाहिए। 
विवेक तनवानी ने प्रधानमंत्री की ओर से की गई संवेदनशील घोषणाओं का स्वागत किया है। मांग की है कि प्रधानमंत्री को कोरोना से मृत  पीड़ित परिवारों को मुआवजा और पेंशन  देने का घोषणा करें। प्रधानमंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपने वालों में भगवानू नायक, बंटी निहाल, आशीष तांडी,विवेक तनवानी, आनंद नायक,राम नारायण साहू,कैलाश सोनी, दिलीप सोना, जगबंधु महानंद आदि उपस्थित थे।

27-05-2021
Breaking : सराफा कारोबारी प्रकाशचंद सांखला गिरफ्तार, न्यायालय में किया जाएगा पेश

दुर्ग। सराफा व्यवसायी प्रकाशचंद सांखला को गुरुवार को गिरफ्तार किया गया। राजस्व खुफिया निर्दशालय के अधिकारियों ने कस्टम एक्ट 1962 की धारा 135/104 के तहत मामला दर्ज कर आज शाम रायपुर के प्रथम श्रेणी दण्डाधिकारी विजय सोनी के न्यायालय में पेश किया जाएगा। प्रकाशचंद सांखला के भतीजे से अभी भी पूछताछ जारी है। उल्लेखनीय है कि कस्टम चोरी के मामले में सागर मध्यप्रदेश व राजनांदगांव में राजस्व खुफिया निर्दशालय की ओर से गत दिवस मारे गए छापे के बाद मिले इनपुट के आधार पर 25 मई को सांखला के निवास व दुकान मे छापे मारे गए थे।

 

21-05-2021
डॉ.रमन सिंह को लगता है कि उन्होंने कोई गलत काम नहीं किया तो वे न्यायालय जाएं : कांग्रेस 

रायपुर। कांग्रेस ने भाजपा के धरने को चोरी और सीना जोरी बताया है। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपनी राजनैतिक मर्यादा को भुलाकर देश की प्रमुख विपक्षी दल को बदनाम करने  लिए कूटरचित दस्तावेजों को विद्वेष पूर्वक प्रचारित करने का आपराधिक का काम किया है। कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने उनके इस दुराचार के खिलाफ थानों में रिपोर्ट दर्ज करवा कर अपने संवैधानिक अधिकारों का उपयोग किया है। डॉ. रमन सिंह को लगता है कि उन्होंने कोई गलत काम नहीं किया, तो वे इन प्रकरणों के खिलाफ न्यायालय जाएं। सामूहिक धरने और प्रदर्शन करने से उनका अपराध कम नहीं हो जाएगा। न ही राजनैतिक प्रदर्शन की नौटंकी से उनकी गिरफ्तारी रुकने वाली। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की बिगड़ी छवि बचाने और उनकी अकर्मण्यता छिपाने भाजपा प्रवक्ता पात्रा की अति स्वामी भक्ति में किए गए अपराध में साथ दिया है। कांग्रेस प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने मांग की है पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, सांसद सुनील सोनी के पर महामारी एक्ट के उल्लंघन और 144 के उल्लंघन की कार्रवाई की जाए। कोविड के कारण राजधानी में प्रतिबंधात्मक धारा 144 प्रभाव शाली है। सांसद सोनी और पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल उनके बंगले के सामने एक दर्जन लोगों के साथ सड़क पर बैठ कर धरना दे रहे थे। एक विधायक और सांसद ही जब कानून का ऐसा मखौल उड़ाएंगे तब जन मानस में क्या संदेश जाएगा।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804