GLIBS
07-11-2019
सरकार की वादाखिलाफी को लेकर जोगी कांग्रेस का एक दिवसीय धरना कल

रायपुर। सरकार के वादा खिलाफी और किसानों का धान 15 नवम्बर से पहले खरीदने की मांग को लेकर प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी के नेतृत्व में  8 नवम्बर को सुबह 11 बजे फायर ब्रिगेड चौक, मोतीबाग के पास पुराना नलघर चौक के सामने राजीव गांधी के प्रतिमा के नीचे बैठकर एक दिवसीय धरना प्रदर्शन जोगी कांग्रेस करेगी। धरना प्रदर्शन के बाद रैली निकालकर जोगी कांग्रेस के कार्यकर्ता राज्यपाल को मांगो के संबंध में ज्ञापन सौंपेंगे। उक्त जानकारी प्रदेश प्रवक्ता प्रदीप साहू ने दी।

05-11-2019
...तब तक जेसीसीजे के विधायक नहीं लेंगे वेतन : अमित जोगी

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के अध्यक्ष अमित जोगी ने कहा है कि जब तक किसानों, मजदूरों और गरीबों के साथ सरकार वादाखिलाफी बंद नहीं करती और फिजूलखर्ची बंद कर सुधार नहीं करती, तब तक जेसीसीजे के विधायक अपना वेतन नहीं लेंगे। अमित जोगी ने कहा कि कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष एवं विधायक दल नेता धरमजीत सिंह, अनुसूचित जनजाति विभाग अध्यक्ष राजेंद्र राय और संचार विभाग अध्यक्ष इकबाल अहमद रिजवी ने 5 नवम्बर को छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा आहूत सर्वदलीय  बैठक में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) का अभिमत रखा। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) का अभिमत है कि कांग्रेस पार्टी ने अपने विधानसभा चुनाव पूर्व जारी जन घोषणा पत्र में किसानों को 2500 रुपए प्रति क्विंटल धान का समर्थन मूल्य देने का वादा किया था। इसपर हम सरकार का हरसंभव समर्थन करने तैयार हैं। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) विधायक दल के सभी सदस्यों ने अपने एक महीने का वेतन छत्तीसगढ़ के किसानों, मज़दूरों और गरीबों की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए देने का निर्णय लिया है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) का मानना है कि  2500 रुपए समर्थन मूल्य देना कांग्रेस सरकार का विशुद्ध रूप से छत्तीसगढ़ की जनता से वादा है जिसके आधार पर प्रदेश की जनता ने उसे अभूतपूर्व और ऐतिहासिक जनादेश दिया है। अत: इसकी पूर्ति के लिए किसी अन्य पर भार डालना  अनुचित है। अगर केंद्र सरकार सहयोग करती है तो हम उसका स्वागत करेंगे लेकिन अगर किन्ही कारणों से सहयोग नहीं भी करती है, तो ऐसी स्थिति में भी यह राज्य सरकार का ही दायित्व बनता है कि वो किसानों का सही समय पर सही समर्थन मूल्य पर धान खरीदी करे। छत्तीसगढ़ में ऐसा पहली बार नहीं होगा। जोगी सरकार के शासनकाल में जब केंद्र सरकार ने छत्तीसगढ़ के किसानों का धान खरीदने से मना कर दिया था, तब पूरे मंत्रिमंडल ने प्रधानमंत्री निवास के सामने पहले गिरफ्तारी दी और फिर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से कर्ज लेकर भारत के इतिहास में पहली बार किसानों का सीधे धान खरीदने की गौरवशाली परम्परा की मजबूत नींव रखी थी। अमित जोगी ने कहा है कि हम सरकार के धान खरीदी में विलंब करने के निर्णय पर भी कड़ी आपत्ति करते हैं। अगर किसानों का धान सही समय पर नहीं खरीदा गया तो भंडारण के अभाव में उन्हें मजबूरीवश कोचियों को कम दाम पर बेचना पड़ेगा। साथ ही अगर उन्हें सही समय पर धान का पैसा नहीं मिला तो वे दूसरी फसल उगाने में भी असमर्थ हो जाएंगे। इसलिए सरकार के द्वारा जो धान खरीदी में देरी की जा रही है उससे सरकार की नीति और नीयत दोनों पर संदेह खड़ा हो जाता है। हम राज्य सरकार से पुन: मांग करते हैं कि वह अपनी प्राथमिकताओं को तय करें। प्रदेश की दिवालिया वित्तीय स्थिति के बावजूद राज्योत्सव में जिस प्रकार से फिजूलखर्ची हुई है, उस पर रोक लगाकर राज्य सरकार तत्काल 2500 रुपए समर्थन मूल में धान खरीदी शुरू करे। अमित जोगी ने कहा है कि  विगत 6 महीने से मनरेगा के अंतर्गत मजदूरों की लम्बित मजदूरी का भुगतान करे। विगत 3 महीनों से प्रदेश के गरीबों की लम्बित सामाजिक सुरक्षा पेंशन का भुगतान करे। बेमौसम वर्षा के कारण फसल की बबार्दी का उचित मुआवज़ा का भुगतान करे।  

 

04-11-2019
अमित जोगी स्वास्थ्यगत कारणों से प्रदेश से बाहर, सर्वदलीय बैठक में रॉय होंगे शामिल

रायपुर। धान खरीदी एवं किसानों की समस्या के संबंध में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में 5 नवंबर को महानदी भवन, मंत्रालय, नया रायपुर में होने वाली सर्वदलीय बैठक में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) को आमंत्रित किया गया है। उक्त जानकारी देते हुए जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे)  प्रदेश प्रवक्ता भगवानू नायक ने कहा कि जिला कलेक्टर रायपुर छत्तीसगढ़ ओर से अमित जोगी, प्रदेश अध्यक्ष जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के नाम  बैठक की सूचना प्रेषित की गई है। अध्यक्ष अमित जोगी के स्वास्थ्यगत कारणों से प्रदेश से बाहर होने के कारण उक्त बैठक में अध्यक्ष की ओर से पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व विधायक आरके रॉय को बैठक में भाग लेने के लिए अधिकृत किया गया है।

02-11-2019
जेसीसीजे के जिला अध्यक्ष 8 नवंबर के पूर्व प्रदेशभर में राज्यपाल के नाम सौपेंगे ज्ञापन

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे) पार्टी सुप्रीमो अजीत जोगी व प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी के आदेशानुसार प्रदेश अध्यक्ष अनुसुचित जाति विभाग उदयचरण बंजारे के अनुशंसा पर जिला अध्यक्षों की नियुक्ति की गई है। भुवनलाल मारकंडे को जिला अध्यक्ष कोंडागांव, सी एल बंजारे को जिला अध्यक्ष बस्तर और किरण टंडन को जिला अध्यक्ष गरियाबंद नियुक्त किया गया है। उक्त जानकारी देते हुए राज कुमार  मेश्राम, अनुसुचित जाति विभाग, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने नवनियुक्त जिला अध्यक्षों के उज्जवल भविष्य की कामना की है। उन्होंने कहा कि हमें आशा ही नहीं वरन पूर्ण विश्वास है कि सभी अपने पद का दायित्व पूर्ण लगन, ईमानदारी और जिम्मेदारी पूर्ण वहन करते हुए सदैव पार्टी हित में कार्य करेंगें। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे) पार्टी सुप्रीमो अजीत जोगी के द्वारा सभी जिलाध्यक्षों को कहा गया है कि वे प्रदेश प्रतिनिधि, मोर्चा संगठन अध्यक्ष, जिला चुनावी मण्डल, जिला कार्यकारिणी सदस्य के साथ अपने-अपने जिलों के कलेक्टर से सुविधानुसार 8 नवंबर से पहले राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपे।

राज्यपाल के नाम ज्ञापन में उल्लेख किया गया है कि-

महामहिम राज्यपाल महोदया,राज भवन रायपुर, छत्तीसगढ़। द्वारा-जिलाधीश महोदय, ..... जिला, छत्तीसगढ़।

आदरणीय महोदया,  

छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा आपके नाम से 25 अक्टूबर को राजपत्र में पारित छत्तीसगढ़ नगरपालिक निगम (संशोधन) अध्यादेश 2019 पर प्रदेश के एकमात्र मान्यता प्राप्त क्षेत्रीय दल जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) की कोर कमेटी द्वारा निम्नानुसार राजनीतिक प्रस्ताव रायपुर में 30 अक्टूबर को पारित किया गया है, जिसकी सूचना आपको जिलाधीश महोदय के माध्यम से इस ज्ञापन के द्वारा सादर प्रेषित की जा रही है।

ज्ञापन में निम्नलिखित बिदुंओ का उल्लेख है, जिसमें क्रमश: (1) जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) का मानना है कि छत्तीसगढ़ सरकार ने छत्तीसगढ़ नगरपालिक निगम (संशोधन) अध्यादेश 2019  को 25 अक्टूबर 2019 को लागू करके प्रदेश की शहरी जनता का सीधे महापौर और अध्यक्ष चुनने और हटाने का दशकों पुराना अधिकार को छीनने का अलोकतांत्रिक, मनमाना और विवेकाधीन फैसला केवल दो कुटिल कारणों से लिया है:- पहला, दस महीने में ही सत्ता का जनता- और जनता का सत्ता- से भरोसा उठ गया है। दूसरा, सरकार ने प्रजा की जगह पैसा और पब्लिक की जगह पुलिस पर भरोसा जताया है। पार्षदों को दलबदल कानून के दायरे से बाहर केवल इसलिए रखा है ताकि सरकार उनको खरीद कर और डरा-धमका कर अपने मनमाफिक रबर-स्टैम्प महापौर और अध्यक्ष जनता पर थोप सके।

(2) जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने इसका सड़कों से लेकर सदन तक तीन स्तर पर विरोध करने का निर्णय लिया है:- सड़कों में पार्टी के कार्यकर्ता प्रदेश के प्रत्येक जिलाधीश कार्यालयों का अगले 10 दिनों में घेराव अथवा धरण-प्रदर्शन करके अध्यादेश निरस्त कर छत्तीसगढ़ के शहरों में लोकतंत्र की बहाली हेतु महामहिम राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा जाएगा। सदन के शीतकालीन सत्र में विधायक दल के नेता द्वारा सरकार के विधेयक में उचित संशोधन प्रस्ताव लाए जाएंगे और प्रवर समिति के गठन की मांग भी करी जाएगी और उच्च न्यायालय में संविधान के अनुच्छेद 227 अंतर्गत पार्टी की ओर से याचिका दायर करी जाएगी।

(3) जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) सरकार से मांग करती है कि उपरोक्त अध्यादेश को तत्काल वापस लेकर छत्तीसगढ़ के शहरों में स्वस्थ लोकतंत्र को बहाल करे। अत: आपसे निवेदन है कि उपरोक्त अध्यादेश को तत्काल वापस लेकर छत्तीसगढ़ के शहरों में स्वस्थ और मजबूत लोकतंत्र को बहाल करने की असीम कृपा करें।  साथ ही राज्य शासन के मंत्रियों के बयानों से ये भी संकेत मिल रहे हैं कि इसी प्रकार का अध्यादेश अथवा विधेयक छत्तीसगढ़ पंचायती राज अधिनियम में भी संशोधन करने हेतु पारित किया जाएगा जिस से प्रदेश की ग्रामीण जनता अपने गाँव के सरपंच चुनने के अधिकार से वंचित हो जाएगी और शहरों की तरह गाँवों में भी खरीद-फरोख़्त और भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलेगा। आपसे आग्रह है कि इस प्रकार के किसी भी प्रस्तावित कानून को आप मंजूरी न देने की असीम कृपा करें।

(6) राज्य सरकार ने किसानों की सम्पूर्ण की जगह अपूर्ण कर्ज माफी की वादाखिलाफी करके, बेमौसम बारिश के कारण बर्बाद हुई फसल का उनको मुआवजा न देकर और किसानों की धान खरीदी विलम्ब से 1 दिसम्बर 2019 को शुरू करने का निर्णय लेकर छत्तीसगढ़ के 70 लाख अन्नदाताओं का जीवन तबाह कर दिया है। भंडारण के अभाव और सही समय पर रबी फसल लगाने हेतु पैसा न मिलने के कारण न केवल किसानों को भारी नुकसान सहना पड़ेगा बल्कि इसका सीधा-सीधा फायदा कोचियों और कालाबजारियों को मिलेगा।

 

23-10-2019
आगामी विस सत्र में प्रधानमंत्री के प्रति धन्यवाद प्रस्ताव लाने का निर्णय : अमित

रायपुर। अमित जोगी, अध्यक्ष जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने कहा कि जकांछ (जे) ने दलगत राजनीति से ऊपर उठकर आगामी विधानसभा सत्र में प्रधानमंत्री के प्रति धन्यवाद प्रस्ताव लाने का अभूतपूर्व और ऐतिहासिक फैसला लिया है। अमित जोगी ने इसके लिए प्रधानमंत्री की 6 उपलब्धियां गिनाई हैं, जो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को राष्ट्रीय स्तर के नेता बनने की महत्वाकांक्षा रखने वाले अन्य सभी राजनीतिज्ञों से एक अलग पायदान में स्थापित करती है। अमित ने कहा कि ये उनके व्यक्तिगत विचार हैं, जिसे वे अपनी पार्टी की कोर कमेटी की अगली बैठक में सकारात्मक संवाद के लिए रखेंगे। अमित जोगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 6 उपलब्धियां उन्हें राष्ट्रीय स्तर के नेता बनने की महत्वाकांक्षा रखने वाले अन्य सभी राजनीतिज्ञों से एक अलग पायदान में स्थापित करती हैं। पहला-स्वच्छता अभियान को राष्ट्रीय मुद्दा बनाना, दूसरा- उच्च स्तर के आवास ग्रामीणों को उपलब्ध कराना, तीसरा- कश्मीर में अनुच्छेद 35-ब और 370 को समाप्त कर एक ऐतिहासिक भूल को सुधारने का सराहनीय और साहसी कदम लेते हुए उसे राष्ट्रीय मुख्यधारा से जोडऩा, चौथा-अंतरराष्ट्रीय स्तर में भारत को  उनके व्यक्तित्व और अन्य वैश्विक नेताओं के साथ व्यक्तिगत संबंधों  के आधार पर अभूतपूर्व सम्मान और महत्व दिलाना, पांचवां-उच्च स्तरीय राजनीति में पनपते वीआईपी कल्चर, भ्रष्टाचार और परिवारवाद पर नकेल कसना और छटवां सबका साथ सबका विकास और सबका विश्वास की समावेशी नीतिगत बात करना।

इन्हीं छह उपलब्धियों के कारण जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने उनके प्रति धन्यवाद प्रस्ताव लाने का फैसला किया है। अमित जोगी ने यह भी स्पष्ट किया है कि इसका मतलब नहीं है कि हम किसी भी सूरत में 15 सालों से छत्तीसगढ़ में बेहद कम मतों के अंतर से शासन करने के बाद 15 सीटों में सिमट जाने वाली, डॉक्टर रमन सिंह के नेतृत्व वाली भाजपा का समर्थन करेंगे। इसका सबसे ताजा प्रमाण है कि 2019 में हमारे केंद्रीय पार्लियामेंटरी बोर्ड ने सर्वसम्मति से कांग्रेस आलाकमान के महासमुंद लोक सभा लडऩे और भाजपा आलाकमान के कोरबा लोकसभा चुनाव लडऩे के प्रस्ताव, दोनों को सिरे से खारिज कर दिया था। इसका एकमात्र कारण था कि हम अपने दल की स्थानीयता- छत्तीसगढ़ प्रथम- के आधार पर पहचान हर कीमत पर बरकरार रखना चाहते हैं।  साथ ही हमें यह भी अहसास है कि किसी भी सफल लोकतंत्र के लिए एक शक्तिशाली और सचेत विपक्ष का होना बेहद आवश्यक है।

उन्होंने कहा कि वर्तमान राजनीतिक परिप्रेक्ष्य में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दूर-दूर तक उनके बेहद नजदीकी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और भारत के गृह मंत्री अमित शाह को छोड़  कोई  भी विकल्प नजर नहीं आ रहा है। इंडियन नेशनल कांग्रेस के लिए जो नेहरू-गांधी परिवार बहुत लंबे समय तक सबसे बड़ी ताकत थे, वो आज उसकी सबसे बड़ी कमजोरी बन चुके हैं। इस बात का अहसास कांग्रेसियों को छोड़ पूरे देश को हो चुका है,  इसलिए मैं इस विषय में और कुछ  नहीं कहूंगा। 2014 (44 सीटें) और 2018 (52 सीटें) के लोकसभा चुनावी नतीजों से उसे समझ में आ जाना चाहिए था कि उसे अपने नेतृत्व की तलाश उस एक परिवार के बाहर करनी थी किंतु ऐसा न करके देश की सबसे पुरानी पार्टी ने देश के 29 में से 3 राज्यों- मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ को छोड़ खुद को अप्रासंगिक करने का आत्मघाती निर्णय ले लिया है, तो इसमें कोई कुछ नहीं कर सकता।

 

16-10-2019
जोगी कांग्रेस के सम्मेलन में नगरीय निकाय चुनाव पर फोकस

कोरबा। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) द्वारा कार्यकर्ता सम्मेलन  जिला कार्यालय में रखा गया। बैठक में कोरबा नगर पालिक निगम में होने जा रहे वार्ड पार्षद चुनाव के तैयारी के लिए 7 ब्लाक अध्यक्षों के साथ-साथ महिला जिलाध्यक्ष, युवा जनता कांग्रेस अध्यक्ष, छात्र अध्यक्ष तथा 67 वार्ड के पार्टी के समर्पित  पदाधिकारी उपस्थित हुए। बैठक में पार्षद के लिए चुनाव लडऩे इच्छुक पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं को अपने-अपने क्षेत्र के ब्लाक अध्यक्षों एवं जिला कार्यालय में आवेदन एक सप्ताह के अंदर प्रस्तुत करने कहा गया है। जानकारी दी गई कि अलग-अलग वार्डों से तीन-तीन नामों का पैनल बनाकर प्रदेश कार्यालय भेजा जाएगा, जहां से सहमति लेकर प्रत्याशियों की घोषणा की जाएगी। पार्टी के संस्थापक सदस्य व कोरबा विधानसभा के प्रत्याशी रामसिंह अग्रवाल ने उपस्थित पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं से कहा कि आगामी चुनाव के लिए अभी से प्रचार-प्रसार एवं जनसंपर्क शुरू कर दें। जिलाध्यक्ष दीपनारायण सोनी ने कहा कि राज्य सहित कोरबा जिले में नगरीय निकाय चुनाव के लिए आज से बिगुल फूंक दिया गया है। कोरबा नगर पालिक निगम के सभी 67 वार्ड से हम अपना उम्मीदवार उतारेंगे। साथ ही साथ पूरी रणनीति के साथ चुनाव लड़ेंगे। पार्टी प्रदेश कोर कमेटी के सदस्य पवन अग्रवाल ने कहा कि पार्षद पद के लिए चयनित उम्मीदवारों को जिला कार्यालय में प्रशिक्षण दिया जाएगा जिससे उन्हें चुनाव लडऩे व जीतने में आसानी हो सके। उन्होंने आगे कहा कि टिकट के लिए पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी का निर्णय हम सब के लिए सर्वमान्य होगा। सम्मेलन में पार्टी के सभी पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

 

03-10-2019
हाईकोर्ट से मिली पूर्व विधायक अमित जोगी को जमानत

 

बिलासपुर। जनता कांग्रेस जोगी के अध्यक्ष और पूर्व विधायक को हाईकोर्ट ने राहत दी है। गुरुवार को हाईकोर्ट ने उनको जमानत दी है। बता दें कि अमित जोगी पर अलग-अलग जन्मस्थान का प्रमाणपत्र देने मामले में भाजपा की नेता समीरा पैकरा की शिकायत पर कार्रवाई हुई थी। वे 3 सितंबर से गौरेला जेल में बंद थे। आज हाईकोर्ट में अमित जोगी की जमानत याचिक पर सुनवाई हुई और उनको जमानत दे दी गई,जिसका आदेश जारी कर दिया गया। अमित जोगी के वकील का कहना है कि मामला पूरी तरह से दस्तावेज पर आधारित है और उन्हें जेल में रखने की आवश्यकता नहीं है।

26-09-2019
फिर राजधानी के डॉक्टरों की शरण में ​अमित जोगी

रायपुर। पूर्व विधायक अमित जोगी रूटीन चेकअप के लिए रायपुर पहुंचे हैं। एक निजी अस्पताल में चेकअप के लिए पहुंचे अमित जोगी ने कहा कि इलाज के लिए आया हूं। चलने में थोड़ी तकलीफ है। ब्लड प्रेशर की परेशानी हो रही है। फिलहाल भर्ती करने की जरूरत नहीं क्योंकि उनका स्वास्थ्य पहले से बेहतर है। गौरतलब है कि चुनाव में फर्जी दस्तावेज जमा करने के आरोप में अमित जोगी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इसके बाद से उनकी तबीयत खराब है।

26-09-2019
अमित जोगी को उपचार के लिए लाया जा रहा रायपुर, बालाजी अस्पताल में होगी जांच

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के अध्यक्ष अमित जोगी की न्यूरो की समस्या लगातार बनी हुई है। अमित जोगी को गौरेला के गोरखपुर उप जेल से रायपुर के लिए रवाना किया गया है। न्यूरो की समस्या के कारण अमित जोगी का इलाज रायपुर के बालाजी अस्पताल में चल रहा है। डॉक्टर्स की सलाह पर उन्हें जांच के लिए रायपुर लाया जा रहा है। अमित जोगी के साथ डॉक्टर्स की टीम और पुलिस को गौरेला से रायपुर रवाना किया गया है। बता दें कि अमित जोगी गौरेला के गोरखपुर जेल में कैद हैं। उनकी तबियत में उतार-चढ़ाव बना हुआ है। पूर्व में भी रायपुर के बालाजी अस्पताल में उनका इलाज किया गया था। उपचार के बाद उन्हें जेल में शिफ्ट किया गया था। गोरखपुर उप जेल में हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत के बाद उन्हें पहले बिलासपुर के अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था, फिर उन्हे रायपुर इलाज के लिए लाया गया था।
अमित जोगी को फर्जी जन्म प्रमाण पत्र बनाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। अमित जोगी ने 2013 में विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए अपना जन्म सारबहरा में 8 अगस्त 1977 को होने की जानकारी दी थी। इस जन्म प्रमाण पत्र के आधार पर उन्होंने अस्थाई जाति प्रमाण पत्र प्राप्त किया था। इसके खिलाफ भाजपा नेत्री समीरा पैकरा ने गौरेला थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। समीरा पैकरा ने कहा था कि अमित जोगी का जन्म अमेरिका में हुआ है। जबकि अमित जोगी ने सारबहरा में जन्म होना बताकर फर्जी तरीके से चुनाव लड़ने के लिए अस्थाई जाति प्रमाण पत्र बनाया है। अपराध दर्ज करने के सात माह बाद गौरेला पुलिस ने 3 सितंबर को अमित जोगी को गिरफ्तार किया था। निचली अदालत से जमानत नहीं मिलने पर जोगी ने हाईकोर्ट में जमानत आवेदन पेश किया है। पिछली सुनवाई में उन्होंने बीमार होने और उपचार के लिए बड़े अस्पताल जाने की बात कहते हुए जमानत की मांग की थी।

18-09-2019
जूनियर जोगी की न्यायिक हिरासत बढ़ी, अब 30 सितंबर तक रहेंगे जेल में

पेंड्रा। फर्जी जाति मामले में जूनियर जोगी की न्यायिक हिरासत बढ़ा दी गयी है। अब अमित जोगी 30 सितंबर तक गौरेला के गोरखपुर उप जेल में रहेंगे। साथ ही कोर्ट ने जेल मैन्युल के हिसाब से स्वास्थ्य सुविधाएं देने के भी निर्देश दिये है। हालांकि मंगलवार को अमित जोगी ने न्यायिक अभिरक्षा रोकने के लिये एक आवेदन लगाया था। जूनियर जोगी को मंगलवार को राजधानी रायपुर के एक निजी अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया था। इसके बाद पुलिस उन्हें लेकर सीधे गौरेला उप जेल के लिए रवाना हो गई थी। स्वास्थ्य ख़राब होने के कारण अमित जोगी को 11 तारीख की रात मोवा स्थित अस्पताल लाया गया था। अमित जोगी फर्जी जाति के मामले में गौरेला जेल में है। अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद अमित जोगी ने इलाज करने वाले सभी अस्पतालों के डाक्टरों को शुक्रिया कहा। उन्होंने मीडिया से कहा कि उन्हें जानबूझकर परेशान किया जा रहा है। सरकार अदालत को गुमराह करने का प्रयास कर रही है।

17-09-2019
रेणु जोगी मुख्यमंत्री से मिलने गईं तो इसमें राजनीति नहीं होनी चाहिए : सिंहदेव

अंबिकापुर। अमित जोगी जाति मामले में प्रदेश के मुख्यमंत्री से रेणु जोगी की मुलाकात का मामला राजनैतिक रंग लेता जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्री भी ये मानते हैं कि इस तरह की मुलाकात राजनैतिक रंग तो लेगी ही। दरअसल आज अंबिकापुर में एक शासकीय कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने मीडिया प्रतिनिधियों के सवाल के जवाब में ये बात कही और साथ ही ये भी कहा कि अगर रेणु जोगी अपने बेटे के मामले में मुख्यमंत्री से मिलने गई थीं तो फिर इसमें राजनीति नहीं होनी चाहिए। जाति मामले में गिरफ्तार अमित जोगी के बारे में मंत्री सिंहदेव ने कहा कि वैसे उनकी शिकायत उनके विपक्ष में खड़े भाजपा प्रत्याशी ने की थी। इसके तमाम सबूत भी हैं। ऐसे में अगर तथ्य सामने हों और कार्रवाई न हो ये अलग किस्म की राजनीति हो जाती है। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804