GLIBS
17-01-2021
देश में 24 घंटे में मिले 15144 नए कोरोना पॉजिटिव, 17170 मरीज हुए रोगमुक्त

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण की मंद पड़ती रफ्तार के बीच सक्रिय मामलों की संख्या अब महज दो लाख के करीब रह गई है। वहीं इसकी दर दो फीसदी से नीचे आ गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से रविवार की सुबह जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 15,144 नए मामले सामने आए जिससे संक्रमितों की संख्या एक करोड़ पांच लाख 57 हजार से अधिक हो गई है। इस दौरान 17,170 मरीज स्वस्थ हुए जिसके साथ कोरोनामुक्त होने वालों की संख्या एक करोड़ एक लाख 96 हजार 885 हो गई और सक्रिय मामले 2207 कम होकर 2.08 लाख रह गए हैं। इसी अवधि में 181 मरीजों की जानें गई और मृतकों का आंकड़ा एक लाख 52 हजार 274 हो गया है। देश में रिकवरी दर बढ़कर 96.58 प्रतिशत और सक्रिय मामलों की दर घटकर 1.98 फीसदी हो गई है जबकि मृत्युदर अभी 1.44 प्रतिशत है।

 

09-10-2020
कलेक्टर ने नागरिकों से कहा, रिकवरी बढ़ी लेकिन अभी कोरोना का खतरा टला नहीं

दुर्ग। कलेक्टर डाॅ.सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने नागरिकों से पुनः अपील की है कि कोरोना संक्रमण को लेकर बेहद सजग रहें और किसी भी तरह अपनी सुरक्षा को लेकर ढिलाई नहीं बरतें। लॉक डाउन के दौरान लोगों ने पूरा अनुशासन रखा, मास्क का उपयोग करते रहे और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया। इसके नतीजे जमीनी स्तर पर नजर आ रहे हैं और रिकवरी बढ़ी है लेकिन कोरोना संक्रमण का खतरा अभी बना हुआ है। किसी भी सूरत में लापरवाही बरतना ठीक नहीं है। सार्वजनिक स्थलों में जब भी जाएं, शापिंग के लिए जाएं तो मास्क लगाकर जाएं। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। उन्होंने कहा कि जब सजगता कम हो जाती है तो कोरोना संक्रमण की आशंका बढ़ जाती है। ऐसे में स्थिति पर नियंत्रण करने लाकडाउन का निर्णय लेना पड़ता है। नागरिकगणों से अपील है कि पूरी सजगता बरतें ताकि संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण हो सके और भविष्य में लॉक डाउन का निर्णय नहीं लेना पड़े।

यदि सावधानी चूकी और ऐसी स्थिति निर्मित हुई तो परिस्थितियों को देखते हुए पुनः ऐसा निर्णय लिया जा सकता है। कलेक्टर ने कहा कि त्योहारों के मौके पर विशेष रूप से अधिक भीड़ होती है। बाजारों में सोशल डिस्टेंसिंग कैसे बनाई जा सके, इसके लिए प्रशासन रणनीति तैयार कर रहा है इसके लिए सामाजिक संगठनों से और नागरिकगणों से भी फीडबैक लिये जा रहे हैं। कलेक्टर ने कहा कि प्रशासन द्वारा आरंभ की गई कोई भी मुहिम आम नागरिकों की सजगता की वजह से ही सफल हो पाती है। त्योहारों के मौके पर चूंकि बाजारों में और अन्य स्थलों में गतिशीलता बढ़ सकती है अतएव बाजार जाने के दौरान अपनी संक्रमण से लेकर हिफाजत का खास ध्यान दें। कलेक्टर ने व्यापारिक संगठनों से भी कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग के पालन और मास्क के उपयोग को लेकर जागरूकता अभियान चलाएं। सामाजिक संगठनों से उन्होंने अपील करते हुए कहा कि सामाजिक संगठनों की इस संबंध में बहुत अहम भूमिका होती है। वे अपने सदस्यों को सुरक्षा उपाय के पालन के संबंध में जागरूक करें। कलेक्टर ने कहा कि कोरोना संक्रमण को यदि प्रारंभिक समय में चिन्हांकित कर लिया जाए तो इसकी रोकथाम आसान हो जाती है। इसलिए जैसे ही सर्दी-बुखार, खांसी, गले में खराश जैसे लक्षण नजर आएं, वैसे ही टेस्ट कराएं। 

 

07-09-2020
शंकराचार्य हॉस्पिटल में अब तक 1008 मरीजों का इलाज, 929 स्वस्थ,48 का चल रहा ट्रीटमेंट

दुर्ग। शंकराचार्य हॉस्पिटल स्थित कोविड केअर सेंटर में रिकवरी रेट उम्मीद जगाता है। यहां भर्ती किये गए 1008 मरीजों में 929 मरीज पूर्णतः स्वस्थ हो गए हैं। अभी 48 मरीजों का इलाज चल रहा है। 31 मरीजों की मृत्यु हुई है। कलेक्टर डॉ.सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे व्यवस्था पर निरंतर नजर रखे हुए हैं। कोविड प्रोटोकॉल के मुताबिक सीटी स्कैन और ऑक्सीजन सिलेंडर की सुविधा यहाँ उपलब्ध है। खाने में रिच प्रोटीन हो, इसका भी ध्यान रखा जा रहा है। इस संबंध में कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने बताया कि शंकराचार्य कोविड हाॅस्पिटल में 50 बिस्तर वाला वार्ड में संपूर्ण सेंट्रलाईज ऑक्सीजन सप्लाई की सुविधा है। इसके साथ ही 100 बिस्तर का वार्ड तैयार किया गया जिसमें आक्सीजन सिलेण्डर की व्यवस्था की गई है। इस अस्पताल में आईसीएमआर की गाईड लाईन को ध्यान में रखते हुये ईलाज किया जा रहा है। वर्तमान में एक्स-रे व लैब की व्यवस्था के साथ सी.टी. स्केन की भी व्यवस्था की गई है। गत दिनों खानपान व साफ-सफाई को लेकर शिकायत की गई थी,जिसमें जिला प्रशासन ने त्वरित अस्पताल का निरीक्षण किया,जिसमें पाया गया कि अस्पताल का साफ-सफाई की अच्छी व्यवस्था की गई है।

इसके अलावा मरीजों को पौष्टिक भोजन भी उपलब्ध कराया जा रहा है। जिला प्रशासन के कार्यवाही पर वर्तमान अस्पताल में सभी सुविधा उपलब्ध करायी गई है। कलेक्टर ने बताया कि कोविड अस्पताल में इलाज की और सुविधाओं की नियमित समीक्षा हो रही है। इसके लिए कल ही शंकराचार्य प्रबंधन के साथ महत्वपूर्ण बैठक ली थी। इसमें  कोविड को लेकर महत्वपूर्ण निर्देश दिए थे। बैठक में निर्देशित किया था कि कोविड में रिस्पांस टाइम का बेहद महत्व है। मरीजों के इलाज में लगे कोविड वारियर्स मरीजों की नियमित अंतराल पर बेसिक जांच करते रहें। ऑक्सीजन सपोर्ट की स्थिति में त्वरित कार्रवाई करें। यदि किसी अन्य तरह की जटिलताएं दिखे तो हायर सेंटर में रेफर करने की कार्रवाई करें। साफ-सफाई की मॉनिटरिंग बेहद जरूरी है। टॉयलेट की नियमित अंतराल में सफाई, फ्लोर सैनिटाइजर के कार्य की मॉनिटरिंग जरूरी है। मरीजों के पीछे नर्सिंग स्टाफ पर्याप्त होने चाहिए ताकि मरीजों को राहत मिलती रहे। कोविड प्रोटोकॉल के मुताबिक कोरोना वारियर की सुरक्षा भी अहम है। इसके लिए ट्रेनिंग भी कराई जा चुकी है। इसके मुताबिक ही कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने बताया कि मॉनिटरिंग जितनी अच्छी होगी और समन्वय जितना अच्छा होगा। रिकवरी रेट उतना ही अच्छा होगा और लोगों को भी संतोष मिलेगा। उन्होंने बुजुर्ग मरीजों पर विशेष ध्यान दिए जाने के निर्देश भी दिये हैं। कलेक्टर ने बताया कि इनके साथ आयु से जुड़ी हुई अन्य परेशानियां भी होती हैं। इसकी वे दवा कर रहे होते हैं। ऐसे मामलों में विशेष ध्यान दें। कलेक्टर ने बताया कि हॉस्पिटल मैनेजमेंट को छोटी-छोटी बारीकियों पर भी ध्यान देने के निर्देश दिए गए हैं।

 

29-08-2020
भारत में तीसरे दिन कोरोना वायरस के 75 हजार से ज्यादा मरीज मिले

नई ​दिल्ली। देश में लगातार तीसरे दिन कोरोना वायरस के 75 हजार से ज्यादा मामले प्रकाश में आएं है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में कोरोना के 76 हजार 472 मामले सामने आए और 1,021 लोगों की मौत हुई। इस दौरान 65,050 मरीज ठीक हुए और नौ लाख 28 हजार 761 सैंपल जांच हुए।  देश में अब तक कुल 34 लाख 63 हजार 973 मामले सामने आ गए हैं और 62 हजार 550 लोगों की मौत हो गई है। देश में सात लाख 52 हजार 424 एक्टिव केस है। 26 लाख 48 हजार 999 मरीज ठीक हो चुके हैं। रिकवरी रेट 76.47 फीसद और डेथ रेट 1.81 फीसद है। अब तक चार करोड़ चार लाख छह हजार 609 सैंपल टेस्ट हो गए हैं। सात अगस्त को कुल मामलों की संख्या 10 लाख के पार हो गई थी। 23 अगस्त को यह आंकड़ा 30 लाख के पार हो गया।

18-07-2020
कोविड 19 : छत्तीसगढ़ में रिकवरी दर 70.2 प्रतिशत, मृत्यु दर 0.48 प्रतिशत, सरकार ने पड़ोसी राज्यों से बताया बेहतर

रायपुर। छत्तीसगढ़ में कोविड-19 पर नियंत्रण और रोकथाम के लिए उठाए गए त्वरित कदमों से रोजाना सैंपल जांच की क्षमता में लगातार वृद्धि हो रही है। वहीं कोविड-19 पीड़ितों के इलाज के लिए स्थापित विशेषीकृत अस्पतालों में त्वरित इलाज से रोज बड़ी संख्या में मरीज स्वस्थ होकर घर लौट रहे हैं। सरकार ने छत्तीसगढ़ में कोविड-19 मरीजों की रिकवरी दर सभी पड़ोसी राज्यों से बेहतर बताई है। वहीं राष्ट्रीय स्तर पर भी प्रदेश सबसे अच्छे रिकवरी दर वालों राज्यों में शामिल बताया है। बताया गया कि यहां 70.2 प्रतिशत मरीज ठीक हो गए हैं। वहीं महाराष्ट्र में यह दर 54.81 प्रतिशत, मध्यप्रदेश में 68.85 प्रतिशत, बिहार में 64.36 प्रतिशत, आंध्रप्रदेश में 49.94 प्रतिशत, तेलंगाना में 67.55 प्रतिशत, ओड़िशा में 67.84 प्रतिशत और झारखंड में 50.57 प्रतिशत है। प्रदेश में अभी तक कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए 5246 में से 3658 मरीज स्वस्थ हो गए हैं। मृत्यु दर के मामले में भी छत्तीसगढ़ पड़ोसी राज्यों से बेहतर है। यहां मृत्यु दर का प्रतिशत केवल 0.48 है। वहीं पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र में यह दर 3.91 प्रतिशत, मध्यप्रदेश में 3.31 प्रतिशत, आंध्रप्रदेश में 1.31 प्रतिशत, तेलंगाना में 0.95 प्रतिशत, ओड़िशा में 0.67 प्रतिशत, बिहार में 0.74 प्रतिशत और झारखंड में 0.9 प्रतिशत है।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने बताया कि प्रदेश के तीन मेडिकल कॉलेजों राजनांदगांव, बिलासपुर और अंबिकापुर के आरटीपीसीआर लैब में अगले आठ-दस दिनों में जांच शुरू हो जाएगी। साथ ही 20 नई जगहों पर आगामी दो हफ्तों में ट्रू-नाट मशीनों से भी सैंपल जांच का काम शुरू हो जाएगा। जांच का दायरा बढ़ाने पूल-टेस्टिंग भी की जा रही है। अभी तक प्रदेश में दो लाख 38 हजार 890 लोगों के सैंपल की जांच की जा चुकी है। पॉजिटिव पाए गए 5246 लोगों में से 3658 के ठीक हो जाने के बाद अभी सक्रिय मरीजों की संख्या 1564 है।प्रदेश के आठ क्षेत्रीय और 22 जिला स्तरीय अस्पतालों में कोविड-19 के मरीजों के इलाज की व्यवस्था की गई है। इन अस्पतालों में 3384 लोगों का उपचार किया जा सकता है। इनमें 479 वेंटिलेटर्स के साथ 741 आईसीयू और एचडीयू बिस्तरों की भी व्यवस्था है। इन अस्पतालों के साथ ही 138 कोविड केयर सेंटर भी बनाए गए हैं जहां 8736 लोगों को रखा जा सकता है। सभी कोविड अस्पतालों में एन-95 मास्क, पीपीई किट, ट्रिपल लेयर मास्क, वीटीएम और जरूरी दवाईयों के पर्याप्त संख्या में इंतजाम किए गए हैं।स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव स्टेट कोविड कंट्रोल एंड कमाड सेंटर के माध्यम से जांच और इलाज की व्यवस्थाओं की लगातार समीक्षा कर रहे हैं। विभाग द्वारा प्रदेश भर में संचालित 166 क्वारेंटाइन सेंटर्स में भी 4301 बिस्तर हैं। प्रदेश में बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिकों की वापसी को देखते हुए ग्राम पंचायतों और नगरीय निकायों में भी करीब 21 हजार क्वारेंटाइन सेंटर बनाए गए हैं।

 

03-12-2018
Police-Naxalite Encounter : ठेकेदार हरिशंकर साहू का 3 लाख का चेक और मोबाइल बरामद

सुकमा। सुकमा पुलिस ने मुठभेड़ की रिकवरी की जांच के दौरान नक्सलियों द्वारा मारे गए ठेकेदार हरिशंकर साहू का 3 लाख का चेक, उनका मोबाइल एवं उनके मुनीम का मोबाइल बरामद किया है। बता दें कि पिछले गुरुवार को सुकमा-दंतेवाड़ा बार्डर मुलेर में पुलिस-नक्सली मुठभेड़ हुई थी जिसमें पुलिस ने एसएलआर राइफल सहित एक नक्सली का शव बरामद किया था। ज्ञात हो कि नक्सलियों ने बीते दिनों सड़क निर्माण में लगे भिलाई के ठेकेदार हरिशंकर साहू की हत्या कर दी थी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804